राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : समुद्र की क्षमता अपार...

Posted Date : 08-Jun-2018

आबकारी विभाग के ओएसडी समुद्र सिंह सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर पिछले 8 साल से संविदा पर हैं। विभाग में उनके बिना पत्ता तक नहीं हिलता। चर्चा है कि उनकी विभाग के संयुक्त सचिव एपी त्रिपाठी से नहीं बन रही थी, इसलिए त्रिपाठी को आबकारी विभाग से हटाकर खाद्य में पदस्थ कर दिया गया। कुछ लोग इस फेरबदल के पीछे समुद्र सिंह का हाथ होना बता रहे हैं। पिछले दिनों समीक्षा बैठक में मंत्री ने दो आबकारी अफसरों को निलंबित कर दिया। इसमें भी समुद्र सिंह की भूमिका मानी जा रही है। 
समुद्र सिंह शहडोल के सांसद दिवंगत पूर्व केन्द्रीय मंत्री दलबीर सिंह के करीबी रहे हैं। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस और फिर भाजपा सरकार में ऐसी घुसपैठ बनाई, कि विभागीय सचिव भी उनसे पूछे बिना कोई फैसला नहीं लेते हैं। शराब दूकानों में कौन से ब्रांड की शराब, कितनी मात्रा में रहेगी, यह भी समुद्र सिंह तय करते हैं। कुछ बड़ी शराब कंपनियों ने यहां से अपना कारोबार सिर्फ इसलिए समेट लिया कि समुद्र सिंह का कहना नहीं माना। एक क्षेत्रीय पार्टी के प्रमुख ने समुद्र सिंह की नियुक्ति के खिलाफ मुहिम भी चलाई थी, लेकिन जल्द ही ठंडे पड़ गए। लोग समुद्र सिंह की प्रबंधन क्षमता की दाद दे रहे हैं। विभाग में यह जुमला प्रचलित है खाता न बही, जो समुद्र कहे वही सही। (rajpathjanpath@gmail.com)


Related Post

Comments