राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : योगेश अग्रवाल की खुशी
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : योगेश अग्रवाल की खुशी
Date : 26-Dec-2019

योगेश अग्रवाल की खुशी
रायपुर म्युनिसिपल चुनाव में हार के बाद भाजपा में अंदरूनी कलह उभरकर सामने आ गया है। असंतुष्टों के निशाने पर खुद चुनाव संयोजक बृजमोहन अग्रवाल भी हैं। सुनते हैं कि बृजमोहन अग्रवाल के भाई योगेश अग्रवाल और अन्य समर्थकों ने स्वामी आत्मानंद वार्ड में निर्दलीय प्रत्याशी अमर बंसल के पक्ष में खुलकर काम किया। यह वही वार्ड है जहां से त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस के सगे भतीजे ओंकार बैस भाजपा प्रत्याशी थे। 

बंसल की जीत की घोषणा हुई, तो योगेश अग्रवाल और अन्य बृजमोहन समर्थक जश्न मनाते दिखे। टीवी चैनलों में अमर बंसल के साथ योगेश अग्रवाल विजयी मुस्कान बिखेरते नजर आए। यह नजारा देखकर बैस समर्थक गुस्से में हैं। ओंकार की हैसियत संगठन में ऊंची है। वे शहर जिला अध्यक्ष पद की दौड़ में है और जिले के महामंत्री रह चुके हैं। 

खुद रमेश बैस दो दिन रायपुर में रहकर ओंकार का चुनावी हाल पूछ रहे थे। हालांकि यह जरूर कहा जा रहा है कि योगेश भाजपा के कार्यकर्ता नहीं है। वैसे भी एक परिवार के लोग अलग-अलग दलों से भी जुड़े रहते हैं, ऐसे में योगेश का किसी का साथ देना न देना, उनका निजी मामला है। यही नहीं, अमर बंसल भाजपा से टिकट चाह रहे थे, टिकट नहीं मिली, तो वे बागी हो गए। चाहे कुछ भी हो, भाई की वजह से विरोधियों को बृजमोहन के खिलाफ बोलने का मौका मिल ही गया।

खर्च के रिकॉर्ड टूटे
म्युनिसिपल चुनाव नतीजे आने के बाद हार-जीत का आंकलन चल रहा है। सुनते हैं कि रायपुर के कई वार्डों में तो प्रत्याशियों ने विधानसभा चुनाव से ज्यादा खर्च किया। कुछ जगहों पर तो निर्दलियों ने पैसा खर्च करने के मामले में भाजपा-कांग्रेस के उम्मीदवारों को मीलों पीछे छोड़ दिया। रायपुर पश्चिम के एक वार्ड के एक निर्दलीय प्रत्याशी ने तो प्रदेश से बाहर गए कई वोटरों को लाने के लिए एयर टिकट तक का इंतजाम किया था। 

रायपुर उत्तर के एक वार्ड के निर्दलीय प्रत्याशी तो दीवाली के बाद से ही थैली खोल दी थी। उन्होंने अपने वार्ड के रोजी मजदूरी करने वाले लोगों को प्रचार में झोंक दिया था। उनके आक्रामक प्रचार से कांग्रेस-भाजपा उम्मीदवार तक थर्राए हुए थे। यही नहीं, मतदान के दिन तो उसने खुले तौर पर नोट बंटवाए। मगर चुनाव नतीजे आए, तो निम्न-मध्यम वर्ग के लोगों की बाहुल्यता वाले इस वार्ड के लोगों ने अपने विवेक का इस्तेमाल किया और व्यवहार कुशल-मेहनती समझे जाने वाले कांग्रेस प्रत्याशी को जिताया। निर्दलीय प्रत्याशी इतना कुछ खर्च करने के बाद अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए। 

म्युनिसिपल चुनाव में तो कांग्रेस के महापौर पद के दो दावेदारों के चुनावी खर्च की भी जमकर चर्चा है। दोनों ने न सिर्फ अपने वार्ड में साधन-संसाधन झोंका बल्कि पड़ोस के वार्ड से चुनाव लड़ रहे महापौर पद के अन्य दावेदार को हराने के लिए भी भारी भरकम रकम खर्च की। मगर इतना कुछ करने के बाद भी दोनों दावेदारों की इच्छा पूरी नहीं हो पाई। इन चार-पांच वार्डों के चुनाव खर्च और कुल प्राप्त मतों से तुलना की जाए, तो प्रत्याशियों को एक-एक वोट के पीछे 2-3 हजार से अधिक खर्च करना पड़ा है। रायपुर उत्तर वार्ड के निर्दलीय प्रत्याशी को तो एक मत के पीछे 5 हजार से अधिक राशि खर्च करना पड़ा। 

सट्टे का रेट उठता-गिरता रहा
खबर है कि म्युनिसिपल चुनाव में हाईप्रोफाइल भगवतीचरण शुक्ल वार्ड में महापौर प्रमोद दुबे की जीत-हार पर ही दो करोड़ से अधिक सट्टा लगा था। पहले प्रमोद दुबे को 70 पैसे का भाव दिया जा रहा था यानी प्रमोद दुबे की जीत आसान समझी जा रही थी। लेकिन पहली और दूसरी मतपेटी खुलने के बाद एक रूपए 70 पैसे तक भाव चला गया। तब प्रमोद दुबे करीब तीन सौ मतों से पीछे चल रहे थे। एक मौका ऐसा आया जब प्रमोद दुबे बढ़त भी बना चुके थे, लेकिन टीवी चैनलों में पिछडऩे की खबर ही चल रही थी। 

कटोरा तालाब और कुछ अन्य इलाकों में तो सटोरिए प्रमोद दुबे की हार सुनिश्चित बताकर लोगों को रकम लगाने के लिए उकसाते रहे। बड़ी संख्या में लोग सटोरियों के झांसे में आ गए और दो करोड़ तक का सट्टा लग गया।  शाम होते-होते तक भगवतीचरण वार्ड की तस्वीर साफ होती चली गई और प्रमोद दुबे सम्मानजनक बढ़त बना चुके थे। आखिर में उन्हें दो हजार से अधिक मतों से जीत हासिल हुई, जो कि उससे पहले के चुनावों में किसी भी कांग्रेस प्रत्याशी को उस वार्ड से इतनी बड़ी जीत नहीं मिली। प्रमोद दुबे की जीत पर सटोरियों ने जमकर चांदी काटी। (rajpathjanpath@gmail.com)

Related Post

Comments