राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : सावधानी हटी, दुर्घटना घटी...
20-Oct-2021 6:15 PM (156)
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : सावधानी हटी, दुर्घटना घटी...

सावधानी हटी, दुर्घटना घटी...

धार्मिक उन्माद, और फिर झगड़े के बाद कवर्धा में धीरे-धीरे शांति लौट रही है। सब कुछ पहले जैसा सामान्य हो गया है। पुलिस ने दो प्रमुख आरोपियों को रायपुर से गिरफ्तार कर लिया है। इन सबके बावजूद कुछ सूत्रों का दावा है कि कवर्धा फिर गरम हो सकता है।

बताते हैं कि भाजपा संगठन के एक प्रमुख नेता ने शहर से सटे गांव पालगुड़ी में गुपचुप बैठक की है। इस बैठक में जिला संगठन के कुछ प्रमुख नेता शामिल हुए। चर्चा है कि 24 तारीख के आसपास बड़ा विरोध प्रदर्शन हो सकता है। भाजपा नेता, गिरफ्तार लोगों की निशर्त रिहाई चाहते हैं। रिहाई होने तक कवर्धा में गरमा-गरमी रह सकती है।

दूसरी तरफ, एक प्रमुख आरोपी ने पुलिस को अपने शुभचिंतकों के बारे में काफी कुछ जानकारी दी है। ये सब देर सवेर कोर्ट, और फिर आम लोगों के सामने होगा। आशंका है कि शासन-प्रशासन ने थोड़ी भी ढिलाई बरती, तो स्थिति बिगडऩे में देर नहीं लगेगी।

माई की डोली को ईदी...

दंतेश्वरी माता के क्षत्र की आंसुओं के साथ विदाई दी गई। इसी के साथ बस्तर दशहरा का समापन हुआ। राजा कमलचंद भंजदेव ने माई की डोली को कांधा दिया। महिला सिपाहियों ने हर्ष फायर कर सलामी दी। यह बात ईद के दिन की है। मुस्लिम समाज के लोग भी डोली की विदाई के लिये निकले। फूल बरसाते रहे।

जगदलपुर की सडक़ पर मंगलवार को यह जो नजारा देखने को मिला, वही छत्तीसगढ़ की खासियत है। वहां से संदेश निकला कि हाल ही में हुई अप्रिय घटनाओं से राज्य की पहचान नहीं बनने वाली, न इसके भरोसे राजनीति की जा सकती। प्रेम और भाईचारे की डोर अपने प्रदेश में बहुत मजबूत है।

सिंहदेव फिर दिल्ली में

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव तो वैसे शनिवार को ही दिल्ली निकल चुके थे, पर नवजातों की मौत की वजह से उन्हें आनन-फानन सरगुजा लौटना पड़ा। अब फिर दिल्ली में हैं। बताया जा रहा है कि वे राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल, जो छत्तीसगढ़ के मामलों को देखते हैं, उनसे मुलाकात करने के लिये रुके हैं। सीएम के समर्थक भी टोह ले रहे हैं कि वहां हो क्या रहा है। लोगों में भी बड़ी उत्सुकता है कि हाईकमान क्या फैसला करने वाला है। कुछ स्पष्ट हो तो यहां संशय और अस्थिरता की स्थिति समाप्त हो।

बस पर गांवों का सफर कर रहे कलेक्टर

सूरजपुर जिले में इन दिनों ‘प्रशासन तुहंर दुआर’ अभियान चल रहा है। इसके लिये एक ‘जन संवाद वाहन’ तैयार किया गया है। हर शनिवार अधिकारी इस बस में सवार होकर ग्रामीणों से मिलने के लिये निकलते हैं और मौके पर ही उनकी समस्या सुलझाने की कोशिश करते हैं। खास बात है कि कलेक्टर गौरव कुमार सिंह अपनी एयरकूल्ड सरकारी गाड़ी में नहीं जाते, बस में वे भी साथ ही सवार रहते हैं।

आम तौर पर कलेक्टर्स ऐसे शिविरों में अपनी कार से तब पहुंचते हैं जब उसका समापन होता रहता है। भाषण दिया और लौट गये। पर ये कलेक्टर पूरे समय शिविर में मौजूद रहते हैं। जिस जगह जा रहे हैं वहां पंचायत भवन या सार्वजनिक जगह पर अधिकारियों का फोन नंबर भी लिखा जा रहा है, ताकि सीधे वे शिकायत कर सकें। 2013 बैच के आईएएस अधिकारी डॉ. सिंह ने आईएएस परीक्षा हिंदी में दी थी। वे हिंदी साहित्य पीजी में टॉपर भी रहे। उनके जुझारूपन और आम लोगों के साथ सहज बर्ताव ने इसके पहले वाले आईएएस से मिले दर्द को भुला दिया है, जिन्होंने एक बालक को सरे राह थप्पड़ मार उसका मोबाइल फोन तोड़ दिया था।

अन्य पोस्ट

Comments