राष्ट्रीय

कोरोनाकाल में विदेशियों के लिए रामलीला  की ऑनलाइन वर्कशॉप चला रहा है गोरखपुर का संस्थान
कोरोनाकाल में विदेशियों के लिए रामलीला की ऑनलाइन वर्कशॉप चला रहा है गोरखपुर का संस्थान
29-Jun-2020 2:04 PM

गोरखपुर, 29 जून । वैश्विक महामारी कोरोना के बीच संकट की ऐसी घड़ी में भी देश के कुछ जागरुक लोग ऑनलाइन संसाधनों के माध्यम से दुनिया को एक-दूसरे के साथ जोड़कर भारतीय संस्कृति और सभ्यता के साथ लुप्त होती सांस्कृतिक विधाओं को जीवंत रखने में जुटे हुए हैं। 

गोरखपुर के वरिष्ठ रंगकर्मी मानवेंद्र त्रिपाठी ने यूपी सरकार की ओर से संचालित होने वाले तुलसी अयोध्या शोध संस्थान की ओर से ऑनलाइन रामलीला वर्कशॉप का आयोजन किया है। इस रामलीला में 25 कलाकारों के माध्यम से अब 9 देशों के 300 से अधिक प्रशिक्षार्थी जुड़कर प्रशिक्षण ले रहे हैं।

संस्थान के निदेशक डॉ. वाईपी सिंह के निर्देशन में गोरखपुर के वरिष्ठ रंगकर्मी मानवेन्द्र के निर्देशन में ऑनलाइन रामलीला ट्रेनिंग वर्कशॉप वेबिनार शुरू किया गया है। संस्थान की ओर से संचालित हो रहे इस आयोजन में भाग लेने वाले प्रशिक्षुओं को ऑनलाइन रामलीला मास्टर आर्टिस्ट ट्रेनिंग सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

संस्थान के डायरेक्टर डॉ. वाईपी सिंह तथा कार्यक्रम संयोजक रंगकर्मी मानवेन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि 21 जून से 12 जुलाई तक हर रविवार को शाम 7.30 से 10.30 बजे तक इस वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है। त्रिपाठी बताते हैं कि इसमें कुछ भी अलग नहीं है। इसमें कलाकारों को मेकअप और कॉस्ट्यूम के साथ राम, सीता, लक्ष्मण, रावण सहित अन्य किरदारों के गेटअप में तैयार किया जाता है। उसके बाद रामलीला का मंचन होता है। अलग-अलग देशों में मौजूद अनुवादक रामलीला के बारे में प्रशिक्षुओं को विस्तार से बताते हैं।

ऑनलाइन रामलीला का प्रशिक्षण सिर्फ विदेशियों के लिए ही है। इसमें गुयाना के 86, मॉरीशस के 70, सूरीनाम के 45, त्रिनिदाद के 42, वेनेजुएला के 25, इजरायल के 18 और श्रीलंका के 14 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं।(abp news)

 

अन्य खबरें

Comments