विशेष रिपोर्ट

दीगर राज्यों से ट्रकों-किराए की गाडिय़ों में लौटते मजदूर, पिथौरा में आए 100 से अधिक को सेल्फ आइसोलेशन के निर्देश
दीगर राज्यों से ट्रकों-किराए की गाडिय़ों में लौटते मजदूर, पिथौरा में आए 100 से अधिक को सेल्फ आइसोलेशन के निर्देश
Date : 24-Mar-2020

दीगर राज्यों से ट्रकों-किराए की गाडिय़ों में लौटते मजदूर

पिथौरा में आए 100 से अधिक को सेल्फ आइसोलेशन के निर्देश

रजिंदर खनूजा

पिथौरा, 24 मार्च (छत्तीसगढ़ संवाददाता)। कोरोना वायरस की दहशत से नगर पूरी तरह सुनसान एवं शांत है। वहीं क्षेत्र से अन्य प्रांतों में काम के लिए गए मजदूरों की दबे पांव वापसी ने क्षेत्रवासियों की दहशत और बढ़ा दी है। क्षेत्र के विभिन्न गांवों में अब तक पहुंच चुके 100 से अधिक मजदूरों के बाद आज भी नागपुर से पिथौरा 8  मजदूरों का एक दल पहुंचा। नगर की स्थिति पर लगातार नजर बनाए कुछ पत्रकारों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। वहीं छत्तीसगढ़ संवाददाता को किराए की ऑटो में नागपुर से सरायपाली जाते मजदूर दिखे। ऐसे ही अन्य कई वाहनों में भी मजदूर दीगर राज्यों से आते दिखे।

दिन ब दिन कोरोना पॉजिटिव की बढ़ती संख्या ने क्षेत्रवासियों की चिंता बढ़ा दी है। लॉक डाउन की स्थिति में लोग दिन भर देश भर में कोरोना वायरस प्रभावित लोगों की तेजी से बढ़ती संख्या देख कर बेचैन होने लगे हंै। अधिकांश लोग अपने घरों में कैद है वहीं पुलिस पेट्रोलिंग वाहन भी घूम-घूम कर बगैर काम घूम रहे लोगों को घर भेज रही है, एवं सार्वजनिक स्थल एवं दुकानों में ग्राहकों की सीमित संख्या रखने की हिदायत देती दिख रही है।

लक्षण नहीं, होम आईसोलेट किया गया

दूसरी ओर स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अचानक सर्दी खांसी बुखार के मरीजों की बाढ़ सी आ गयी है। बीएमओ डॉ. तारा अग्रवाल ने बताया कि ओपीडी में भीड़ ना होने पाए इसके लिए कमरे से बाहर ही ओपीडी संचालित की जा रही है। मरीजों को उनकी पारी आते तक दूर दूर खड़े रहने की हिदायत दी गई है।

आज 8 मजदूर नागपुर से आये

आज सुबह से ही फोरलेन बाईपास के पास एक ट्रक से 8  मजदूरों का एक दल उतरा। ये मजदूर अपने ग्राम की ओर बढ़ते उसके पहले ही एक पत्रकार ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना के बाद स्थानीय एस डी ओ पी पुपलेश पात्रे ने बाइपास अपनी मोबाइल वेन भेज पर सभी मजदूरों से पूछताछ कर जांच हेतू स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र भेज गया।

खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. तारा अग्रवाल ने बताया कि इन सभी मजदूरों को लक्षण नहीं मिलने पर उन्हें उन्हीं के घर में सेल्फ आइसोलेट होने के निर्देश दिए गए हैं। डॉ. अग्रवाल के अनुसार अब तक पिथौरा क्षेत्र में उत्तर प्रदेश,जम्मू कश्मीर एवं महाराष्ट्र से कोई 100 से अधिक मजदूर आ चुके हैं जिन्हें सेल्फ आइसोलेट करने के निर्देश दिए गए हैं। सभी के रिकॉर्ड रखे जा रहे हैं। इसके अलावा ग्राम सरपंच,सचिव,आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं सहित ग्राम प्रमुखों को सेल्फ आइसोलेट किये गए लोगों की तबियत पता लगाते रहने निर्देशित किया गया है। सर्दी खांसी एवं बुखार की स्थिति में इसकी जानकारी तत्कार अस्पताल प्रशासन को देने की बात कही गईहै।

सख्ती लगातार जारी रहेगी-एसडीओपी

स्थानीय पुलिस के एसडीओपी पुपलेश पात्रे ने बताया है कि धारा 144 एवं शासन जिला प्रशासन के निर्देशों का पालन सख्ती से करवाया जाएगा। लोगों को यह भी समझाया जा रहा है कि खुद बचो बाकी लोगों को भी बचाओ।

ऑटो रिक्शा में नागपुर से सरायपाली

देश भर में यात्री वाहन एवं रेल बस बन्द होने के कारण अन्य प्रांतों में मजदूरी करने गए मजदूर बुरी तरह फंस गए है। इन मजदूरों को ईंट भट्ठा मालिकों ने तत्काल अपने घरों को जाने निर्देश देते हुए उनसे  भट्ठा खाली करवा दिया गया। खासकर उत्तर प्रदेश एवं महाराष्ट्र में तेजी से फैले कोरोना वायरस से भयभीत बेघर हो चुके मजदूर अब अपनी पूरी मेहनत के पैसों के अलावा भट्ठा मालिक से कर्ज लेकर 300 से 6 00 किलोमीटर दूर अपने घर पहुंचने के लिए ऑटो रिक्शा भाड़े में कर वापस आ रहे हैं। मंगलवार की सुबह नगर के बस स्टैंड में ऐसा ही एक मजदूर परिवार दिखा जिसके 6  सदस्य नागपुर से कोई 400 किलोमीटर दूर सराईपाली जाने के लिए निकले हंै। एक मजदूर ने कहा कि सरकार को अभी भी रास्ते मे फंसे मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था करनी चाहिए।

 

Related Post

Comments