छत्तीसगढ़

  • जगदलपुर, अलग-अलग सड़क हादसे में 3 घायल
    जगदलपुर, अलग-अलग सड़क हादसे में 3 घायल

    अलग-अलग सड़क हादसे में 3 घायल

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 16 सितंबर।
    शहर दो में अलग-अलग थाना क्षेत्र में रविवार को हुए सड़क दुर्घटनाओं में तीन लोग घायल हो गए है। सभी घायलों को डायल 112 की टीम से अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

    मामले की जानकारी देते हुए डायल 112 बस्तर जिला प्रभारी अरुण नामदेव ने बताया कि पहली घटना कोतवाली थाना क्षेत्र के बिल्लोरी की है। उन्होंने बताया कि कॉलर से सूचना मिली कि कोटवारपारा में स्थित पंचायत भवन के पास एक युवक अपनी ही बाइक से गिरकर घायल हो गया है। सूचना मिलते ही डायल 112 की टीम मौके पर पहुंची। डायल 112 की टीम ने घायल फरसु बघेल (30) निवासी बिल्लोरी को तत्काल महारानी अस्पताल में पहुंचाकर भर्ती कराया है। बताया गया है कि इस हादसे में युवक के सिर और आंख में गम्भीर चोटें लगी है।

     वहीं दूसरी घटना चित्रकोट मार्ग की है। अरुण नामदेव ने बताया कि कॉलर से सूचना मिली कि एक मोपेड वाहन सीजी 05 एच 4805 से युवक ने साईकल सवार को ठोकर मार दी है। ठोकर लगने के बाद दोनों घायल हो गए है। सूचना मिलने के बाद डायल 112 की टीम मौके पर पहुँची। डायल 112 की टीम ने मोपेड सवार घायल युवक सिद्धार्थ जैन (19) निवासी मोतीतालाब पारा और साईकल सवार घायल सोमारू नाग (48) निवासी डूमर कोदरा को तत्काल मेकॉज में भर्ती कराया है। बताया गया कि सोमारू के सिर, चेहरे और पैर में चोटें लगी है।

     

अंतरराष्ट्रीय

  • ईशनिंदा मामला: पाक में उन्मादी भीड़ ने तीन हिंदू मंदिर तोड़े, घरों और स्कूल में की तोडफ़ोड़
    ईशनिंदा मामला: पाक में उन्मादी भीड़ ने तीन हिंदू मंदिर तोड़े, घरों और स्कूल में की तोडफ़ोड़

    पाकिस्तान, 16 सितंबर । पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक बच्चे के पिता द्वारा एक स्कूल के हिंदू प्रधानाचार्य के खिलाफ ईश निंदा की झूठी रिपोर्ट दर्ज करा देने पर दंगा भडक़ गया। दंगाइयों ने स्कूल में घुसकर तोडफ़ोड़ करने के बाद तीन हिंदू मंदिरों पर भी हमला बोलकर उसे ध्वस्त कर दिया। हिंदू समुदाय के कई घरों में भी तोडफ़ोड़ की गई है। दंगाई भीड़ प्रधानाचार्य को उनके हवाले करने की मांग कर रही थी। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने सरकार से अल्पसंख्यक हिंदुओं की सुरक्षा की मांग की है। पूरे प्रांत में हिंदू समुदाय के लोगों में घटना के बाद से खौफ का माहौल बना हुआ है।
    पाकिस्तानी समाचार पत्र द डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, सिंध के घोटकी जिले में सिंध पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य नोटन मल के खिलाफ एक बच्चे के पिता अब्दुल अजीज राजपूत की तरफ से कथित तौर पर ईशनिंदा किए जाने की रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद शनिवार को उग्र प्रदर्शन शुरू हो गया। उग्र भीड़ अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के प्रधानाचार्य पर कार्रवाई की मांग कर रही थी। पाकिस्तान मानवाधिकार आयोग की तरफ से शेयर किए गए वीडियो में दिखाया गया है कि उग्र भीड़ ने स्कूल में घुसकर जबरदस्त तोडफ़ोड़ कर दी। आयोग ने हालात पर चिंता जताते हुए ट्वीट किया है। उधर, सोशल मीडिया पर इस घटना से जुड़े कई वीडियो जमकर वायरल हो रहे हैं, जिनमें उग्र दंगाइयों की भीड़ एक हिंदू मंदिर में घुसकर उसे ध्वस्त करते हुए दिखाई दे रही है। इसके बाद भीड़ स्कूल में घुसकर तोडफ़ोड़ करती भी दिखाई दे रही है। घोटकी के आसपास के शहरों मीरपुर मथेलो और आदिलपुर में भी प्रदर्शनकारियों ने सडक़ों पर जाम लगाते हुए प्रधानाचार्य की गिरफ्तारी की मांग की है।
    सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों ने ट्विटर पर दंगे की वीडियो और फोटो अपलोड किए हैं। साथ ही सिंध सरकार से अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय की सुरक्षा के उपाय करने की मांग की है। मानवाधिकार कार्यकर्ता सत्तार जंगजू के मुताबिक, दंगों के कारण क्षेत्र में हिंदू समुदाय के लोग अपने घरों में बंद हो गए हैं। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के सांसद रमेश कुमार वांकवानी ने तीन हिंदू मंदिरों, एक निजी स्कूल और हिंदू समुदाय के कई घरों में तोडफ़ोड़ करने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि प्रधानाचार्य को सुरक्षा कारणों से अज्ञात जगह रखा गया था और आगे की जांच के लिए उसे हैदराबाद के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल नईम शेख के हवाले कर दिया गया है। पाकिस्तान हिंदू काउंसिल के भी अध्यक्ष वांकवानी ने पुलिस से दंगाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।  
    उधर, घोटकी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक फर्रुख लंजार ने मीडिया से कहा कि पुलिस ने क्षेत्र में हालात पर काबू कर लिया है। सुक्कूर के अपर पुलिस महानिरीक्षक (एआईजीपी) जमील अहमद ने भी एक ट्वीट में चिंताजनक हालात होने की बात स्वीकार की है। अहमद ने ट्वीट में आरोपी प्रधानाचार्य को पुलिस हिरासत में ले लिए जाने की पुष्टि करते हुए कहा है कि अब वह पूरी तरह सुरक्षित हैं।
    स्थानीय मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक, दंगों के पीछे विवादित धार्मिक नेता पीर अब्दुल हक उर्फ मियां मि_ू का हाथ है। स्कूल और मंदिर पर हमला करने वाले दंगाई मियां मि_ू के ही समर्थक बताए जा रहे हैं। बता दें कि मियां मि_ू सिंध में हिंदू युवतियों के जबरन धर्म परिवर्तन के लिए कुख्यात है और उसकी इस हरकत की निंदा वैश्विक मीडिया में भी हो चुकी है। मियां मि_ू को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का करीबी बताया जाता है।(अमर उजाला)
     

राष्ट्रीय

  • आईपीएस ने कहा, घूस ले लो.. वैसे भी हमें कुछ नहीं मिलता, ऑडियो हो गया वायरल
    आईपीएस ने कहा, घूस ले लो.. वैसे भी हमें कुछ नहीं मिलता, ऑडियो हो गया वायरल

    लखनऊ, 16 सितंबर । पीएसी में तैनात एक प्रोन्नत आईपीएस का ऑडियो वायरल हो गया है। इसमें वह पुलिस के एक सीओ को घूस लेकर काम करने के लिए समझा रहे हैं।
    भ्रष्टाचार से संबंधित यह ऑडियो पुलिस विभाग में चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि अभी कोई आधिकारिक रूप से कुछ बोलने को तैयार नहीं है। अभी इसकी पुष्टि भी नहीं हो पाई है कि वायरल ऑडियो में आवाज किसकी है।
    बातचीत से लग रहा है कि पीएसी में तैनात कोई वरिष्ठ अफसर अपने से कनिष्ठ किसी अफसर से एक मामले में अपनी सिफारिश के अनुसार रिपोर्ट लगाने को कह रहा है। वह बार-बार जल्दी रिपोर्ट भेजने को भी बोल रहे हैं।
    इस दौरान वह इस बात का रोना भी रो रहे हैं कि पीएसी में वैसे भी कुछ मिलता नहीं है। ऑडियो कुछ समय पहले का है। बताया जा रहा है कि आईपीएस की जिस सीओ से बात हो रही है, वह अलीगढ़ में तैनात है।(हिंदुस्तान)

     

स्थायी स्तंभ

  •  छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : दामादों का दौर सदाबहार...
    छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : दामादों का दौर सदाबहार...

    दामादों का दौर सदाबहार...
    सत्ता के गलियारे में दामादों का दबदबा जगजाहिर है। सरल स्वभाव के रमन सिंह को अपने दामाद के कारनामों की वजह से बदनामी झेलनी पड़ रही है। मगर, मौजूदा सरकार में भी दामादों की हैसियत कम नहीं हुई है। बात एक कांग्रेस के बड़े पदाधिकारी के दामाद की हो रही है। सुनते हैं कि दामाद बाबू का भाजपा से तगड़ा कनेक्शन है। उनके पिता पिछली सरकार में संवैधानिक पद पर रहे हैं। पिता जब ऊंचे पद पर थे, तो सारा काम आसानी से हो जाता था। 

    नोटबंदी के दौरान तो रायपुर शहर के बाहरी इलाके में व्यावसायिक प्रोजेक्ट के जरिए करोड़ों रूपए बटोरे थे। चर्चा तो यह भी है कि उस दौरान गुढिय़ारी के व्यापारियों को शहर से बाहर कारोबार शिफ्ट करने के लिए दबाव सिर्फ इसलिए बनाया गया था, कि उनके व्यावसायिक प्रोजेक्ट को फायदा पहुंचे। खैर, पिता के सत्ता से हटने के बाद भी नेता पुत्र की हैसियत में कमी इसलिए नहीं आई है कि उनके ससुर कांग्रेस के बड़े पदाधिकारी हैं। भाजपाई पुत्र (अब कांग्रेसी दामाद) को अपने ससुर के प्रभाव के चलते अलग-अलग संस्थाओं में करोड़ों का काम मिला है। दामाद के रूतबे की राजनीतिक हल्कों में जमकर चर्चा है। आरटीआई कार्यकर्ता उचित शर्मा ने इस जुगलबंदी पर फेसबुक में लिखा है-सत्ता का अपना मूलस्वरूप कैपिटलिस्ट ही है, आये कोई भी चलाते पूंजीवादी ही हैं। @2समधी.कॉम...।

    बोया पेड़ बबूल का तो...
    अभी दो मामले ऐसे हुए जिनको लेकर छत्तीसगढ़ के लोगों के बीच एक पुरानी कहावत फिर से जोर पकड़ रही है कि बोया पेड़ बबूल का, तो आम कहां से होए। एक वक्त शिवशंकर भट्ट केन्द्रीय राज्यमंत्री रहे डॉ. रमन सिंह के निजी सहायक की हैसियत से काम करते थे। बाद में उन्हें भाजपा सांसद रमेश बैस ने लंबे समय तक अपना सहायक रखा। पूरी जिंदगी वे भाजपा के सत्तारूढ़ लोगों के साथ काम करते रहे, और उनके खुद के हलफिया बयान के मुताबिक वे भाजपा नेताओं को करोड़ों रूपए पहुंचाते भी रहे जो कि नागरिक आपूर्ति निगम, उर्फ नान, में जुटाए जाते थे। अब वे खुलकर भाजपा नेताओं के खिलाफ आ गए हैं, और डॉ. रमन सिंह के खिलाफ इससे अधिक मजबूत हलफनामा किसी और का अब तक आया नहीं था। 

    रामविचार के तीखे विचार, हे राम...
    दूसरी तरफ अंतागढ़ में कांग्रेस उम्मीदवार रहे मंतूराम पवार को उनके हलफनामे के मुताबिक उस समय भाजपा नेताओं ने खरीदा, जोगी पिता-पुत्र ने इस सौदे को अंजाम दिलाया था। अब मंतूराम पवार एकदम से अदालती हलफनामे के साथ इन सारे लोगों के खिलाफ खुलकर बोल रहे हैं, और सबकी गिरफ्तारी का सामान भी बन रहे हैं। मंतूराम को लेकर छत्तीसगढ़ में एक वक्त आदिवासी मंत्री रहे, और अब राज्यसभा सांसद और भाजपा के राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष रामविचार नेताम ने खुलकर मोर्चा खोला है। उन्होंने मंतूराम को गोद में बिठाने वाले उस वक्त के भाजपा नेताओं, और तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के बारे में बयान दिया है कि जिस धूमधड़ाके से मंतूराम की अगवानी हुई थी, उसने जमीनी स्तर के भाजपा कार्यकर्ताओं को उदास कर दिया था। नेताम ने कहा- ये कार्यकर्ता तब भी नरााज हुए जब उन्होंने मंत्री, मुख्यमंत्री, विधायक को कॉकस से घिरा देखा था। नेताम ने मंतूराम को भाजपा में लाने वाले उस वक्त के दिग्गज भाजपा नेताओं और मुख्यमंत्री के खिलाफ एक वीडियो इंटरव्यू में खुलकर कड़ी बातें कहीं। अब वे जिस तरह पार्टी के एक सर्वोच्च प्रकोष्ठ-पद पर हैं, और राज्यसभा में भी हैं, उनका यह रूख भाजपा के मंतूरामग्रस्त नेताओं के लिए परेशानी की एक वजह तो है ही। 
     (rajpathjanpath@gmail.com)

    चंद्रयान-2 से प्रभावित आशिक...
    टैलेंट की बात ना करो मैं तो घड़ी देखकर टाईम बता सकती हूँ...

    अभी उठा तो देख रहा हूँ पत्नी सबसे पूछती घूम रही है कि फ्रीज से कद्दू कहाँ गायब हो गया?

    जीवन में 3 बात किसी को नहीं बतानी,,,,,!
    1)
    2)
    3)
    नहीं बतानी मतलब नहीं बतानी,,,!
    किसी को भी नहीं 

    यहाँ पिछले दो महीने से मेरी वाली से हमारा संपर्क टूटा पड़ा है
    दलाल मीडिया ये सब नहीं बताएगा जी।

    कोई ऐसी दिलफेंक लड़की जो अपना मोबाइल नंबर मेरे, मुंह पर फेंक के मारे और बोले -ले मर रात को बात करेंगे...

    दहशते चालान कुछ इस कदर बढ़ गई है गालिब,
    कि बैठते ही कमोड पर पहले सीट बेल्ट ढूंढते हैं...

    आज मुझे एक ट्रैफिक हवलदार चिल्लाते हुए बोला। रुको हेलमेट नहीं है।
    मैंने कहा दूर हो जा ब्रेक भी नहीं है...

    मेरे पास हेलमेट है, लाईसेंस है, आर-सी है प्रदूषण पर्ची है। तुम्हारे पास क्या है?

    बचपन में जब मेहमान घर आये तो लगता था, कब खा-पीकर जेब में हाथ डाले और बोले.. बेटा जरा इधर आना तो

    काम्पटीशन इतना बढ़ गया है कि किसी को अपना दु:ख सुनाओ तो वो डबल सुना देता है ।

    95 फीसदी बच्चे मामा के घर जाकर बिगड़ जाते हैं, हमारे विक्रम के साथ भी यही हुआ ...घरवालों से संपर्क ही नहीं कर रहा है।

    24 डिब्बों की ट्रेन में सिर्फ दो ही जनरल डिब्बे आगे-पीछे लगाए जाते हैं। ऐसा इसलिए कि जब कहीं टक्कर हो, तो मरे गरीब ही...

    प्यार अब अंधा नहीं है उसने इलाज करवा लिया, अब वो पैसा, गाड़ी, बंगला सब देखता है...

    आराम आराम से हम अपनी संस्कृति खोते जा रहे हैं, आज मैंने एक बालक देखे, उसने आइसक्रीम कप का ढक्कन बिना चाटे ही फेंक दिया...

राजनीति

  • उदयनराजे भोंसले भाजपा में शामिल
    उदयनराजे भोंसले भाजपा में शामिल

    नई दिल्ली 14 सितंबर। महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव से पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को शनिवार को बड़ा झटका लगा जब उसके नेता छत्रपति शिवाजी के वशंज उदयनराजे भोंसले ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थाम लिया।  
    श्री भोंसले आज सुबह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के घर पर आयोजित कार्यक्रम में पार्टी में शामिल हुए। इस मौके पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के अलावा अन्य नेता मौजूद थे। महाराष्ट्र में इसी वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। (वार्ता)
     

मनोरंजन

  •  आलिया और रणवीर ने करण की तख्त पर शुरू किया काम
    आलिया और रणवीर ने करण की तख्त पर शुरू किया काम

    आलिया भट्ट ने फाइनली करण जौहर की फिल्म तख्त पर काम शुरू कर दिया है। वह हाल ही में करण जौहर के ऑफिस गई थीं। ऐसा कहा जा रहा है कि आलिया भट्ट फिल्म पर चर्चा करने के लिए करण जौहर के ऑफिस गई थीं, इससे यही लग रहा है कि फिल्म जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है। 

    आलिया भट्ट ने सोशल मीडिया पर एक विडियो शेयर किया, जिसमें एक लाल रंग कप रखा हुआ है और उस पर तख्त लिखा हुआ है। कप के साथ करण जौहर भी नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही धर्मा प्रॉडक्शन्स के ऑफिस में आलिया भट्ट के साथ रणवीर सिंह भी थे। करण जौहर की इस पीरियड ड्रामा में आलिया भट्ट और रणवीर सिंह के अलावा अनिल कपूर, करीना कपूर, भूमि पेडनेकर, विक्की कौशल और जाह्नवी कपूर महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। ऐसा कहा जा रहा कि फिल्म की शूटिंग जनवरी, 2020 में शुरू होगी और साल के आखिरी में फिल्म रिलीज होगी। 
    कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक विडियो सामने आया जिसमें ऑफिस के अंदर एक बोर्ड दिखाई दे रहै है, जिस पर पूरी लीड स्टार कास्ट नजर आ रही है। डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की फिल्म इंशाअल्लाह को लेकर सामने आए कई संशय के बाद आलिया भट्ट ने फिल्म तख्त पर काम शुरू कर दिया है। 

सेहत/फिटनेस

  • पौष्टिक गुणों से भरपूर दलिया खाने के 11 फायदे
    पौष्टिक गुणों से भरपूर दलिया खाने के 11 फायदे

    गेहूं को रिफाइंड करके तैयार किए जाने वाले खाद्य पदार्थों में दलिया भी शामिल है, दलिया खाने में स्वादिष्ट होने के साथ स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर दलिया अपने आप में संपूर्ण आहार है। आहार-विशेषज्ञ ओट्स को सुपरफूड की श्रेणी में रखते हैं और नियमित दलिया खाने की सलाह देते हैं। इसे 5 से 70 साल तक, हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होने के कारण यह आसानी से पच जाता है। एक स्वस्थ व्यक्ति दिन में एक कटोरी दलिया खा सकता है। बेहतर होगा कि नमकीन दलिया बनाते समय एक मुट्ठी मूंग धुली दाल और एक कटोरी पसंदीदा मिक्स सब्जियां डालकर पकाएं। इससे प्रोटीन और विटामिन प्रचुर मात्रा में मिलेंगे। नमकीन दलिया के साथ दही का सेवन ज्यादा फायदेमंद है। मीठे दलिया में दूध, ड्राई फ्रूट्स और पसंदीदा फल मिलाकर खाने से इसकी पौष्टिकता बढ़ जाती है।

    • दलिया में मौजूद फाइबर, कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट और मैग्नीशियम से डायबिटीज टाइप-2 के मरीजों में ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है। ये तत्व ऐसे एंजाइम बनाते हैं, जिनकी वजह से भोजन धीरे-धीरे पचता है। इससे ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। यह रक्त में ग्लूकोज को कम मात्रा में रिलीज करता है और इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित रखता है।
    • फैट फ्री या लो कैलरी वाला दलिया ऊर्जा का अच्छा स्रोत है। दलिया में मौजूद प्रोटीन और विटामिन पूरे दिन आपको ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करते हैं। इसलिए आहार विशेषज्ञ नाश्ते में एक कटोरी दलिया के सेवन को सेहत के लिहाज से फायदेमंद मानते हैं।
    • प्रतिरोधक क्षमता सुधारे – दलिया में मौजूद फाइबर आसानी से अवशोषित हो जाता है, जो व्हाइट ब्लड सेल्स को मजबूत बनाता है। इससे प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनती है। दलिया से मिलने वाले मैग्नीशियम, सेलिनियम और जिंक शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। सुपाच्य गुणों के कारण मरीजों को दलिया खाने की सलाह दी जाती है।
    • वजन को रखे नियंत्रित – वसा रहित व कम कैलरी वाला होने के कारण दलिया वजन को नियंत्रित रखता है। गेहूं से बना दलिया फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। नियमित रूप से दलिया का सेवन करने से पेट देर तक भरे होने का एहसास कराता है।
    • दांतों को दे मजबूती- दलिया में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो हमारी हड्डियों और दांतों के स्वास्थ्य के लिए मददगार साबित होते हैं। नियमित रूप से दलिया खाने से शरीर को भरपूर पोषण मिलता है। बढ़ती उम्र में हड्डियों की कमजोरी और जोड़ों में दर्द होने की आशंका बढ़ जाती है, जिसे नियंत्रित रखने के लिए दलिये का सेवन कर सकते हैं।
    • एनीमिया से बचाए- इसमें मौजूद प्रोटीन, आयरन, मैग्नीशियम शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाए रखते हैं। इससे शरीर में खून की कमी यानी एनीमिया की आशंका नहीं रहती।
    • बॉडी बिल्डिंग में सहायक- दूध मिलाकर बनाया गया मीठा दलिया प्रोटीन से भरपूर होता है, जो बॉडी बिल्डिंग के शौकीनों के लिए फायदेमंद होता है। प्रोटीन शरीर के विकास और मसल्स के निर्माण के अलावा शरीर को मजबूती प्रदान करने में मदद करता है।
    • त्वचा को बनाए खूबसूरत- दलिया में मौजूद विटामिन बी मेटाबॉलिज्म को ठीक रखने में मदद करता है। यह त्वचा और बालों को स्वस्थ बनाता है। इसे दूध में मिलाकर त्वचा पर स्क्रब करने से रूखी या बेजान त्वचा में चमक आ जाती है। इसका फेसपैक लगाने से त्वचा मुलायम और खूबसूरत होती है।
    • दलिए में मौजूद एंटी-ऑक्‍सीडेंट तत्व शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करते हैं, जिससे शरीर के सभी कार्य सुचारू रूप से चलते हैं और इससे मेटाबॉलिज्म भी तेज होता है, जो वेट लूज के लिए बहुत जरूर है।
    • रोजाना दलिया खाने से कॉर्डियोवैस्कुलर बीमारियां दूर रहती हैं। साथ ही इसमें घुलनशीन और अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल करते हैं। इसके अलावा दलिया धमनियों को ब्लॉक होने से बचाता है और रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाता है।
    • आयरन की मात्रा कम होने से शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर भी कम हो जाता है। मगर रोजाना 1 कटोरी दलिया खाने से शरीर में आयरन की कमी नहीं होती। इसके अलावा दलिया खाने से शरीर का तापमान भी मेंटेन रहता है।
    • कब और कैसे करें दलिया का सेवन?
    • सुबह के समय दलिया खाने से सारा दिन शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है, इसे अलावा शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए नाश्ते में खाया गया दलिया बहुत फायदेमंद साबित होता है। नमकीन दल‍िया को सब्जियों के साथ बनाया जाता है तो कुछ लोग इसे मीठा भी पसंद करते हैं। वैसे चीनी की जगह दल‍िया को स‍िर्फ दूध के साथ भी लिया जा सकता है।
    •  
    •  
    •  

     

     

खेल

  •  टोक्यो ओलिंपिक में दोस्त बनेंगे रोबॉट और तैरते होटलों में रुकेंगे मेहमान
    टोक्यो ओलिंपिक में दोस्त बनेंगे रोबॉट और तैरते होटलों में रुकेंगे मेहमान

    नई दिल्ली, 16 सितंबर। 1964 में जब पहली बार तोक्यो में ओलिंपिक खेलों का आयोजन हुआ था, तब इस शहर ने दुनिया को नए जापान से रू-ब-रू कराया था। जापान ने तब दुनिया को दिखाया था कि वह दूसरे वर्ल्ड वार की बर्बादी से उबर चुका है और तेज रफ्तार से आगे बढ़ रहा है।

    अब करीब आधी सदी के बाद ओलिंपिक खेल दोबारा तोक्यो लौट रहे हैं। ओलिंपिक खेलों के स्वागत में पूरे जोश के साथ जुट चुका तोक्यो एक बार फिर जापान की शानदार इमेज प्रस्तुत करेगा। तोक्यो का दावा है कि ये खेल अब तक इतिहास में सर्वाधिक प्रगतिशील साबित होंगे। आगे की स्लाइड्स में देखें ओलिंपिक 2020 में क्या-क्या खास तैयारियां कर रहा है तोक्यो।
    इस बार ओलिंपिक खेलों के लिए रोबोट को मैस्कॉट्स (शुभंकर) चुना गया है। मिराइतोवा और सोमेइटी (रोबोट के नाम) को क्रमश: तोक्यो 2020 ओलिंपिक और पैरालिंपिक के लिए मैस्कॉट होंगे। ये मेस्कॉट यहां आए ऐथलीट्स और अतिथियों का स्वागत करेंगे।
    जापान ने ओलिंपिक के लिए रोबॉट्स को लेकर और भी खास इंतजाम किए हैं। ओलिंपिक खेलों की कुछ प्रतिस्पर्धाओं में ये रोबॉट्स ही सहायक की भूमिका निभाएंगे। हैमर और जैवलिन थ्रो जैसे खेलों में ये रोबॉट्स ही हैमर और जैवलिन को वापस लाते दिखेंगे। वर्चुअल वर्ल्ड में दुनिया भर से लोगों को इन खेलों के करीब लाने की जिम्मेदारी भी रोबॉट्स को सौंपी गई है।
    1964 ओलिंपिक खेलों के लिए जापान ने जिस स्टेडियम का इस्तेमाल किया था। अब वहां पर नया नैशनल स्टेडियम बनाया जा रहा है। इस स्टेडियम को 1.25 डॉलर (करीब 90 अरब रुपये) की लागत से तैयार किया जा रहा है। इस स्टेडियम में ओलिंपिक खेलों की ओपनिंग-क्लोजिंग सेरिमनी के अलावा कई खेलों का आयोजन होगा।
    ओलिंपिक खेलों के इतिहास में यह पहली बार होगा, जब इन खेलों के लिए पृथ्वी की कक्षा में एक खास सैटेलाइट स्थापित किया जाएगा। इस सैटलाइट को इंटरनैशनल स्पेस स्टेशन तक रॉकेट द्वारा पहुंचाकर लॉन्च किया जाएगा।
    इन खेलों में 206 देशों के 11 हजार से ज्यादा ऐथलीट्स हिस्सा लेने पहुंचेंगे। इस दौरान यहां 339 स्वर्ण पदक दांव पर होंगे। यह ओलिंपिक खेलों में अब तक के सबसे ज्यादा मेडल हैं, जो किसी एक ओलिंपिक खेल में दांव पर होंगे।
    ओलिंपिक इतिहास में यह पहली बार है, जब इन खेलों के लिए रिसाइकल्ड मेटल्स का इस्तेमाल किया गया है। मोबाइल रिसाइकल्ड के जरिए तोक्यो ओलिंपिक के सभी मेडल तैयार किए गए हैं। इस मुहिम में पुराने गैजेट्स से 32 किलो सोना, 3,500 किलो चांदी और 2,200 किलो तांबा निकाला गया।
    ओलिंपिक खेलों से जुड़ी एक रिपोर्ट के मुताबिक इन खेलों के दौरान प्रतिदिन 14 हजार होटल के कमरों की कमी होगी। तोक्यो ने इससे निपटने के भी शानदार इंतजाम कर लिए हैं। इस कमी को पूरा करने के लिए जापान अपने जहाजों को इस्तेमाल में लाएगा। बड़े-बड़े क्रूज में होटल तैयार किए जा रहे हैं, जो तोक्यो की खाड़ी में तैनात किए जाएंगे।
    शुरुआत में जब इन खेलों के आयोजन की तैयारियां शुरू हो रही थीं तब इन खेलों की लागत 6.6 बिलियन डॉलर (करीब पौने 5 खरब रुपये) का अनुमान जताया गया था, लेकिन अब यह आंकड़ा बढक़र 20-30 बिलियन डॉलर (14-21 खरब रुपये) तक पहुंच चुका है। (नवभारत टाईम्स)

     

कारोबार

  • रोलबोल टॉक्स की कॉफी डेट से जुड़े युवा
    रोलबोल टॉक्स की कॉफी डेट से जुड़े युवा

    रोलबोल टॉक्स की कॉफी डेट से जुड़े युवा

    रायपुर, 16 सितंबर। रोलबोल (रेस्ट ऑफ लाइफ-बेस्ट ऑफ लाइफ) टॉक्स की कॉफी डेट में शहर के युवा एक साथ मिलकर शेयर की अपनी कहानी। इस टॉक शो का उद्देश्य समाज की विभिन्न प्रतिभाओं को जोडक़र समाज के उत्थान के लिए एवं स्वयं को बेहतर रूप में निखारने का है।

    शो में रोलबोल के फाउंडर दर्शन सांखला, गगन बरडिया, वीरेन नागवंशी, मास्टरशेफ फेम विजय शर्मा, हर्षित पुरोहित, अशफाक अहमद, जसबीर अहलूवालिया, अलीशा गरनायक, प्रिया चौहान, देव कुरूप, ऋषभ पारख, अंकित अग्रवाल, प्रदीप माहेश्वरी, प्रवीण जैन, समर्थ लहरी राहुल गुप्ता अन्य शामिल रहे।

फोटो गैलरी


विडियो गैलरी