विचार / लेख

संसद में : मनरेगा के तहत रोजगार में 52.11 प्रतिशत वृद्धि
19-Sep-2020 9:31 AM 6
संसद में : मनरेगा के तहत रोजगार में 52.11 प्रतिशत वृद्धि

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तौमर ने संसद को लॉकडाउन के बाद मनरेगा योजना से संबंधित जानकारी दी

- Madhumita Paul, Dayanidhi

राज्यसभा में एक सवाल पूछा गया कि क्या कोविड-19 महामारी के कारण एमजीएनआरईजीए के तहत उत्पन्न औसत व्यक्ति दिनों के रोजगार में गिरावट आई है? सवाल के जवाब में ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, ने राज्यसभा में कहा कि कमी नहीं वृद्धि हुई है। एमजीएनआरईजीए के तहत अप्रैल से अगस्त 2020 के दौरान कुल रोजगार सृजन में 52.11 फीसदी की नहीं वृद्धि हुई है, जबकि अप्रैल से अगस्त 2019 के दौरान भी इतना ही था।

10,281 किसानों ने की आत्महत्या

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी) के रिपोर्ट एक्सीडेंटल डेथ्स एंड सूइसाइड्स इन इंडिया' (एडीएसआई) 2019 के अनुसार, आत्महत्या करने वाले किसानों / खेत में काम करने वाले मजदूर जिन्होंने आत्महत्या की उनकी संख्या 10,281 थी जो वर्ष 2019 के दौरान कुल आत्महत्या करने वाले लोगों (1,39,123) का 7.4 फीसदी है। राज्य सभा में यह कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया।

बिहार में भारी बारिश के कारण 9 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खड़ी फसलों को हुआ नुकसान

कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्य सभा में कहा कि देश के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के रूप में चरम मौसम की घटनाएं हुई हैं। जिसके कारण खड़ी फसलें सबसे अधिक प्रभावित हुई हैं। बिहार राज्य के अधिकतर क्षेत्र इससे ज्यादातर प्रभावित हुए हैं। जहां 9,22,038.82 हेक्टेयर क्षेत्र में धान, मक्का, फल और सब्जियों का नुकसान हुआ हैं। 

छह वर्षों में जैविक खेती का क्षेत्र दोगुना हो गया (2014-2020)

जैविक खेती के तहत खेती योग्य भूमि क्षेत्र 2014 में 11.83 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 2020 में 29.17 लाख हेक्टेयर हो गया है। यह सरकार केंद्रित प्रयासों के कारण हुआ है। जैविक पहल की सफलता को देखते हुए, 2024 तक 20 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त क्षेत्र में जैविक खेती करने का लक्ष्य रखा गया है। कृषि और किसान कल्याण कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्य सभा में कहा कि जागरूकता कार्यक्रम के तहत पर्याप्त मात्रा में फसल होने के बाद उपलब्धता, विपणन सुविधाएं, जैविक उत्पादों की प्रीमियम कीमत आदि, निश्चित रूप से किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रेरित करेंगे।

टिड्डे के हमले के कारण फसल का नुकसान

गुजरात, छत्तीसगढ़, पंजाब और बिहार की राज्य सरकारों ने बताया है कि उनके राज्यों में किसी भी फसल का नुकसान नहीं हुआ है। हरियाणा सरकार ने चरखी दादरी के 2388 हेक्टेयर क्षेत्र, सिरसा में 489 हेक्टेयर, रेवाड़ी में 390 हेक्टेयर, भिवानी में 1700 हेक्टेयर, रोहतक जिले के महेंद्रगढ़ में 1129 हेक्टेयर, हिसार में 373 हेक्टेयर और 52 हेक्टेयर रोहतक जिले में कुल 33 फीसदी फसल के नुकसान होने के बारे में बताया है।

मध्य प्रदेश सरकार ने दमोह जिले में 4400 हेक्टेयर में सोयाबीन की फसल में 10-15 फीसदी नुकसान की सूचना दी है।

महाराष्ट्र की राज्य सरकार ने क्षेत्र में 33 फीसदी से कम, नागपुर में 236 हेक्टेयर, भंडारा में 160 हेक्टेयर, गोंदिया में 320 हेक्टेयर और अमरावती जिलों में 89.9 हेक्टेयर में फसल के नुकसान की सूचना दी है।

उत्तराखंड राज्य सरकार ने ऊधमसिंह नगर में 251 हेक्टेयर और बागेश्वर में 14 हेक्टेयर और पिथौरागढ़ जिलों में 2 हेक्टेयर में फसल क्षति (33 फीसदी से कम) की सूचना दी है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने जून / जुलाई, 2020 के दौरान टिड्डी हमले के कारण झांसी में 481 हेक्टेयर क्षेत्र और सोनभद्र जिलों में 071 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल क्षति (33 फीसदी से कम) की सूचना दी है, यह सब कृषि और किसान कल्याण कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्य सभा में बतया।

चालू वित्त वर्ष में जॉब कार्डों में 137 फीसदी की वृद्धि हुई है

इस योजना में प्रवासी श्रमिक को जॉब कार्ड धारक / परिवार के रूप में वर्गीकृत जॉब कार्ड धारक के रूप में पंजीकृत करने का कोई प्रावधान नहीं है। प्रवासी श्रमिक / परिवार द्वारा मांग के खिलाफ अधिनियम के प्रावधान के अनुसार एक प्रवासी श्रमिक / परिवार को एक जॉब कार्ड जारी किया जा सकता है। ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्य सभा में कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 की समान अवधि के दौरान जारी किए गए 36,64,368 नए जॉब कार्ड की तुलना में अब तक जारी वित्तीय वर्ष के दौरान कुल 86,81,928 नए जॉब कार्ड जारी किए गए हैं।

टीकाकरण सेवाओं में गिरावट

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने लोकसभा में कहा कि स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (एचएमआईएस) के अनुसार  कोविड-19 महामारी के कारण पिछले साल की तुलना में अप्रैल से 20 जून तक स्वास्थ्य सुविधा और आउटरीच सत्रों में आयोजित टीकाकरण सत्रों में हेपेटाइटिस-बी के जन्म की खुराक में 19.4 फीसदी की गिरावट आई है।(downtoearth)

अन्य पोस्ट

Comments