सेहत / फिटनेस

सेहत से लेकर सौंदर्य तक पुदीना है फायदेमंद

Posted Date : 13-Apr-2019



पुदीने का उपयोग विभिन्न बीमारियों के लिए एक हर्बल उपचार के रूप में किया जाता है। पुदीना गुणों की खान होने के साथ ही सुगंध से भी भरपूर होता है। इसमें बहुत ताजा स्वाद होता है जो आपके दिमाग को तुरंत ताजा कर सकता है। यह एक बेहतरीन विकल्प होगा जो आपको अनावश्यक दवाओं के सेवन को कम करने में मदद करेगा। इसके फायदों पर एक नजर-

पेट के लिए है अमृत
कई अध्ययन बताते हैं कि पुदीने का सेवन पाचन क्रिया को सुधारने में काफी मदद करता है। यह आपको सभी तरह की पेट की बीमारियों से लडऩे में भी मदद करेगा। कब्ज, पेट में दर्द और गैस की समस्या में भी पुदीना फायदा देता है। आप अपने आहार में ताजे पेपरमिंट के पत्तों को शामिल कर सकते हैं या इसके लाभों का लाभ उठाने के लिए आप पुदीने की चाय का सेवन भी कर सकते हैं।
सिर दर्द और माइग्रेन से मिलता है छुटकारा
पुदीने के सेवन से सिर दर्द और माइग्रेन में भी राहत मिलती है। आप राहत के लिए अपने माथे पर पुदीने के तेल की मालिश कर सकते हैं। सिरदर्द का इलाज करने के लिए आप पुदीने की चाय का भी सेवन कर सकते हैं।
चिंता और तनाव
पुदीना आपको तनाव और चिंता को कम करने में भी मदद करता है। मेन्थॉल की उपस्थिति एक मांसपेशी रिलैक्सेंट के रूप में कार्य करती है। मेन्थॉल मुख्य रूप से सिरदर्द के इलाज में मदद करता है।

मुंह की बदबू होती है गायब
पुदीना मुंह को एक ताजा एहसास देता है। यह आपको बुरी सांसों से लडऩे में मदद करेगा। मेन्थॉल एक ताजा वातावरण बनाने में मदद करता है। मुंह के अधिकांश फ्रेशनर में पुदीना होता है। इसमें जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं जो किसी भी तरह के बैक्टीरिया के कारण दुर्गंध के विकास को भी रोकते हैं।

दांत बनते हैं स्वस्थ

पुदीना दांत की समस्याओं को हल करने में भी मदद करता है। यह आपके मौखिक स्वास्थ्य के लिए वास्तव में अच्छा है।

पुदीने से सौंदर्य निखार

सेहत ही नहीं, सौंदर्य निखार के लिए पुदीना कारगर है। तभी तो पुदीने का इस्तेमाल कई सारे ब्यूटी प्रॉडक्ट्स में भी होने लगा है।?यह त्वचा की कोशिकाओं को नई ऊर्जा देता है। साथ ही त्वचा की नमी को खोने नहीं देता। एंटिसेप्टिक होने के कारण इसका प्रयोग बॉडी क्लींजर, साबुन और बॉडी वॉश के रूप में होने लगा है।

कोट कोट

गर्मी में लू से बचने के लिए भी पुदीना फायदेमंद रहता है। इसके रस को पीकर बाहर निकलने से धूप लगने का डर भी कम हो जाता है।

डॉ. एसके मिश्रा, आयुर्वेदाचा




Related Post

Comments