छत्तीसगढ़

  • राज्य महिला आयोग ने की 17 मामलों की  सुनवाई
    राज्य महिला आयोग ने की 17 मामलों की सुनवाई

    राज्य महिला आयोग ने की 17 मामलों की  सुनवाई

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    जगदलपुर, 27 फरवरी।
    कलेक्ट्रेट सभागार में राज्य महिला आयोग की एक दिवसीय सुनवाई संपन्न हो गई। इस अवसर पर राज्य महिला आयोग की सदस्य खिलेश्वरी किरण ने विभिन्न प्रकरणों में सुनवाई कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। 

    पूर्व निर्धारित कार्यक्रम लगभग 1 घंटे के विलंब से 12 बजे प्रारंभ हुआ। इस दौरान आयोग में शिकायत दर्ज कराने वाले बड़ी संख्या  में उपस्थित थे। समय-समय पर महिला आयोग इस प्रकार की जनसुनवाई का आयोजन करके प्रकरणों को तेजी से निपटाने का प्रयास करता है। महिलाओं  के संवैधानिक और सामाजिक अधिकारों की रक्षा के लिए प्रत्येक राज्य में राज्य महिला आयोग का गठन किया गया है। अपने खिलाफ  हुए किसी भी उत्पीडऩ के लिए महिला अपनी शिकायत डाक द्वारा ऑनलाइन और ईमेल से आयोग को भेज सकती हैं। महिला आयोग अपने कार्य क्षेत्र में आने वाले समस्त मामलों में संज्ञान लेकर महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य करता है। 

अंतरराष्ट्रीय

  • ईरान के उपस्वास्थ्य मंत्री को भी हुआ कोरोना, अब तक 15 की मौत
    ईरान के उपस्वास्थ्य मंत्री को भी हुआ कोरोना, अब तक 15 की मौत

    तेहरान, 26 फरवरी । कोरोना की चपेट में अब ईरान के उप स्वास्थ्य मंत्री भी आ गए हैं। उन्हें कोरोना संक्रमित पाया गया है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्री के मीडिया सलाहकार अलीरजा वहाबजादेह ने एक ट्वीट में कहा, उप स्वास्थ्य मंत्री इराज हरीची की कोरोना वायरस जांच पॉजिटिव पाई गई है। 
    हरीची को अक्सर खांसी रहती थी और सोमवार को सरकारी प्रवक्ता अली रबी के साथ संवाददाता सम्मेलन के दौरान उन्हें पसीना भी आता हुआ दिखाई दिया था। हरीची ने सम्मेलन में एक सांसद के इस दावे को खारिज किया था कि शिया तीर्थ शहर कोम में वायरस से 50 लोग मारे गए है। 
    अब तक कुल 15 लोगों की मौत 
    ईरान ने मंगलवार को तीन और मौतों और संक्रमण के 34 नए मामलों की पुष्टि की जिससे देश में इस वायरस से मरने वालों की संख्या बढक़र 15 और संक्रमित लोगों की संख्या 95 हो गई है। हालांकि वहां की स्थानीय रिपोर्ट में कहा गया है कि स्थिति खतरनाक हो रही है, लेकिन सरकार आंकड़े छिपा रही है। मामला धर्म से जुड़ा है, इसलिए कोम में मस्जिद को बंद नहीं किया जा रहा है, जिससे इसके फैलने का खतरा और बढ़ गया है। 
    मेडिकल सुविधा का भी अभाव 
    ईरान में मेडिकल सुविधा का भी अभाव है। वहां अच्छे अस्पताल और डॉक्टर की कमी है। यहां तक दावा किया जा रहा है कि ईरान के लोगों के लिए पर्याप्त मात्रा में मास्क भी उपलब्ध नहीं हैं। कई नर्स भी इससे संक्रमित बताई जा रही हैं, जिसके कारण उनमें खौफ का माहौल है। पर्याप्त सुरक्षा के अभाव में वह मरीजों की देखभाल करने में आनाकानी कर रही हैं। (नवभारत टाईम्स)
     

राष्ट्रीय

  • दिल्ली हिंसा: मुसलमानों ने जब मंदिर को दंगाइयों से बचाया
    दिल्ली हिंसा: मुसलमानों ने जब मंदिर को दंगाइयों से बचाया

    फैसल मोहम्मद अली
    नई दिल्ली, 27 फरवरी। दिल्ली के उत्तर-पूर्वी हिस्से में जिन इलाक़ों में हिंसा फैली है उनमें से एक है चांदबाग। यहां भी भीड़ आई और तबाही मचाकर चली गई। घर, गाडिय़ां, मंदिर-मस्जिद इस कहर से लोग और इमारतें कुछ नहीं बचा पाया। लेकिन, इस तनाव में भी इस इलाके के लोग भाईचारे के साथ मजबूती से खड़े हुए हैं। लोगों ने यहां डटकर उपद्रवियों का सामना किया और भाईचारे की मिसाल कायम की।
    चांदबाग में जब एक मंदिर पर हमला हुआ तो उस इलाक़े में रहने वाले मुसलमानों ने एकजुट होकर मंदिर को बचाया।
    चांदबाग में रहने वाले मोहन सिंह तोमर ने बताया कि किस तरह हिंसा वाले दिन वहां रहने वाले मुसलमानों ने मंदिर को तोडऩे से बचाया था। मोहन सिंह तोमर कहते हैं, यहां पर 17 प्रतिशत मुस्लिम हैं और 30 प्रतिशत हिंदू और सभी बड़े प्यार से रहते आए हैं। हमें कोई तकलीफ नहीं है। हमारे मुसलमान भाईयों ने मंदिर की ख़ुद रक्षा की है। वहां आकर खड़े हो गए ताकि कोई आकर दंगा ना फैला दे।
    राजेंद्र कुमार मिश्रा चांदबाग में 40 सालों से रह रहे हैं और बताते हैं कि वहां कभी ऐसा नहीं हुआ।
    राजेंद्र मिश्रा ने कहा, हमारे इस इलाक़े में तीन मंदिर हैं। मुझे यहां रहते हुए 40 साल हो चुके हैं। हमारी कॉलोनी में आज जैसा हुआ है ऐसा मैंने कभी नहीं देखा। दंगा फसाद बाहर के लोगों ने किया है जिसे हम लोग भुगत रहे हैं। हम लोगों में इतना भाईचारा है कि होली में सब मिलकर काम करते थे। आज भी जो त्योहार आता है चाहे ईद हो या राखी, उसमें सब मिलकर काम करते हैं।
    चांदबाग का उसमें कोई आदमी नहीं था। हमारी गली में भी करीब 50-60 आदमी आए थे जिसमें चांदबाग का कोई बच्चा नजऱ नहीं आया था। मैं बाहर ही खड़ा हुआ था। इसके बाद मेरा झगड़ा हो गया।''
    राजेंद्र मिश्रा ने भी बताया कि किस तरह पुलिया से लौटते वक़्त वहां रहने वाले मुसलमानों ने लोगों को बचाया।
    वह कहते हैं, चांदबाग वाली पुलिया तोड़ दी है। वहां पर हम कऱीब 15-20 आदमी गए हुए थे। हममें मुसलमान और हिंदू दोनों थे। वहां से वापसी आने पर रास्ते में एक जैन स्टोर पड़ता है, परचून का। तो ये सही बात है कि इन लोगों ने बहुत ही बचाव किया है। हमारे लोगों पर तो इनकी मेहरबानी है। आज हिंसा हुई है, हम बड़े-बड़े आदमी सामने आएंगे और बच्चों को रोकेंगे, हिंसा नहीं होने देंगे। 
    मोहन सिंह तोमर ने कहा कि जब हमारे भाई साथ हैं तो सब सुरक्षित है। सब लोगों इक_े हैं और ऐसे ही रहेंगे। अभी जिस तरह भीड़ को हटा रहे हैं वैसे ही हटाते रहेंगे।
    उत्तर पूर्वी दिल्ली में बीते कुछ दिनों से हिंसा की घटनाएं हो रही हैं। इलाके में हालात बिगड़े हुए हैं और तनाव पसरा हुआ है। कई इलाकों में हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई हैं। जाफराबाद, भजनपुरा, खजूरी खास इलाकों में झड़पें और पथराव के मामले भी सामने आए।
    तीन दिनों तक जारी हिंसा को लेकर बुधवार को दिल्ली पुलिस ने कहा था कि अब अधिकतर इलाकों में शांति कायम हो गई है।
    दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या अब 32 तक पहुंच चुकी है। इस हिंसा में सैंकड़ों की संख्या में लोग घायल हुए हैं।
    समाचार एजेंसी पीटीआई ने स्वास्थ्य विभाग एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा है कि अब तक हिंसा के कारण मरने वालों की कुल संख्या 32 पहुंच चुकी है। इस हिंसा को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में भी सुनवाई चल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके दिल्ली के लोगों के शांति और भाईचारा कायम करने की अपील की है। (बीबीसी)

     

राजनीति

  • ट्रंप की यात्रा से गरीब, मध्यमवर्गीय भारतीयों के जीवन पर रत्ती भर फर्क नहीं पड़ेगा-शिवसेना
    ट्रंप की यात्रा से गरीब, मध्यमवर्गीय भारतीयों के जीवन पर रत्ती भर फर्क नहीं पड़ेगा-शिवसेना

    मुंबई, 24 फरवरी। डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा को लेकर शिवसेना ने परोक्ष रूप से मोदी सरकार पर हमला बोला। शिवसेना ने सोमवार को सामना में लिखा कि अमेरिकी राष्ट्रपति की करीब 36 घंटे की भारत यात्रा से गरीब और मध्यम वर्गीय भारतीयों के जीवन पर रत्ती भर असर नहीं पड़ेगा।
    शिवसेना ने कहा कि ट्रंप ने भारत के लिए रवाना होने से पहले कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से व्यापार पर बातचीत करने जा रहे हैं जिससे साफ होता है कि उनकी यात्रा का उद्देश्य अमेरिकी व्यापार बढ़ाना है।
    शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय के अनुसार, ट्रंप की यात्रा से भारत में गरीब और मध्यमवर्गीय लोगों के जीवन पर रत्ती भर भी असर नहीं पडऩे वाला। तो उनकी यात्रा के गुणगान और उस पर उत्साहित होने का सवाल ही कहां उठता है। अगर ट्रंप की यात्रा को लेकर कहीं उत्सुकता है तो वह अहमदाबाद में हो सकती है, जहां वह सबसे पहले पहुंच रहे हैं।
    इसमें लिखा गया है कि ट्रंप के दौरे से ज्यादा इस बात की चर्चा हो रही है कि वह जिस सडक़ से गुजरेंगे वहां झुग्गियों को छिपाने के लिए कैसे दीवार बनाई जा रही है। खबर है कि ट्रंप भारत में धार्मिक आजादी पर रोकटोक के मुद्दे पर भी बात कर सकते हैं। ये हमारे आंतरिक विषय हैं। यह देश लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये लोगों से चलता है और उन्हें किसी बाहरी से इस पर मार्गदर्शन की जरूरत नहीं है। 
    सामना के अनुसार इसके बजाय ट्रंप को अहमदाबाद, आगरा और दिल्ली में पर्यटन का आनंद उठाना चाहिए। शिवसेना ने कहा कि जब ट्रंप अपने आगमन के करीब 36 घंटे बाद भारत से रवाना होंगे तो भारत की धरती पर उनकी यात्रा की कोई छाप नहीं रहेगी। (पीटीआई)

     

मनोरंजन

  • छैया-छैया गाने को रीक्रिएट नहीं किया जाना चाहिए-मलाइका
    छैया-छैया गाने को रीक्रिएट नहीं किया जाना चाहिए-मलाइका

    नई दिल्ली, 27 फरवरी । डांसिंग दीवा मलाइका अरोड़ा को साल 1998 में आया गाना छैया-छैया से प्रसिद्धि मिली थी। वहीं अभिनेत्री का मानना है कि आज कल रीमिक्स के ट्रेंड में ए. आर. रहमान के इस कंपोजिशन को फिर से रीक्रिएट नहीं किया जाना चाहिए। छैया-छैया को सुखविंदर सिंह ने और सपना अवस्थी ने अपनी आवाज दी थी, वहीं यह गाना मणिरत्नम की फिल्म दिल से का है। इस गाने के वीडियो में मलाइका अरोड़ा और शाहरुख खान हैं। मलाइका ने हाल ही में नए डांस रियलिटी शो इंडियाज बेस्ट डांसर के एक एपिसोड में इस गाने पर डांस किया था, वहीं उनसे पूछे जाने पर उन्होंने कहा, जब आप यह गाना बजाते हैं तो कुछ नहीं किया जा सकता है, बस खड़े होकर डांस करिए। यह आईकॉनिक गाना है। जब मैं इस गाने को शूट कर रही थी तब गीता फराह की सहायक थीं। वहीं उनसे रीक्रिएशन के बारे में  पूछे जाने पर उन्होंने कहा, आज के दौर में रीक्रिएशन का दौर चल रहा है। ऐसे कुछ गाने हैं, जिन्हें छुआ नहीं जाना चाहिए। ऐसे कुछ पांच या 10 गाने होंगे। छैया-छैया उनमें से ही एक गाना है। उससे छेड़छाड़ मत करो, उसे ऑरिजनल ही रहने दो।(लाइव हिन्दुस्तान)

     

सेहत/फिटनेस

  • जरूरत से ज्यादा स्मार्टफोन का इस्तेमाल ले सकता है आपकी जान
    जरूरत से ज्यादा स्मार्टफोन का इस्तेमाल ले सकता है आपकी जान

    हर दिन स्मार्टफोन का घंटों तक इस्तेमाल करने से आप पर आपकी सोच से भी ज्यादा नकारात्मक असर पड़ रहा है। कनाडा के टोरंटो वेस्टर्न हॉस्पिटल के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया है कि हर दिन स्मार्टफोन और सोशल मीडिया पर ज्यादा वक्त बिताने से मानसिक तनाव बढ़ता है और अपनी जान लेने जैसे नकारात्मक विचार मन में ज्यादा आते हैं। 

    सीएमएजे नाम की पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन की रिपोर्ट द्वारा डॉक्टर, अभिभावक और टीचर्स के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं कि कैसे वे टीनएजर्स को स्मार्टफोन की इस लत से दूर करने में मदद कर सकते हैं। 

    शोधकर्ताओं ने इस लत से छुटकारा पाने के लिए नींद, पढ़ाई, सामाजिक गतिविधियों, रिश्तों और ऑनलाइन गतिविधियों के बीच सही संतुलन बनाने की सलाह दी है।

     

खेल

  • राज्य ओपन युगल बैडमिंटन स्पर्धा, भिलाई विजेता-रायपुर उप विजेता
    राज्य ओपन युगल बैडमिंटन स्पर्धा, भिलाई विजेता-रायपुर उप विजेता

    राज्य ओपन युगल बैडमिंटन स्पर्धा, भिलाई विजेता-रायपुर उप विजेता

    छत्तीसगढ़ संवाददाता

    कुरूद, 27 फरवरी। बैडमिंटन बायस क्लब कुरूद द्वारा राज्य स्तरीय दो दिवसीय ओपन युगल बैडमिंटन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसके विजेता भिलाई एवं उपविजेता रायपुर रहे। 
    अटल बिहारी वाजपेयी स्टेडियम कुरूद में  द्वारा आयोजित स्पर्धा के समापन एवं पुरुस्कार वितरण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुशल सुखरामणी, अध्यक्षता रमेश कुमार केला, विशिष्ट अतिथि रामकिशोर केला, नवल किशोर केला, रविप्रकाश केला, भारत भूषण पंचायन, गिरीश बाजपेयी, योगेंद्र सिन्हा, भरत सोनी थे। जिन्होनें प्रथम पुरूस्कार बंटी बाबू भिलाई एवं द्वितीय अमित जयंत रायपुर एवं तृतीय दीपेश आयुष भिलाई को स्मृति चिन्ह व पदक भेंटकर सम्मानित किया। मैच के प्लेयर आफ द टुर्नामेट आयुष मूर्ति ने प्राप्त किया। इस दौरान 6-7 वर्ष आयु वर्ग के जूनियर खिलाड़ी सिद्धिमा साहू कुरूद, अंशप्रीत धमतरी, रूद्र खण्डेलवाल, शुक सुखवानी धमतरी को जूनियर बैंडमिंटन अवार्ड से सम्मानित कर किया। कुशल सुखरामणी ने आयोजक समिति की अनुकरणीय पहल और विजेता प्रतिभागी को बधाई देते हुये कहा कि सफल और असफल दोनो प्रतिभागी पुन: प्रयास करे और आगे बढ़े। स्पर्धा में जीत हार लगी रहती है जिसमें असफल होने से निराश न हो हमेशा अपने हौसलो को बुलंद करते हुये निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए। रमेश कुमार केला ने कहा कि खेल को खेल भावना से खेलना चाहिए, मन में उमंग और उत्साह के साथ खेलकर खिलाड़ी अपने गांव व राज्य का नाम रोशन किया। राज्य स्तरीय बैंडमिंटन स्पर्धा कराकर खिलाडिय़ो का हौसला बढ़ाया वे काफी सराहनीय हैं। इस प्रतियोगिता में रायपुर, भिलाई, पाटन, अभनपुर, महासमुंद, बलोदा बाजार, गरियाबंद, धमतरीए कुरूद, रूद्री, भखारा आदि क्षेत्रो के प्रतिभागी टीम शामिल हुए। जिसमें प्रतिभा को निखारते हुये भिलाई और रायपुर की टीम ने फायनल मैच खेला और यह मैच काफी रोमांचक रहा जहां लोगो ने खूब आनंदित होकर मैच का भरपूर आनंद उठाये। कार्यक्रम को सफल बनाने में अवनीश तिवारी, होमन साहू, दिनेश केला, हरीश केला, थनेंद्र साहू, विनय अग्रवाल, प्रसन्न नायडु, अभिषेक सिंह, चंदन केला, सचिन बागे, राहुल बागे, अशोक बजाज आदि का सहयोग रहा। कार्यक्रम का संचालन होमन साहू एवं आभार प्रदर्शन प्रसन्न नायडु ने किया।

     

     

कारोबार

  • जुनियर्स ने दी सीनियर्स को विदाई
    जुनियर्स ने दी सीनियर्स को विदाई

    जुनियर्स ने दी सीनियर्स को विदाई

    रायपुर, 27 फरवरी। प्रगति महाविद्यालय में विगत दिनों कम्प्यूटर साइंस एवं पत्रकारिता विभाग के जुनियर्स द्वारा सीनियर्स के लिए विदाई समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. सौम्या नैयर ने किया। 

    इस अवसर पर विद्यार्थियों ने नृत्य-गीत एवं विभिन्न स्पर्धाओं द्वारा सीनियर्स का  भरपूर मनोरंजन किया। मिस्टर-मिस ईवनिंग मोनेश साहू, स्तुती त्रिवेदी रहे। मिस्टर  एंड मिस फेयरवेल बी. अनुज व मोनिका साहू रहे। पत्रकारिता विभाग पुरस्कार बेस्ट पर्सनालिटी-मनीष साहू, बेस्ट स्माईल-शिवानी शर्मा, बेस्ट अटेंडेंस-जेसल चावड़ा, बेस्ट एक्टिव पर्सन-समीक्षा साहू रहे। महाविद्यालय के सभी विभाग के प्रबंधन व प्राध्यापकगण शामिल हुए। कार्यक्रम के अंत में पत्रकारिता विभागाध्यक्ष ने विद्यार्थियों को बधाई दी। 

     

     

     

फोटो गैलरी


विडियो गैलरी