खेल

Posted Date : 13-Aug-2018
  • दिल्ली, 13 अगस्त : टेस्ट की नंबर 1 टीम के कप्तान, जो ख़ुद बल्लेबाज़ी की रैंकिंग में पहले पायदान पर हैं, जब कहते हैं, इस मैच (लॉर्ड्स टेस्ट) में 'हम हार के ही लायक थे' तो सवाल उठने लाजमी हैं. कप्तान विराट कोहली निराश क्यों हैं, ये स्कोर कार्ड से ही साफ हो जाता है. भारतीय टीम इंग्लैंड के ख़िलाफ टेस्ट सिरीज़ के लॉर्ड्स में खेले गए दूसरे मैच में चौथे दिन ही घुटने टेक बैठी.

    मैच का पहला दिन बारिश की वजह से धुल गया था. इंग्लैंड ने भारत को हराने के लिए सिर्फ़ तीन दिन का वक़्त लिया और सिर्फ़ एक बार बल्लेबाज़ी की.
    दुनिया भर में चर्चित भारतीय बल्लेबाज़ी क्रम के सितारा खिलाड़ी लॉर्ड्स में रन बनाना तो दूर पिच पर टिकने का माद्दा भी नहीं दिखा सके. भारतीय टीम पहली पारी में 35.2 और दूसरी पारी में 47 ओवरों में ही ऑल आउट हो गई.
    पूरी टीम पर भारी वोक्स
    मुरली विजय ने दोनों पारियों में स्कोरर को कोई तकलीफ नहीं दी. यानी ख़ाता ही नहीं खोला. दिनेश कार्तिक ने दोनों पारियों में मिलाकर एक ही रन बनाया. लोकेश राहुल और चेतेश्वर पुजारा दो पारियों में 18-18 रन का ही योगदान दे सके.
    बर्मिंघम में खेले गए पहले टेस्ट मैच की दो पारियों को मिलाकर दो सौ रन बनाने वाले कप्तान के बल्ले से भी लॉर्ड्स में सिर्फ़ 40 रन ही निकले.
    वहीं, इंग्लैंड की ओर से सातवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आए ऑलराउंडर क्रिस वोक्स ने अकेले नाबाद 137 रन बना दिए.
    भारत की पूरी टीम पहली पारी में 107 और दूसरी पारी में 130 रन ही बना सकी.
    हार की क्या है वजह?
    वोक्स के पास सिर्फ 25 टेस्ट का अनुभव है जबकि भारतीय बल्लेबाज़ अनुभव के पैमाने पर कहीं आगे हैं.
    विराट कोहली 68, मुरली विजय और पुजारा 59-59, अजिंक्य रहाणे 47 और शिखर धवन 31 टेस्ट मैच खेल चुके हैं.
    फिर भारतीय बल्लेबाज़ इस कदर नाकाम क्यों हो रहे हैं? क्या वो हालात के मुताबिक ख़ुद को ढाल नहीं पा रहे हैं?
    कोहली को गिराने वाले के पैर में है 'गोली'!
    कप्तान विराट कोहली का जवाब है, "आप बैठकर हालात को दोष नहीं दे सकते."
    तो फिर दिक्कत कहां है? इस सवाल के जवाब में वरिष्ठ खेल पत्रकार अयाज़ मेमन कहते हैं कि इस बात आकलन किया जाना चाहिए कि आखिर ग़लती हो कहां रही है?
    वो कहते हैं, "हम ये नहीं कह सकते कि भारतीय बल्लेबाज़ों के पास प्रतिभा नहीं है. धवन, पुजारा, रहाणे के पास टैलेंट है लेकिन कुछ तो ग़लत हो रहा है और इसकी पड़ताल जरूरी है."
    अयाज़ मेमन जिस ग़लती की ओर इशारा कर रहे हैं, कहीं वो टीम का चयन तो नहीं है?
    भारतीय टीम मैनेजमेंट हर टेस्ट मैच में प्लेइंग इलेवन बदल रहा है. इससे ऐसी तस्वीर उभरती है कि मानो किसी भी खिलाड़ी को ये पता नहीं होता कि वो अगले टेस्ट मैच में खेलेगा या नहीं. इससे खिलाड़ियों के मनोबल पर असर होता है.
    बर्मिंघम में शिखर धवन टीम में थे तो चेतेश्वर पुजारा बैंच पर थे. लॉर्ड्स में पुजारा को मौका मिला तो धवन बाहर हो गए. 18 अगस्त से शुरु होने वाले तीसरे मैच को लेकर भी तय नहीं है कि कौन सा खिलाड़ी बाहर होगा और किसे मौका मिलेगा.
    अयाज़ मेमन कहते हैं, "खेल में मैन मैनेजमेंट की अहम भूमिका होती है. किस खिलाड़ी को किस तरह संभालना है, ये जिम्मेदारी कप्तान को निभानी होती है. कुछ खिलाड़ी टीम के अंदर के मुक़ाबले से डरते हैं. उन्हें ये डर होता है कि कोई और खिलाड़ी मेरी जगह ले सकता है."
    तो क्या भारतीय टीम के खिलाड़ी भी इस दुविधा में घिरे हैं और रन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं?
    अयाज़ मेमन की राय है कि वक़्त रहते इसकी पड़ताल होनी चाहिए.
    वो कहते हैं, "दो मैच हार गए हैं. सिरीज़ हारने की नौबत आ गई है. अगर अब विराट कोहली इस मसले को नहीं सुलझाते हैं तो समस्याएं बढ़ सकती हैं."
    37 टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी कर चुके विराट कोहली ने टीम को 21 बार जीत दिलाई है. लेकिन लगातार दो हार के झटकों ने सबसे ज़्यादा चुनौतियां उनके सामने ही खड़ी की हैं.
    बर्मिंघम में विराट कोहली का बल्ला चला था लेकिन वो टीम को जीत नहीं दिला पाए. भारत को पहले मैच में 31 रन से हार झेलनी पड़ी थी. इससे साफ है कि जीत के लिए दूसरे खिलाड़ियों को भी योगदान करना होगा.
    अयाज़ मेमन को भी लगता है, "अब बोझ कप्तान पर आ गया है. उनकी जिम्मेदारी है कि टीम का चयन सही हो."
    लेकिन, क्या इससे बात बनेगी?
    विराट कोहली कहते हैं, "हम 2-0 से पीछे हैं. हमारे पास एक ही विकल्प है कि सोच सकारात्मक रखें. इसे (स्कोर लाइन को) 2-1 बनाने की कोशिश करें." (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 12-Aug-2018
  • नई दिल्ली, 12 अगस्त : भारतीय गेंदबाजों ने एक बार फिर अपनी टीम के लिए जिम्मेदारी उठाते हुए शानदार प्रदर्शन किया है। लॉर्ड्स टेस्ट के तीसरे दिन जब इंग्लैंड की टीम बैटिंग पर आई, तो इंग्लिश बल्लेबाजों के लिए हालात बेहद आसान थे। शनिवार को लॉर्ड्स के मैदान पर धूप खिली हुई थी और बॉल में वह मूवमेंट नहीं था, जो मैच के दूसरे दिन अंग्रेज बोलरों को हवा और बारिश के संयोग से मिल रहा था। भारतीय बोलर कम स्विंग वाले माहौल में भी बढ़िया गेंदबाजी कर रहे थे। वह बॉल की लेंथ को लंबा रख रहे थे और पिच से सीम कराने की कोशिश कर रहे थे, जिससे इंग्लिश बल्लेबाजों के लिए मुश्किलें पैदा हुईं। हालांकि वे इंग्लिश बोलरों जैसा प्रदर्शन नहीं कर पाए, लेकिन इंग्लिश गेंदबाजों के लिए तब हालात भी अलग थे।  
    टीवी पर देखकर अच्छा लग रहा था कि इंग्लिश बैट्समैन बीट हो रहे हैं। भले ही बॉल कभी विकेट और कभी बैट को छकाते हुए निकल रही थी, लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाज सुरक्षित क्रीज पर दिख रहे थे। कुक को इशांत शर्मा ने एक बेहतरीन बॉल पर आउट किया, तो वहीं मोहम्मद शमी ने भी एक खूबसूरत बॉल पर इंग्लिश कप्तान जो रूट को विकेट के सामने फंसा लिया। सुनील गावसकर ने यह सभी बातें हमारे सहयोगी अखबार 'टाइम्स ऑफ इंडिया' में लिखे अपने कॉलम में कही हैं। 
    भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे दूसरे टेस्ट के तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम ने क्रिस वोक्स के शतक की बदौलत 6 विकेट पर 357 रन बना लिए हैं। इस आधार पर उसकी कुल बढ़त 250 रनों की हो गई है।
    पहले खराब रोशनी के कारण खेल रोका गया और इसके बाद अंपायरों ने तीसरे दिन का खेल समाप्त करने की घोषणा की। क्रिस वोक्स 120 और सैम करन 22 रन बना कर क्रीज पर मौजूद हैं।
    क्रिस वोक्स ने अपनी शानदार शतकीय पारी में अभी तक 169 गेंदों में 18 चौके लगाए हैं, जबकि सैम करन 24 गेंदों में 4 चौके लगाकर खेल रहे हैं। वोक्स के करियर का यह पहला टेस्ट शतक है।
    जॉनी बेयरस्टो और क्रिस वोक्स ने मिलकर जोरदार बैटिंग करते हुए इंग्लैंड को उबार लिया। इन दोनों ने छठे विकेट के लिए 189 रनों की साझेदारी की। इस दौरान क्रिस वोक्स अपनी पहली सेंचुरी लगाने में सफल रहे, जबकि बेयरस्टो 93 रनों के निजी स्कोर पर आउट हो गए। उन्हें हार्दिक पंड्या की बॉल पर दिनेश कार्तिक ने कैच किया। बेयरस्टो ने 144 गेंदों में 12 चौके लगाए।
    भारत की ओर से पेसर मोहम्मद शमी ने तीन और हार्दिक पंड्या ने दो विकेट झटके।
    लॉर्ड्स मैदान पर खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन अपनी अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी। इंग्लैंड ने अपना पहला विकेट 28 के कुल स्कोर पर केटन जेनिंग्स (11) के रूप में खो दिया। जेनिंग्स को मोहम्मद शमी ने पविलियन की राह दिखाई। कुक (21) को चार रन बाद इशांत ने विकेट के पीछे दिनेश कार्तिक के हाथों कैच कराया।
    दार्पण कर रहे ओली पोप ने बिगड़ती दिख रही स्थिति में संयम के साथ बल्लेबाजी की और कप्तान जो रूट के साथ टीम को संभालने की कोशिश की और तीसरे विकेट के लिए 45 रन जोड़े। पोप (28) 77 के कुल स्कोर पर हार्दिक पंड्या की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। उन्होंने 38 गेंदों की पारी में 3 चौके मारे। जो रूट को शमी ने आउट किया और इसी के साथ लंच की घोषणा कर दी गई। दिन के दूसरे सत्र में इंग्लैंड का एकमात्र विकेट जोस बटलर (24) के रूप में गिरा, जिन्हें मोहम्मद शमी ने पगबाधा आउट किया। यह शमी का तीसरा विकेट रहा। जो रूट को शमी ने आउट किया और इसी के साथ लंच की घोषणा कर दी गई। दिन के दूसरे सत्र में इंग्लैंड का एकमात्र विकेट जोस बटलर (24) के रूप में गिरा, जिन्हें मोहम्मद शमी ने पगबाधा आउट किया। यह शमी का तीसरा विकेट रहा।
    अभी तक हार्दिक पंड्या ने भी अच्छी बोलिंग की है और इस बार वह बाउंसर के फेर में न फंसकर आगे बॉल खिलाने की कोशिश कर रहे हैं। वह इस मैच में एक अलग बोलर लगे हैं। ईमानदारी से कहूं, तो बॉल की सीम मूवमेंट के लिए पिच अहम रोल निभाती है लेकिन पंड्या ने अभी तक बल्लेबाजों को आगे बॉल खिलाई है, जिससे बल्लेबाजों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। 
    भारत इस सीरीज में अपना पहला टेस्ट मैच हार गया। विराट कोहली के अलावा पूरी भारतीय बल्लेबाजी फ्लॉप नजर आई। इसके बावजूद टीम इंडिया ने अपनी बैटिंग को मजबूत करने का काम नहीं किया और हर बार की तरह शिखर धवन को एक बार फिर बलि का बकरा बना दिया। उन्होंने कुलदीप यादव को टीम में शामिल किया, ताकि वह अपने स्पिन जाल में इंग्लैंड को फंसा सके, जैसे उन्होंने सीमित ओवर क्रिकेट में यहां किया था। हो सकता है कुलदीप दूसरी पारी में खुद को साबित कर दें। लेकिन इसके लिए उन्हें भारत के लिए स्कोरबोर्ड पर इतने रन चाहिए होंगे, जो इंग्लैंड के सामने कुछ अच्छी चुनौती रख सकें। 
    लेकिन भारतीय बल्लेबाज लाल बॉल से खुद को साबित करने में फ्लॉप हो रहे हैं। साफ दिख रहा है कि लाल बॉल से उनकी प्रैक्टिस पूरी नहीं हुई है और सीमिंग कंडिशंस में खेलने की उनकी तैयारियों में कमी है। सीरीज की तीन पारियों में तो यह साफतौर पर नजर आया है। 
    इस सबके बीच जिमी एंडरसन की बोलिंग की जितनी तारीफ की जाए, वह कम होगी। जिस तरह की शानदार बोलिंग उन्होंने की है वह काबिलेतारीफ है। उन्होंने इंग्लिश कंडिशंस का जमकर फायदा उठाया है और उनकी लेट आउटस्विंग होती बोलें, फास्ट लेग ब्रेक का काम करती हैं। दाएं हाथ के बल्लेबाजों से दूर जाती जिम्मी बॉल ने काफी मुश्किलें पैदा की हैं। इस मैच में उन्हें क्रिस वोक्स का भी भरपूर साथ मिला, जिन्होंने बॉल को अच्छे ढंग से मूव कराया। इसके अलावा लेफ्टहैंडर सैम करन ने भी बॉल को विपरीत दिशा में घुमाकर बल्लेबाजों के पैड्स पर हमला किया। 
    यह ऐसा टेस्ट है, जिसमें अटैक आग से नहीं बल्कि मौसम के बदले रुख के कारण बर्फ से हमला हो रहा है। भारतीय बल्लेबाज जमे हुए नजर आ रहे हैं, जिनके पैर तक नहीं हिल पा रहे हैं। हालांकि यह जरूर कहा जा सकता है कि नई बॉल से इंग्लिश कंडिशंस में इंग्लिश टीम के अटैक को झेलना दुनिया की किसी भी टीम के लिए चुनौतीपूर्ण ही होगा। वोक्स ने जिस ढंग से बोलिंग की, उसमें इस मैच में बेन स्टोक्स की कमी को महसूस नहीं होने दिया। (टाइम्स न्यूज)

    ...
  •  


Posted Date : 09-Aug-2018
  • भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा कुछ ही महीने में बच्चे को जन्म देने वाली हैं। सानिया मिर्जा अपने बेबी बंप के साथ शॉपिंग करने से लेकर अलग-अलग जगहों पर घूमने तक में कोई कसर नहीं छोड़तीं, लेकिन अब उन्होंने कुछ ऐसा किया कि जिसकी सिर्फ उन्हीं से उम्मीद की जा सकती है। सानिया मिर्जा ने बेबी बंप के साथ टेनिस कोर्ट पर उतर गईं और फिर कोर्ट पर कई शॉट्स लगाये। टेनिस प्रैक्टिस के वक्त सानिया अपने दमदार हाथों से बिना दौड़े शॉट्स लगाती रहीं। इस वीडियो को देखने के बाद सोशल मीडिया पर प्रशंसकों ने उनके इस मोटिवेशनल स्टेप के लिए खूब वाहवाही भी की।
    सानिया मिर्जा की इस वीडियो को खुद अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया। इसे शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, मैंने कहा था ना... मुझे इससे दूर नहीं रखा जा सकता... सानिया के इस वीडियो को देखने के बाद एक फैन ने लिखा, धन्य हो...सुपर से ऊपर, भगवान आपको खुश रखे। तो वहीं एक प्रशंसक ने कमेंट किया, मुझे नहीं लगता कि अब भी कोई आपको हरा सकता है। फिलहाल इस वीडियो को देखने के बाद आप भी जरूर इन्सपायर हो जाएंगे। पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी शोएब मलिक की पत्नी सानिया इस समय गर्भवती हैं। दोनों ने अपने बच्चे को मिर्जा-मलिक सरनेम देने का फैसला किया है।
    इस बारे में उन्होंने कहा कि एक महिला होने के नाते और वह जिस मुकाम पर हैं, उसे ध्यान में रखकर उन्होंने यह फैसला लिया है। वह ऐसे परिवार से आती हैं, जहां दो लड़कियां हैं और उनके माता-पिता ने कभी भी भेदभाव नहीं किया। उनके पति भी सानिया की इस सोच से राजी हैं। सानिया ने कहा कि चाहे बेटा हो या बेटी हो, उन्हें उसके नाम के साथ ये दोनों सरनेम मिर्जा-मलिक जोड़कर गर्व महसूस होगा। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 07-Aug-2018
  • कानपुर, 7 अगस्त । क्रिकेट को जेंटलमैन गेम कहा जाता है क्योंकि यहां दोनों टीमों के खिलाड़ी खेल भावना के साथ मैदान में उतरते हैं। हालांकि कभी-कभी हार न बर्दाश्त कर पाने के चलते खिलाडिय़ों के बीच तू-तू, मैं-मैं हो जाती है मगर अंत में सब सही हो जाता है। मगर मैच जीतने की सनक कभी-कभार इतनी भारी पड़ जाती है कि खिलाड़ी वो गलती कर बैठता है जिसकी शायद माफी भी नहीं मिलती। जी हां ऐसा ही एक चर्चित मैच इंग्लैंड में खेला गया। यहां माइनहेड और पर्नेल क्रिकेट क्लबों के बीच एक मैच खेला गया जिसमें पर्नेल के एक गेंदबाज की अजीबोगरीब हरकत पूरी दुनिया में आग की तरह फैल गई।
    दरअसल माइनहेड क्रिकेट क्लब को जीत के लिए 6 रनों की जरूरत थी। क्रीज पर उनकी टीम के युवा बल्लेबाज जे डेरेल 98 रन पर खेल रहे थे। डेरेल का अपने करियर का पहला शतक लगाने में बस 2 रन बाकी थे। उधर गेंद पर्नेल के गेंदबाज के हाथों में थी। हालांकि गेंदबाज का नाम तो सामने नहीं आया मगर उसकी हरकत ने उसे सुर्खियों में जरूर ला दिया। इस गेंदबाज ने डेरेल शतक न बना पाए इसके लिए खुद ही अपने हाथ से गेंद बाउंड्री लाइन के पार फेंक दी। ऐसे में माइनहेड का जीत के लिए जरूर 6 रन बाई के रूप में मिल गए और टीम यह मैच जीत गई। इस हरकत के चलते डेरेल 98 रन पर नाबाद रह गए।
    पर्नेल क्रिकेट क्लब के गेंदबाज की यह बचकाना हरकत सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगी। लोगों ने उस गेंदबाज की खूब बुराई की। हालांक माइनहेड क्रिकेट क्लब ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने पर्नेल के कप्तान द्वारा माफी मांगने की बात कही। ट्वीट में लिखा, यह देखकर अच्छा नहीं लगा, मगर टीम के जीतने पर काफी खुशी है, बल्लेबाज (डेरेल) ने काफी अच्छी पारी खेली। हालांकि पर्नेल के कप्तान ने अपने गेंदबाज की तरफ से बल्लेबाज से माफी मांगी हैं।(एजेंसी)

    ...
  •  


Posted Date : 06-Aug-2018
  • स्पेन, 6 अगस्त। भारत की अंडर-20 फुटबॉल टीम ने स्पेन में चल रहे कोटिफ कप 2018 के एक मुकाबले में अर्जेंटीना की अंडर-20 टीम को 2-1 से हराकर इतिहास रच दिया है। भारत की इस ऐतिहासिक जीत के हीरो अनवर अली रहे जिन्होंने मैच के 68वें मिनट में एक फ्री किक को गोल में बदलकर मैच भारत के पाले में डाल दिया।
    मैच के शुरुआती दौर से ही भारतीय टीम ने अपने पूरे दमखम के साथ अर्जेंटीना के साथ टक्कर लेते हुए पहला गोल कर दिया। भारतीय खिलाड़ी दीपक टांगरी ने अपने सिर का इस्तेमाल करके यानी एक शानदार हेडर खेलते हुए बॉल को अर्जेंटीना के गोल पोस्ट में डाल दिया। 
    अर्जेंटीना जैसी टीम के खिलाफ मैच के शुरुआत में ही गोल करना अपने आप में एक बड़ी बात है क्योंकि इस टीम में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो कई नामी क्लबों में खेल चुके हैं।
    भारत के गोल के बाद अर्जेंटीना की टीम ने दूसरे हाफ के दौरान, मैच में बराबरी करने की काफी कोशिश की लेकिन भारतीय टीम ने अर्जेंटीना के आक्रमण को बेअसर कर दिया।
    इसके बाद 68वें मिनट में भारत की ओर से अनवर अली ने एक फ्री किक को गोल में बदलकर भारत का स्कोर 2-0 कर दिया। लेकिन बस चार मिनट बाद ही अर्जेंटीना ने भारत के ख़ाते में एक गोल डाल दिया।
    इसके बाद लगभग 18 मिनट का खेल शेष था जिसमें अर्जेंटीना को अपना दमख़म दिखाना था जिसके लिए वह जानी जाती है। लेकिन भारतीय खिलाडिय़ों जैसे अनीष राय और जीतू ने आखिर तक मजबूत किलेबंदी को कायम रखा और भारत को 2-1 से जीत दिलाकर इतिहास रच दिया।
    कॉटिफ कप 2018 में इससे पहले भारत मर्सिया अंडर 20 और मॉरिशियाना अंडर 20 के साथ हुए शुरुआती मैचों में हार का सामना कर चुकी है। लेकिन वे वेनेजुएला की अंडर 20 टीम के साथ ड्रॉ करने में सफलता हासिल की।
    अर्जेंटीना की टीम के खिलाफ भारतीय टीम की ये जीत अहम है इसलिए भी है क्योंकि अंडर 20 वल्र्डकप से पहले हो रहा ये टूर्नामेंट एक क्वालिफाईंग राउंड की तरह है। ऐसे में अर्जेंटीना के खिलाफ जीत से भारतीय खिलाडिय़ों को तकनीक समझने और मनोबल ऊंचा रखने में मदद जरूर मिलेगी।  (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 06-Aug-2018
  • नई दिल्ली, 6 अगस्त । भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने दावा किया है कि उन्हें इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का निमंत्रण मिला है। भारतीय समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गावस्कर का कहना है कि अगर वो पाकिस्तान जाएंगे तो पहले सरकार से इस बारे में पूछेंगे।
    पीटीआई ने लिखा है कि एक निजी समाचार चैनल से बातचीत में सुनील गावस्कर ने कहा कि उनके दोस्त इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के एक सीनेटर की तरफ से उन्हें निमंत्रण आया है।
    पाकिस्तान के स्थानीय मीडिया में तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के प्रवक्ता के हवाले से खबरें चल रही हैं कि सोमवार को पीटीआई प्रधानमंत्री के पद के लिए इमरान खान के नाम की आधिकारिक घोषणा कर सकती है। साथ ही कहा जा रहा है कि इमरान ख़ान की कैबिनेट में सिर्फ 15-20 लोगों को रखा जाएगा और वो 11 अगस्त को शपथ लेंगे।
    रविवार को सुनील गावस्कर ने कहा, मुझे इमरान खान की पार्टी की तरफ से फोन आया था। लेकिन अभी तक उनके शपथ ग्रहण समारोह की तारीख तय नहीं हुई है। जब तारीख तय हो जायेगी तो आधिकारिक निमंत्रण आयेगा।
    गावस्कर ने दावा किया कि उन्होंने अभी इस समारोह में जाने का फैसला नहीं किया है। उन्होंने कहा कि वो भारत और इंग्लैंड के बीच तीसरे टेस्ट मुकाबले की वजह से थोड़े व्यस्त हैं और उनका पाकिस्तान जाना मुश्किल है। हालांकि अंत में सुनील गावस्कर ने कहा, मैं जाने से पहले भारत सरकार से भी अनुमति और सलाह लेना चाहूँगा। उसके बाद ही मैं अंतिम फैसला लूंगा। सरकार अनुमति देगी, तो मैं जा सकता हूँ। इससे पहले भारतीय क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने भी इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में जाने की बात कही थी। उन्होंने दावा किया था कि उन्हें इस समारोह का पर्सनल न्योता मिला है। बीबीसी से बातचीत में सिद्धू ने इमरान खान की जमकर तारीफ की थी।
    वहीं कपिल देव भी ये कह चुके हैं कि अगर उन्हें पाकिस्तान से कोई आधिकारिक न्योता मिलता है तो वो पाकिस्तान जरूर जाएंगे। हालांकि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के वरिष्ठ नेता फैसल जावेद ने 2 अगस्त को प्रेस रिलीज जारी कर इस बात से साफ इनकार किया था कि उन्होंने इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में किसी विदेशी फिल्म स्टार या खिलाडिय़ों को आमंत्रित किया है।
    प्रेस रिलीज में फैसल जावेद ने ये भी कहा था कि शपथ ग्रहण समारोह एकदम सादा होगा, क्योंकि उनकी पार्टी टैक्स के पैसे का दुरुपयोग नहीं करना चाहती।(बीबीसी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 05-Aug-2018
  • नानजिंग (चीन), 5 अगस्त । भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु को विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में स्पेन की कैरोलिना मारिन के हाथों 21-19 21-10 से करारी हार मिली है।अनचाही गलतियों के कारण सिंधु एक बार फिर वल्र्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में इतिहास रचने से चूक गईं।

    कैरोलिना मारिन ने विश्व नंबर-3 सिंधु को मात देकर तीसरी बार वल्र्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप का स्वर्ण जीता। मारिन ने सिंधु को 45 मिनटों तक खेले इस खिताबी मुकाबले में सीधे गेमों में 21-19, 21-10 से मात दी।
    इस हार के कारण सिंधु को एक बार फिर रजत पदक से संतोष करना पड़ा। उनका यह दूसरा रजत है। वह दो बार कांस्य पदक भी जीत चुकी हैं।
    पहले गेम में मारिन ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन सिंधु ने भी अपने रणनीतिक खेल के साथ मारिन के खिलाफ 3-3 से बराबरी की। इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने स्पेनिश खिलाड़ी के खिलाफ अंक बटोरने शुरू किए और उसे 15-11 से पीछे कर दिया।
    अपने खेल में तेजी लाते हुए मारिन ने खेल में वापसी की और सिंधु की गलतियों का फायदा उठाते हुए स्कोर 18-18 से बराबर कर लिया। यहां सिंधु ने एक अंक हासिल किया और मारिन के खिलाफ स्कोर 19-20 किया।
    लेकिन दो बार वल्र्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप का स्वर्ण पदक जीत चुकी मारिन ने एक अंक हासिल किया और पहले गेम में सिधु को 21-19 से हरा दिया। दूसरे गेम में सिंधु को वापसी का मौका न देते हुए और मैच पर अपना दबदबा बनाते हुए मारिन ने अंक बटोरने शुरू किए और सिंधु को 11-2 से पीछे किया।
    मारिन ने सिंधु की हर गलती का फायदा उठाया और उनके खिलाफ अंक बटोरते हुए उन्हें दूसरे गेम में 21-19 से मात देकर खिताबी जीत हासिल की।
    मारिन ने तीसरी बार स्वर्ण पदक जीता है। इससे पहले, उन्होंने साल 2014 और 2015 में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। वहीं, सिंधु ने पिछले साल रजत पदक जीता था। उन्हें फाइनल में जापान की नोजोमी ओकुहारा ने मात दी थी। सिंधु ने इसके अलावा, 2013 और 2014 में कांस्य पदक भी जीता है। (आजतक)

    ...
  •  


Posted Date : 05-Aug-2018
  • नई दिल्ली, 5 अगस्त । भारत की अग्रणी बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु लगातार दूसरी बार विश्व चैंपियनशिप के महिला एकल वर्ग के फाइनल में जगह बनाने में सफल रही हैं। फाइनल में आज उनका सामना स्पेन की कैरोलिना मारिन से होगा।
    अभी तक कोई भी भारतीय खिलाड़ी विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक नहीं जीत सका है, ऐसे में सिंधु अगर स्वर्ण जीतने में सफल रहती हैं तो वह इतिहास रच देंगी।
    सिंधु ने पिछले साल भी इस चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया था जहां उन्हें जापान की नोजोमी ओकुहारा से मात खानी पड़ी थी। वहीं मारिन ने चीन की ही बिंगजियाओ को मात देकर तीसरी बार फाइनल में जगह बनाई।
    अब एक बार फिर सिंधु के सामने इस टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीतने का मौका है, लेकिन उनका सामना उस खिलाड़ी से जिससे वो रियो ओलम्पिक-2016 के फाइनल में मात खा चुकी हैं। मारिन ने ही दो साल पहले सिंधु को पहला ओलम्पिक स्वर्ण पदक जीतने से रोक दिया था।
    दोनों के बीच अभी तक कुल 11 मुकाबले हुए हैं जिसमें से छह में मारिन को फतह हासिल हुई है तो पांच बार सिंधु उन्हें शिकस्त देने में कामयाब रही हैं। दोनों के बीच हाल ही में सबसे ताजा भिड़ंत मलेशिया ओपन में हुई थी जहां सिंधु ने मारिन को 22-22, 21-19 से मात दी थी।
    विश्व चैंपियनशिप में दोनों की यह दूसरी भिड़ंत होगी। इससे पहले सिंधु और मारिन 2014 में खेली गई विश्व चैंपियनशिप में भिड़ चुकी हैं जहां मारिन बाजी मार ले गई थीं।
    फाइनल में पहुंच कर हालांकि सिंधु ने अपना दूसरा रजत और कुल चौथा पदक पक्का कर लिया है। अभी तक सिंधु विश्व चैंपियनशिप में तीन पदक अपने नाम कर चुकी हैं। उन्होंने 2013 और 2014 में लगातार दो बार कांस्य पदक जीते थे। वहीं 2017 में पहला रजत पदक अपने नाम किया था।
    सिंधु के लिए यह मुकाबला किसी भी लिहाज से आसान नहीं होगा । शानदार फॉर्म में चल रही मारिन दो बार पहले भी इस टूर्नामेंट का फाइनल खेल चुकी हैं और दोनों बार उन्हें जीत मिली है।
    पहली बार मारिन ने 2014 में चीन की ली झुइरुई को मात दी थी तो वहीं 2015 में भारत की ही सायना नेहवाल को हराया था। दो स्वर्ण के साथ उतरने वाली मारिन पूरे आत्मविश्वास से भरी होंगी ऐसे में सिंधु के लिए उनका सामना करना आसान नहीं होगा। दोनों के बीच हुए बीते मैच बताते हैं कि फाइनल मैच रोमांचक हो सकता है।(आज तक)

    ...
  •  


Posted Date : 04-Aug-2018
  • बर्मिंगम, 4 अगस्त : भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की एक और संघर्षपूर्ण पारी आखिरकार व्यर्थ चली गई। वह दूसरे छोर से समर्थन न मिलने के कारण अपनी टीम को काफी प्रयासों के बाद भी यहां इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में जीत नहीं दिला पाए।  
    इंग्लैंड ने एक छोर से लगातार विकेट लेकर कोहली की जुझारू पारी को जाया कर दिया और भारत को 31 रनों से मात देकर पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली। 
    यह इंग्लैंड के 1000वां टेस्ट मैच था, जिसे जीतकर उसने इस ऐतिहासिक पल को यादगार बना दिया। इंग्लैंड ने चौथी पारी में भारत के सामने 194 रनों का लक्ष्य रखा था। भारतीय बल्लेबाज इंग्लैंड के हालात और पिच से तेज गेंदबाजों को मिल रही मदद के सामने अपने पैर जमा नहीं पाए। पूरी टीम 54.2 ओवरों में 162 रनों पर ढेर होकर मैच हारने पर मजबूर हो गई। 
    कोहली ने अकेले खड़े रहते हुए 93 गेंदों में चार चौकों की मदद से 51 रनों की पारी खेली। उनके अलावा कोई और बल्लेबाज अर्धशतक के आस-पास भी नहीं पहुंच सका। कोहली के बाद भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हार्दिक पंड्या रहे, जिन्होंने 31 रन बनाए। 
    चार विकेट लेने वाले स्टोक्स ने पंड्या को आउट कर भारतीय टीम को समेट इंग्लैंड को जीत दिलाई। इंग्लैंड ने पहली पारी में 287 रन बनाए थे जबकि भारतीय टीम कोहली की 225 गेंदों में 22 चौके और एक छक्के की मदद से खेली गई 149 रनों की पारी के बावजूद 274 रन ही बना सकी। इस लिहाज से मेजबान टीम दूसरी पारी में 13 रनों की बढ़त के साथ उतरी। 
    दूसरी पारी में ईशांत शर्मा (5 विकेट), रविचंद्रन अश्विन (3 विकेट) ने इंग्लैंड को 180 रनों पर समेट दिया और मैच के तीसरे दिन भारत को लक्ष्य का पीछा करने के लिए मैदान पर उतरना पड़ा। भारत के पास हालांकि इस लक्ष्य का हासिल करने का पर्याप्त समय था लेकिन तीसरे दिन ही उसने मुरली विजय (6), शिखर धवन (13), लोकेश राहुल (13), अश्विन (13) अजिंक्य रहाणे (2) के विकेट खो दिए थे। कप्तान के साथ विकेटकीपर दिनेश कार्तिक नाबाद लौटे थे। 
    चौथे दिन जेम्स एंडरसन ने कार्तिक (20) को पहले ही ओवर की आखिरी गेंद पर आउट कर भारत को परेशानी में डाल दिया। मेहमानों की परेशानी तब और बढ़ गई जब कोहली 141 के कुल स्कोर पर बेन स्टोक्स की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। कोहली ने रिव्यू लिया जो असफल रहा। यहां से भारत की हार पक्की लग रही थी। स्टोक्स ने इसी स्कोर पर मोहम्मद शमी को बिना खाता खोले पवेलियन भेज दिया। दो चौकों की मदद से 11 रन बनाने वाले ईशांत भारत के नौवें विकेट के रूप में आउट हुए। उन्हें आदिल राशिद ने आउट किया। 
    अंत में पंड्या ने कोशिश की वो एक छोर पर खड़े रहते हुए टीम को जीत दिलाएं। उन्होंने दूसरे छोर पर खड़े उमेश यादव को स्ट्राइक नहीं लेने दी। दवाब कम करने के लिए उन्होंने कुछ बड़े शॉट्स भी खेले। पंड्या ने 61 गेंदों का सामना किया और चार चौके लगाए, लेकिन स्टोक्स की एक आउट स्विंग गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर स्लिप पर खड़े एलिस्टर कुक के हाथों में चली गई और इंग्लैंड अंतत: इस मुकाबले को जीतने में सफल रही। 
    स्टोक्स के अलावा इंग्लैंड के लिए जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड ने दो-दो विकेट लिए। सैम कुरैन और आदिल राशिद को एक-एक सफलता मिली। इससे पहले, तीसरे दिन ईशांत और अश्विन के आगे इंग्लैंड की बल्लेबाजी नहीं चली। 
    टीम ने एक समय अपने आठ विकेट 135 रनों पर ही खो दिए थे, लेकिन सैम करन ने अंत में तेजी से 65 गेंदों में नौ चौके और दो छक्के जड़ते हुए 63 रनों की पारी खेली इंग्लैंड को 180 के स्कोर तक पहुंचाया। करन ने पहली पारी में भी अहम समय 24 रन बनाए थे। उन्होंने इस मैच में कुल पांच विकेट लिए। अपने हरफनमौला खेल के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। (आईएएनएस)

    ...
  •  


Posted Date : 04-Aug-2018
  • बर्मिंगम टेस्ट: भारत को जीत या हार! फैसला आज
    बर्मिंगम, 4 अगस्त : इंग्लैंड में खेली जा रही 5 टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट में मैच परिणाम की ओर पहुंच चुका है। मैच का पलड़ा किस ओर झुका है, यह कह पाना अभी भी मुश्किल है। लेकिन मैच की मौजूदा परिस्थितियों में इतना साफ है सीरीज का यह मैच ड्रॉ नहीं होगा और किसी एक टीम को जीत, तो दूसरी को हार जरूर मिलेगी। 
    तीसरे दिन का खेल खत्म हुआ, तो यह दोनों टीमों के लिए बराबरी पर ही था। टीम इंडिया 110 रन जोड़कर 5 विकेट गंवा चुकी। इंग्लैंड को लगता है कि उसकी जीत में विराट कोहली खूंटा गाड़े खड़े हैं और अगर उन्होंने विराट नाम का यह खूंटा उखाड़ लिया, तो मैच उनकी जद में होगा। 
    तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद इंग्लैंड के स्टार बोलर जेम्स एंडरसन ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'आज हमारी टीम सोने भी जाएगी, तो सपने में भी यही देखेगी कि हम कोहली को आउट कर रहे हैं।' जिमी एंडरसन ने आगे कहा, 'दुनिया में कोई भी अजेय (जिसे पराजित न किया जा सके) नहीं है। हम उन्हें (कोहली) आउट कर सकते हैं।' एंडरसन ने बेझिझक बताया कि यही उनकी टीम का प्लान है और मैच के चौथे दिन टीम इसी रणनीति पर काम करेगी। बता दें बर्मिंगम टेस्ट को जीतने वाली टीम सीरीज में 1-0 की बढ़त बना लेगी। 
    बर्मिंगम टेस्ट में रोमांच अब और बढ़ गया है। मैच के तीसरे दिन टीम इंडिया को मेजबान टीम ने जीत के लिए 194 रन का लक्ष्य दिया। दिन का खेल खत्म होने तक भारत की आधी टीम पविलियन में थी और अभी स्कोरबोर्ड पर 110 रन ही टंगे हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें मैच के तीसरे दिन के खास पल....
    बर्मिंगम टेस्ट: भारत को जीत या हार! फैसला आज
    मैच के तीसरे दिन इंग्लैंड ने (9/1) विकेट से आगे खेलना शुरू किया, तो अश्विन ने इंग्लैंड के टॉप ऑर्डर पर हमला जारी रखा। उन्होंने कुक (0) के बाद जेनिंग्स (8) और कप्तान जो रूट (14) को भी सस्ते में चलता कर दिया।
    अश्विन थमे, तो विकेल लेने की मशाल तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने अपने हाथ ले ली। इशांत ने इंग्लैंड के 5 बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया। उनके इस कहर की बदौलत इंग्लैंड ने अपने 7 विकेट 87 के स्कोर पर भी गंवा दिए थे। इशांत के लिए यह टेस्ट क्रिकेट में 8वां मौका था, जब उन्होंने किसी पारी में 5 या इससे ज्यादा विकेट अपने नाम किए।
    बर्मिंगम टेस्ट: भारत को जीत या हार! फैसला आज
    पहली पारी में विराट की सेंचुरी के बाद से ही टीम इंडिया नए जोश में दिख रही थी और इंग्लैंड की दूसरी पारी में उसने लाजवाब खेल दिखाया। लेकिन 87 रन पर 7 विकेट गंवा चुकी इंग्लैंड को उसके युवा ऑलराउंडर सैम करन ने संभाला। करन ने पहले आदिल रशीद (16) के साथ मिलकर 8वें विकेट के लिए 48 रन जोड़े और फिर स्टुअर्ट ब्रॉड (11) के साथ 41 रन की पारी खेल इंग्लैंड को दूसरी पारी में सम्मानजनक टोटल तक पहुंचा दिया। 180 के स्कोर पर इंग्लैंड की पारी करन के ही विकेट पर खत्म हुई, लेकिन तब तक सैम करन (63) भारत को एक बार फिर तकलीफ दे चुके थे।
    टीम इंडिया को जीत के लिए 194 रन का टारगेट मिला और इस बार टीम को अपने टॉप ऑर्डर से उम्मीद थी कि वह जीत के लिए छोटे दिख रहे लक्ष्य में अच्छी नींव रखेगी। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इंग्लिश बोलरों ने 46 रन के स्कोर तक भारत का टॉप थ्री पविलियन में पहुंचा दिया। पहले मुरली विजय (6) को और फिर शिखर धवन (13) को ब्रॉड ने अपना शिकार बनाया। इसके बाद बेन स्टोक्स ने केएल राहुल (13) को आउट कर दिया।
    कोहली की सेंचुरी और इशांत की घातक बोलिंग के दम पर इंग्लैंड के हाथ से मैच फिसला जरूर था। लेकिन वापसी करने का रास्ता उसके पास था और उसके बोलरों ने यह कर के भी दिखाया। 78 रन तक आते-आते भारत की आधी टीम पविलियन लौट गई, जबकि अभी भारत को जीत के लिए 116 रन की दरकार थी।
    इस मैच में भारत के लिए राहत की बात सिर्फ इतनी ही है कि उसके शतकवीर कप्तान विराट कोहली 43 रन बनाकर अभी भी नाबाद हैं। दिन का खेल खत्म होने तक भारत 110 रन जोड़ चुका था। विराट के साथ फिलहाल दिनेश कार्तिक (18*) खड़े थे। लेकिन कोहली को सामने वाले छोर से किसी बल्लेबाज से साथ निभाने की उम्मीद है। अभी भारत जीत से 84 रन दूर है और उसके पास कोहली, कार्तिक और हार्दिक पांड्या के रूप में ही प्रमाणित बल्लेबाज बचे हैं। मैच के चौथे दिन भारत से जीत की उम्मीद रहेगी।
    इससे पहले मेजबान इंग्लैंड इस टेस्ट में मजबूत स्थिति में था, जब उसने भारत की पहली पारी में 200 रन की भीतर भारत के 8 खिलाड़ी आउट कर दिए थे। यहां से विराट ने पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ मिलकर भारत की पारी को इंग्लैंड की पहली पारी के करीब पहुंचा दिया। विराट ने टीम इंडिया की इस पारी में 149 रन की पारी खेली और भारत की पारी के कुल स्कोर में आधे से ज्यादा रनों का योगदान दिया। इस पारी के बूते इंग्लैंड मैच में पिछड़ गया और उसकी दूसरी पारी भी 180 रन पर सिमट गई, जिससे भारत को जीत के लिए 194 रन का टारगेट मिला। 
    विराट ने जड़ा शतक, तो फिर ध्वस्त हुए कई रेकॉर्ड
    टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड की सरजमीं पर अपना पहला शतक जड़ा, तो उन्होंने एक बार फिर कई रेकॉर्ड को तोड़कर अपना नाम स्थापित किया। आगे की स्लाइड्स में देखें विराट ने किन-किन रेकॉर्ड पर लिखा अपना नाम...
    इस लीग में विराट कोहली अब तीसरे पायदान पर पहुंच गए हैं। अपना 22वां टेस्ट शतक जमाने वाले कोहली का बतौर कप्तान यह 15वां शतक है। कोहली से आगे साउथ अफ्रीका के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ (25 शतक) पहले स्थान पर और ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोन्टिंग (19) शतक का नाम है।
    विराट कोहली ने अब तक 113 पारियां खेलकर 22 शतक जमा दिए हैं। ये शतक इस प्रकार हैं।
    भारत 10
    ऑस्ट्रेलिया 5
    इंग्लैंड 1
    न्यू जीलैंड 1
    साउथ अफ्रीका 2
    श्री लंका 2
    वेस्ट इंडीज 1
    बांग्लादेश 0
    विराट उन भारतीय खिलाड़ियों में शामिल हो गए हैं, जिन्होंने इंग्लैंड की धरती पर अपने पहले ही टेस्ट में कप्तानी करते हुए फिफ्टी + का रेकॉर्ड बनाया। विराट से पहले विजय हजारे, पटौदी जूनियर, अजित वाडेकर, मोहम्मद अजहरूद्दीन भी ऐसा कर चुके हैं।
    एजबेस्टन के मैदान पर शतकीय पारी खेलने वाले विराट (149) ने यहां भारत की पारी के कुल स्कोर में आधे से ज्यादा रनों का योगदान अकेले दिया। प्रतिशत के लिहाज से भारतीय पारी के 54.37 फीसदी रन विराट ने जोड़े। ऐसा करने वाले वह भारत के दूसरे कप्तान बने हैं। इस मामले में धोनी पहले नंबर पर हैं।
    धोनी (82) ने 2014 में इंग्लैंड के ही खिलाफ ओवल में भारतीय पारी (148) में 55.41 फीसदी रन जोड़े थे।
    विराट ने जड़ा शतक, तो फिर ध्वस्त हुए कई रेकॉर्ड
    इस मैच में शतक जमाने वाले विराट ने इंग्लैंड के खिलाफ 1000 टेस्ट रन का आंकड़ा भी पार कर लिया। इंग्लैंड के खिलाफ 1000+ रन बनाने वाले वह 13वें भारतीय और दुनिया के 119वें बल्लेबाज हैं।
    टीम इंडिया में जब कोई भी दूसरा बल्लेबाज अपने व्यक्तिक स्कोर में 30 का आंकड़ा पार नहीं कर पाया हो और सिर्फ 1 खिलाड़ी ने शतक जमाया हो, तो उस लिहाज से यह दूसरी सबसे बड़ी पारी है। इस पारी में विराट ने 149 रन बनाए, जबकि टीम का दूसरे उच्चतम स्कोरर शिखर धवन (26) रहे।
    इस कड़ी में नंबर 1 के पायदान पर वीवीएस लक्ष्मण का नाम आता है। लक्ष्मण ने 1999-00 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 167 रन की पारी खेली थी। उस मैच में टीम के दूसरे उच्चतम स्कोरर सौरभ गांगुली (25) थे।
    सबसे कम पारियों में 22 टेस्ट शतक जड़ने की बात करें, तो इस श्रेणी में विराट चौथे स्थान पर हैं।
    हालांकि इंग्लिश गेंदबाजों ने टीम इंडिया के बैटिंग टॉप ऑर्डर को एक बार फिर उखाड़ दिया है और अभी भी टीम जीत से 84 रन दूर हैं। एजबेस्टन के मैदान में लगातार हरकत कर रही गेंद पर बाकी के रन बनाना आसान काम नहीं है। बस भारत के लिए राहत यह है कि उसके चैंपियन बल्लेबाज विराट कोहली मैदान पर अभी भी खड़े हुए हैं। इंग्लैंड इस मैच को अपने नाम करने के लिए कोहली का विकेट लेने का पूरा दमखम लगाएगा।  (नवभारतटाइम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 02-Aug-2018
  • जिन 116 से रकम लिए थे उनसे जान का खतरा भी बताया था

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 2 अगस्त। शातिर ठग दवा कारोबारी नवजीत टूटेजा सौ से अधिक लोगों से रकम उधार लिए थे। साथ ही इन कारोबारियों से जान का खतरा भी बताया था। इनमें अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष दिलीप सिंह होरा, कैलाश मोरारका और सचिन मेघानी सहित कई भाजपा नेता शामिल हैं। 
    जांच से जुड़े पुलिस अफसरों ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में बताया कि नवजीत टूटेजा से पूछताछ चल रही है और वस्तु स्थिति की जानकारी ली जा रही है। साथ ही साथ यह भी पता लगाया जा रहा है कि उसने किससे और कितनी रकम ली थी। यह पता चला है कि टूटेजा ने करीब 2 सौ करोड़ से अधिक रकम उधार ली थी। हालांकि बाद में इसको लेकर वह पहले ही एक आवेदन देकर रकम लेने वालों से जान का खतरा बता दिया था। कुल मिलाकर 116 लोगों के नाम सूची में है। 
    सूची में श्री होरा के अलावा सीडी कांड में फंसे कैलाश मोरारका और भाजयूमो का प्रदेश मंत्री सचिन मेघानी का नाम भी है। उसने प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी नलिनेश ठोकने का नाम भी दिया था। ठोकने ने सबसे पहले ही टूटेजा के खिलाफ 61 लाख की धोखाधड़ी की रिपोर्ट लिखाई थी, लेकिन ज्यादातर लोगों ने अब तक रिपोर्ट नहीं लिखाई है। 
    जिन लोगों से रकम लेना और जान का खतरा बताया था, उसने उनके मोबाइल नंबर भी दिए हैं। इनमें सलीम उमरानी, रफीक उमरानी, अनवर, अजय संचेती, बंटी, संजय बजाज, प्रकाश लूनिया, वेंकटेश, सचिन मेघानी, नरेश टेकवानी, किशोर टेकवानी, मनीष वाधवानी, अमित वाधवानी, मनीष अरोरा, बॉबी, सत्या रूपरेला, मोहन लाल जैन, भूपिन्दर सिंह, त्रिलोचन सिंह चावला, विकास नागपाल, हरीश अग्रवाल, कृष्णकुमार, राकेश गोलछा, जोगिन्दर सिंह, गुरविन्दर सिंह जुनेजा, सुनील टेकवानी, अमित वलेचा, प्रकाश लुनावत, रौनत जुनेजा, साक्षी गोपाल, अमित दसानी, सलीम थंबोली, चांडोक, गुरूविन्दर सिंह, कैलाश मुरारका, रिंकु अग्रवाल, रिंकु सलुजा, सुरेश बजाज, गोल्डी, सुबोध जैन, संदीप केडिया, सुनील तनवानी, अमित खंडेलवाल, बलविन्दर सिंह, बीके रोलिंग मिल, बीएस सलूजा, जय अंबे इमरजेंसी, मास्टर आशीष कुमार, मुनेन्द्र सिंह राजपूत, पुष्पा टेकवानी, सिमरन वाधवानी, सुनील कुमार पाण्डेय, सुनील कुमार एण्ड संस, वंदना एनर्जी, सरदार सरबजीत सिंह, कमल जैन, सविता जैन, धनीराम प्रीतम प्लाईवुड, बीना गुप्ता, मधु घनश्याम वलेचा, अभिषेक महेश्वरी , मिताली गुप्ता, अंकित सुशील मुटरेजा, भगवानदास दुलानी, आशीष माहेश्वरी, ज्ञानचंद्र सहडीजा, ईश्वरी बाई अश्वनी, लता छाबरिया, परमानंद छाबरिया, पूजा छाबरिया, अभिनंदन गुप्ता, अंजना जैन, अर्जुन तायल, सीएस इंटरप्राइजेस, देवेन्द्र सिंह सलूजा, दिनेश कुमार जैन, जीआर वलेचा, हरबंधु ठाकुर, जयप्रकाश लोलिया, जुही वासवानी, कड़क सिंह, काजलदेवी टेकवानी, कमलचंद गोलछा, फिरनदेवी टेकवानी, महावीर टेक्स टाइल्स, महावीर टे्रडर्स, मंजू सोलंकी, मोनिका तिवारी, शांता ठोकने, नेहा स्टील, निखिल रंजन घोष, पूजा गुप्ता, प्रकाश कुमार लुलिया, प्रमोद सिंह धारीवाल, रविन्द्र सिंह भदोरिया, संदीप बहल, संजय टेकवानी, श्रद्धा जैन, सिन्ध मेडिकल स्टोर, सुनील कुमार गुप्ता, सुशील तायल, सुनील टेकवानी, विनायक इंटर प्राइजेस, विनोद कुमार जैन, अजीत सिंह राजपाल, हरभजन सिंह राजपाल और हरिओम पैकिंग का नाम शामिल है। 

    ...
  •  


Posted Date : 02-Aug-2018
  • India vs England 1st Test : चाय के बाद का खेल शुरू, विराट और अश्विन हैं क्रीज पर

    बर्मिंघम, 2 अगस्त। टीम इंडिया के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए इंग्‍लैंड की पहली पारी को 287 रन पर समेट दिया है. इंग्‍लैंड ने आज अपने पहले दिन के स्‍कोर 9 विकेट पर 285 रन से आगे खेलना प्रारंभ किया और 89.4 ओवर में पूरी टीम 287 रन बनाकर पेवेलियन लौट गई. आखिरी विकेट सेम कुरेन के रूप में गिरा, जिन्‍हें तेज गेंदबाज मोहम्‍मद शमी ने विकेट के पीछे दिनेश कार्तिक के हाथों कैच कराया.. पहले दिन स्‍टंप के समय इंग्‍लैंड का स्‍कोर 88 ओवर में 9 विकेट पर 285 रन था. उस समय सैम कुरेन 24 और जेम्‍स एंडरसन बिना कोई रन बनाए विकेट पर थे, ले‍किन दिन के दूसरे ही ओवर में कुरेन के आउट होने के साथ उसकी पारी का अंत हो गया. जवाब में दूसरे दिन चाय के बाद भारतीय टीम का स्‍कोर 48.2 ओवर में छह विकेट खोकर 160  रन है. मुरली विजय, केएल राहुल, शिखर धवन, अजिंक्‍य रहाणे, दिनेश कार्तिक और हार्दिक पंड्या आउट हुए हैं. कप्‍तान विराट कोहली 52 और आर. अश्विन 6 रन बनाकर  क्रीज पर हैं.
    दूसरा सेशन: अकेले कोहली संघर्ष करते नजर आए
    लंच के बाद विराट कोहली ने अपनी पारी आक्रामक अंदाज में आगे बढ़ाई और बेन स्‍टोक्‍स के पहले ही ओवर में दो चौके जमा दिए. इंग्‍लैंड के कप्‍तान जो रूट तुरंत कोहली के सामने एंडरसन को गेंदबाजी के लिए ले आए, जिन्‍होंने 2014 के इंग्‍लैंड दौरे में विराट को काफी परेशान किया था. भारतीय टीम के 100 रन 27.3 ओवर में पूरे हुए. लंच के बाद भारत का चौथा विकेट अजिंक्‍य रहाणे (15 रन, 34 गेंद, एक चौका) के रूप में गिरा, जिन्‍हें स्‍टोक्‍स ने तीसरे स्लिप में जेनिंग्‍स से कैच कराया. पहले विकेट के लिए अच्‍छी साझेदारी के बाद चार विकेट जल्‍दी-जल्‍दी गिरने से भारतीय बल्‍लेबाजी मुश्किल में फंस गई थी.स्‍टोक्‍स ने अगले ओवर में विकेटकीपर बल्‍लेबाज दिनेश कार्तिक (0) को भी बोल्‍ड करके भारतीय टीम को निराशा में डुबो दिया. स्‍टोक्‍स का यह 100वां विकेट रहा. इसी ओवर में अम्‍पायर ने हार्दिक पंड्या को भी स्‍टोक्‍स की गेंद पर एलबीडब्‍ल्‍यू दे दिया था लेकिन रिव्‍यू लेकर वे बच गए. पांच विकेट गिरने के बाद किस्‍मत भारतीय टीम का साथ दे रही थी. 31वें ओवर में विराट कोहली को एंडरसन की गेंद पर डेविड मालन ने जीवनदान दिया जबकि अगले ओवर में पहली स्लिप पर कुक ने हार्दिक पंड्या का कैच ड्रॉप कर दिया. इस बार बदनसीब गेंदबाज थे स्‍टोक्‍स. विदेशी मैदान पर भारतीय बल्‍लेबाजों की ऑफ स्‍टंप के बाहर की कमजोरी उजागर हो रही थी.34वें ओवर में पंड्या ने स्‍टोक्‍स को लगातार दो चौके लगाकर दबाव हटाने का प्रयास किया.इस ओवर में 10 रन बने.पारी के 39वें ओवर में कोहली ने स्‍टुअर्ट ब्रॉड को दो चौके लगाए और अपना निजी स्‍कोर 30 रन के पार पहुंचाया.ऐसे समय जब विराट और पंड्या की साझेदारी भारतीय टीम के लिए उम्‍मीद बन रही थी, सेम कुरेन फिर इंग्‍लैंड के लिए कामयाबी लेकर आए.  उन्‍होंने पंड्या को 22 रन के स्‍कोर पर एलबीडब्‍ल्‍यू किया. अगले ओवर में स्‍टोक्‍स को चौका लगाकर विराट ने अपना अर्धशतक पूरा किया, उन्‍होंने इस दौरान 100 गेंद खेलकर 9 चौके लगाए.  50 रन के पार पहुंचने के तुरंत बाद कोहली को इसी ओवर में जीवनदान मिला जब मलान उनका कैच दूसरे स्लिप में नहीं पकड़ पाए.चाय के समय टीम इंडिया का स्‍कोर छह विकेट पर 160 रन था. विराट 53 और अश्विन 6 रन बनाकर क्रीज पर थे.
    विकेट पतन: 50-1 (विजय, 13.4), 54-2 (राहुल, 13.6), 59-3 (धवन, 15.5), 100-4 (रहाणे, 27.4), 100-5 (कार्तिक, 29.2), 148-6 (पंड्या, 45.6)
    भारतीय पारी: कुरेन ने जल्‍दी-जल्‍दी तीन विकेट लिए
    इंग्‍लैंड के 287 रन के जवाब में भारतीय टीम की पारी मुरली विजय और शिखर धवन ने प्रारंभ की. जेम्‍स एंडरसन के पहले ही ओवर में धवन ने तीन रन लेकर अपना खाता खोला. अभ्‍यास मैच में दोनों पारियों में 0 पर आउट हुए धवन के लिए यह रन बड़ी राहत लेकर आए. दूसरे ओवर में विजय ने ब्रॉड को भारतीय पारी का पहला चौका लगाया.पारी के तीसरे ओवर में एंडरसन की गेंद पर विजय के खिलाफ एलबीडब्‍ल्‍यू की अपील हुई. अंपायर के अपील ठुकराने के बाद इंग्‍लैंड ने रिव्‍यू भी लिया लेकिन यहां से भी उसे निराशा मिली. ब्रॉड शुरुआती ओवरों में अपने रनअप से कुछ परेशान नजर आए, उन्‍होंने पहले पांच ओवर में ही दो नोबॉल फेंकी.पारी के छठे ओवर में धवन ने विश्‍वास से भरा शॉट लगाते हुए ब्रॉड की गेंद को बाउंड्री के पार भेज दिया. यह उनका पहला चौका रहा.टीम इंडिया के 50 रन 11.1 ओवर में पूरे हुए.ऐसे समय जब टीम इंडिया की बल्‍लेबाजी मजबूती से आगे बढ़ती नजर आ रही थी, पहले बदलाव के रूप में आए तेज गेंदबाज सेम कुरेन ने जल्‍दी-जल्‍दी तीन विकेट लेकर विराट ब्रिगेड की मुश्किलें बढ़ा दीं. पारी के 14वें ओवर में उन्‍होंने मुरली विजय (20 रन, 45 गेंद, चार चौके) और केएल राहुल (चार रन, दो गेंद, एक चौका ) को आउट किया जबकि अपने अगले यानी पारी के 16वें ओवर में शिखर धवन (26 रन, 46 गेंद, तीन चौके) को आउट कर दिया. एक विकेट पर 50 रन से स्‍कोर देखते ही देखते तीन विकेट पर 59 रन तक पहुंच गया कुरेन ने विजय को एलबीडब्‍ल्‍यू किया जबकि राहुल अत्‍यधिक जोखिम भरा शॉट खेलने के चक्‍कर में बोल्‍ड हुए. धवन को मालान ने कैच किया.लंच के समय टीम इंडिया का स्‍कोर 21 ओवर में तीन विकेट खोकर 76 रन था. कप्‍तान विराट कोहली और अजिंक्‍य रहाणे क्रीज पर थे.
    इंग्‍लैंड की पारी 289 रन पर सिमटी, शमी ने लिया आखिरी विकेट
    मैच के दूसरे दिन आज इंग्‍लैंड ने 9 विकेट पर 285 रन से आगे खेलना प्रारंभ किया. दिन का पहला ओवर ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्निन ने फेंका जिसमें दो रन बने. दिन के दूसरे और पारी के 90वें ओवर की चौथी गेंद पर शमी ने सेम कुरेन (24 रन, 71 गेंद, तीन चौके) को विकेटकीपर कार्तिक से कैच कराते हुए इंग्‍लैंड की पारी का अंत कर दिया.मेजबान इंग्‍लैंड के लिए पहली पारी में कप्‍तान जो रूट (80) और जॉनी बेयरस्‍टॉ (70) ने अर्धशतकीय पारियां खेलीं. ओपनर कीटन जेनिंग्‍स ने भी 42 रन बनाए. भारत की ओर से रविचंद्रन अश्विन ने अब तक सर्वाधिक चार और मोहम्‍मद शमी ने तीन विकेट लिए. उमेश यादव और ईशांत शर्मा ने एक-एक विकेट हासिल किया.
    विकेट पतन: 26-1 (कुक, 8.5), 98-2 (जेनिंग्‍स, 35.1), 112-3 (मालन, 39.3), 216-4 (रूट, 62.3), 223-5 (बेयरस्‍टॉ, 65.6), 224-6 (बटलर, 66.4), 243-7 (स्‍टोक्‍स, 74.1), 278-8 (राशिद, 83.1), 283-9 (ब्रॉड, 84.2), 287-10 (कुरेन, 89.4) (ndtv)

    ...
  •  


Posted Date : 02-Aug-2018
  • नई दिल्ली, 2 अगस्त। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन 2014 के पिछले इंग्लैंड दौरे पर विकेट लेने के लिए तरसते नजर आए थे और दो टेस्ट मैच खेलकर सिर्फ तीन विकेट ही अपने नाम दर्ज कर सके थे। वह दौरा अश्विन के करियर के सबसे खराब दौरे में शुमार होता है। चार साल बाद एक बार फिर भारतीय टीम अब इंग्लैंड के दौरे पर है और ऐसे में अश्विन ने पिछले दौरे की कड़वी यादों को भुलाते हुए इस दौरे का शानदार आगाज किया। अश्विन ने 60 रन देकर चार अहम विकेट झटके, जिसके चलते इंग्लैंड की टीम पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के बर्मिघम में खेले जा रहे पहले टेस्ट के पहले दिन बुधवार को नौ विकेट पर 285 रन का स्कोर ही बना सकी। इस सीरीज़ के पहले ही दिन इस दिग्गज खिलाड़ी ने एक ऐसी उपलब्धि हासिल कर ली, जो आजतक कोई भी भारतीय खिलाड़ी इंग्लैंड में हासिल नहीं कर सका था। 
    अश्विन ने ऐसे रचा इतिहास
    अश्विन ने एजबेस्टन टेस्ट के पहले दिन चार इंग्लिश बल्लेबाज़ों का शिकार किया। इसी के साथ ये किसी भी भारतीय स्पिन गेंदबाज़ द्वारा इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज़ के पहले दिन सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन बन गया। इस मामले में  एशिया के बाहर भले ही चौथे स्थान पर रहे, लेकिन इंग्लैंड की सरजमीं पर उनसे पहले कोई भी टेस्ट सीरीज़ के पहले दिन ये कमाल करने में सफल नहीं हो सका था।

    ...
  •  


Posted Date : 01-Aug-2018
  • बर्मिंघम, 1 अगस्त : टी20 और वनडे सीरीज के बाद अब बारी टेस्‍ट की है. इंग्लैंड के खिलाफ आज पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मैच में जहां भारतीय टीम विदेश दौरों पर खराब प्रदर्शन का ठप्पा हटाने के इरादे से उतरी है वहीं मेजबान की नजरें अपनी सरजमीं पर पांच दिनी क्रिकेट में खोया फॉर्म हासिल करने पर हैं. इंग्लैंड का यह 1000वां टेस्ट है लेकिन दुनिया की नंबर एक भारतीय टीम उसके रंग में भंग डाल सकती है. भारत ने आखिरी बार राहुल द्रविड़ की अगुवाई में 2007 में इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीती थी. हालांकि विराट कोहली की टीम के लिए उस सफलता को दोहरा पाना आसान नहीं होगा. इंग्‍लैंड के कप्‍तान जो रूट ने टॉस जीता और पहले बल्‍लेबाजी करने का निर्णय लिया. इस फैसले के पीछे उनकी मंशा भारतीय टीम को एजबेस्‍टन मैदान पर आखिरी पारी खिलाने की है. लंच के बाद 36 ओवर में इंग्‍लैंड का स्‍कोर दो विकेट खोकर 100  रन है. एलिस्‍टर कुक और कीटन जेनिंग्‍सआउट हुए हैं. कप्‍तान जो रूट 38 और डेविड मालान 2 रन बनाकर क्रीज पर हैं.

    लंच के बाद भारतीय गेंदबाजी की शुरुआत उमेश शर्मा और ईशांत शर्मा ने की. सेट हो चुके जेनिंग्‍स और रूट के खिलाफ ये संघर्ष करते नजर आ रहे थे. इंग्‍लैंड की रन बनाने की गति इस दौरान काफी धीमी रही. 36वें ओवर में तेज गेंदबाज मोहम्‍मद शमी भारत के लिए बहुप्रतीक्षित दूसरी कामयाबी लेकर आए जब उन्‍होंने कीटन जेनिंग्‍स (42 रन, 98 रन, चार चौके) को बोल्‍ड कर दिया.जेनिंग्‍स ने रूट के साथ दूसरे विकेट के लिए 72 रन जोड़े. टीम इंडिया के लिहाज से यह अच्‍छी बात रही कि वह दूसरे सेशन की शुरुआत में ही इस साझेदारी को तोड़ने में सफल हो गई. जेनिंग्‍स की जगह डेविड मालान ने ली.
    विकेट पतन: 26-1 (कुक, 8.5), 98-2 (जेनिंग्‍स, 35.1)
    पहला सेशन: केवल एक विकेट गिरा पाए भारतीय बॉलर
    टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए एलिस्‍टर कुक और कीटन जेनिंग्‍स की जोड़ी ने इंग्‍लैंड की पारी शुरू की. भारतीय गेंदबाजी की शुरुआत उमेश यादव और ईशांत शर्मा ने की. पारी का पहला चौका जेनिंग्‍स ने तीसरे ओवर में उमेश की गेंद पर लगाया. इसके बाद पांचवें ओवर में कुक ने उमेश को दो चौके लगाए.पांच ओवर के बाद स्‍कोर 20 तक तक पहुंच गया था. पारी के छठे ओवर में जेनिंग्‍स को जीवनदान मिला जब स्लिप पर अजिंक्‍य रहाणे कैच नहीं पकड़ पाए. तेज गेंदबाजों को कोई खास प्रभावी न होते देखकर भारतीय कप्‍तान कोहली ने सातवें ओवर से ही ऑफ स्पिनर आर. अश्विन को आक्रमण पर लगा दिया. यह फैसला सही रहा और अश्विन ने अपने दूसरे और पारी के 9वें ओवर में कुक (13) को बोल्‍ड कर दिया. पहले क्रम पर इंग्‍लैंड के कप्‍तान जो रूट बैटिंग के लिए आए. रूट शुरुआत से ही अपनी पारी में विश्‍वास से भरे नजर आए, उन्‍होंने ईशांत की गेंदों पर दो चौके जमाए.14वें ओवर में मोहम्‍मद शमी गेंदबाजी के लिए लाए गए.ड्रिंक्‍स के बाद इंग्‍लैंड के 50 रन 16 ओवर में पूरे हुए. जेनिंग्‍स और रूट की जोड़ी भारत के लिए मुश्किल बन रही थी, ऐसे में 26वें ओवर में हार्दिक पंड्या का गेंदबाजी पर लाया गया.पहले सेशन की बात करें तो भारतीय गेंदबाजों ने निराश किया.लंच के समय 28 ओवर में इंग्‍लैंड का स्‍कोर एक विकेट पर 83 रन था और जेनिंग्‍स 38 और रूट 31 रन बनाकर विकेट पर जमे हुए थे.
    भारतीय टीम की प्‍लेइंग इलेवन में चेतेश्‍वर पुजारा स्‍थान नहीं बना सके हैं. उनकी जगह लोकेश राहुल टीम में लिए गए हैं. अभ्‍यास मैच में दोनों पारियों में शून्‍य पर आउट हुए शिखर धवन प्‍लेइंग इलेवन में हैं. मैच के लिए भारतीय टीम ने चार तेज गेंदबाज उतारे हैं स्पिनर के रूप में केवल रविचंद्रन अश्विन टीम में हैं.
    पहले टेस्ट से पहले आशीष नेहरा ने ईशांत शर्मा को दी 'अहम सलाह'
    गेंदबाजी में रविचंद्रन अश्विन और ईशांत शर्मा के पास काउंटी का अनुभव है. ऐसा माना जा रहा है कि भारतीय गेंदबाजों की तैयारी इस बार बेहतर है. गर्मियों के बाद अब यहां ठंडी हवाएं बह रही हैं. शनिवार से मंगलवार तक यहां भारी बारिश हुई है. ऐसे में पिच पर नमी है. मैदानकर्मियों ने आउटफील्ड पर काफी पानी डाला है और बारिश से नमी भी बनी हुई है. ऐसे में कोहली ने एक स्पिनर अश्विन को उतारा है.
    दोनों टीमें इस प्रकार हैं
    इंग्‍लैंड: एलिस्‍टर कुक, कीटर जेनिंग्‍स, जो रूट (कप्‍तान), डेविड मालान, जॉनी बेयरस्‍टॉ, बेन स्‍टोक्‍स, जोस बटलर, सेम कुरेन, आदिल राशिद, स्‍टुअर्ट ब्रॉड और जेम्‍स एंडरसन.
    भारत: मुरली विजय, शिखर धवन, लोकेश राहुल, विराट कोहली (कप्‍तान), अजिंक्‍य रहाणे, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पंड्या, रविचंद्रन अश्विन, उमेश यादव, मोहम्‍मद शमी और ईशांत शर्मा. (ndtv)

    ...
  •  


Posted Date : 31-Jul-2018
  • नई दिल्ली, 31 जुलाई । क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने पौधे लगाने के साथ इन्हें पानी देते हुए ट्विटर पर अपनी कुछ तस्वीरें शेयर की हैं। इसके साथ ही उन्होंने लिखा है, धरती को हरा-भरा बनाने में मैं आप लोगों से भी सहयोग की उम्मीद करता हूं। सचिन तेंदुलकर ने यह तस्वीरें तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के बेटे केटी रामाराव की तरफ से दिए गए ग्रीन चैलेंज 'हरिता हरमÓ को स्वीकार करते हुए पोस्ट की हैं।
    पौधरोपण करते हुए ऐसी कुछ तस्वीरें वीवीएस लक्ष्मण की तरफ से भी ट्विटर पर देखने को मिली हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह चैलेंज विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के अलावा मिताली राज और पीवी सिंधू जैसे खिलाडिय़ों के लिए भी आगे बढ़ाया है। उधर देश की स्टार शटलर साइना नेहवाल ने इस चुनौती में खुद को शामिल किए जाने के लिए आभार जताते हुए पौधों के साथ अपनी तस्वीरें ट्विटर पर जारी की हैं। उन्होंने भी इस चैलेंज को तापसी पन्नू, श्रद्धा कपूर ईशा गुप्ता जैसी अभिनेत्रियों के लिए आगे बढ़ाया है।
    तेलंगाना के हरिता हरम कार्यक्रम के चौथे चरण की शुरुआत एक अगस्त से होने जा रही है। इस कार्यक्रम के तहत राज्य में हरियाली के स्तर को 23 फीसदी से बढ़ाकर 33 फीसदी तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है। बताया गया है कि इस कार्यक्रम के तहत चार साल के भीतर 
    230 पौधे लगाए जाने का लक्ष्य तय किया है और इस अभियान के अंतर्गत अब तक 80 करोड़ पौधे लगाए जा चुके हैं।
    ग्रीन चैलेंज से पहले मई के महीने में केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने फिटनेस चैलेंज की शुरुआत की थी। इस चैलेंज के साथ खेल, सिनेमा और राजनीति जगत के अलावा कई अन्य क्षेत्रों के चर्चित लोगों ने व्यायाम करते हुए ट्विटर पर अपनी तस्वीरें शेयर की थीं। यही नहीं भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के फिटनेस चैलेंज को स्वीकार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी व्यायाम करते हुए अपनी कुछ तस्वीरें ट्विटर पर शेयर की थीं।(इंडियन एक्सप्रेस)

     

    ...
  •