सामान्य ज्ञान

तोक्यो शहर जिसकी आबादी हर दोपहर 25 लाख बढ़ जाती है, खास शहर की 10 बातें
23-Jul-2021 8:09 PM (79)
तोक्यो शहर जिसकी आबादी हर दोपहर 25 लाख बढ़ जाती है, खास शहर की 10 बातें

1. जापान सैकड़ों द्वीपों पर बसा हुआ देश है.तोक्यो होंशू द्वीप पर बसा है. अब ये शहर कई उपनगरीय क्षेत्रों में फैल चुका है. अगर मुख्य शहर में 86 लाख लोग रहते हैं तो इसके उपनगरीय इलाकों को मिलाकर यहां अनुमानित तौर पर 3.7 करोड़ लोग रहते हैं. इस लिहाज से ये दुनिया में सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला शहर भी है. ये करीब 80 किलोमीटर में फैला है. इस लिहाजा से भी ये दुनिया का सबसे बड़ा शहर भी है. 

2. बेशक तोक्यो को दुनिया में एक महानगर कहा जाता है लेकिन ये महानगर एक प्रांत की तरह ज्यादा है. ये 23 विशेष वार्डों में बंटा है. एक वार्ड को एक अळग शहर का ही दर्जा मिला हुआ है. इसकी अपनी एक सरकार है, जो प्रान्त के पश्चिमी भाग और दो बाहरी द्वीप श्रृंखलाओं को मिलाकर 39 नगरपालिकाओं का प्रशासन करती है.

3. ये अकेला ऐसा शहर भी है जिसकी 51 कंपनियां फॉर्च्यून ग्लोबल 500 कंपनियों में आती हैं. ये शहर फ़ुजी टीवी, टोक्यो एमएक्स, टीवी टोक्यो, टीवी असाही, निप्पॉन टेलीविजन, एनएचके और टोक्यो ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम जैसे विभिन्न टेलीविजन नेटवर्कों का घर भी है. ये शहर भी हमेशा चलता रहता है और 24 घंटे जागता रहता है. ग्लोबल इकनॉमिक पावर इंडेक्स में टोक्यो पहले स्थान पर और ग्लोबल सिटीज इंडेक्स में चौथा स्थान पर हैं. कई इंडैक्स में इसे दुनिया के सबसे बेहतरीन शहरों में शुमार किया है. सबसे सुरक्षित शहरों की सूची में ये पहले नंबर पर है.

4. वैसे तोक्यो को दुनिया का 11वां सबसे महंगा शहर भी माना जाता है. एक जमाने में एक छोटा सा गांव था, जहां के लोग मछली पकड़ने का काम करते थे. इसका पुराना नाम ईदो है. जिसका जापानी में मतलब होता है मुहाना. 1868 में जब ये शहर जापान की राजधानी बना तो इसे तोक्यो नाम मिला. हालांकि शुरुआत के मेइजी राजवंश काल में इसे "तोउकेइ" के नाम से भी जाना जाता था. पुराने अंग्रेज़ी दस्तावेज़ो में इसे "टोकेई" भी लिखा गया. हर दोपहर में इसकी आबादी 25 लाख बढ़ जाती है, क्योंकि ये वो समय होता है जबकि बहुत से नौकरीपेशा लोग और विद्यार्थी आसपास से क्षेत्रों से रोजाना यहां पहुंचते हैं. तोक्यो में सबसे ज्यादा चीनी लोग रहते हैं. इसके बाद कोरियाई, फिलिपीनो, अमेरिकी, ब्रितानी, ब्राजीलियाई और फ्रांसीसी लोगों का नंबर आता है. 

5. माना जाता है कि तीन शहर दुनियाभर की अर्थव्यवस्था को संचालित करते हैं. उसमें तोक्यो भी एक है. अन्य दो शहर हैं लंदन और न्यूयॉर्क. तोक्यो दुनिया की सबसे बड़ी महानगरीय अर्थव्यवस्था भी है. ये विश्व का प्रमुख वित्तीय केंद्र भी है. यहां पर दुनिया के सबसे बड़े निवेश बैंक और बीमा कंपनियों के मुख्यालय हैं. ये जापान के परिवहन, प्रकाशन और प्रसारण उद्योगों का भी प्रमुख केन्द्र है. 

6. हालांकि अब तोक्यो दुनिया के सबसे मंहगे शहरों में तो शुमार होता ही है बल्कि यहां की जीवन स्तर भी बहुत मंहगा है.लिहाजा लोग अब तोक्यो से बाहर रहना चाहते हैं. इकॉनमिस्ट इंटेलिजेन्स यूनिट ने तोक्यो को सबसे महंगा नगर माना. तोक्यो शेयर बाज़ार, जापान का सबसे बड़ा शेयर बाज़ार है.

7. तोक्यो परिवहन के साधनों के मामले में जबरदस्त सुविधा वाला शहर है. यहां दो हवाई अड्डे हैं. तोक्यो का हवाईअड्डा घरेलू विमान सेवा के नाम है तो चीबा का नरिता इंटरनेशनल एय़रपोर्ट है. इसे जापान आने वाले यात्रियों के लिए देश का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है. ट्रेन और मेट्रो ट्रेनों का यहां बड़ा और सुविधाजनक संजाल है. साथ बसें, मोनोरेल और ट्राम लगातार चलती रहती हैं. वैसे तोक्यो के द्वीपों के बीच नौकाओं की सेवा मिलती है. 

8. पढाई लिखाई के मामले में भी ये शहर बहुत समृद्ध है. यहां कई विश्वविद्यालय और कॉलेज हैं. 1964 के ओलंपिक खेल यहां हो चुके हैं और अबकी बार हो रहे हैं तो यहां पर खेलों का भी एक बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर है.

9. तोक्यो शहर में जापान के राजा का शाही महल भी है. हालांकि जनता का यहां पर केवल एक ही दिन होता है और वो दिन होता सम्राट का जन्मदिन. इस महल में जापानी परंपराओं को देखा जा सकता है. महल में बहुत से सुरक्षा भवन और दरवाजें हैं. इसमें कई गार्डन भी हैं.

10. जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं कि ये तोक्यो का टावर है. इसे 1958 में बनाया गया. 333 मीटर ऊंचा ये टावर एफिल टावर से भी 13 मीटर ऊंचा है. यहां पर दो वेधशालाएं हैं जहां से पूरा तोक्यो शहर नजर आता है. साफ मौसम में यहां से माउंट फ़्यूजी भी दिखता है. वैसे तोक्यों में घूमने के लिए बहुत सी जगहें हैं. इसमें बाजार से लेकर मंदिर, म्युजियम, पुल, आर्ट गैलरी शामिल है. कुल मिलाकर ये शहर आधुनिकता और परंपराओं का बेजोड़ उदाहरण है. अत्याधुनिक महानगर होते हुए भी इसने अपनी परंपराओं को छोड़ा नहीं है. यहां उन्नति दिखेगी तो संस्कृति भी.  (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments