खेल

14-Oct-2021 10:08 AM (17)

नई दिल्ली. साओ पाउलो. ब्राजील की फुटबॉल टीम के खिलाड़ियों ने अपने साथी नेमार से अगले साल कतर में होने वाले विश्व कप के बाद भी अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में बने रहने का आग्रह किया है. नेमार ने इस सप्ताह के शुरू में दिये एक साक्षात्कार में कहा था कि विश्व कप 2022 उनका ब्राजील की तरफ से आखिरी टूर्नामेंट हो सकता है. क्योंकि वह नहीं जानते कि इसके बाद भी वह अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में खेलने के लिये मानसिक रूप से तैयार हो पाएंगे या नहीं.

उनके साथियों ने कहा कि ब्राजील का सबसे बड़ा स्टार होने के कारण वह नेमार पर पड़ने वाले दबाव को समझते हैं. नेमार क्लब स्तर पर अभी पेरिस सेंट जर्मेन की तरफ से खेलते हैं.

ब्राजील को अभी नेमार की जरूरत है: फ्रेड
मिडफील्डर फ्रेड ने कहा कि हम चाहते हैं कि वह वर्षों तक हमारे साथ बने रहे. लेकिन किसी और की मानसिक स्थिति के बारे में बात करना मुश्किल है. कभी-कभी खिलाड़ियों को भारी दबाव का सामना करना पड़ता है. न केवल नेमार, बल्कि (लियोनेल) मेसी, क्रिस्टियानो रोनाल्डो. हम उसे टीम में चाहते हैं, वह ब्राजील के सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक है.

नेमार पर बेहतर प्रदर्शन का है दबाव
नेमार के करीबी मित्र डिफेंडर थियगो सिल्वा ने कहा कि इस स्टार फुटबॉलर पर अन्य खिलाड़ियों की तुलना में दबाव अनुचित है. नेमार रविवार को कोलंबिया के खिलाफ गोलरहित ड्रा खेलने के बाद चुपचाप मैदान से बाहर चले गये थे.

नेमार को खेल का मजा उठाना चाहिए: सिल्वा
सिल्वा ने गुरुवार को उरुग्वे के खिलाफ ब्राजील के विश्व कप क्वालीफाईंग मैच से पहले कहा कि उसने (नेमार) मैदान पर जो कुछ किया हम उसे भूल जाते हैं और जो महत्वपूर्ण नहीं है उस पर ध्यान केंद्रित करते हैं. वह खुद पर बहुत दबाव बनाता है. उम्मीद है कि वह खेल का आनंद उठाना जारी रखेगा.

नेमार जुलाई में ब्राजील के लिए कोपा अमेरिका का खिताब जीतने में नाकाम रहे थे. फाइनल में टीम को अर्जेंटीना से हार मिली थी. इसके बाद क्लब सीजन में भी नेमार की शुरुआत अच्छी नहीं रही. अभी तक नेमार ने दो विश्व कप खेले हैं और दोनों में ही उनका प्रदर्शन फीका ही रहा है. (news18.com)


14-Oct-2021 8:40 AM (31)

दुबई, 14 अक्टूबर| भारतीय कप्तान विराट कोहली की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2016 के पुरुष टी20 विश्व कप में नाबाद 82 रनों की पारी को आईसीसी पुरुष टी20 विश्व कप इतिहास में 'ग्रेटेस्ट मोमेंट्स' का खिताब दिया गया। उनकी दस्तक कार्लोस ब्रेथवेट के दिवंगत ब्लिट्जक्रेग के खिलाफ थी, जहां उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम ओवर में 24 रन बनाए और वेस्ट इंडीज को 2016 पुरुष टी 20 विश्व कप ट्रॉफी में ले गए। कोहली की पारी ने 68 फीसदी वोटों से मुकाबला जीत लिया। मैच की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया ने 2016 में मोहाली में सुपर 10 चरण के ग्रुप 2 के आखिरी मैच में भारत का सामना किया था। लेकिन दोनों टीमों का अभियान इस तरह चला कि उनका आखिरी ग्रुप स्टेज मैच दोनों टीमों के लिए करो या मरो की स्थिति पेश कर गया। भारत को न्यूजीलैंड के साथ सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 161 रन चाहिए थे।

मेजबान टीम आठ ओवरों में 49/3 पर सिमट गई और युवराज सिंह को अपना टखना घुमाते और दर्द से लंगड़ाते देखा गया। लेकिन कोहली के क्रीज पर आने के बाद कमेंट्री बॉक्स से नासिर हुसैन ने कहा था, "जितना बड़ा मौका होगा, कोहली उतना ही अधिक योगदान देना चाहेंगे।"

कोहली ने भारत के साथ 39 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा करने के लिए सतर्कता के साथ अपनी पारी खेली और फिर 21 गेंदों में 45 रन की आवश्यकता थी। कोहली ने अगले ओवर में जेम्स फॉल्कनर को 19 रन पर ले जाने के लिए तुरंत गियर बदल दिए, जिससे आवश्यक रन-रेट 10 हो गया। अंतिम दो ओवरों में 19 की जरूरत के साथ, कोहली ने नाथन कूल्टर-नाइल के खिलाफ चार चौके लगाए।

अगले ओवर की शुरुआत में, कप्तान एमएस धोनी ने लॉन्ग-ऑन पर एक स्लॉग के साथ मैच का अंत किया, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं था कि कौन एक अविस्मरणीय बल्लेबाजी मास्टरक्लास लाया और ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए 51 गेंदों पर 82 रन बनाकर नाबाद रहे। कोहली का जोश भरा जश्न बताता है कि जीत और दस्तक उनके लिए कितनी मायने रखती है। (आईएएनएस)


13-Oct-2021 8:42 PM (31)

 नई दिल्ली, 13 अक्टूबर | भारतीय एथलीट हिमा दास ने बुधवार को खुलासा करते हुए कहा है कि वह कोरोना वायरस की चपेट में आ गई हैं और आईसोलेशन में हैं। 21 वर्षीय स्पिरिंटर ने हाल ही में पटियाला में राष्ट्रीय खेल संस्थान (एनआईएस) में राष्ट्रीय शिविर के लिए रिपोर्ट किया था और वह अपनी ट्रेनिंग शुरू करने वाली थीं। हालांकि, पटियाला पहुंचने पर उनमें हल्के लक्षण दिख रहे थे।

हिमा ने ट्वीट कर कहा, "मैं सभी लोगों को बताना चाहती हूं कि मैं कोरोना पॉजिटिव पाई गई हूं। मैं ठीक हूं और इस वक्त आईसोलेशन में हूं। मैं समय का उपयोग ठीक होने के लिए करूंगी और पहले से भी ज्यादा मजबूत होकर वापस लौटूंगी। सभी लोग सुरक्षित रहें और मास्क पहनें।"

हिमा ने आखिरी बार ओलंपिक क्वालीफाइंग इवेंट, इंटर स्टेट मीट में हिस्सा लिया था, जहां उन्हें 100 मीटर हीट्स में हैम्सट्रिंग चोट आई थी। इसके बाद वह 100 मीटर फाइनल्स और चार गुणा 100 मीटर महिला रिले से हट गई थीं लेकिन 200 मीटर फाइनल्स में उन्होंने हिस्सा लिया था।

क्वाफिकेशन मार्क को मिस करने की वजह से हिमा 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई थीं। (आईएएनएस)


13-Oct-2021 8:41 PM (34)

दुबई, 13 अक्टूबर | दिल्ली कैपिटल्स के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग का मानना है कि उनकी टीम आईपीएल 2021 की ट्रॉफी जीत सकती है। उन्होंने साथ ही कहा कि ट्रॉफी जीतना ही कारण है जिसके लिए वह और उनके खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में खेल रहे हैं।

दिल्ली की टीम अंक तालिका में शीर्ष पर थी और उसे आज फाइनल में पहुंचने के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के खिलाफ मुकाबला खेलना है।

पोंटिंन ने फ्रेंचाइजी के जरिए ट्वीट किए गए वीडियो में कहा, "मैं दिल्ली के साथ तीन साल से हूं। पहले साल जब मैं यहां आया तो हम आखिरी स्थान पर रहे। दो साल पहले तीसरे स्थान पर रहे और पिछली बार हम उपविजेता बने। मुझे लगता है कि हम आईपीएल जीत सकते हैं और इसके लिए मैं और खिलाड़ी यहां आए हैं।"

उन्होंने कहा, "कई साल पहले जो दिल्ली थी उससे अलग आज की टीम है। इसका कारण फ्रेंचाइजी ने जो खिलाड़ी लिए हैं वो है। हम उन चार शब्दों का पालन करते हैं जो मैंने कहा, रवैया, प्रयास, प्रतिबद्धता और देखभाल। हम बेहतर करेंगे।"

पोंटिंग ने कहा, "मैं यहां खिताब जीतने के लिए हूं। हम काफी करीब हैं, यह अच्छा सीजन रहा है। बेहतर सीजन नहीं रहे हैं क्योंकि हमने खिताब नहीं जीता है। मुझे कुछ प्रयास और रवैया दिखाएं और प्रतिबद्धता दर्शाएं।"(आईएएनएस)


13-Oct-2021 2:21 PM (28)

नई दिल्ली. पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने एक और हैट्रिक जमाकर अपनी टीम को विश्व कप फुटबॉल क्वालीफायर्स में आसान जीत दिलायी. दूसरी ओर डेनमार्क ने एक और जीत से कतर में अगले साल होने वाले टूर्नामेंट में अपनी जगह पक्की की. यूरोपीय क्वालीफायर्स के मैचों में इंग्लैंड और हंगरी के बीच खेले गये मैच में दर्शकों ने व्यवधान डाला, लेकिन फैरो में खेले गये मैच में रोनाल्डो की चली जिन्होंने क्लब और अपने देश की तरफ से करियर की कुल 58वीं हैट्रिक जमायी.

इससे रोनाल्डो के अंतरराष्ट्रीय गोल की संख्या का रिकार्ड 115 पर पहुंच गया है. पुर्तगाल ने उनके करिश्माई प्रदर्शन से इस मैच में लक्समबर्ग को 5-0 से करारी शिकस्त दी. अपना 182वां अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे रोनाल्डो की यह पुर्तगाल की तरफ से 10वीं हैट्रिक है. रोनाल्डो ने आठवें और 13वें मिनट में पेनल्टी पर गोल किये और 87वें मिनट में हैट्रिक पूरी की. पुर्तगाल की तरफ से अन्य दो गोल ब्रूनो फर्नाडिस और जोओ पालिन्हा ने किये. इस जीत के बावजूद पुर्तगाल ग्रुप ए में सर्बिया से अंक पीछे है लेकिन उसने एक मैच कम खेला है. सर्बिया ने एक अन्य मैच में अजरबेजान को 3-1 से हराया. प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष पर रहने वाली टीम विश्व कप के लिये सीधे क्वालीफाई करेगी जबकि दूसरे स्थान की टीम प्लेऑफ में खेलेगी.

इस बीच डेनमार्क यूरोपीय देशों में विश्व कप के लिये क्वालीफाई करने वाला दूसरा देश बन गया है. उसने कोपेनहेगेन में खेले गये मैच में जोकिम मेहले के दूसरे हाफ में किये गये गोल की मदद से ऑस्ट्रिया को 1-0 से हराया. डेनमार्क की यह लगातार आठवीं जीत है जिससे उसने ग्रुप एफ में अपना शीर्ष स्थान सुनिश्चित किया. जर्मनी यूरोप से क्वालीफाई करने वाला पहला देश था. डेनमार्क ने दूसरे नंबर की टीम स्कॉटलैंड पर सात अंक की अजेय बढ़त हासिल कर ली है. स्कॉटलैंड ने फैरो आइलैंड पर 1-0 से जीत दर्ज की और दूसरे स्थान पर रहने का अपना दावा मजबूत किया. वह तीसरे स्थान की टीम इजराइल से चार अंक आगे है जिसने मोलदोवा को 2-1 से हराया.

इंग्लैंड के पास भी क्वालीफाई करने का मौका था लेकिन वेम्ब्ले स्टेडियम में खेले गये मैच में हंगरी ने उसे 1-1 से ड्रॉ़ पर रोक दिया. इस मैच के शुरू में पुलिसकर्मियों और हंगरी के समर्थकों के बीच झड़प हो गयी थी. हंगरी के प्रशंसक नस्लीय टिप्पणियां कर रहे थे. इंग्लैंड ग्रुप आई में शीर्ष पर है. वह दूसरे स्थान की टीम पोलैंड से तीन अंक आगे है. पोलैंड ने एक अन्य मैच में अल्बानिया को 1-0 से पराजित किया. स्वीडन ग्रुप बी में यूनान पर 2-0 की जीत से स्पेन से आगे शीर्ष पर पहुंच गया है जबकि ग्रुप सी में स्विट्जरलैंड ने लिथुवानिया पर 4-0 की जीत से अपने अंकों की संख्या इटली के बराबर पहुंचा दी है. इटली गोल अंतर में हालांकि आगे है. (news18.com)


13-Oct-2021 2:19 PM (39)

नई दिल्ली. भारत की स्टार स्प्रिंटर हिमा दास कोरोना पॉजिटिव पाईं गईं हैं. वो पटियाला में ट्रेनिंग के लिए पहुंचीं हुईं थीं. लेकिन उससे पहले हुए कोरोना टेस्ट में वो पॉजिटिव पाई गईं हैं. हिमा टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाईं थीं. इसके बाद उन्होंने अपनी मांसपेशियों में खिंचाव के कारण ट्रैक से ब्रेक ले लिया था.

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में स्थानीय कोच के हवाले से लिखा है कि हिमा 10 अक्टूबर को पटियाला आई थीं. वो 8 और 9 अक्टूबर को गुवाहाटी में थीं. जहां उन्हें थोड़ी थकान महसूस हुई थी. हमने सोचा कि चिंता की कोई बात नहीं है. पटियाला में किए गए अनिवार्य टेस्ट में वह पॉजिटिव पाईं गईं हैं.

हिमा का अगला लक्ष्य कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स
हिमा के मीडिया मैनेजर ने बताया कि उनके स्वास्थ को लेकर चिंता जैसी कोई बात नहीं है. नेशनल कैम्प अक्टूबर के आखिरी हफ्ते में शुरू होना है. लेकिन हिमा यहां जल्दी पहुंच गईं. बाकी के खिलाड़ी आने वाले कुछ दिनों में नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स पटियाला पहुंचेंगे. 400 मीटर के मुख्य कोच गालिना बुखारिना ने कहा, “वह (हिमा) यहां पर हैं और फॉर्म में लौटने के लिए ट्रेनिंग करना चाहती हैं.” उनका अगला लक्ष्य कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स है. वो इन प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन करना चाहती हैं.

हिमा टोक्यो ओलंपिक में क्वालिफाई नहीं कर पाईं थीं
टोक्यो ओलंपिक से पहले हिमा दास शानदार फॉर्म में थीं. उन्होंने मार्च में फेडरेशन कप मे 23.21 सेकेंड का समय निकाला था. लेकिन ओलिंपिक का क्वालिफाइंग मार्क (22.80 सेकेंड) को हासिल नहीं कर पाई थीं. इसके बाद मांसपेशियों में आई चोट के कारण उनका अभियान को झटका लगा था. हिमा डॉक्टर की सलाह के बिना चोट के बावजूद अंतरराज्यीय मीट में 200 मीटर रेस में दौड़ी थीं. लेकिन पोडियम तक नहीं पहुंच पाई थीं. (news18.com)


13-Oct-2021 2:11 PM (33)

-विमल कुमार

नई दिल्ली. दिल्ली कैपिटल्स के तेज गेंदबाज एनरिक नॉर्किया ने अपनी रफ्तार से इस सीजन भले ही किसी को नहीं चौंकाया हो लेकिन जिस सधे हुए अंदाज में उन्होंने दिग्गज बल्लेबाजों का रन बनाने से रोका है वो हैरान करने वाला रहा है. लेकिन, उससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि नॉर्किया ने दिल्ली के ड्रेसिंग रुम में हिंदी भी सीखनी शुरू कर दी है और उनका सबसे पसंदीदा शब्द ‘शुक्रिया’ है. इस शब्द के चलते नॉर्किया कई परेशानियों से बच जाते हैं.

नॉर्किया के नाम का उच्चारण हर किसी के बस में नहीं!
न्यूज 18 हिंदी ने जब नॉर्किया से पूछा कि क्या साथी खिलाड़ी उनके नाम का उच्चारण ठीक से कर पा रहे हैं? 27 साल के नॉर्किया ने इस सवाल पर हंसते हुए कहा, “ हाहा, हां ये मानता हूं कि मेरे नाम का एकदम सही उच्चारण करना सबके लिए संभव नहीं है लेकिन इससे क्या फर्क पड़ता है. मुझे जरा भी परेशानी नहीं है लेकिन इतना जरूर कहूंगा कि मेरे दोस्तों ने मुझे सही तरीके से पुकारने का रास्ता ढूंढ ही लिया है”

छोटे शहर का एक बड़ा गेंदबाज़
दक्षिण अफ्रीका के इस उभरते हुए तेज गेंदबाज की कहानी क्रिकेट के मैदान के बाहर भी काफी दिलचस्प है. पोर्ट एलिजाबेथ से दूर एक छोटे से कस्बे से आने वाले नॉर्किया के हीरो डेल स्टेन थे जो खुद छोटे शहर से आते थे और उन्हें भरोसा दिया कि वो भी कमाल कर सकते हैं. वैसे, ब्रेट ली की रफ्तार ने भी नॉर्किया को बचपन में काफी प्रभावित किया. इस साल के शुरुआत में जब आईपीएल का आयोजन हुआ तो पहले 7 मैचों में नॉर्किया को एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला लेकिन जैसे ही 144 दिनों के बाद संयुक्त अरब अमीरात में दोबारा आईपीएल शुरु हुआ तो नॉर्किया को नजरअंदाज करना मुश्किल था. इस गेंदबाज ने यूएई में ही पिछले सीजन तहलका मचाते हुए 22 विकेट झटके थे.

इस सीजन में नॉर्किया और खतरनाक हो गये हैं क्योंकि भले ही उन्होंने 7 मैचों में सिर्फ 10 विकेट लिए हो लेकिन उनका इकॉनोमी रेट 5.93 का है. उनका इकॉनामी रेट यह 10 या उससे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों में सबसे किफायती है. पिछले सीजन नॉर्किया ने 8.39 रन प्रति ओवर खर्च किये थे तो अचानक ऐसा बदलाव आया कैसे? इस सवाल पर नॉर्किया कहते हैं, ”हकीकत बयां करूं तो वाकई में मैंने कुछ विशेष बदलाव नहीं किये. देखिये, भले ही आपके पास 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकने की काबिलियत हो लेकिन तब भी आपकी पिटाई हो सकती है. आपको हमेशा बुनियादी बातों का ख्याल रखना पड़ता है जिससे कि आप भटके नहीं,” नॉर्किया ने इस साल दिल्ली कैपिटल्स को प्लेऑफ तक ले जाने में अहम किरदार निभाया है.

टेस्ट क्रिकेट ही है कौशल की असली चुनौती
नई पीढ़ी के क्रिकेटर को भले ही टी20 फॉर्मेट पंसद हैं जहां पर कम मेहनत से नाम भी जल्दी कमाया जा सकता है और पैसे भी. लेकिन, नॉर्किया के लिए उनके करियर में प्राथमिकता टेस्ट क्रिकेट ही है. 47 टेस्ट विकेट झटक चुके इस अफ्रीकी गेंदबाज का कहना है, ”टी20 से निश्चित तौर पर युवा तेज गेंदबाजों को पूरी दुनिया में बहुत मौके मिले हैं जहां सिर्फ 4 ओवर की गेंदबाजी करके काफी कुछ हासिल किया जा सकता है लेकिन मेरे लिए तो सबसे मजेदार लाल गेंद की क्रिकेट ही है. यहां आपको काफी संतुलित बने रहना पड़ता है और वो भी लंबे समय के लिए. हर दूसरे दिन अपनी ऊर्जा को खर्च करने का तरीका भी अलग होता है”

भारत के साथ नॉर्किया का एक खास नाता
नॉर्किया ये मानते हैं कि भारत के साथ उनका एक खास नाता है क्योंकि पहली बार वो दक्षिण अफ्रीका ए टीम के साथ उन्होंने 2018-2019 के दौरे पर 24 विकेट लिए और सुर्खियां बटोंरी. इस दौरे को याद करते हुए नॉर्किया कहते हैं, “भारतीय पिचों के बारे में मैनें काफी कुछ सुन रखा था कि ये तेज गेंदबाजों के लिए कितने कठिन होते हैं लेकिन सच्चाई कहूं तो उस दौरे पर मुझे हरी पिचों पर गेंदबाजी करने का मौका मिला था. लेकिन मुझे भारत दौरे से काफी कुछ सीखने को मिला था.”

इत्तेफाक से इस गेंदबाज ने अपना पहला टेस्ट भी भारत के ही खिलाफ ही पुणे में खेला था. क्रिकेट के मैदान के बाहर भी नॉर्किया एक बेहतरीन स्टूडेंट रहे हैं. उन्होंने नेल्सन मंडेला यूनिवर्सिटी से फाइनेंशियल प्लानिंग का कोर्स भी किया हुआ है. नॉर्किया अपनी पढ़ाई के बारे में कहते हैं, “जब मैं चोटिल था तो मैनें इस समय का उपयोग अपनी पढ़ाई पूरा करने में लगाया. मैंने कोई नौकरी नहीं कि है क्योंकि क्रिकेट हमेशा से मेरी सबसे बड़ी प्राथमिकता रही है.”

क्रिकेट के मैदान पर जब प्राथमिकता का सवाल उठाते हुए जब नॉर्किया से ये पूछा कि आप विराट कोहली या क्रिस गेल का विकेट 10 रनों के भीतर लेना चाहेंगे या फिर इस बात पर खुश होंगे कि वो आपकी गेंदों पर धीमे स्ट्राइक रेट से ही रन बना रहे हों? अगर ऐसा किसी टी20 मुकाबले में होता है तो उनकी रणनीति क्या रहेगी? नॉर्किया ने कहा, “ देखिये, ये तो उस बात पर निर्भर करेगा कि पिच कैसी है और मैच के हालात कैसे हैं. लेकिन, किसी भी मशहूर नाम को जल्दी से जल्दी पवेलियन वापस भेजना ही हमेशा सबसे पहली पसंद होगी.”

आवेश खान के फैन हैं नॉर्किया
इस सीजन में नॉर्किया के साथी गेंदबाज आवेश खान ने अब तक 23 विकेट लिए हैं जो हर्षल पटेल (32) के बाद सबसे ज्यादा है. आवेश की गेंदबाजी पर नॉर्किया कहते हैं, “आवेश ने अब तक क्या शानदार गेंदबाजी की है. उनकी रफ्तार, बाउंसर, यार्कर और गेंदबाजी में हर तरह की विविधता बेहद खास है. निश्चित तौर पर वो भारत के लिए भविष्य के स्टार हैं.” नॉर्किया ने उम्मीद जतायी कि इस बार दिल्ली कैपिटल्स की टीम ख़िताब जीतने का सपना पूरा करेगी जो पूरी टीम का एक सामूहिक लक्ष्य है. (news18.com)


13-Oct-2021 1:28 PM (20)

    बिलासपुर में आयोजित खेल स्पर्धा में दुर्ग संभाग का रहा दबदबा     

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अक्टूबर।
बिलासपुर में आयोजित राज्य स्तरीय स्कूल खेल अंडर-14 क्रिकेट स्पर्धा में दुर्ग संभाग का दबदबा रहा। 3 से 6 अक्टूबर तक आयोजित इस चार दिवसीय क्रिकेट खेल में दुर्ग संभाग के खिलाडिय़ों ने अपने शानदार खेल का प्रदर्शन किया। पूरे प्रतियोगिता में दुर्ग संभाग ने बिना मैच गंवाए चार मुकाबलों में जीत हासिल की।

पहले ही मैच में रायपुर संभाग को 70 रनों से मात देकर प्रतियोगिता का शानदार आगाज किया। दूसरे मैच में बस्तर संभाग की टीम को महज 38 रन पर ढेर कर दिया। इस मैच को दुर्ग संभाग ने 10 विकेट से जीता। इसी तरह सरगुजा संभाग को 48 रन पर आउट कर लगातार तीसरी जीत हासिल करते फाइनल में जगह बनाया। सबसे महत्वपूर्ण मैच माने जाने वाले बिलासपुर के साथ दुर्ग जोन के बल्लेबाजों ने 148 रन बनाए और शानदार गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण से बिलासपुर संभाग को 48 रन पर ही आउट कर दिया। इस तरह दुर्ग संभाग ने बिलासपुर को एकतरफा 100 रन से परास्त कर दिया।

पूरे प्रतियोगिता में दुर्ग संभाग के खिलाड़ी छाए रहे। अपने उत्कृष्ट बल्लेबाजी और बेहतरीन क्षेत्ररक्षण से विपक्षी टीम को सम्हलने का मौका नहीं मिला। स्पर्धा में दुर्ग संभाग से राजनांदगांव के विकल्प, बालाजी राव, अभ्युदय, श्लोक और दुर्ग से आर्यावर्त, नितांन सिंह तथा आयुष ने अच्छा प्रदर्शन किया। राजनंादगांव से सानिध्य मेश्राम और सौरभ सोनवानी भी टीम में शामिल रहे।


13-Oct-2021 12:09 PM (27)

नयी दिल्ली : जारी इंडियन प्रीमियर लीग में बेहतर करने वाले आवेश खान और केकेआर के वेंकटेश अय्यर को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टूर्नामेंट खत्म होने के बाद यूएई में ही रुकने को कहा है. ये दोनों विश्व कप टीम के साथ बतौर नेट गेंदबाज के रूप में जुड़ेंगे. इनसे पहले जम्मू-कश्मीर के उमरान मलिक को भी नेट बॉलर के रूप में जोड़ा जा चुका है. साफ कर दें कि ये तीनों ही स्टैंड-बाई खिलाड़ी के रूप में शामिल नहीं हैं. मूल टीम में चुने गए श्रेयस अय्यर, शार्दूल ठाकुर और दीपक चाहर रिर्जव खिलाड़ी हैं. बाकी टीमों की तरह ही भारत के पास विश्व कप टीम में 15 अक्टूबर तक बदलाव करने का समय है.

ध्यान दिला दें कि आवेश खान इस साल के शुरू में भी भारतीय टीम के साथ इंग्लैंड गए थे. तब उन्हें आईपीएल के पहले चरण में बेहतर करने बाद इंग्लैंड ले जाया गया था, लेकिन तब उन्हें चोट लगने के कारण वापस भारत लौटना पड़ा था.  लेकिन वेंकटेश अय्यर का नेट बॉलर के रूप में चयन काफी हैरानी के रूप में आया है क्योंकि वह बल्लेबाज ज्यादा हैं.

जारी इंडियन प्रीमियर लीग में बेहतर करने वाले आवेश खान और केकेआर के वेंकटेश अय्यर को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टूर्नामेंट खत्म होने के बाद यूएई में ही रुकने को कहा है. ये दोनों विश्व कप टीम के साथ बतौर नेट गेंदबाज के रूप में जुड़ेंगे. इनसे पहले जम्मू-कश्मीर के उमरान मलिक को भी नेट बॉलर के रूप में जोड़ा जा चुका है. साफ कर दें कि ये तीनों ही स्टैंड-बाई खिलाड़ी के रूप में शामिल नहीं हैं. मूल टीम में चुने गए श्रेयस अय्यर, शार्दूल ठाकुर और दीपक चाहर रिर्जव खिलाड़ी हैं. बाकी टीमों की तरह ही भारत के पास विश्व कप टीम में 15 अक्टूबर तक बदलाव करने का समय है.

ध्यान दिला दें कि आवेश खान इस साल के शुरू में भी भारतीय टीम के साथ इंग्लैंड गए थे. तब उन्हें आईपीएल के पहले चरण में बेहतर करने बाद इंग्लैंड ले जाया गया था, लेकिन तब उन्हें चोट लगने के कारण वापस भारत लौटना पड़ा था.  लेकिन वेंकटेश अय्यर का नेट बॉलर के रूप में चयन काफी हैरानी के रूप में आया है क्योंकि वह बल्लेबाज ज्यादा हैं.

आवेश का प्रभावी प्रदर्शन
आवेश का प्रदर्शन दिल्ली कैपिटल्स के लिए अभी तक बहुत ही खास रहा है. और वह टीम के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं. आवेश अभी तक 15 मैचों में 23 विकेट ले चुके हैं. उनका इकॉनमी रेट 7.50 का रहा है. और यही प्रदर्शन उन्हें विश्व कप में बतौर नेट बॉलर की जगह दिला गया. अगर आवेश ऐसा ही प्रदर्शन करते रहे, तो वह दिन  दूर नहीं, जब वह टीम इंडिया की जर्सी में दिखायी पड़ेंगे.

दूसरे चरण में उभरे अय्यर
घरेलू क्रिकेट में मध्य प्रदेश के लिए खेलने वाले अय्यर ने साल 2015 में राज्य के लिए लिस्ट ए और टी20 क्रिकेट खेलना शुरू किया था. वहीं, इसके तीन साल बाद उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट का आगाज किया था.  आईपीएल के पहले चरण में शायद ही कोई उन्हें जानता था, लेकिन दूसरे चरण में प्रदर्शन के बाद वेंकटेश सभी की निगाह में आए.केकेआर के लिए उनकी बैटिंग ने सभी को प्रभावित किया. अय्यर ने अभी तक 8 मैचों में 123.25 के औसत से 265 रन बनाए हैं.  वहीं, उन्होंने 7.3 ओवरों में तीन विकेट भी लिए.बहरहाल, यह चयन हैरानी भरा जरूर है क्योंकि अगर नेट बॉलर ही लेना था, तो आईपीएल में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले हर्शल पटेल या कोई और सीमर क्यों नहीं. इससे साफ है कि वेंकटेश को लेकर बीसीसीआई या टीम मैनेजमेंट की प्लानिंग इससे कहीं ज्यादा है. अय्यर गेंदबाजी नहीं, बल्कि आगे किसी और योजना में भी टीम का हिस्सा हो सकते हैं. (ndtv.in)
 


13-Oct-2021 9:03 AM (77)

माले. खराब फॉर्म से जूझ रही भारतीय टीम सैफ फुटबॉल चैम्पियनशिप के आखिरी लीग मैच में मेजबान मालदीव से खेलेगी और ‘करो या मरो’ के इस मुकाबले में जीत ही उसे बाहर होने से बचा सकती है. ड्रॉ या हार की दशा में भारत फाइनल की दौड़ से बाहर हो जाएगा और यह पिछले कुछ साल में उसका सबसे खराब प्रदर्शन होगा. इससे कोच इगोर स्टिमक को हटाने की मांग भी जोर पकड़ने लगेगी. सात बार की चैम्पियन भारतीय टीम इससे पहले 2003 में तीसरे स्थान पर रही थी. इसके बाद से 11 सत्रों में भारत ने या तो खिताब जीता या उपविजेता रहा.

पांच टीमों के टूर्नामेंट में शीर्ष चार टीमें 16 अक्टूबर को होने वाले फाइनल की दौड़ में रहेंगी. भारत के दो ड्रॉ और एक जीत के बाद पांच अंक है और वह तीसरे स्थान पर है. मालदीव ( तीन मैचों में छह अंक ) और नेपाल ( तीन मैचों में छह अंक ) उससे ऊपर है. नेपाल का सामना बांग्लादेश से होगा. दो बार की चैम्पियन मालदीव को हराना भारत के लिए कभी आसान नहीं रहा. मालदीव फीफा रैंकिंग में भारत से 51 रैंकिंग अंक नीचे है, लेकिन उसने हमेशा भारतीय टीम को कड़ी चुनौती दी है.

अली अशफाक की अगुवाई वाली मालदीव ने पहले मैच में नेपाल से मिली हार के बाद बांग्लादेश और श्रीलंका को हराया. भारतीय कप्तान सुनील छेत्री की तरह मालदीव के प्रदर्शन का दारोमदार भी 36 वर्ष के अशफाक पर है. उन्होंने इस टूर्नामेंट में टीम के तीन गोल में से दो किये हैं.

दूसरी ओर भारतीय टीम को बांग्लादेश के खिलाफ अनुभवी संदेश झिंगन की कमी खली. एक गोल से बढ़त बनाने के बावजूद भारतीय टीम को ड्रॉ से संतोष करना पड़ा. श्रीलंका के खिलाफ छेत्री फॉर्म में नहीं थे और वह मैच भी गोलरहित ड्रॉ रहा. नेपाल के खिलाफ छेत्री ने निर्णायक गोल किया लेकिन सवाल यह है कि कब तक टीम 37 वर्ष के इस स्ट्राइकर पर निर्भर रहेगी. स्टिमक ने कहा ,”हमें मौके बनाने के साथ ही उन्हें भुनाना भी होगा. ऐसा करने पर ही मैच जीते जा सकते हैं.” (news18.com)


12-Oct-2021 7:17 PM (65)

भारत के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने सोशल मीडिया पर फैन्स के साथ बातचीत के दौरान अपने पसंद के 3 सबसे महान भारतीय बल्लेबाज को चुना है जो तीनों फॉर्मेट में सर्वेश्रेष्ठ हैं. अजहर ने सोशल मीडिया पर फैन्स के साथ सवाल-जवाब का सेशन रखा जिसमें एक फैन ने उनसे तीनों फॉर्मेंट में सर्वश्रेष्ठ भारतीय बल्लेबाज के नाम को बताने को कहा, जिसपर अजहर ने रिएक्ट करते हुए 3 नाम लिए. अजहरुद्दीन ने सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और विराट कोहली को तीनों फॉर्मेट में बाकी दूसरे बल्लेबाजों से श्रेष्ठ माना है. दरअसल अजहर ने ट्वीट किया और लिखा, 'मेरे पसंदीदा विषय के बारे में मुझसे कुछ भी पूछें, अगले एक घंटे तक खाली बैठा हूं.' अजहर के इस ट्वीट के बाद फैन्स लगातार उनसे सवाल पूछते नजर आए.

बता दें कि अजहर ने सचिन को तीनों फॉर्मेट का बेस्ट बल्लेबाज माना है. वनडे औऱ टेस्ट में तेंदुलकर सबसे ज्यादा शतक जमाने वाले बल्लेबाज हैं तो वहीं टी20 क्रिकेट में तेंदुलकर के नाम 96 मैच में 2797 रन दर्ज है और एक शतक भी उन्होंने जमाया है.

इसके असाला अजहर ने वीरेंद्र सहवाग (Virendra Sehwag) को भी तीनों फॉर्मेट के बेस्ट भारतीय बल्लेबाज माना है. सहवाग ने टेस्ट, वनडे और टी-20 में एक ही स्टाइल में बल्लेबाजी की है, यही कारण है कि वीरू को पूर्व कप्तान ने बेस्ट बल्लेबाज माना है.  वहीं, अजहरुद्दीन की नजर में किंग कोहली (Virat Kohli) भी तीनों फॉर्मेट में भारत के बेस्ट बल्लेबाज हैं जिनका कोई सानी नहीं है.(ndtv.in)


12-Oct-2021 5:33 PM (36)

नई दिल्ली. बीसीसीआई के लिए अक्टूबर का महीना काफी व्यस्त रहने वाला है. इस महीने भारतीय बोर्ड दो नई आईपीएल टीमें फाइनल करने के साथ ही लीग के मीडिया राइट्स के लिए टेंडर जारी कर देगा. लेकिन इस सबसे बड़ी बात यह है कि इसी महीने बीसीसीआई की मेजबानी में 17 अक्टूबर से टी20 विश्व कप शुरू होने जा रहा है. इसके अलावा भी भारतीय क्रिकेट बोर्ड के पास एक और बड़ा काम है, वो है रवि शास्त्री के उत्तराधिकारी की तलाश. इसी महीने टीम इंडिया का नया कोच फाइनल करने के लिए बीसीसीआई प्रोसेस शुरू कर देगी. इसके तहत, बीसीसीआई इस हफ्ते के आखिर में नए कोच और सपोर्ट स्टाफ के पद के लिए विज्ञापन जारी कर देगी.

इनसाइडस्पोर्ट को एक बीसीसीआई अधिकारी ने बताया कि हमें इस हफ्ते के अंत तक नए कोच के लिए विज्ञापन जारी करना चाहिए. हम पहले ही टीम इंडिया के कोच से जुड़ी शर्तें और जरूरी योग्यताएं तय कर चुके हैं. मुझे लगता है कि नवंबर में होने वाली न्यूजीलैंड सीरीज से पहले हमारे पास नया कोच और सपोर्ट स्टाफ होगा. टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 17 नवंबर से घर में सीरीज खेलनी है, जो टी20 विश्व कप फाइनल के 3 दिन बाद ही शुरू हो रही है.

शास्त्री दोबारा कोच बनने के इच्छुक नहीं
रवि शास्त्री और टीम इंडिया के बाकी सपोर्ट स्टाफ के सदस्य टी20 विश्व कप के बाद नहीं रहेंगे. शास्त्री खुद बीसीसीआई को इस बात की जानकारी दे चुके हैं कि वो दोबारा इस पद के लिए आवेदन नहीं करेंगे. ऐसे में उनके बाद कौन टीम इंडिया का कोच बनेगा, इसके लेकर चर्चाएं शुरू हो चुकी हैं. इस रेस में कई पूर्व भारतीय और विदेशी खिलाड़ी शामिल हैं. आइए समझते हैं उनमें से किसका भारतीय क्रिकेट टीम के कोच बनने का दावा मजबूत है.

अनिल कुंबले: जानकारी के मुताबिक, बीसीसीआई के कुछ सदस्य इस बात को लेकर कुंबले के संपर्क में थे कि वो दोबारा भारतीय टीम के कोच पद के लिए आवेदन दें. हालांकि, कुंबले का बतौर कोच अनुभव अच्छा नहीं रहा है. उन्हें 2017 में कप्तान विराट कोहली से हुई टकराहट के बाद पद छोड़ना पड़ा था. इसके अलावा पंजाब किंग्स के कोच के रूप में उनका रिकॉर्ड बेहतर नहीं रहा है.

बोर्ड के एक सूत्र ने कुछ हफ्ते पहले न्यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया था कि ना तो कुंबले वापसी करना चाहते हैं और ना ही बीसीसीआई के अधिकारी, अध्यक्ष सौरव गांगुली के अलावा उनके कोच बनने में बहुत दिलचस्पी ले रहे हैं.

राहुल द्रविड़: हर कोई टीम इंडिया के नए कोच के रूप में राहुल द्रविड़ को देखने का इच्छुक है. लेकिन वह खुद इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए तैयार नहीं है. हालांकि, आने वाले दिनों में सब कुछ बदल सकता है.

टॉम मूडी: बीसीसीआई शास्त्री के उत्तराधिकारी के रूप में एक विदेशी को लाने के बारे में विचार कर रही है. इस रेस में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज टॉम मूडी भी हैं. फॉक्स स्टार मीडिया की रिपोर्ट की मानें तो मूडी ने टीम इंडिया का हेड कोच बनने की इच्छा जताई है. वो कोच पद के लिए आवेदन भी करेंगे. (news18.com)


12-Oct-2021 5:32 PM (35)

नई दिल्ली. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के ऑलराउंडर डेनियल क्रिस्टियन और उनकी प्रेग्नेंट पार्टनर जॉर्जिया डन को 2021 आईपीएल के एलिमिनेटर में कोलकाता नाइट राइडर्स के हाथों चार विकेट से हार के बाद सोशल मीडिया पर काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है. शारजाह में बल्ले और गेंद दोनों से क्रिस्टियन के लिए कठिन समय था. पहली पारी में दाएं हाथ के बल्लेबाज ने रन आउट होने से पहले आठ गेंदों में से केवल नौ रन बनाए. इसके बाद सुनील नरेन ने उनकी गेंद पर तीन छक्के जड़े. उन्होंने 1.4 ओवर में 17.39 की इकोनॉमी से गेंदबाजी की और 29 रन देकर बिना विकेट के रहे.

डेनियल क्रिस्टियन ने अपने पहले ओवर में 22 रन दिए और इसने कुछ ही समय में खेल का रुख बदल दिया. आरसीबी की हार के बाद फैन्स ने न केवल डेनियल क्रिस्टियन, बल्कि उनकी प्रेग्नेंट पार्टनर को भी निशाना बनाया.

यह ट्रोलिंग इतनी बुरी थी कि क्रिस्टियन अपने इंस्टाग्राम पर इस मामले को लेकर एक मैसेज करना पड़ा. सोशल मीडिया पर डेनियल क्रिस्टियन और उनकी प्रेग्नेंट पार्टनर को काफी बुरा-भला कहा गया. ऐसे में ऑनलाइन दुर्व्यवहार का शिकार होना पड़ा. क्रिस्टियन ने अनुरोध किया कि उनकी साथी को इससे बाहर रखा जाए.

उन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा, ”मेरे साथी के इंस्टाग्राम पोस्ट पर किए गए कमेंट (प्रतिक्रिया) को देखें. मेरे लिए आज का मैच अच्छा नहीं रहा था, लेकिन यह खेल का हिस्सा है. कृपया उसे इन सब से बाहर रखें.”

इससे पहले ग्लेन मैक्सवेल भी फैन्स के इस तरह के खराब व्यवहार से काफी नाराज थे. उन्होंने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी और ट्विटर हैंडल पर लिखा, ”आरसीबी के लिए शानदार सत्र रहा, दुर्भाग्य से हम उस जगह नहीं पहुंच पाये जिसके बारे में हमने सोचा था. इससे इस अद्भुत सत्र की हमारी उपलब्धि कम नहीं होती.  सोशल मीडिया पर जो ‘कचरा’  आ रहा है वह बहुत घृणा से भरा हुआ है.”

इस हरफनमौला खिलाड़ी ने कहा, ”हम भी इंसान हैं जो हर दिन अपना सर्वश्रेष्ठ दे रहे हैं. किसी को गाली देने के बजाय एक सभ्य इंसान बनने की कोशिश करें.” मैक्सवेल का यह बयान तब आया है, जब आरसीबी की टीम सोमवार रात एलिमिनेटर मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स से चार विकेट से हारकर इस टी20 लीग से बाहर हो गई. इस स्टार ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर ने इस सत्र के दौरान आरसीबी को प्यार और समर्थन के लिए ‘असली प्रशंसकों’ को धन्यवाद दिया.

उन्होंने लिखा, ”असली प्रशंसकों को धन्यवाद जिन्होंने खेल को अपना सब कुछ देने वाले खिलाड़ियों की प्रशंसा की और प्यार दिया. दुर्भाग्य से यहां (ऑनलाइन मंच पर) कुछ बुरे लोग हैं जो सोशल मीडिया को एक खराब जगह बना देते हैं. यह अस्वीकार्य है. कृपया उनके जैसा न बनें.” (news18.com)


12-Oct-2021 5:30 PM (32)

लंदन. राष्ट्रमंडल खेलों में 2026 से सिर्फ एथलेटिक्स और एक्वाटिक्स ही दो अनिवार्य खेल होंगे, जिससे मेजबान शहरों को कोर सूची में जगह पाने वाले खेलों में से अपनी पसंद के खेलों को शामिल करने की स्वतंत्रता मिलेगी. कोर खेलों में टी20 क्रिकेट और तीन गुणा तीन बास्केटबॉल भी शामिल है. इस खाके को राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) की आम सभा की आनलाइन बैठक में स्वीकृति दी गई.

सीजीएफ के बयान के मुताबिक, “मेजबानी के फायदों को बढ़ाने और खेलों को लागत के लिहाज से अधिक प्रभावी बनाने, नए दर्शकों को जोड़ने के लिए राष्ट्रमंडल खेल 2026-2030 रणनीतिक खाका भविष्य के मेजबानों को नई धारणाओं को लागू करने के लिए आमंत्रित करता है, जिसमें सह-मेजबानी और बड़ी संख्या में प्रतिनिधित्व वाली प्रतियोगिताओं का आयोजन शामिल हैं.”

टी20 क्रिकेट को कोर खेलों में मिली जगह
कॉमनवेल्थ फेडरेशन ने आगे अपने बयान में कहा, “अंतरराष्ट्रीय महासंघों के साथ मौजूदा सलाह मशविरे के हिस्से के तौर पर संशोधित खेल कार्यक्रम की महत्वाकांक्षा है. जो मेजबानों को कोर खेलों की विस्तृत सूची से चयन करने के लिए अधिक लचीलापन देगी. ’’कोर खेलों में टी20 क्रिकेट, बीच वॉलीबॉल और तीन गुणा तीन बास्केटबॉल को शामिल किया गया है जो पहले वैकल्पिक खेल थे. 15 खेलों की कोर सूची में बैडमिंटन, निशानेबाजी, टेबल टेनिस, कुश्ती (फ्रीस्टाइल) और हॉकी भी शामिल है.”

2022 में बर्मिंघम में होगा CWG
सीजीएफ ने सिफारिश की है कि खेलों के दौरान लगभग 15 खेलों का आयोजन होगा. इन खेलों के 2026 के मेजबान की तलाश अभी जारी है, जबकि 2022 में इन खेलों का आयोजन बर्मिंघम में होगा. बर्मिंघम खेलों से निशानेबाजी को हटाया गया है जबकि टी20 महिला क्रिकेट को शामिल किया गया है. अन्य स्वीकृत सिफारिशों के अनुसार खाके में कहा गया है कि पैरा खेल कार्यक्रम इन खेलों का अहम हिस्सा बना रहेगा।

सीजीएफ ने कहा कि भविष्य में संभावित मेजबानों को वैकल्पिक खेल गांव पर विचार के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, खिलाड़ियों को नव निर्मित स्थान या एक ही स्थान पर रखने की जरूरत नहीं होगी. (news18.com)


12-Oct-2021 5:29 PM (28)

बर्लिन. जर्मनी सोमवार को यूरोप के ग्रुप जे विश्व कप क्वालीफाइंग मुकाबले में काफी गलतियां करने के बावजूद उत्तरी मेसिडोनिया को 4-0 से हराकर 2022 फुटबॉल विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने वाला पहला देश बना. जर्मनी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए आठ मैचों में सात जीत हासिल की. टीम को मार्च में डुइसबर्ग में उत्तरी मेसिडोनिया के खिलाफ 1-2 से उलटफेर का सामना करना पड़ा था, जो उसकी एकमात्र हार रही. जर्मनी ने अपने चारों गोल दूसरे हाफ में दागे. टीम की ओर से टिमो वर्नर (70वें और 73वें मिनट) ने दो गोल दागे, जबकि केई हावर्ट्ज (50वें मिनट) और जमाल मुसियाला (83वें मिनट) ने एक-एक गोल किया.

तुर्की ने भी इंजरी टाइम के नौवें मिनट में पेनल्टी पर बुराक यिल्माज के गोल की बदौलत लात्विया को 2-1से हराकर क्वालीफाई करने की उम्मीदों को जीवंत रखा है. जर्मनी की अंडर 21 टीम के पूर्व कोच स्टीफन कुंट्ज का तुर्की की टीम के कोच के रूप में यह पहला मुकाबला था. रोटरडम में मेम्फिस डेपाय ने दो गोल किए, दो गोल में मदद की. लेकिन एक पेनल्टी पर गोल करने से चूक गए, जिससे नीदरलैंड ने जिब्राल्टर को 6-0 से हराकर क्वालीफाई करने की ओर मजबूत कदम बढ़ाए. ग्रुप जी में नीदरलैंड ने नॉर्वे पर दो, जबकि तुर्की पर चार अंक की बढ़त बना रखी है.

रूस और क्रोएशिया का प्लेऑफ का रास्ता साफ
ग्रुप एच में क्रोएशिया ने ड्रॉ और रूस ने जीत के साथ कम से कम प्लेऑफ में खेलना तय कर लिया है. ग्रुप ई में वेल्स ने कीफर मूर के गोल की बदौलत एस्टोनिया को 1-0 से हराकर बेल्जियम के क्वालीफाई करने के इंतजार को बढ़ा दिया है. वेल्स और चेक गणराज्य के समान अंक हैं जिसने बेलारूस को 2-0 से हराया। चेक गणराज्य ने हालांकि एक मैच अधिक खेला है. बेल्जियम की टीम पांच अंक से आगे है और उसका क्वालीफाई करना लगभग तय है.

ग्रुप एच में क्रोएशिया ने मिडफील्डर लुका मोड्रिक के फ्री किक पर दागे गोल की बदौलत स्लोवाकिया को 2-2 से बराबरी पर रोका. रूस पुराने प्रतिद्वंद्वी स्लोवेनिया को 2-1 से हराकर ग्रुप में शीर्ष पर पहुंच गया है. विश्व कप में स्वत: क्वालीफाई करने के लिए 2018 विश्व कप के उप विजेता क्रोएशिया को अब अगले महीने रूस को हराना होगा.  (news18.com)


11-Oct-2021 8:02 PM (45)

नई दिल्ली. बांग्लादेश और श्रीलंका के खिलाफ ड्रॉ खेलने के बाद भारतीय फुटबॉल टीम ने मालदीव में हो रही साउथ एशियन फुटबॉल फेडरेशन चैम्पियनशिप 2021 में आखिरकार अपनी पहली जीत दर्ज की. भारत ने एक मुकाबले में नेपाल को 1-0 से शिकस्त दी. भारत के लिए इकलौता गोल कप्तान सुनील छेत्री ने किया. उनके इस गोल की बदौलत भारत ना सिर्फ नेपाल को हराने में सफल रहा, बल्कि सैफ चैम्पियनशिप से भी बाहर होने से बच गया.

37 साल के छेत्री का यह 123 वां मुकाबला था. उन्होंने नेपाल के खिलाफ मैच में 83वें मिनट में गोल किया. यह उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का 77वां गोल रहा. इस गोल के जरिए उन्होंने ब्राजील के दिग्गज फुटबॉलर पेले के रिकॉर्ड की बराबरी की. पेले ने 92 मैच में 77 गोल दागे थे.

छेत्री अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में संयुक्त रूप से सबसे अधिक गोल करने वाले तीसरे एक्टिव खिलाड़ी बन गए हैं. वह संयुक्त अरब अमीरात के अली मबखौत (77) के बराबर हैं. छेत्री से आगे सिर्फ पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो और अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी हैं. रोनाल्डो ने 112 जबकि मेसी ने 79 गोल किए हैं.

भारत अंक तालिका में तीसरे स्थान पर
7 बार सैफ फुटबॉल चैम्पियनशिप का खिताब जीतने वाली भारतीय टीम अब प्वाइंट्स टेबल में तीसरे स्थान पर आ गई है. भारत के 3 मैच से पांच अंक हैं. मेजबान मालदीव और नेपाल के 3 मैच से 6-6 अंक हैं. भारत को अगर फाइनल में जगह बनानी है तो उसे मालदीव के खिलाफ बुधवार को होने वाले लीग मैच को हर कीमत पर जीतना होगा. अगर, भारत नेपाल के खिलाफ भी मुकाबला ड्रॉ खेलता है तो वो टूर्नामेंट से बाहर हो सकता था.

इससे पहले, भारत ने इस साल नेपाल के खिलाफ दो मुकाबले खेले थे. एक बराबरी पर छूटा था, जबकि एक भारत 2-0 से जीतने में सफल रहा था. (news18.com)


11-Oct-2021 8:02 PM (35)

नई दिल्ली. भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेता एम सुरंजय सिंह और एल देवेंद्रो सिंह को इस महीने होने वाली विश्व चैंपियनशिप से पहले पुरुषों की कोचिंग टीम में शामिल किया है. पटियाला में इस सप्ताह शुरू हो रहे राष्ट्रीय शिविर के लिये जिन 14 कोच को चुना गया है, उनमें 29 वर्षीय देवेंद्रो और 35 वर्षीय सुरंजय भी शामिल हैं. विश्व चैंपियनशिप सर्बिया के बेलग्रेड में 24 अक्टूबर से शुरू होगी, जिसमें 100 से अधिक देशों के 600 मुक्केबाज भाग लेंगे.

कोचिंग स्टाफ में जो अन्य प्रमुख नाम हैं, उनमें मुख्य कोच नरेंदर राणा, पूर्व जूनियर कोच एम एस ढाका, धर्मेन्द्र यादव तथा पूर्व मुक्केबाज दिवाकर प्रसाद और तोराक खारपान शामिल हैं. बीएफआई के महासचिव हेमंत कालिता ने पीटीआई से इसकी पुष्टि की. दिलचस्प बात यह है कि सुरंजय और देवेंद्रो दोनों को जूनियर स्तर पर ढाका ने कोचिंग दी थी.

सुरंजय ने पहले कोच बनने से इनकार किया था
मणिपुर के इस पूर्व मुक्केबाज ने कहा कि पिछली बार जब मुझे चुना गया था, तो कुछ पारिवारिक परेशानियां थी. अभी सब ठीक है, पद संभाल लेंगे. देवेंद्रो भी इस नयी भूमिका को लेकर उत्साहित हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने इतने वर्षों में जो कुछ सीखा है, आखिर में मुझे उसका उपयोग करने का मौका मिला है. मुझे उम्मीद है कि मैं अहम योगदान दूंगा. यह मेरे लिये सम्मान है.’’सुरंजय और देवेंद्रो अपने करियर के दौरान चोटों से जूझते रहे जिसके कारण उनका करियर लंबा नहीं खिंचा. (news18.com)


11-Oct-2021 7:57 PM (43)

नई दिल्ली. आईपीएल 2021 के मौजूदा सीजन के मुकाबले लगभग खत्म होने वाले हैं. 60 में से 57 मैच खेले जा चुके हैं. एलिमिनेटर में कुछ देर बाद आरसीबी की भिड़ंत केकेआर से होनी है. ऑक्शन में इस बार घरेलू क्रिकेटर शाहरुख खान को पंजाब किंग्स ने 5.25 करोड़ रुपये में खरीदा था. उनका बेस प्राइज सिर्फ 20 लाख रुपये था. वहीं कुछ भारतीय खिलाड़ियों को लीग में बीसीसीआई के सेंट्रल काॅन्ट्रैक्ट से भी कम राशि मिली. ये खिलाड़ी इंटरनेशनल क्रिकेट में टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व भी कर रहे हैं. इसमें मयंक अग्रवाल से लेकर मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा से लेकर दीपक चाहर शामिल हैं.

टेस्ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा को चेन्नई सुपर किंग्स ने ऑक्शन में 50 लाख रुपये में खरीदा था. मौजूदा सीजन में उन्हें एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला है. पुजारा बीसीसीआई के कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट के ग्रेड-ए में हैं. यानी उन्हें सालाना 5 करोड़ रुपये मिलते हैं. यानी आईपीएल की राशि से लगभग 10 गुना अधिक. वहीं तेज गेंदबाज दीपक चाहर चेन्नई सुपर किंग्स में शामिल हैं. टीम फाइनल में भी पहुंच गई है. उन्हाेंने माैजूदा सीजन के 14 मैच में 13 विकेट लिए हैं. लेकिन उन्हें सीएसके की ओर से सिर्फ 80 लाख रुपये मिलते हैं. वहीं बोर्ड से उन्हें एक करोड़ रुपये कॉन्ट्रैक्ट के तहत मिलते हैं.

तेज गेंदबाज शमी और मयंक को भी नहीं मिले अधिक पैसे
मौजूदा सीजन के ऑक्शन में मोहम्मद शमी पर बोली नहीं लगी थी. उन्हें पंजाब किंग्स ने रिटेन किया था. उन्हें फ्रेंचाइजी की ओर से 4.8 करोड़ रुपये मिलते हैं. वहीं बोर्ड के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से 5 करोड़ रुपये. शमी टीम इंडिया की ओर से वर्ल्ड कप भी खेल चुके हैं. वहीं पंजाब के ही मयंक अग्रवाल को टीम से 1 करोड़ रुपये मिलते हैं. मयंक बोर्ड के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट के बी कैटेगरी में शामिल हैं. ऐसे में उन्हें बोर्ड से 3 करोड़ रुपए मिलते हैं. मयंक ने आईपीएल में बल्ले से कमाल का प्रदर्शन किया है.

तेज गेंदबाज इशांत को सिर्फ 3 मैच में मौका मिला
तेज गेंदबाज इशांत शर्मा दिल्ली कैपिटल्स में शामिल हैं. टीम प्लेऑफ में पहुंच चुकी है. उन्हें मौजूदा सीजन में सिर्फ तीन मैच में खेलने का मौका मिला. वे इस दौरान एक ही विकेट ले सके. दिल्ली से उन्हें 1.1 करोड़ रुपये मिलते हैं. वहीं बोर्ड से उन्हें 5 करोड़ की राशि मिलती है. विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा की बात करें तो उन्हें सनराइजर्स हैदराबाद से 1.2 करोड़ जबकि बोर्ड से 3 करोड़ रुपये मिलते हैं.

शार्दुल वर्ल्ड कप टीम में फिर भी बड़ी बोली नहीं
तेज गेंदबाज और ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर को टी20 वर्ल्ड कप के लिए बतौर रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर चुना गया है. लेकिन आईपीएल में इन्हें भी अधिक राशि नहीं मिली है. चेन्नई के शार्दुल को 2.6 करोड़ रुपये में टीम में शामिल किया गया है. वहीं बोर्ड से उन्हें 3 करोड़ रुपये मिलते हैं. इसके अलावा तेज गेंदबाज उमेश यादव को दिल्ली ने 1 करोड़ में शामिल किया. उन्हें मौजूदा सीजन में खेलने का मौका नहीं मिला है. बोर्ड के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से उन्हें 3 करोड़ रुपये मिलते हैं.

एक वनडे खेलने वाले गाैतम को मिले 9 करोड़, हनुमा को मौका नहीं
टेस्ट विशेषज्ञ हनुमा विहारी आईपीएल 2021 से बाहर हैं. वे बोर्ड के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में शामिल हैं. उन्हें सालाना 1 करोड़ रुपये मिलते हैं. वहीं सिर्फ एक वनडे खेलने वाले कृष्णप्पा गौतम को सीएसके ने 9 करोड़ रुपये में खरीदा था. गौतम ने श्रीलंका के खिलाफ इसी साल जुलाई में इंटरनेशनल डेब्यू किया था. उन्हें इसलिए मौका मिल गया था, क्योंकि टीम इंडिया के अधिकतर खिलाड़ी उस समय इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज खेल रहे थे. (news18.com)


11-Oct-2021 9:11 AM (30)

वियना, 10 अक्टूबर| ऑस्ट्रिया के चांसलर सेबेस्टियन कुर्ज ने भ्रष्टाचार के एक घोटाले के दबाव के बाद अपने इस्तीफे की घोषणा की है और उनके उत्तराधिकारी के रूप में विदेश मंत्री एलेक्जेंडर शालेनबर्ग को प्रस्तावित किया है। बीबीसी ने बताया कि कुर्ज और नौ अन्य लोगों को उनकी रूढ़िवादी पीपुल्स पार्टी से जुड़े कई स्थानों पर छापे के बाद जांच के दायरे में रखा गया था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार शाम को मीडिया को दिए एक बयान में कुर्ज ने कहा कि वह महीनों की अराजकता और ठहराव से बचना चाहते हैं।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने इस दावे से इनकार किया कि उन्होंने सरकारी धन का इस्तेमाल एक अखबार में सकारात्मक कवरेज सुनिश्चित करने के लिए किया था।

इस हफ्ते आरोपों ने उनकी गठबंधन सरकार को उसके कनिष्ठ साथी ग्रीन्स के बाद पतन के कगार पर ले गया।

ग्रीन्स ने विपक्षी दलों के साथ बातचीत शुरू की, जो अगले हफ्ते चांसलर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की धमकी दे रहे थे।

ग्रीन्स के नेता और कुलपति वर्नर कोगलर ने कुर्ज के इस्तीफे का स्वागत किया और संकेत दिया कि वह स्केलेनबर्ग के साथ काम करने के इच्छुक होंगे। उनका कहना है कि उनके बीच बहुत रचनात्मक संबंध थे।

कुर्ज ने अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए कहा, अब जो आवश्यक है वह स्थिरता है। गतिरोध को हल करने के लिए मैं अराजकता को रोकने के लिए एक तरफ हटना चाहता हूं।

उन्होंने कहा कि वह अपनी पार्टी के नेता बने रहेंगे और संसद में बैठना जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा, सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, हालांकि मैं निश्चित रूप से अपने खिलाफ आरोपों को खारिज करने के अवसर का उपयोग करूंगा।

शलेनबर्ग को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त करने के संबंध में कुर्ज़ ने कहा कि विदेश मंत्री के पास पार्टियों के बीच विश्वास के पुनर्निर्माण के लिए आवश्यक राजनयिक कौशल थे।

कुर्ज को अपने स्वयं के सरकारी सहयोगियों सहित, पद छोड़ने के लिए बढ़ती कॉल का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि 35 वर्षीय चांसलर और नौ अन्य लोगों के दावों की जांच चल रही है कि सकारात्मक मीडिया कवरेज सुनिश्चित करने के लिए एक भ्रष्ट सौदे में सरकारी धन का उपयोग किया गया था।

विपक्ष ने कुर्ज से पद छोड़ने का आह्वान किया है और मंगलवार को संसद में उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की योजना बनाई है।

कुर्ज दुनिया में सरकार के सबसे कम उम्र के प्रमुख हैं, और 31 साल की उम्र में पहली बार इस पद के लिए चुने गए, ऑस्ट्रियाई इतिहास में सबसे कम उम्र के चांसलर हैं।  (आईएएनएस)


11-Oct-2021 8:29 AM (41)

आरहस. अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल को चोटिल होने के कारण स्पेन के खिलाफ उबर कप फाइनल्स के पहले मुकाबले से हटना पड़ा लेकिन युवा खिलाड़ियों के दमदार प्रदर्शन से भारत ने रविवार को 3-2 की जीत से अपने अभियान का आगाज किया. लंदन ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट साइना ने भारतीय चुनौती का आगाज किया. उन्हें कमर के पास दर्द के कारण स्पेन की क्लारा अजुरमेंडी के खिलाफ मुकाबले से हटना पड़ा. उस समय वह पहले गेम को 20-22 से हार गई थीं.

मालविका बंसोड़ ने हालांकि सुनिश्चित किया कि भारत शुरुआती मैच के उलटफेर से जल्दी उबर जाए. उन्होंने दुनिया की पूर्व नंबर-20 खिलाड़ी बीट्रीज कोरालेस पर 21-13, 21-15 से जीत दर्ज करके स्कोर को 1-1 कर दिया. इसके बाद तनीषा क्रेस्टो और ऋतुपर्णा पांडा ने प्रभावशाली प्रदर्शन करते हुए स्पेन की पाउला लोपेज और लोरेना उस्ले की जोड़ी को 21-10, 21-8 हराकर पांच मैचों के मुकाबले में भारत का 2-1 से बढ़त दिला दी.

तीसरे एकल मुकाबले में अदिति भट्ट ने अपनी प्रतिभा की झलक पेश की और स्पेन की आनिया सेटियन को 21-16, 21-14 से हराया. अदिति की जीत के साथ ही भारत ने मुकाबले में 3-1 की अजेय बढ़त हासिल कर ली. राष्ट्रमंडल खेलों की कांस्य पदक विजेता एन सिक्की रेड्डी एवं अश्विनी पोन्नप्पा की महिला जोड़ी हालांकि आखिरी मुकाबले में विश्व की 122वें स्थान की जोड़ी अजुरमेंडी एवं कोरालेस की जोड़ी से पार पाने में असफल रही. भारतीय जोड़ी 18-21, 21-14, 17-21 से हार गई. भारत मंगलवार को ग्रुप बी के अपने दूसरे मैच में स्कॉटलैंड से भिड़ेगा।

ओलंपिक डॉट कॉम ने साइना के हवाले से कहा, ‘मेरी कमर में जकड़न जैसा कुछ महसूस हुआ. मैं हैरान थी कि यह कैसे हुआ. मैं अपनी लय वापस पाने की कोशिश कर रहा थी लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा था. मुझे मैच बीच में छोड़ना पड़ा क्योंकि लंबी रैलियों में दर्द काफी बढ़ जा रहा था.’ हैदराबाद की इस 31 साल की खिलाड़ी ने कहा कि वह अगले कुछ दिनों तक अपनी चोट पर नजर रखेंगी.

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि अगले 3-4 दिन इस पर नजर रखनी होगी. दो और मैच हैं इसलिए मैं सिर्फ यह देखना चाहती हूं कि यह कैसा चल रहा है. मैं जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेना चाहती हूं क्योंकि मेरा शरीर सही महसूस कर रहा है लेकिन कमर की इस समस्या को दूर करना होगा.’ (news18.com)