सामान्य ज्ञान

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग बिल को अपनाने वाला पहला राज्य कौन सा है?
20-Sep-2020 2:01 PM 4
राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग बिल को अपनाने वाला पहला राज्य कौन सा है?

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) बिल 2014 को अपनाने वाला भारत का पहला राज्य है - राजस्थान।  राजस्थान की विधानसभा ने इसे 17 सितंबर 2014 को सर्वसम्मति से पारित किया। राजस्थान विधानसभा ने राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग के बारे में उल्लेख किए गए 121वें संविधान संशोधन विधेयक को भी अपनाया है। 
संसद द्वारा अगस्त 2014 में विधेयक पारित किए जाने के बाद से, एनजेएसी बिल को भारत के संविधान के अनुच्छेद 368 के अनुसार राज्यों को भेजा गया था। अनुच्छेद 368 संसद को संविधान में संशोधन करने की शक्ति प्रदान करता है लेकिन इस संशोधन को राष्ट्रपति के समक्ष मंजूरी के लिए प्रस्तुत करने से पहले कम से कम कुल राज्यों की संख्या के आधे राज्यों की विधायिका द्वारा इसकी स्वीकृति आवश्यक है। यानी कम से कम 15 राज्यों द्वारा इसे अपनाए जाने की जरूरत है। इसके बाद राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद यह अधिनियम का रूप ले लेगा। 
राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग’ विधेयक 2014 में संविधान संशोधन के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों की नियुक्ति की सिफारिश करने के लिए एक आयोग गठित करने का प्रावधान है। इस विधेयक में सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों की चयन प्रक्रिया का प्रावधान करने के साथ ही साथ इन न्यायालयों में न्यायाधीशों के रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू करने की समय-सीमा का भी प्रावधान किया गया है। इस विधेयक में यह प्रावधान भी किया गया है कि आयोग ऐसी सिफारिश नहीं करेगा जिस पर आयोग के किन्हीं दो सदस्यों में सहमति न हो। इसके साथ ही राष्ट्रपति जरूरत पडऩे पर आयोग को उसकी सिफारिश पर पुनर्विचार करने के लिए भी कह सकते हैं।  इसके अतिरिक्त विधेयक में यह प्रावधान भी किया गया है कि आयोग उच्च न्यायालय तथा सर्चोच्च न्यायालय में न्यायाधीशों की नियुक्ति के संबंध में नियुक्ति के मानदंड, न्यायाधीशों के चयन और नियुक्ति की प्रक्रिया तथा शर्तें तय कर सकता है। 
प्रस्तावित ‘राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग’  में कुल छह सदस्य होंगे।  भारत का प्रधान न्यायाधीश ‘राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग’ का अध्यक्ष होगा। सर्वोच्च न्यायालय के दो वरिष्ठ न्यायाधीश इसके सदस्य होंगे और भारत के केंद्रीय कानून मंत्री इसके पदेन सदस्य होंगे।

नचिकेता
नचिकेता एक पुल्लिंग नाम है। भारत में इस नाम के तीन प्रसिद्ध व्यक्ति हुए हैं-
1. महाभारतानुसार प्रभावशाली उद्दालक ऋषि के पुत्र नचिकेता
2. कठोपनिषद के अनुसार अत्यंत धार्मिक वाजश्रवस (नामांतर गौतम) राजा के पुत्र नचिकेता।
3. हिंदी नवगीतों के लिए प्रसिद्ध कवि नचिकेता।
 

अन्य पोस्ट

Comments