ताजा खबर

नगालैंड फायरिंग: पीड़ित परिवारों से मिलेगी कांग्रेस, टीएमसी ने अमित शाह से मुलाकात के लिए मांगा समय
08-Dec-2021 8:06 AM (61)
नगालैंड फायरिंग: पीड़ित परिवारों से मिलेगी कांग्रेस, टीएमसी ने अमित शाह से मुलाकात के लिए मांगा समय

नई दिल्‍ली. तृणमूल कांग्रेस ने नगालैंड फायरिंग मामले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बुधवार को संसद में मिलना तय किया है. वहीं कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल शनिवार को नगालैंड का दौरा करेगा. कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने बताया कि कांग्रेस अध्‍यक्ष ने नगालैंड दौरे के लिए चार सदस्‍यीय दल का गठन किया है. यह दल मोन जिले में सशस्‍त्र बलों के अभियान में मारे गए नागरिकों के परिजनों से मिलने के लिए जाएगा. इस दल में वरिष्‍ठ नेता जितेंद्र सिंह, अजय कुमार और एंटो एंटनी शामिल होंगे.

इस मामले में तृणमूल कांग्रेस ने तय किया है कि वह बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर उन्‍हें एक ज्ञापन सौंपेगी. इस ज्ञापन में पीड़ितों के परिवारों को मुआवजे की देने की मांग की गई है. टीएमसी ने केंद्र से सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम पर अपना रुख स्पष्ट करने को भी कहा है. इससे पहले दिन में, नेफ्यू रियो की अध्यक्षता में नगालैंड कैबिनेट ने विवादास्पद अधिनियम को निरस्त करने की मांग करने का फैसला किया, जो सशस्त्र बलों को दंड से मुक्ति के साथ काम करने की अनुमति देता है.

पहली घटना जिसमें छह नागरिक मारे गए थे, तब हुई जब सेना के जवानों ने शनिवार शाम को एक पिकअप वैन में घर लौट रहे कोयला खदान कर्मियों को प्रतिबंधित संगठन एनएससीएन (के) के युंग आंग गुट से संबंधित विद्रोही समझ लिया.जब मजदूर अपने घरों तक नहीं पहुंच पाए तो स्थानीय ग्रामीण उनकी तलाश में निकल पड़े और सेना के वाहनों को घेर लिया. आगामी हाथापाई में, एक सैनिक की मौत हो गई और सेना के वाहनों में आग लगा दी गई.

सैनिकों ने कहा कि उन्होंने आत्मरक्षा में गोलीबारी की जिसमें सात अन्य नागरिकों की मौत हो गई.पुलिस ने कहा था कि दंगा रविवार दोपहर तक फैल गया जब गुस्साई भीड़ ने क्षेत्र में कोन्याक यूनियन और असम राइफल्स कैंप के कार्यालयों में तोड़फोड़ की, शिविर के कुछ हिस्सों में आग लगा दी. कम से कम एक और व्यक्ति की मौत हो गई, क्योंकि सुरक्षा बलों ने हमलावरों पर गोलीबारी की. नगालैंड पुलिस ने सेना के 21वें पैरा स्पेशल फोर्स के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए प्राथमिकी दर्ज की है.

सेना ने नगालैंड की घटना में मेजर जनरल रैंक के एक अधिकारी की अध्यक्षता में कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया है. नगालैंड गोलीबारी की घटना पर खेद व्यक्त करते हुए शाह ने सोमवार को कहा कि एक एसआईटी द्वारा जांच एक महीने के भीतर पूरी कर ली जाएगी और कहा कि सभी एजेंसियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विद्रोहियों के खिलाफ कार्रवाई करते समय ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो. (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments