कारोबार

एनएच एमएमआई नारायणा हॉस्पिटल की कार्डियक सर्जरी, छोटे चीरे से एक ही बार में बदले 2 हार्ट वाल्व
एनएच एमएमआई नारायणा हॉस्पिटल की कार्डियक सर्जरी, छोटे चीरे से एक ही बार में बदले 2 हार्ट वाल्व
Date : 12-Sep-2019

एनएच एमएमआई नारायणा हॉस्पिटल की कार्डियक सर्जरी, छोटे चीरे से एक ही बार में बदले 2 हार्ट वाल्व

रायपुर, 12 सितंबर। एनएच एमएमआई नारायणा सुपरस्पेशालिटी हॉस्पिटल के कार्डियोथोरेसिक एवं वैस्कुलर सर्जन डॉ.नितिन कुमार राजपूत ने बताया कि हाल ही  में आए दो मरीजों का उनकी टीम ने मिनिमली इनवेसिव तकनीक द्वारा एक साथ दो हार्ट वाल्व बदले।

उन्होंने बताया कि इस प्रकार की सर्जरी को छोटे चीरे से करने के 2 तरीके हैं-पहला तरीका जिसमें सीने की हड्डी के सिर्फ नीचले भाग को ही 2 हिस्सों में काटा जाता है और उनके बीच से सर्जरी की जाती है। इस प्रकार की सर्जरी से बना निशान सिर्फ सीने के निचले भाग में होता है जो सामान्यत: दिखाई नहीं देता। दूसरा तरीका सीने की हड्डी को बिलकुल भी नहीं काटा जाता बल्कि सीने के एक ओर मात्र 2.5 इंच का चीरा लगाकर पसलियों के बीच से सर्जरी की जाती है। इस तकनीक से सर्जरी करने पर किसी भी हड्डी को काटने की जरूरत नहीं पड़ती, जिसके कारण सर्जरी के बाद दर्द भी कम होता है।

हॉस्पिटल के फैसिलिटी डायरेक्टर विनीत कुमार सैनी ने बताया कि मिनिमली इनवेसिव तकनीक(छोटे चीरे) से हार्ट सर्जरी करने के लिए विशेष उपकरणों के साथ अनुभव और प्रशिक्षण की जरूरत होती है। हॉस्पिटल की कार्डियक सर्जरी टीम ने 200 से अधिक मिनिमली इनवेसिव हार्ट सर्जरी की हैं, लेकिन यह पहला केस है, जिसमें मिनिमली इनवेसिव तकनीक द्वारा एक साथ दो हार्ट वाल्व बदले गए हैं। 

 

Related Post

Comments