अंतरराष्ट्रीय

इस बच्चे ने नासा में इंटर्नशिप के तीसरे दिन ही खोज निकाली नई दुनिया
इस बच्चे ने नासा में इंटर्नशिप के तीसरे दिन ही खोज निकाली नई दुनिया
Date : 14-Jan-2020

कुछ भी बड़ा करने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होती। उम्र कम हो या ज्यादा आप कभी भी कुछ बेहद हैरतअंगेज और बड़ा कर सकते हैं। इसी का उदाहरण है वोल्फ ककियर। ये एक 17 साल के लडक़ा है जिसने 2019 में अपना हाईस्कूल पूरा किया है। वोल्फ अमेरिका का रहने वाला है। जिस उम्र में बच्चे वीडियो गेम्स आदि में व्यस्त रहते हैं, वोल्फ ने अंतरिक्ष में एक दूसरी दुनिया ही खोज ली। वोल्फ नासा के गोडार्ड स्पेस सेंटर में इंटर्नशिप कर रहा था और इंटर्नशिप के तीसरे दिन ही इस बच्चे ने कमाल कर दिया। आइए जानते हैं वोल्फ की खोज के बारे में।
वोल्फ ककियर ने 2019 में न्यूयॉर्क के स्कारडेल स्कूल से हाईस्कूल पूरा करने के बाद इंटर्नशिप करने के लिए मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में स्थित गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में इंटर्नशिप करनी शुरू की। इंटर्नशिप में वोल्फ का सबजेक्ट था सितारों और ग्रहों से निकलने वाली रोशनी का अध्ययन करना। 
वोल्फ ने गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में नासा ट्रांसजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट की मदद से अपने सबजेक्ट पर काम करना शुरू किया। वोल्फ ने बताया कि वह ग्रहों की रोशनी के साथ-साथ दो ग्रहों वाली दुनिया को खोज रहा था। मुझे यहां इंटर्नशिप करते हुए तीन दिन ही हुए थे कि मुझे ञ्जह्रढ्ढ 1388 सिस्टम से एक सिग्नल मिला। 
वोल्फ ककियर ने बताया कि पहले मुझे लगा कि यह कोई अंतरिक्षीय ग्रहण है। लेकिन उसकी टाइमिंग कुछ गड़बड़ है। जब मैंने जांच की और आंकड़ों को मिलाया तो पता चला कि वह ग्रह है। ञ्जह्रढ्ढ 1388 एक बाइनरी स्टार सिस्टम है। 
टीओआई 1388 पृथ्वी से करीब 1300 प्रकाश वर्ष दूर मौजूद पिक्टर नक्षत्र में है। ञ्जह्रढ्ढ 1388बी ग्रह अपनी पृथ्वी से 6।9 गुना बड़ा है। यह अपने सूर्य से बेहद करीब है। वोल्फ ने बताया कि पहले मुझे यह तारों का एक गुच्छा लगा। इसे प्रमाणित करने में मुझे कुछ देर जांच करनी पड़ी इसके बाद पता चला कि यह बोनाफाइड ग्रह है। 
वोल्फ ने बताया कि उसे अंतरिक्ष के उस हिस्से में 100 से ज्यादा चमकीली चीजें दिखाई पड़ी। वोल्फ ने सभी चमकीली चीजों पर काम किया। तब पता चला कि वहां एक ग्रह भी मौजूद है। टीओआई 1388 हमारे सूर्य से करीब 10 फीसदी ज्यादा बड़ा है। 
टीओआई 1388 बी ग्रह अपने सूर्य टीओआई 1388 का हर 15 दिन में एक चक्कर लगाता है। टीओआई 1388 बी अपने सूर्य के मुकाबले एक तिहाई ज्यादा ठंडा है। यह ग्रह हमारे सौर मंडल के नेपच्यून और शनि ग्रह के बीच के आकार का है। 
वोल्फ ने गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर इस खोज पर लेख भी प्रकाशित किया है। जिसे 6 जनवरी को हुए 235वें अमेरिकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी मीटिंग में प्रदर्शित किया गया। इसके अलावा इसका यह लेख साइंटिफिक जर्नल में भी प्रकाशित किया जाएगा। 
 

 

Related Post

Comments