दुर्ग

भाजपा ने समरसता दिवस के रूप में मनाई अंबेडकर जयंती
17-Apr-2021 7:19 PM (25)
भाजपा ने समरसता दिवस के रूप में मनाई अंबेडकर जयंती

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
उतई, 17 अपै्रल।
कोरोना की बढ़ती संकमण, एवं जिले में लगे लॉकडॉउन का पालन करते हुए भाजपा उत्तर मंडल पाटन ने बाबासाहेब अंबेडकर की जयंती को समरसता दिवस के रूप में ग्राम लोहरसी में मंडल अध्यक्ष ने अपने निवास पर पूजा अर्चना कर मनाया।

इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष लोकमनी चंद्राकर ने एक संदेश में कहा कि बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर एक महामानव थे, भारतीय न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक थे। उन्होंने समाज में अति पिछड़े के आंदोलन को हमेशा प्रेरित किया करते थे और उनके अधिकारों के लिए काम करते थे, वह हमेशा अछूतों और अन्य निचली जातियों की समानता के लिए खड़े रहते थे। 

उन्होंने भारतीय संविधान को तैयार करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसलिए उन्हें भारतीय संविधान का पिता कहा जाता है। चूंकि उन्होंने पूरे भारत में हर वर्ग को एक समान अधिकार मिले, समाज मे समरसता का भाव पैदा हो, सभी मिलकर आगे बढ़े इस बात के लिए अंतिम दम तक प्रयास करते रहे।

इस अवसर पर उपस्थित भाजपा नेत्री एवं जिला पंचायत दुर्ग की सदस्य हर्षा चंद्राकर ने संदेश में कहा कि स्वतंत्र भारत के संविधान निर्माता, दलितों के मसीहा, समाज सुधारक डॉ. भीमराव अंबेडकर एक राष्ट्रीय नेता भी थे। सामाजिक भेदभाव, अपमान की जो यातनाएं उनको सहनी पड़ी थीं, उसके कारण वे उसके विरुद्ध संघर्ष करने हेतु संकल्पित हो उठे। 

उन्होंने उच्चवर्गीय मानसिकता को चुनौती देते हुए निम्न वर्ग में भी ऐसे महान कार्य किए, जिसके कारण सारे भारतीय समाज में वे श्रद्धेय हो गए। जातीय भेदभाव का दंश झेल रहे आंबेडकर सामाजिक बदलाव चाहते थे। वो कहा करते थे कि किसी का भी स्वाद बदला जा सकता है, लेकिन जहर को अमृत में परिवर्तित नहीं किया जा सकता।इसी तरह से लॉकडॉउन का पालन करते हुए पूरे मंडल के विभिन्न बूथों पर बाबा साहेब की जयंती मनाया गया है।
 

अन्य पोस्ट

Comments