छत्तीसगढ़ » रायपुर

Date : 20-Sep-2019

शिक्षा महाविद्यालयों में विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आनलाइन आवेदन 23 से

रायपुर, 20 सितम्बर। राज्य के शासकीय, निजी शिक्षा महाविद्यालयों, संस्थाओं में संचालित बी.एड., डी.एल.एड., बी.ए.बी.एड. और बी.एस.सी.बी.एड. पाठ्यक्रम 2019 में प्रवेश हेतु रिक्त सीटों के लिए अंतिम चरण के आबंटन की प्रक्रिया 23 सितम्बर से ऑनलाइन प्रारंभ होगी। ऑनलाइन आवेदन भरने की प्रक्रिया 27 सितम्बर तक चलेगी। इस बार आंबटन की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन की जाएगी। पिछले वर्षों से अलग साक्षात्कार (काउंसलिंग) आबंटन की प्रक्रिया के स्थान पर अंतिम चरण प्रक्रिया ऑनलाइन की जा रही है। 

राज्य में डी.एल.एड. की कुल 6 हजार 710 सीटों में तीन चरण के आबंटन के बाद शेष रिक्त 2 हजार 567 और बी.एड. की कुल 14 हजार 150 सीटों में से तीन चरण के आबंटन प्रक्रिया के बाद शेष रिक्त लगभग 1670 सीटों के लिए 23 सितम्बर से एक बार विकल्प फार्म भरवाएं जाएंगे और दो बार आबंटन सूची जारी की जाएगी। 

अंतिम चरण की प्रथम सूची 28 सितम्बर को जारी की जाएगी और प्रवेश की तिथि 30 सितम्बर से एक अक्टूबर तक निर्धारित की गई है। 

अंतिम चरण की द्वितीय सूची 3 अक्टूबर को जारी होगी और प्रवेश की तिथि 4 अक्टूबर से 7 अक्टूबर तक निर्धारित की गई है। 


Date : 20-Sep-2019

रासेयो स्वर्ण जयंती वर्ष पर कार्यक्रम 24 को, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समारोह के मुख्य अतिथि होंगे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 20 सितंबर।
छत्तीसगढ़ स्टेट एन.एस.एस. सेल द्वारा 24 सितंबर को दीनदयाल उपाध्याय आडिटोरियम में राष्ट्रीय सेवा योजना स्थापना सम्मान समारोह व पुरस्कार वितरण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल होंगे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल करेंगे। इस अवसर पर राज्य स्तर पर चयनित स्वयं सेवकों कार्यक्रम अधिकारी एवं संस्था को पुरस्कृत किया जाएगा। 

विदित हो कि राष्ट्रीय सेवा योजना के स्थापना 24 सितंबर 1969 में हुई थी। स्थापना के 50 वर्ष पूर्ण होने पर इस वर्ष स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। राज्य एनएसएस अधिकारी डॉ. समरेन्द्र सिंह द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार राष्ट्रीय सेवा योजना की राज्य इकाई द्वारा 23 - 24 सितंबर को दो दिवसीय राज्य स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें राज्य भर से 15  सौ छात्र-छात्राओं की भागीदारी रहेगी। 23 सितंबर को राज्यस्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। इसी दिन शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। सांस्कृतिक संध्या का उद्घाटन महापौर प्रमोद दुबे द्वारा किया जाएगा। स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर प्रत्येक विश्वविद्यालय प्रकोष्ठ द्वारा प्रकोष्ठ का आयोजन भी किया जाएगा।

 


Date : 20-Sep-2019

सर्व सिंधी समाज एवं हिन्दु समाज द्वारा पाक में हिन्दुओं पर हमले के विरोध में धरना, सभा में नेहरू पर टिप्पणी, मारपीट भी 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 20 सितंबर।
सर्व सिंधी समाज एवं हिन्दु समाज द्वारा शुक्रवार को पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हो रहे हमले और अत्याचार का जमकर विरोध करते हुए यहां धरना प्रदर्शन किया गया। इस दौरान एक आरएसएस नेता की 1947 में भारत-पाक बंटवारे को लेकर नेहरू-गांधी पर की गई टिप्पणी पर वहां जमकर बवाल खड़ा हो गया और झूमा-झटकी शुरू हो गई। धरने पर बैठे पदाधिकारी-कार्यकर्ता एक-दूसरे पर भिड़ गए। कुछ देर बाद मामला शांत होने पर पाकिस्तान का पुतला दहन किया गया। 

सर्व सिंधी एवं हिन्दु समाज द्वारा आयोजित धरने में कांग्रेस, भाजपा व अन्य संगठन से जुड़े छोटे-बड़े नेता भी शामिल रहे। वे सभी पाकिस्तान में सरकारी सरंक्षण में हिन्दु धर्म स्थलों में तोडफ़ोड़ एवं हिन्दु बालिकाओं के अपहरण का जोरदार विरोध करते रहे। धरना प्रदर्शन के बाद शाम को उनकी एक बड़ी रैली निकलने वाली थी। इसके पहले धरना सभा को वहां मौजूद नेता संबोधित करते रहे। 

सभा को आरएसएस से जुड़े एक  नेता घनश्याम चौधरी ने संबोधित करते हुए 1947 में भारत-पाक बंटवारे की याद दिला दी। वहीं उन्होंने बंटवारे के साथ नेहरू-गांधी पर टिप्पणी भी कर दी, जिससे वहां मौजूद विधायक सत्यनारायण शर्मा, विधायक कुलदीप जुनेजा, रमेश वल्र्यानी, अजीत कुकरेजा, पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी समेत सिंधी व हिन्दु समाज के कई नेता भडक़ गए और वे सभी नेहरू-गांधी पर की गई टिप्पणी का विरोध करने लगे। 

 उल्लेखनीय है कि धरना के बाद आयोजित रैली को रोकने पुलिस ने सप्रे स्कूल के पास बेरिकेड्स लगा दिया था। वहां काफी संख्या में जवान तैनात रहे। समाज के लोग रैली निकालकर राज्यपाल को ज्ञापन देने की तैयारी में थे। 

 

 


Date : 20-Sep-2019

मंतूराम की स्क्रिप्ट भूपेश बघेल ने लिखी-रमन सिंह

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 20 सितंबर।
अंतागढ़ प्रकरण पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि मंतूराम की स्क्रिप्ट भूपेश बघेल द्वारा लिखी जा रही है। 

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह दंतेवाड़ा उपचुनाव में प्रचार करने के बाद रायपुर लौटे। उनसे मंतूराम पवार के खुलासे पर पूछे जाने पर कहा कि  यह साफ-साफ दिख रहा है की मंतूराम की स्क्रिप्ट भूपेश बघेल द्वारा लिखी जा रही है। उन्होंने कहा कि ये सब दंतेवाड़ा चुनाव को प्रभावित करने के उद्देश्य से किया जा रहा है। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा के कार्यकर्ताओं को दंतेवाड़ा क्षेत्र में प्रचार करने से रोका जा रहा है। यहां तक की हमारी प्रत्याशी ओजस्वी मांडवी को तक को चुनाव प्रचार के दौरान पर्याप्त सुरक्षा मुहैया नहीं कराई जा रही है, लेकिन भूपेश बघेल यह जान ले कि जनता सब समझती है। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी के मुख्यमंत्री भूपेश पर की गई टिप्पणी पर कहा कि भूपेश बघेल को 370 का ज्ञान नहीं है, वो उस विषय पर बात न करे तो बेहतर होगा, अन्यथा राहुल गांधी की ही तरह हंसी के पात्र बनेंगे।


Date : 20-Sep-2019

पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने केन्द्रीय मंत्री तोमर के घर जाकर उनकी माता के निधन पर शोक प्रकट किया

रायपुर, 20 सितम्बर । पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और प्रेमप्रकाश पाण्डेय शुक्रवार को ग्वालियर पहुंचे। पिछले दिनों केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर की माता का देहांत हो गया था। दोनों ने श्री तोमर के घर जाकर उनकी माता के निधन पर शोक प्रकट किया। इस मौके पर पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष नारायण चंदेल भी थे। 


Date : 20-Sep-2019

अक्टूबर में नवा रायपुर में आएंगे सैकड़ों बाल हृदय रोग विशेषज्ञ

रायपुर, 20 सितंबर (छत्तीसगढ़)। छत्तीसगढ़ में अक्टूबर के महीने में एक बड़ी अंतरराष्ट्रीय मेडिकल कांफ्रेंस होने जा रही है जिसमें दुनिया भर से आने वाले सैकड़ों बाल हृदय रोग विशेषज्ञ तीन दिनों तक चर्चा करेंगे। इसका आयोजन नवा रायपुर स्थित श्री सत्य सांईं संजीवनी बाल हृदय रोग अस्पताल द्वारा किया जा रहा है जहां कि कई देशों से लोग अपने बच्चों के ऑपरेशन के लिए लगातार आते रहते हैं। 

11,12 और 13 अक्टूबर को पीडियाट्रिक कार्डिएक सोसायटी ऑफ इंडिया की यह कांफ्रेंस इस अस्पताल की मेजबानी में होने जा रही है। आमतौर पर यह कांफ्रेंस देश के (बाकी पेजï 5 पर)
बड़े शहरों में ही होते आई है, लेकिन इस वर्ष वह श्री सत्यसांईं संजीवनी अस्पताल के अतिथि सत्कार में यहां हो रही है। पीसीएसआई ने बाल हृदय चिकित्सा में इस अस्पताल के असाधारण योगदान को देखते हुए इसे यह महत्व देना तय किया है। पीसीएसआई-संजीवनी 2019 में देश-विदेश से सैकड़ों शिशु हृदय रोग विशेषज्ञ शामिल होने वाले हैं। 

 


Date : 20-Sep-2019

जीएसटी से 36गढ़ को बड़ा नुकसान सिंहदेव ने जीएसटी बैठक में विकल्प सुझाए​

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। जीएसटी कॉउंसिल की शुक्रवार को गोवा बैठक में वाणिज्यिक कर मंत्री टीएस सिंहदेव ने जीएसटी लागू होने के बाद राजस्व के नुकसान पर छत्तीसगढ़ का पक्ष पुरजोर तरीके से रखा। उन्होंने कहा कि जीएसटी के लागू होने से छत्तीसगढ़ को राजस्व का बहुत अधिक नुकसान हो रहा है।

श्री सिंहदेव ने यह भी कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा क्षतिपूर्ति के लिए  जो मापदंड तय किए हैं, वह पर्याप्त नहीं है। वाणिज्यिक कर (जीएसटी) मंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने वर्ष-2017 में जीएसटी लागू होने के बाद यह व्यवस्था लाई गई थी कि जिन राज्यों को जीएसटी से नुकसान होगा उसकी पूर्ति केन्द्र सरकार द्वारा क्षतिपूर्ति के रूप में जीएसटी लागू होने के पांच वर्षों तक की जाएगी।

उन्होंने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य को जीएसटी लागू होने से राजस्व में बहुत अधिक नुकसान है और क्षतिपूर्ति केवल वर्ष-2022 तक देने का प्रावधान है। वर्ष-2022 के बाद ऐसी कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं है, जिससे राज्य को होने वाले नुकसान की भरपाई की जा  सके। श्री सिंहदेव ने यह भी कहा कि राज्य के राजस्वहित की रक्षा के लिए वर्ष-2022 से आगे भी दिया जाना चाहिए।

उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि कोयले पर चार सौ रूपए प्रतिटन की दर से क्षतिपूर्ति सेस को कोयले के उत्पादनकर्ता राज्यों को दिए जाने तथा सभी प्रकार के सेस को प्रथम बिंदु पर ही लिए जाने का प्रस्ताव कॉउंसिल के समक्ष रखा गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष-2018-19 में एसईसीएल छत्तीसगढ़ द्वारा कोयले पर सेस के रूप में 57 सौ करोड़ रूपए जमा किया जाना था। इन सुझावों को माना जाएगा, तो जीएसटी के कारण छत्तीसगढ़ को हो रहे नुकसान की कुछ हद तक भरपाई हो सकेगी। बैठक में जीएसटी सचिव सुश्री रीना बाबा साहेब कंगाले भी थीं।

 


Date : 20-Sep-2019

अंतरराष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन का शुभारंभ, देश-विदेश से 117 प्रतिनिधि एवं क्रेतागण पहुंचे, 8 एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। छत्तीसगढ़ के कृषि, उद्यानिकी एवं वनोपज, सहित हैण्डलूम कोसा आदि विविध उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर प्रोत्साहन एवं विक्रय को बढ़ावा देने के लिए शुक्रवार को  राजधानी  में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रेता-विक्रेताओंं का सम्मेलन शुरु हुआ। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सम्मेलन का शुभारंभ किया। सम्मेलन में 16 देशों के 57 प्रतिनिधि एवं क्रेतागण तथा देश के विभिन्न राज्यों से 60 प्रतिनिधि एवं क्रेतागण शामिल हैं। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य मंडी बोर्ड के साथ चार और छत्तीसगढ़ राज्य हैण्डलूम को-ऑपरेटिव फेडरेशन के साथ कुल आठ अनुबंध पत्र (एम.ओ.यू.) पर हस्ताक्षर किए गए।

सम्मेलन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विदेश-स्वदेश से आए क्रेताओं और प्रतिनिधियों के साथ चर्चा की। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के किसान मेहनतकश, कर्मठ और ईमानदार हंै। रायपुर केवल छत्तीसगढ़ की ही राजधानी नहीं बल्कि विविध कृषि उत्पाद और वनौषधि की भी राजधानी है। छत्तीसगढ़ में प्राचीनकाल से परम्परागत एवं नैसर्गिक रूप से औषधियुक्त कोदो, कुदकी, रागी, सांवा को उगाया जाता है। कुछ समय से इस रूझान में कमी आ रही थी। ऐसे आयोजनों के माध्यम से उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच सीधा संबंध बढ़ेगा और इससे अंतर्राष्ट्रीय बाजार मिलने से जहां किसानों को फायदा होगा वहीं उपभोक्ताओं को सही दाम पर सामग्री मिलेगी। छत्तीसगढ़ के कोसा वस्त्रों तथा फल और सब्जियों उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा।

श्री बघेल ने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ’नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी’ की जानकारी देते हुए बताया कि इससे नदी-नालों का संवर्धन, पशुधन का विकास किया जा रहा है। इससे गोबर खाद से आर्गेनिक फलों एवं सब्जियों का उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा।

इस अवसर पर कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा छत्तीसगढ़ के चावल की खुशबू अब अंतर्राष्ट्रीय बाजार में महकेगी और यहां की वनौषधियों जंगलों से निकलकर अंतर्राष्ट्रीय बाजार तक पहुंचेगी। सम्मेलन में कृषि एवं जैव प्रौद्योगिकी तथा जल संसाधन मंत्री  रवीन्द्र चौबे, स्कूल शिक्षा एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, मुख्य सचिव सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव के डी पी राव, अपर मुख्य सचिव सी.के.खेतान, कुलपति इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर एस.के. पाटिल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी, प्रमुख सचिव कृषि, ग्रामोद्योग विभाग मनिंदर कौर द्विवेदी, सचिव कृषि एवं ग्रामोद्योग विभाग हेमंत पहारे, मुख्यमंत्री के सचिव एवं संचालक कृषि टामन सिंह, विशेष सचिव कृषि मुकेश बंसल और छत्तीसगढ़ राज्य कृषि उपज मंडी के प्रबंध संचालक अभिनव अग्रवाल उपस्थित थे।

सम्मेलन के प्रारंभ के दो दिनों में विदेश-स्वदेश से आए क्रेताओं और प्रतिनिधियों के साथ छत्तीसगढ़ के उत्पादकों और प्रतिनिधियों के बीच चर्चा की जाएगी। 22 सितम्बर सम्मेलन के तीसरे दिन यह आम जनता के लिए प्रदर्शन के अवलोकन तथा क्रय-विक्रय के लिए खुला रहेगा।


Date : 20-Sep-2019

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी महाराज पादुका पूजन, समारोह 21 को

रायपुर, 20 सितंबर। छत्तीसगढ़ी ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में विप्र सांस्कृतिक भवन प्रबंध समिति द्वारा शारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी महाराज के अभिनंदन एवं पादुका पूजन समारोह का आयोजन 21 सितंबर शनिवार को दोपहर 3.30 बजे व विप्र सांस्कृतिक भवन समता कॉलोनी,रायपुर में आयोजित किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ युवा विकास संगठन,विप्र सांस्कृतिक भवन प्रबंध समिति, बाल समाज सोसाइटी,विप्र महाविद्यालय शिक्षण समिति,विप्र शक्ति महिला मंडल ,सोहागा मंदिर ट्रस्ट कमेटी रायपुर एवं समस्त ब्राम्हण छत्तीसगढ़ की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार श्रद्धालु जन समारोह में उपस्थित होकर दर्शन एवं उनके अमृत वचनों के श्रवण का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।


Date : 20-Sep-2019

75 करोड़ की लागत से निर्मित ईएचटी उपकेंद्र उर्जीकृत, प्रदेश में अतिउच्चदाब उपकेंद्रों की संख्या हुई 120

रायपुर, 20 सितंबर। छत्तीसगढ़ स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी व्दारा प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों की विद्युत अधोसंरचना को सुदृढ़ बनाने का काम सर्वोच्च प्राथमिकता से किया जा रहा है। इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  के निर्देशानुसार बस्तर वनांचल की विद्युत व्यस्था को सुदृढ़ बनाने के लिये 75 करोड़ की लागत से निर्मित 220ध्132ध्33 केव्ही उपकेंद्र का निर्माण कर ऊर्जित किया गया। इस उपकेंद्र की क्षमता 200 एमवीए है। बस्तर वनांचल की विद्युत आपूर्ति में आएगी सुदृढ़ता उक्त जानकारी पावर कंपनीज के अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार शुक्ला ने दी। उन्होंने बताया कि यह उपकेंद्र वनांचल को सुदृढ़ विद्युत आपूर्ति करने के साथ ही प्रस्तावित जगदलपुर -कोंडागांव-नारायणपुर-रावघाट-भानुप्रतापपुर रेलवे लाइन के लिए भी उपयोगी होगा।

आगे उन्होंने बताया कि इस नये उपकेंद्र के ऊर्जीकृत होने के उपरांत प्रदेश में अब 220ध्132 केव्ही उपकेंद्रों की संख्या 25 हो गई है। जबकि राज्य गठन के समय इस क्षमता के केवल पांच उपकेंद्र ही थे। नारायणपुर जिला मुख्यालय से लगभग 10 किमी दूरी पर स्थित नेलवाड़ में क्रियाशील किए गए के निर्माण में अनके चुनौतियों का सामना ट्रांसमिशन कंपनी के अधिकारियों-कर्मचारियों को करना पड़ा। इसके बावजूद एमडी (ट्रांसमिशन) श्रीमती तृप्ति सिन्हा सहित कंपनी के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने अपनी लगन एवं प्रयास व्दारा इस उपकेंद्र को सफलतापूर्वक उर्जीकृत किया। इस नए क्रियाशील उपकेंद्रों को शामिल कर अब प्रदेश में अतिउच्चदाब उपकेंद्रों की संख्या 120 हो गई है, जो कि राज्य गठन के समय मात्र 26 थी।  ऐसी बड़ी कामयाबी के लिये ट्रांसमिशन कंपनी की टीम बधाई की पात्र है। 

नव क्रियाशील उपकेन्द्र के संबंध में एमडी ट्रांस्मिशन श्रीमती तृप्ति सिन्हा ने बताया कि  नारायणपुर 220., 132, 33 केव्ही उपकेंद्र की स्थापना से पूर्व आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र के उपभोक्ताओं को 132, 33 केव्ही मसौरा (कोंडागांव) उपकेंद्र से विद्युत आपूर्ति की जाती थी, जिसके लिए लगभग 50 किमी 33 केव्ही लाइन घने जंगलों से होते हुए नारायणपुर तक जाती थी। जिससे लो-वोल्टेज की समस्याओं का सामना कृषि कार्य में प्रयुक्त पंपों को करना पड़ता था। अब भविष्य में इस क्षेत्र के उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण सतत् एवं सुचारू रूप से विद्युत प्रदान किया जा सकेगा। इससे दूरस्थ अंचलों में बसने वाले परिवारों के जीवन-स्तर में सुधार के साथ-साथ अनुकूल आर्थिक एवं सामाजिक परिवर्तन परिलक्षित होंगे।

लगभग 39 करोड़ रूपए की प्राक्कलित लागत से निर्मित इस उपकेंद्र की क्षमता 200 एमवीए है। इस उपकेंद्र को ऊर्जीकृत करने के लिए लगभग एक करोड़ रुपए की लागत से 220 केव्ही भिलाई-बारसूर लाइन का लिलो लाइन (1.10 किमी) एवं 33.24 करोड़ की लागत से 132 केव्ही नारायणपुर-कोंडागांव लगभग 50 किमी ट्रांसमिशन लाइन का निर्माण किया गया है। 220ध्132ध्33 केव्ही उपकेंद्र नारायणपुर के निर्माण से ओरछा, कोंडागांव, माकड़ी, कटे कल्याण, बेनूर, छोटे डोंगर, कुंडला, काकाबेड़ा आदि के लगभग 125 गांव एवं उसके आसपास के क्षेत्र लाभान्वित होंगे एवं चहुमुखी विकास का मार्ग प्रशस्त होगा।

 


Date : 20-Sep-2019

प्रदेश के हजारों सफाई कर्मी 21 को हड़ताल पर, रैली-प्रदर्शन भी, ठेका प्रथा बंद करने समेत 9 सूत्रीय मांग

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। प्रदेश के सभी सरकारी, अर्धसरकारी व नगरीय निकायों में लंबे समय से काम कर रहे हजारों सफाई कर्मी ठेका प्रथा  बंद करने समेत अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर 21 सितंबर रायपुर में महारैली निकालकर धरना-प्रदर्शन करेंगे। उनका कहना है कि दफ्तरों में सफाई कर्मचारी पद को समाप्त कर वहां ठेके पर सफाई का काम कराया जा रहा है। उन्होंने मांग की है कि 2014 के पहले बनाए गए सफाई कर्मी के नियमित पदों पर उन सभी की भर्ती, अनुकंपा नियुक्ति की जाए।

भारतीय सफाई कर्मचारी महासंघ के प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष रिक्की समुन्द्रे, राष्ट्रीय महासचिव जन्मेजय सोना व अन्य पदाधिकारियों ने शुक्रवार को यहां एक पत्रवार्ता में बताया कि सफाई कर्मी लंबे समय से शोषित, पीडि़त रहे हैं। वे सभी पहली बार सडक़ पर उतरकर अपनी मांग शासन-प्रशासन के सामने रखना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि सरकारी, अर्धसरकारी व नगरीय निकायों में काम करने वाले सफाई कर्मी आज भी पिछड़े हुए हैं और सामाजिक न्याय से दूर हैं। उन्हें अपना अधिकार भी नहीं मिल पा रहा है।

उन्होंने कहा कि सफाई कर्मियों को प्राप्त होने वाले न्यूनतम मजदूरी ईपीएफ, ईएसआईसी व अन्य सरकारी सुविधाएं भी नहीं मिल पा रही है। यहां तक कि 2014 में सफाई कर्मियों के नियमित पदों को समाप्त कर दिया गया है। ऐसे में सफाई कर्मियों के हजारों पदों पर भर्ती नहीं हो पा रही है। वे सभी अनुकंपा नियुक्ति से भी दूर हैं। यही वजह है कि वे सभी एकजुट होकर आंदोलन के लिए मजबूर हैं।


Date : 20-Sep-2019

रायपुर, बलौदाबाजार, महासमुंद व गरियाबंद जिले में फाइलेरिया, सर्वे

चयनित 281 स्कूलों के 7 हजार बच्चों की होगी जांच

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। संभाग के रायपुर, बलौदाबाजार, महासमुंद व गरियाबंद जिले में 20 सितंबर से फाइलेरिया सर्वे अभियान शुरू किया गया है, जो 30 सितंबर तक चलेगा। अभियान के दौरान वहां के चयनित 281 स्कूलों के 7 हजार बच्चों की ब्लड जांच की जाएगी। उनकी यह जांच रेंडम प्रक्रिया से होगी, जिससे यह पता लग पाएगा कि वहां फाइलेरिया संक्रमण की स्थिति क्या है।

बताया गया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की 35 चिरायु टीम इन चारों जिलों में पहली, दूसरी के 7 हजार बच्चों की जांच करेगी। फाइलेरिया उन्नमूलन के लिए रायपुर में 80,  बलौदाबाजार में 49, गरियाबंद में 79 और महासमुंद में 73 चिन्हांकित सरकारी, निजी स्कूलों में सर्वे किया जाएगा। इसके लिए हर टीम एक से दो स्कूलों में हर रोज शिविर लगाएगी। रायपुर जिले में 80 स्कूलों के 3544 बच्चों की ब्लड जांच फाइलेरिया टेस्ट किट से की गई है। 20 सितंबर से स्कूली बच्चों की जांच की जाएगी।

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के राज्य सलाहकार डॉ चिन्मय दास ने बताया, भारत में लगभग 60 करोड़ की जनसंख्या फाइलेरिया रोग से प्रभावित क्षेत्र में रहती है जबकि छत्तीसगढ़ में 16 जिला प्रभावित क्षेत्र में आते हैं। राज्य के उत्तर और दक्षिणी क्षेत्र में मलेरिया का प्रकोप ज्यादा रहता है। छत्तीसगढ़ के मध्य क्षेत्र में फायलेरिया के रोगी पाए जाते हैं। छत्तीसगढ़ में चार प्रकार के वेक्टर जनित रोग मलेरिया, फायलेरिया, डेंगू एवं जापानीज एनसेफालाइटीस पाये जाते हैं। फाइलेरिया रोग के लिए फैलाने वाले दो प्रकार के मच्छर होते हैं , जो गंदे पानी और जलीय वनस्पति युक्त पानी में पनते है। फाइलेरिया रोकथाम के लिए पिछले वर्ष 2018 में राज्य के जिले महासमुंद, रायगढ़, रायपुर, गरियाबंद, बलौदाबाजार में सामूहिक दवा सेवन कराया गया था।

सीएमएचओ डॉ. केआर सोनवानी व जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. विमल किशोर राय ने बताया कि फाइलेरिया को हाथीपांव भी कहा जाता है। इसे ग्रसित लोगों का जीवन बहुत कष्ट दाई होता है। हालांकि यह जानलेवा नहीं होता है, लेकिन इसका इलाज नहीं होता है। यह रोग मूलत गरीबी अवस्था में जीवन यापन करने वालों में पाया जाता है। इस रोग के कारण कार्यक्षमता प्रभावित होने से रोगी की आर्थिक स्थिति और खराब होते जाती है। इससे सिर्फ बचाव किया जा सकता है जिसके लिए मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन अपनाया गया है जिसमें सभी को वर्ष में एक बार दवा दी जाती है। तीन वर्ष तक लगातार यह गोली लेने से फइलेरिया से हमेशा के लिए बचाव हो जाता है। फाइलेरिया में मरीज के पैर और पांव मोटे हो जाते हैं।


Date : 20-Sep-2019

एसडीएम कोर्ट में फर्जी दस्तावेज पेश करने वाला दूसरा कारोबारी भी पकड़ा गया, साथी कारोबारी पहले से गिरफ्तार, जेल भी

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। फर्जी दस्तावेज एसडीएम कोर्ट में पेश करने वाला शहर का दूसरा कारोबारी भी पकड़ा गया और पुलिस उससे पूछताछ में लगी है। पता चला है कि उसने अपनी जमानत के लिए हाईकोर्ट में एक  आवेदन लगाया था, लेकिन वह वहां कागजात पेश नहीं कर पाया था।

जानकारी के मुताबिक शहर के कारोबारी राजकुमार दम्मानी ने अपने एक साथी कारोबारी मोहनदास मानिकपुरी के साथ मिलकर कुछ समय पहले एसडीएम का आदेश बताकर उनके दफ्तर से फर्जी ढंग से जमीन संबंधी दस्तावेज निकलवा लिया। इसके बाद उसे एसडीएम कोर्ट में पेश कर दिया। जमीन का यह दस्तावेज रामसागरपारा के भैंसथान का था। राजकुमार दम्मानी की वहीं पर एक जमीन थी, जिस पर वह मकान बनवाने वाला था। जबकि नगर-निगम में वहां की जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया है। वहां निगम का प्रोजेक्ट भी शुरू होने वाला है। दम्मानी ने मकान ले-आउट के लिए निगम में आवेदन भी लगाया था, जिसे निरस्त कर दिया गया। दम्मानी ने एसडीएम दफ्तर में वहां से जमीन की नकल के लिए आवेदन लगाया था। दस्तावेज जांच के बाद एसडीएम नकल रिकॉर्ड देने का आदेश देने वाले थे, तभी गड़बड़ी का खुलासा हो गया।

गोलबाजार पुलिस ने इस मामले में दम्मानी व उसके साथी की तलाश में लगी थी। इस दौरान उसका साथी पकड़ा गया और जेल भेज दिया गया। दम्मानी लगातार फरार चल रहा था। उसने हाईकोर्ट में अपनी जमानत के लिए 9 जुलाई को आवेदन दिया था, लेकिन जमानत नहीं मिली। ऐसे में पुलिस आज उसे पकडक़र ले गई है और पूछताछ में लगी है। माना जा रहा है कि मोहनदास मानिकपुरी की तरह दम्मानी पर भी पुलिस कार्रवाई जल्द होगी।


Date : 20-Sep-2019

शिक्षकों के लिए डीएड-बीएड अनिवार्य अन्यथा नियमितीकरण नहीं, वेतन वृद्धि भी नहीं मिलेगा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 20 सितंबर। प्रदेश के शिक्षाकर्मियों के नियमितीकरण के लिए डीएड या बीएड की उपाधि अनिवार्य की गई है। जिन्होंने भी निर्धारित अवधि के बाद भी डीएड या बीएड नहीं किया है, उन्हें नियमित नहीं किया जा सकेगा। साथ ही साथ उन्हें वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ भी नहीं मिलेगा।

नगरीय निकायों और शिक्षक संवर्ग के संघों द्वारा नगर निगम शिक्षक संवर्ग के कर्मचारियों की नियुक्ति के बाद भी डीएड-बीएड की उपाधि  हासिल नहीं कर पाने के कारण नियमितीकरण के संबंध में मार्गदर्शन मांगा गया था।

बताया गया कि सरकार ने सहायक शिक्षक और शिक्षक की नियुक्ति में डीएड-बीएड की उपाधिधारी अभ्यार्थी उपलब्ध नहीं होने के कारण  डीएड-बीएड की अर्हता में शिथिलता प्रदान की गई। नियमों में यह साफ है कि शिक्षक संवर्ग के पद पर सीधी भर्ती से चयनित प्रत्येक अभ्यार्थी को दो वर्ष की कालावधि के लिए परिवीक्षा पर नियुक्त किया जाएगा, जिसे पांच वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है। यदि उनकी सेवाएं उक्त कालावधि में संतोषजनक नहीं पाई जाती है, तो उनकी सेवाएं समाप्त कर दी जाएगी। परन्तु नगर निगम के शिक्षक संवर्ग के कर्मचारी परिवीक्षा अवधि पूर्ण होने के बाद ही वार्षिक वृद्धि हासिल करने के हकदार होंगे।

यह भी अनिवार्य किया गया है कि नियुक्त शिक्षक संवर्ग को डीएड-बीएड की उपाधि या तो नियुक्ति के पूर्व प्राप्त होने के फलस्वरूप उन्हें नियुक्ति दी जाएगी अथवा नियुक्ति के दौरान ही निर्धारित समय सीमा में उक्त अर्हता प्राप्त करनी होगी। जिन शिक्षक संवर्ग के कर्मचारी सेवा के दौरान निर्धारित अवधि के बाद भी डीएड/बीएड की परीक्षा उत्तीर्ण हुए हैं, उन्हें परीक्षा उत्तीर्ण होने की तिथि से नियमित किया जा सकेगा। साथ ही उपरोक्त तिथि से ही उन्हें वेतन वृद्धि की पात्रता होगी। जिन्होंने अभी तक निर्धारित अवधि के बाद भी सेवा के दौरान डीएड या बीएड की उपाधि प्राप्त नहीं की है, उन्हें नियमित किया जाना उचित नहीं होगा। और न ही उन्हें वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ मिलेगा। इन निर्देशों का पालन करने के लिए सभी निकायों को पत्र भेजा गया है।

 


Date : 20-Sep-2019

औषधीय मुनगा के पावडर, कैप्सूल का यूरोप में निर्यात, 400 रुपये किलो मैजिक राइस की महानगरों में खपत

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 20 सितंबर।
छत्तीसगढ़ में इन दिनों मैजिक राइस से लेकर ड्रैगन फ्रूट का जहां उत्पादन किया जा रहा है वहीं औषधीय गुणों से युक्त मुनगा की पत्तियों के पावडर, कैप्सूल का निर्यात किया जा रहा है। छग राज्य कृषि उपज मंडी द्वारा होटल सयाजी में 20 से 22 सितंबर तक आयोजित क्रेता विक्रेताओं के सम्मेलन के दौरान लगी प्रदर्शनी में स्थानीय कृषकों के उत्पादों की खासी पूछ परख रही। 

प्रदर्शनी में शामिल बालोद जिला के ग्राम अरकार के किसान संजय प्रकाश चौधरी ने बताया कि वह 80 एकड़ खेत में जैविक खेती कर रहे हैं। वर्ष 1996 से वह मैजिक राइस की खेती कर रहे हैं। 5 गुना ज्यादा आयरन, जिंक से युक्त मैजिक राइस की कीमत 400 रु. किलो है।   खूबचंद बघेल, महेन्द्रा कृषक सम्मान प्राप्त संजय प्रकाश ने बताया कि वर्तमान में 40 एकड़ में  वह मैजिक राइस का उत्पादन कर रहे हैं। प्रति एकड़ 12 से 15 क्विंटल इसका उत्पादन होता है। वर्तमान में देश के महानगरों में इसकी जबरदस्त मांग है। 

मैजिक चावल की छानबीन कर रहे नवीन कश्यप ने बताया कि वर्तमान में वह बासमती और नॉन बासमती चावल का निर्यात करते हैं। सोना मसूरी की दुबई में खासी मांग है। स्थानीय एक कंपनी के सेल्समैन  ने बताया कि उनकी कंपनी मुनगा पत्ती का पाउडर, कैप्सूल, एनर्जी बार बिस्किट, बरफी और फेस वॉश बनाती है। यूरोप, जर्मनी, यूएस के अलावा कोरिया में इसका निर्यात किया जाता है। 

प्रदर्शनी में शामिल बेमेतरा, जिले के बिलई गांव के किसान ने बताया वह वीएनआर बी-5 बैंगन का उत्पादन कर रहे हैं। बैंगन की इस किस्म में एक बैंगन 600 ग्राम का होता है। फिलहाल उन्होंने आधा एकड़ में इसका उत्पादन किया है। बाजार मिलने पर वह इसका उत्पादन और बढ़ाएगें।

छग में चावल के अलावा विदेशी फल और मखाना का उत्पादन किया जा रहा है। धमतरी के दुलेश्वर साहू ने बताया कि पिछले एक साल से वह मखाना की उत्पादन कर रहे हैं। दो गुना लाभ मिलने के कारण वह मखाने का बेहतर बाजार तलाश रहे हैं। ड्रेंगन फ्रूट उत्पादक मित्तुल कोठारी ने बताया कि वर्तमान में मलपुरी राजिम में इसका उत्पादन किया जा रहा है। उत्पादन से 12 किसान जुड़े हैं। फिलहाल घरेलू आपूर्ति की जा रही है लेकिन आने वाले सालों में इसके निर्यात की प्रबल संभावना है। 

धमधा के फल एवं ड्रेंगन फ्रूट उत्पादक राजेश पुनिया ने बताया कि 2015 से वह 5 एकड़ में ड्रैंगन फ्रूट की खेती कर रहे हैं। कम पानी में हर मिट्टी में इसका उत्पादन किया जा सकता है। ड्रैंगन फ्रूट के अलावा वह सीताफल, अमरूद, चीकू आदि की खेती करते हैं। वर्तमान में सीताफल का पल्प बनाया जा रहा है। बंगलोर, दिल्ली में इसकी अच्छी बिक्री है। 

 


Date : 19-Sep-2019

मरीजों के लिए की जायेगी समुचित व्यवस्था- कलेक्टर
रायपुर, 19 सितम्बर।
कलेक्टोरेट के सभा कक्ष में कलेक्टर डॉ. भारतीदासन ने जिला चिकित्सालय के जीवन दीप समिति की बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल में मरीज तथा उनके सहायक के बैठने की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए। मातृ और शिशु चिकित्सालय कालीबाड़ी में दिव्यांगजनों हेतु प्रसाधन कक्ष का निर्माण यथा शीघ्र किया जाये। 

चिकित्सालय में सुरक्षा के पर्याप्त व्यवस्था किया जाये। मरीजों के चिकित्सा के लिए आवश्यक चिकित्सा उपकरण की खरीदी की जायेगी। बैठक में पूर्व में लिए गए निर्णयों की समीक्षा के साथ-साथ मरीजों के लिए आवश्यक संसाधनों के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा की गई। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. गौरव कुमार सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के. आर सोनवानी, डॉ. रवि तिवारी सहित संबंधित विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


Date : 19-Sep-2019

कालीबाड़ी टीबी अस्पताल परिसर में स्मार्ट कार्ड बनवाने महिलाओं की भीड़
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 19 सितंबर।
कालीबाड़ी टीबी अस्पताल परिसर में स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए हर रोज लोगों की भीड़ पहुंच रही है। खासकर महिलाएं अपने बच्चों के साथ परिवार के अलग-अलग सदस्यों के नाम अलग-अलग स्मार्ट कार्ड बनवाने में लगी है। गुरूवार सुबह भी वहां उनकी भीड़ जुटी रही, और वे सभी अधिकारियों के आने का इंतजार करती रहीं। 

उनका कहना है कि पहले एक परिवार के लिए एक स्मार्ट कार्ड बनाया गया था। अब वहां परिवार के सभी सदस्यों के नाम पर अलग-अलग स्मार्ट कार्ड बनाया जा रहा है, ताकि उन्हें सरकारी निजी अस्पतालों में इलाज कराने में कोई दिक्कत न हो। उनका कहना है कि वे सभी सुबह से कालीबाड़ी पहुंच जाती हैं, लेकिन स्मार्ट कार्ड बनाने वाली टीम समय पर नहीं पहुंचती। ऐसे में यह कार्ड बनवाने के लिए वहां घंटों इंतजार करना पड़ता है। 

 

 


Date : 19-Sep-2019

बीएल कुर्रे प्रांतीय अध्यक्ष माधवलाल यादव उपाध्यक्ष मनोनीत

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 19 सितंबर।
छात्रावास आश्रम अधीक्षक संघ छत्तीसगढ़ प्रदेश पंजीकृत संस्था के प्रदेश कार्यकारिणी का विगत दिवस सर्किट हाऊस में पुनर्गठन किया गया। इस अवसर पर बीएल कुर्रे अधीक्षक को प्रांतीय अध्यक्ष पद तथा माधवलाल यादव को वरिष्ठ उपाध्यक्ष पद तथा श्रीपति अजगर को प्रांतीय महामंत्री के पद पर मनोनीत किया गया।  

इसके अलावा प्रांतीय सचिव टी सेनानी, प्रांतीय कोषाध्यक्ष जीपी भतपहरी, प्रांतीय कनिष्ठ उपाध्यक्ष डी के आजाद को मनोनीत किया गया। प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य के रूप में सुनीता सुखदेवी, कांती पैकरा, बसंती तिर्की, मंदाकिनी पंडा, आरती निकोसे, सीएल भारती, भुवनलाल सोनी, महेन्द्र टंडन, जीआर धृतलहरे को मनोनीत किया गया। 

 


Date : 19-Sep-2019

संस्कृति मंत्री ने शारदा वि़द्या मंदिर हायर सेकेण्डरी स्कूल में बच्चों को गणवेश बांटा
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 19 सितंबर।
संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने विवेकानन्द आश्रम के पास स्थित मा शारदा वि़द्या मंदिर हायर सेकेण्डरी स्कूल में स्कूली बच्चों को गणवेश प्रदान कर उनका उत्साहवर्धन किया। श्री भगत ने मां शारदा विद्या मंदिर के लिए अपने स्वेच्छानुदान मद से 25 हजार रूपए देने की घोषणा की। 

श्री भगत ने कहा कि पढऩे वाले बच्चे सभी परिस्थितियों में पढक़र अपने मंजिल को पा लेते है। पढऩे वाले बच्चों के लिए वातानुकूलित स्कूल की जरूरत नहीं होती है। वे सामान्य स्कूलों में पढक़र प्रभावशाली पद पर पहुंच सकते है। उन्होंने महात्मा गांधी, बाबा साहब भीमराव अंबेडकर, पंडित जवाहर लाल नेहरू जैसे देश के महान व्यक्तियों के उदाहरण भी दिए। 

उन्होंने कहा कि सभी बच्चों को अपना लक्ष्य ऊंचा रखना चाहिए। श्री भगत ने कहा कि राज्य सरकार शासकीय स्कूल, आश्रम-शालाओं के साथ ही अन्य स्कूलों में भी मध्यान्ह भोजन के लिए खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए मसौदा तैयार किया जा रहा है और शीघ्र ही इसका लाभ मिलने लगेगा। श्री भगत ने यह भी बताया कि बीपीएल के साथ ही सामान्य परिवारों को भी उचित मूल्य की दुकानों से खाद्यान्न मिलेगा। सामान्य परिवारों का राशन कार्ड बनाने के लिए समय सीमा को बढ़ाकर 23 सितम्बर कर दिया गया है। 

श्री भगत ने बच्चों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं और बधाई दी। साथ ही मां शारदा विद्या मंदिर के प्राचार्य एवं शिक्षक-शिक्षिकाएं और गणवेश वितरण में सहयोग के लिए सामाजिक संस्था श्री श्याम प्रचार सेवा समिति की प्रशंसा भी की। कार्यक्रम में सराईपाली विधायक  किस्मत लाल नंद, कन्हैया अग्रवाल, गिरीश दुबे एवं अन्य जनप्रतिनिधि शिक्षक-शिक्षिकाएं और बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थीं।

 

 


Date : 19-Sep-2019

फैक्ट्री कर्मी के सूने घर का ताला तोडक़र नगदी जेवर पार, आरोपी फरार

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 19 सितंबर।
गोंदवारा के अनुग्रह रेसीडेंसी में दिनदहाड़े चोरी हो गई। फैक्ट्री कर्मी के सूने घर का ताला तोडक़र वहां रखे एक लाख के नगदी, जेवर चोरी कर ली गई। आरोपियों का पता नहीं चल पाया है, पूछताछ जारी है। 

पुलिस के मुताबिक फैक्ट्री कर्मी प्रकाश कुमार महिलांग सुबह अपने काम पर चला गया। वहीं उसकी पत्नी सुबह करीब 11 बजे घर में ताला लगाकर बच्चों को स्कूल छोडऩे चली गई। इस बीच अज्ञात आरोपी ताला तोडक़र घर में रखे 51 हजार रुपये नगदी व सोने-चांदी के गहने लेकर फरार हो गए। चोरी की रिपोर्ट पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंच कर जांच में लगी है। सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। 

पुलिस का कहना है कि दिनदहाड़े घर की आलमारी का ताला तोड़ चोरी करने वालों का पता लगाया जा रहा है। आसपास के लोगों से पूछताछ की जा रही है। फिलहाल आरोपियों की जानकारी नहीं मिल पाई है। उनका मानना है कि चोरी करने वाले जल्द ही पकड़ लिए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि शहर में इसी तरह सूने घर में चोरी की और कई घटनाएं हो चुकी हैं। 
मरीजों के लिए की जायेगी