खेल

...तो श्रेयस अय्यर का टीम से कट जाता पत्ता, जानिए कैसे सूर्यकुमार यादव बने थे संकटमोचक
27-Nov-2021 1:44 PM (84)
...तो श्रेयस अय्यर का टीम से कट जाता पत्ता, जानिए कैसे सूर्यकुमार यादव बने थे संकटमोचक

 

नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में सीरीज का पहला टेस्ट खेला जा रहा है. इस टेस्ट के दूसरे दिन डेब्यू कर रहे भारतीय बल्लेबाज श्रेयस अय्यर ने शतक जड़ा. वो डेब्यू पर टेस्ट शतक जड़ने वाले 16वें भारतीय बने. श्रेयस ने 171 गेंद में 105 रन बनाए. उनकी बल्लेबाजी के बदौलत भारत ने पहली पारी में 345 रन का स्कोर खड़ा किया. सूर्यकुमार यादव को भी इस टेस्ट के लिए चोटिल केएल राहुल की जगह स्क्वॉड में शामिल किया गया था. हालांकि, उन्हें टेस्ट डेब्यू का मौका नहीं मिला. लेकिन वो अपने खास दोस्त श्रेयस की मैच के दौरान हौसला अफजाई करते नजर आए.

सूर्यकुमार मैदान पर श्रेयस के लिए ड्रिंक्स लेकर गए. जब मुंबई के इस बल्लेबाज ने टेस्ट डेब्यू पर शतक ठोका, तो उन्होंने जमकर तालियां बजाईं. दोनों के बीच की दोस्ती ने फैंस का दिल जीत लिया.

कानपुर टेस्ट के दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद सूर्य़कुमार ने बीसीसीआई टीवी के लिए श्रेयस अय्यर का मजेदार इंटरव्यू लिया. इसमें अय्यर ने खुलासा किया कैसे सूर्यकुमार ने रणजी ट्रॉफी में मुंबई के लिए अपने शुरुआती दिनों में उनका समर्थन किया था. बीसीसीआई ने इस वीडियो के साथ कैप्शन दिया- “उन्होंने श्रेयस को गले लगाया, उन्होंने ताली बजाई, वह सबसे खुश थे, जब उनके साथी ने डेब्यू पर शतक बनाया. @Surya_14kumar के साथ @ ShreyasIyer15 का यह इंटरव्यू दिल को छू लेने वाला है.”

कानपुर स्टेडियम से है श्रेयस का है खास कनेक्शन

इस इंटरव्यू में श्रेयस ने सूर्यकुमार के साथ अपने रिश्ते और कानपुर स्टेडियम के अपने कनेक्शन को लेकर खुलकर बात की. उन्होंने बताया, “यह स्टेडियम मेरे लिए बहुत भाग्यशाली रहा है और मेरा पहला रणजी सीजन सूर्यकुमार यादव की कप्तानी में था. पहली चार पारियों के बाद मेरा साथ देने के लिए मैं उनका शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. मैंने सोचा था कि मैं टीम से बाहर हो जाऊंगा. लेकिन उन्होंने मेरा साथ दिया.

इसी इंटरव्यू में श्रेयस ने एक पुराने मैच का जिक्र किया, जो कानपुर में खेला गया था, जिसमें मुंबई ने 20 या 30 रन पर 5 विकेट गंवा दिए थे और इस मैच में श्रेयस ने पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ 150 रन की साझेदारी की थी और टीम को अच्छी स्थिति में पहुंचाया था. ऐसे में इस मैदान को श्रेयस ने अपने लिए खास बताया. उन्होंने आगे कहा कि हाँ, यह भाग्यशाली रहा है, आईपीएल में भी मैंने यहां 93 रन बनाए. इसलिए, यह मेरे लिए अब तक के सबसे भाग्यशाली मैदानों में से एक है.

डेब्यू पर शतक जड़ना सबसे खास एहसास: श्रेयस
अपने टेस्ट डेब्यू को लेकर श्रेयस ने कहा, “टेस्ट क्रिकेट खेलना मेरा हमेशा से सपना रहा है. लेकिन मेरे लिए चीजें अलग तरह से हुईं. मैंने टी20, वनडे और अब टेस्ट खेला. लेकिन ठीक है. मैं वास्तव में खुश महसूस कर रहा हूं और पदार्पण पर शतक बना रहा हूं. इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता. यह दुनिया का सबसे अच्छा अहसास है.” (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments