छत्तीसगढ़

  • राज्यपाल टंडन नहीं रहे, दिल के दौरे के बाद मेकाहारा में गुजरे
    राज्यपाल टंडन नहीं रहे, दिल के दौरे के बाद मेकाहारा में गुजरे

    • कल चंडीगढ़ में अंतिम संस्कार
    • परिवार के पहुंचने तक घोषणा रोककर रखी

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 14 अगस्त। राज्यपाल बलराम दास टंडन को मंगलवार को दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया। बताया गया कि श्री टंडन का सुबह साढ़े दस बजे ही अंबेडकर अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया था, लेकिन उनके परिजनों के आने का इंतजार किया गया। दोपहर ढाई बजे इसकी अधिकृत घोषणा की गई। उनका अंतिम संस्कार बुधवार को चंडीगढ़ में किया जाएगा। 
    स्व. टंडन के पार्थिव शरीर को शाम 4 बजे अंतिम दर्शन के लिए राजभवन के दरबार हॉल में रखा जाएगा। शाम साढ़े 5 बजे गॉर्ड ऑफ ऑनर देने के बाद विशेष विमान से स्व. टंडन के पार्थिव शरीर को चंडीगढ़ के लिए ले जाया गया। बुधवार को सुबह चंडीगढ़ में अंतिम संस्कार होगा। राज्यपाल के निधन की वजह से बुधवार को सारे सांस्कृतिक कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ध्वजारोहण के बाद परेड की सलामी लेंगे। उनके निधन पर 7 दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। बताया गया कि राज्यपाल श्री टंडन को मंगलवार को सुबह नाश्ते के वक्त दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद उन्हें अंबेडकर अस्पताल में ले जाया गया। उन्होंने सुबह साढ़े दस बजे अंतिम सांस ली। उनके पुत्र चंडीगढ़ में थे, उन्हें तत्काल इसकी सूचना दी गई। वे दोपहर के विमान से रायपुर पहुंचे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल भी अंबेडकर अस्पताल देखने गए थे। आज सुबह इस आशय की खबर मिलने के बाद मीडिया का भी जमावड़ा लगा रहा। उनके परिवार के सदस्य दोपहर बाद यहां पहुंचे। दरबार हॉल में मुख्यमंत्री के अलावा सरकार के मंत्री, मुख्य सचिव के अलावा राज्य सरकार के आला अफसर स्व. टंडन के अंतिम दर्शन के लिए दरबार हॉल पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि दी। 

Daily Chhattisgarh News

 

Daily Chhattisgarh News

Daily Chhattisgarh News

राजनीति

  • क्या भाजपा और टीआरएस के शीर्ष नेतृत्व से मिले इन संकेतों का आपसी संबंध भी हो सकता है?

    नई दिल्ली, 14 अगस्त. यह महज़ इत्तिफाक़ हो सकता है या यह भी संभव है कि आपस में मामला एक-दूसरे से जुड़ा हो. मसला लोक सभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव साथ कराने का है. ख़बरों के मुताबिक इस बाबत केंद्र में सरकार चला रही भारतीय जनता पार्टी और तेलंगाना में सत्ताधारी टीआरस (तेलंगाना राष्ट्र समिति) के शीर्ष नेतृत्व ने एक जैसे संकेत दिए हैं.
    भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विधि आयोग को अपना ज़वाब भेजा है. इसमें उन्होंने कहा है, ‘लोक सभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने मामला कोरी अवधारणा नहीं है. अतीत में इस सिद्धांत पर अमल हो चुका है. आगे भी इस पर अमल किया जा सकता है.’ उन्होंने इस विचार का विरोध कर रही विपक्षी पार्टियों की दलीलों को भी ख़ारिज़ किया. उन्होंने कहा कि इससे देश के संघीय ढांचे को मज़बूती ही मिलेगी, न कि वह कमज़ाेर होगा, जैसी कि इसके ख़िलाफ़ दलील दी जा रही है.
    शाह ने विधि आयोग के अध्यक्ष सेवानिवृत्त न्यायाधीश बीएस चौहान को भेजे आठ पेज के अपने उत्तर में कहा कि यह दलील भी ग़लत है कि लोक सभा और राज्यों की विधानसभाओं के चुनाव साथ हुए तो राष्ट्रीय दलों को फ़ायदा मिलेगा. इसका उदाहरण 1980 से मिलता है. उस वक़्त कर्नाटक विधानसभा के चुनाव लोक सभा के साथ कराए गए थे. लेकिन तब कांग्रेस ने लाेक सभा चुनावों में जीत हासिल की थी. जबकि राज्य विधानसभा में जेडीएस (जनता दल-धर्मनिरपेक्ष) को सरकार बनाने के लिए बहुमत हासिल हुआ था.
    इसी बीच तेलंगान से दूसरी ख़बर द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित हुई है. इसके मुताबिक राज्य में सरकार चला रही टीआरएस की प्रदेश कार्यसमिति की इसी सोमवार को हैदराबाद में बैठक बुलाई गई थी. इसमें पार्टी प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने राज्य में समय से पहले चुनाव कराने के संकेत दिए हैं. उन्होंने बाद में मीडिया के प्रतिनिधियों से भी कहा, ‘निर्वाचन आयोग राज्य विधानसभा का कार्यकाल ख़त्म होने के छह महीने आगे-पीछे कभी भी चुनाव करा सकता है. इसे जल्दी नहीं माना जाता.’
    बताया तो यह भी जा रहा है कि केसीआर ने पार्टी को चुनाव की तैयारी करने के निर्देश भी दे दिए हैं. इन तैयारियों के तहत जीत सकने वाले उम्मीदवारों की तलाश की प्रक्रिया शुरू की जा रही है. ग़ौरतलब है कि इस दिसंबर में मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिज़ोरम में विधानसभा चुनाव हैं. और ख़बराें की मानें तो इन राज्यों के साथ ही टीआरएस तेलंगाना में भी चुनाव कराना चाहती है. वहीं मोदी सरकार इस मुद्दे पर अन्य दलों से बातचीत भी करने वाली है. सूत्रों के मुताबिक इस बाबत जल्द ही सर्वदलीय बैठक बुलाई जा सकती है. ( इंडियन एक्सप्रेस)

मनोरंजन

  • रणवीर-दीपिका 20 नवंबर को शादी के बंधन में बंधने वाले हैं

    बॉलीवुड स्टार दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह इन दिनों अपनी लव लाइफ को लेकर काफी लाइमलाइट में हैं। अब दोनों की शादी की कंफर्म तारीख भी सामने आ गई हैं। बताया जा रहा है कि रणवीर और दीपिका इसी साल 20 नवंबर को शादी के बंधन में बंधने वाले हैं। इटली में होने वाली इस स्टार कपल की डेस्टिनेशन वेडिंग में गिने चुने लोगो को ही बुलाया जाएगा जिनमें उनके कुछ दोस्त और करीबी ही शामिल हैं।
    रणवीर और दीपिका की शादी पिछले काफी समय ले बी टाउन का सबसे हॉट टॉपिक बनी हुई है। शादी को लेकर कई तरह की खबरें सामने आ चुकी हैं। हालांकि शादी की तारीख अभी तक साफ नहीं थी। ऐसे में फिल्मेफेयर की एक रिपोर्ट के अनुसार इस ग्रैंड वेडिंग की कंफर्म डेट 20 नवंबर बताई जा रही हैं। रिपोर्ट के अनुसार ये भी साफ कर दिया गया है कि इस शादी में करीब 30 लोग ही शामिल होंगे। इस लिस्ट में दोनों के परिवार रिश्तेदार और करीबी दोस्त शामिल हैं।
    ये ग्रैड वेडिंग इटली में होगी। जिसके बाद इंडिया में सभी के लिए रिसेप्शन का आयोजन किया जाएगा। रणवीर औक दीपिका दोनों की अपनी शादी को टॉप सीक्रेट और मीडिया लाइमलाइट से दूर रखना चाहते हैं। इसके साथ ही इटली दोनों की पसंदीदा जहग है जिसके कारण उन्होंने वहां ही डेस्टिनेशन वेडिंग का फैसला लिया है। हालांकि अभी तक दोनों की तरफ से शादी को लेकर कुछ भी ऑफिशियल नहीं किया गया है। वहीं खबरों को जानने के बाद फैंस में इस जोड़ी की शादी को लेकर एक्साइटमेंट दिनों दिन बढ़ती जा रही है। (एबीपी न्यूज)

स्थायी स्तंभ

खेल

  • क्यों बोले कप्तान विराट कोहली, 'हम हार के लायक थे'

    दिल्ली, 13 अगस्त : टेस्ट की नंबर 1 टीम के कप्तान, जो ख़ुद बल्लेबाज़ी की रैंकिंग में पहले पायदान पर हैं, जब कहते हैं, इस मैच (लॉर्ड्स टेस्ट) में 'हम हार के ही लायक थे' तो सवाल उठने लाजमी हैं. कप्तान विराट कोहली निराश क्यों हैं, ये स्कोर कार्ड से ही साफ हो जाता है. भारतीय टीम इंग्लैंड के ख़िलाफ टेस्ट सिरीज़ के लॉर्ड्स में खेले गए दूसरे मैच में चौथे दिन ही घुटने टेक बैठी.

    मैच का पहला दिन बारिश की वजह से धुल गया था. इंग्लैंड ने भारत को हराने के लिए सिर्फ़ तीन दिन का वक़्त लिया और सिर्फ़ एक बार बल्लेबाज़ी की.
    दुनिया भर में चर्चित भारतीय बल्लेबाज़ी क्रम के सितारा खिलाड़ी लॉर्ड्स में रन बनाना तो दूर पिच पर टिकने का माद्दा भी नहीं दिखा सके. भारतीय टीम पहली पारी में 35.2 और दूसरी पारी में 47 ओवरों में ही ऑल आउट हो गई.
    पूरी टीम पर भारी वोक्स
    मुरली विजय ने दोनों पारियों में स्कोरर को कोई तकलीफ नहीं दी. यानी ख़ाता ही नहीं खोला. दिनेश कार्तिक ने दोनों पारियों में मिलाकर एक ही रन बनाया. लोकेश राहुल और चेतेश्वर पुजारा दो पारियों में 18-18 रन का ही योगदान दे सके.
    बर्मिंघम में खेले गए पहले टेस्ट मैच की दो पारियों को मिलाकर दो सौ रन बनाने वाले कप्तान के बल्ले से भी लॉर्ड्स में सिर्फ़ 40 रन ही निकले.
    वहीं, इंग्लैंड की ओर से सातवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आए ऑलराउंडर क्रिस वोक्स ने अकेले नाबाद 137 रन बना दिए.
    भारत की पूरी टीम पहली पारी में 107 और दूसरी पारी में 130 रन ही बना सकी.
    हार की क्या है वजह?
    वोक्स के पास सिर्फ 25 टेस्ट का अनुभव है जबकि भारतीय बल्लेबाज़ अनुभव के पैमाने पर कहीं आगे हैं.
    विराट कोहली 68, मुरली विजय और पुजारा 59-59, अजिंक्य रहाणे 47 और शिखर धवन 31 टेस्ट मैच खेल चुके हैं.
    फिर भारतीय बल्लेबाज़ इस कदर नाकाम क्यों हो रहे हैं? क्या वो हालात के मुताबिक ख़ुद को ढाल नहीं पा रहे हैं?
    कोहली को गिराने वाले के पैर में है 'गोली'!
    कप्तान विराट कोहली का जवाब है, "आप बैठकर हालात को दोष नहीं दे सकते."
    तो फिर दिक्कत कहां है? इस सवाल के जवाब में वरिष्ठ खेल पत्रकार अयाज़ मेमन कहते हैं कि इस बात आकलन किया जाना चाहिए कि आखिर ग़लती हो कहां रही है?
    वो कहते हैं, "हम ये नहीं कह सकते कि भारतीय बल्लेबाज़ों के पास प्रतिभा नहीं है. धवन, पुजारा, रहाणे के पास टैलेंट है लेकिन कुछ तो ग़लत हो रहा है और इसकी पड़ताल जरूरी है."
    अयाज़ मेमन जिस ग़लती की ओर इशारा कर रहे हैं, कहीं वो टीम का चयन तो नहीं है?
    भारतीय टीम मैनेजमेंट हर टेस्ट मैच में प्लेइंग इलेवन बदल रहा है. इससे ऐसी तस्वीर उभरती है कि मानो किसी भी खिलाड़ी को ये पता नहीं होता कि वो अगले टेस्ट मैच में खेलेगा या नहीं. इससे खिलाड़ियों के मनोबल पर असर होता है.
    बर्मिंघम में शिखर धवन टीम में थे तो चेतेश्वर पुजारा बैंच पर थे. लॉर्ड्स में पुजारा को मौका मिला तो धवन बाहर हो गए. 18 अगस्त से शुरु होने वाले तीसरे मैच को लेकर भी तय नहीं है कि कौन सा खिलाड़ी बाहर होगा और किसे मौका मिलेगा.
    अयाज़ मेमन कहते हैं, "खेल में मैन मैनेजमेंट की अहम भूमिका होती है. किस खिलाड़ी को किस तरह संभालना है, ये जिम्मेदारी कप्तान को निभानी होती है. कुछ खिलाड़ी टीम के अंदर के मुक़ाबले से डरते हैं. उन्हें ये डर होता है कि कोई और खिलाड़ी मेरी जगह ले सकता है."
    तो क्या भारतीय टीम के खिलाड़ी भी इस दुविधा में घिरे हैं और रन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं?
    अयाज़ मेमन की राय है कि वक़्त रहते इसकी पड़ताल होनी चाहिए.
    वो कहते हैं, "दो मैच हार गए हैं. सिरीज़ हारने की नौबत आ गई है. अगर अब विराट कोहली इस मसले को नहीं सुलझाते हैं तो समस्याएं बढ़ सकती हैं."
    37 टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी कर चुके विराट कोहली ने टीम को 21 बार जीत दिलाई है. लेकिन लगातार दो हार के झटकों ने सबसे ज़्यादा चुनौतियां उनके सामने ही खड़ी की हैं.
    बर्मिंघम में विराट कोहली का बल्ला चला था लेकिन वो टीम को जीत नहीं दिला पाए. भारत को पहले मैच में 31 रन से हार झेलनी पड़ी थी. इससे साफ है कि जीत के लिए दूसरे खिलाड़ियों को भी योगदान करना होगा.
    अयाज़ मेमन को भी लगता है, "अब बोझ कप्तान पर आ गया है. उनकी जिम्मेदारी है कि टीम का चयन सही हो."
    लेकिन, क्या इससे बात बनेगी?
    विराट कोहली कहते हैं, "हम 2-0 से पीछे हैं. हमारे पास एक ही विकल्प है कि सोच सकारात्मक रखें. इसे (स्कोर लाइन को) 2-1 बनाने की कोशिश करें." (बीबीसी)

कारोबार

  • डॉलर के मुकाबले 70 के पार पहुंचा रुपया, अब तक की सबसे बड़ी गिरावट

    नई दिल्ली, 14 अगस्त। डॉलर के मुकाबले रुपये में जारी गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही है। विशेषज्ञ जिस चीज की आशंका जता रहे थे, वह आखिर हो ही गया है। मंगलवार को रुपये ने डॉलर के मुकाबले पहली बार 70 का आंकड़ा पार कर लिया है।
    मंगलवार को डॉलर के मुकाबले थोड़ी मजबूती के साथ 69.85 के स्तर पर शुरुआत करने के बाद रुपये में गिरावट फिर शुरू हो गई है। शुरुआती कारोबार में रुपया एक बार फिर कमजोर होना शुरू हो गया है। इसकी वजह से यह 70.07 पर पहुंच गया है।
    सोमवार को रुपया डॉलर के मुकाबले बड़ी गिरावट के साथ बंद हुआ। सोमवार को रुपया 110 पैसे की भारी गिरावट के साथ 69.93 के स्तर पर बंद हुआ था। इससे पहले शुक्रवार को रुपया 68.83 के स्तर पर बंद हुआ। तीन सितंबर, 2013 के बाद रुपये में एक सिंगल सेशन में सबसे बड़ी गिरावट थी।
    दरअसल रुपये में आ रही इस गिरावट के लिए तुर्की की मुद्रा में गिरावट जिम्मेदार है। तुर्किश लिरा में आ रही इस गिरावट ने डॉलर को मजबूती देने का काम किया है। इसका सीधा असर रुपये पर पड़ा है। इसके साथ ही ऐसी आशंका भी पैदा हो गई है कि कहीं तुर्की में पैदा हुआ आर्थिक संकट वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं पर भी असर न डाले।
    टेक्निकल पैटर्न को देखें तो रुपया डॉलर के मुकाबले 71 का आंकड़ा छू सकता है। अगर ऐसा होता है, तो इससे भारतीय रिजर्व बैंक के सामने कई चुनौतियां खड़ी हो सकती है। ऐसे में वह रुपये को संभालने के लिए अहम कदम उठा सकता है।  (आजतक)

सेहत/फिटनेस

  • पीसीओएस पीड़ित महिला के बच्चों को ऑटिज्म का खतरा, जानिए क्या है सेक्स हार्मोन से कनेक्शन

    एक रिसर्च के मुताबिक पीसीओएस उच्च टेस्टोस्टेरोन की वजह से होने वाला एक विकार है, जिसके चलते समय से पहले युवावस्था, अनियमित माहवारी और शरीर पर अतिरिक्त बाल होने लगते हैं. पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome) से पीड़ित महिलाओं के पैदा होने वाले बच्चों में ऑटिज्म (Autism) होने का खतरा बना रहता है. एक रिसर्च के मुताबिक पीसीओएस (PCOS) उच्च टेस्टोस्टेरोन की वजह से होने वाला एक विकार है, जिसके चलते समय से पहले युवावस्था, अनियमित माहवारी और शरीर पर अतिरिक्त बाल होने लगते हैं. 

    पिछले अध्ययनों से पता चला था कि ऑटिस्टिक (Autistic) बच्चों में टेस्टोस्टेरोन समेत 'सेक्स स्टीरॉयड' हार्मोन के स्तर बढ़ जाते हैं जो बच्चे के शरीर और मस्तिष्क को समय से पहले ही युवावस्था की ओर जाने लगते हैं. हार्मोन के बढ़ते स्तर पर बहस करते हुए शोध दल ने पाया कि इसका एक कारण जन्म देने वाली मां का विकार हो सकता है. 

    निष्कर्ष बताते हैं कि अगर मां में सामान्य से अधिक टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) होता है, जैसा कि पीसीओएस वाली महिलाओं के मामले में देखा जाता है, तो कुछ हार्मोन गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा को पार कर जाते हैं जिससे भ्रूण का इस हार्मोन से अधिक संपर्क हो जाता है और बच्चे के मस्तिष्क का विकास बदल जाता है. 

    ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज से एड्रियाना चेरस्कोव बताती हैं, "यह निष्कर्ष उस सिद्धांत को और मजबूत करता है, जिसमें बताया गया है कि ऑटिज्म न केवल जीनों के कारण होता है, बल्कि इसका टेस्टोस्टेरोन जैसे जन्मपूर्व सेक्स हार्मोन भी कारण हो सकते हैं." 

    इस शोध के लिए अध्ययनकर्ताओं ने पीसीओएस पीड़ित 8,588 महिलाओं के आंकड़ों का अध्ययन किया था.(आईएएनएस)

     

सामान्य ज्ञान

  • हर दिन हॉट सीट 14 अगस्त

    1. किस प्राकृतिक प्रदेश को प्रयास का प्रदेश या परिश्रम का प्रदेश कहा जाता है?
    (अ) सवाना प्रदेश (ब) भूमध्यसागरीय प्रदेश (स) मानसूनी प्रदेश (द) मानसूनी प्रदेश
    2. किस प्राकृतिक प्रदेश में सबसे अधिक दैनिक तापमान पाया जाता है?
    (अ) टैगा प्रदेश (ब) मानसूनी प्रदेश (स) उष्ण मरुस्थलीय प्रदेश (द) विषुवतीय प्रदेश
    3. निम्नलिखित में से कौन सा प्राकृतिक प्रदेश केवल उत्तरी गोलाद्र्ध में पाया जाता है?
    (अ) भूमध्यसागरीय प्रदेश (ब) स्टेपी प्रदेश (स) टैगा प्रदेश (द) उष्ण कटिबंधीय प्रदेश
    4. शंकुधारी या कोणधारी वन किस प्राकृतिक प्रदेश में मिलते हैं?
    (अ) टुण्ड्रा प्रदेश (ब) मानसूनी प्रदेश (स) टैगा प्रदेश (द) भूमध्यसागरीय प्रदेश
    5. किस देश में जल विद्युत ही विद्युत ऊर्जा का एक मात्र स्रोत है?
    (अ) स्विट्जरलैंड (ब) नार्वे (स) स्वीडन (द) इटली
    6. कोयला संसाधन की दृष्टि से संपन्न रूर औद्योगिक क्षेत्र किस देश में स्थित है?
    (अ) फ्रांस (ब) पौलेंड (स) जर्मनी (द) आस्ट्रेलिया
    7. वर्तमान समय में जूट उद्योग की दृष्टि से विश्व में प्रथम स्थान किसका है?
    (अ) भारत (ब) बांग्लादेश (स) ब्राजील (द) पाकिस्तान
    8. विश्व में अखबारी कागज का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन सा है?
    (अ) कनाडा (ब) यूएसए (स) ग्रेट ब्रिटेन (द) भारत
    9. जावा द्वीप की तुलना में सुमात्रा द्वीप में कम जनसंख्या घनत्व का कारण क्या है?
    (अ) अस्वास्थ्यकर जलवायु (ब) कम उपजाऊ मृदा (स) कम वर्षा (द) खनिजों का अभाव
    10. निम्नलिखित में से किस देश का जनसंख्या घनत्व सबसे अधिक है?
    (अ)चीन (ब)जापान (स) श्रीलंका (द) ब्रिटेन
    11. संगणकों के आईसी चिप्स प्राय: किसके बने होते हैं?
    (अ) लेड के (ब) क्रोमियम के (स) सिलिकॉन के (द) सोने के
    12. जार्विक-7 क्या है?
    (अ) इलेक्ट्रॉनिक पैर (ब) पेस मेकर (स) कृत्रिम हृदय (द) कृत्रिम आंख
    13. रक्त दाब नापने के लिए किस यंत्र का इस्तेमाल किया जाता है?
    (अ)टैकोमीटर (ब) स्फिग्रोमैनोमीटर (स) ऐक्टीमीटर (द) बैरोमीटर 
    14. भारत में समूचे आवासीय आंदोलन का नेतृत्व करने वाले एक शीर्ष राष्टï्रीय संगठन -राष्टï्रीय सहकारी आवास संघ (एन.सी.एच.एफ) की स्थापना कब की गई?
    (अ)  वर्ष 1965 (ब)  वर्ष 1966 (स) वर्ष 1968 (द) वर्ष 1969
    15. भारत में काम के बदले अनाज की राष्टï्रीय योजना कब शुरु की गई?
    (अ) वर्ष 2000 (ब) वर्ष 2001 (स)  वर्ष 2002 (द)  वर्ष 2004
    16. दूध खट्टïा किसके कारण हो जाता है? 
    (अ) शैवाल (ब) जीवाणु (स) कवक (द) खमीर
    17. सोते समय रक्त दाब (ब्लडप्रेशर) में क्या परिवर्तन होता है?
    (अ) बढ़ता है (ब) घटता है (स) कोई फर्क नहीं पड़ता है (द) सामान्य रहता है
    18. निम्नलिखित में से ब्रिटिश सरकार का नाइटहुड खिताब किसे मिला है ?
    (अ) वी.एस.नायपॉल (ब) सलमान रश्दी (स) खुशवंत सिंह (द) मारियो पुजो
    19. भारत में प्रथम मेट्रो रेल सेवा निम्नलिखित में से किस शहर में शुरू थी?
    (अ)नई दिल्ली (ब) मुंबई (स) कोलकाता (द) हैदराबाद
    20. उड़ीसा के सुदर्शन पटनायक किस कला के लिए देश-विदेश में जाने जाते हैं?
    (अ) पेंटिंग (ब) गिटार वादन (स) बालू की मूर्तियां  (द) तबला वादन
    21. प्रेसीडेंसियल मेडल ऑफ फ्रीडम -किस देश का शीर्ष सिविलियन पुरस्कार है?
    (अ) भारत (ब) चीन (स) अमरीका (द) जापान
    22. हिंदू महासभा की स्थापना वर्ष 1915 में किसने की थी?
    (अ) मदनमोहन मालवीय (ब) लाला लाजपत राय (स) केलकर (द)इनमें से सभी
    23. भारत के ग्रामीण विकास कार्यक्रम की गति को तीव्र करने, सामाजिक और आर्थिक स्थितियों में सुधार लाने एवं स्थानीय प्रशासन की महत्ता को उत्कृष्टï बनाए रखने जनवरी-1957 में कौन सी समिति बनाई गई?
    (अ)  अशोक मेहता समिति (ब) बलवंत राय मेहता समिति (स) राव समिति (द) सिंघवी समिति 
    24. सिंथेटिक फाइबर उद्योग का सबसे पहले किस देश में विकास कहां हुआ था?
    (अ) संयुक्त राज्य अमेरिका (ब) जापान (स) फ्रांस (द) जर्मनी
    25. निम्न में से किसको कृषि क्षेत्र में हरित क्रांति का जन्मदाता माना जाता है?
    (अ)नार्मन ई. बोरलॉग (ब)एम.एस. स्वामीनाथन (स) ए. वाक्समैन (द)एस.एन. विनोग्रेडस्कोई
    26. पशुपालन के क्षेत्र में निम्नलिखित में से कौन सा  महत्वपूर्ण स्थान होता है?
    (अ) मिश्रित कृषि (ब) बागानी कृषि (स) गहन निर्वाहक कृषि (द) स्थानांतरणशील
    27. विश्व की संख्या की दृष्टिï से सबसे बड़ी मानव जाति निम्नलिखित में से कौन सी है?
    (अ)काकॉसोएड्स (ब) मंगोलॉयड (स) नीग्रोस (द) ऑस्ट्रेलियाई
    28. कनाडियन नेशनल रेलमार्ग कहां से कहां तक जाता है?
    (अ) मॉण्ट्रियल से टोरंटो (ब) हैलीफैक्स से ओटावा (स) हैलीफैक्स से वैंकूवर (द) चर्चिल से वैंकूवर 
    29. क्रीमीलेयर संकल्पना से तात्पर्य है?
    (अ) सामाजिक स्तर के आधार पर वर्गीकरण (ब) आर्थिक स्तर के आधार पर वर्गीकरण (स) जातियों के आधार पर वर्गीकरण (द) दुग्ध उपभोग के आधार पर वर्गीकरण
    ----
    सही जवाब- 1.(द) मानसूनी प्रदेश, 2.(स)उष्ण मरुस्थलीय प्रदेश, 3.(स) टैगा प्रदेश, 4.(स) टैगा प्रदेश, 5.(अ) स्विट्जरलैंड, 6.(स)जर्मनी, 7.(अ)भारत, 8.(अ)कनाडा, 9.(ब)कम उपजाऊ मृदा, 10.(ब)जापान, 11.(स) सिलिकॉन के, 12.(स) कृत्रिम हृदय, 13.(ब) स्फिग्रो मैनोमीटर, 14.(द) वर्ष 1969, 15.(द)वर्ष 2004, 16.(ब) जीवाणु, 17.(ब) बल्डप्रेशर घटता है, 18.(ब) सलमान रश्दी, 19.(स) कोलकाता, 20.(स)बालू की मूर्तियां, 21.(स) अमरीका, 22.(द)  इनमें से सभी, 23.(ब) बलवंत राय मेहता समिति, 24.(स) फ्रांस, 25.(अ)नार्मन ई. बोरलॉग, 26.(अ)मिश्रित कृषि में, 27.(अ)काकॉसोएड्स, 28.(स) हैलीफैक्स से वैंकूवर, 29. (ब) आर्थिक स्तर के आधार पर वर्गीकरण।

अंग्रेज़ी

  • The English Corner 14 August 18

    Idiom
    on course

    If you are on course for something, you are likely to achieve it.
    Our team is on course for a victory in the national championship.
    good turn
    If you do someone a good turn, you act in a helpful way.
    Mike is a great guy - always ready to do a good turn.
    knock sense into
    When you knock sense into somebody, you use strong words or methods in order to get that person to stop behaving stupidly.
    When Jason announced that he was going to drop out of college, his uncle managed to knock some sense into him.

     Phrasal Verbs
    A phrasal verb is a verb followed by a preposition or an adverb; the combination creates a meaning different from the original verb. Below you will find a list of phrasal verbs in alphabetical order with their meaning and an example of use.
    lose out to- be less successful    
    Jose was called for an interview but he lost out to the candidate who spoke fluent English.
    stick around- Stay somewhere for some time
    I'll stick around until the end of the parade.

    Common Mistakes and
     Confusing Words in English

    at / in
    People get very confused about these two prepositions, but there are a couple of simple tips you can use to help yourself remember how to use them.
    In, as a preposition of place, is usually used to talk about the position of someone or something inside large places such as countries, continents, big cities etc.
    For example:- She grew up in New Zealand.
    At, as a preposition of place, is usually used to talk about the position of someone or something inside small and unimportant places such as villages, small towns etc.
    For example:- I'lll meet you at the pub.
    At is also commonly used with proper names such as buildings or organizations.
    For example:- I first met her at Harrods. She works at the bank.
    In, as a preposition of time, is usually used when talking about parts of the day.
    For example:- I'll see you in the morning, in the evening, in the afternoon.
    At, as a preposition of time, is usually used with clock time.
    For example:- My train leaves at 6.30 am.
    Note - As with most so called "rules" in English there are exceptions, so just to confuse y

फोटो गैलरी


विडियो गैलरी