छत्तीसगढ़ » रायपुर

01-Jul-2020 7:52 PM

रायपुर, 1 जुलाई। राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक 1 जून से अब तक 283.4 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में आज सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 0.9 मिमी, सूरजपुर में 1.7 मिमी, बलरामपुर में 1.1 मिमी, जशपुर में 0.3 मिमी, कोरिया में 2.6 मिमी, रायपुर में 19.6 मिमी, बलौदाबाजार में 30.9 मिमी, गरियाबंद में 36.9 मिमी, महासमुन्द में 17.9 मिमी, धमतरी में 25.1 मिमी, बिलासपुर में 0.9 मिमी, रायगढ़ में 1.0 मिमी, जांजगीर-चांपा में 2.3 मिमी और कोरबा में  2.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है।

इसी प्रकार गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 9.6 मिमी, दुर्ग में 47.1 मिमी, कबीरधाम में 5.4 मिमी, राजनांदगांव में 4.7 मिमी, बालोद में 22.7 मिमी, बेमेतरा में 7.0 मिमी, बस्तर में 5.5 मिमी, कांकेर में 4.9 मिमी, नारायणपुर में 20.7 मिमी, दंतेवाड़ा में 14.6 मिमी और बीजापुर में 11.6 मिमी, औसत वर्षा आज रिकार्ड की गई।


01-Jul-2020 7:52 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। प्रदेश के अधिकारियों-कर्मचारियों ने आज यहां वार्षिक वेतन वृद्धि बहाल करने की मांग को लेकर यहां धरना-प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा है कि अधिकारियों-कर्मचारियों ने अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में देकर संवेदनशीलता का परिचय दिया है। ऐसे में उनकी वार्षिक वेतन वृद्धि बहाल किया जाए। अधिकारी-कर्मचारी फेडरेशन के बैनर पर आज प्रदेश के दर्जनों अधिकारी-कर्मचारी यहां बूढ़ापारा धरना स्थल पर एकजुट हुए। इसके बाद वे सभी अपने मांगों को लेकर नारेबाजी, प्रदर्शन करते रहे। उनकी मांगों में कोरोना कार्य से जुड़े अधिकारियों-कर्मचारियों का 50 लाख का बीमा, मेडिकल व पैरामेडिकल स्टाफ को जोखिम भत्ता एवं राज्य के कर्मचारियों एवं पेंशनरों को जुलाई एवं जनवरी 2020 से देय कुल 9 प्रतिशत महंगाई भत्ते का शीघ्र भुगतान किया जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर आशा व्यक्त की है कि मुख्यमंत्री उनकी इन मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक निर्णय लेंगे। 


01-Jul-2020 7:50 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 1 जुलाई।
पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार वृद्धि का विरोध करते हुए कांग्रेस सेवादल ने आज यहां राजीव गांधी चौक पर धरना-प्रदर्शन किया। इसके बाद एक बंद टै्रक्टर को खींचते हुए रैली के तौर पर राजभवन की ओर निकले। इस दौरान पुलिस ने उन्हें बेरीकेड्स लगाकर आकाशवाणी तिराहा के पास रोक लिया। कांग्रेस सेवादल कार्यकर्ताओं ने इस बीच नारेबाजी करते हुए जमकर प्रदर्शन किया। 

पेट्रोल-डीजल के दाम में वृद्धि का विरोध करते हुए कांग्रेस सेवादल के दर्जनों कार्यकर्ता बैनर-पोस्टर के साथ सुबह राजीव गांधी चौक पर एकजुट हुए। इसके बाद ये सभी यहां केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने की मांग करते रहे। उनका कहना है कि फिछले करीब तीन हफ्ते से पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ाए जा रहे हैं, जिससे जरूरी सामानों के दाम बढ़ते जा रहे हैं। महंगाई का असर आम जनता पर देखे जा रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि पेट्रोल-डीजल के दाम कम ना करने पर वे सभी सडक़ पर उतरकर उग्र प्रदर्शन करेंगे। 
 


01-Jul-2020 7:50 PM

कांग्रेस का धरना प्रदर्शन जारी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 1 जुलाई।
पूरे देश में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामो के विरोध में मोदी सरकार की आर्थिक लूट पर तंज कसते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में जिला कांग्रेस के प्रदर्शन के बाद ब्लाको में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ कांग्रेस का धरना प्रदर्शन जारी है जो 4 जुलाई तक चलेगा। पेट्रोल-डीजल के महंगे दामों की मार गरीब आदमी और मध्यम वर्ग झेल रहा है। 

डीजल का उपयोग सिंचाई पंपों में और ट्रेक्टर से खेतों की जुताई में होता है। डीजल महंगा होने के कारण खेती की लागत बढ़ गयी है। किसान के धान का दाम केन्द्र सरकार ठीक से बढ़ाती  नहीं और महंगाई बढ़ाती जा रही है। डीजल महंगा होने से परिवहन की लागत बढ़ गयी है। किसान अनाज सब्जी हर वस्तु के दाम बढ़े है। आम उपभोक्ता महंगाई से त्रस्त है। गृहणियों के घर का बजट बिगड़ गया है। आज से रसोई गैस सिलेंडर भी महंगे हो गये।

मोहन मरकाम ने कहा है कि आज देश का हर एक व्यक्ति कोरोना की महामारी से लड़ रहा है। साथ-साथ बेरोजगारी से लड़ रहा है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमईआई) यह दावा करती है कि अप्रैल के तीसरे हफ्ते में देश में बेरोजगारी दर 26.2 प्रतिशत पहुंच गई है। आकलन है कि अब तक देश में 14 करोड़ लोग अपना काम गंवा चुके हैं। देश के युवाओं को 2 करोड़ रोजगार हर साल के अनुसार 6 साल में 12 करोड़ रोजगार मिलने थे। लेकिन हुआ ठीक उल्टा बेरोजगारी 45 साल में सर्वाधिक 27 प्रतिशत तक पहुंच गयी।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि 130 करोड़ भारतीय कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। रोजी-रोटी की मार झेल रहे हैं। आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और संकट के इस समय में भी जनविरोधी केंद्र की भाजपा सरकार देशवासियों की खून पसीने की कमाई डीजल-पेट्रोल का दमा बढ़ाकर लूटने में लगी है। आज कच्चे तेल की कीमतें पूरी दुनिया में अपने न्यूनतम स्तर पर हैं। उनका लाभ 130 करोड़ देशवासियों को देने की बजाए मोदी सरकार पेट्रोल और डीज़ल पर निर्दयी तरीके से टैक्स लगाकर मुनाफाखोरी कर रही है। विपदा के समय इस प्रकार पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स लगाकर देशवासियों की गाढ़ी कमाई को लूटना ‘आर्थिक अराजकता’ है। 

कोरोना महामारी व गंभीर संकट के इस काल में पूरी दुनिया की सरकारें जनता की जेब में पैसा डाल रही हैं, पर इसके विपरीत केंद्र की भाजपा सरकार देशवासियों से मुनाफाखोरी व जबरन वसूली की हर रोज नई मिसाल पेश कर रही है। देश की जनता का खून चूसकर अपना खजाना भरना कहां तक सही या तर्कसंगत है। मोदी सरकार जबरन वसूली की सब हदें पार कर गई। कड़वा सच तो यह  है कि आज भारत में तेल पर 70 प्रतिशत टैक्स। जबकि अमेरिका में 19 प्रतिशत, जापान में 47 प्रतिशत, ब्रिटेन में 62 प्रतिशत, फ्रांस में 63 प्रतिशत, और जर्मनी में 65 प्रतिशत टैक्स है। पूरी दुनिया में भारत पेट्रोल-डीजल में सबसे ज्यादा टैक्स वसूलने वाला देश बन चुका है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि आज अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल का रेट 40 डॉलर प्रति बैरल मतलब 20 रुपए लीटर है, यह रिफाइन होने के बाद पेट्रोल 24.62 पैसे, और डीजल 26 रुपए पड़ रहा है। लेकिन मोदी की सरकार ने आज पेट्रोल 80.53 पैसे और डीजल का दाम 80.83 पैसे है। गौर करने वाली बात यह है कि इन 23 दिनों में 22 बार रेट बढ़े है। ऐसे ही क्रूड आइल के दाम 2004 में हुआ था तब यूपीए की सरकार ने डीजल 24.16 पैसे और पेट्रोल 36.81 पैसे बेचा था।
 


01-Jul-2020 6:38 PM

रायपुर, 1 जुलाई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत मुफ्त खाद्यान्न बांटने के कार्यक्रम को अगले पांच माह अर्थात नवंबर 20 तक बढ़ाने का ऐलान किया है, उनकी घोषणा के अनुसार 80 करोड़ लोगों को प्रति व्यक्ति 5 किलो चांवल/गेंहूं और प्रति परिवार एक किलो चना मुफ्त में दिया जाएगा। केंद्र सरकार ने इसके लिये 90 हजार करोड़ रू. खर्च होने की बात कही है। चांवल/गेहूं/चना का वर्तमान बाजार मूल्य 25 रुपये प्रति किलो है, चना प्रति व्यक्ति सिर्फ 200 ग्राम ही मिलेगा। इस प्रकार सरकार द्वारा प्रति माह प्रति व्यक्ति मात्र 130 रुपये ही खर्च किए जाएंगे। यदि इसे 150 भी मान लिया जाए तो 80 करोड़ लोगों के लिए सरकार 12 हजार करोड़ ही खर्च करेगी, जो पांच माह में कुल 60 हजार करोड़ ही होते हैं जबकि केंद्र सरकार ने 90 हजार करोड़ खर्च होने की बात कही है।

 


01-Jul-2020 6:37 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। छत्तीसगढ़ में लोकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के प्रमुख बांधों और वाटर बॉडी में वाटर स्पोर्ट, कैफेटेरिया सहित विभिन्न सुविधाएं विकसित की जाएगी। स्थानीय युवाओं को पर्यटन से जोडऩे के लिए भी इस सत्र से नवा रायपुर स्थित होटल मेनेजमेंट संस्थान में पाठ्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया गया। पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू छत्तीसगढ़ पर्यटन मण्डल के संचालक मंडल की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बैठक में कहा कि कोरोना संकट काल में राज्य के पर्यटन स्थलों में स्थानीय पर्यटकों को आकर्षित करने की रणनित बनायी जाए। पर्यटन स्थलों में बेहतर सुविधाएं विकसित की जाए। उन्होंने कहा कि पहले चरण में धमतरी जिले के माडम सिल्ली बांध में वाटर टूरिज्म के लिए शीघ्र कार्ययोजना तैयार की जाए।

बैठक में श्री साहू ने रायपुर स्थित जोहार छत्तीसगढ़ होटल में साज सज्जा कर इसे नया रूपरूप देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस होटल के परिसर में कामर्शियल दृष्टिकोण से पर्यटन भवन का निर्माण किया जाए ताकि इसका बहुउद्देशीय उपयोग हो सके। उन्होंने अधिकारियों को इस सबंध में जल्द प्रस्तार तैयार करने भी कहा।

श्री साहू ने राजधानी के निकट स्थित माना-तूता में पर्यटक सुविधाओं के विकास के लिए योजना बनाने के निर्देश दिए।

छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के संचालक मंडल की बैठक में पर्यटन विकास से संबंधित कार्यों को त्वरित गति से संपन्न करने के लिए प्रदेश के सभी पर्यटन क्षेत्रों को दो या तीन जोन में विभाजित करने के संबंध में भी विचार-विमर्श किया गया। इस दौरान पर्यटन से संबंधित विभिन्न होटल, मोटल, रिसॉर्ट के संचालन, पर्यटन की पोस्ट कोविड तैयारियों, पर्यटन के प्रचार प्रसार, वॉटर टूरिज्म, एडवेंचर टूरिज्म, राम वन पाथ गमन के विकास कार्य सहित विभिन्न बिन्दुओं पर चर्चा की गई।


01-Jul-2020 6:37 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। सीएम हाऊस के समीप आत्मदाह की कोशिश करने वाले हरदेव सिन्हा की हालत खतरे से बाहर है। उन्हें देखने के लिए जोगी पार्टी के अध्यक्ष अमित जोगी पहुंचे और उनके पिता को एक लाख रूपए का चेक दिया।

सिन्हा का अंबेडकर अस्पताल में इलाज चल रहा है। दो दिन पहले उन्होंने सीएम हाऊस के समीप आग लगाकर जान देने की कोशिश की थी। पूर्व विधायक अमित जोगी ने अस्पताल में उनका हाल जाना और परिवार के सदस्यों से चर्चा की।

अमित जोगी ने अपने बयान में हरदेव सिन्हा के स्वास्थ्य लाभ की कामना की है। उन्होंने कहा कि हरदेव का शरीर 65 फीसदी से अधिक जल गया है। उनकी स्थिति गंभीर है। हरदेव की जीवटता देखने को मिली।  वह लगातार अपनी जिंदगी से संघर्ष कर रहा है।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के सारे नौजवान सेना परिवार के साथ हैं। पुलिस भर्ती और शिक्षक भर्ती की पूरी प्रक्रिया हो चुकी है लेकिन अब तक भर्ती नहीं हुई। जिला पुलिस बल और शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी भी साथ आए हैं। इस मामले में लगा लगातार लीपापोती की कोशिश की जा रही है। जोगी पार्टी की तरफ से हरदेव सिन्हा के पिता को प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने एक लाख का चेक सौंपा।

 


01-Jul-2020 6:36 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। प्रदेश की राजधानी समेत कई बड़े जिलों में जिस तरह से कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं, इसकी तुलना में बस्तर के जिलों में कम मरीज देखे जा रहे हैं और इसकी वजह मलेरिया दवा का असर माना जा रहा है।

जारी आंकड़ों के मुताबिक करीब साढ़े तीन महीने में बस्तर के कांकेर जिले में सबसे अधिक 51 कोरोना मरीज मिले हैं। नारायणपुर में 11, जगदलपुर में 7, दंतेवाड़ा में 6, सुकमा में 5, कोंडागांव में 3 व बीजापुर में 1 मरीज दर्ज हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम इन मरीजों के संपर्क में आने वालों की पहचान और सैंपल में लगी है।

स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि बस्तर में समय-समय पर मच्छररोधी अभियान चलाया जाता है। यहां के लोगों को मलेरिया की मुफ्त दवा दी जाती है। जिस तरह से कोरोना मरीजों के आंकड़े अब तक सामने आए हैं, उससे ऐसा माना जा रहा है कि इस दवा का असर हो सकता है। लेकिन आगे मरीजों के आंकड़े कम ही रहेंगे या बढ़ जाएंगे, यह कहना मुश्किल है।


01-Jul-2020 6:36 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। न्यू राजेंद्र नगर में ब्याज वसूली के नाम पर प्रताडऩा, मारपीट के चलते यहीं की सब्जी बेचने वाली एक महिला ने हफ्तेभर पहले जहर खाकर अपनी जान दे दी। यह आरोप लगाते हुए महिला के पति और वार्ड के पूर्व पार्षद समेत कुछ लोगों ने एसपी रायपुर से मिलकर मामले की जांच और गिरफ्तारी की मांग की है।

मृतिका के पति चेतन साहू, पूर्व पार्षद गोविंद मिश्रा व न्यू राजेंद्र नगर वार्ड के कुछ लोग आज सुबह यहां एसपी दफ्तर पहुंचे। उन्होंने एसपी रायपुर को एक आवेदन सौंपकर उन्हें बताया कि उनके वार्ड का एक व्यक्ति कमल बंशीवाल ब्याज में पैसा देने का काम करता है। इसी से वार्ड की सब्जी बेचने वाली जानकी साहू ने भी तीन-चार महीने पहले उससे 60 हजार रुपये लिया था। इसका ब्याज वह हर रोज 8 सौ रुपये देती थी। लॉकडाउन में सब्जी कारोबार बंद होने से वह ब्याज नहीं दे पाई।

उनका आरोप है कि लॉकडाउन में ब्याज की रकम नहीं देने पर संबंधित व्यक्ति ने महिला को प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। महिला ने घर की एक बाइक को बेचकर उसे 20 हजार रुपये दिया, फिर भी प्रताडऩा जारी रहा। फिर अपने घर में बंधक बनाकर धमकी देते हुए उसके साथ मारपीट की। इसी के चलते 25 जून को उसने जहर खाकर अपनी जान दे दी। प्रताडऩा की शिकायत राजेंद्र नगर पुलिस में की गई, लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं की गई। कोई कार्रवाई भी नहीं हुई। उनकी मांग है कि प्रताडि़त करने वाले के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे जल्द गिरफ्तार किया जाए।


01-Jul-2020 6:35 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 1 जुलाई। प्रदेश के समस्त डेडिकेटेड कोविड एवं नॉन-कोविड हॉस्पिटल को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एवं टेलीमेडिसिन के माध्यम से उपचार सम्बन्धी परामर्श देने के उद्देश्य से डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय में स्थापित प्रदेश के प्रथम सेंटर ऑफ एक्सीलेंस टेलीमेडिसिन हब का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये उद्घाटन बुधवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने किया।

 इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा रेणु पिल्लई, स्वास्थ्य सचिव श्रीमती निहारिका बारिक सिंह, स्वास्थ्य मिशन संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला एवं संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. एस. एल. आदिले उपस्थित रहे। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग तथा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संयुक्त तत्वाधान में स्थापित इस स्टेट टेलीकंसल्टेशन हब के माध्यम से राज्य के समस्त अस्पताल, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर आपस में इंटरनेट के जरिये जुड़े रहकर चिकित्सा विशेषज्ञों से रोगियों के उपचार से सम्बन्धित ऑनलाइन परामर्श ले सकेंगे।

प्रदेश के पहले सेंटर ऑफ एक्सीलेंस टेलीमेडिसिन हब का शुभारंभ करते हुए स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने कहा कि मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने की दिशा में यह टेलीमेडिसिन सेवा मील का पत्थर साबित होगा। प्रदेश के सुदूर क्षेत्रों में स्थित कोविड केयर अस्पताल तथा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों में किसी प्रकार की आपातकालीन परिस्थितियों में विशेषज्ञों से चिकित्सकीय परामर्श के लिय यह सुविधा बेहद फायदेमंद होगी। डॉक्टर्स डे की बधाई देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड महामारी से निपटने के लिये जिस तरह से डॉक्टरों का समर्पण देखने को मिल रहा है वह सराहनीय है। राज्य सरकार की इस टेलीमेडिसिन सेवा के शुरू हो जाने से कोविड के विरूद्ध लड़ाई में एक और नई टेक्नोलॉजी का समावेश हो गया है जिससे राज्य की जनता अधिक से अधिक लाभान्वित होगी।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा श्रीमती रेणु पिल्लई ने टेलीकम्युनिकेशन के माध्यम से मरीजों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के मानक संचालन प्रक्रिया यानी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के सम्बन्ध में अम्बेडकर अस्पताल के कोविड-19 नोडल ऑफिसर डॉ. आर. के. पंडा एवं क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ. ओ. पी. सुंदरानी से विस्तृत चर्चा की। साथ ही अम्बिकापुर, जशपुर, जगदलपुर एवं दुर्ग के डॉक्टरों से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिये बातचीत की।

स्वास्थ्य सचिव श्रीमती निहारिका बारिक सिंह ने सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि चौबीस घंटे चलने वाले इस कमाण्ड सेंटर में वॉइस एवं वीडियो कॉल पर आधारित सॉफ्टवेयर स्काइप, गूगल मीट एवं अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से विशेषज्ञ अपनी सलाह प्रदेश के अन्य जिलों में स्थित विशेषीकृत कोविड अस्पताल के डॉक्टरों को दे सकेंगे।

वहीं स्वास्थ्य मिशन संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला ने बताया कि सेंटर ऑफ एक्सीलेंस चिकित्सा सुविधा की सरल एवं जटिल दोनों परिस्थितियों से निपटने में सहायक साबित होगी। आने वाले दिनों में यह क्लीनिकल मैनेमेंट के लिये बहु-विशेषज्ञ सेवा (सुपर स्पेश्यलिटी सर्विस) से सम्बन्धित समस्त चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करेगी। यह एक तरह का विशेषज्ञ केंद्र होगा जहां पर मेडिसीन, कॉर्डियक, आर्थोपेडिक, सर्जरी, रेस्पिरेटरी, एनेस्थेसिया इत्यादि के विशेषज्ञ ऑनलाइन परामर्श हेतु मौजूद रहेंगे।

सेंटर ऑफ एक्सीलेंस टेलीमेडिसिन हब के उद्घाटन के मौके पर चिकित्सा महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. विष्णु दत्त, अम्बेडकर अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनीत जैन, अतिरिक्त संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. निर्मल वर्मा, नोडल ऑफिसर शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम डॉ. कमलेश जैन, एसीआई विभागाध्यक्ष डॉ. स्मित श्रीवास्तव, रेस्पिरेटरी विशेषज्ञ डॉ. आरके पंडा, एनेस्थेटिस्ट डॉ. ओ पी सुंदरानी, कोविड अस्पताल प्रभारी अम्बेडकर अस्पताल डॉ. शिप्रा शर्मा, डॉ. योगेंद्र मल्होत्रा, डॉ. संदीप चंद्राकर, डॉ. अल्ताफ युसूफ मीर, राज्य कार्यक्रम प्रबंधक उरया नाग एवं डॉ. नरेंद्र नरसिंह उपस्थित थे।


30-Jun-2020 7:57 PM

रायपुर। हीरापुर स्थित अविनाश प्राइड आवासीय परिसर में  नये कोरोना पॉजिटिव मरीज के निवास एवं आसपास के स्थानों में जिला प्रशासन द्वारा घोषित सम्पूर्ण कंटेंटमेंट जोन एरिया में नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव की  जनस्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से कारगर रोकथाम करने सघन अभियान चलाकर सेनेटाइजर  स्प्रै सहित चुना एवं ब्लीचिंग पाउडर का छिडक़ाव करके सेनेटाइज किया।

 


30-Jun-2020 7:55 PM

रायपुर, 30 जून। प्रदेश अध्यक्ष आभाभोसा समाज राकेश गौतम द्वारा विगत दिवस अनवेश पांडेय को सभी सदस्य की उपस्थिति में सर्वसम्मति से युवा विंग का जिला अध्यक्ष मनोनीत किया गया। 

इस अवसर पर राकेश गौतम ने कहा कि समाज को एक ऐसे युवा की जरूरत हैं जो अपनी युवा साथियो के साथ पुरी ऊर्जा के साथ समाज के लिए अपने क्षेत्र के विकास को लेकर गम्भीर रहे और तन मन के साथ कार्य करें आज समाज मे बहुत सारी कुरीतियां फैली हैं जिसको सब को मिलकर दूर करना है और ये तभी संभव है। 

जब  समाज शिक्षित होगा और जागरूक होगा इसी मद्देनजर को देखते हुए अनवेश पांडे को जो पेशे से एम टेक इंजीनियर है उनको स्मृति चिन्ह देकर महत्वपूर्ण पद की जिम्मेदारी सौंपी गई । इस अवसर पर स्थित  अवधेश पांडेय, सुधीर राय,शेषनाथ तिवारी,विजयेन्द्र शर्मा, अजीत उपाध्याय, रविश मिश्रा, भगवान शर्मा, सत्येन्द्र सिंह, चौबेजी, राजीव पांडेय और मीडिया प्रभारी डीके शर्मा प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

 


30-Jun-2020 7:53 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 30 जून।
विश्व विधवा दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ के बिशप याकोब मोर थियोफांसस और फादर राजू गोशाला के मार्गदर्शन में रायपुर, भिलाई, महासमुंद, सरायपाली आदि विभिन्न स्थानों पर 150 सबसे ज्यादा जरूरतमंद विधवाओं की मदद की पहल की है। इन विधवाओं की देखभाल करने के लिए परिवार में कोई नहीं है। कुछ विधवा बिस्तर पर बीमार, कुछ विधवाएं पुरानी बीमारी से पीडि़त थीं, कुछ विधवाओं के बहुत छोटे बच्चे थे। 

अपने पति की मृत्यु के बाद, परिवार के सदस्य पूरी तरह से उन्हें छोड़ दिए हैं। कोरोना संक्रमण के कारण उन्हें अपना अस्तित्व बनाने के लिए कोई काम नहीं मिल रहा था, इसलिए वे अपने दैनिक भोजन के लिए अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इसलिए रायपुर डायोसिस के विभिन्न स्थानों पर 150 सबसे ज्यादा जरूरतमंद विधवाओं को चावल, गेहूं का आटा, लाल चने की दाल, सब्जियां, साड़ी, ब्लाउज, छाता, मास्क, सैनिटाइजर किट, जरूरतमंद विधवाओं के लिए भोजन वितरण में मदद की है। कई विधवाओं ने उपहार आइटम को आंसू और धन्यवाद के दिल से स्वीकार किया।

फादर गणेश मुन्ना, फादर संदीप लाल, महेश जल, प्रफुल्ल  पैक,  बुधराम ध्रुव, मुकेश दयाल, अनिल नंद, संजू मसीह, पुष्परंजन सिस्टर सिल्वन्थी ने कार्यक्रम भी चलाया और विधवाओं की मदद की। इस कार्यक्रम में इमैनुअल टैंडी, सुलेमान नाग, राजेंद्र कुजूर सिस्टर प्रीति गोशाला, सिस्टर सपना, सिस्टर प्रमिला ने योगदान दिया।


30-Jun-2020 7:52 PM

रायपुर, 30 जून। स्थानीय मूर्तिकारों ने गणेश उत्सव के दौरान मूर्तियों की बिक्री के लिए राजधानी में बिक्री स्थल की मांग की है। इस संबंध में उन्होंने नगर निगम, कलेक्टर, श्रम मंत्री सहित शासकीय पदाधिकारियों को ज्ञापन सौंपा। 

प्रजापति कुंभकार एवं चक्रधारी समाज संगठन के सदस्य अवधलाल प्रजापति ने बताया कि समाज के लोग गणेश की छोटी मूर्ति बनाकर तथा उसकी बिक्री कर जीवन यापन करते हैं। कोरोना के कारण इस बार गणेश प्रतिमा की बिक्री में आने वाली अड़चन के कारण वह चाहते हैं कि शासन मूर्ति बिक्री के लिए नियत स्थल चिन्हांकित कर मूर्ति बिक्री की उन्हें अनुमति दे। 
तयशुदा स्थल में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करते हुए मूर्ति बिक्री करेंगे। कोरोना के मद्देनजर संगठन ने मांग की है कि मूर्तिकार अपने ही जिले में मूर्तियों की बिक्री करें। 
 


30-Jun-2020 7:51 PM

1000 पुरुषों की तुलना में 958 महिलाएं

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 30 जून।
छत्तीसगढ़ में बेटियों की सुरक्षा को लेकर किये जा रहे राज्य सरकार के प्रयासों का असर दिख रहा है। ताजा जारी आंकड़ों के अनुसार जन्म के समय लिंगानुपात (एसआरबी) में छत्तीसगढ़ देशभर में अव्वल है। प्रदेश में अन्य राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की तुलना में लिंगानुपात कहीं बेहतर है।

हाल ही में रजिस्ट्रार जनरल और जनगणना आयुक्त द्वारा वर्ष 2018 के आंकड़े जारी किए गए हैं, जिसमें छत्तीसगढ़ में 1000 पुरुषों की तुलना में 958 महिला है। वहीं, प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में भी लिंगानुपात सर्वाधिक 976 है। जबकि राष्ट्रीय स्तर पर ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 पुरुषों की तुलना में 900 महिला हैं। इन आंकड़ों से पता चलता है कि देश के सर्वाधिक शिक्षित राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ में कन्या भ्रूण हत्या और महिला सुरक्षा को लेकर प्रदेश सरकार संजीदगी से कार्य कर रही है।

ज्ञात हो कि प्रदेश में बेटियों की सुरक्षा के लिए जन जागरूकता के साथ ही सरकारी प्रयास किये जा रहे हैं। प्रदेश में मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना सहित कई कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं साथ ही सोनोग्राफी सेंटर्स पर ट्रैकिंग सिस्टम लगाए गए हैं। इन प्रयासों का ही असर है कि छत्तीसगढ़ शिक्षित राज्यों को पीछे छोडक़र लिंगानुपात में टॉप पर है।
 


30-Jun-2020 7:50 PM

रायपुर, 30 जून। चरामेति फाउंडेशन द्वारा विगत दिवस कचहरी चौक स्थित बाल आश्रम में रह रहे निराश्रित बच्चों को कापियां एवं अन्य आवश्यक लेखन सामग्री वितरित की गई। इसके अलावा अनुकृति किशोर ओझा साल्वे के सौजन्य से बाल आश्रम एवं पंडरी स्थित कुष्ठ आश्रम में फल भी वितरित किए गए। इस कार्यक्रम में राजेन्द्र ओझा,  चंद्र नारायण निर्मलकर, हषीक ओझा, भूपेन्द्र ठाकुर, भागवत प्रसाद शर्मा, अनिल चंद्राकर आदि की सहभागिता रही।
 


30-Jun-2020 7:49 PM

डीजीपी द्वारा 10वीं-12वीं के मेधावियों का सम्मान डीजीपी द्वारा 10वीं-12वीं के मेधावियों का सम्मान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 30 जून।
डीजीपी डीएम अवस्थी ने आज यहां पुलिस मुख्यालय में 10वीं और 12वीं कक्षा की मेरिट सूची में आए मेधावी छात्र-छात्राओं का सम्मान किया। सम्मान समारोह में मुंगेली जिले के 12वीं के स्टेट टॉपर टिकेश वैष्णव ने कहा कि वो बिट्स पिलानी से कम्प्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करना चाहते हैं। लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति बहुत ही कमजोर है।
टिकेश ने बताया कि उनके पिता की छोटी सी दुकान है जिससे इंजीनियरिंग की फीस जमा कर पाना संभव नहीं है। मेरे पिता दिन-रात मेरी फीस के लिए ही चिंतित रहते हैं। इस पर श्री अवस्थी ने कहा कि आपके पिताजी को फीस की चिंता करने की जरूरत नहीं है। हम आपको फीस के लिए आर्थिक सहयोग देंगे। आप अपने लक्ष्य की ओर कदम बढ़ाइए और बिट्स पिलानी जाने की तैयारी करिए।

छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि संघर्ष से ही सफलता मिलती है। सफलता ना मिलने पर निराश नहीं होना चाहिए। जीवन एक मैराथन दौड़ की तरह है जिसमें हार-जीत लगी रहती है, और ये जरूरी नहीं कि दौड़ की शुरूआत में जो आगे हो अंत में वही जीते। इसलिए माता-पिता को भी बच्चों के प्रतिशत पर ध्यान देने की बजाय उन्हें अच्छा और सफल इंसान बनाने पर जोर देना चाहिए। श्री अवस्थी ने कहा कि आप लोग पढ़ाई के साथ-साथ खेल पर भी ध्यान दें। शारीरिक और मानसिक विकास के लिए खेल बहुत ही जरूरी है। उन्होंने छात्र-छात्राओं को कोर्स की किताबों के साथ ही अन्य अच्छी किताबें पढऩे की सलाह दी।

श्री अवस्थी ने 12वीं कक्षा में पहली रैंक पर आए मुंगेली के टिकेश वैष्णव, सातवीं रैंक पर आई रायपुर की आयशा अंजुम, 10वीं रैंक पर आये रायपुर के देवेन्द्र कुमार तारक, व्यवसायिक में पहली रैंक पर आयीं दुर्ग की मिनाल हिरवानी, 10वीं कक्षा में पहली रैंक पर आयीं मुंगेली की प्रज्ञा कश्यप, पांचवीं रैंक पर आए रायपुर के विरेन्द्र कुमार तारक और नवमीं रैंक पर आए दुर्ग के आदर्श गिरि को प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर एआईजी राजेश अग्रवाल, मुंगेली एएसपी कमलेश्वर चंदेल उपस्थित रहे।
 


30-Jun-2020 7:47 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 30 जून।
प्रदेश में मानसून सक्रिय होने के साथ ही बारिश भी शुरू हो गई है और कई जगहों पर अच्छी बारिश भी दर्ज की जा रही है। बीती शाम-रात से लेकर सुबह तक राजिम, रायपुर, भिलाई और आसपास  अच्छी बारिश हुई। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आने वाले 24 घंटे में प्रदेश में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। 

रायपुर समेत प्रदेश में बदली-बारिश का दौर लगातार जारी है। बीती रात तक खम्हरिया में 5 सेमी, करतला-शिवरीनारायण में 4-4 सेमी हुई। जगदलपुर, राजिम, बागबाहरा, बरमकेला, भाटापारा, पंडरिया में 3-3 सेमी बारिश दर्ज की गई। आज सुबह राजिम में 82.8 मिमी और रायपुर में 3.0 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। इसके अलावा प्रदेश के और कई जगहों पर अच्छी बारिश हुई है। 

मौसम विभाग के मुताबिक एक द्रोणिका बीकानेर, सीकर शिवपुरी, सीधी, डाल्टनगंज, बर्धमान, कालासर होकर इंफाल तक 1.5 किमी की ऊंचाई पर स्थित है। इसके अलावा एक चक्रवाती घेरा उत्तर छत्तीसगढ़ और उसके आसपास 3.1 से 4.5 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा का कहना है कि मानसून सक्रिय होने के साथ ही प्रदेश में आजकल में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ भारी बारिश भी हो सकती है। 
 


30-Jun-2020 7:46 PM

रायपुर, 30 जून। खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा प्रदेश के उचित मूल्य की दुकानों एवं हॉकरों द्वारा जुलाई माह में उपभोक्ताओं को वितरण के लिए केरोसिन का आबंटन जारी किया गया है। छत्तीसगढ़ खाद्य एवं पोषण सुरक्षा अधिनियम के तहत प्रचलित राशनकार्डों एवं हॉकरों के लिए माह जुलाई के लिए कुल 4476 किलो लीटर केरोसिन का आबंटन जारी किया गया है। जुलाई 2020 में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत प्रचलित सभी प्राथमिकता, अंत्योदय एवं अन्नपूर्णा राशनकार्डों को केरोसिन की पात्रता होगी। 

अधिकारियों ने बताया कि नगरीय क्षेत्रों के राशनकार्डधारियों को अधिकतम 2 लीटर मिट्टी तेल, ग्रामीण क्षेत्रों के अंतर्गत अनुसूचित क्षेत्रों में अधिकतम 3 लीटर तथा गैर अनुसूचित क्षेत्रों के राशनकार्डधारियों को अधिकतम 2 लीटर केरोसिन की पात्रता होगी। केरोसिन वितरण करने वाले हॉकर जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित उचित मूल्य के दुकान के समक्ष खड़े होकर राशनकार्डधारियों को केरोसिन वितरण करेंगे। हॉकरों के लिए प्रति हॉकर 85 लीटर के मान से पृथक आबंटन जारी किया गया है। 

खाद्य विभाग द्वारा माह जुलाई के लिए जारी की गई कुल केरोसिन में से बस्तर जिले के लिए 180 किलो लीटर मिट्टी तेल का आबंटन जारी किया गया है। इसी प्रकार बीजापुर के लिए 60, दंतेवाड़ा 72, कांकेर 144, कोण्डागांव 132, नारायणपुर 24, सुकमा 60, कोरबा 144, बेमेतरा 108, दुर्ग 156, कवर्धा 132, राजनांदगांव 336, धमतरी 96, गरियाबंद 156, बलरामपुर 192 किलो लीटर, बिलासपुर 240, जांजगीर-चांपा  240, मुंगेली 108, रायगढ़ 360, बालोद 96, बलौदाबाजार 192, महासमुंद 156, रायपुर 204, जशपुर 216, कोरिया 144, सरगुजा 252, और सूरजपुर जिले के लिए 216 किलो लीटर एवं गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले के लिए 60 किलो लीटर केरोसिन का आबंटन जारी किया गया है।
 


30-Jun-2020 7:45 PM

डेढ़ लाख लोग क्वॉरंटीन सेंटर्स में रह रहे

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 30 जून। 
देश के विभिन्न हिस्सों से 36गढ़ लौटे प्रवासी श्रमिकों के लिए प्रदेश भर में 21 हजार 183 क्वॉरंटीन सेंटर्स बनाए गए हैं। इनमें से 11 हजार 940 सेंटर्स मंं अभी एक लाख 67 हजार लोग रह रहे हैं। अलग-अलग राज्यों से वापस आए साढ़े चार लाख से अधिक श्रमिक 14 दिनों की क्वॉरंटीन अवधि पूरी कर अपने घर लौट चुके हैं। खुद के एवं अन्य लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा की दृष्टि से उन्हें दस दिनों तक होम-क्वॉरंटीन में रहने के निर्देश दिए गए हैं। 

ग्राम पंचायतों में स्थापित क्वॉरंटीन सेंटर्स में रह रहे प्रवासी मजदूरों को आवास और भोजन सहित सभी बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं। अस्थायी शौचालयों, पुरूषों एवं महिलाओं के लिए अलग-अलग स्नानगृहों, स्वच्छ पेयजल, लाइट एवं पंखों की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर इन सेंटर्स में टेलीविजन एवं रेडियो जैसे मनोरंजन के साधनों की भी व्यवस्था की गई है। क्वॉरंटीन सेंटर्स में रह रहे लोगों के स्वास्थ्य पर लगातार निगरानी रखी जा रही है। अस्वस्थ लोगों को इलाज और दवाईयां मुहैया कराई जा रही है। संक्रमण की संभावना और लक्षण वाले व्यक्तियों के तत्काल सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जा रहा है। 

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव गांवों में क्वॉरंटीन सेंटर्स के सुचारू संचालन के लिए लगातार व्यवस्था की समीक्षा कर रहे हैं। उनके निर्देश पर सेंटर्स की कमियों-खामियों को तत्परता से दूर किया गया है। उन्होंने क्वॉरंटीन सेंटर्स में रह रहे लोगों की सेहत की लगातार निगरानी और संक्रमण के लक्षण वाले लोगों के तत्काल सैंपल जांच के निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिए हैं। श्री सिंहदेव के निर्देश पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा प्रवासी श्रमिकों के लिए मनरेगा के तहत जॉब-कार्ड बनाकर रोजगार दिया जा रहा है। अन्य योजनाओं के माध्यम से भी उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने त्वरित कदम उठाए जा रहे हैं। मजदूरों की स्किल-मैपिंग कर औद्योगिक, भवन निर्माण और अन्य क्षेत्रों में उन्हें काम दिलाने के लिए भी गंभीर प्रयास किए जा रहे हैं। 

अवशिष्ट सामग्रियों के सुरक्षित निपटान के लिए बायो-मेडिकल वेस्ट प्रबंधन नियम-2016 का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। स्थानीय प्रशासन द्वारा प्रत्येक सेंटर में एक कमरा पृथक से आइसोलेशन के लिए सुरक्षित रखे जाने के भी निर्देश दिए गए हैं। क्वॉरंटीन सेंटर्स की व्यवस्था राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा जिलों को जारी आपदा राहत निधि तथा ग्राम पंचायतों को उपलब्ध कराए गए चौदहवें वित्त आयोग व मूलभूत की राशि से की जा रही है। 

वर्तमान में क्वॉरंटीन सेंटर्स में रह रहे एक लाख 67 हजार प्रवासी श्रमिकों और क्वॉरंटीन अवधि पूरी कर घर पहुंच चुके साढ़े चार लाख लोगों के अलावा अभी करीब 45 हजार मजदूरों की प्रदेश वापसी अनुमानित है। राज्य सरकार सभी लोगों को सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध है। उनकी सहूलियत और सेहत की रक्षा के लिए सभी तरह के संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस पर नियंत्रण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है और इसके लिए ग्रामीण व शहरी दोनों क्षेत्रों में सरकार प्रभावी कदम उठा रही है।