राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : सांसदों की विधायकी-हसरत

Posted Date : 10-Oct-2018

भाजपा के ज्यादातर सांसद चुनाव लडऩा चाहते हैं। खबर है कि पार्टी ने सिर्फ अभी कांकेर सांसद विक्रम उसेंडी को ही चुनाव लड़ाने के संकेत दिए हैं। उन्हें अंतागढ़ सीट से तैयारी करने के लिए भी कहा है। पर बाकी सांसद भी उम्मीद से हैं। रामविचार नेताम की इच्छा प्रतापपुर से चुनाव लडऩे की है। जबकि यहां से गृहमंत्री रामसेवक पैकरा विधायक हैं। पार्टी नेताम को रामानुजगंज से लड़ाने पर विचार कर रही है, जिसके लिए वे तैयार नहीं हो रहे हंै। पार्टी के रणनीतिकार नारायणपुर सीट से केदार कश्यप की जगह उनके बड़े भाई दिनेश कश्यप को लड़ाने की सोच रहे हैं। केदार को लोकसभा चुनाव लडऩे के लिए कहा जा सकता है। सुनते हैं कि पुराने सांसद रमेश बैस की दिली इच्छा भी विधानसभा चुनाव लडऩे की है। किन्तु वे खुलकर अपनी बात कह नहीं पा रहे हैं, लेकिन यदि पार्टी के बड़े नेता कहेंगे तो वे खुशी-खुशी राजी हो जाएंगे। उनके दरबारियों ने बैस को समझाया है कि दिल्ली में कुछ करने के लिए बचा नहीं है, लेकिन यहां विधायक बन गए तो सरकार बनने पर कम से कम विधानसभा अध्यक्ष बन ही सकते हैं। 
नक्सल इलाके की काबिलीयत
खबर है कि सरकार के रणनीतिकार राजनांदगांव पुलिस की कार्यशैली से निराश हैं। दरअसल, बिलासपुर लाठीचार्ज की घटना के बाद से  कांग्रेस ने सीएम को काला झंडा दिखाने की घोषणा कर रखी है। ज्यादातर जगहों पर पुलिस की पुख्ता व्यवस्था के चलते काला झंडा दिखाने की कोशिश नाकाम रही, लेकिन राजनांदगांव में सीएम के एक कार्यक्रम में कांग्रेस कार्यकर्ता पुलिस को चकमा देने में सफल रहे और उन्हें काला झंडा दिखा दिया गया। पुलिस और सरकार के आला अफसर इसे स्थानीय पुलिस की नाकामी मान रहे हैं। राजनांदगांव एसपी कमल लोचन कश्यप की गिनती काबिल अफसरों में होती है। उनके करियर का ज्यादातर हिस्सा नक्सल प्रभावित इलाकों में गुजरा है। नक्सलियों से निपटने की उनकी कार्यशैली के सीएम भी मुरीद रहे हैं, लेकिन शहरी पुलिसिंग में उनकी दक्षता में कमी नजर आई है। यही वजह है कि स्थानीय पुलिस को कांग्रेसियों ने गच्चा दे दिया। अब जब चुनाव आचार संहिता प्रभावशील हो गई है, ऐसे में उन्हें बदलने का अधिकार सरकार को भी नहीं रह गया है। लिहाजा, फिलहाल एसपी की कुर्सी को खतरा नहीं है।  
एक सीट पर खींचतान
भानुप्रतापपुर सीट के प्रत्याशी चयन को लेकर भाजपा में किचकिच हो रही है। सुनते हैं कि पार्टी की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पाण्डेय ने हेमेन्द्र ठाकुर का नाम बढ़ाया है। हेमेन्द्र जिला पंचायत के सदस्य हैं, लेकिन उनकी अतिरिक्त योग्यता यह है कि वे दुर्ग के सीएमओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर के पुत्र हैं। जबकि पार्टी के स्थानीय नेता पूर्व विधायक ब्रम्हानंद नेताम को टिकट देने पर जोर दे रहे हैं। प्रत्याशी चयन के लिए अभी औपचारिक बैठक नहीं हुई है, लेकिन माना जा रहा है कि सरोज की दखल के चलते यहां के प्रत्याशी को लेकर फैसला पार्टी हाईकमान पर छोड़ा जा सकता है। (rajpathjanpath@gmail.com)

 

 


Related Post

Comments