अंतरराष्ट्रीय

नारायण मूर्ति के दामाद ब्रिटिश वित्त मंत्री
नारायण मूर्ति के दामाद ब्रिटिश वित्त मंत्री
Date : 14-Feb-2020

ब्रिटेन, 14 फरवरी। ब्रिटेन में मंत्रिमंडल में फेरबदल के बीच एक बड़े उलटफेर में पाकिस्तानी मूल के वित्त मंत्री साजिद जाविद ने इस्तीफ़ा दे दिया है और उनकी जगह अब भारतीय मूल के ऋषि सुनक को ब्रिटेन का वित्त मंत्री बना दिया गया है। 39 वर्षीय ऋषि सुनक भारत की जानी-मानी आईटी कंपनी इनफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद हैं।

ब्रिटेन में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की कैबिनेट में अब भारतीय मूल के तीन सांसदों को महत्वपूर्ण विभागों का मंत्री बनाया गया है। दो अन्य मंत्री- प्रीति पटेल और आलोक शर्मा भी बोरिस जॉनसन की कैबिनेट में हैं।

47 वर्षीया प्रीति पटेल को पिछले साल ही बोरिस जॉनसन ने गृह मंत्री बनाया था। बोरिस जॉनसन ने उन्हें भी साजिद जाविद को हटाकर ये जिम्मेदारी सौंपी थी।

वहीं आगरा में जन्मे 51 वर्षीय आलोक शर्मा को नए मंत्रिमंडल में व्यवसाय मामलों का मंत्री (बिजनेस सेक्रेटरी) बनाया गया है। ब्रिटेन में पिछले साल दिसंबर में हुए चुनाव में भारतीय मूल के 15 सांसद निर्वाचित हुए थे।

कौन हैं ऋषि सुनक

ब्रिटेन में जन्मे ऋषि सुनक पिछले साल रिचमंड (यॉक्र्स) सीट से दूसरी बार सांसद चुने गए थे। फिलहाल वो सरकार में जूनियर मंत्री थे। इससे पहले 2018 में उन्हें ब्रिटेन का आवास मंत्री बनाया गया था। उनके पिता डॉक्टर थे और मां फार्मेसी चलाती थीं। उनकी पत्नी अक्षता इन्फोसिस संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी हैं। ऋषि सुनक की दो बेटियां भी हैं।

वित्त मंत्रालय ब्रिटिश सरकार में दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पद माना जाता है। ऋषि सुनक ब्रिटेन में ऐसे महत्वपूर्ण पद पर पहुंचने वाले भारतीय मूल के पहले सांसद हैं।

ऋषि सुनक के माता-पिता उनके दादा-दादी के साथ भारत से ब्रिटेन आ गए थे। फिर 1980 में ऋषि सुनक का जन्म हैम्पशायर में साउथहेम्पटन में हुआ था। उन्होंने निजी स्कूल विंचेस्टर कॉलेज में स्कूली पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने ऑक्सफोर्ड से फिलोस्फी, पॉलिटिक्स और इकॉनॉमिक्स में उच्च शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए किया है।

राजनीति में आने से पहले ऋषि सुनक ने इनवेस्टमेंट बैंक गोल्डमैन सैशे के लिए काम किया और फिर एक निवेश फर्म भी शुरू की थी।

बताया जा रहा है कि साजिद जाविद और प्रधानमंत्री के वरिष्ठ सलाहकार डॉमिनिक कमिंग्स के बीच तनाव चल रहा था और साजिद जाविद ने इसी वजह से इस्तीफा दिया। साजिद जाविद से जुड़े एक सूत्र ने बताया, उन्होंने वित्त मंत्रालय का पद छोड़ दिया। प्रधानमंत्री ने उनसे अपने सभी विशेष सलाहकारों को हटाकर प्रधानमंत्री कार्यालय के खास सलाहकारों को नियुक्त करने के लिए कहा था। साजिद जाविद का कहना था कि कोई भी स्वाभिमानी मंत्री ऐसा नहीं करेगा।

साजिद जाविद के इस्तीफा देने पर लेबर पार्टी से सांसद मैकडॉनल ने कहा, सत्ता में आने के दो महीने बाद ही संकट में आई सरकार के लिए ये एक ऐतिहासिक रिकॉर्ड होगा। डॉमिनिक कमिंग्स ने साफतौर पर वित्त मंत्रालय का पूर्ण नियंत्रण लेनी की लड़ाई जीत ली है। (बीबीसी)

Related Post

Comments