सामान्य ज्ञान

फारसी साम्राज्य
13-Jun-2021 12:45 PM (74)
फारसी साम्राज्य

फारसी साम्राज्य (ईसापूर्व 559-1935) फारस (आज का ईरान और उसके प्रभाव के इलाके) से शासन करने वाले विभिन्न वंशों के साम्राज्य को सम्मिलित रूप से कहा जाता है । फारस के शासकों ने अपना साम्राज्य आधुनिक ईरान के बाहर कई प्रदेशों तक फैला दिया था - इराक, अर्मेनिया, तुर्की, अजऱबैजान, अफग़ानिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, ताजि़किस्तान, पाकिस्तान, मध्यपूर्व, मिस्र आदि । लेकिन ये सभी प्रदेश हमेशा फारस के नियंत्रण में नहीं रहे थे । खुद फारस सातवीं से दसवीं सदी तक अरबों के प्रभुत्व में रहा था।

फारस पर शासन करने वाले विभिन्न वंशों में सबसे महत्वपूर्ण  हखामनी वंश (ईसापूर्व 559 - ईसापूर्व 330 ) है।  सिकंदर के आक्रमण के कारण पूरा साम्राज्य यवनों (ग्रीक, यूनानी) के हाथ चला गया था । सिकंदर के सेनापतियों ने उसके साम्राज्य को आपस में बांट लिया । सेन्यूकस नेक्टर इसमें से सबसे शक्तिशाली शासक बनकर उभरा । जल्द ही पार्थियनों ने यवनों का प्रभुत्व कर दिया । साम्राज्य के उत्तर पूर्व में यवनों का साम्राज्य बना रहा।

इसके बाद अरबों का शासन आया जिसमें पहले दमिश्क और फिर बग़दाद में स्थित खिलाफत ने इस्लामी साम्राज्य का शासन चलाया । दसवीं सदी के मध्य तक स्थानीय शासक स्वायत्त हो गए थे । इसके बाद पूर्व में गज़ऩी और फिर ग़ोर के शासक, उत्तर-पश्चिम में सेल्जुक तुर्क और पश्चिम में मिस्र के शासक स्वतंत्र हो गए थे । यहां पर राज करने वाले अन्य वंश हैं- सफ़वी वंश (सन् 1504 - 1736),अफ्शारी वंश (1736 -1760 ), कज़ार वंश और पहलवी वंश।

शेनफिन
शेनफिन, लोकतंत्र वादी सेना की राजनैतिक शाखा है। 13 जून सन 1906 ईसवी को आयरलैंड में लोकतंत्र वादी सेना की राजनैतिक शाखा शेनफिन की स्थापना हुई। आयरलैंड ब्रिटेन का उपनिवेश था और यह संस्था आयरलैंड के एक वरिष्ठ पत्रकार आर्थर ग्रोफीट ने इस क्षेत्र को ब्रिटेन से स्वतंत्र कराने के लिए बनाई थी। 
आरंभ में इस संस्था ने ब्रिटेन और उसके सरकारी कारिंदों के मुकाबले में नकारात्मक प्रतिरोध किया, अंतत: सन 1921 में निरंतर संघर्ष के बाद इस संस्था को दक्षिणी आयरलैंड को ब्रिटेन से स्वतंत्र कराने में सफलत मिल गयी।  इसके बाद से उत्तरी आयरलैंड के प्रजातंत्रवादियों के सैनिक संघर्ष के साथ ही शेनफिन संस्था उत्तरी और दक्षिणी आयरलैंड के एकीकरण के  लिए राजनैतिक लड़ाई लड़ती रही यहॉ तक कि ब्रिटेन की सरकार और उत्तरी आयरलैंड के ब्रिटेन समर्थक दलों से दो वर्ष की बातचीत के बाद अप्रैल सन 1998 में शेनफिन के नेताओं ने ब्रिटेन के साथ एक  शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए। जिसके आधार पर उत्तरी आयरलैंड ब्रिटेन के अधीन एक स्वयत्त क्षेत्र हो गया। किंतु इसके बावजूद उत्तरी आयरलैंड का मामला हल नहीं हुआ है।

अन्य पोस्ट

Comments