विचार / लेख

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंग्रेजों की कैद से भाग निकलने की कहानी
23-Jan-2021 12:44 PM 57
नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंग्रेजों की कैद से भाग निकलने की कहानी

NETAJI RESEARCH BUREAU

रेहान फजल

1940 में जब हिटलर के बमवर्षक लंदन पर बम गिरा रहे थे, ब्रिटिश सरकार ने अपने सबसे बड़े दुश्मन सुभाष चंद्र बोस को कलकत्ता की प्रेसिडेंसी जेल में कैद कर रखा था।

अंग्रेज सरकार ने बोस को 2 जुलाई, 1940 को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया था। 29 नवंबर, 1940 को सुभाषचंद्र बोस ने जेल में अपनी गिरफ़्तारी के विरोध में भूख हड़ताल शुरू कर दी थी।

एक सप्ताह बाद 5 दिसंबर को गवर्नर जॉन हरबर्ट ने एक एंबुलेंस में बोस को उनके घर भिजवा दिया ताकि अंग्रेज सरकार पर ये आरोप न लगे कि उनकी जेल में बोस की मौत हुई है।

हरबर्ट का इरादा था कि जैसे ही बोस की सेहत में सुधार होगा वो उन्हें फिर से हिरासत में ले लेंगे। बंगाल की सरकार ने न सिर्फ उनके 38/2 एल्गिन रोड के घर के बाहर सादे कपड़ों में पुलिस का कठोर पहरा बैठा दिया था बल्कि ये पता करने के लिए भी अपने कुछ जासूस छोड़ रखे थे कि घर के अंदर क्या हो रहा है?

उनमें से एक जासूस एजेंट 207 ने सरकार को ख़बर दी थी कि सुभाष बोस ने जेल से घर वापस लौटने के बाद जई का दलिया और सब्जियों का सूप पिया था।

उस दिन से ही उनसे मिलने वाले हर शख़्स की गतिविधियों पर नजर रखी जाने लगी थी और बोस के द्वारा भेजे हर खत को डाकघर में ही खोल कर पढ़ा जाने लगा था।

‘आमार एकटा काज कौरते पारबे’

5 दिसंबर की दोपहर को सुभाष ने अपने 20 वर्षीय भतीजे शिशिर के हाथ को कुछ ज़्यादा ही देर तक अपने हाथ में लिया। उस समय सुभाष की दाढ़ी बढ़ी हुई थी और वो अपनी तकिया पर अधलेटे से थे।

सुभाष चंद्र बोस के पौत्र और शिशिर बोस के बेटे सौगत बोस ने मुझे बताया था, ‘सुभाष ने मेरे पिता का हाथ अपने हाथ में लेते हुए उनसे पूछा था ‘आमार एकटा काज कौरते पारबे?’

यानी ‘क्या तुम मेरा एक काम करोगे?’ बिना ये जाने हुए कि काम क्या है शिशिर ने हांमी भर दी थी।

बाद में पता चला कि वो भारत से गुप्त रूप से निकलने में शिशिर की मदद लेना चाहते थे।

योजना बनी की शिशिर अपने चाचा को देर रात अपनी कार में बैठा कर कलकत्ता से दूर एक रेलवे स्टेशन तक ले जाएंगे।

सुभाष और शिशिर ने तय किया कि वो घर के मुख्यद्वार से ही बाहर निकलेंगे। उनके पास दो विकल्प थे। या तो वो अपनी जर्मन वाँडरर कार इस्तेमाल करें या फिर अमेरिकी स्टूडबेकर प्रेसिडेंट का।

अमेरिकी कार बड़ी ज़रूर थी लेकिन उसे आसानी से पहचाना जा सकता था, इसलिए इस यात्रा के लिए वाँडरर कार को चुना गया।

शिशिर कुमार बोस अपनी किताब द ग्रेट एस्केप में लिखते हैं, ‘हमने मध्य कलकत्ता के वैचल मौला डिपार्टमेंट स्टोर में जा कर बोस के भेष बदलने के लिए कुछ ढीली सलवारें और एक फैज टोपी खरीदी। अगले कुछ दिनों में हमने एक सूटकेस, एक अटैची, दो कार्ट्सवूल की कमीजें, टॉयलेट का कुछ सामान, तकिया और कंबल खरीदा। मैं फेल्ट हैट लगाकर एक प्रिटिंग प्रेस गया और वहाँ मैंने सुभाष के लिए विजिटिंग कार्ड छपवाने का ऑर्डर दिया। कार्ड पर लिखा था, मोहम्मद जियाउद्दीन, बीए, एलएलबी, ट्रैवलिंग इंस्पेक्टर, द एम्पायर ऑफ इंडिया अश्योरेंस कंपनी लिमिटेड, स्थायी पता, सिविल लाइंस, जबलपुर।’

माँ को भी सुभाष के जाने की हवा नहीं

यात्रा की एक रात पहले शिशिर ने पाया कि जो सूटकेस वो खरीद कर लाए थे वो वाँडरर कार के बूट में समा ही नहीं पा रहा था। इसलिए तय किया गया कि सुभाष का पुराना सूटकेस ही उनके साथ जाएगा।

उस पर लिखे गए उनके नाम एससीबी को मिटा कर उसके स्थान पर चीनी स्याही से एमजेड लिखा गया।

16 जनवरी को कार की सर्विसिंग कराई गई। अंग्रेजों को धोखा देने के लिए सुभाष के निकल भागने की बात बाकी घर वालों, यहाँ तक कि उनकी माँ से भी से छिपाई गई।

जाने से पहले सुभाष ने अपने परिवार के साथ आखिरी बार भोजन किया। उस समय वो सिल्क का कुर्ता और धोती पहने हुए थे। सुभाष को घर से निकलने में थोड़ी देर हो गई क्योंकि घर के बाकी सदस्य अभी जाग रहे थे।

शयनकक्ष की बत्ती जलती छोड़ी गई

सुभाष बोस पर किताब ‘हिज मेजेस्टीज़ अपोनेंट’ लिखने वाले सौगत बोस ने मुझे बताया, ‘रात एक बज कर 35 मिनट के आसपास सुभाष बोस ने मोहम्मद जियाउद्दीन का भेष धारण किया। उन्होंने सोने के रिम का अपना चश्मा पहना जिसको उन्होंने एक दशक पहले पहनना बंद कर दिया था। शिशिर की लाई गई काबुली चप्पल उन्हें रास नहीं आई। इसलिए उन्होंने लंबी यात्रा के लिए फीतेदार चमड़े के जूते पहने। सुभाष कार की पिछली सीट पर जाकर बैठ गए। शिशिर ने वांडरर कार बीएलए 7169 का इंजन स्टार्ट किया और उसे घर के बाहर ले आए। सुभाष के शयनकक्ष की बत्ती अगले एक घंटे के लिए जलती छोड़ दी गई।’

जब सारा कलकत्ता गहरी नींद में था, चाचा और भतीजे ने लोअर सरकुलर रोड, सियालदाह और हैरिसन रोड होते हुए हुगली नदी पर बना हावड़ा पुल पार किया।

दोनों चंद्रनगर से गुजऱे और भोर होते-होते आसनसोल के बाहरी इलाके में पहुंच गए।

सुबह करीब साढ़े आठ बजे शिशिर ने धनबाद के बरारी में अपने भाई अशोक के घर से कुछ सौ मीटर दूर सुभाष को कार से उतारा।

शिशिर कुमार बोस अपनी किताब ‘द ग्रेट एस्केप’ में लिखते हैं, ‘मैं अशोक को बता ही रहा था कि माजरा क्या है कि कुछ दूर पहले उतारे गए इंश्योरेंस एजेंट जियाउद्दीन (दूसरे भेष में सुभाष) ने घर में प्रवेश किया। वो अशोक को बीमा पॉलिसी के बारे में बता ही रहे थे कि उन्होंने कहा कि ये बातचीत हम शाम को करेंगे। नौकरों को आदेश दिए गए कि जियाउद्दीन के आराम के लिए एक कमरे में व्यवस्था की जाए। उनकी उपस्थिति में अशोक ने मेरा जियाउद्दीन से अंग्रेजी में परिचय कराया, जबकि कुछ मिनटों पहले मैंने ही उन्हें अशोक के घर के पास अपनी कार से उतारा था।’

गोमो से कालका मेल पकड़ी

शाम को बातचीत के बाद जिय़ाउद्दीन ने अपने मेज़बान को बताया कि वो गोमो स्टेशन से कालका मेल पकड़ कर अपनी आगे की यात्रा करेंगे।

कालका मेल गोमो स्टेशन पर देर रात आती थी। गोमो स्टेशन पर नींद भरी आँखों वाले एक कुली ने सुभाषचंद्र बोस का सामान उठाया।

शिशिर बोस अपनी किताब में लिखते हैं, ‘मैंने अपने रंगाकाकाबाबू को कुली के पीछे धीमे-धीमे ओवरब्रिज पर चढ़ते देखा। थोड़ी देर बाद वो चलते-चलते अँधेरे में गायब हो गए। कुछ ही मिनटों में कलकत्ता से चली कालका मेल वहाँ पहुँच गई। मैं तब तक स्टेशन के बाहर ही खड़ा था। दो मिनट बाद ही मुझे कालका मेल के आगे बढ़ते पहियों की आवाज़ सुनाई दी।’

सुभाषचंद्र बोस की ट्रेन पहले दिल्ली पहुंची। फिर वहाँ से उन्होंने पेशावर के लिए फ्ऱंटियर मेल पकड़ी।

पेशावर के ताजमहल होटल में सुभाष को ठहराया गया

19 जनवरी की देर शाम जब फ्रंटियर मेल पेशावर के केंटोनमेंट स्टेशन में घुसी तो मियाँ अकबर शाह बाहर निकलने वाले गेट के पास खड़े थे। उन्होंने एक अच्छे व्यक्तित्व वाले मुस्लिम शख्स को गेट से बाहर निकलते देखा।

वो समझ गए कि वो और कोई नहीं दूसरे भेष में सुभाष चंद्र बोस हैं। अकबर शाह उनके पास गए और उनसे एक इंतजार कर रहे ताँगे में बैठने के लिए कहा।

उन्होंने ताँगे वाले को निर्देश दिया कि वो इन साहब को डीन होटल ले चले। फिर वो एक दूसरे ताँगे में बैठे और सुभाष के ताँगे के पीछे चलने लगे।

मियाँ अकबर शाह अपनी किताब ‘नेताजीज़ ग्रेट एस्केप’ में लिखते हैं, ‘मेरे ताँगेवाले ने मुझसे कहा कि आप इतने मजहबी मुस्लिम शख़्स को विधर्मियों के होटल में क्यों ले जा रहे हैं। आप उनको क्यों नहीं ताजमहल होटल ले चलते जहाँ मेहमानों के नमाज पढऩे के लिए जानमाज़ और वजू के लिए पानी भी उपलब्ध कराया जाता है? मुझे भी लगा कि बोस के लिए ताजमहल होटल ज्यादा सुरक्षित जगह हो सकती है क्योंकि डीन होटल में पुलिस के जासूसों के होने की संभावना हो सकती है।’

वे आगे लिखते हैं, ‘लिहाजा बीच में ही दोनों ताँगों के रास्ते बदले गए। ताजमहल होटल का मैनेजर मोहम्मद जियाउद्दीन से इतना प्रभावित हुआ कि उसने उनके लिए फायर प्लेस वाला एक सुंदर कमरा खुलवाया। अगले दिन मैंने सुभाषचंद्र बोस को अपने एक साथी आबाद खाँ के घर पर शिफ्ट कर दिया। वहाँ पर अगले कुछ दिनों में सुभाष बोस ने जियाउद्दीन का भेष त्याग कर एक बहरे पठान का वेष धारण कर लिया। ये इसलिए भी ज़रूरी था क्योंकि सुभाष स्थानीय पश्तो भाषा बोलना नहीं जानते थे।’

अड्डा शरीफ की मजार पर जिय़ारत

सुभाष के पेशावर पहुँचने से पहले ही अकबर ने तय कर लिया था कि फॉरवर्ड ब्लॉक के दो लोग, मोहम्मद शाह और भगतराम तलवार, बोस को भारत की सीमा पार कराएंगे।

भगत राम का नाम बदल कर रहमत ख़ाँ कर दिया गया। तय हुआ कि वो अपने गूँगे बहरे रिश्तेदार जियाउद्दीन को अड्डा शरीफ की मजार ले जाएँगे जहाँ उनके फिर से बोलने और सुनने की दुआ माँगी जाएगी।

26 जनवरी, 1941 की सुबह मोहम्मद जिय़ाउद्दीन और रहमत खाँ एक कार में रवाना हुए। दोपहर तक उन्होंने तब के ब्रिटिश साम्राज्य की सीमा पार कर ली। वहाँ उन्होंने कार छोड़ उत्तर पश्चिमी सीमाँत के ऊबड़-खाबड़ कबाएली इलाके में पैदल बढऩा शुरू कर दिया।

27-28 जनवरी की आधी रात वो अफग़़ानिस्तान के एक गाँव में पहुँचे।

मियाँ अकबर शाह अपनी किताब में लिखते हैं, 'इन लोगों ने चाय के डिब्बों से भरे एक ट्रक में लिफ़्ट ली और 28 जनवरी की रात जलालाबाद पहुँच गए। अगले दिन उन्होंने जलालाबाद के पास अड्डा शरीफ मजार पर जियारत की। 30 जनवरी को उन्होंने ताँगे से काबुल की तरफ बढऩा शुरू किया। फिर वो एक ट्रक पर बैठ कर बुद खाक के चेक पॉइंट पर पहुँचे। वहाँ से एक अन्य ताँगा कर वो 31 जनवरी, 1941 की सुबह काबुल में दाखिल हुए।’

आनंद बाजार पत्रिका में सुभाष के गायब होने की खबर छपी

इस बीच सुभाष को गोमो छोड़ कर शिशिर 18 जनवरी को कलकत्ता वापस पहुँच गए और अपने पिता के साथ सुभाष चंद्र बोस के राजनीतिक गुरु चितरंजन दास की पोती की शादी में सम्मिलित हुए।

वहाँ जब उनसे लोगों ने सुभाष के स्वास्थ्य के बारे में पूछा तो उन्होंने जवाब दिया कि उनके चाचा गंभीर रूप से बीमार हैं।

सौगत बोस अपनी किताब ‘हिज मेजेस्टीज अपोनेंट’ में लिखते हैं, ‘इस बीच रोज़ सुभाष बोस के एल्गिन रोड वाले घर के उनके कमरे में खाना पहुँचाया जाता रहा। वो खाना उनके भतीजे और भतीजियाँ खाते रहे ताकि लोगों को आभास मिलता रहे कि सुभाष अभी भी अपने कमरे में हैं। सुभाष ने शिशिर से कहा था कि अगर वो चार या पाँच दिनों तक मेरे भाग निकलने की खबर छिपा गए तो फिर उन्हें कोई नहीं पकड़ सकेगा। 27 जनवरी को एक अदालत में सुभाष के खिलाफ एक मुकदमें की सुनवाई होनी थी। तय किया गया कि उसी दिन अदालत को बताया जाएगा कि सुभाष का घर में कहीं पता नहीं है।’

सुभाष के दो भतीजों ने पुलिस को ख़बर दी कि वो घर से गायब हो गए हैं। ये सुनकर सुभाष की माँ प्रभाबती का रोते-रोते बुरा हाल हो गया। उनको संतुष्ट करने के लिए सुभाष के भाई सरत ने अपने बेटे शिशिर को उसी वाँडरर कार में सुभाष की तलाश के लिए कालीघाट मंदिर भेजा।

27 जनवरी को सुभाष के गायब होने की ख़बर सबसे पहले आनंद बाजार पत्रिका और हिंदुस्तान हेरल्ड में छपी। इसके बाद उसे रॉयटर्स ने उठाया। जहाँ से ये खबर पूरी दुनिया में फैल गई।

ये सुनकर ब्रिटिश खुफिया अधिकारी न सिफऱ् आश्चर्यचकित रह गए बल्कि शर्मिंदा भी हुए।

शिशिर कुमार बोस अपनी किताब ‘रिमेंबरिंग माई फादर’ में लिखते हैं, ‘मैंने और मेरे पिता ने इन अफवाहों को बल दिया कि सुभाष ने संन्यास ले लिया है। जब महात्मा गाँधी ने सुभाष के गायब हो जाने के बारे में टेलिग्राम किया तो मेरे पिता ने तीन शब्द का जवाब दिया, ‘सरकमस्टान्सेज इंडीकेट रिनुनसिएशन’ (हालात संन्यास की तरफ इशारा कर रहे हैं।) लेकिन वो रविंद्रनाथ टैगोर से इस बारे में झूठ नहीं बोल पाए। जब टैगोर का तार उनके पास आया तो उन्होंने जवाब दिया, ‘सुभाष जहाँ कहीँ भी हों, उन्हें आपका आशीर्वाद मिलता रहे।’

वायसराय लिनलिथगो आगबबूला हुए

उधर जब वायसराय लिनलिथगो को सुभाष बोस के भाग निकलने की खबर मिली तो वो बंगाल के गवर्नर जॉन हरबर्ट पर बहुत नाराज हुए।

हरबर्ट ने अपनी सफाई में कहा कि अगर सुभाष के भारत से बाहर निकल जाने की खबर सही है तो हो सकता है कि बाद में हमें इसका फायदा मिले। लेकिन लिनलिथगो इस तर्क से प्रभावित नहीं हुए। उन्होंने कहा कि इससे ब्रिटिश सरकार की बदनामी हुई है।

कलकत्ता की स्पेशल ब्राँच के डिप्टी कमिश्नर जे वी बी जानव्रिन का विष्लेषण बिल्कुल सटीक था। उन्होंने लिखा ‘हो सकता है कि सुभाष संन्यासी बन गए हों लेकिन उन्होंने ऐसा धार्मिक कारणों से नहीं बल्कि क्राँति की योजना बनाने के लिए किया है।’

सुभाष चंद्र बोस ने जर्मन दूतावास से किया संपर्क

31 जनवरी को पेशावर पहुँचने के बाद रहमत खाँ और उनके गूँगे-बहरे रिश्तेदार जियाउद्दीन, लाहौरी गेट के पास एक सराय में ठहरे। इस बीच रहमत ख़ाँ ने वहाँ के सोवियत दूतावास से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली।

जब सुभाष ने खुद जर्मन दूतावास से संपर्क करने का फैसला किया। उनसे मिलने के बाद काबुल दूतावास में जर्मन मिनिस्टर हाँस पिल्गेर ने 5 फरवरी को जर्मन विदेश मंत्री को तार भेज कर कहा, ‘सुभाष से मुलाक़ात के बाद मैंने उन्हें सलाह दी है कि वो भारतीय दोस्तों के बीच बाजार में अपने-आप को छिपाए रखें। मैंने उनकी तरफ से रूसी राजदूत से संपर्क किया है।’

बर्लिन और मास्को से उनके वहाँ से निकलने की सहमति आने तक बोस सीमेंस कंपनी के हेर टॉमस के जरिए जर्मन नेतृत्व के संपर्क में रहे।

इस बीच सराय में सुभाष बोस और रहमत ख़ाँ पर ख़तरा मंडरा रहा था। एक अफगान पुलिस वाले को उन पर शक हो गया था।

उन दोनों ने पहले कुछ रुपये देकर और बाद में सुभाष की सोने की घड़ी देकर उससे अपना पिंड छुड़ाया। ये घड़ी सुभाष को उनके पिता ने उपहार में दी थी।

इटालियन राजनयिक के पासपोर्ट में बोस की तस्वीर

कुछ दिनों बाद सीमेंस के हेर टॉमस के जरिए सुभाष बोस के पास संदेश आया कि अगर वो अपनी अफगानिस्तान से निकल पाने की योजना पर अमल करना चाहते हैं तो उन्हें काबुल में इटली के राजदूत पाइत्रो क्वारोनी से मिलना चाहिए।

22 फरवरी, 1941 की रात को बोस ने इटली के राजदूत से मुलाकात की। इस मुलाकात के 16 दिन बाद 10 मार्च, 1941 को इटालियन राजदूत की रूसी पत्नी सुभाषचंद्र बोस के लिए एक संदेश लेकर आईं जिसमें कहा गया था कि सुभाष दूसरे कपड़ो में एक तस्वीर खिचवाएं।

सौगत बोस अपनी किताब ‘हिज मेजेस्टीज अपोनेंट’ में लिखते हैं, ‘सुभाष की उस तस्वीर को एक इटालियन राजनयिक ओरलांडो मजोटा के पासपोर्ट में उनकी तस्वीर की जगह लगा दिया गया।’

17 मार्च की रात सुभाष को एक इटालियन राजनयिक सिनोर क्रेससिनी के घर शिफ्ट कर दिया गया। सुबह तडक़े वो एक जर्मन इंजीनियर वेंगर और दो अन्य लोगों के साथ कार से रवाना हुए। वो अफगानिस्तान की सीमा पार करते हुए पहले समरकंद पहुँचे और फिर ट्रेन से मास्को के लिए रवाना हुए।

वहाँ से सुभाष चंद्र बोस ने जर्मनी की राजधानी बर्लिन का रुख किया।

टैगोर ने सुभाष बोस पर लिखी एक कहानी

सुभाष बोस के सुरक्षित जर्मनी पहुंच जाने के बाद उनके भाई शरतचंद्र बोस बीमार रविंद्रनाथ टैगोर से मिलने शाँतिनिकेतन गए। वहाँ उन्होंने महान कवि से बोस के अंग्रेजी पहरे से बच निकलने की खबर साझा की।

अगस्त 1941 में अपनी मृत्यु से कुछ पहले लिखी शायद अपनी अंतिम कहानी ‘बदनाम’ में टैगोर ने आजादी की तलाश में निकले एक अकेले पथिक की अफगानिस्तान के बीहड़ रास्तों से गुजरने का बहुत मार्मिक चित्रण खींचा। (bbc.com) 

अन्य पोस्ट

Comments