सामान्य ज्ञान

मिस अमरीका स्पर्धा और अश्वेत महिलाएं
17-Sep-2020 1:55 PM 2
मिस अमरीका स्पर्धा और अश्वेत महिलाएं

वर्ष 2013 में भारतीय मूल की नीना दावुलुरी ने मिस अमेरिका का खिताब जीता है, लेकिन गोरी अमेरिकी युवतियों के मिस अमेरिका बनने की परंपरा तो वर्ष 1983 में ही टूट गई थी।
वेनेसा विलियम्स ने 1983 में मिस अमेरिका प्रतियोगिता जीती थी। यह पहली बार था जब किसी अश्वेत महिला ने अमेरिकी सौंदर्य प्रतियोगिता जीती हो। उस समय हालात कुछ ऐसे बन गए थे कि विलियम्स को जान से मारने की धमकी मिली और नस्लभेदी तल्खियां भी सहनी पड़ीं। यह प्रतियोगिता जीते 10 महीने भी नहीं हुए थे कि उन्हें फोन पर धमकी मिली कि उनकी नग्न तस्वीरें ली गई हैं और छाप दी जाएंगी। विलियम्स का दावा था कि उन्होंने कभी इन तस्वीरों के इस्तेमाल की सहमति नहीं दी। ये तस्वीरें 1982 की थीं जब उन्होंने न्यूयॉर्क के एक फोटोग्राफर के साथ मेकअप सहायक के तौर पर काम शुरू किया था। फोटोग्राफर ने विलियम्स सहित कई महिलाओं के एक नए कंसेप्ट के लिए नग्न फोटो लिए थे।
यह विवाद इतना उछला कि 1985 की ब्यूटी पेजेंट से स्पॉन्सर कंपनियों ने पीछे हटने की धमकी दी। दबाव में आकर 1984 में उन्होंने ये खिताब लौटा दिया। हालांकि उन्हें स्कॉलरशिप के पैसे और ताज रखने की अनुमति मिल।  23 जुलाई 1984 को उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह खिताब लौटाने की घोषणा की। इसके बाद दूसरे नंबर की विजेता को यह खिताब मिला। वह भी अफ्रीकी अमेरिकी सुजेटे चाल्र्स थीं।
 1983 से 2013 के बीच शायद इतना फर्क आ गया है कि जान से मारने की धमकी तो नहीं मिली, लेकिन  नीना दावुलुरी को भी जीत के बाद कई नस्लभेदी ट्वीट्स का सामना करना पड़ा है।
 

नेत्रहीन क्रिकेट
नेत्रहीन क्रिकेट वे ही लोग खेलते हैं जो पूरी तरह से दृष्टिïहीन नहीं होते हैं। यानी उन्हें थोड़ा बहुत दिखाई देता है। पिछले कुछ सालों में नेत्रहीनों में क्रिकेट में दिलचस्पी इतनी बढ़ी है कि आई सी सी ने भी इसके टूर्नामेंट शुरू करवा दिए हैं। 
नेत्रहीन क्रिकेट में गेंद फुटबॉल के बराबर होती है और इसमें घुंघरू लगे होते हैं।  खिलाड़ी उस आवाज का पीछा करता है। इस क्रिकेट के कायदे भी कुछ अलग होते हैं, लेकिन इस खेल में अंपायर उसी को बनाया जाता है, जो सारा खेल पूरी तरह से देख सके। 
 

अन्य पोस्ट

Comments