राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : वजनदार और हल्के...

Posted Date : 13-Jun-2018

अंबिकापुर में सभा के बाद अमित शाह ने प्रदेश भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक ली। वैसे तो यह बैठक चुनाव तैयारियों को लेकर थी, लेकिन बैठक में कमेटी के सदस्यों के अतिरिक्त कुछ जूनियर नेताओं को बुलाए जाने से पार्टी के कई नेता खफा हो गए। 
बैठक में मंत्री केदार कश्यप के साथ-साथ प्रदेश महामंत्री संतोष पाण्डेय के अलावा उपाध्यक्ष मोतीलाल साहू व सुभाष राव विशेष आमंत्रित थे। संतोष और मोतीलाल साहू, संगठन में काफी जूनियर हैं। जबकि उनसे वरिष्ठ सच्चिदानंद उपासने सहित कई नेता बैठक स्थल के बाहर टहल रहे थे, लेकिन उन्हें नहीं बुलाया गया। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व गृहमंत्री रामसेवक पैकरा व महेश गागड़ा के साथ ही राजेश मूणत भी बैठक से दूर रहे। सुनते हैं कि गागड़ा बैठक में नहीं बुलाए जाने से नाराज रहे, तो कई नेता पूछ रहे थे कि संतोष, मोतीलाल साहू और सुभाष राव को किस हैसियत से बैठक में बुलाया गया? 
मोतीलाल को कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए तीन-चार साल ही हुए हैं, लेकिन उनका कद लगातार बढ़ रहा है। उन्हें प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया। मोतीलाल साहू अपने समाज के अध्यक्ष रहे हैं और चर्चा है कि पीएम के भाई प्रहलाद मोदी के जरिए उन्होंने दिल्ली दरबार में संपर्क बना लिया है। प्रहलाद मोदी कई बार यहां आ चुके हैं और उनकी व्यवस्था मोतीलाल साहू ही संभालते हैं, ऐसे में उनका कद बढऩा ही था।
बड़ा नफा, छोटा नुकसान
पाली-तानाखार के विधायक रामदयाल उइके गोंडवाना गणतंत्र पार्टी से समझौते के सख्त खिलाफ हैं। यदि गोंगपा के साथ समझौता होता है, तो पार्टी को पाली-तानाखार सीट छोडऩी पड़ेगी। यहां से गोंगपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा सिंह मरकाम चुनाव लडऩे वाले हैं। उइके पिछले चुनाव में 30 हजार से चुनाव जीते थे। ऐसे में वे यह सीट किसी भी दशा में छोडऩे के लिए तैयार नहीं हैं, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी की सोच अलग है। 
सुनते हैं कि मध्यप्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पार्टी हाईकमान को गोंगपा के साथ समझौते के लिए तैयार कर लिया है। 
यह समझौता न सिर्फ मप्र बल्कि छत्तीसगढ़ में भी होगा। पार्टी के रणनीतिकारों का कहना है कि मप्र में छिंदवाड़ा, सिवनी, शहडोल सहित कई जिलों में गोंगपा के साथ आने से कांग्रेस को फायदा होगा तो एक-दो सीट छोड़ देने से छत्तीसगढ़ में भी कोरिया, सरगुजा और कोरबा जिले में फायदा होगा। ऐसे में बड़े फायदे के लिए थोड़ी बहुत  नाराजगी भी होती है, तो झेलने के लिए पार्टी तैयार है।  (rajpathjanpath@gmail.com)


Related Post

Comments