खेल

Previous123456789...224225Next
क्रिस केर्न्स ने 9 दिन में 4 ओपन हार्ट सर्जरी झेली, अब बोले- पता नहीं मैं फिर चल पाऊंगा या नहीं
03-Dec-2021 7:32 PM (35)

 

ऑकलैंड. न्यूजीलैंड के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी क्रिस केर्न्स को नहीं पता कि वह फिर कभी चल पाएंगे या नहीं, लेकिन वह खुद को भाग्यशाली मानते है कि जानलेवा सर्जरी के बाद भी जिंदा है. उनके कमर का निचला हिस्सा हालांकि लकवाग्रस्त हो गया है. तीन महीने पहले उनकी दिल की सर्जरी की गई थी. इसके बाद उन्हें कई और सर्जरी से गुजरना पड़ा, जिससे उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया और इसी दौरान स्पाइनल स्ट्रोक के कारण उनके शरीर का निचला हिस्सा लकवाग्रस्त हो गया. यह 51 वर्षीय पूर्व खिलाड़ी उबरने की कोशिश कर रहा है.

क्रिस केर्न्स सर्जरी के चार महीने बाद कैनबरा विश्वविद्यालय के अस्पताल में एक विशेष पुनर्वास सुविधा में स्वास्थ्य लाभ ले रहे है. उन्होंने स्टफ डॉट सीओ डॉट एनजेड से कहा, “मुझे पता नहीं है कि मैं फिर से कभी चल पाउंगा या नहीं, मैंने इस स्थिति से समझौता कर लिया है. अब यह समझने की जरूरत है कि मैं व्हीलचेयर की मदद से एक पूर्ण और आनंदमय जीवन जी सकता हूं. लेकिन इसके साथ सामंजस्य बैठाना थोड़ा अलग होगा.”

पूर्व खिलाड़ी ने कहा, “मेरी चोट (बीमारी) को 14 सप्ताह हो चुके हैं और जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो ऐसा लगता है जैसे मैं पूरी जिंदगी इसे झेल रहा हूं. मुझे उन 8-9 दिनों के बारे में कुछ पता नहीं जब मेरी चार ‘ओपन हार्ट सर्जरी ’ हुई थीं. अपने समय के सर्वश्रेष्ठ हरफनमौला खिलाड़ियों में से एक केर्न्स ने न्यूजीलैंड के लिये 62 टेस्ट, 215 वनडे और दो टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं . (news18.com)

भारत बनाम न्यूजीलैंड दूसरा टेस्ट : चाय तक भारत ने तीन विकेट खोकर 111 रन बनाए
03-Dec-2021 4:09 PM (21)

मुंबई, 3 दिसम्बर | भारत और न्यूजीलैंड द्वारा यहां वानखेड़े स्टेडियम में खेले जा रहे सीरीज के दूसरे और आखिरी टेस्ट मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया था। इस दौरान भारत ने पहले दिन चाय ब्रेक तक 37 ओवर में तीन विकेट खोकर 111 रन बनाए। ब्रेक तक न्यूजीलैंड के आक्रामक गेंदबाज एजाज पटेल ने 15 ओवर में 30 रन देकर भारतीय टीम के तीन बल्लेबाजों को वापस पवेलियन भेज दिया। जिसमें शुभमन गिल 44 रन बनाकर एजाज पटेल की गेंद में रॉस टेलर को कैच थमा बैठे, चतेश्वर पुजारा 0 रन बनाकर आउट हुए और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली भी एजाज पटेल की गेंद में 0 रन बनाकर एलबीडब्लयू आउट हो गए। वहीं, सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने अपना अर्धशतक पूरा कर 121 गेंदों में दो छक्के और छह चौके की मदद से 52 रन पर हैं और श्रयस अय्यर सात बनाकर मैदान में जमे हुए है। संक्षिप्त स्कोर :

भारत 111/3 (शुभनम गिल 44(आउट), मयंक अग्रवाल 52, श्रेयस अय्यर 7 ; एजाज पटेल 3/30 )

प्लेइंग इलेवन की टीम :

भारत: शुभमन गिल, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), श्रेयस अय्यर, रिद्धिमान साहा (विकेटकीपर), आर अश्विन, जयंत यादव, अक्षर पटेल, उमेश यादव, मोहम्मद सिराज।

न्यूजीलैंड: विल यंग, टॉम लैथम (कप्तान), डेरिल मिशेल, रॉस टेलर, हेनरी निकोल्स, टॉम ब्लंडेल (विकेटकीपर), रचिन रवींद्र, काइल जैमीसन, टिम साउथी, विल सोमरविले, एजाज पटेल। (आईएएनएस)

क्रिस्टियानो रोनाल्डो 800 गोल करने वाले पहले खिलाड़ी बने, जानिए किस टीम के लिए सबसे ज्यादा गोल दागे
03-Dec-2021 3:56 PM (26)

 

दिग्गज फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. वो 800 गोल करने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए. मैनचेस्टर यूनाइटेड के स्ट्राइकर रोनाल्डो ने आर्सेनल के खिलाफ 2 गोल करने के साथ यह उपलब्धि हासिल की. अब उनके 801 गोल हो चुके हैं. मैनचेस्टर यूनाइडेट ने गुरुवार को हुए इस मैच में आर्सेनल को 3-2 से शिकस्त दी. रोनाल्डो ने मैच का पहला गोल 52वें मिनट और दूसरा 70वें मिनट में पेनल्टी के जरिए किया. इसके साथ ही उनके गोल का आंकड़ा 801 हो गया. ब्राजील के दिग्गज खिलाड़ी पेले के लिए भी यह दावा किया जाता है कि उन्होंने 1000 से ज्यादा गोल किए हैं. हालांकि, इसका कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है. 

रोनाल्डो ने 801 गोल में से मैनचेस्टर यूनाइडेट के लिए कुल 130 गोल दागे हैं. वो दूसरी बार इस क्लब के लिए खेल रहे हैं. उन्होंने रियाल मैड्रिड के लिए सबसे अधिक 450 गोल किए हैं. युवेंटस के लिए इस स्ट्राइकर ने 101 गोल दागे हैं. पुर्तगाल की तरफ से खेलते हुए रोनाल्डो ने 115 गोल किए हैं. जबकि स्पोर्टिंग लिस्बन के लिए उन्होंने 5 गोल दागे हैं.

रोनाल्डो सबसे अधिक अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले खिलाड़ी भी हैं. उन्होंने हाल ही में ईरान के अली देई के 109 गोल के रिकॉर्ड को तोड़ा था. उनके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 184 मैच में 115 गोल हो गए हैं. एक्टिव फुटबॉल खिलाड़ियों में लियोनल मेसी और भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री के 80 गोल हैं. 

इसी साल फरवरी में रोनाल्डो फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर 50 करोड़ फॉलोअर्स तक पहुंचने वाले दुनिया के पहले शख्स बने थे. 

रोनाल्डो ने मार्च 2021 में ब्राजील के दिग्गज फुटबॉलर पेले को ओवरऑल गोल के मामले में पीछे छोड़ा था. तब उन्होंने इटेलियन लीग सीरी-ए में युवेंटस की तरफ से खेलते हुए कैगिलियरी के खिलाफ हैट्रिक लगाई थी. पेले के ऑफिशियल अकाउंट के मुताबिक उन्होंने 767 गोल दागे थे. रोनाल्डो ने जनवरी में पेले का रिकॉर्ड तोड़ दिया था. तब पेले केऑफिशियल अकाउंट पर 757 गोल लिखे थे. रोनाल्डो के इससे आगे निकलते ही पेले के रिकॉर्ड में भी बदलाव किया गया था. उनके गोल की इजाफा किया गया था. रोनाल्डो ने कैगिलियरी के खिलाफ हैट्रिक पूरी करने के बाद कहा था- मैं पेले के 767 गोल के रिकॉर्ड को तोड़ने का इंतजार कर रहा था. इसी वजह से खामोश था. 

रोनाल्डो सबसे अधिक 184 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले यूरोपीय खिलाड़ी हैं. वो पांच बार फुटबॉल का प्रतिष्ठित Ballon d’Or अवॉर्ड जीत चुके हैं. हालांकि, अर्जेंटीना के लियोनल मेसी ने उनसे ज्यादा 7 बार यह खिताब जीता है. हाल ही में मेसी ने रिकॉर्ड सातवीं बार यह पुरस्कार जीता है. 

रोनाल्डो ने 2002 में स्पोर्टिंग लिस्बन के साथ प्रोफेशनल फुटबॉल करियर शुरू किया था. इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड ने 2003 में उन्हें 17 मिलियन अमेरिकी डॉलर में साइन किया उस वक्त उनकी उम्र महज 18 साल थी. इस क्लब के साथ अपने पहले स्पैल में रोनाल्डो ने 6 सीजन बिताए. इस दौरान उन्होंने 292 मैच में कुल 118 गोल दागे थे. इसके बाद वो रियाल मैड्रिड चले गए थे. उन्होंने 2018 में युवेंटस के साथ 340 मिलियन डॉलर (2588 करोड़ रु.) की डील की थी

रियाल मैड्रिड के साथ 9 सीजन में रोनाल्डो ने 438 मैच में कुल 450 गोल किए थे और क्लब के ऑल टाइम टॉप गोल स्कोरर बने थे.  (news18.com)

जूनियर हॉकी विश्व कप पर कोरोना का साया, एक व्यक्ति पॉजिटिव
03-Dec-2021 3:55 PM (35)

 

भुवनेश्वर. कड़े प्रोटोकॉल के बावजूद यहां चल रहा जूनियर हॉकी विश्व कप कोरोना महामारी की चपेट में आ गया है और शुक्रवार को एक व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया, जो कलिंगा स्टेडियम पर मीडिया सेंटर के संपर्क में था. बायो बबल के भीतर होने और इसकी कवरेज के लिए आए मीडिया की हर 48 घंटे में आरटी पीसीआर जांच होने के बावजूद गुरुवार को कराए गए टेस्ट में एक व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया.

स्थानीय आयोजन समिति के एक सदस्य के अनुसार यह व्यक्ति ओडिशा सरकार के खेल और युवा कार्य विभाग की सोशल मीडिया टीम का सदस्य है. इस घटना से आयोजकों में दहशत फैल गई और सभी पत्रकारों के लिए शुक्रवार को आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया, जिसके बिना उन्हें मीडिया सेंटर पर प्रवेश नहीं मिलेगा.

स्थानीय अधिकारी ने कहा, ”आज सभी के लिए आरटी पीसीआर अनिवार्य है जो मीडिया सेंटर आना चाहते हैं और बाकी टूर्नामेंट कवर करना चाहते हैं. हर 48 घंटे में टेस्ट हो रहा है लेकिन ओडिशा खेल विभाग की सोशल मीडिया टीम के एक सदस्य के पॉजिटिव पाये जाने के बाद यह अनिवार्य कर दिया गया है.” उन्होंने कहा, ”वह रोज मीडिया सेंटर आ रहा था. उसके संपर्क में आये लोगों की पहचान की गई है. मीडिया सेंटर का इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों के लिए टेस्ट अनिवार्य है.”

25 नवंबर से शुरू हुए इस टूर्नामेंट में अभी तक कोई घटना नहीं हुई थी. इसे दर्शकों के बिना बायो बबल में आयोजित किया जा रहा है और मीडिया को भी कड़े कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना पड़ रहा है. भारत के मैचों में हालांकि मैदान में दर्शक दिख रहे हैं. बेल्जियम के खिलाफ बुधवार को क्वार्टर फाइनल में करीब 3000 दर्शक थे.

राज्य के सूचना अधिकारी सुजीत रंजन स्वेन ने एक बयान में कहा, ”इनमें अधिकांश खेल होस्टल के छात्र, स्टाफ या कोच हैं. कुछ परिवार के साथ आये होंगे.कुछ परिवार परिसर में ही रह रहे हैं. भारतीय खिलाड़ियों के परिवार के भी 70 . 90 सदस्य थे. कुछ हॉकी इंडिया के प्रतिनिधियों के परिवार और कुछ पूर्व हॉकी खिलाड़ी भी थे.” टूर्नामेंट की शुरुआत से पहले ही ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड ने कोरोना महामारी के कारण नाम वापिस ले लिया था. (news18.com)

रितु फोगाट 2 साल से घर नहीं गईं, कहा- MMA चैंपियन बनकर ही लौटना चाहती हूं
03-Dec-2021 3:15 PM (24)

 

नई दिल्‍ली. शेरनी जैसी भूखी होती है, वैसे ही भूखी हूं… ये शब्‍द हैं सबसे छोटी फोगाट सिस्‍टर रितु फोगाट के, जो इतिहास रचने की तैयारी में हैं. 2 साल पहले पहलवानी से मिस्क्‍ड मार्शल आर्ट यानी एमएमए में कदम रखने वाली रितु वन चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच गई है और 3 दिसंबर को खिताब के लिए थाईलैंड की स्‍टैंप फेयरटैक्‍स से उनका मुकाबला है. इस मुकाबले को लेकर ही उन्‍होंने कहा कि वो शेरनी की भूख जैसे ही जीत के लिए भूखी हैं. अगर रितु फेयरटैक्‍स को हरा देती हैं तो वह देश की पहली एमएमए चैंपियन बन जांएगी.

इस बड़े मुकाबले से पहले रितु ने शुक्रवार को खास बातचीत में कहा कि वह 3 दिसंबर को दिखा देंगी कि भारत के फाइटर्स क्‍या कर सकते हैं. एमएमए की रिंग में उतरे रितु को ज्‍यादा समय नहीं हुआ है, मगर अभी तक उनका सफर शानदार रहा. खासकर इस साल. उन्‍होंने कहा कि इस साल मैंने 4 मैच जीते हैं. हर मैच में कुछ नया सीखा. तकनीक में सुधार हुआ है और दिन पर दिन मेरा खेल निखर रहा. फेयरटैक्‍स जैसी अनुभवी खिलाड़ी के खिलाफ उनका गेम प्‍लान क्‍या होगा, इस पर भारतीय स्‍टार ने कहा कि मैं अब 3 दिसंबर को ही इसे दिखाऊंगी. फेयरटैक्‍स का टेकडाउन काफी अच्‍छा है, मगर उनके लिए गेम प्‍लान बना हुआ है. 3 दिसंबर वाले मैच में मैं अपना सब कुछ लगा दूंगी.

एमएमए का नाम आने पर फोगाट परिवार का भी आए नाम

देश में पहलवानी को बढ़ाने में फोगाट परिवार का बड़ा हाथ रहा है. गीता फोगाट, बबीता फोगाट और विनेश ने दुनिया को दम दिखाया. पिता महावीर फोगाट ने देश को कई बड़े पहलवान दिए. इस खेल में आने के लिए लड़कियों को प्रोत्‍साहित किया. अब एमएमए को लेकर फोगाट परिवार की क्‍या योजना है, इस पर रितु ने कहा कि सभी जानते हैं कि पहलवानी के लिए फोगाट परिवार ने क्‍या किया है. आज जब भी पहलवानी का नाम आता है, फोगाट परिवार का नाम साथ आता है. ऐसे ही वो चाहती हैं कि जब भी मिक्‍स्‍ड मार्शल आर्ट का नाम आए तो भी फोगाट परिवार का ही नाम आए.

पापा तो 7 दिन में ही 3 महीने की मेहनत के लिए कहते हैं

इस मैच को लेकर पिता कैसे उत्‍साह बढ़ा रहे हैं. पूछने पर रितु फोगाट ने कहा कि पापा तो कहते हैं कि फाइट के 7 दिन ही बचे हैं तो इन 7 दिनों में ही 3 महीने की मेहनत कर लो. एक्‍स्‍ट्रा मेहनत करो. अब उन्‍हें कैसे बताएं कि मेहनत तो पूरी कर ली, लेकिन फाइट से कुछ दिन पहले दिमागी तौर पर आराम की भी जरूरत होती है. मगर पापा हमेशा कहते हैं कि दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्‍का इरादा होना चाहिए. 2 साल से घर नहीं जाने पर रितु ने कहा कि अब तो मैं बेल्‍ट के साथ ही घर जाना चाहती हूं.

एमएमए के लिए सरकार आए आगे

भारत में एमएमए के विकास पर रितु फोगाट ने कहा कि अब लोग इसमें दिलचस्‍पी ले रहे हैं. सरकार को आगे आना चाहिए, क्‍योंकि हम देश के लिए खेलते हैं. जैसे ओलपिंक में न होने के बावजूद कई खेलों को सरकार से मदद मिलती है. वैसे ही इसे भी मिलनी चाहिए. युवा पीढ़ी इस खेल में आगे आना चाहती है. (news18.com)

HBD मिताली राज : क्लासिकल डांसर से 'लेडी तेंदुलकर' तक का सफर, बेहद दिलचस्प है कहानी
03-Dec-2021 1:00 PM (31)

 

नई दिल्ली. दुनिया की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेट क्रिकेटरों में शुमार मिताली राज को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते हुए 2 दशक से ज्यादा का वक्त हो चुका है. उनके बल्ले की चमक अभी तक फीकी नहीं पड़ी है. आज ही के दिन यानी 3 दिसंबर, 1982 को मिताली का जन्म राजस्थान के जोधपुर शहर में हुआ था. अपना 39वां जन्मदिन मना रहीं मिताली बचपन में क्लासिकल डांसर बनना चाहती थी. उनकी मां भी यही चाहती थी लेकिन पिता बेटी को क्रिकेटर बनाने की ख्वाहिश रखते थे.

मिताली राज ने पिता के सपने को पूरा करने के लिए बल्ला थामा और आज क्रिकेट बुक में उनके नाम तमाम रिकॉर्ड दर्ज हैं. वह महिला वनडे में सबसे अधिक रन बनाने वाली खिलाड़ी हैं. वो भारत की इकलौती (महिला औऱ पुरुष) क्रिकेटर हैं, जिसने बतौर कप्तान दो वनडे वर्ल्ड कप फाइनल खेले हैं. हालांकि, उनके विश्व चैम्पियन बनने की मुराद अब तक पूरी नहीं हुई है. अगले साल न्यूजीलैंड में वनडे विश्व कप में ऐसे में उनका यह सपना भी पूरा हो सकता है.

क्लासिकल डांसर बनना चाहती थीं मिताली 
मिताली राज ने एक इंटरव्यू में अपने क्रिकेटर बनने के सफर की शुरुआत के बारे में बताया था. उनके पिता क्रिकेटर बनना चाहते थे. लेकिन पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण ऐसा नहीं कर पाए. इसके बाद उन्होंने मिताली को क्रिकेट से जोड़ा. वो खुद क्रिकेटर नहीं बनना चाहती थीं. उनका सपना क्लासिकल डांसर बनना था. एक बार क्रिकेट का बल्ला थामने के बाद धीरे-धीरे उन्हें इस खेल में मजा आने लगा. हालांकि, उन्हें सुबह उठकर क्रिकेट क्लब जाना बहुत बुरा लगता था. लेकिन खेल से लगाव हो जाने के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

मिताली ने वनडे डेब्यू में शतक ठोका था
मिताली ने 17 साल की उम्र में वनडे डेब्यू किया और पहले ही मैच में नाबाद 114 रन ठोककर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में धमाकेदार आगाज किया. जल्द ही वो भारतीय बल्लेबाजी की रीढ़ बन गईं. तकनीकी रूप से मजबूत होने और एक छोर से पारी को संभालने की उनकी काबिलियत ने बल्लेबाजों की दो पीढ़ियों को प्रेरित किया.

इसी खूबी के दम पर ही उन्होंने 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ 19 साल 254 दिन की उम्र में टॉन्टन में टेस्ट में दोहरा शतक ठोककर इतिहास रच दिया था. यह तब महिला टेस्ट में सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर था. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया की केरन रॉल्टन के नाबाद 209* के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा था. हालांकि, बाद में पाकिस्तान की किरन बलूच ने 242 रन बनाकर यह रिकॉर्ड तोड़ दिया था. लेकिन सबसे कम में दोहरा शतक ठोकने का उनका रिकॉर्ड आज भी कायम है.

मिताली 6 हजार वनडे रन बनाने वाली पहली महिला क्रिकेटर
2017 के वनडे विश्व कप में मिताली इंग्लैंड की पूर्व कप्तान चार्लोट एडवर्ड्स को पीछे छोड़ते हुए वनडे में सबसे अधिक रन बनाने वाली खिलाड़ी बनीं थीं. वो इस फॉर्मेट में 6 हजार रन बनाने वालीं पहली महिला क्रिकेटर भी बनीं थीं. उन्होंने तब टूर्नामेंट में 409 रन बनाए थे. उनकी बल्लेबाजी के बदौलत भारत फाइनल खेला था. हालांकि, 2018 के टी20 विश्व कप के दौरान उनका नाम एक विवाद के साथ भी जुड़ा था. दरअसल, तब उन्हें सेमीफाइनल मैच में मौका नहीं दिया गया था. तब उन्होंने हेड कोच रमेश पोवार पर पक्षपात करने का आरोप लगाया था.

मिताली के वनडे में सबसे ज्यादा रन
अक्टूबर 2019 में 36 साल की उम्र में मिताली महिला वनडे क्रिकेट में 20 साल पूरे करने वाली पहली क्रिकेटर बनीं थीं. उन्होंने अब तक 12 टेस्ट में 1 शतक के बदौलत 699 रन बनाए हैं. वहीं, 220 वनडे में मिताली ने 51 से ज्यादा के औसत से 7391 रन बनाए हैं. वहीं, 89 टी20 में 2364 रन उनके नाम दर्ज हैं. (news18.com)

ईशांत, रहाणे और जडेजा चोट के कारण दूसरे टेस्ट से बाहर
03-Dec-2021 10:57 AM (34)

मुंबई, 3 दिसम्बर| न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार को खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के पहले दिन भारत को बड़ा झटका लगा है। भारतीय टीम के तीन खिलाड़ी तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा, उपकप्तान अजिंक्य रहाणे और ऑलराउंडर रवेंद्र जडेजा चोट लगने के कारण दूसरे टेस्ट में नहीं खेलेंगे। तीनों खिलाड़ियों को बीसीसीआई की मेडिकल टीम ने आराम करने के लिए कहा है। चूंकि बुधवार और गुरुवार को बारिश के कारण गीली जमीन की स्थिति के कारण यहां मैच की शुरुआत में देरी हुई, इसी दौरान बीसीसीआई ने खबर दी कि तीन वरिष्ठ भारतीय खिलाड़ी मैच में नहीं खेलेंगे।

बीसीसीआई सचिव जय शाह ने शुक्रवार को एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि ईशांत शर्मा बायीं तरफ छोटी उंगली में चोट लगने के कारण बाहर हैं, जडेजा के दाहिने हाथ में चोट है, जबकि रहाणे को बायीं ओर थोड़ा सा खिंचाव है। तीनों को कानपुर में पहले टेस्ट के अंतिम दिन के दौरान चोट लगी है। सभी खिलाड़ी बीसीसीआई की मेडिकल टीम की निगरानी में हैं।"

इस प्रकार टीम में तीनों की अनुपस्थिति ने मोहम्मद सिराज और श्रेयस अय्यर को प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका दिया है। वहीं, सूर्यकुमार यादव या जयंत यादव, जडेजा की जगह ले सकते हैं। (आईएएनएस)

मैदान पर हुई अनोखी घटना, बल्लेबाज का मोबाइल विकेट पर गिरा और अंपायर ने दिया आउट
02-Dec-2021 9:09 PM (38)

 

नई दिल्ली. क्रिकेट में आउट होने के नियम लगभग सभी लोगों को पता हैं. बल्लेबाज बोल्ड, कैच या एलबीडब्ल्यू होता है. हिट विकेट के तरीक से भी खिलाड़ी आउट होते रहे हैं. लेकिन यदि कोई खिलाड़ी मोबाइल के कारण आउट हो जाए तो एक-बार किसी को विश्वास नहीं होगा. लेकिन मैदान पर ऐसी घटना हो चुकी है. इंटरनेशनल क्रिकेट में तो मैच के दौरान खिलाड़ियों के मोबाइल रखने तक पर रोक है. फिक्सिंग के कारण ऐसे नियम बनाए हैं. तो आइए आपको बताते हैं यह अनोखी घटना कहां और कैसे हुई.

यह घटना नवंबर 2014 की है. ऑस्ट्रेलिया में हुए अंडर-16 टूर्नामेंट के दौरान यह वाकया हुआ. यूथ क्लब से खेल रहे मार्कस एलियट के साथ यह घटना हुई थी. टीम के जल्द तीन विकेट गिरने के बाद वे बल्लेबाजी करने उतरे थे. लेकिन मोबाइल गलती से उनकी जेब में छूट गया था. बल्लेबाजी के दौरान मोबाइल विकेट पर जा गिरा. इसके बाद अंपायर ने उन्हें नियम के अनुसार हिट विकेट आउट दिया. हालांकि बल्लेबाज ने कहा कि वह मोबाइल जेब में रखकर भूल गया था. लेकिन अंत में उन्हें आउट दिया ही गया.

टीम को पहली पारी के आधार पर जीत मिली

यूथ क्बल ने मैच में पहले खेलते हुए 35 ओवर में 5 विकेट पर 195 रन बनाए थे. जेसुआ केली ने नाबाद 52 रन बनाए थे. जवाब में मेजबान पॉमोनल की टीम 5 विकेट पर 139 रन ही बना सकी थी. इस तरह से यूथ क्लब ने यह मैच पारी की बढ़त के आधार पर जीत लिया था. लेकिन मार्कस के हिट विकेट के कारण यह मैच इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया.

134 रन एक्स्ट्रा के रूप में मिले, 115 अतिरिक्त गेंद डाली गई

इस मैच में एक और रोचक घटना घटी. मैच में कुल 334 रन बने. लेकिन इसमें से 134 रन एक्स्ट्रा के रूप में बने. यानी लगभग 40 फीसदी रन. यूथ क्लब को 195 में से 62 रन अतिरिक्त में रूप में मिले थे. इसमें 30 वाइड और 20 नोबॉल शामिल थी. वहीं पॉमोनल के 139 में से 72 रन अतिरिक्त के रूप में आए थे. यानी 50 फीसदी से अधिक. 38 वाइड और 27 नोबॉल यूथ के गेंदबाजों ने डाली थी. मैच में कुल 115 अतिरिक्त गेंद डाली गई थी. (news18.com)

चेतेश्वर पुजारा ने 34 महीने से टेस्ट में नहीं लगाया शतक, 'संकट' से उबारने के लिए फिर द्रविड़ ने दिया गुरु मंत्र
02-Dec-2021 9:08 PM (36)

नई दिल्ली. चेतेश्वर पुजारा ने पिछला टेस्ट शतक 3 जनवरी 2019 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी टेस्ट में लगाया था. इसके बाद से 34 महीने और 23 टेस्ट बीत चुके हैं लेकिन पुजारा के बल्ले से शतक नहीं निकला है. इस दौरान उन्होंने 28.61 के औसत से 1116 रन बनाए हैं और उनका बेस्ट स्कोर 91 रन रहा है. वो न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर टेस्ट में भी बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे थे. ऐसे में पुजारा के करियर को पटरी पर लाने की जिम्मेदारी उनसे पहले पहले टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज माने जाने वाले राहुल द्रविड़ ने उठाई है. भारतीय क्रिकेट टीम के हेड कोच के रूप में द्रविड़ लगातार कोशिश कर रहे हैं कि पुजारा दोबारा लय हासिल कर लें.

कानपुर टेस्ट में चेतेश्वर पुजारा नेट्स पर उन्हें ऑफ स्पिन गेंदबाजी की प्रैक्टिस कराने के बाद राहुल द्रविड़ ने मुंबई टेस्ट से पहले भी पुजारा के साथ काफी वक्त बिताया. मुंबई में बारिश होने के कारण खिलाड़ी इंडोर प्रैक्टिस करने को मजबूर हैं. ऐसे में द्रविड़ ने पुजारा को उनके स्टांस को सुधारने में मदद की. इससे जुड़ी कुछ तस्वीरें बीसीसीआई ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर की हैं. इन तस्वीरों को साझा करने के साथ बीसीसीआई ने लिखा- जोर-शोर से तैयारी जारी है. टीम इंडिया दूसरे टेस्ट के लिए तैयार हो रही है. इस इंडोर ट्रेनिंग सेशन में भारतीय कप्तान विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे और शुभमन गिल भी कोच द्रविड़ की देखरेख में अभ्यास करते नजर आए.

पुजारा ने 34 महीने में 11 फिफ्टी जड़ी है.
जहां तक बीते 34 महीने में पुजारा के प्रदर्शन की बात है तो उन्होंने इस दौरान 11 अर्धशतक लगाए हैं. इसमें पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ क्राइस्टचर्च टेस्ट में 140 गेंद में उनकी 54 रन की जुझारू पारी भी शामिल है. इसके अलावा पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर 3 अर्धशतक शामिल हैं. जहां उन्होंने 1300 से ज्यादा गेंदें खेली थी. वहीं, इस साल अगस्त में इंग्लैंड के खिलाफ लीड्स टेस्ट में 275 गेंद में खेली गई 91 रन की पारी भी शामिल है. हालांकि, इसके बाद कानपुर टेस्ट की दोनों पारियों में उन्होंने 22 और 26 रन बनाए. इसके बाद से ही उन्हें टीम से बाहर करने की आवाज उठने लगी है. लेकिन टीम मैनेजमेंट पुजारा और दूसरे आउट ऑफ फॉर्म बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे के साथ मजबूती से खड़ा किया.

बॉलिंग कोच ने भी पुजारा का बचाव किया
पहले हेड कोच राहुल द्रविड़ ने यह बात कही थी. अब बॉलिंग कोच पारस म्हाम्ब्रे ने भी यही बात दोहराई है. उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा दोनों के साथ उनका अनुभव है. उन्होंने पर्याप्त क्रिकेट खेला है और हम एक टीम के रूप में भी जानते हैं कि वे फॉर्म में वापस आने से एक पारी दूर हैं. एक टीम के रूप में, हर कोई उनके पीछे है और उनका समर्थन करते हैं. हम जानते हैं कि वे टीम के लिए कितना अहम खिलाड़ी हैं. (news18.com)

प्रो-कबड्‌डी लीग के 8वें सीजन का मंच तैयार, सबसे महंगे प्रदीप नरवाल यूपी योद्धा से खेलेंगे
02-Dec-2021 8:36 PM (41)

नई दिल्ली. प्रो-कबड्‌डी के 8वें सीजन के लिए मंच सज चुका है. कोराेना के कारण पिछला सीजन नहीं हुआ है. मौजूदा सीजन की शुरुआत 22 दिसंबर से होने जा रही है. इस बार कोरोना को देखते हुए सभी मुकाबले बेंगलुरु में खेले जाएंगे. लीग में कुल 12 टीमें उतर रही हैं. मुकाबले 20 जनवरी तक चलेंगे. पिछले दिनों हुए ऑक्शन में रेडर प्रदीप नरवाल को यूपी योद्धा ने 1.65 करोड़ रुपए में खरीदा था. वे लीग के इतिहास में सबसे बड़ी कीमत हासिल करने वाले खिलाड़ी बन गए हैं.

प्रदीप नरवाल प्रो-कबड्‌डी के पहले 5 सीजन तक पटना पाइरेट्स की ओर से खेले थे. अब वे यूपी योद्धा की ओर से उतरेंगे. वहीं तेलुगु टाइटंस ने सिद्धार्थ देसाई को 1.30 करोड़ रुपए में अपनी टीम में शामिल किया है. इसके अलावा मंजीत को 92 लाख रुपए में तमिल थलाइवाज ने, सचिन को 84 लाख रुपए में पटना पाइरेट्स में और रोहित गुलिया को 83 लाख रुपए में हरियाणा स्टीलर्स ने शामिल किया है.

कोरोना के कारण नहीं हो सका था आयोजन

कोराेना के कारण 2014 से शुरू हुए प्रो-कबड्‌डी लीग का आयोजन पिछले साल नहीं हो सका था. बंगाल वॉरियर लीग की डिफेंडिंग चैंपियन है. दूसरी ओर पटना पाइरेट्स सबसे अधिक 3 बार लीग की चैंपियन बनी है. जयपुर पिंक पैंथर्स, यू मुम्बा और बैंगलोर बुल्स ने भी एक-एक बार टाइटल पर कब्जा किया है. ओवरऑल सभी सीजन की बात की जाए तो प्रदीप नरवाल ने सबसे अधिक अंक बनाए हैं. वे 1169 अंक के साथ टॉप पर हैं. राहुल चौधरी ने 1014 अंक बनाए हैं. अन्य कोई खिलाड़ी एक हजार अंक के आंकड़े तक नहीं पहुंच सका है.

पहले दिन होने हैं 3 मुकाबले

पहली बार लीग में एक दिन में 3 मुकाबले खेले जाएंगे. पहले 4 दिन तीन-तीन मुकाबले होंगे. पहला मुकाबला शाम 7.30 से खेला जाएगा. दूसरा 8.30 बजे से जबकि तीसरा 9.30 बजे से शुरू होगा. इस बार कोरोना के कारण बिना फैंस के मुकाबले खेले जाएंगे. लीग की व्यूअरशिप अच्छी रहती है. ऐसे में इस बार इसमें और बढ़ोतरी की संभावना है, क्योंकि फैंस स्टेडियम में नहीं जा सकेंगे. (news18.com)

पीटी ऊषा ने याद किया, किस तरह दोबारा दौड़कर जीता था गोल्ड मेडल
02-Dec-2021 2:49 PM (27)

 

मुंबई. अपने जमाने की दिग्गज फर्राटा धाविका पीटी ऊषा का 100 मीटर दौड़ में पदार्पण घटनाप्रधान रहा, क्योंकि उन्हें गलती से ‘गलत शुरुआत’ के कारण अयोग्य घोषित कर दिया गया था. फिर दर्शकों के हस्तक्षेप के बाद उन्होंने दोबारा दौड़कर गोल्ड मेडल जीता था. ‘उड़न परी’ ऊषा ने पीटीआई से कहा कि तिरुवनन्तपुरम में 1977 के राष्ट्रीय खेलों में वह दर्शकों के समर्थन के कारण ही 100 मीटर की दौड़ जीत पाई थी.

उन्होंने कहा, ”जब मैंने 1977 में त्रिवेंद्रम में अपने पहले राष्ट्रीय खेलों में हिस्सा लिया तो मैं अंडर-14 वर्ग में थी. मैं 100 मीटर में गयी थी क्योंकि मुझे फर्राटा दौड़ पसंद है. शुरू में किसी अन्य लड़की ने गलत शुरुआत की, लेकिन अधिकारी ने मेरे नाम के आगे ‘फाउल’ लिख दिया.” ऊषा ने कहा, ”इसके बाद मेरे दायीं तरफ दौड़ रही लड़की ने गलत शुरुआत की लेकिन इसमें भी मेरे नाम के आगे फाउल लिख दिया गया. तीसरी दौड़ में उन्होंने मुझे बाहर कर दिया.”

उन्होंने कहा, ”वहां काफी दर्शक थे और वे मैदान पर आ गए. उनका कहना था कि मैंने नहीं बल्कि अन्य लड़कियों ने गलती की है. इसके बाद फिर से दौड़ हुई जिसे मैंने जीता. मेरी 100 मीटर में शुरुआत ऐसी रही थी.” ऊषा ने तब पंजाब की हरजिंदर कौर को हराया था. ऊषा ने एथलेटिक्स में भारत के पहले ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा की भी सराहना करते हुए कहा कि भाला फेंक के इस खिलाड़ी ने दिखाया है कि देश के एथलीट सबसे बड़े वैश्विक स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकते हैं.

उन्होंने कहा, ”लंबे अर्से बाद किसी भारतीय एथलीट ने मेडल जीता. मैं और मिल्खा सिंह ओलंपिक मेडल के करीब पहुंचे थे, लेकिन मामूली अंतर से चूक गये थे. इस साल एथलेटिक्स में मेडल का लंबा इंतजार समाप्त हो गया.”

ऊषा ने कहा, ”नीरज का गोल्ड मेडल सभी एथलीटों के लिए प्रेरणा का काम करेगा, क्योंकि अब वे जानते हैं कि एथलेटिक्स में कैसे मेडल जीते जा सकते हैं. यदि वे कड़ी मेहनत करते हैं और उन्हें अन्य देशों की तरह सुविधाएं मिलती है तो ट्रैक एवं फील्ड एथलीट ओलंपिक मेडल जीत सकते हैं. उन्होंने (चोपड़ा) रास्ता दिखा दिया है.” नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में भाला फेंक में गोल्ड मेडल जीता था. (news18.com)

एशियाई टीम स्क्वाश: सौरव घोषाल के दम पर भारतीय पुरुष टीम ने पाकिस्तान को हराया
02-Dec-2021 2:49 PM (27)

 

कुआलालंपुर. शीर्ष वरीय भारतीय पुरुष टीम ने बुधवार को यहां पाकिस्तान को 2-1 से हराकर चार मैचों के बाद एशियाई स्क्वाश टीम चैंपियनशिप में अपना अजेय अभियान जारी रखा. शीर्ष भारतीय खिलाड़ी सौरव घोषाल ने अहम जीत दर्ज की, जब उन्होंने पहले दो गेम गंवाने के बाद वापसी करते हुए तैयब अस्लम को 56 मिनट में हराया.

सौरव घोषाल जब अस्लम के खिलाफ उतरे तो पूल ‘ए’ का यह मुकाबला 1-1 से बराबर था. सौरव घोषाल ने पहले दो गेम 9-11, 7-11 से गंवाए, लेकिन फिर वापसी करते हुए अगले तीन गेम 11-1, 11-7, 11-8 से जीतकर भारत को जीत दिला दी. रमित टंडन ने मुहम्मद आसिम खान को हराकर भारत को बढ़त दिलाई, लेकिन नासिर इकबाल ने महेश मनगांवकर को हराकर स्कोर 1-1 कर दिया.

इससे पहले भारत ने जापान को 3-0 से हराया. भारत पूल ए में चार जीत के साथ शीर्ष पर चल रहा है और चौथा वरीय पाकिस्तान दूसरे स्थान पर है. महिला वर्ग में तीसरे वरीय भारत को दूसरे वरीय मलेशिया के खिलाफ 1-2 से शिकस्त झेलनी पड़ी.

जोशना चिनप्पा ने राशेल आर्नोल्ड को हराया लेकिन सुनयना कुरुविला और उर्वशी जोशी को शिकस्त का सामना करना पड़ा. पूल बी में भारतीय महिला टीम ने अब तक एक मैच जीता है और एक गंवाया है. गुरुवार को ‘करो या मरो’ के मुकाबले में टीम का सामना ईरान से होगा, जिससे मलेशिया के बाद ग्रुप से नॉकआउट चरण में क्वॉलिफाई करने वाली दूसरी टीम का फैसला होगा. (news18.com)

प्रधानमंत्री के मिशन की शुरुआत करेंगे 'गोल्डन ब्वाय' नीरज चोपड़ा
02-Dec-2021 2:48 PM (24)

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक के गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा चार दिसंबर को अहमदाबाद के संस्कारधाम स्कूल का दौरा करेंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिशन की शुरुआत करते हुए संतुलित भोजन, फिटनेस और खेलों के प्रति जागरुकता फैलाएंगे. मोदी ने 16 अगस्त को अपने आवास पर टोक्यो ओलंपियन के साथ मुलाकात के दौरान भारतीय ओलंपियन और पैरालंपियन से अपील की थी कि उनमें से प्रत्येक 2023 में स्वतंत्रता दिवस से पहले 75 स्कूलों का दौरा करें और कुपोषण के खिलाफ जागरूकता फैलाएं और स्कूली बच्चों के साथ खेलें.

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को ट्वीट किया कि भाला फेंक के खिलाड़ी चोपड़ा प्रधानमंत्री के मिशन की शुरुआत करेंगे. ठाकुर ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हमारे ओलंपियन और पैरालंपियन का आह्वान किया था कि वे स्कूलों का दौरा करें और छात्रों से संतुलित आहार, फिटनेस, खेल और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात करें. चार दिसंबर को नीरज चोपड़ा अहमदाबाद के संस्कारधाम स्कूल में इस मिशन की शुरुआत करेंगे.”

भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) और शिक्षा मंत्रालय इसे अगले दो साल में ‘चैंपियन्स से मुलाकात’ कार्यक्रम के रूप में चलाने पर काम कर रहे हैं. यह कार्यक्रम ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का हिस्सा होगा जो देश की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने का जश्न है.

नीरज चोपड़ा ने टोक्यो खेलों में 87.58 मीटर के प्रयास के साथ गोल्ड मेडल जीता था. टोक्यो ओलंपिक और पैरालंपिक में हिस्सा लेने वाले भारतीय खिलाड़ियों ने देश के लिए रिकॉर्ड मेडल जीते थे. (news18.com)

अंजू बॉबी जॉर्ज को विश्व एथलेटिक्स से वर्ष की सर्वश्रेष्ठ महिला का पुरस्कार
02-Dec-2021 2:47 PM (27)

 

मोनाको. भारत की महान एथलीट अंजू बॉकी जॉर्ज को विश्व एथलेटिक्स ने देश में प्रतिभाओं को तराशने और लैंगिक समानता की पैरवी के लिए वर्ष की सर्वश्रेष्ठ महिला का पुरस्कार दिया है. विश्व चैम्पियनशिप में मेडल जीतने वाली एकमात्र भारतीय अंजू ( पेरिस 2003 ) को बुधवार की रात सालाना पुरस्कारों के दौरान इस सम्मान के लिए चुना गया. इसके अलावा वह आईएएएफ विश्व एथलेटिक्स फाइनल्स (मोनाको 2005) की स्वर्ण पदक विजेता और अपने शानदार करियर के दौरान लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाली अंजू देश की सबसे प्रेरणादायी ट्रैक एवं फील्ड स्टार हैं.

विश्व एथलेटिक्स ने एक विज्ञप्ति में कहा, ”पूर्व अंतरराष्ट्रीय लंबी कूद खिलाड़ी भारत की अंजू बॉबी जॉर्ज अभी भी खेल से जुड़ी है. उसने 2016 में युवा लड़कियों के लिए प्रशिक्षण अकादमी खोली, जिससे विश्व अंडर 20 मेडल विजेता निकली है.”
इसमें कहा गया, ”भारतीय एथलेटिक्स महासंघ की सीनियर उपाध्यक्ष होने के नाते वह लगातार लैंगिक समानता की वकालत करती आई हैं. वह खेल में भविष्य में नेतृत्व के लिए भी स्कूली लड़कियों का मार्गदर्शन कर रही हैं.”

अंजू ने कहा कि वह यह सम्मान पाकर गौरवान्वित और अभिभूत हैं. उन्होंने ट्वीट किया, ”सुबह उठकर खेल के लिए कुछ करने से बेहतर अहसास कुछ नहीं है. मेरे प्रयासों को सराहने के लिए धन्यवाद.”

बता दें कि अपने पति रॉबर्ट बॉबी जार्ज से कोचिंग लेने के बाद अंजू का करियर नई ऊंचाईयों पर पहुंचा. वह ओलिंपिक 2004 में छठे स्थान पर रही थीं. उन्होंने तब 6.83 मीटर की कूद लगाई थी. अमेरिका की मरियन जोन्स को डोपिंग आरोपों के कारण अयोग्य घोषित किए जाने के बाद अंजू को 2007 में पांचवां स्थान दिया गया था. (news18.com)

IND vs NZ दूसरा टेस्ट कल से, भारत पर दबाव; न्यूजीलैंड के पास इतिहास रचने का मौका
02-Dec-2021 2:38 PM (16)

नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट सीरीज का दूसरा और आखिरी मुकाबला शुक्रवार से मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला जाएगा. कानपुर टेस्ट ड्रॉ होने के बाद इस टेस्ट की अहमियत और बढ़ गई है. क्योंकि जो भी टीम इस मुकाबले में जीत दर्ज करेगी, सीरीज उसी के नाम होगी. मेजबान भारत पर दबाव अधिक होगा. क्योंकि कानपुर टेस्ट में जीत की दहलीज पर पहुंचकर भी टीम इंडिया चूक गई. 1 विकेट के कारण पूरा खेल बिगड़ गया. वहीं, न्यूजीलैंड के पास इतिहास रचने का मौका होगा. अगर कीवी टीम मुंबई टेस्ट जीत लेती है तो यह उसकी भारत में पहली सीरीज जीत होगी. जबकि भारत 2012 के बाद अपने ही घर में टेस्ट सीरीज गंवाएगा. ऐसे में न्यूजीलैंड से ज्यादा भारत की जीत पर नजर होगी.

भारत और न्यूजीलैंड के बीच भारत में अब तक 11 टेस्ट सीरीज हुई है. इसमें से 9 भारत जीता है. जबकि 2 ड्रॉ रही है. यानी कीवी टीम भारत में आज तक टेस्ट सीरीज नहीं जीती है. घर में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुई पिछली 3 टेस्ट सीरीज भारत जीता है. 2016 में 3 टेस्ट की सीरीज में भारत ने क्लीन स्वीप किया था. 2012 में 2 टेस्ट की सीरीज में भी यही नतीजा रहा था. ऐसे में कीवी टीम के पास मुंबई टेस्ट जीतकर बड़ा इतिहास रचने का मौका है.

वैसे भी वानखेड़े स्टेडियम न्यूजीलैंड के लिए लकी साबित हुआ है. न्यूजीलैंड ने इस मैदान पर आखिरी टेस्ट 1988 में खेला था, जिसमें उसने भारत को 136 रन से हराया था. वहीं, भारत ने इस मैदान पर आखिरी टेस्ट 2016 में खेला था. तब उसे इंग्लैंड ने पारी और 36 रन से शिकस्त दी थी. यह आंकड़े जरूर कीवी टीम का हौसला बढ़ाने वाले होंगे.

भारत-न्यूजीलैंड ने वानखेड़े में एक-एक टेस्ट जीता
भारत और न्यूजीलैंड के बीच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में यह तीसरा टेस्ट मैच होगा. इससे पहले दोनों टीमों के बीच 2 बार इस मैदान पर टक्कर हो चुकी है, जिसमें दोनों को एक-एक बार जीत नसीब हुई है. भारत ने मुंबई में अब तक 25 टेस्ट खेले हैं, जिसमें 11 जीते, 7 ड्रॉ रहे और 7 हारे हैं.

विराट कोहली की एंट्री से बदलेगा प्लेइंग-11 ?
भारत कानपुर टेस्ट भले ही जीत ना पाया हो. लेकिन कई खिलाड़ियों के प्रदर्शन से टीम मैनेजमेंट जरूर खुश होगा. खासकर कानपुर में डेब्यू करने वालेश्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer). उन्होंने पहली पारी में शतक लगाने के बाद दूसरी में फिफ्टी जड़ी थी और वो ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने थे. ऐसे में मुंबई टेस्ट में उन्हें प्लेइंग-11 से बाहर रखना मुश्किल होगा. हालांकि, भारतीय टेस्ट टीम के रेगलुर कप्तान विराट कोहली की टीम में एंट्री के बाद प्लेइंग-11 तय करना आसान नहीं होगा.

मिडिल ऑर्डर ने बढ़ाई टीम इंडिया की परेशानी
कानपुर टेस्ट में चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे एक बार फिर बड़ी पारी खेल नहीं खेल पाए. रहाणे पहले टेस्ट की पहली पारी में जहां 35 तो दूसरी पारी में 4 रन बनाए थे. वहीं पुजारा ने 26 और 22 रन बनाए थे. ऐसे में प्रदर्शन के आधार पर तो इन दोनों में से किसी एक को प्लेइंग-11 से बाहर होना पड़ सकता है. हालांकि, कोच राहुल द्रविड़ पहले ही रहाणे और पुजारा को लेकर कह चुके हैं कि यह दोनों अनुभवी खिलाड़ी हैं और फॉर्म में आने से बस एक मैच दूर हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या श्रेयस अय्यर को बाहर बैठना पड़ेगा.

गेंदबाजी में बदलाव हो सकता है
भारतीय टीम के सामने इशांत शर्मा को लेकर भी परेशानी है, क्योंकि वह इस सीरीज में टीम की तेज गेंदबाजी की अगुवाई कर रहे हैं. लेकिन कानपुर में उनका प्रदर्शन फीका ही रहा. उन्होंने 22 ओवर गेंदबाजी की. लेकिन एक भी विकेट नहीं ले पाए. ऐसे में उनकी जगह मोहम्मद सिराज या प्रसिद्ध कृष्णा में से किसी एक को मौका मिल सकता है. हालांकि, अनुभव के आधार पर इशांत का दावा मजबूत है. भारतीय टीम इस टेस्ट में भी 3 स्पिनर्स के साथ उतर सकती है. (news18.com)

डिफेंडिंग चैंपियन भारत सेमीफाइनल में, बेल्जियम को रोमांचक मुकाबले में हराया
02-Dec-2021 10:49 AM (35)

 

भुवनेश्वर. भारतीय हॉकी टीम जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पहुंच गई है. टीम ने क्वार्टर फाइनल में बेल्जियम को 1-0 से हराया. बेल्जियम ने भी अच्छा खेल दिखाया है, लेकिन उसे गोल करने में सफलता नहीं मिली. भारत टूर्नामेंट का डिफेंडिंग चैंपियन भी है. टीम अब सेमीफाइनल में जर्मनी से भिड़ेगी. फ्रांस ने एक अन्य मुकाबले में मलेशिया को 4-0 से हराया. अर्जेंटीना और जर्मनी भी अंतिम-4 में पहुंच चुके हैं. पाकिस्तान की टीम भी टूर्नामेंट में उतरी थी, लेकिन वह ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो गई थी.

मैच के पहले क्वार्टर में भारत और बेल्जियम दोनों ही गोल नहीं कर सके. दूसरे क्वार्टर के 21वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर शारदानंद तिवारी ने गोल करके भारतीय टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई. इसके बाद कोई टीम गोल नहीं कर सकी. भारत ने 2 बार टूर्नामेंट का खिताब जीता है. लेकिन अब टीम की राह आसान नहीं रहने वाली. जर्मनी ने सबसे अधिक 6 बार टूर्नामेंट का खिताब जीता है.

सेमीफाइनल मुकाबला 3 को

24 नवंबर से शुरू हुए टूर्नामेंट में कुल 16 टीमें शामिल हुई थीं. 12 टीमें बाहर हो चुकी हैं. सेमीफाइनल के मुकाबले 3 दिसंबर को जबकि फाइनल 5 दिसंबर को खेला जाएगा. यह टूर्नामेंट का 12वां सीजन है. भारत और जर्मनी के अलावा ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और अर्जेंटीना ने भी एक-एक बार खिताब जीता है. ऐसे में अर्जेंटीना के पास भी दूसरा खिताब जीतने का मौका है.

दिन के पहले क्वार्टर फाइनल में जर्मनी ने स्पेन को शूटआउट में 3-1 से हराया. दोनों टीम निर्धारित समय तक 2-2 से बराबरी पर थी. इसके बाद अर्जेंटीना ने नीदरलैंड को 2-1 से पराजित किया. (news18.com)

6 बार का चैम्पियन जर्मनी और अर्जेंटीना सेमीफाइनल में
02-Dec-2021 10:48 AM (30)

भुवनेश्वर. 6 बार के चैंपियन जर्मनी ने स्पेन और अर्जेंटीना ने नीदरलैंड को हराकर बुधवार को यहां एफआईएच जूनियर पुरुष हॉकी विश्व कप के सेमीफाइनल में प्रवेश किया. दिन के पहले क्वार्टर फाइनल में जर्मनी ने स्पेन को शूटआउट में 3-1 से हराया. दोनों टीम निर्धारित समय तक 2-2 से बराबरी पर थी. इसके बाद अर्जेंटीना ने नीदरलैंड को 2-1 से पराजित किया. जर्मनी ने पांचवें मिनट में क्रिस्टोफर कुटेर के पेनल्टी स्ट्रोक पर किये गए गोल की मदद से बढत बना ली. इसके छह मिनट बाद ही हालांकि स्पेन के इग्नासियो अबाजो ने पेनल्टी कॉर्नर पर बराबरी का गोल किया.

अगले दो क्वार्टर में कोई गोल नहीं हो सका. स्पेन ने 59वें मिनट में एडुअर्ड डे इग्नासियो सिमो के गोल की मदद से बढत बना ली. आखिरी सीटी बजने पर जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर मिला जिस पर मासी फांट ने गोल करके मैच को शूटआउट में खींच दिया.

शूटआउट में जर्मनी के लिये पॉल स्मिथ, माइकल स्ट्रथोफ और हानेस म्यूलेर ने गोल दागे जबकि मातेओ पोजारिच चूक गए । वहीं स्पेन के अगाजो, गुइलेरमो फोर्चूनो और सिमो गोल चूक गए जबकि गेरार्ड क्लापेस ने गोल किया. जूनियर विश्व कप के इतिहास की सबसे सफल टीम जर्मनी ने छह बार खिताब जीता है । उसने आखिरी बार 2013 में दिल्ली में खिताब जीता था और 2016 में लखनऊ में कांस्य पदक अपने नाम किया था.

अंतिम आठ के दूसरे मैच में पहले गोल के लिये 24 मिनट तक इंतजार करना पड़ा. तब 2005 के चैंपियन अर्जेंटीना ने जोकिन क्रूगर के गोल की मदद से बढ़त बनायी. लेकिन उसकी यह बढ़त एक मिनट भी नहीं रही। नीदरलैंड के मिलेस बकेन्स ने अगले मिनट में ही पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलकर मध्यांतर तक स्कोर 1-1 से बराबरी पर रखा. नीदरलैंड ने दूसरे हाफ में अच्छी शुरुआत की और लगातार चार पेनल्टी कार्नर हासिल किये लेकिन अर्जेंटीना का रक्षण बेहद मजबूत था और उसने ये खतरे आसानी से टाल दिये. लेकिन नीदरलैंड के तमाम प्रयास तब बेकार साबित हुए जब 59वें मिनट में आत्मघाती गोल करने के कारण उसे हार का सामना करना पड़ा। शेल्डन स्कोटेन ने तब फ्लोरिस मेडनडोर्प का क्रास रोकने के बजाय गोल में भेज दिया था. (news18.com)

सिंधु-श्रीकांत सीधे सेट में पहला मैच जीते, अश्विनी और सिक्की की डबल्स जोड़ी हारी
02-Dec-2021 10:47 AM (26)

 

बाली. भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और किदाम्बी श्रीकांत ने अपने अपने मैच सीधे गेम में जीतकर सत्र के आखिरी बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स में जीत के साथ शुरूआत की. दो बार की ओलंपिक पदक विजेता सिंधू ने डेनमार्क की लाइन क्रिस्टोफरसेन को 21-14, 21-16 से हराया. इससे पहले श्रीकांत ने फ्रांस के टोमा जूनियर पोपोव को ग्रुप बी के मुकाबले में 42 मिनट के भीतर 21-14, 21-16 से हराया. यह टूर्नामेंट जीतने वाली एकमात्र भारतीय सिंधु का सामना अब जर्मनी की वोन्ने लि से होगा. सिंधू ने 2018 में यह खिताब जीता था. महिला युगल में अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी को हालांकि जापान की दूसरी वरीयता प्राप्त नामी मत्सुयामा और चिहारू शिडा की जोड़ी ने 21-14, 21-18 से मात दी.

पुरूष एकल में दुनिया के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी श्रीकांत ने शानदार खेल दिखाते हुए दुनिया के 33वें नंबर के खिलाड़ी को हराया. पहला गेम शुरूआत में करीबी रहा लेकिन ब्रेक तक श्रीकांत ने 11-9 की बढत बना ली. इसके बाद लगातार पांच अंक लेकर स्कोर 16-10 किया और जल्दी यह यह गेम जीत लिया. दूसरे गेम में वह 1-4 से पिछड़ रहे थे. लेकिन जल्दी वापसी करते हुए ब्रेक तक दो अंक की बढत बना ली. यह बढत जल्दी ही 14-9 की हो गई. लेकिन फिर अंतर 19-14 का रह गया.

टोमा के लांग शॉट से श्रीकांत को चार मैच अंक मिले और बेहतरीन नेट प्ले से उन्होंने मुकाबला जीत लिया. अब उनका सामना तीन बार के जूनियर विश्व चैम्पियन थाईलैंड के कुंलावुत वितिदसर्न से होगा.

सिंधु ने शुरू में ही 5-2 की बढत बना ली. लेकिन यह अंतर जल्दी ही घटकर 7-6 का हो गया. सिंधु ने इसके बाद लगातार दस अंक लेकर पहला गेम जीता. दूसरे गेम में लाइन ने बेहतर प्रदर्शन करके 4-2 की बढत बनाई.सिंधू ने ब्रेक के समय 11-10 की बढत ले ली थी. ब्रेक के बाद उसने बढत 17-13 की कर ली और फिर लाइन को कोई मौका नहीं दिया. (news18.com)

चीन में टेनिस टूर्नामेंट स्थगित करने के फ़ैसले के समर्थन में आए जोकोविच
02-Dec-2021 10:40 AM (32)

 

विश्व नंबर वन टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच ने कहा कि वह चीनी महिला खिलाड़ी पेंग शुआई की सुरक्षा के बारे में चिंताओं को लेकर चीन में टूर्नामेंट स्थगित करने के महिला टेनिस संघ के फैसले का "पूरी तरह से" समर्थन करते हैं.

इससे पहले महिला टेनिस को चलाने वाली संस्था वीमेंस टेनिस एसोसिएशन ने चीन में होने वाले सभी टूर्नामेंट तत्काल प्रभाव से स्थगित करने का एलान किया है.

निलंबन की इस कार्रवाई में हांगकांग में होने वाले टूर्नामेंट भी शामिल हैं.

डब्ल्यूटीए प्रमुख स्टीव साइमन ने कहा, " मुझे गंभीर संदेह है कि पेंग के आज़ाद और सुरक्षित होने पर गंभीर संदेह है. ऐसे में मैं अपने एथलीटों को वहां खेलेने के लिए कैसे कह सकता हूं?"

इसके साथ ही डब्ल्यूटीए ने मांग की है कि पेंग के आरोपों की पूरी जांच की जाए.

WTA का यह क़दम वहां की महिला टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई की सुरक्षा को लेकर पैदा हुई चिंता के बाद उठाया गया है.

क्या है मामला

35 साल की पेंग शुआई ने पिछले महीने चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री झांग गाओली पर यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था. उसके बाद वो तीन सप्ताह तक लोगों की नज़रों से गायब हो गईं थीं.

हालांकि उसके बाद वो सामने आईं और अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष थॉमस बाख के साथ वीडियो कॉल के जरिए बातचीत की. उस बातचीत में उन्होंने कहा था कि वो "सुरक्षित और अच्छी" हैं.

इस बारे में डब्ल्यूटीए ने कहा कि वो वीडियो पेंग की सुरक्षा का "पर्याप्त सबूत नहीं" है.

अपने बयान में, स्टीव साइमन ने कहा कि वो 2022 में चीन में होने वाले मुक़ाबलों में खिलाड़ियों और कर्मचारियों को हो सकने वाले ख़तरों को लेकर "बहुत चिंतित" हैं.

उन्होंने कहा, "चीनी नेतृत्व ने इस गंभीर मुद्दे के समाधान का कोई विश्वसनीय प्रयास नहीं किया है. यदि ताक़तवर लोग महिलाओं की आवाज़ों और यौन उत्पीड़न के आरोपों को दबा सकते हैं, तो महिलाओं की समानता के लिए बने डब्ल्यूटीए को इससे बड़ा झटका लगेगा.

साइमन ने कहा, "मैं डब्ल्यूटीए और उसके खिलाड़ियों के साथ ऐसा नहीं होने दूंगा. (bbc.com)

15 साल तक फर्जी गर्लफ्रेंड की 'माया' में तबाह हुआ खिलाड़ी, कर्जा लेकर भेजता था महंगे गिफ्ट
01-Dec-2021 8:57 PM (50)

ब्वॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड के रिश्ते में अगर कोई एक धोखेबाज़ निकल जाए तो दूसरे को इस दर्द से उबरने में काफी वक्त लग जाता है. इटली में एक एक एथलीट के साथ भी ऐसा ही हुआ. उसने 15 साल तक गर्लफ्रेंड के तौर उसने जिस लड़की पर लाखों रुपये खर्च किए, वो लड़की दरअसल उसे जानती ही नहीं थी. सच जानने के बाद खिलाड़ी को ऐसा सदमा लगा है कि बर्दाश्त नहीं कर पा रहा.

रॉबर्टो कैज़ानिगा इटली में जाने-माने वॉलीबॉल प्लेयर हैं. वे अपने खेल के दांव-पेंच के मामले में जितने मशहूर हैं, इस वक्त उतनी ही सुर्खियां बटोर रहे हैं ऑनलाइन फ्रॉड के मामले में. दरअसल रॉबर्टो एक ऐसे ऑनलाइन स्कैम का शिकार हुए हैं, जहां उनके पैसे ही नहीं बल्कि भावनाओं के साथ भी खिलवाड़ किया गया है. ये कहानी न सिर्फ संवेदनशील है बल्कि हर इंटरनेट यूज़र के लिए एक सबक भी है.

कैसे हुआ इतना बड़ा स्कैम ?
रॉबर्टो कैज़ानिगा इस वक्त इटली की Gioia Del Colle वॉलीबॉल क्लब के कैप्टन हैं. उन्हें स्कैमर गर्लफ्रेंड से उनकी एक दोस्त ने मिलवाया था, जो इस पूरे कांड की मास्टरमाइंड थी. इस फेक गर्लफ्रेंड ने अपना नाम ‘माया’ रखा था और ब्राज़ील की सुपरमॉडल एलेसैंड्रा एम्ब्रोसियो की तस्वीर का इस्तेमाल किया था. इटैलियन एथलीट उसके प्यार में पड़ गया और 15 साल तक एक बेहद महंगे रिलेशनशिप को निभाता रहा. उसकी फर्जी गर्लफ्रेंड ने उसे अपनी बीमारी के महंगे ट्रीटमेंट की बात कहके रॉबर्टो से अच्छे-खासे पैसे ऐंठे. इसके अलावा भी रॉबर्टो उसे वक्त-वक्त पर महंगे गिफ्ट भेजता रहता था. हालांकि इस पूरे स्कैम में सबसे अजीब बात तो ये थी रॉबर्टो, ब्राजीलियन मॉडल के मशहूर चेहरे को पहचान नहीं पाए और प्यार के नाम पर लुटते रहे.

दोस्तों ने ही दिया था धोखा
रॉबर्टो अपनी ऑनलाइन गर्लफ्रेंड से कभी मिले भी नहीं और उन्होंने 15 साल में उसके ऊपर $800,000 यानि भारतीय मुद्रा में करीब 6 करोड़ रुपये लुटा दिए थे. इंवेस्टिगेटर्स को पूछताछ में रॉबर्टो ने बताया कि माया ने उन्हें अलग-अलग दिक्कतें बताकर ये पैसे निकलवाए. 42 साल के एथलीट ने अपनी फर्जी गर्लफ्रेंड की फरमाइशें पूरी करने के लिए तमाम कर्जे भी ले रखे हैं. इटैलियन टीवी प्रोग्राम ‘Le Iene’ में वे अपनी कहानी बताते हुए रो पड़े. उनकी इस फेक गर्लफ्रेंड का जब फूटा तो पता चला कि जिसे वे पैसे भेजते रहे वो 50 साल की महिला है और उनके उसी दोस्त की जानने वाली है, जिसने उनका इंट्रो रॉबर्टो से कराया था. इस पूरे स्कैम के पीछे रॉबर्टो की अपनी दोस्त ही थी, जिसने उन्हें बर्बाद कर दिया. (news18.com)

जूनियर हॉकी विश्व कप: बेल्जियम को हराने के लिए भारत का भरोसा ड्रैग फ्लिकरों पर
01-Dec-2021 8:24 PM (29)

भुवनेश्वर. दो धमाकेदार जीत के बाद लय हासिल कर चुकी गत चैम्पियन भारतीय टीम एफआईएच पुरुष जूनियर हॉकी विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में बुधवार को यूरोपीय दिग्गज बेल्जियम के खिलाफ उतरेगी तो उसकी उम्मीदें शानदार फॉर्म में चल रहे अपने ड्रैग फ्लिक विशेषज्ञों पर टिकी होंगी. खिताब की प्रबल दावेदार भारतीय टीम को पहले मैच में फ्रांस ने 5.4 से हराकर उलटफेर कर दिया था. इसके बाद हालांकि भारत ने वापसी करते हुए कनाडा को 13.1 और पोलैंड को 8.2 से हराकर पूल बी में दूसरा स्थान हासिल किया. तीसरी बार खिताब जीतने के लिए भारत को अब हर मैच में उम्दा प्रदर्शन करना होगा.

बेल्जियम के खिलाफ क्वार्टर फाइनल लखनऊ में 2016 में खेले गए फाइनल का दोहराव होगा जिसमें भारत ने 2 . 1 से जीत दर्ज की थी. यह मुकाबला बराबरी का होगा और मौकों को भुनाने में कामयाब रहने वाली टीम ही जीतेगी. भारत के पास उत्तम सिंह, अराइजीत सिंह हुंडल, सुदीप चिरमाको और मनिंदर सिंह जैसे स्ट्राइकर हैं.उत्तम और मनिंदर ने अभी तक शानदार प्रदर्शन किया है। इसके अलावा पेनल्टी कॉर्नर में अनेक विकल्प होनेका भी भारत को फायदा है. उपकप्तान संजय कुमार, हुंडल, शारदानंद तिवारी और अभिषेक लाकड़ा ने गोल किये हैं.

संजय खास तौर पर शानदार फॉर्म में हैं, जिन्होंने फ्रांस और कनाडा के खिलाफ हैट्रिक लगाई. हुंडल ने भी पोलैंड के खिलाफ तीन गोल किए. मिडफील्ड में कप्तान विवेक सागर प्रसाद हैं जो तोक्यो ओलंपिक में ऐतिहासिक कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय सीनियर टीम का हिस्सा थे. डिफेंस को इस मैच में काफी मेहनत करनी होगी क्योंकि बेल्जियम का आक्रमण काफी मजबूत है.

भारत के मुख्य कोच और इस टूर्नामेंट के लिए जूनियर टीम के कोच ग्राहम रीड ने कहा, ”खिलाड़ियों ने बेल्जियम का प्रदर्शन देखा है और वे आत्मविश्वास से ओतप्रोत हैं. उम्मीद है कि हम यह मैच जीतेंगे.” भारतीय कप्तान विवेक ने कहा, ”बेल्जियम बहुत अच्छी टीम है और हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा.”

बेल्जियम ने जूनियर विश्व कप कभी नहीं जीता है और सीनियर टीम की सफलता को दोहराने का उस पर दबाव है. बेल्जियम की सीनियर टीम ओलंपिक और विश्व चैम्पियन है. दिन के अन्य क्वार्टर फाइनल में जर्मनी का सामना स्पेन से, नीदरलैंड का अर्जेंटीना से, फ्रांस का मलेशिया से मुकाबला होगा. (news18.com)

विश्व टूर फाइनल्स में भारत की उम्मीदें सिंधु, लक्ष्य और चिराग-सात्विक पर
01-Dec-2021 8:22 PM (27)

 

बाली. लगातार सेमीफाइनल में हार रही पीवी सिंधु बुधवार से यहां शुरू हो रहे बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स बैडमिंटन में इस सिलसिले को तोड़कर खिताब जीतना चाहेंगी, जबकि युवा लक्ष्य सेन और सात्विक साइराज रंकीरेड्डी तथा चिराग शेट्टी की जोड़ी पर भी सभी की नजरें होंगी. भारत के सात खिलाड़ियों ने इस बार डेढ़ लाख डॉलर ईनामी राशि के साल के आखिरी टूर्नामेंट के लिए क्वॉलिफाई किया है. मिश्रित युगल को छोड़कर भारतीय हर वर्ग में चुनौती पेश करेंगे. अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी महिला युगल में खेलेंगी.

अब तक यह खिताब जीतने वाली एकमात्र भारतीय मौजूदा विश्व चैम्पियन सिंधु पिछले साल फाइनल में पहुंची थी. वह पहले मुकाबले में थाईलैंड की पोर्नपावी चोचुवोंग से खेलेगी. दो बार की ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु टोक्यो ओलंपिक के बाद पिछले तीन टूर्नामेंटों में भी सेमीफाइनल हार चुकी है. उनके ग्रुप ए में शीर्ष दो में रहने की संभावना है, क्योंकि बाकी दो खिलाड़ियों डेनमार्क की लाइन क्रिस्टोफरसेन और जर्मनी की वोन्ने ली के खिलाफ उनका रिकॉर्ड अच्छा है.

एक साल में चार सुपर सीरिज खिताब जीतने वाले चौथे खिलाड़ी श्रीकांत शानदार फॉर्म में हैं, जो इंडोनेशिया मास्टर्स और हाइलो ओपन में सेमीफाइनल तक पहुंचे. वह 2014 में इस टूर्नामेंट में नॉकआउट चरण तक पहुंचे थे और उस प्रदर्शन को दोहराना चाहेंगे. उन्हें पहले दौर में मलेशिया के दूसरी वरीयता प्राप्त ली जी जिया से खेलना है. ग्रुप बी में फ्रांस के टोमा जूनियर पोपोव और थाईलैंड के कुंलावुत वितिदसर्न भी हैं.

पहली बार खेल रहे लक्ष्य और चिराग-सात्विक की जोड़ी को ‘ग्रुप ऑफ डैथ’ मिला है. उनके लिए अगले चरण में क्वॉलिफाई करना आसान नहीं होगा. दो साल पहले पांच खिताब जीत चुके लक्ष्य को ग्रुप ए में शीर्ष वरीयता प्राप्त डेनमार्क के ओलंपिक चैम्पियन विक्टर एक्सेलसेन, दो बार के विश्व चैम्पियन जापान के केंतो मोमोता और डेनमार्क के रास्मस गेमके के साथ रखा गया है.

लक्ष्य को पहले दौर में रास्मस से खेलना है. वहीं दुनिया की 11वें नंबर की जोड़ी सात्विक और चिराग का सामना इंडोनेशिया के शीर्ष वरीयता प्राप्त मार्कस फर्नाल्डी गाइडोन और केवन संजया सुकामुजो से होगा. महिला युगल में अश्विनी और सिक्की की जोड़ी जापान की दूसरी वरीयता प्राप्त नामी मत्सुयामा और चिहारू शिडा से खेलेगी. (news18.com)

 

एक टीम के रूप में हम सब रहाणे और पुजारा का कर रहे समर्थन : म्हाम्ब्रे
01-Dec-2021 3:21 PM (42)

मुंबई, 1 दिसम्बर | भारत के गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे ने बुधवार को कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार को दूसरे टेस्ट मैच से पहले टीम सीनियर बल्लेबाजों अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा का समर्थन कर रही है। उनका मानना है कि यह बल्लेबाज जल्द ही फॉर्म में वापस लौटेंगे। 2021 में खेले गए टेस्ट मैचों में रहाणे ने 21 पारियों में 19.57 की औसत से सिर्फ 411 रन बनाए हैं, जिसमें केवल दो अर्धशतक शामिल हैं।

कानपुर टेस्ट में रहाणे ने 35 और 4 रन का स्कोर बनाया, जिसके बाद उनका बल्लेबाजी औसत 40 से नीचे चला गया।

दूसरी ओर, पुजारा ने 2019 सिडनी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 193 रनों की पारी के बाद से अभी तक शतक नहीं लगाया है।

रहाणे की तरह, पुजारा कानपुर टेस्ट में बल्ले से कमाल करने में असमर्थ रहे, उन्होंने दोनों पारियों में 26 और 22 रन बनाए।

गेंदबाजी कोच ने कहा, "मुझे लगता है कि अजिंक्य और पुजारा दोनों को हम जानते हैं कि उनके पास बहुत अनुभव है। उन्होंने पर्याप्त क्रिकेट खेला और हम एक टीम के रूप में भी जानते हैं कि वे फॉर्म में वापस आने से एक पारी दूर हैं। इसलिए, एक टीम के रूप में हम सब उनका समर्थन कर रहे हैं। (आईएएनएस)

8 टीमों ने 27 खिलाड़ियों को किया रीटेन, एक क्लिक में देखिए किस फ्रेंचाइ‍जी ने किसे रखा अपने साथ
01-Dec-2021 11:28 AM (38)

आईपीएल 2022 (IPL 2022) के लिए रीटेन प्रक्रिया पूरी हो गई है. अब मेगा ऑक्‍शन का कार्यक्रम तय किया जाएगा. मौजूदा 8 फ्रेंचाइजियों ने कुल 27 खिलाड़ियों को रीटेन किया है. आगे देखिए किस फ्रेंचाइ‍जी में किसे रखा अपने साथ

आईपीएल इतिहास की दूसरी सबसे टीम चेन्‍नई सुपर किंग्‍स ने कप्‍तान एमएस धोनी सहित 4 खिलाड़ियों को रीटेन किया है. फ्रेंचाइजी ने ज्यादा पैसा रवींद्र जडेजा पर खर्च किया है. पहले टीम के सबसे महंगे खिलाड़ी धोनी थे.

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने पूर्व कप्‍तान विराट कोहली सहित 3 खिलाड़ियों को रीटेन किया है. इस बार आरसीबी को नया कप्‍तान भी मिलेगा

आईपीएल की सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस ने कप्‍तान रोहित शर्मा सहित 4 खिलाड़ियों को रीटेन किया है.

दिल्‍ली कैपिटल्‍स ने कप्‍तान ऋषभ पंत, अक्षर पटेल, पृथ्‍वी शॉ और एनरिक नॉर्किया को रीटेन किया

पंजाब किंग्‍स ने सिर्फ दो खिलाड़ियों को रिटेन किया है. मयंक अग्रवाल और अर्शदीप सिंह

सनराइजर्स हैदराबाद ने कप्‍तान केन विलियमसन सहित 3 खिलाड़ियों को रीटेन किया

राजस्‍थान रॉयल्‍स ने संजू सैमसन, जोश बटलर और यशस्‍वी जायसवाल को रीटेन किया

कोलकाता नाइट राइडर्स के रीटेन खिलाड़ियों के नामों ने सभी को हैरान किया (news18.com)

सानिया मिर्जा ने कराची की बिरयानी की तारीफ की, लाहौर में पंजाबी में लगाया नारा
01-Dec-2021 9:18 AM (56)

नई दिल्ली. दुनिया की दिग्गज महिला टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा फिलहाल पाकिस्तान में हैं, जहां उनका ससुराल भी है. उनके साथ पति और पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक भी मौजूद हैं. भारत की यह शीर्ष खिलाड़ी अपने परफ्यूम ब्रांड का भी प्रमोशन कर रही हैं. उनका एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

सानिया मिर्जा अपने परफ्यूम के प्रमोशन के दौरान अब पाकिस्तान भी पहुंची हैं. उनका एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है जिसमें वह पंजाबी में नारा लगाती नजर आ रही हैं. जैसे ही वह नारा लगाती है, वहां मौजूद लोग भी शोर मचाते हैं और उस नारे को पूरा करते हैं. अपने स्मैश हिट के लिए मशहूर सानिया मिर्जा लाहौर और कराची भी गईं.

खास बात है कि सानिया मिर्जा भारत में दक्षिणी राज्य हैदराबाद से हैं लेकिन वह पाकिस्तान में पंजाबी में नारा लगा रही है. लाहौर पहुंचने पर उनका जोरदार स्वागत हुआ. उनकी झलक पाने के लिए काफी संख्या में लोग पहुंचे. सानिया मिर्जा ने लाहौर के एक शॉपिंग मॉल में फैंस से बातचीत की. वह जैसे ही नारा लगाती हैं- ‘जिन्ने लाहौर नहीं वेख्या (जिन्होंने लाहौर नहीं देखा है).’ जवाब में फैंस यह कहते हुए नारा पूरा करते हैं, ‘वो जम्मेया ही नहीं (उसका कोई वजूद ही नहीं है).’

वहीं, जब शोएब मलिक और सानिया मिर्जा कराची पहुंचे तो भी काफी लोग पहुंचे. सानिया से जब कराची के सबसे लजीज व्यंजन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि कराची में आकर आलू वाली बिरयानी नहीं खाई तो फिर क्या खाया.’

इस दौरान उनसे पूछा गया, ‘अच्छा तो आपको हमारी बिरयानी का अनुभव है. कैसी लगी आपको कराची वालों की बिरयानी?’ इस पर सानिया ने कहा, ‘देखिए मैं हैदराबाद से हूं, जहां की बिरयानी बहुत मशहूर है. इसका मतलब है कि जब मैं कह रही हूं कि कराची की बिरयानी बहुत अच्छी है तो समझ जाइए कि है कराची की बिरयानी बहुत अच्छी है.’(news18.com)

Previous123456789...224225Next