छत्तीसगढ़ » कोरिया

28-Jul-2020 9:39 PM

बैकुंठपुर, 28 जुलाई। शहर में मानसिक बीमार कई हैं जो भटकते नजर आ रहे हैं। इनके मानव अधिकारों की रक्षा करने की दिशा में कोई पहल नहीं की जा रही है। मानसिक बीमार होने के बाद ऐसे लोग अपने परिवार व समाज से दूर हो गये हैं। इनके दशा और दिशा बदलने के लिए कई कानूनी प्रावधान किये गये हैं लेकिन इस दिशा में उचित पहल नहीं होने के कारण मानसिक रोगियों की दशा जस की तस बनी हुई है।

गौरतलब है कि कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के मुख्य मार्ग पर दो तीन मानसिक बीमार नजर आते रहते हैं जिन्हें उचित स्थान पर भेजने व उपचार कराने की दिशा में कोई भी पहल नहीं हो रही है।

सड़क किनारे बीत रहा जीवन

शहर में गिनती के ही मानसिक बीमार दिखाई देते है और लंबे समय से दिखाई दे रहे है जिनका जीवन सड़कों किनारे बीत रहा है। चाहे धूप हो या बरसात उन्हे इसी के बीच जीवन बसर करना पड़ रहा है। उन्हें दो वक्त की रोटी भी समय पर नसीब नहीं हो पा रही है। किसी तरह उनका दिन कट रहा है। यदि इस दिशा में पहल की जाये और उन्हे मानसिक अस्पताल में भेजने की व्यवस्था की जाये तो उनकी स्थिति बदल सकती है इस दिशा में सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों द्वारा या सरकारी पहल करने की जरूरत है।


28-Jul-2020 9:29 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बैकुंठपुर, 28 जुलाई। कोरोना संक्रमण काल में स्वास्थ्य विभाग चिकित्सा कर्मियों की कमी जूझने के बावजूद उपलब्ध कर्मियों के बदौलत मुस्तैदी से दिन रात काम करने में जुटे हुए हंै। ऐसे समय में जिला अस्पताल से सेवानिवृत्त एक चिकित्साधिकारी ने नि:शुल्क सेवा देने की इच्छा जाहिर की और प्रशासन ने इसकी अनुमति भी दे दी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला चिकित्सालय में नेत्र रोग विशेषज्ञ के रूप में कार्यरत रहे डॉ. सुखदेव हीरामन शेंडे अपनी लंबी सेवा के बाद वर्ष 2011 में जिला चिकित्सालय से सेवानिवृत्त हुए जिसके तत्काल बाद उन्हें जिला चिकित्सालय में ही संविदा नियुक्ति मिल गयी। इस तरह संविदा में भी उन्होंने करीब आठ वर्ष तक अपनी सेवाएं दी और दो वर्ष पूर्व अक्टुबर  2019 में संविदा की अवधि भी समाप्त हो गयी। इसके बाद कुछ समय तक उन्होनें नि:शुल्क सेवा की इच्छा जाहिर की और कुछ दिन तक जिला अस्पताल में नि:शुल्क् सेवा भी दी। इसके बाद फिर हाल में उन्होने घर पर समय पास न होने के कारण गत दिवस कलेक्टर कोरिया से मिलकर नि:शुल्क चिकित्सा सेवा देने की इच्छा जाहिर की जिस पर कलेक्टर कोरिया ने वर्तमान में कोरोना संक्रमण काल को देखते हुए चिकित्सक की  इच्छा अनुरूप नि:शुल्क सेवा देने की अनुमति दे दी जिसके बाद डॉ. शेंडे गत  27 जुलाई से जिला चिकित्सालय में अपनी नि:शुल्क सेवा देना शुरू कर दिया। उल्लेखनीय है कि सेवानिवृत्त डॉ. शेडे 70 बसंत पार कर चुके है इसके बाद भी जनसेवा की लालसा उनके मन में है। बताया जाता है कि कोरिया जिले में वे एकमा़त्र ऐसे चिकित्सक हैं जो इतनी आयु में भी नि:शुल्क सेवा दे रहे हैं।

लंबे अनुभव का मिलेगा लाभ

डॉ. शेंडे लंबे समय से नेत्र रोग विशेषज्ञ के रूप में कार्य किया। उनके पास  40 वर्षो से ज्यादा समय का लंबा अनुभव है ऐसे में उनके द्वारा मरीजों के लिए नि:शुल्क सेवा देना निश्चित ही क्षेत्र व जिले के मरीजों को उनके लंबे अनुभव का लाभ मिलेगा। यहां यह भी बताना लाजिमी है कि अब के दौर में ऐसे बहुत कम ही चिकित्सक देखने को मिलते है जो सेवानिवृत्त होने के बाद नि:शुल्क सेवा देते हैं। मानव सेवा की प्रति बढती उम्र में भी सेवा देना निश्चित ही उनकी मानवीय संवेदना को उजागर करता है।


28-Jul-2020 10:24 AM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 27 जुलाई। सावन के चौथे सोमवार को श्रद्धालुओं ने जटाशंकर धाम पहुंचकर गुफा के अंदर विराजे महादेव की विधि-विधान से आराधना की।

उल्लेखनीय है कि घने जंगलों और दुर्गम रास्तों के बीच कोरिया जिले में प्रसिद्ध जटाशंकर धाम स्थित है। छतीसगढ़ के कोरिया जिले के अलावा मध्यप्रदेश के अनुपपुर जिले के श्रद्धालुओं का यहां साल भर आना-जाना लगा रहता है। मनेन्द्रगढ़ विकासखंड के सोनहरी या फिर बैरागी से होकर यहां तक पहुंचा जा सकता है। सोनहरी के घने जंगल में कच्चे मार्ग से होते हुए आगे करीब पांच सौ सीढिय़ां उतरकर धाम परिसर में पहुंचा जा सकता है। वहीं बैरागी के रास्ते भी श्रद्धालु यहां दो पहाड़ों को पारकर पैदल पहुंचते है। सावन के महीने में यहां बड़ी दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं और यहां सकरी गुफा में प्राकृतिक रूप में विराजे भोलेनाथ के दर्शन करते हैं। इस धाम में आने वाले सभी भक्तों की मनोकामना पूरी होती है।

 सावन महीने के चौथे सोमवार को भी श्रद्धालु यहां बड़ी संख्या में पहुंचे और पूजा-अर्चना की। गुफा में विराजे भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए भोले के भक्तों को घुटने के बल बावन हाथ अंदर जाना होता है और उसी तरह बाहर आना पड़ता है। बियावान जंगल मे स्तिथ जटाशंकर धाम में आने के बाद भक्तों को बड़ी शांति मिलती है।

श्रद्धालु यहां अपने साथ भोजन सामग्री लेकर आते हैं और यहीं पर भोग बनाकर प्रसाद के रूप में उसे ग्रहण करते हैं। इस धाम में शिव दास नामक बाबा अकेले रहते हैं जो कई सालों से रहकर भोले की सेवा कर रहे हैं।


28-Jul-2020 10:24 AM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 27 जुलाई। पुलिस ने घर से सोने-चांदी के जेवरात पार करने वाली महिला को गिरफ्तार कर उसके पास से चोरी गए जेवरात बरामद किया है।

मनेंद्रगढ़ थानांतर्गत टीव्ही टावर के पास किराए के मकान में रहने वाली पदमा यादव ने 26 जुलाई को रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसके घर की आलमारी में रखे सोने, चांदी के जेवर एवं नगदी 20 हजार रूपए संदेही अनीता शाह द्वारा चोरी कर लिए गए हैं। रिपोर्ट पर पुलिस द्वारा केस दर्ज कर विवेचना में लिया गया। पुलिस द्वारा चोरी की पतासाजी की जा रही थी। तभी मुखबिर से सूचना मिली कि एक महिला सोने, चांदी के जेवरात बेचने की फिराक में घूम रही है, तत्काल घेराबंदी कर टीवी टावर वार्ड क्र. 17 निवासी आरोपिया 29 वर्षीया अनीता शाह को थाने लाकर महिला आरक्षक द्वारा पूछताछ करने पर उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया। महिला के कब्जे से चोरी गए सोने, चांदी के जेवरात जिनकी कुल कीमत 74 हजार 300 रूपए आंकी गई है उसे बरामद कर 27 जुलाई को उसे न्यायालय में न्यायिक रिमांड पर पेश किया गया।


28-Jul-2020 10:21 AM

बैकुंठपुर, 27 जुलाई। जनपद पंचायत भरतपुर अंतर्गत ग्राम रापा निवासी एक ग्रामीण ने कलेक्टर कोरिया को आवेदन देकर ग्राम पंचायत भवन निर्माण हेतु चयनित स्थल को परिवर्तित करने की मांग की है।

कलेक्टर कोरिया को दिये आवेदन में भरतपुर पंचायत के ग्राम पंचायत रापा निवासी लक्ष्मीकांत तिवारी ने उल्लेख किया है कि जिस स्थल पर ग्राम पंचायत का भवन निर्माण हेतु स्थल चयन किया गया है वह उसके कब्जे की भूमि है जिस पर वह वर्ष 1983-84 से काबिज होकर कृषि कार्य करते आया है और वर्तमान में अरहर की खेती किया है। इसके अतिरिक्त उसके पास कोई भूमि नहीं है। जिसके सहारे व अपने परिवार का भरण पोषण करता है। उन्होंने अपने आवेदन में यह भी उल्लेख किया है कि ग्राम पंचायत भवन निर्माण हेतु चयनितच स्थल प्रार्थी के कब्जे की भूमि के ठीक सामने पश्चिम दिशा में मुख्य मार्ग से लगी हुई प्रार्थी के ही कब्जे की भूमि स्थित है जिसमें ग्राम पंचायत भवन का निर्माण कराया जा सकता है उसी रिक्त् भूमि में भवन निर्माण कराया जा सकता है उस रिक्त भूमि में ग्राम पंचायत भवन निर्माण कराये जाने पर किसी प्रकार की आपत्ति नही है। इस मामले में सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए कार्रवाई करने की मांग प्रार्थी ने की है।

फसल नुकसान को बचाने की मांग

ग्राम पंचायत रापा निवासी लक्ष्मीकांत तिवारी ने एक और आवेदन में कलेक्टर कोरिया को शिकायत देकर अवगत कराया कि वह भूमिहीन है और सरकारी भूमि पर लंबे समय से काबिज होकर परिवार का गुजारा कर रहा है। कब्जे की भूमि पर उसके द्वारा मकान कुआं बाड़ी बनाया है तथा फलदार पोधे भी लगाये गये हैं। तीन वर्ष पूर्व मिटृटी का बना घर अतिवृष्टि में गिर गया था जिसके जीर्णोद्धार के लिए उसके द्वारा बैंक से कर्ज लेकर मरम्मत कार्य कराया गया। लेकिन उसके कब्जे की भूमि पर गांव के एक व्यक्ति द्वारा जनपद पंचायत के अधिकारियों से सांठगांठ कर ग्राम पंचायत भवन सह गोदाम निर्माण कार्य का ले आउट कर निर्माण सामग्री गिराया गया, जबकि उक्त भूमि पर मेरे द्वारा अरहर की फसल बोयी गयी है जो तैयार होने वाली है निर्माण सामग्री गिराये जाने से फसल को नुकसान पहुंचा है। प्रार्थी ने अपने आवेदन में यह भी बताया कि ग्राम रापा में लगभग 70 प्रतिशत लोग शासकीय भूमि का उपयोग कर रहे है उन्होंने निर्माण कार्य रोक कर फसल नुकसान को बचाने की मांग की।


26-Jul-2020 7:02 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
चिरमिरी, 26 जुलाई।
कोरिया जिले के चिरिमिरी पोंडी से मनेन्द्रगढ़ रोड करीबन 4 किलोमीटर के पास ही नजदीक में नागमाड़ा पहाड़ के नाम से प्रसिद्ध है जहां प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी नागदेव के मंदिर में नाग पंचमी की पूजा की गई। 

चिरमिरी पोंडी के नागमाड़ा पहाड़ी में यह उत्सव बड़े धूमधाम से हर वर्ष मनाया जाता है। दूर दूर से आकर लोग अपनी अपनी दुकानें सजाते हैं, भव्य मेला लगता है, लेकिन इस करोना कॉल के महामारी के कारण उतना उत्सव देखने को नहीं मिला जो भी श्रद्धालु दूर से आए, शांति पूर्वक पूजा करके अपनी मन्नते मांग कर वापस अपने घर लौट गए।
यहां के पुजारी का कहना है कि नागदेव के मंदिर में करीब 20 वर्षों से पूजा करते आ रहे हैं। यहां नाग देवता ने साक्षात दर्शन दिये थे तब से यहां श्रद्धालु पूजा करने आते हैं और अपनी मन्नतें मांगते हैं और वह पूरा होता है।

इस नागमाड़ा में हनुमान जी का भव्य मंदिर है। इस मंदिर की शोभा देखने लायक है चूंकि यहां पत्थरों में कई तरह फूल लगे व खिले हुए हैं। चारों तरफ से जंगलों से घिरा हुआ तथा मंदिर की शोभा अत्यधिक मनमोहक रूप का वर्णन करती है। प्रत्येक मंगलवार को भोग भंडारा का भी आयोजन होता है।
 


25-Jul-2020 10:03 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बैकुंठपुर, 25 जुलाई।
कोरिया जिले के कई पंचायतों में पेंशनधारियों को समय पर किसी भी तरह की पेंशन की राशि नहीं मिल पा रही है। कई जगहों पर तो कई महीनों से हितग्राहियों की पेंशन उनके खाते में नहीं आ पाया है जिससे कि पेशनधारियों को भारी आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सबसे बुरी स्थिति जिले के दूरस्थ भरतपुर जनपद के पंचायत क्षेत्रों की है। यहां के लोग तो इसकी शिकायत भी करने अधिकारियों के पास तक नहीं जाते लेकिन कई पीडि़त ऐसे भी हैं जो लंबी दूरी तय कर बैकुंठपुर अधिकारियों के पास अपनी शिकायत लेकर पहुंचते हैं इसके बाद पेंशन का भुगतान हो पाता है। 

इस संबंध में ग्राम पंचायत के सरपंच रोहणी प्रसाद का कहना है कि जल्द से जल्द पेंशन भुगतान हो जाएगा। मैं आपको कुछ समय में बताता हूं।
मिली जानकारी के अनुसार भरतपुर जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम पंचायत कुंवारपुर के सचिव सरपंच की आपसी खींचदान के कारण पंचायत क्षेत्र कई पेंशनधारियों को नये साल से अब तक पेंशन का भुगतान हितग्राहियों के खाते में नहीं हो पा रहा है जिससे कि हितग्राही परेशान हैं। ग्राम पंचायत कुंवारपुर के ओमप्रकाश पिता रामदुलारे, दिव्यांग उर्मिला, पति शिवबालक, लाला बाई पति सुखलाल, नानबाई पति बुग्लू के अनुसार उनकी सुध लेने ना तो कोई नेता आता है और ना ही इस ओर अधिकारी आते हैं, जिस कारण उन्हें बीते 8 माह से पेंशन नहीं मिली है। 

बताया जाता है कि कई हितग्राहियों को साल भर से पेंशन नहीं मिली है। कुछ की पेंशन सीधे खाते में डाल दी जाती है उनके लिए यह लाभकारी है क्योंकि ऐसे हितग्राहियों के खाते में पेंशन की राशि बराबर आ रही है लेकिन कुछ पेंशनधारी ऐसे हैं जिनके पेंशन की राशि ग्राम पंचायत के खाते में जमा होती थी जिसे निकालकर सरपंच सचिव हितग्राहियों को बांटते थे, यह परेशानी इन्हीं हितग्राहियों की है कि जनवरी से अब तक उन्हें पेंशन नहीं मिल रही है।

भीख मांगने मजबूर 
मार्च महीने से कोविड 19 के चलते सरकार द्वारा लॉक डाउन किया गया इसके बाद अब अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है लेकिन लोगों के पास कार्य नही है और इस दौरान लोगों को भारी आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में ग्रामीण पेंशन धारी ऐसे हैं जो अपना गुजारा भीख मांग कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि एक पेंशन धारी की मौत भी हो चुकी। ग्राम पंचायत कुंवारपुर अंतर्गत मुख्यमंत्री पेंशन योजना के करीब 40 से ज्यादा हितग्राही हंै जिनके खाते में पेंशन नहीं मिल पा रही है। 

 


25-Jul-2020 9:59 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बैकुंठपुर, 25 जुलाई। नागपंचमी पर अब पहले जैसा उत्साह नहीं देखा जाता। वर्तमान में तो ऐसा हो गया कि कई लोगों को यह पता नहीं रहता कि कब नागपंचम का पर्व आया और चला गया। जबकि कुछ वर्षों पूर्व नागपंचमी का पर्व आने के पूर्व से ही लोगों में उत्साह देखा जाता था। धीरे-धीरे आधुनिकता के साथ ही नागपंचमी का पर्व गुम होता चला गया। आज केवल पंचांग में ही देखकर पता चलता है कि नागपंचमी का पर्व इस दिन पड़ रहा है। 

इस अवसर पर अब शासकीय अवकाश भी नहीं रहता। यही कारण है कि उमंग उल्लास का पर्व नागपंचमी गुमनामी के दौर से गुजर रहा है। नागपंचमी पर्व के अवसर पर विशेष रूप से नागदेवता की पूजा करने की परंपरा रही है। यही कारण है कि प्रतिवर्ष सावन माह में पडने वाले नागपंचमी पर्व के अवसर पर श्रद्धालुओं द्वारा नागदेवता की विधि विधान के साथ पूजा अर्चना की जाती है। इस अवसर पर विधि विधान के साथ नागदेवता की पूजा अर्चना के साथ भगवान शिव की भी आराधना की जाती है। जिसके लिए विभिन्न प्रकान के पूजन सामग्री के साथ नागदेवता केा दूध लावा चढाने की परंपरा रही है। पहले नागपंचमी के पर्व को लेकर शहर से लेकर गांव-गांव में उत्साह रहता था लेकिन धीरे धीरे यह उत्साह न गांवों में है और न ही शहरों में। इस तरह नागचंपमी का पर्व की कुछ जगहों पर औपचारिकता ही निभाई जाती है। 

दंगल भी नहीं होता अब कहीं
पहले जहां नागपंचमी के पर्व के अवसर पर कई स्थानों पर दंगल का आयोजन किया जाता था। इसे लेकर लोगों में भी उत्साह देखने को मिलता था। नागपंचमी का पर्व दंगल पर्व के रूप में पहचान मिली थी लेकिन अब इस अवसर पर कही पर भी दंगल का आयोजन नही होता है। इस वर्ष कोरोना वायरस संक्रमण के चलते भी कुछ जगहों पर जहां इस अवसर पर दंगल होता था वह भी नहीं होगा।

नागदेवता का दर्शन भी हुआ दुर्लभ
नागपंचमी पर्व के अवसर पर हर कोई नागदेवता का दर्शन  करना चाहता है लेकिन अब इस पर्व की महत्ता कम होने के कारण नागदेवता का दर्शन भी दुर्लभ हो गया। सावन माह में पडने वाले इस पर्व के दिन नागदेवता का दर्शन शुभ माना जाता है।  यही कारण है कि सावन का महीना शुरू होने के साथ ही सपेरे जगह जगह अपनी टोली के साथ सांपों के दर्शन कराने के लिए निकल पडते थे लेकिन सांपों के सार्वजनिक दर्शन पर सरकारी रोक लगने के बाद अब सपेरे भी कम ही दिखाई देते है। अन्यथा पहले सावन माह की शुरूआत के साथ हर क्षेत्र में सपेरों की टोली लोगों को सांपों का दर्शन कराते चलते थे। नागपंचमी के अवसर पर तो खासकर लेकिन अब सापों के प्रदर्शन पर लगे प्रतिबंध के कारण सपेरे भी यदा कदा ही दिखाई देते है। 


25-Jul-2020 9:55 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

चिरमिरी, 25 जुलाई। नगर पालिक निगम चिरमिरी के आजाद नगर क्षेत्र में रहवासी कॉलोनी के बीचोंबीच सुअर पालन से स्थानीय लोग परेशान हैं। वहीं इनके कारण फैल सकने वाली बीमारियां और हर जगह पसरी गंदगी को लेकर स्थानीय पार्षद को शिकायत भी की गई। जब हालात नहीं सुधरे तो स्थानीय लोगों द्वारा निगम आयुक्त को लिखित शिकायत की गई है। 

नगर पालिक निगम चिरमिरी क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 26 में रिहायशी कॉलोनी के बीचों बीच ही सुअर पालन किए जाने तथा पूरे कॉलोनी में पसरी गंदगी से हालाकान होकर वार्ड क्रमांक 26 के निवासियों द्वारा निगम आयुक्त सुमन राज से लिखित शिकायत की गई जिसमें वार्ड -26 ब्लॉक के रिहायशी क्षेत्र में सुअर पालन तथा उन्हें विचरण हेतु खुला छोड़ देने से वार्ड की गलियां तथा सड़क सुअरों के मल मूत्र से पटी पड़ी होने तथा सड़कों पर चलने मात्र से ही गंदगी से मन विचलित हो जाने के साथ ही संक्रामक बीमारियां और महामारी फैलने का भी खतरा होने की आशंका जैसी बातें लिखी गई है। वहीं शिकायत पत्र में वार्ड वासी सोनू दुबे, कौशल्या चौहान, मनोज पासवान, मनोज दुबे, अशोक, राजकुमारी, लक्ष्मी चक्रवर्ती, नीली पाल, अनिरुद्ध दुबे एवं रामावती दुबे आदि के द्वारा हस्ताक्षर किया गया है।

 


25-Jul-2020 9:52 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 25 जुलाई। स्थानीय पुलिस ने अवैध शराब परिवहन करते तीन अलग-अलग मामलों में तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है।
रविवार को मुखबिर के जरिए पुलिस को सूचना मिली कि बिजुरी (मप्र) में दो दिवस लॉकडाउन होने से शराब तस्करी की आशंका है। सूचना पर थाना क्षेत्र में अलग-अलग टीम रवाना की गई। पहली टीम द्वारा चनवारीडांड़ प्राथमिक शाला तिराहा के पास आरोपी अंकित कुमार मिश्रा चनवारीडांड़ के कब्जे से परिवहन करते 12 बोतल अंग्रेजी शराब कीमत 10 हजार 680 रूपए एवं एक सोल्ड मोटरसाइकिल जब्त कर आरोपी को हिरासत में लिया गया। 

दूसरी टीम द्वारा डॉ. नियोगी क्लीनिक पुलिया के पास आरोपी रवि सिंह उर्फ बाबू वार्ड क्र. 20 चनवारीडांड़ के कब्जे से 9 लीटर कच्ची महुआ शराब कीमत 18 सौ रूपए जब्त कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया। 

इसी कड़ी में तीसरी टीम द्वारा सुरेश ढाबा के पास बौरीडांड़ रोड चनवारीडांड के पास आरोपी निलेश मिश्रा वार्ड क्र. 12 चनवारीडांड़ के कब्जे से परिवहन करते 50 नग अंग्रेजी शराब 9 लीटर कीमत 6 हजार 500 रूपए एवं सोल्ड मोटरसाइकिल जब्त कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया। तीनों आरोपियों को आबकारी एक्ट के तहत गिरफ्तार कर न्यायालय न्यायिक रिमांड पर पेश किया गया। 

 


24-Jul-2020 10:23 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बैकुंठपुर, 24 जुलाई।
केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना का छत्तीसगढ़ राज्य का सर्वर दिल्ली से बंद हो जाने के कारण मनरेगा में कार्य करने वाले मजदूरों का निर्धारित तय समय पर भुगतान नहीं हो पा रहा है, ऐसा बीते 15 दिनों से जारी है, जिन कार्यों के मस्टर रोल जारी हो चुके हैं, उनका कार्य तो  चालू है, परन्तु भुगतान कब होगा ये कोई नहीं बता पा रहा है, वहीं मनरेगा के तहत कार्यो के अलावा कई जानकारी साईट पर डाली जाती है वो कार्य भी पूरी तरह से ठप्प हो चुके है।

वहीं जिले के मनरेगा पीओ श्री आरिफ का कहना है कि यह सही है दिल्ली स्थित एनआईसी  का हमारे राज्य का सर्वर बंद हो गया है, राज्य स्तर पर इसकी जानकारी केन्द्र सरकार को भेजी गई है, जिस कारण नए कार्यों के साथ भुगतान समय पर होने की समस्या खड़ी हो गयी है। जिन कार्यों का पूर्व में मस्टररोल जारी हो गया है, वो कार्य जारी है।

 मनरेगा की साईट बंद होने के कारण पूरे राज्य में इसके तहत किए जा रहे कार्यों पर बड़ा असर पडऩे की संभावना है, बीते एक पखवाड़े से अधिक समय से मनरेगा का केंद्रीय सर्वर में खराबी आ जाने के कारण एमआईएस नहीं हो पा रहा हैै। जिस कारण मनरेगा मजदूरों को 15 दिन में भुगतान नही हो पा रहा है। यदि इसे जल्द नही सुधारा गया तो मनरेगा मजदूरों को काम करने के बाद भी समय पर भुगतान होने में देरी होगा जिसका  खामियाजा ग्रामीण मनरेगा मजदूरों को भुगतना पड़ सकता है। 

अभी अधिकारी भी यह बताने की स्थिति में नहीं है कि मनरेगा का सर्वर की खराबी कब तक दुरूस्त हो पायेगी। इस तरह जिले भर के ग्राम पंचायत क्षेत्रों में मनरेगा मजदूरों को कार्य करने के बाद भी समय पर  मजदूरी का भुगतान नहीं हो पायेगा।  कोरोना काल में ग्रामीण क्षेत्र के लोगो को काम देकर उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ करने मेें  मनरेगा योजना की महती भूमिका है। 

हलांकि मनरेगा कार्य ग्रामीण अंचलों में चल रहा है।  ऐसे में मजदूरों को काम करने के बाद अपनी पारिश्रमिक के लिए भटकना पड़ सकता है।  इसके पूर्व भी कोरिया जिले के ग्राम पंचायत क्षेत्रों में मनरेगा के कार्यों का समय पर भुगतान  सब कुछ सही होने के बाद भी नही हो रहा था महीनों महीनों से कई पंचायत के मजदूरों को  कार्य करने के बाद मजदूरी प्राप्त करने के लिए भटकना पड़ रहा था।  

नहीं रूका मनरेगा का कार्य
मनरेगा के केंद्रीय सर्वर के डाउन होने के बाद नये कार्य शुरू नही हो पा रहा है जबकि मनर्रेगा के केंद्रीय सर्वर में खराबी आने के पूर्व जो मस्टर रोल निकाल निकल गये थे उसके आधार पर पुराने कार्य अभी भी कई पंचायतों में चल रहे है। इस तरह से देखा जाये तो मनर्रेगा के सर्वर में खराबी आन्रे के बाद मनरेगा के कार्य पर रोक नहीं लगी है सिर्फ नये कार्य की शुरूआत नहीं हो रही है जबकि पुराने मस्टर रोल के आधार पर पुराने कार्य अबाध गति से चल रहा है। लेकिन अब सर्वर में खराबी के कारण कार्य करने के बाद एमआईएस नही होने के चलते कार्य कर रहे मनरेगा मजदूरों का पारिश्रमिक का भुगतान  रूक गया है। जिस कारण नियमानुसार 15 दिन में मजदूरों का भुगतान का कार्य नही हो पा रहा है।

नए जुड़े वार्डों को नहीं मिल रहा लाभ
कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर की नगर पालिका परिषद व निकट कोयलांचल शिवपुर चरचा नगर पालिका परिषद में शामिल ग्राम पंचायतों को पुन: नगरीय निकाय के वार्ड से अलग कर ग्राम पंचायत बना दिया गया है। वर्ष 2008 में भाजपा सरकार ने नगर पालिका में राजवाड़े समाज के बाहुल्य ग्राम पंचायतों को बैकुंठपुर और चरचा शिवपुर में जोड कर नपा चुनाव में जीत दर्ज की। परन्तु इसका खमियाजा वहां के ग्रामीणों को उठाना पड़ा, उन्हें ग्राम पंचायत का लाभ भी नहीं मिला जबकि शहर में शामिल होने के कारण तमाम तरह के टैक्स देने पड़े, जिसके बाद विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें वापस ग्राम पंचायत बनाए जाने का प्रस्ताव भेजा ताकि उन्हें चुनाव में लाभ हो सके, परन्तु ऐसा हुआ नहीं, वहीं केन्द्र सरकार की योजनाओं के क्रियांन्वयन में इन पंचायतों को हटा दिया गया था अब दुबारा इन ग्राम पंचायतों को शामिल किया गया है, परन्तु वर्तमान में बीते 15 दिन से मनरेगा का सर्वर खराब होने के कारण कोई नया कार्य शुरू नही हो रहा है इस तरह मार्च से लागू लॉकडाउन के बाद नगर पालिका से हटाये गये वार्ड जो कि फिर ग्राम बने है उन क्षेत्रो लोगों के पास कोई कार्य नही है। 

डॉ. सिंहदेव ने किया था विरोध
जब इन ग्राम पंचायतों को शहर में जोड़ा जा रहा था, तब डॉ. रामचंद्र सिंहदेव ने इसका पुरजोर विरोध किया था, उन्होंने कहा था कि ग्रामीणों का विकास रूक जाएगा, अंतत: तत्कालिन भाजपा सरकार ने यह कहते हुए ग्राम पंचायत में वापसी की, कि ग्रामीणों का विकास नहीं हो पाया और ग्रामीण क्षेत्र विकास से दूर रह गए। 

 


24-Jul-2020 7:12 PM

मनेन्द्रगढ़, 24 जुलाई। सरगुजा विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष व विधायक गुलाब कमरो के प्रयास से भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र के सुदूर वनांचल क्षेत्र भरतपुर विकासखंड को शिक्षा के क्षेत्र में दो बड़ी सौगात मिली है। भरतपुर विकासखंड में 20 करोड़ की लागत से एकलव्य स्कूल व एक करोड़ 90 लाख की लागत से बैगा जनजाति के बच्चों के लिए आवासीय स्कूल की स्वीकृति मिली है।

भरतपुर विकासखंड में 20 करोड़ की लागत से एकलव्य विद्यालय भवन का निर्माण होगा। वर्ष 2020-21 में छत्तीसगढ़ के 19 जिलों में प्रारंभ होने वाले विद्यालय में एक विद्यालय भरतपुर विकासखंड शामिल है, जबकि वर्ष 2019-20 में सोनहत विकासखण्ड को एकलव्य विद्यालय की सौगात मिल चुकी है। शिक्षा के क्षेत्र में आदिवासियों के बच्चों के लिए विधायक की पहल से बैगा प्रकोष्ठ के तहत भरतपुर विकासखंड के ग्राम में कक्षा एक से कक्षा पांचवी तक बच्चों के लिए आवासीय स्कूल हेतु 1 करोड़ 90 लाख रुपये स्वीकृत हुए हैं। शिक्षा के क्षेत्र में दो बड़ी सौगात मिलने पर भरतपुर विकासखंड वासियों ने हर्ष व्यक्त करते हुए विधायक गुलाब कमरो के प्रति आभार प्रकट किया है।


24-Jul-2020 6:06 PM

चिरमिरी, 24 जुलाई। खडग़वां जनपद पंचायत की अध्यक्ष सोनमती उर्रे ने मनेंद्रगढ़ विधायक विनय जायसवाल पर कार्यों में बाधा डालने का आरोप लगाया है।
जनपद पंचायत खडग़वां अध्यक्ष सोनमती उर्रे ने आरोप में कहा है कि जब भी मैं कोई कार्य करना चाहती हूं तो मेरे कार्यों में स्थानीय विधायक बाधा डालते हैं और वह काम नहीं हो पाता है और यही वजह है कि मैं अपने क्षेत्र का विकास अभी तक नहीं करा पाई हूं।

इस मामले में विधायक डॉ. विनय जयसवाल ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है यह सब बीजेपी की साजिश है।
 


24-Jul-2020 6:05 PM

विधायक पर कार्रवाई की मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
चिरमिरी, 24 जुलाई।
सोशल मीडिया फेसबुक में की गई टिप्पणी को लेकर पूर्व विधायक श्याम बिहारी जायसवाल ने अपने समर्थकों के साथ खडग़वां थाने जाकर मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल के विरुद्ध लिखित शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की है ।

अपने शिकायत में पूर्व विधायक श्याम बिहारी जायसवाल ने कहा है कि मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल द्वारा फेसबुक में की गई टिप्पणी से कोरोना काल में झूठी अफवाह फैला कर मेरी छवि को धूमिल की जा रही है। उन्होंने मामला पंजीबद्ध करते हुए कड़ी कार्रवाई की मांग की है। 
 


23-Jul-2020 9:26 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

चिरमिरी, 23 जुलाई। बीते दिनों सीबीएससी 10वीं बोर्ड के परीक्षा परिणाम घोषित हुआ जिसमें डॉ. बीआर नायक एवं शिक्षिका सुमन नायक की बेटी कनिष्का नायक ने 96.20 प्रतिशत अंक अर्जित कर जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रथम स्थान हासिल कर जिले एवं विद्यालय को गौरवान्वित किया। उल्लेखनीय है कि कनिष्का ने 2019-20 में नीट एवं आईआईटी एक्स नवोदय फाउंडेशन वाराणसी में चयनित हुई थी। 

कनिष्का ने बताया कि प्रतिदिन नियमित रूप से स्कूल जाना और निरंतर पढ़ाई में बने रहना ही उनकी सफलता का मूल मंत्र है। कनिष्का के पिता डॉक्टर हैं और मां शिक्षिका हैं। कनिष्का की इस उपलब्धि में विद्यालय के प्राचार्य समेत विद्यालय के समस्त स्टाफ एवं जिला स्काउट मास्टर श्याम कुमार आंडिल ने शुभकामनाएं हैं।

 


22-Jul-2020 10:09 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 22 जुलाई। विधायक गुलाब कमरो ने 83 लाख 55 हजार के विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। सविप्रा उपाध्यक्ष विधायक गुलाब कमरो ने सेमरा में 6 लाख की लागत से बनने वाली सीसी सड़क निर्माण कार्य का भूमिपूजन किया। इसी क्रम में उन्होंने नगर पंचायत नई लेदरी के वार्ड 8 में विधायक निधि से 3 लाख लागत से बनने वाले गणेश पंडाल में शेड निर्माण, वार्ड 8 में ही सरगुजा विकास प्राधिकरण मद से 3 लाख की लागत से बनने वाले शेड, 27 लाख की लागत से पौनी पसारी निर्माण कार्य, 15 लाख की लागत से बनने वाले गौठान व इसके अतिरिक्त 29 लाख की लागत से बनने वाले सीसी सड़क निर्माण कार्य का भूमिपूजन किया। 

इस दौरान नपा उपाध्यक्ष कृष्णमुरारी तिवारी, जनपद अध्यक्ष डॉ. विनय शंकर सिंह, उपाध्यक्ष राजेश साहू, नगर पंचायत नई लेदरी अध्यक्ष सरोज यादव, सीएमओ संजय दुबे, उपाध्यक्ष इंद्र कुमार पटेल, पार्षद देवबहादुर सिंह, विनीता मलिक, अर्चना मिश्रा, सोनू केंवट, रमेश कुमार पंत, विजय चुहटेल, संजीवन लाल, शबनम बानो, अब्दुल वहीद, विष्णु दास, शंभू घोष, संजय जायसवाल, बिंद्रा दाहिया, रामायण दास, मकबूल अख्तर, लक्ष्मी दास, अनूप दास, विकास दीवान, रिजवान खान, रामसुमन मिश्रा, सोनू श्रीवास्तव सहित विधायक कार्यालय प्रभारी रविंद्र सोनी व विधायक जिला प्रतिनिधि रंजीत सिंह उपस्थित रहे।

 

 


22-Jul-2020 10:08 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता
मनेन्द्रगढ़, 22 जुलाई।
स्थानीय पुलिस ने अवैध कबाड़ परिवहन करते पिकअप वाहन को जब्त कर एक आरोपी को हिरासत में लिया है।
20 जुलाई को पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि मनेंद्रगढ़ की ओर से सफेद रंग की पिकअप में चोरी का कबाड़ लोड कर एमपी की ओर ले जाने की तैयारी की जा रही है। सूचना पर सिद्धबाबा घाट के पास घेराबंदी कर पिकअप वाहन क्र. सीजी16ए-2635 को रोककर चालक से पूछताछ करने पर उसने अपना नाम शकील अहमद उर्फ मस्सा (32) निवासी मंदिर के पास वार्ड क्र. 14 मनेंद्रगढ़ का होना बताया। पिकअप के डाला को चेक करने पर उसमें करीब 2 टन अवैध कबाड़ पाया गया जिसकी अनुमानित कीमत 20 हजार रूपए बताई गई है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने उक्त कबाड़ को एसईसीएल की बंद पड़ी खदान मलगा से चोरी कर झगराखांड होते हुए बुढ़ार ले जाना बताया। आरोपी के विरूद्ध केस दर्ज कर न्यायिक रिमांड पर न्यायालय में पेश किया गया।

 


22-Jul-2020 10:07 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 22 जुलाई। हरियाली और खुशहाली का त्यौहार हरेली पर्व मनेंद्रगढ़ में परंपरागत तरीके से मनाया गया। इस अवसर पर छत्तीसगढिय़ा महिला क्रांति सेना की लक्ष्मी नाग के द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें महिलाओं के अलावा सामाजिक कार्यकर्ता भी शामिल हुए। 

कार्यक्रम में पहले छत्तीसगढ़ महतारी के छायाचित्र के समक्ष धूप-दीप प्रज्जवलित कर पूजा-अर्चना की गई। इसके बाद परंपरागत कृषि औजार हल, गेड़ी, कुल्हाड़ी व फावड़ा आदि की पूजा की गई। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़वासियों और अन्नदाताओं के सुख-समृद्धि की कामना की गई। इस दौरान रामा यादव, ज्योति मजूमदार, शोभना वर्मा, प्रतिमा पटवा, रूमा चटर्जी आदि उपस्थित रहे।


22-Jul-2020 7:55 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बैकुंठपुर, 22 जुलाई। कोरिया जिले में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं, अब तक 93 मामले सामने आए हैं, जिसमें 23 एक्टिव केस का इलाज कोविड अस्पताल बैकुंठपुर में जारी है।

इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. रामेश्वर शर्मा का कहना है कि जिला प्रशासन मुस्तैदी से काम कर रहा है, चिरमिरी को पूरी तरह लॉक डाउन करने का फैसला कलेक्टर ने लिया है, हमारी टीम ने घर-घर सर्वे कर लोगों की जांच शुरू कर दी है। अभी तक जिले की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है।

कोरिया जिले में कोरोना मरीजों की संख्या बढक़र 93 हो चुकी है। मंगलवार को चिरमिरी के 4 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिन्हें बैकुंठपुर स्थित कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया है। जिसमें एक व्यक्ति की ट्रेवल हिस्ट्री कहीं बाहर की नहीं होने से स्वास्थ्य विभाग उससे पूछताछ कर रहा है। बताया जाता है कि वह व्यक्ति ना सिर्फ कई दुकानों में गया बल्कि कई तरह की बैठकों में भी शामिल हुआ है।

दूसरी ओर एक कोरोना पॉजिटिव को लेकर राजनीति तेज हो गई है, कांग्रेसी इसे भाजपा की लापरवाही बता रहे हैं, जबकि भाजपाई कांग्रेस पर झूठ फैलाने का आरोप लगा रहे हैं। अब 23 जुलाई से चिरमिरी को लॉक डाउन करने का निर्णय लिया गया है।

अब तक 4572 लोगों की जांच

कोरिया जिले में अब तक 4226 सैंपल रायपुर भेजे जा चुके हैं, जिनमें 85 केस पॉजिटिव और 69 केस अभी तक अप्राप्त हंै, जबकि बैकुंठपुर स्थित जांच केंद्र में अब तक 366 सेंपलों की जांच की गई, जिसमें 8 केस पॉजिटिव आए, 4 सेंपल की रिपोर्ट आना बाकि है। सीएमएचओ श्री शर्मा की मानें तो उनकी टीम लगातार ऐसे लोगों के सेंपल लेकर जांच कर रही है, जो सीधे लोगों के संपर्क में आ रहे हंै, जिनमें मेडिकल स्टोर संचालक, मेडिकल स्टाफ, दुकानदार हैं। 

कोविड अस्पताल में 23 मरीज

सीएमएचओ डॉ. रामेश्वर शर्मा ने बताया कि बैकुंठपुर स्थित कोविड अस्पताल में अब तक 50 कोरोना पॉजिटिव केस का इलाज हुआ है, जिसमें 25 लोग स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज कर दिए गए, जबकि 2 मामलों को यहां से भेजा गया है, वहीं 23 मरीजों का इलाज जारी है, जिसमें 14 पुरूष और 9 महिलाएं शामिल हंै। मरीजों को बेहतर इलाज के साथ वहां काम करने वाले मेडिकल स्टॉफ को यहां से ड्यूटी के बाद अलग रखा जाता है, ड्यूटी पूरी होने के बाद 14 दिन का क्वारंटीन भी किया जा रहा है।

मास्क को लेकर गंभीर नहीं लोग

कोरिया जिले में ज्यादातर कार्यालयों में ना तो ज्यादातर अधिकारी मास्क लगा रहे हंै और ना ही कर्मचारी, यही हाल दुकानदारों का है और ग्राहकों में कुछ लोग ही मास्क लगाए देखे जाते हैं। वहीं सरकारी कार्यालयों में सेनेटाइजर नजर नहीं आता है एक दो कार्यालय में मशीन लगी है जिसमें कुछ में सेनेटाईजर ही खत्म हो चुका है।

सीमित संसाधनों में काम कर रहा स्वास्थ्य विभाग

लॉॅकडाउन के समय जिला प्रशासन और पुलिस के संयुक्त प्रयास से कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करते लोगों को देखा जा रहा था, परन्तु बीते एक माह से सिर्फ स्वास्थ्य विभाग बाहर से आए लोगों को तब ढूंढ पाता है जब कोई उसे सूचित करता है, विभाग की टीम जाकर उसका कोरोना टेस्ट करती है और उसे क्वारंटीन करती है। जिले में कोरोना से सिर्फ स्वास्थ्य विभाग अपने सीमित संसाधन से लड़ रहा है। 


21-Jul-2020 6:37 PM

पूर्व महापौर ने विस अध्यक्ष से की मुलाकात

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
चिरमिरी, 21 जुलाई।
पूर्व महापौर के. डोमरु रेड्डी ने छतीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महन्त से सौजन्य मुलाकात कर, चिरिमिरी में कोयला उत्पादन के बाद खाली पड़ी भूमि का कृषि उपयोग हेतु मृदा परीक्षण कराने व कृषि के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष संभावनाओं की तलाश हेतु विशेषज्ञों की टीम भेजकर सही तथा वास्तविक अग्रिम कार्यवाही करने की मांग की है। चर्चा के दौरान उन्होंने कहा है कि पास के जशपुर में वहां के वातावरण के अनुरूप जिस तरह से चाय की अच्छी पैदावार की जा रही है, उसी तरह हमारे चिरमिरी के जमीन, पानी तथा आवोहवा में भी क्या हो सकता है, उसका पता लगाकर यहां के बेरोजगारों के लिए कृषि आधारित रोजगार के अवसर बढ़ाने पर जोर दिया जाना च

अपने पत्र में पूर्व महापौर श्री रेड्डी ने कहा है कि चिरमिरी कोयला उत्पादन में लगा कोल इंडिया के उपक्रम एसईसीएल के लीज होल्ड एरिया वाला पहाड़ीनुमा प्राकृतिक सौंदर्य बिखेरने वाला एक सुंदर शहर है, जिसके कारण राज्य सरकार ने इसे पर्यटन शहर के रूप में चिन्हित भी किया है। जहाँ वर्तमान समय में खदानों से कोयला उत्पादन के प्राकृतिक स्त्रोतों के घटने व मशीनीकरण के कारण यहां के कोयला खदानों की संख्या में हो रही कमी एवं लगातार हो रही सेवानिवृत्ति तथा नए रोजगार के अवसर न बढ़ा पाने की नीतिगत दिक्कतों के कारण यहां के लोग अपने पैतृक गृहग्राम की ओर पलायन करने के लिए मजबूर हैं, जिसके कारण अब चिरिमिरी में बढ़ते बेरोजगारी के रोकथाम हेतु स्थानीय युवाओं के लिए रोजगार के अन्य विकल्पों वाले स्रोतों को तलाशना आवश्यक हो गया है।