कोरिया

10 साल से फरार हत्या का आरोपी पकड़ाया
13-Apr-2021 9:41 PM (26)
10 साल से फरार हत्या का आरोपी पकड़ाया

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 13 अपै्रल।
कोरिया जिले के चरचा थाना की पुलिस ने दस वर्ष पुराने विवेचना में लंबित हत्या एवं हत्या के प्रयास के मामले के फरार आरोपी मृतक के सगे बडे भाई व मामले के पीडित के बड़े पुत्र को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है।

मामले में पुलिस ने बताया कि मामला दस वर्ष पुराना विवेचना में लंबित 21 नवम्बर 2010 का है, ग्राम सरडी निवासी लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़़े एवं उसके पुत्र मृतक पिन्टू उर्फ पूनम राजवाडे घर में बने खाना को खाने से अचेत हो गए थे, जिन्हें परिजन व पड़ोसियों के द्वारा ईलाज के लिए रीजनल अस्पताल चरचा ले जाकर भर्ती कराया गया। जहां पर इलाज के दौरान मृतक पिन्टू उर्फ पूनम राजवाड़े की मौत हो गई, एवं उसके पिता आहत लक्ष्मी प्रसाद राजवाडे उपचार से जीवित बच गए, रीजनल अस्पताल चरचा के डॉक्टर से प्राप्त मेमो पर मर्ग कायम कर मृतक के मृत्यु की जांच शव पंचनामा कार्यवाही की गई।

शव का पोस्ट मार्टम कराया गया, डॉक्टर के द्वारा पीएम रिपोर्ट में सस्पेक्टेड पॉयजनिंग बता कर मृतक का विसरा प्रिजर्व किया गया तथा मर्ग जांच के दौरान पुलिस के द्वारा मृतक व आहत की उल्टी, शेष बचे खाना आदि को जब्त कर एफएसएल रायपुर भेजकर रासायनिक परीक्षण कराया गया। परीक्षण रिपोर्ट में आरगेनोफॉस्फोरस मिथाईल पैराथियान कीटनाशक दवा जहर के कारण मौत होना पाए जाने पर 9 साल बाद 19 जनवरी 2019 को  धारा 307, 302 भादवि. के अन्तर्गत प्रकरण दर्ज कर विवेचना की गई।

जांच फिर हुई शुरू
पुलिस की जांच के दौरान जीवित बचे मृतक पिन्टू उर्फ पुनम राजवाडे के पिता लक्ष्मी प्रसाद राजवाडे एवं गवाहों के द्वारा बतलाया गया कि आहत लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़े की पत्नी सोनकुंवर घटना के 6-7 वर्ष पहले अपने दोनों लडक़ों छोटा लडक़ा मृतक पिन्टु उर्फ पुनम राजवाड़े और बड़ा लडक़ा आरोपी मनोज कुमार राजवाडे व पति लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़े को छोडक़र सुजित गडेरिया तलवापारा बैकुण्ठपुर को दूसरा पति बनाकर रहने लगी, इसके बाद मृतक पिन्टू उसका बड़ा भाई आरोपी मनोज कुमार पिता के साथ 4-5 साल तक रहे, उसके बाद मृतक व आरोपी का पिता लक्ष्मी प्रसाद राजवाडे दर्रापारा भैयाथान निवासी सरस्वती राजवाड़े को अपनी दूसरी पत्नी बनाकर रख लिया।

खाने में मिलाया कीटनाशक
21 नवम्बर 2010 को जब पिता लक्ष्मी प्रसाद अपने छोटे बेटे पिन्टू के साथ भोर में धान की मिसाई कर रहे थे, उसी समय सूने घर में आरोपी मनोज जाकर बना कर रखे गए खाने में तथा सब्जी बनाने के लिएकाट कर रखी सब्जी में, फसल में डालने वाला कीटनाशक दवा (जहर) मिलाकर अपने पिता का मोबाइल उठाकर भाग गया, घान मिसाई कर जब घर वापस आए, तो उन्हे कीटनाशक दवा जहर की गंध आई तो बनाकर रखे खाने को पड़ोस के गवाहों को बुलाकर दिखाया और उसे जमीन में गाड़ दिया गया, और काट कर रखी सेमी की सब्जी को पका कर खाने से पीडि़त लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़े और मृतक पिन्टू उर्फ पुनम राजवाडे अचेत हो गए जिन्हें परिजनों व इलाज पड़ोसियों के दौरान द्वारा ईलाज गृतक पिन्टू उपचार राजवाडे के लिए रीजनल की मौत अस्पताल हो गई एवं चरचा ले जाकर पिता लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़े इलाज उपचार से जीवित बच गए, जिनके द्वारा अपने बड़े पुत्र आरोपी मनोज कुमार राजवाडे के द्वारा खाने में जहर कीटनाशक मिलाने का संदेह व्यक्त किया गया।'

मोबाइल ले जाने से आया पकड़ में
आरोपी अपने पिता का मोबाइल अपने साथ ले गया, वही पड़ोसी गवाह अनिल राजवाड़े और दिल कुमार राजवाड़े के द्वारा पीडि़त लक्ष्मी प्रसाद राजवाड़े के मोबाईल नंबर पर मोबाइल लगाने पर आरोपी मनोज कुमार राजवाड़े के द्वारा कॉल रिसीव किया गया, जिससे पूछा गया, कि तेरे पिता का मोबाईल तेरे पास कैसे है, तो वह अपना मोबाइल होना बताकर फोन को काट दिया, और पुलिस से बचने के लिए उसी समय फरार था।

पुलिस आरोपी की पता लगा रही कि  12 अप्रैल 2021 को सूचना के आधार पर थाना प्रभारी प्रद्युम्न तिवारी थाना अजाक में पदस्थ प्रआर नवीन साहू, आरक्षक अखिलेश जायसवाल, अमित त्रिपाठी, गौतम टेकाम, महिला आरक्षक ज्वाला साहू को साथ लेकर आरोपी की मां सोनकुंवर पति सुजित गडेरिया निवासी तलवापारा बैकुण्ठपुर के घर में दबिश देकर आरोपी मनोज कुमार राजवाडे पिता लक्ष्मी प्रसाद राजवाडे (32) निवासी सरडी जूनापारा थाना चरचा हाल मुकाम तलवापारा बैकुण्ठपुर को पकड़ा, उसे हिरासत में लेकर प्रकरण के घटना के संबंध में बारीकी से पूछताछ की जाने पर आरोपी के द्वारा जुर्म करना स्वीकार करने पर गिरफ्तार किया।

देर शाम न्यायालय पेश कर जेल दाखिल कराया गया। एसपी के निर्देश पर हुई कार्यवाही कोरिया पुलिस अधीक्षक चन्द्रमोहन सिंह ने 10 साल पुरानी फाइल खोलने के निर्देश दिए, उनके निर्देश पर चरचा थाना प्रभारी और उनकी पुलिस टीम की सकियता से दस वर्ष पुराने हत्या एवं हत्या के प्रयास का विवेचना में लंबित प्रकरण का खुलासा कर आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता पाई।
 

अन्य पोस्ट

Comments