सामान्य ज्ञान

हिंदुओं के गरुड़ देवता क्यों हैं मुस्लिम देश इंडोनेशिया का राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह
20-Jan-2022 6:06 PM
हिंदुओं के गरुड़ देवता क्यों हैं मुस्लिम देश इंडोनेशिया का राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह

हाल ही में इंडोनेशिया की राजधानी को अत्याधिक भीड़ वाले जकार्ता से स्थानांतरित करने का फैसला किया गया है. नई राजधानी को बोर्नेयो द्वीप के पूर्व कालमंतान में बसाया जाएगा जिसका नाम नुसंतारा होगा. इस देश में हिंदू इतिहास बहुत ज्यादा लंबा रहा है. नुसंतारा का भी हिंदू इतिहास से गहरा नाता है. इस शहर के नाम के कारण एक बार फिर इंडोनेशिया का इतिहास जोड़ कर रखा जा रहा है. इतना ही नहीं इस वजह से यहां का प्रतीक चिन्ह भी चर्चा में है जो भारतीय पौराणिक पात्र गरुड़ के रूप में है. 

इंडोनेशिया प्रतीक चिन्ह गरुड़ पंचशिला है जिसका मुख्य भाग गरुड़ है और उसकी छाती पर हेरलडीक ढाल के साथ पैरों में एक स्क्रॉल है. ढाल के पांच प्रतीक पंचसिल का प्रतिनिधित्व करते हैं जो इंडोनेशिया की राष्ट्रीय विचार धारा के पांच सिद्धांत हैं. इसके नीचे गरुड़ के पंजे एक स्क्रॉल पकड़े हैं जिसमें “भिन्नेका तुंगगल इका” लिखा है जिसका अर्थ विविधता में एकता के रूप में लिया जाता है.

गरुड़ पंचशिला को इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति सुकर्णों की देखरेख में पोंटियानक से सुल्तान हामिद द्वितीय ने डिजाइन किया था. इसके इंडोनेशिया में 11 फरवरी 1950 को राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में अपनाया गया था. इस प्रतीक चिन्ह के लिए एक महीने पहली है कमेटी ऑफ स्टेट सील बनाई गई थी जिसमें सुल्तान हामिद 2 के संयोजन में बनी थी जो उस समय बिना विभाग के मंत्री थे. इस कमेटी का काम अमेरिका के द्वारा प्रस्तावित राष्टीय चिन्हों का चयन करना था. 

इंडोनेशिया के इतिहास में हिंदू संस्कृति का गहरा और बहुत लंबा काल रहा है. हिंदू धर्म में गरुड़ भगवान विष्णु के वाहन के रूप में पूज्यनीय माना जाता है. गरुड़ इंडोनेशिया के द्वीप समूहों, खासतौर पर जावा और बाली की परंपराओं और कथाओं में विशेष तौर पर पाया जाता है. बहुत सी कथाओं में गरुड़ ज्ञान, शक्ति, साहस, वफादारी और अनुशासन के प्रतीक के रूप में दर्शाया गया है. 

गरुड़ हिंदू ही नहीं बहुत सी पौराणिक कथाओं का हिस्सा है. विशेष तौर पर पौराणिक सुनहरी चील गरुड़ हिंदू के अतिरिक्त बौद्ध धर्म से भी जुड़ा है. गरुड़ के पंख है, चोंच और पैर सुनहरी चील के हैं जबकि इसके हाथ और तन इंसान की तरह दिखाई देते हैं. गरुड़ केवल इंडोनेशिया ही नहीं बल्कि दक्षिण और दक्षिणपूर्व एशियाई देशों के राष्ट्रीय चिन्हों में दिखाई देता है. बताया जाता है कि गरुड़ मध्यकाल तक इडोनेशिया के द्वीप समूह में फैले हिंदू साम्राज्य से संबंधित माना जाता है. 

इंडोनेशिया के राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह में जो गरुड़ है, वह कई तरीके से इंडोनेशिया को खास तरह से प्रदर्शित करता है. इस प्रतीक में गरुड़ की भुजाएं खास तौर से ऐसे डिजाइन की हैं जिससे इंडोनेशिया की आजादी की तारीख 17 अगस्त 1945 की झलक दिखाई देती है. प्रतीक के डैना में जो पंख लगे हैं उनकी संख्या 17 है जो 17 तारीख दर्शाती है उसकी पूंछ के पंखों की संख्या 8 है जो अगस्त महीना दर्शाती है. वहीं गर्दन में पंखों की कुल संख्या 45 हैं जो साल 1945 दर्शाता है.  (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news