राजनीति

बंगाल चुनावी संग्राम- 5 : शिल्पांचल के चुनाव मैदान में युवा प्रत्याशियों के हौसले बुलंद
11-Apr-2021 1:09 PM (35)
बंगाल चुनावी संग्राम- 5 :   शिल्पांचल के चुनाव मैदान में युवा प्रत्याशियों के हौसले बुलंद

आयशी घोष (लोगों का अभिवादन करतीं जामुडिय़ा से माकपा प्रार्थी सह जेएनयूएसयू अध्यक्ष आयशी घोष)

जामुडिय़ा सीट से माकपा प्रत्याशी आयशी घोष को ग्रामीण महिलाओं से काफी उम्मीदें

  स्टारडम के बदौलत आसनसोल दक्षिण सीट में जमकर प्रचार कर रही तृणमूल प्रार्थी सायनी घोष  

पश्चिम बर्धमान की नौ सीटों में एक सीट बाराबनी में भाजपा ने भी खड़ा किया भाजयुमो नेता अरिजीत को  


बिकास के शर्मा
आसनसोल, 11 अप्रैल (‘छत्तीसगढ़’)।
राजनीति की दुनियां में युवाओं का क्रेज बढ़ा है। इसी वजह से पश्चिम बर्धमान जिले की नौ में से चार सीटों पर युवाओं बुलंद हौसले युवाओं में ही मिलती है यही कारण है कि अपनी बुलंद हौसले को लेकर कई युवा चेहरे चुनाव के मैदान में कूदे हैं। युवा चेहरों को चुनाव लडऩे का मौका देने में तृणमूल कांग्रेस और सीपीआईएम सबसे आगे है। सीपीआईएम ने लगभग क्षेत्रों में युवा चेहरों को ही उतारा है। दूसरे स्थान पर तृणमूल कांग्रेस है और तीसरे स्थान पर भाजपा है। केवल पश्चिम बर्दवान की नौ विधानसभा क्षेत्रों की अगर बात करें तो यहां की जामुडिय़ा और पांडवेश्वर से माकपा ने युवा चेहरे को उतारा है। तृणमूल कांग्रेस की बात करें तो इसने भी आसनसोल दक्षिण से युवा चेहरा सायनी घोष को चुनाव लडऩे का मौका दिया है। इनके अलावा इन नौ विधानसभा से कई निर्दलीय युवा चेहरे भी अपने से उम्र में बड़े धुरंधर चेहरों को मात देने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

जेएनयू कैंपस में हमले के बाद सुर्खियों में आयी आयशी घोष
जामुडिय़ा से सीपीआईएम की 26 वर्षीय प्रत्याशी आयशी घोष जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्र संघ की अध्यक्ष भी हैं जो पश्चिम बंगाल की ही रहने वाली हैं। छात्र संघ की राजनीति में परचम लहराने के बाद अब आयशी राजनीति के असल मैदान में अपनी किस्मत आजमाने के लिए मैदान में उतरीं हैं। वर्ष 2020 में जब जेएनयू में हमलावर घुसे थे तो उस समय आयशी घोष की फोटो खूब वायरल हुई थी और उन्हें चोट भी आयी थी। उस समय अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने आकर आयशी का समर्थन किया था। तब से आयशी सुर्खियों में आयीं। जामुडिय़ा सीट से वर्ष 2016 में सीपीआईएम के ही जहांआरा खान जीते थे। इस बार आयशी तृणमूल कांग्रेस के 67 वर्षीय हरेराम सिंह को मुकाबला देने के लिए मैदान में उतरीं हैं।

सायनी घोष (आसनसोल दक्षिण क्षेत्र में बच्चों से मिलतीं तृणमूल प्रार्थी सह अभिनेत्री सायनी घोष)

टॉलीवूड अभिनेत्री सायनी सोशल मीडिया पर वायरल
परदे की दुनियां से सीधे राजनीति में कदम रखने वाली 28 वर्षीय सायनी घोष को तृणमूल कांग्रेस ने आसनसोल दक्षिण से प्रत्याशी बनाकर मैदान में उतारा है। हीरेंद्र लीला पत्रानविश स्कूल जादवपुर से 10+2 पास सायनी ने कम समय में ही परदे की दुनियां में खूब सुर्खियां बटोरी। जीटीवी पर आने वाले एपिसोड दीदी नंबर वन से सायनी घोष सुर्खियों में आयीं। इसके बाद उनकी सुर्खियों को देखते हुए तृणमूल कांग्रेस ने आसनसोल दक्षिण से इन्हें प्रत्याशी बनाया है। अपने चुनावी इलाके में सायनी बुलंद हौसेले के साथ पसीना भी बहा रहीं हैं। यहां भाजपा की प्रत्याशी प्रख्यात फैशन डिजाइनर 48 वर्षीय अग्निमित्रा पाल को चुनावी मैदान में पस्त करने के लिए पूरा दमखम लगा रहीं है। हालांकि यह सीट पहले तृणमूल के ही तापस राय जीता करते थे। लेकिन इस बार तृणमूल कांग्रेस ने तापस राय का सीट चेंज कर दिया है उन्हें रानीगंज भेज दिया गया है।

अपने से 22 वर्ष बड़े को देंगे टक्कर अरिजीत
भाजपा ने बाराबनी में भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के युवा चेहरे 29 वर्षीय अरिजीत राय को चुनाव मैदान में उतारा है। अपने काम व पार्टी में अच्छी पकड़ रखने के बदौलत अरिजीत राय को दोबारा युवा मोर्चा का जिला ध्यक्ष बनाया गया था। इस बार भाजपा ने अरिजीत को युवा मोर्चा से सीधे चुनाव के मैदान में भेज दिया है। अरिजीत ने कला संकाय में नेताजी सुभाष ओपन विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की है। यहां से तृणमूल के विधायक रहे 51 वर्षीय विधान उपाध्याय को टक्कर देने के लिए मैदान में उतरे हैं।

कई युवा निर्दलीय ने भी धुरंधरों को टक्कर देने को तैयार
पश्चिम बर्दवान की नौ सीटों पर कई युवा चेहरों ने निर्दलीय व अन्य पार्टी के प्रत्याशी के रूप में नामांकन भी किया है। इनमें आसनसोल उत्तर से एआईएमआईएम के 26 वर्षीय दानिश अजीज, दुर्गापुर पूर्व से निर्दलीय नयन मंडल, आसनसोल दक्षिण से निर्दलीय के रूप में 28 वर्षीय शिउली रुईदास, कुल्टी विधानसभा से बसपा के प्रत्याशी के रूप में 28 वर्षीय बापी रविदास, रानीगंज से निर्दलीय के रूप में 28 वर्षीय अभिजीत बाउरी, पूर्वाचल महापंचायत के प्रत्याशी के रूप में 29 वर्षीय नीरज रजक भी युवा चेहरा बन कर चुनावी मैदान में धुरंधरों से लड़ाई लडऩे के लिए नामांकन किया है।
(मूलत: पश्चिम बंगाल के निवासी लेखक युवा पत्रकार हैं और आईसीएफजे, यूएसए, के फेलो रहे हैं)

अन्य पोस्ट

Comments