राष्ट्रीय

बंगाल में मतुआ मतदाताओं का विश्वास हासिल करना तृणमूल की सबसे बड़ी चुनौती
14-Jun-2024 5:25 PM
बंगाल में मतुआ मतदाताओं का विश्वास हासिल करना तृणमूल की सबसे बड़ी चुनौती

कोलकाता, 14 जून । पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव में चौंकाने वाली जीत के बाद सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के लिए 2026 के विधानसभा चुनाव में राज्य में मतुआ मतदाताओं का विश्वास फिर से हासिल करना एक बड़ी चुनौती होगी। राज्य में 42 लोकसभा सीटों में से 29 पर जीत हासिल करने के बावजूद, मतुआ समुदाय के प्रभाव वाली दो सीटें -- नादिया जिले में राणाघाट और उत्तर 24 परगना जिले में बनगांव, तृणमूल कांग्रेस के लिए 2026 के विधानसभा चुनाव में बड़ी चुनौती बन सकती हैं। पिछड़ा वर्ग का मतुआ समुदाय विभाजन के बाद और 1971 के युद्ध के दौरान पड़ोसी बांग्लादेश से शरणार्थी के रूप में पश्चिम बंगाल आया था।

हाल के चुनावी नतीजों से यह स्पष्ट है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद से मतुआ मतदाताओं का भाजपा में विश्वास बढ़ना शुरू हुआ, जो पिछले चुनाव में भी कम नहीं हुआ है। राणाघाट से भाजपा के वर्तमान लोकसभा सदस्य जगन्नाथ सरकार न केवल इस बार 1,86,899 मतों के अंतर से फिर से जीते, बल्कि अपना वोट शेयर भी 50.78 पर बनाए रखा। बनगांव में भाजपा के मौजूदा लोकसभा सदस्य और केंद्रीय मंत्री शांतनु ठाकुर 73,693 वोटों के अंतर से फिर से चुने गए। वोटिंग प्रतिशत के मामले में ठाकुर का प्रदर्शन 48.19 रहा, जबकि तृणमूल कांग्रेस के उनके प्रतिद्वंद्वी विश्वजीत दास को 43.25 प्रतिशत वोट मिले।

इन दोनों लोकसभा क्षेत्रों में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस दोनों का पूरा प्रचार अभियान लगभग पूरी तरह से नागरिकता सीएए पर केंद्रित रहा। अब राणाघाट और बनगांव के नतीजों से यह स्पष्ट है कि मतुआ मतदाताओं के बीच भाजपा को पसंद करने वालों की संख्या ममता बनर्जी के समर्थकों से कहीं अधिक है। इसको लेकर राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना ​​है कि 2026 के विधानसभा चुनाव की पृष्ठभूमि में मतुआ मतदाताओं का विश्वास फिर से हासिल करना सत्तारूढ़ पार्टी के लिए एक बड़ी चुनौती होगी। तृणमूल कांग्रेस ने पहले ही इसको लेकर कमर कस ली है। बागदा विधानसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए इसी को ध्यान में रख कर तैयारी की जा रही है। बागदा उपचुनाव के लिए पार्टी ने मधुपर्णा ठाकुर को मैदान में उतारा है, जो मतुआ महासंघ के संस्थापक परिवार से हैं। यह मटुआओं का सबसे बड़ा संघ है। शांतनु ठाकुर की चचेरी बहन मधुपर्णा वर्तमान में तृणमूल कांग्रेस की राज्यसभा सदस्य और बनगांव से पूर्व लोकसभा सदस्य ममता बाला ठाकुर की बेटी हैं। --(आईएएनएस)

अन्य पोस्ट

Comments

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news