सेहत / फिटनेस

एचआईवी इन्फेक्शन के कारण बढ़ जाता है हार्ट फेलियर और स्ट्रोक का खतरा
एचआईवी इन्फेक्शन के कारण बढ़ जाता है हार्ट फेलियर और स्ट्रोक का खतरा
Date : 06-Jul-2019

जयपुर। एचआईवी जिसका नाम सुन कर भी लोग काँप जाते हैं । एचआईवी एक प्रकार का वायरस होता है जो की हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को खत्म करता है । इस वायरस के कारण हो रहे इन्फेक्शन के बढ़ जाने पर यह एड्स का रूप ले लेता है । एचआईवी एक संक्रामक रोग है जो की कुछ क्रियाओं के कारण ही फैलता है । यह एस संक्रामक रोग है जो की छूने से , साथ खाना खाने से नही फैलता ।इस इन्फेक्शन के कारण हमारा शरीर इतना ज्यादा कमजोर हो जाता है की हमको बाकी और बीमारियाँ भी बहुत तेज़ी से घेर लेती है । इस बीमारी पर हुए शोध पर शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है की जिन लोगों को यह इन्फेक्शन है उनको अपनी सेहत का ध्यान और भी ज्यादा रखने की आवश्यकता आई । क्योंकि यह इन्फेक्शन हार्ट फैलियर और स्ट्रोक का खतरा बढ़ा देता है ।

इस इन्फेक्शन के कारण हमारा शरीर इतना ज्यादा कमजोर हो जाता है की हमको बाकी और बीमारियाँ भी बहुत तेज़ी से घेर लेती है । इस बीमारी पर हुए शोध पर शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है की जिन लोगों को यह इन्फेक्शन है उनको अपनी सेहत का ध्यान और भी ज्यादा रखने की आवश्यकता आई । क्योंकि यह इन्फेक्शन हार्ट फैलियर और स्ट्रोक का खतरा बढ़ा देता है ।
अमेरिका के इमोरी यूनिवर्सिटी के प्रफेसर और इस स्टडी के लीड ऑथर अल्वारो अलॉन्सो ने कहा, ‘हमारी स्टडी के नतीजे इस बात का समर्थन करते हैं कि वैसे लोग जो HIV इंफेक्शन से पीड़ित हैं उन्हें स्मोकिंग से दूर रहना चाहिए और हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखना चाहिए ताकि दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम किया जा सके।
शोध की मानें तो नॉन-इंफेक्टेड लोगों की तुलना में एचआईवी से पीड़ित मरीजों में हार्ट फेलियर का खतरा 3.2 गुना अधिक और स्ट्रोक का खतरा 2.7 गुना अधिक था। साथ ही शोध में यह बात भी सामने आई है की इस इन्फेक्शन का खतरा 50 साल की उम्र से कम लोगों में ही ज्यादा पाया गया ।

 

 

 

Related Post

Comments