सामान्य ज्ञान

आम चुनावों में अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित सीटों की संख्या
आम चुनावों में अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित सीटों की संख्या
Date : 25-Mar-2020

2009 के आम चुनाव में लोकसभा की कुल 543 सीटों में से 47 सीटें अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित थीं। इनमें से मध्यप्रदेश में 6 सीटें जबकि झारखंड और ओडिशा में 5-5 आरक्षित सीटें थीं।  वहीं छत्तीसगढ़, गुजरात ैर महाराष्ट्र में चार- चार सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित थी। 
वर्ष 2009 के आम चुनाव में अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित सीटों पर जहां तक राजनीतिक दलों के प्रदर्शन की बात है भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने 20 सीटें और भारतीय जनता पार्टी ने 13 सीटों पर जीत दर्ज की थी। बीजू जनता दल ने तीन, सीपीएम ने दो और अनुसूचित जनजाति के दो   निर्दलियों ने जीत हासिल की थी। 
2004 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 15 और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 14 सीटें जीती थीं। वहीं सीपीएम, जेएमएम ने तीन-तीन सीटें जीती थीं। अन्य ने दो सीटें हासिल की थी। 
 2004 के आम चुनाव में अनुसूचित जनजातियों के लिए केवल 41 सीटें आरक्षित थीं। 
 

 

Related Post

Comments