सामान्य ज्ञान

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान
21-Oct-2021 10:17 AM (26)
तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान  , जिसे कभी-कभी सिफऱ् टी-टी-पी  या पाकिस्तानी तालिबान भी कहते हैं, पाकिस्तान-अफग़़ानिस्तान सीमा के पास स्थित संघ-शासित जनजातीय क्षेत्र से उभरने वाले चरमपंथी उग्रवादी गुटों का एक संगठन है। यह अफग़़ानिस्तान की तालिबान से अलग है हालांकि उनकी विचारधाराओं से काफ़ी हद तक सहमत है। इनका ध्येय पाकिस्तान में शरिया पर आधारित एक कट्टरपंथी इस्लामी अमीरात को क़ायम करना है। इसकी स्थापना दिसंबर 2007 को हुई जब बेयतुल्लाह महसूद के नेतृत्व में 13 गुटों ने एक तहरीक (अभियान) में शामिल होने का निर्णय लिया। जनवरी 2013 में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने घोषणा की कि वे भारत में भी शरिया-आधारित अमीरात चाहते हैं और वहां से लोकतंत्र और धर्म-निरपेक्षता ख़त्म करने के लिए लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वे कश्मीर में सक्रिय होने के प्रयास कर रहे हैं।

 तालिब का अर्थ  छात्र (या धार्मिक शिक्षा मांगने वाला) और तहरीक का अर्थ अभियान या मुहिम होता है। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का मतलब पाकिस्तानी छात्र अभियान है।

अन्य पोस्ट

Comments