खेल

24-May-2020

इस्लामाबाद, 24 मई । कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अपना कहर बरपा रखा है। इस खतरनाक वायरस से क्रिकेट जगत भी नहीं बच पाया है। अब पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज तौफीक उमर का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। क्रिकेटर पाकिस्तान की एक रिपोर्ट के अनुसार, उमर फिलहाल अपने घर में सेल्फ-आइसोलेशन में है। उमर चौथे ऐसे क्रिकेटर हैं जो कोरोना की चपेट में आए हैं। इस महीने की शुरुआत में दक्षिण अफ्रीका के प्रथम श्रेणी क्रिकेटर सोलो एनक्वेनी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे। वहीं, पिछले महीने पूर्व पाकिस्तानी फर्स्ट क्लास क्रिकेटर जफर सरफराज का कोरोना के चलते निधन हो गया था।

उमर ने अगस्त साल 2001 में बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट मैच से अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर का आगाज किया था, जहां उन्होंने प्रभावी बल्लेबाजी की। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने 163 गेंदों पर 104 रनों की शानदार पारी खेलकर पाकिस्तान को पारी और 263 रनों से एक बड़ी जीत दर्ज करने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने बाद में इमरान नजीर और सलमान बट जैसे खिलाडिय़ों के साथ ओपनिंग की। हालांकि, फॉर्म और फिटनेस के कारण वह लंबे समय तक उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए। उन्होंने पाकिस्तान के लिए 44 टेस्ट और 22 वनडे मैच खेले जिसमें उन्होंने क्रमश: 2963 और 504 रन बनाए।

उन्होंने टेस्ट में सात शतक और 14 अर्धशतक लगाए। उमर करियर की अच्छे शुरुआत करने के बावजूद पाकिस्तानी टीम में अपनी जगह पक्की करने में असफल रहे। उन्होंने खराब फॉर्म के कारण टीम से हटाए जाने के बाद कई मौकों पर पाकिस्तान की तरफ से वापसी करने की कोशिश की मगर वह अपना जगह फिर से हासिल नहीं कर पाए। उमर ने 2016 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उन्होंने क्रिकेट के सभी रूपों को छोडऩे से पहले अक्टूबर 2018 में अपना अंतिम प्रथम श्रेणी मैच ल खेला। उन्होंने 177 प्रथम श्रेणी मैच खेले और 10,000 से अधिक रन बनाए।(टाईम्स नाउ)


24-May-2020

लंदन, 24 मई । इंग्लिश प्रीमियर लीग ने कहा है कि दो अलग क्लबों के दो और लोग कोरोना वायरस के लिए पॉजिटिव पाए गए हैं। यह लीग के लिए झटका है, जो तीन हफ्ते बाद सत्र को दोबारा शुरू करने के प्रयास में लगी है। पिछले हफ्ते तीन दिन में कोविड-19 (ष्टश1द्बस्र- 19) के लिए 996 खिलाडिय़ों और क्लबों के स्टाफ के परीक्षण किए गए।  ईपीएल ने शनिवार को बयान में कहा, 'इनमें से दो क्लबों के दो लोगों के नतीजे पॉजिटिव आए हैं।' लीग ने कहा, 'खिलाड़ी या स्टाफ जो भी पॉजिटिव पाए गए हैं वे स्वयं को सात दिन के लिए पृथकवास (क्वॉरंटीन) में रखेंगे। इससे पहले 17 और 18 मई को हुए 748 परीक्षण में तीन क्लबों के छह लोग कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए थे। ये छह लोग अब भी सात दिन के पृथकवास से गुजर रहे हैं और हाल में हुए परीक्षण में शामिल नहीं थे।(भाषा)


24-May-2020

नई दिल्ली, 24 मई। भारतीय मुक्केबाजी संघ (बीएफआई) ने ओलंपिक का टिकट हासिल करने वाले मुक्केबाजों के लिए 10 जून से प्रशिक्षण शिविर शुरू करने की योजना बनाई है, जिसमें कोविड-19 महामारी के मद्देनजर जरूरी सुरक्षा के साथ पुरुष और महिला खिलाड़ी पटियाला में अभ्यास करेंगे। शिविर में हालांकि मुक्केबाजों को रिंग में जाने की अनुमति नहीं होगी और उन्हे दूसरे मुक्केबाज के साथ स्पैरिंग (मुक्केबाजी अभ्यास) पर भी रोक होगी।

इसका फैसला एक वीडियो कांफ्रेंस में हुआ जिसमें ओलंपिक के लिए चुने गए मुक्केबाजों के अलावा बीएफआई के कार्यकारी निदेशक आरके सचेती, उपाध्यक्ष राजेश भंडारी, हाई परफोर्मेंस निदेशकों सैंटियागो नीवा (पुरुष) और राफेल बर्गमास्को (महिला) के साथ मुख्य राष्ट्रीय कोच सीए कटप्पा (पुरुष) और मोहम्मद अली कमर (महिला) मौजूद थे।

महासंघ के एक अधिकारी ने बताया, यह आगे की योजना है। मुक्केबाजों का मानना था कि भले ही उन्होंने अब तक बहुत अच्छा काम किया हो लेकिन शिविर के औपचारिक प्रशिक्षण का कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने बताया, महिला मुक्केबाज (जो दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में प्रशिक्षण कर रहीं थी) भी एनआईएस (राष्ट्रीय खेल संस्थान) पटियाला में आयोजित होने वाले संयुक्त शिविर में भाग लेंगी।

टोक्यो ओलंपिक के लिए नौ भारतीय मुक्केबाजों ने क्वॉलिफाई किया है जिसमें अमित पंघाल (52 किग्रा), मनीष कौशिक (63 किग्रा), विकास कृष्णन (69 किग्रा), आशीष कुमार (75 किग्रा), सतीश कुमार (91 किग्रा से अधिक), एमसी मेरीकोम (51 किग्रा), सिमरनजीत कौर (60 किग्रा), लोवलिना बोरगोहिन (69 किग्रा) और पूजा रानी (75 किग्रा) शामिल है।

इन मुक्केबाजों में से विकास, मनीष और आशीष वीडियों कांफ्रेस से नहीं जुड़ सके, लेकिन उन्होंने 10 जून से शिविर के लिए हामी भर दी है। गृहमंत्रालय से स्टेडियम और खेल परिसरों को खिलाडिय़ों के लिए खोलने की अनुमति मिलने के बाद भी शिविर को तुरंत शुरू नहीं करने का फैसला किया गया। यह 31 मई तब लागू देशव्यापी अंतरराज्यीय लॉकडाउन के दौरान यात्रा संबंधी परेशानी को देखते हुए लिया गया। कोविड-19 महामारी के कारण मार्च में देशभर में लागू हुए लॉकडाउन के कारण मुक्केबाज अपने घर पर ही अभ्यास कर रहे थे। (एजेंसी)


24-May-2020

नई दिल्ली, 24 मई । कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के कारण खेल के दुनिया भर में निलंबित होने के बाद टेस्ट खेलने वाले देशों में आयोजित होने वाला यह पहला टूर्नामेंट है।

सुनील एंब्रिस मुख्य बातें कोरोना वायरस महामारी के बीच टी10 प्रीमियर लीग की शुरुआत हुईअंतरराष्?ट्रीय क्रिकेट के लिहाज से यह काफी छोटा टूर्नामेंट हैवेस्?टइंडीज के क्रिकेटर सुनील एंब्रिस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए दो विकेट लिए

किंग्सटाउन/सेंट विनसेंट एवं द ग्रेनेडियन्स: स्टेडियम में दर्शकों को स्वीकृति नहीं, गेंद पर लार लगाने की अनुमति नहीं और सीमा रेखा के पास सेनेटाइजर। कोरोना वायरस के दौरान क्रिकेट मैचों में आपका स्वागत है। कैरेबियाई देशों में इस हफ्ते क्रिकेट शुरू हो गया है। सेंट विन्सेंट के मुख्य शहर किंग्सटाउन के समीप आर्नोस वेल पर शुरू हो रही विन्सी टी10 प्रीमियर लीग में छह टीमें हिस्सा ले रही हैं।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिहाज से यह काफी छोटा टूर्नामेंट है, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के कारण खेल के दुनिया भर में निलंबित होने के बाद टेस्ट खेलने वाले देशों में आयोजित होने वाला यह पहला टूर्नामेंट है। सेंट विनसेंट में शुरुआत में दर्शकों को स्टेडियम में आने की स्वीकृति दिए जाने की उम्मीद थी क्योंकि सिर्फ 18 मामले सामने आने के कारण यहां कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का खतरा काफी कम है, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

सेंट विनसेंट एवं ग्रेनेडियन्स क्रिकेट संघ (एसवीजीसीए) के अध्यक्ष किशोर शैलो ने कहा, 'एसवीजीसीए स्टेडियम में सीमित दर्शकों के विकल्प को प्राथमिकता देता, अधिकतम 300 या 500। हालांकि विशेषज्ञों ने चिंता जताई और सलाह दी कि दर्शकों को स्वीकृति देने से पहले हमें खिलाडिय़ों के प्रबंधन को नियमित करने का प्रयास करना चाहिए।' स्थानीय दर्शकों को 31 मई तक चलने वाले इस टूर्नामेंट में घरेलू स्टार सुनील एंब्रिस जैसे खिलाड़ी खेलते हुए दिखेंगे। एंब्रिस टूर्नामेंट के छह मार्की खिलाडिय़ों में से एक हैं।(भाषा)


23-May-2020

नई दिल्ली, 23 मई । भारतीय टीम के ओपनर शिखर धवन ने दो तस्वीरों का कोलाज इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है। तस्वीर शिखर धवन और उनके बेटे जोरावर के बचपन की है। इसमें वे बिल्कुल एक जैसे लग रहे हैं। मानो तस्वीर किसी एक की ही हो। शिखर धवन ने तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा-The Apple doesn't fall far from the tree (मतलब सेव पेड़ से दूर नहीं गिरता यानी बेटा पिता से अधिक अलग नहीं होता है)।

यह तस्वीर लोगों को खूब पंसद आ रही है। इसे अब तक 3 लाख से अधिक लाइक्स मिल चुके हैं। ढेरों लोगों ने कॉमेंट किया- बिल्कुल एक जैसे दिख रहे हैं... कार्बन कॉपी। बता दें कि शिखर धवन ने अपने से अधिक उम्र की आयशा मुखर्जी से शादी की थी। जोरावर का जन्म 2014 में हुआ। शिखर अक्सर बेटे और बेटियों की तस्वीरों और वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करते रहते हैं।

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस की वजह से कई बड़े देशों में लॉकडाउन जारी है और लोग घरों में रह रहे हैं। इस वजह से इंडियन प्रीमियर लीग भी अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो चुका है। क्रिकेटर्स अपनी-अपनी फैमिली के साथ समय बिता रहे हैं।(नवभारत टाईम्स)


23-May-2020

आजमगढ़, 23 मई । कोरोनावायरस के कारण पूरे देश में खेल गतिविधियों को रोक दिया गया है।  ऐसे में खिलाड़ी अपने घरों में रहकर परिवार वालों के साथ समय बिता रहे हैं।  वहीं, दूसरी ओर क्रिकेटर इस मुश्किल भरे समय में गरीबों की मदद भी करते हुए नजर आ रहे हैं।  ऐसे में 22 साल के युवा क्रिकेटर सरफराज खान भी गरीबों की मदद करने के लिए आगे आए हैं।  सरफराज अपने गांव उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ में प्रवासी मजदूरों की मदद कर रहे हैं।  सरफराज अपने गांव से गुजरने वाले मजदूरों को खाना बांट रहे हैं।  गौरतलब है कि सरफराज लॉकडाउन के दौरान अपने गांव में अपने परिवार वालों के साथ रह रहे हैं। 

हाल ही में सरफ़राज ने रणजी ट्रॉफी में मुंबई की ओर से खेलते हुए इस सीजन में तिहरा शतक जमाने का कमाल किया था।  बता दें कि सरफराज इस साल आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेलने वाले हैं।  सरफराज ने प्रवासी मजदूरों को लेकर बात की और कहा कि इस समय रमजान का पाक महीना चल रहा है, ऐसे में हम लोग खुद भूखे प्यासे रह रहे हैं।  एक दफा हम मार्केट गए थे तो हमने प्रवासी मजदूरों को भूखे-प्यासे जाते हुए देखा था।  उसके बाद ही मेरे मन में ख्याल आया कि इनके लिए कुछ करना चाहिए।  इस काम में मेरे पिता मेरे साथ हैं और मजदूरों के लिए जितना संभव है हम मदद कर रहे हैं।

इसके साथ-साथ सरफराज ने कहा कि अपनी फिटनेस के लिए वो घर पर ही खूब मेहनत कर रहे हैं। आईपीएल को लेकर भी सरफराज ने बात की और कहा कि उन्हें भी आईपीएल के शुरू होने का इंतजार है लेकिन इस समय पूरा फोकस कोरोना को लेकर है कि यह बीमारी जल्द से जल्द खत्म हो जाए।  सरफराज ने विराट कोहली और एबी डिविलियर्स को लेकर भी बात की और कहा कि उनके साथ गुजारा समय काफी खास रहा है।  कोहली से उन्होंने खूब मेहनत करना सीखा है तो वहीं एबी से उन्होंने प्रैक्टिस के दौरान अपनी बल्लेबाजी पर खूब मेहनत करने की बात सीखा है।

सरफराज को उम्मीद है कि वह एक बार फिर अच्छा परफॉर्मेंस पर चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर खिंचने में सफल रहेंगे।  वैसे उन्होंने कहा कि वो सिर्फ मेहनत करना चाहते हैं और आगे भविष्य के बारे में कुछ नहीं सोचते हैं।  इसके साथ- साथ सरफराज ने मुंबई टीम के साथी क्रिकेटर सूर्य कुमार यादव की जमकर तारीफ की और कहा कि उनसे काफी कुछ सीखने को मिला है। (एनडीटीवी)


23-May-2020

नई दिल्ली, 23 मई। कोविड-19 महामारी के बाद जब खेल शुरू होगा तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों को अपनी कुछ आम आदतों को बदलना पड़ेगा जैसे उन्हें अभ्यास के दौरान शौचालय जाने और मैदानी अंपायरों को अपनी कैप या सनग्लास सौंपने की अनुमति नहीं होगी। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के दिशानिर्देशों के अनुसार खिलाड़ी अपने निजी सामान जैसे कैप, तौलिया, सनग्लास, जंपर्स आदि अंपायर या साथियों को नहीं सौंप सकते और उन्हें शारीरिक दूरी बनाए रखनी होगी।

लेकिन यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि खिलाडिय़ों का सामान कौन रखेगा। यही नहीं अंपायरों को भी गेंद को पकड़ते समय दस्तानों का उपयोग करना होगा। खिलाड़ी अपनी कैप और धूप के चश्मों को मैदान पर नहीं रख सकते क्योंकि इससे पेनल्टी रन जा सकते हैं जैसे कि हेलमेट के मामले में होता है। आईसीसी इसके साथ ही चाहती है कि खिलाड़ी मैच से पहले और मैच के बाद ड्रेसिंग रूम में कम समय बिताए।

आईसीसी क्रिकेट समिति पहले ही गेंद पर लार लगाने पर प्रतिबंध की सिफारिश कर चुकी है और अब खिलाडिय़ों को गेंद छूने के बाद आंखें, नाक और मुंह स्पर्श नहीं करने की सलाह दी गई है तथा गेंद के संपर्क में आने के बाद अपने हाथ साफ करने के लिए कहा गया है। अभ्यास के दौरान भी खिलाडिय़ों की परेशानियां बढ़ सकती हैं क्योंकि उन्हें शौचालय का उपयोग करने की अनुमति नहीं होगी। (एजेंसी)


21-May-2020

नई दिल्ली, 21 मई । दिग्गज भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का एक वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया, जिसमें सचिन एक छड़ी की मदद से पेड़ से नींबू तोड़ रहे हैं। सचिन का ये वीडियो उनके घर के आंगन का है, जहां वो अपने लिए नींबू तोड़ रहे हैं। सचिन के इस वीडियो के साथ ही हरभजन ने उनसे एक मांग भी कर दी।

29 सेकेंड की इस क्लिप में वीडियो बना रहा शख्स इस पूरी प्रक्रिया की कॉमेंट्री भी कर रहा है, लेकिन इस दौरान वो नींबू के पेड़ को आम का पेड़ बताता है, जिसके बाद सचिन उसको बताते हैं- ये आम नहीं है ये लिंबू है। इस वीडियो को शेयर करते हुए हरभजन ने लिखा- पाजी 2-3 नींबू मेरे लिए भी निकाल लेना।(एबीपी न्यूज)