सोशल मीडिया

 विजयवर्गीय के पास बंगाल का प्रभार है और उनके बेटे के पास इंदौर को बंगाल बनाने का!
विजयवर्गीय के पास बंगाल का प्रभार है और उनके बेटे के पास इंदौर को बंगाल बनाने का!
Date : 27-Jun-2019

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश आज सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में हैं और यहां उनका एक वीडियो काफी शेयर किया गया है। मध्य प्रदेश के इंदौर से भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने बुधवार को नगर निगम कर्मचारियों की क्रिकेट के बैट से पिटाई की है और यह इसी घटना का वीडियो है। फेसबुक और ट्विटर पर इस खबर के हवाले से लोगों ने आकाश को खूब जमकर निशाने पर लिया है। पत्रकार कादंबिनी शर्मा का ट्वीट है, ‘सत्ता का अहंकार ऐसा दिखता है... इसमें बाकियों से कोई फर्क नहीं होता।’
आकाश के पिता कैलाश विजयवर्गीय की छवि एक विवादित नेता की रही है और उन्हें ऊटपटांग बयान देने के लिए भी पहचाना जाता है। आज की घटना को लेकर भी उन्होंने अपनी इसी छवि को मजबूत करने वाली प्रतिक्रिया दी है। एक टीवी पत्रकार ने जब उनसे इस बारे में पूछा तो उनका कहना था, ‘तुम्हारी औकात क्या है!’ यही वजह है कि आज सोशल मीडिया पर उनकी भी आलोचना की जा रही है। पश्चिम बंगाल में बीते कुछ समय से हो रही हिंसक घटनाओं से इस मामले को जोड़ते हुए फेसबुक पर आशीष मिश्रा ने चुटकी ली है, ‘कैलाश विजयवर्गीय पश्चिम बंगाल के प्रभारी हैं और आकाश विजयवर्गीय इंदौर को बंगाल बनाने का प्रभार संभाल रहे हैं।’ सोशल मीडिया में इसी घटना को लेकर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :
सतीश आचार्य- हमारे पास एक जोरदार बल्लेबाज है, शिखर धवन के बदले इसे टीम में शामिल किया जाए।
सलिल त्रिपाठी- वे (आकाश विजयवर्गीय) मध्य प्रदेश के भविष्य के मुख्यमंत्री हैं। और अपने बैट से करतब दिखा रहे हैं। (यह हमारी खुदकिस्मती है कि उन्हें क्रिकेट के विश्वकप में यह करतब दिखाने के लिए नहीं चुना गया।)

कप्तान- जिस तरह बल्ले का इस्तेमाल आपके (कैलाश विजयवर्गीय) सुपुत्र ने इंदौर की सडक़ों पर किया है उसे देखकर लगता है कि उसे इस वक़्त इंग्लैंड में होना चाहिए था। भारतीय टीम में चौथे नंबर के बल्लेबाज के स्थान पर।
उमाशंकर सिंह- कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को खतरनाक ‘बल्लेबाजी’ के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है। जमानत पर बाहर आने के बाद वे भी एन्जॉय करेंगे।
चौकीदार नीरव मोदी- कुछ महान शख्सियतों के प्रसिद्ध नारे :
महात्मा गांधी : करो या मरो
भगत सिंह : इंकलाब जिंदाबाद
लालबहादुर शास्त्री : जय जवान, जय किसान
सुभाष चंद्र बोस : तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।
कैलाश विजयवर्गीय : तेरी क्या औकात है!

Related Post

Comments