राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : टेबलेट तो दे दी, लेकिन...

Posted Date : 16-Apr-2018

राजधानी रायपुर को स्मार्ट बनाने के लिए करोड़ों रूपए खर्च किए जा रहे हैं।  लेकिन पुरानी समस्या यथावत बनी हुई है। पिछले बरसों की तरह इस साल भी गर्मी शुरू होते ही पेयजल की समस्या सामने आई। पाईप लाईन लीकेज होने से कई जगहों पर गंदा पानी सप्लाई होने लगा और फिर इससे पीलिया फैल गया। इस साल पीलिया से अब तक शहर के आधा दर्जन से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। पिछले साल इसी तरह गर्मियों की शुरूआत में पीलिया से एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हुई थी। पिछली गलतियों से निगम के अमले ने कोई सबक नहीं सीखा। हड़बड़ाहट में शहर के बाहरी इलाके मोवा में भारी मात्रा में क्लोरीन के टेबलेट बांटकर आ गए। शहर को स्मार्ट बनाने के चक्कर में निगम अफसर लोगों को यह बताना भूल गए कि क्लोरीन टेबलेट का इस्तेमाल किस तरह किया जाना है। क्लोरीन टेबलेट को पानी में डाला जाता है और फिर छानने के बाद पानी रोगाणुविहीन हो जाता है और फिर यह पानी पीने योग्य रहता है। लेकिन बस्तियों में बीमारी फैलने से डरे लोगों ने टेबलेट खाना शुरू कर दिया। इसके चलते कई लोगों को दस्त की शिकायत होने लगी।   (rajpathjanpath@gmail.com)


Related Post

Comments