ताजा खबर

पहले की खबरों के लिए क्लिक करें

विशेष रिपोर्ट

नवा रायपुर में करोड़ों की अनियमितता, ऑडिट में पुष्टि

  आपत्तियों का निराकरण अब तक नहीं   

‘छत्तीसगढ़’  की विशेष रिपोर्ट

रायपुर, 20 मई (‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता)। नवा रायपुर बसाने के लिए सरकार ने हजारों करोड़ खर्च किए हैं, लेकिन पिछले दस साल से इन खर्चों की ऑडिट नहीं हुई है। बताया गया कि स्टेट ऑडिट विभाग ने शुरूआत के पांच सालों के खर्चों की ऑडिट की थी। इसमें करोड़ों की अनियमित भुगतान का खुलासा हुआ है। खास बात यह है कि ज्यादातर ऑडिट आपत्तियों का निराकरण भी नहीं किया गया है। 

एनआरडीए के चेयरमैन एस.एस.बजाज ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि नवा रायपुर के स्मार्टसिटी मद के खर्च की ऑडिट एजी कर रही है। मगर इससे पहले के खर्च की ऑडिट लोकल फंड ऑडिट करता आया है। लेकिन पिछले दस सालों के खर्च की ऑडिट हुई है या नहीं, इसकी जानकारी लेंगे। 

भूपेश सरकार के मंत्री मोहम्मद अकबर ने पदभार संभालते ही नवा रायपुर के खर्चों की ऑडिट कराने के आदेश दिए थे। मगर इस दिशा में कांग्रेस सरकार में भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। पिछले पांच साल में एनआरडीए के आधा दर्जन से अधिक सीईओ बदले गए। इसी बीच नवा रायपुर में निर्माण कार्य और अन्य योजनाओं के मद में अरबों रूपए खर्च हुए हैं, लेकिन इन खर्चों की कोई पड़ताल नहीं हुई।

दिलचस्प बात यह है कि लोकल फंड ऑडिट ने वर्ष 2005-06 से 2011-12 तक नवा रायपुर में खर्च की ऑडिट में करोड़ों की गड़बड़ी पकड़ी है। इसमें कई कंपनियों को अनियमित भुगतान का जिक्र किया गया है। रिपोर्ट में पैरामाऊंट प्लेसमेंट एजेंसी को 10 लाख से अधिक अनियमित भुगतान का खुलासा हुआ है। इसी तरह दिल्ली की कंपनी कंसलटिंग इंजीनियरिंग सर्विस के एग्रीमेंट और कार्य के भुगतान की मूल नस्ती ही गायब पाई गई है।  सीईएस कंपनी को एक करोड़ 14 लाख से अधिक की राशि निरर्थक कार्य का भुगतान होना पाया गया। 

रिपोर्ट में उक्त कंपनी को 30 लाख रूपए संदिग्ध भुगतान पाया गया। यही नहीं, इसी कंपनी से 12 लाख 40 हजार की राशि वसूली योग्य माना गया है। मुम्बई के आर्किटेक्ट उत्तमचंद जैन को नवा रायपुर में डिजाइन के लिए नियुक्त किया गया था। उनकी नियुक्ति की प्रक्रिया को विसंगतिपूर्ण माना गया है, और 52 लाख से अधिक का भुगतान अनियमित पाया गया। 

रिपोर्ट में नवा रायपुर में सलाहकारों को एक करोड़ 19 लाख से अधिक भुगतान का खुलासा किया गया। यह कहा गया कि सलाहकारों के भुगतान के दस्तावेज भी नहीं हैं। इसी तरह नवा रायपुर के फोरलेन सडक़ के निर्माण में कार्य से अधिक भुगतान का मामला भी पकड़ा है। करीब 45 लाख से अधिक का भुगतान किया गया है। 

मुआवजा भुगतान में अनियमितता
नवा रायपुर में जमीन के अधिग्रहण के एवज में किसानों को अनियमित भुगतान का मामला भी सामने आया है। लोकल फंड ऑडिट में असिंचित जमीन को सिंचित बताकर लाखों रूपए अधिक भुगतान किया गया। कई किसानों से वसूली अपेक्षित किया है। दो दर्जन से अधिक प्रकरणों में लाखों रूपए त्रुटिपूर्ण भुगतान का मामला सामने आया है। 

आरआई को संदिग्ध अग्रिम भुगतान
रिपोर्ट में राजस्व निरीक्षक पी.एल.साहू को 12 लाख से अधिक के अग्रिम भुगतान को संदिग्ध बताया है। इसी तरह नवा रायपुर के कर्मचारियों को मोबाइल भत्ता के नाम पर अधिक भुगतान किया जाना पाया गया है। करीब सवा लाख से अधिक की राशि की वसूली अपेक्षित है। 

विचार/लेख

खून के छीटों के निशान सूख जाते हैं

 प्रकाश दुबे

 देश की राजधानी दिल्ली  में 25 बरस पहले 10 जनवरी की रात को कार ने छह लोगों को कुचल दिया। कार थी-अनेक रईसों के सपने में दिखने वाली बीएम डब्ल्यू ई38 और मरने वाले आधा दर्जन लोगों में से तीन पुलिस अधिकारी थे।  लोदी कालोनी जैसी समृद्ध कालोनी में  गोल्फ लिंक में कार बरामद की गई।  नौजवान संजीव ने कीड़े मकोड़ें की तरह मसल दिया। उसके पिता हथियारों के कारोबारी सुरेश नंदा थे और वह भारतीय नौसेना के अध्यक्ष का पोता था।

ठीक चार महीने बाद 30 अप्रैल को देश की राजधानी में एक और वारदात हुई। कुतुब मीनार से नजऱ आने वाले इमली के पेड़ों को समर्पित शराबघर टेमरिंड में चहल पहल थी। नौजवान ने शराब मांगी। मना करने पर उसने गोली दाग दी। साकी का नाम था-जेसिका लाल। गोली चलाने वाले को पहचानने वाले मनु शर्मा के नाम से जानते थे। बार में मौजूद पुलिस अधिकारी सहित कुछ लोग जानते थे कि वह हरियाणा से लोकसभा सदस्य विनोद शर्मा का लाडला है। उसका नाम है- सिद्धार्थ वशिष्ट।

25 साल बाद। दिल्ली से दूर सांस्कृतिक पहचान वाले शहर पुणे में शनिवार अलविदा कह चुका था। मध्यरात्रि के बाद दोपहिए  को कार ने ऐसी टक्कर मारी कि पीछे बैठी युवती कई कदम दूर जाकर गिरी और फिर नहीं उठी। चालक युवक को अस्पताल पहुंचाया गया। डाक्टरों ने बताया कि उसकी सांसें पूरी हो चुकी हैं।

इन वारदातों से कुछ मिलते जुलते सवाल उठते हैं।  दिल्ली की चौड़ी सडक़ पर मस्ती में कार चलाने वाले युवक को मध्यरात्रि में, धुंधलके वाली सर्द कोहरा लपेटे रात में रोकने की पुलिस वालों को जरूरत क्या थी? नहीं भी रोका तो वे सडक़ से 25 कदम दूर नहीं रह सकते थे? जिस देश में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के साथ साल भर में अधिकतम सात दिन शराबबंदी की जाती है, और बाकी दिन गली कूचे से लेकर देर रात तक आसानी से मदिरा उपलब्ध है, वहां अदना सी साकी को और पिला दे कहने पर मना करने की जुर्रत करनी ही क्यों चाहिए? और तीन दिन से यह सवाल सब जगह घुमड़ रहा है कि नाबालिग बच्चे का इतना सा कसूर है कि थोड़ी सी गले से उतार ली। बाप की दी करोड़ों की पोर्श गाड़ी पर हवा खाने और गले को फिर तर करने रवाना हुआ।

तीनों किस्सों में अनेक समानताएं हैं। पुणे के पुलिस थाने में दो मौतों से घबराए लाडले को पिज्जा बर्गर देकर संयत करना चाहा। अमीर बिल्डर दोस्त के बेटे से बदसलूकी रोकने की चिंता में डूबे एक  विधायक ने बच्चे बेकसूर बताया। प्रकरण-1 नंदा परिवार की सारी कोशिशों के बावजूद मात्र नौ साल बाद 2008 में संजीव को सिर्फ दो साल की सजा सुनाई गई। अच्छे चाल चलन के कारण इस आधार पर माफी मिल गई कि वह जुर्माना भरेगा और सुप्रीम कोर्ट के सुझाए तरीके से समाज सेवा करेगा। प्रकरण-2 मनु शर्मा के पिता की दौलत और ताकत के सामने जन आक्रोश ठंडा नहीं हुआ इसलिए आजीवन कारावास की सजा मिली। आप किसी से जाकर पूछना कि मनु कब घर लौट आया? हरियाणा-पंजाब से लेकर दिल्ली तक उसके अपनों की ताकत और रसूख का पता लग जाएगा।

ऐसे में अगर  नाबालिग बच्चे का खयाल रखते हैं तो उत्तेजित मत होइए।  इन लोगों ने सबक नहीं लिया कि उनके अपने पुलिस वाले 25 बरस पहले निर्ममता से कुचले गए थे। कार के पसंदीदा नंबर प्लेट के लिए दक्षिणा का लेन देन होता है। यह जानते हुए सवाल करते हैं कि बिना नंबर प्लेट की गाड़ी सडक़ पर कैसे दौड़ रही थी? नंबर होता तब क्या कार किसी को कुचलने से मना करती? मणिपुर में महिलाओं के साथ बदसलूकी करने वाले हत्या करने से नहीं चूके। उनमें से किसी को जेसिका लाल जैसा न्याय नहीं मिला। देह हिंसा की हर शिकार को निर्दयता से बचाकर निर्भया वाला सम्मान मिलना आज भी अपवाद की श्रेणी में दर्ज होता है।

संवेदनशील नागरिकों के अपशब्द सहने की कीमत पर यही कहूंगा कि एक किशोर और दो नौजवानों को दोषी ठहराने वाले, अंगुली उठाने वाले सोचें कि आए दिन ताकत के बूते कितने लोग छुट्?टा घूमते हैं। है किसी पहलवान मर्द और मर्दानी की हिम्मत जो उनका बाल बांका कर सके? ऐन चुनाव के दिनों में किस आरक्षी को फुर्सत है कि अपराधियों के गले पड़े? नागरिक जी, मतदाता जी, हत्या, बलात्कार, हेराफेरी, भृष्टाचार जैसे आरोपों से लिपे पुते महानुभावों को कानून बनाने वाले मंदिर प्रवेश कराने के लिए आप लालायित होते हैं।

कवि धूमिल की तमतमाती कलम ने लिखा था- वे सब के सब तिजोरियों के दुभाषिए हैं । वे वकील हैं, अध्यापक हैं, नेता हैं, कवि कलाकार हैं , यानि कि कानून की भाषा बोलता हुआ अपराधियों का परिवार है।

आप पर भावुकता सवार हो रही है? चलिए,  इस तरह दुनिया को अलविदा कहने वालों को श्रद्धांजलि देकर मन हल्का कर लें।

मेरा प्रणाम, उन कुछ लोगों को, संगठनों को, जिन्हें लगता है कि मानव के प्राण और इंसान की इज्जत का कोई मोल नहीं होता। ऐसे जागरूक लोग सत्ता को चुनौती देते रहते हैं। सत्ता कानून की हो, न्याय की या कोई और। वे साबित करते हैं कि इंसान में इंसनियत और संवेदना मरी नहीं है। 

  (लेखक दैनिक भास्कर नागपुर के समूह संपादक हैं)

सोशल मीडिया

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news