विशेष रिपोर्ट

मोदी के भाई प्रहलाद ने कहा ‘हम जात क्यों छिपाएंगे...’
मोदी के भाई प्रहलाद ने कहा ‘हम जात क्यों छिपाएंगे...’
Date : 17-Apr-2019

पीएम को जात बताने की जरूरत क्यों पड़ी, वे ही बता सकते हैं
रायपुर, 17 अप्रैल (छत्तीसगढ़)।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खुद को चोर बताने के जवाब में जाति कार्ड खेलने पर प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। मोदी ने भाटापारा की सभा में यह कहा कि यहां के साहू गुजरात के मोदी हैं। उनकी इस टिप्पणी को साहू वोटरों को साधने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। इस पूरे मामले में प्रधानमंत्री के छोटे भाई प्रहलाद मोदी ने कहा कि नरेन्द्र मोदी को अपनी जाति बताने की जरूरत क्यों पड़ी,  यह वे ही बता सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम अपनी जात क्यों छिपाएंगे?

प्रधानमंत्री के छोटे भाई प्रहलाद मोदी पिछले चार दिनों से छत्तीसगढ़ के दौरे पर थे। वे बिलासपुर-कोटा, भाटापारा, महासमुंद और अभनपुर में साहू समाज के पदाधिकारियों से रूबरू हुए। प्रहलाद मोदी के इस दौरे से राजनीतिक क्षेत्रों में हलचल मची हुई है। प्रदेश की लोकसभा की सीटों पर प्रचार जोरों पर है और ऐसे में प्रहलाद मोदी की सक्रियता को प्रदेश के सबसे ज्यादा साहू वोटरों को साधने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। 

प्रहलाद मोदी ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि वे समाज के लोगों से मेल-मुलाकात के लिए आते हैं। उनका सिर्फ सामाजिक कार्यक्रम होता है। वे सक्रिय राजनीति में नहीं हंै और उनका किसी दल से कोई लेना-देना नहीं है। प्रधानमंत्री के खुद को साहू बताए जाने की जरूरत पर प्रहलाद मोदी ने कहा कि यह सवाल उनसे ही पूछा जाना चाहिए। जहां तक हमारा सवाल है हम मोदी (तेली) समाज के हैं और हमें अपनी जाति छिपाने की जरूरत नहीं है। 

दरअसल, भाटापारा की सभा में चौकीदार चोर है, के कांग्रेस के नारे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि नामदार गालियां दे रहे हैं। सारे मोदी को चोर कहते हैं। यहां बड़ी संख्या में साहू समाज के लोग रहते हैं। गुजरात में होते तो वे मोदी कहलाते।

यह कांग्रेस की भाषा है। 
उनकी इस टिप्पणी से प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। प्रधानमंत्री के खुद को साहू बताए जाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट किया कि गुजरात में चायवाला। यूपी में जाकर गंगा मां का बेटा। छत्तीसगढ़ में आते ही साहू। और अंबानी के यहां जाते ही चौकीदार। साथियों, बहुरुपिए से सावधान रहें! क्योंकि जैसे ही सावधानी हटी, वैसे ही पंचवर्षीय दुर्घटना घटी!! जानकारी और जागरूकता ही बचाव है। जय जोहार जय कर्मा माता!

 

 

Related Post

Comments