ताजा खबर

मानव तस्करी में महिला आयोग अध्यक्ष का राजधानी के पूर्व मंत्री पर आरोप
30-Nov-2020 12:56 PM 119
मानव तस्करी में महिला आयोग अध्यक्ष का राजधानी के पूर्व मंत्री पर आरोप

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 30 नवंबर।
डोंगरगढ़ की एक विवाहित महिला को दिल्ली और हरियाणा में बेचने का मामला तूल पकड़ रहा है। मानव तस्करी से जुड़े इस गोरखधंधे के पीछे शामिल होने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग अध्यक्ष किरणमयी नायक ने संज्ञान लेते हुए पूरे प्रकरण  की पुलिस जांच को लेकर समीक्षा की। बताया गया है कि राजनांदगांव मेयर हेमा देशमुख ने आयोग के अलावा पार्टी हाईकमान को भी इस मामले की गंभीरता से जांच करने के लिए पत्र लिखा था। नतीजतन आयोग ने संज्ञान लेते हुए पूरे मामले के पीछे कथित तस्करों पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस को निर्देश दिया है। 

रविवार को एकाएक आयोग अध्यक्ष श्रीमती नायक ने स्थानीय पुलिस अफसरों के साथ इस प्रकरण से जुड़े तथ्यों को खंगाला। वहीं पुलिस अफसरों पर बिना दबाव काम करने के लिए भी अध्यक्ष ने आवश्यक निर्देश दिए। दौरे के बाद प्रेसवार्ता में श्रीमती नायक ने  राजधानी रायपुर के एक पूर्व मंत्री के लिप्त होने का सनसनीखेज आरोप लगाया। हालांकि उन्होंने जांच के चलते पूर्व मंत्री के नाम का स्पष्ट उल्लेख नहीं किया। 

बताया जाता है कि राजधानी के महिला मंडल के अध्यक्ष के गंगा पांडे को संरक्षण पूर्व मंत्री के द्वारा मिला हुआ है। लिहाजा इस मामले में न सिर्फ भाजपा नेत्री और उसके पति व पूर्व मंत्री के बीच सांठगांठ रही है। अध्यक्ष श्रीमती नायक ने कहा कि आयोग के पास इस प्रकरण से जुड़े महत्वपूर्ण साक्ष्य है, जिसे पुलिस को सौंपा गया है। पुलिस इसके जरिये तस्करों तक पहुंच सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा सरकार के दौरान एक बड़ा रैकेट संचालित होता रहा है। बिना किसी राजनीतिक संरक्षण के इस रैकेट को चलाना संभव नहीं है। यही कारण है कि बार-बार उन्हें यह लग रहा है कि प्रदेश में एक बड़े पैमाने पर तस्करी होती रही है। 

श्रीमती नायक ने कहा कि यह जरूरी है कि महिलाओं को ऐसे मामलों के खिलाफ मजबूती दिखानी होगी। उन्होंने प्रदेश की महिलाओं से अपील करते कहा कि मजबूरी के बजाय मजबूत होकर इस तरह के अपराधों का विरोध करें। बताया जा रहा है कि डोंगरगढ़ से महिला को बेहोशी की हालत में राजधानी रायपुर तक लाया गया। ऑनलाइन हवाई जहाज की टिकट बुक कर दिल्ली ले जाया गया। इसके पश्चात महिला को हरियाणा में दो बार बेचा गया। पीडि़त महिला किसी वहां से लौटी और उसने पुलिस के समक्ष अपनी आपबीती का खुलासा किया। 

आईजी की टीम करेगी जांच
डोंगरगढ़ की महिला को बेचे जाने के मामले में दुर्ग रेंज आईजी विवेकानंद सिन्हा की निगरानी में गठित एक टीम जांच करेगी। आईजी श्री सिन्हा ने प्रकरण में अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी व अन्य पहलुओं पर सूक्ष्म विवेचना हेतु अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जिला दुर्ग (ग्रामीण) श्रीमती प्रज्ञा मेश्राम के नेतृत्व में टीम गठित की है। टीम में नगर पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव एनएस चंद्रा, थाना प्रभारी डोंगरगढ़ अलेक्जेन्डर किरो, बिलकिश चौहान, बीआर बिसेन, एपी शीला, मनीष मानिकपुरी, राजेन्द्र राविक शामिल है, जो प्रकरण में सूक्ष्मता से विवेचना कर साक्ष्य संकलन कर अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी करते नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।

अन्य पोस्ट

Comments