सामान्य ज्ञान

ऊर्जा का नया स्रोत हाइड्रोजन
05-Mar-2021 1:50 PM 42
ऊर्जा का नया स्रोत हाइड्रोजन

हाईड्रोजन-एक रंगहीन, गंधहीन गैस है, जो पर्यावरणीय प्रदूषण से मुक्त भविष्य की ऊर्जा के रूप में देखी जा रही है। वाहनों तथा बिजली उत्पादन क्षेत्र में इसके नये प्रयोग पाये गये हैं। हाईड्रोजन के साथ सबसे बड़ा लाभ यह है कि ज्ञात ईंधनों में प्रति इकाई द्रव्यमान ऊर्जा इस तत्व में सबसे ज्यादा है और यह जलने के बाद उप उत्पाद के रूप में जल का उत्सर्जन करता है। इसलिए यह न केवल ऊर्जा क्षमता से युक्त है बल्कि पर्यावरण के अनुकूल भी है।
 
वास्तव में नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय गत दो दशकों से हाईड्रोजन ऊर्जा के विभिन्न पहलुओं से संबंधित वृहत् अनुसंधान, विकास एवं प्रदर्शन (आरडीएंडडी) कार्यक्रम में सहायता दे रहा है। जिसका कारण वर्ष 2005 में एक राष्ट्रीय हाईड्रोजन नीति तैयार की गई, जिसका उद्देश्य हाईड्रोजन ऊर्जा के उत्पादन, भंडारण, परिवहन, सुरक्षा, वितरण एवं अनुप्रयोगों से संबंधित विकास के नये आयाम उपलब्ध कराना है। हालांकि, हाईड्रोजन के प्रयोग संबंधी मौजूदा प्रौद्योगिकियों के अधिकतम उपयोग और उनका व्यावसायिकरण किया जाना बाकी है, परन्तु इस संबंध में प्रयास शुरू कर दिये गये हैं।
 
 हाईड्रोजन पृथ्वी पर केवल मिश्रित अवस्था में पाया जाता है और इसलिए इसका उत्पादन इसके यौगिकों के अपघटन प्रक्रिया से होता है। यह एक ऐसी विधि है जिसमें ऊर्जा की आवश्यकता होती है। विश्व में 96 प्रतिशत हाईड्रोजन का उत्पादन हाईड्रोकार्बन के प्रयोग से किया जा रहा है। लगभग चार प्रतिशत हाईड्रोजन का उत्पादन जल के विद्युत अपघटन के जरिये होता है। तेल शोधक संयंत्र एवं उर्वरक संयंत्र दो बड़े क्षेत्र है जो भारत में हाईड्रोजन के उत्पादक तथा उपभोक्ता हैं। इसका उत्पादन क्लोरो अल्कली उद्योग में उप उत्पाद के रूप में होता है।

आर्थिक समाचार पत्र, गुलाब कागज में ही क्यों प्रकाशित किए जाते हैं?
आपने देखा होगा कि अर्थ संबंधी जितने भी अखबार निकाले जाते हैं, फिर वह किसी भी देश में हो, ज्यादातर उनका रंग गुलाबी होता है। 
इसकी शुरुआत ब्रिटेन के दैनिक समाचार पत्र, फाइनेंशियल टाइम्स से हुई। इसकी स्थापना जेम्स शैरिडन और उनके भाई ने 1888 में की थी। सन 1893 में इसे गुलाबी रंग के कागज पर छापा जाने लगा , जिससे यह प्रतिद्वंद्वी अखबार फाइनैंशियल न्यूज से अलग दिखाई दे सके, लेकिन इसके पीछे एक कारण यह भी था कि गुलाबी कागज, सफेद कागज से सस्ता पड़ता था। यह तरकीब कामयाब हो गई  और 1945 में ये दोनों अखबार एक हो गए। अब तो यह चलन सा बन गया है। 

 

अन्य पोस्ट

Comments