बलौदा बाजार

बिना कोरोना जांच, सर्दी-खांसी का इलाज करते पकड़े गए झोलाछाप डॉक्टर
19-Apr-2021 4:57 PM (38)
बिना कोरोना जांच, सर्दी-खांसी का इलाज करते पकड़े गए झोलाछाप डॉक्टर

9 दवाखाना सील, प्रशासन ने लगाया 1 लाख 17 हजार जुर्माना

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बलौदाबाजार/कसडोल,19 अप्रैल।
पलारी तहसीलदार हरिशंकर पैकरा एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त टीम द्वारा विकासखण्ड में स्थित विभिन्न अपंजीकृत एवं झोला छाप डॉक्टरों के दवाखानों में औचक निरीक्षण किया गया। जिस दौरान बड़े संख्या में ग्रामीणों का बिना कोरोना जांच के सर्दी खांसी का इलाज करतें हुए ऐसे डॉक्टर पकड़े गये। जिसके चलते इन झोलाछाप एवं अपंजीकृत डॉक्टरों के खिलाफ  बड़ी कार्रवाई करतें हुए  प्रशासन की टीम द्वारा 1 लाख 17 हजार रुपये राशि का जुर्माना लगाया गया हैं। साथ ही  इनके अवैध 9 दवाखानों को सील किया गया हैं। 

उक्त जुर्माना प्रशासन ने जीवन दीप समिति के माध्यम से लगाया हैं। कार्रवाई करतें हुए तहसीलदार श्री पैकरा ने बताया कि  ऐसे 9 डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है। जिसमें पलारी के आरआर जाल से 7 हजार, ग्राम रोहांसी से आर के वर्मा से 20 हजार, आसिम दास बंगाली से 10 हजार, ओएन मनहरे से 10 हजार, ग्राम ओड़ान एचसी साहू से 20 हजार रुपये, ग्राम संडी से महेन्द वर्मा 20 हजार,गुरुचरण साहू से 10 हजार रुपये, विशंभर साहू एवं चतुर्वेदी से 10 हजार 10 हजार रूपये का जुर्माना वसूल किया गया है। 

श्री पैकरा ने बताया कि उक्त झोलाछाप डॉक्टर बड़ी संख्या मे ग्रामीणों को कोरोना के लक्षण होने पर भी सर्दी खांसी समझकर इलाज कर रहें थे। जिसके चलते ग्रामीण इनके बातों में आकर कोरोना के जांच नही करा रहे थे। इससे लगातार ब्लॉक में संक्रमण बढ़ रहा था। साथ ही ग्रामीणों की तबियत में सुधार के बजाय इनके स्वास्थ्य और बिगड़ रहें थे। जिसके चलते कुछ लोगों को अपनी जान भी गवानी पड़ी। उक्त दवाखानों को सील करतें हुए भविष्य में ऐसी गलती ना करनें की समझाइश दी गयी है। उक्त कार्रवाई अपर कलेक्टर राजेंद्र गुप्ता के निर्देश एवं बलौदाबाजार एसडीएम महेश राजपूत के मार्गदर्शन पर की गयी है। 

एडीएम राजेन्द्र गुप्ता ने की अपील- अपर कलेक्टर ने सभी ग्रामीणों से झोलाछाप डॉक्टरों से बचने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह लक्षण होने पर एवं संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर अनिवार्य रूप से कोविड का नि:शुल्क टेस्ट कराये। आपकी सतर्कता ही बचाव हैं। उन्होंने साथ ही आने वाले दिनों में ऐसे डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी हैं।
 

अन्य पोस्ट

Comments