सामान्य ज्ञान

27-Mar-2021 12:28 PM 21

भारतीय नौसेना ने तीन फौरी सहायता जलपोतों (Immediate Support Vessels,, आईएसवी)-आईएसवी टी-38, आईएसवी टी-39, आईएसवी टी-40 की दूसरी खेप का आंध्र प्रदेश के विशाखपत्तनम के नौसेना डॉकयार्ड पर 24 मार्च 2015 को जलावतरण किया। इसे मिलाकर अब विशाखपत्तनम में 84 फौरी सहायता जहाज हो गए हैं।  तीनों फौरी सहायता पोत (आईएसवी) भारी मशीनगनों  से लैस हैं और इनमें अत्याधुनिक राडार और नेवीगेशन उपकरण भी लगे हुए हैं।
तीन फौरी सहायता जलपोतों में से दो को रॉडमैन स्पेन ने बनाया है, जबकि एक का निर्माण संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के अबुधाबी शिप बिल्डर्स (एडीएसबी) ने किया।  
यह परियोजना तेल एवं प्राकृतिक गैस आयोग लिमिटेड, शिप बिल्डर्स और भारतीय नौसेना का संयुक्त प्रयास है। आईएसवी परियोजना के तहत भारतीय तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने नौसेना के लिए 23 आईएसवी की खरीद के लिए फंड प्रदान किया है। जिनमें से 14 का निर्माण मुंबई के एसएचएम शिपकेयर द्वारा किया गया है।
आईएसवी भारतीय नौसेना के हल्के निगरानी पोत हैं, जिसे विषम से विषम परिस्थितियों में कमांडो को लाने ले जाने के लिए डिजाइन किया गया है। पोत दिन तथा रात दोनों समय में निगरानी करने में सक्षम हैं और सैन्य अभियान के लिए भारतीय नौसेना के कमांडो को लाने-ले जाने में सक्षम हैं। यह पोत तटीय युद्ध तथा रक्षा संचालन खासकर आतंकवादी प्रयासों के खिलाफ उपयुक्त हैं।
 


27-Mar-2021 12:26 PM 20

पाल शैली भारत की एक जानी-मानी चित्रकला हुई है। जिसका चलन 11 वीं से 12 वीं शताब्दी में रहा है।  भारत में पाल लघु चित्रकला के सबसे प्राचीन उदाहरण  बौद्ध धार्मिक पाठों और जैन पाठों   में विद्यमान हैं । पाल अवधि (750 ईसवी सन् से बारहवीं शताब्दी के मध्य तक) बुद्धवाद के अंतिम चरण और भारत बौद्ध कला की साक्षी है । नालंदा , ओदंतपुरी, विक्रम-शिला और सोमारूप के बौद्ध महाविहार बौद्ध शिक्षा तथा कला के महान केन्द्र थे। बौद्ध विषयों से संबंधित ताड़-पत्ते पर असंख्य पाण्डुलिपियां इन केन्द्रों पर बौद्ध देवताओं की प्रतिमा सहित लिखी तथा सचित्र प्रस्तुत की गई थीं । इन केन्द्रों में कांस्य प्रतिमाओं की ढलाई के बारे में कार्यशालाएं भी आयोजित की गई थीं । समूचे दक्षिण-पूर्व एशिया के विद्यार्थी और तीर्थयात्री यहां शिक्षा तथा धार्मिक शिक्षण के लिए एकत्र होते थे । वे अपने साथ कांस्य और पाण्डुलिपियों के रूप में पाल बौद्ध कला के उदाहरण अपने देश ले गए थे जिससे पाल शैली को नेपाल, तिब्बत, बर्मा, श्रीलंका और जावा आदि तक पहुंचाने में सहायता मिली । पाल द्वारा सचित्र पाण्डुलिपियों के जीवित उदाहरणों में से अधिकांश का संबंध बौद्ध मत की वज्रयान शाखा से था ।
 पाल चित्रकला की विशेषता इसकी चक्रदार रेखा और वर्ण की हल्की  आभाएं हैं । यह एक प्राकृतिक शैली है जो समकालिक कांस्य  पाषाण मूर्तिकला के आदर्श रूपों से मिलती है और अजंता की शास्त्रीपय कला के कुछ भावों को प्रतिबिम्बित करती है । पाल शैली में सचित्र प्रस्तुत बुद्ध के ताड़-पत्ते पर प्ररूपी पाण्डु लिपि का एक उत्तम उदाहरण बोदलेयन पुस्तकालय, ऑक्सफार्ड, इंग्लैंड  में उपलब्ध है । यह अष्ट सहस्रिका प्रज्ञापारमिता, आठ हजार पंक्तियों में लिखित उच्च कोटि के ज्ञान की एक पाण्डुलिपि है।  तेरहवीं शताब्दी के पूर्वाद्ध में मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा बौद्ध मठों का विनाश करने के बाद पाल कला का अचानक ही अंत हो गया। कुछ मठवासी और कलाकार बचकर नेपाल चले गए जिसके कारण वहां कला की विद्यमान परंपराओं को सुदृढ़ करने में सहायता मिली।

डीम्ड विश्वविद्यालय
समविश्वविद्यालय या डीम्ड विश्वविद्यालय एक स्वायत्तता की स्थिति है जो भारत के उच्च निष्पादन करने वाले संस्थानों और विभिन्न विश्वविद्यालयों के विभागों को प्रदान किया जाता है। किसी विश्वविद्यालय को यह दर्जा अनुदान आयोग द्वारा प्रदान किया जाता है।
डीम्ड विश्वविद्यालय की स्थिति प्राप्त संस्थान न सिर्फ अपने पाठ्यक्रम को निर्धारित करने की पूर्ण स्वायत्तता ही प्राप्त करते हैं बल्कि प्रवेश नीति, विभिन्न पाठ्यक्रमों की फीस और शुल्क, तथा छात्रों के लिए निर्देश भी बनाने के लिए स्वतंत्र होते हंै।
 


27-Mar-2021 12:25 PM 20

27 मार्च, सन 1989 में रूस में पहली बार स्वतंत्र चुनाव हुए थे। सोवियत काल में हुए इस चुनाव के शुरुआती नतीजों से ही अंदाजा लगने लगा था कि लाखों मतदाताओं ने कम्युनिस्ट उम्मीदवारों को नकार दिया था। चुनाव के अंतिम नतीजे भी अपेक्षा के अनुरूप ही रहे। कम्युनिस्ट पार्टी के बहुत से वरिष्ठ नेताओं को चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा। सोवियत संघ में इन संसदीय चुनावों में पहली बार नागरिकों को यह विकल्प मिला था कि वे कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं के अलावा भी किसी को वोट दे सकें। यह चुनाव इस मायने में भी ऐतिहासिक माने जाते हैं कि यह पहला मौका था जब सोवियत संघ का विरोध करने वालों को भी जनता के सामने आने का मौका मिला।   भारी मतों के साथ बोरिस येल्तसिन ने नई सरकार बनाई। सन 1991 तक सोवियत संघ अस्तित्व में रहा।
 


27-Mar-2021 12:24 PM 30

लहसुन का प्रयोग, सूप, सब्जी दाल रोटी नान आदि भोजन की लगभग सभी चीजों में होता है। इसके गुणों को देखते हुए ही इसके सम्मान में हर साल 19 अप्रैल को अंतरराष्ट्रीय लहसुन दिवस मनाया जाता है। अनेक देशों में इसे मिठाइयों और पेय में भी डाला जाता है। अनेक प्रकार की वाइन में इसका प्रयोग होता है। महान यूनानी चिकित्सक हिप्पोक्रेट्स ने भी लहसुन को कई रोगों की अचूक दवा बताते हुए लहसुन के गुणों के बारे में विस्तार से लिखा है। कई औषधियों में इसका उपयोग किया जाता है। 
ईसाई देवी देवता शास्त्र के अनुसार जब शैतान ने ईडेन गार्डेन का त्याग किया तब उसके बांएं पदचिह्न से लहसुन की उत्पत्ति हुई। अनेक जनजातियों में इसका प्रयोग भूत और चुड़ैलों को भगाने में किया जाता है। मच्छरों, दीमकों और कीटों को भगाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। 
लहसुन की तीन सौ से भी अधिक किस्में विश्व में पाई जाती हैं और इसके प्रयोग के प्रमाण ईसापूर्व 4 हजार वर्ष से भी पहले के मिलते हैं। मिस्र में पिरामिड बनाने वाले मजदूरों को भोजन में लहसुन, नमक और रोटी दी जाती थी। मिशिगन झील के किनारे उगने वाली लहसुन की एक प्रजाति शिकागुआ, के नाम पर शिकागो शहर का नामकरण किया गया था। लहसुन को सब से पहले चीन में उगाया गया और चीन से यह दुनिया में फैल गया।
100 ग्राम लहसुन का रासायनिक विश्लेषण करने पर पता चलता है कि इसमें करीब 6.3 ग्राम प्रोटीन, 0.1 ग्राम वसा, 29.8 ग्राम कार्बोज, 62 ग्राम नमी, 0.8 ग्राम रेशा, 30 मि.ग्रा. कैल्शियम, 301 मि.ग्रा. फॉस्फोरस, 1.2 मि.ग्रा. लौहतत्व,0.06 मि.ग्रा. थायेमीन, 0.23 मि.ग्रा रिबोफ्लेविन, 0.4 मि.ग्रा. नियासिन, 13 मि.ग्रा. विटामिन सी, 145 कि. कैलोरी ऊर्जा होती है। लहसुन में 17 अमीनो ऐसिड पाए जाते हैं, साथ ही प्रोबायोटिक इन्युलिन भी पाया जाता है जो पाचक बैक्टीरिया को बढ़ाता है, इसी के कारण पाचन तंत्र को लाभ मिलता है। 
 


26-Mar-2021 12:50 PM 37

1. दांडी यात्रा के दौरान महात्मा गांधीजी ने कितनी दूरी तय करके नमक कानून का विरोध किया था?
(अ) 248 किलोमीटर (ब) 385 किलोमीटर (स) 284 किलोमीटर (द) 348 किलोमीटर
2. महात्मा गांधी ने किस कानून को काला कानून कहा था?
(अ) रॉलेट एक्ट (ब) माण्टेग्यू घोषणा (स) हंटर आयोग (द) कम्युनल अवार्ड
3. चंपारण सत्याग्रह के दौरान महात्मा गांधी के साथ कौन शामिल थे?
(अ) वल्लभ भाई पटेल व विनोबा भावे (ब) जवाहर लाल नेहरू व राजेंद्र प्रसाद (स) राजेंद्र प्रसाद व अनुग्रह नारायण सिंह (द) महादेव देसाई व मणि बेन पटेल
4. कौन सी पुस्तक जवाहर लाल नेहरू द्वारा लिखी गई है?
(अ) ए पैसेज टू इंडिया (ब) माई एक्सपेरिमेंट विथ ट्रूथ (स) इंडिया विन्स फ्रीडम (द) डिस्कवरी ऑफ इंडिया
5. नेहरू रिपोर्ट को अंतिम रूप से अगस्त, 1928 में आयोजित सर्वदलीय सम्मेलन में स्वीकार किया गया था, इस सम्मेलन की अध्यक्षता किसने की थी?
(अ) मोतीलाल नेहरू (ब) महात्मा गांधी (स) जवाहर लाल नेहरू (द) डॉ. अंसारी
6. भारत और पाकिस्तान के बीच सीमांकन किसने किया था?
(अ) लार्ड माउंटबेटन (ब) सर सीरिल रेडक्लिफ (स) सर स्ट्रेफर्ड क्रिप्स (द) लारेन्स
7. भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान महात्मा गांधी द्वारा स्थापित साबरमती आश्रम किस नगर के बाहर स्थित है?
(अ) गांधीनगर (ब) अहमदाबाद (स) राजकोट (द) वर्धा
8. त्रिपुरी संकट की समाप्ति के बाद कांग्रेस का अध्यक्ष किसे चुना गया?
(अ) जवाहर लाल नेहरू (ब) पट्टाभि सीतारमैया (स) राजेंद्र प्रसाद (द) सरदार पटेल
9. किसने सुझाव दिया था कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को समाप्त कर दिया जाय?
(अ) सी. राजगोपालचारी ने (ब) जे.बी. कृपलानी ने (स) महात्मा गांधी ने (द) जय प्रकाश नारायण
10. भारत में ब्रिटेन के सभी संवैधानिक प्रयोगों में सबसे कम समय तक चला?
(अ) 1861 का इंडियन कौंसिल एक्ट (ब) 1892 का इंडियन कौंसिल एक्ट (स) 1909 का इंडियन कौंसिल एक्ट (द) 1919 का गवर्नमेण्ट ऑफ इंडिया एक्ट
11. पाश्र्वनाथ की शिक्षाएं संगृहीत रूप से जानी जाती है?
(अ)त्रिरत्न नाम से (ब) पंच महाव्रत नाम से (स) पंचशील नाम से (द) चातुर्याम नाम से
12. बृहदारण्यक उपनिषद् में जनक की सभा में याज्ञवल्क्य से दार्शनिक संवाद करते हुए निम्नलिखित में से किसका वर्णन हुआ है?
(अ) गार्गी (ब) कात्यायनी(स) मैत्रेयी (द) विश्ववारा
13. उत्तर वैदिककाल में प्राध्य देश के शासक कहे जाते थे-
(अ) स्वराट् (ब) भोज (स) सम्राट् (द) वैराट् 
14. नंदों का उल्लेख करने वाला प्राचीनतम अभिलेखीय प्रमाण क्या है?
(अ) रुद्रदामन का जूनागढ़ अभिलेख (ब) खारवेल का हाथीगुफा अभिलेख (स) हेलियोदोर का गरुड़ स्तंभ अभिलेख (द) गौतमी बालश्री का नासिक गुफा अभिलेख
15. जैन धर्म में सल्लेखना से तात्पर्य है?
(अ) लेखन पद्घति (ब) उपवास द्वारा प्राण त्याग (स) तीर्थकरों की जीवनी (द) भित्ति चित्र
16. महावंश के अनुसार तृतीय बौद्घ संगीति के पश्चात हिमालय क्षेत्र में कौन गया था?
(अ) मज्झिम (ब) रक्षित (स) धर्मरक्षित (द) महादेव
17. अंग राज्य का सर्वप्रथम उल्लेख मिलता है-
(अ) शतपथ ब्राह्मïण में (ब) अथर्ववेद में (स) अंगुत्तर निकाय में (द) भगवती सूत्र में
18. राजगृह का राजवैद्य जीवन गणिका का पुत्र था, उसका क्या नाम था?
(अ) सालवती (ब) रमणीया (स) बसंतसेना (द) आम्रपाली
19. भारतीय रिजर्व बैंक का लेखा वर्ष होता है?
(अ) अप्रैल-मार्च (ब) जुलाई-जून (स) अक्टूबर-सितंबर (द) जनवरी-दिसंबर
20. रिजर्व बैंक के नोट निर्गमन विभाग के पास हर समय कम से कम कितने मूल्य का स्वर्णकोष रहना चाहिए?
(अ) 85 करोड़ रुपए का (ब) 115 करोड़ रुपए का (स) 200 करोड़ रुपए का (द) 300 करोड़ रुपए का
21. चमकता हुआ सितारा किस राष्ट्रीयकृत बैंक का प्रतीक है?
(अ) सिंडीकेट बैंक (ब) इंडियन बैंक (स) बैंक ऑफ इंडिया (द) बैंक ऑफ बड़ौदा
22. वर्ष 1967-69 के दौरान भारत के उप प्रधानमंत्री के पद पर कौन काबिज थे?
(अ) चौधरी चरणसिंह और मोरारजी देसाई (ब) बाबू जगजीवन राम और मोरारजी देसाई (स) चौधरी चरण सिंह बाबू जगजीवन राम (द) मोरारजी देसाई और अटल बिहारी वाजपेयी
23. संवैधानिक दृष्टि से यदि देखा जाय तो उपप्रधानमंत्री निम्न में से किसके समकक्ष होता है?
(अ) प्रधानमंत्री (ब) लोकसभा अध्यक्ष (स) उपराष्ट्रपति (द) कैबिनेट मंत्री
24. महासागरीय सतह का निर्माण किस प्रकार की चट्टानों से हुआ है?
(अ) ग्रेनाइट (ब) बैसाल्ट (स) परतदार (द) गैब्रो
25. महाद्वीपीय प्रवाह सिद्धांत के प्रणेता कौन हैं?
(अ) प्राट (ब) वेग्नर (स) होम्स (द) ग्रेगरी
26. निम्नलिखित नगरों में से कौन सा एक भूमध्य रेखा के सर्वाधिक निकट है? 
(अ) कोलंबो (ब) जकार्ता (स) मनीला (द) सिंगापुर 
 27. पेंट उद्योग के श्रमिकों को, निम्नलिखित जोखिमों में से किस एक का सामना करना पड़ता है?
(अ) निकेल प्रदूषण (ब) कैडमियम प्रदूषण (स) स्ट्रॉन्शियम प्रदूषण (द) सीमा प्रदूषण

सही जवाब- 1.(ब) 385 किलोमीटर, 2.(अ) रॉलेट एक्ट, 3.(स) राजेंद्र प्रसाद व अनुग्रह नारायण सिंह, 4.(द) डिस्कवरी ऑफ इंडिया, 5.(द) डॉ. अंसारी, 6.(ब)सर सीरिल रेडक्लिफ, 7.(ब) अहमदाबाद, 8.(स) राजेंद्र प्रसाद, 9.(स) महात्मा गांधी ने, 10.(स) 1909 का इंडियन कौंसिल एक्ट, 11.(द) चातुर्याम नाम से, 12.(अ) गार्गी, 13.(स) सम्राट्, 14.(ब) खारवेल का हाथीगुफा अभिलेख, 15.(ब) उपवास द्वारा प्राण त्याग, 16.(अ) मज्झिम, 17. (ब) अथर्ववेद में, 18.(अ) सालवती, 19.(अ) अप्रैल-मार्च, 20.(ब) 115 करोड़ रुपए का, 21. (स) बैंक ऑफ इंडिया, 22.(स) चौधरी चरण सिंह बाबू जगजीवन राम, 23.(द) कैबिनेट मंत्री, 24. (ब) बैसाल्ट, 25. (ब) वेग्नर, 26.(द) सिंगापुर, 27.  (द) सीमा प्रदूषण।
 


26-Mar-2021 12:48 PM 24

26 मार्च सन 1971 ईसवी को व्यापक स्तर पर विद्रोह और राजनैतिक खींचतान के बाद पूर्वी पाकिस्तान अर्थात वर्तमान बांगलादेश पाकिस्तान से अलग हो गया। पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान सन 1948 में भारत से अलग होकर एक स्वतंत्र देश बने किंतु पूर्वी पाकिस्तान के बंगाली केंद्रीय सरकार की भेदभावपूर्ण और जातिवादी नीतियों से अप्रसन्न थे। पूर्वी पाकिस्तान के लोगों ने इसी कारण पहले तो स्वायत्तता मांगी और फिर स्वतंत्रता की मांग करने लगे। 
पाकिस्तान की सरकारी सेना ने पूर्वी पाकिस्तान की राजधानी ढाका को अपने क़ब्ज़े में कर लिया जिसके बाद बंगालियों ने सेना के विरुद्ध सशस्त्र संघर्ष आरंभ कर दिया। भारत की ओर से भी विद्रोहियों को बढ़ावा मिला। परिणाम स्वरुप युद्ध आरंभ हो गया जिसमें पाकिस्तान की सेना को भारत की सेना से पराजय हुई और वो पूर्वी पाकिस्तान से निकलने पर विवश हो गयी। बंगलादेश भारतीय उप महाद्वीप के पूर्वोत्तरी भाग में स्थित है। भारत और म्यांमार इसके पड़ोसी देश हैं। 
 


26-Mar-2021 12:47 PM 24

मीर हजार खान खोसो पाकिस्तान के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश हैं जिन्होंने पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में 25 मार्च 2013 को  इस्लामाबाद में शपथ ली।
देश के निर्वाचन आयोग द्वारा मनोनीत मीर हजार खान खोसो द्वारा पाकिस्तान में 342 सदस्यों वाली नेशनल एसेम्बली और चार प्रांतीय एसेम्बली हेतु 11 मई 2013 से शुरू होने वाले आम चुनावों का संचालित किया जाना है। 84 वार्षीय मीर हजार खान खोसो ने बलूचिस्तान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद पर रहते हुए अपनी सेवाएं दी हैं।
ज़ुल्फिक़ार अली भुट्टो की सरकार के शासन के दौरान 20 जून 1977 में वे बलूचिस्तान उच्च न्यायालय के अस्थायी जज बने। उन्हें जिया उल हक ने स्थायी जज बनाया और एक मुख्य न्यायाधीश के तौर पर 29 सितम्बर 1991 को वह सेवानिवृत्त हुए। वे  17 नवम्बर 1992 को संघीय शरिया अदालत के मुख्य न्यायाधीश बने। मीर हजार खान खोसो पाकिस्तान के विभिन्न जातीय समूहों और राजनीतिज्ञों में काफी प्रतिष्ठित हैं। वे बलूचिस्तान प्रांत के जाफराबाद जिले में गोठ आज़म खान से संबंध रखते हैं। उन्होंने वर्ष 1954 में सिंध विश्वविद्यालय से स्नातक और दो वर्ष बाद कराची विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की।  

राष्ट्रीय कृषि मिशन 
केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने जलवायु परिवर्तन के मद्देनजर सतत कृषि विकास को बढ़ावा देने हेतु जलवायु परिवर्तन राष्ट्रीय कार्य योजना के तहत राष्ट्रीय कृषि मिशन का गठन किया।
इस मिशन का उद्देश्य बदलते मौसम के अनुसार पर्याप्त उपायों को अपनाते हुए उत्पादन के ऐसे तौर तरीके इस्तेमाल करने है, जिससे मौसम के बदलाव का मुकाबला किया जा सकें। इन उपायों में पानी का उचित इस्तेमाल, कीट प्रबंधन, खेतीबाड़ी में सुधार लाना और कृषि उत्पादन को अधिक पौष्टिक बनाना है। इसके अतिरिक्त कृषि बीमा, ऋण की सुविधा, उत्पादों के लिए बेहतर बाजार जैसे उपाय भी शामिल हैं।
किसानों को बदलते मौसम से अवगत कराने में दूरदर्शन और आकाशवाणी के ग्रामीण एफएम रेडियो की अधिक-अधिक सुविधा उपलब्ध कराने की भी योजना बनाई गई है।
 


26-Mar-2021 12:47 PM 27

होली भारत का  बहुत प्राचीन उत्सव है। इसका आरम्भिक शब्दरूप होलाका था।  भारत में पूर्वी भागों में यह शब्द प्रचलित था। जैमिनि एवं शबर का कथन है कि  होलाका सभी आर्यो द्वारा सम्पादित होना चाहिए। काठकगृह्य में एक सूत्र है राका होला के , जिसकी व्याख्या टीकाकार देवपाल ने  की है-  होला एक कर्म-विशेष है जो स्त्रियों के सौभाग्य के लिए सम्पादित होता है, उस कृत्य में राका  देवता है।  
होलाका उन बीस क्रीड़ाओं में एक है जो सम्पूर्ण भारत में प्रचलित हैं। इसका उल्लेख वात्स्यायन के कामसूत्र  में भी हुआ है जिसका अर्थ टीकाकार जयमंगल ने किया है। फाल्गुन की पूर्णिमा पर लोग श्रृंग से एक-दूसरे पर रंगीन जल छोड़ते हैं और सुगंधित चूर्ण बिखेरते हैं। हेमादि ने बृहद्यम का एक श्लोक उद्भृत किया है। जिसमें होलिका-पूर्णिमा को हुताशनी  कहा गया है। लिंग पुराण में आया है-  फाल्गुन पूर्णिमा को  फाल्गुनिका कहा जाता है, यह बाल-क्रीड़ाओं से पूर्ण है और लोगों को विभूति, ऐश्वर्य देने वाली है।  वराह पुराण में आया है कि यह  पटवास-विलासिनी  है। 
जैमिनि एवं काठकगृह्य में वर्णित होने के कारण यह कहा जा सकता है कि ईसा की कई शताब्दियों पूर्व से  होलाका  का उत्सव प्रचलित था। कामसूत्र एवं भविष्योत्तर पुराण इसे वसन्त से संयुक्त करते हैं, इसलिए यह उत्सव पूर्णिमान्त गणना के अनुसार वर्ष के अन्त में होता था।  होलिका हेमन्त या पतझड़ के अन्त की सूचक है और वसन्त की कामप्रेममय लीलाओं 
 


26-Mar-2021 12:46 PM 19

भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा कपास उत्पादक एवं उपभोक्ता है। देश में कपास का क्षेत्रफल विश्व में सर्वाधिक है। कभी देश की कपड़ा मिलों को कपास के आयात पर निर्भर रहना पड़ता था। पिछले कुछ वर्षों के दौरान कपास उत्पादन कार्यक्रमों जैसी विशेष योजनाओं के शुरू होने से देश में कपास की खेती का क्षेत्रफल, उत्पादन और उपज में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है जिससे न सिर्फ कपास उत्पादन में देश आत्मनिर्भर बन गया है बल्कि अब अधिशेष मात्रा का निर्यात अन्य देशों को भी होने लगा है। फाईबर के रूप में कुल उत्पादन का एक तिहाई भाग विश्व बाजार में निर्यात हो रहा है।
कपास वर्ष 2011-12 के दौरान देश को विश्व का सबसे बड़ा निर्यातक होने का दर्जा हासिल हुआ है और यह सब कपास उत्पादन में बीते दशक में हुई उल्लेखनीय प्रगति की वजह से संभव हुआ है। आज देश कपास उत्पादन में विश्व में दूसरे नम्बर पर आ गया है। भारत में विश्व के कुल कपास उत्पादन का लगभग 18 प्रतिशत उत्पन्न हो रहा है। देश में कपास उत्पादन का क्षेत्रफल लगभग 122 लाख हेक्टेयर है, जो विश्व का लगभग 25 प्रतिशत है।  वैसे तो कपास की खेती विश्व के अनेक देशों में की जाती है लेकिन कपास के प्रमुख उत्पादक देशों में चीन, भारत, अमेरिका और पाकिस्तान प्रमुख हैं।
देश के प्रमुख कपास उत्पादक राज्य- गुजरात में 14 लाख किसान, महाराष्ट्र में लगभग 22 लाख, आंध्र प्रदेश में लगभग 7.49 लाख, मध्य प्रदेश में 4.78 लाख, हरियाणा में 2.82 लाख, पंजाब में 2.43 लाख, राजस्थान में 3.75 लाख एवं तमिलनाडु 2.50 लाख किसान कपास की खेती में लगे हुए हैं। इसके अलावा, ओडिशा, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश में भी हजारों किसान कपास की खेती से जुड़े हुए हैं।
 


26-Mar-2021 12:45 PM 14

हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र माह से प्रारंभ होने वाले वर्ष का बारहवां तथा अंतिम महीना जो ईस्वी कलेंडर के मार्च माह में पड़ता है। फाल्गुन को  वसंत  ऋतु का महीना भी कहा जाता है क्योंकि इस समय भारत में न अधिक गर्मी होती है और न अधिक सर्दी।
फाल्गुन माह में अनेक महत्वपूर्ण पर्व मनाए जाते हैं जिसमें होली प्रमुख हैं।   समस्त वार्षिक महोत्सव दक्षिण भारत के विशाल तथा छोटे-छोटे मन्दिरों में प्राय: फाल्गुन मास में ही आयोजित होते हैं।   फाल्गुन शुक्ल अष्टमी को लक्ष्मी जी तथा सीता जी की पूजा होती है।   मान्यता है कि यदि फाल्गुनी पूर्णिमा को फाल्गुनी नक्षत्र हो तो व्रत करने वालों  को पलंग तथा बिछाने योग्य सुन्दर वस्त्र दान में देने चाहिए। इससे सुभार्या की प्राप्ति होती है, जो कि अपने साथ में सौभाग्य लिए चली आती है।
कश्यप ऋषि तथा अदिति से अर्यमा की पूजा तथा अत्रि और अनुसूया से चन्द्रमा की उत्पत्ति फाल्गुनी पूर्णिमा को ही हुई थी। इसलिए इन देवों की चन्द्रोदय के समय पूजा करने की परंपरा है। पूजन में गीत, वाद्य, नृत्यादि का समावेश किया जाता है। 
फाल्गुनी पूर्णिमा को ही दक्षिण भारत में  उत्तिर नामक मन्दिरोत्सव का भी आयोजन किया जाता है।     फाल्गुन में यदि द्वादशी को श्रवण नक्षत्र हो तो उसे फाल्गुन श्रवण द्वादशी कहते हैं। उस दिन उपवास करके भगवान हरि का पूजन  करना चाहिए।
 


26-Mar-2021 12:45 PM 19

जर्मनी में 1,200 से अधिक प्रकार के बेकरी प्रोडक्ट बनते हैं। ब्रेड के मामले में जर्मनी अव्वल है। यहां लगभग 300 तरह की ब्रेड बनती हैं और कई तरह के केक भी। जर्मनी में हर साल 16 लाख टन ब्रेड और ब्रोएट्षन बेचा जाता है। जर्मन लोगों का सबसे प्यारा नाश्ता है बेकरी में बना गर्मागर्म ताजा बन या ब्रेड रोल। जर्मन में इसे ब्रोएट्षन कहते हैं।
जर्मन फोलकॉर्न यानी मल्टीग्रेन ब्रेड खाना पसंद करते हैं। कई तरह के अनाज के कारण इसे स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। अक्सर लोग सुबह बेकरी जा कर ब्रेड खरीदते हैं और उसे चीज, सॉसेज, उबले अंडे या सलाद के साथ खाते हैं। बेकरी में इस तरह के बने सैंडविच भी तैयार मिलते हैं। गेहूं, जौ और बाजरे जैसे अनाज से बनी ब्रेड को और स्वादिष्ट बनाने के लिए उन पर तिल, सूरजमुखी के बीज, या अनाज के दाने भी डाले जाते हैं। जर्मन बेकरी में अकसर छोटा सा कैफे भी होता है, जहां लोग बैठ कर कॉफी के ब्रोएट्षन का मजा लेते हैं। फैक्टरी में बनी ब्रेड को यहां लोग इतना पसंद नहीं करते। जर्मनी में करीब 15 हजार बेकरी है, जो आम तौर पर पारिवारिक कारोबार होता है।  इनमें करीब 3 लाख लोग काम करते हैं। बेकरियां सालाना 13 अरब यूरो का कारोबार करती हैं। परंपरागत जर्मन ब्रेड में नमक की मात्रा 1.8 से 2.2 प्रतिशत होती है, जबकि यूरोपीय संघ ने 1.3 प्रतिशत को स्वस्थ मात्रा घोषित कर रखा है, लेकिन इसी में तो जर्मन ब्रेड के जायके और लोकप्रियता का राज छुपा है।
 


24-Mar-2021 12:22 PM 38

1. गीडा क्या है?
(अ) गाजियाबाद औद्योगिक विकास प्राधिकरण (ब) गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (स) गोमती औद्योगिक विकास प्राधिकरण (द) गंगा औद्योगिक विकास प्राधिकरण
2. निम्नलिखित में से उत्तरप्रदेश के किस जनपद में आर्यभट्ट नक्षत्रशाला स्थित है?
(अ) इलाहाबाद (ब) लखनऊ (स) गोरखपुर (द) रामपुर
3. मालवीय चमत्कार एक प्रजाति है?
(अ) मटर की (ब) अरहर की (स) मूंग की (द) गेहूं की
4. केंद्रीय ग्लास एवं सिरेमिक अनुसंधान संस्थान स्थित है?
(अ)आगरा में (ब)कानपुर में (स) फिरोजाबाद में (द)खुर्जा में
5. मुश्किल शब्द किस भाषा का है?
(अ) हिंदी (ब) तुर्की (स) अरबी (द) फारसी
6. टाट उलटना- मुहावरे का अर्थ क्या है?
(अ) टाट की बोरी खाली करना (ब) काम-काज समेटना (स) दिवाला निकलना (द) भद्दी चीज हटाना
7. नश्वर शब्द का विलोम क्या है?
(अ) नित्य (ब) स्थायी (स) शाश्वत (द) अमर
8. बासेल-3 मानकों का संबंध किस क्षेत्र से है?   
(अ) बीमा (ब) बैंकिंग (स) दूरसंचार (द) नागरिक उड्डयन
9. भारत के किस महानगर को वाई-फाई सिटी होने का श्रेय प्राप्त हुआ है?
(अ) दिल्ली (ब) मुंबई (स) कोलकाता (द) चेन्नई
10. भारत की कौन सी विमान सेवा कंपनी विमानन कंपनियों के गठबंधन स्टार एलायंस की सदस्य है?
(अ) जेट एयरवेज (ब) एयर एशिया इंडिया (स) विस्तारा (द) एयर इंडिया
11. कृषि मंत्रालय के फरवरी 2015 के अग्रिम आंकलन में 2014-15 में देश में खाद्यान्नों का लगभग कुल उत्पादन कितना अनुमानित है?
(अ) 237 मिलियन टन (ब) 247 मिलियन टन (स) 257 मिलियन टन (द) 267 मिलियन टन
12. कृषि मंत्रालय के उपर्युक्त आंकलन में 2014-15 में देश में तिलहनों का उत्पादन लगभग कितना रहने का अनुमान लगाया गया है?
(अ) 25 मिलियन टन (ब) 30 मिलियन टन (स) 35 मिलियन टन (द) 40 मिलियन टन
13. चौदहवें वित्त आयोग के अध्यक्ष कौन थे?
(अ) डॉ. वाई.वी. रेड्डी (ब) डॉ. विजय केलकर (स) सी. रंगराजन (द) यू.के. सिन्हा
14. भारतीय मूल के एक प्रतिष्ठित अमेरिकी उद्यमी सत्यनारायण नडेला को प्रवासी भारतीय दिवस सम्मान से जनवरी-2015 में सम्मानित किया गया है। नडेला किस प्रसिद्ध अमेरिकी कंपनी के सीईओ हैं?
(अ) माइक्रोसॉफ्ट (ब) अमेजन (स) एप्पल (द) गूगल
15. विश्व में स्वर्ण का सर्वाधिक खपत करने वाला देश कौन सा है?
(अ) संयुक्त राज्य अमेरिका (ब) यूके (स) भारत (द) जापान
16. इकबाल सम्मान मध्य प्रदेश में निम्नलिखित में से किस क्षेत्र में दिया जाता है?
(अ) राष्ट्रीय एकता (ब) सांप्रदायिक सद्भावना (स) शौर्य (द) रचनात्मक उर्दू लेखन
17. मौनालोआ उदाहरण है?
(अ) सक्रिय ज्वालामुखी (ब) प्रसुप्त ज्वालामुखी (स) मृत ज्वालामुखी (द) ज्वालामुखी क्षेत्र में पठार का
18. अद्र्धसूत्री विभाजन कहां होता है?
(अ) कोशिका द्रव्य में (ब) केंद्रक में (स) माइटोकॉन्ड्रिया में (द) राइबोसोम्स में
19. ट्राई के उपर्युक्त आंकड़ों के अनुसार भारत में दिसंबर 2014 के अंत में ब्रॉडबैण्ड कनेक्शनों की संख्या लगभग कितनी थी?
(अ)8.5 करोड़ (ब) 9.5 करोड़ (स) 10.5 करोड़ (द) 11.5 करोड़
20. भारत में किस राज्य/दूरसंचार मंडल में टेलीडेंसिटी सर्वाधिक है?
(अ) महाराष्ट्र (ब) केरल (स) दिल्ली (द) तमिलनाडु
21. विश्व के सोने का सर्वाधिक उत्पादन करने वाला देश कौन सा है?
(अ) दक्षिण अफ्रीका (ब) चीन (स) अमेरिका (द) संयुक्त अरब अमीरात
22. सोने की खपत के मामले में विश्व में पहला स्थान किस देश का 2014 में रहा है?
(अ) चीन (ब) भारत (स) अमेरिका (द) सऊदी अरब
23. भारत में न्यूनतम टेलीडेंसिटी वाला राज्य कौन सा है?  
(अ) बिहार (ब) ओडिशा (स) झारखंड (द) जम्मू-कश्मीर 
24. गन्ना एवं तंबाकू  की फसलें निम्नलिखित में से किस श्रेणी के अंतर्गत समझी जाती हैं?
(अ) धान्य फसलें (ब) व्यावसायिक फसलें (स) पेय फसलें (द) बागती फसलें
25. शुक्र ग्रह का एक विशेष लक्षण क्या है?
(अ) वह पूर्व से पश्चिम दिशा में घूर्णन करता है (ब) घूर्णन की गति बहुत तेज होती है (स) उसमें वायुमंडल नहीं है (द) इनमें से कोई नहीं
26. निम्नलिखित में से कौन ठंडी स्थानीय हवा है?
(अ) मिस्ट्रल (ब) बोरा (स) खमसिन (द) ब्लिजार्ड
27. निम्नलिखित में से कौन सी वायु स्विट्जरलैंड में उत्तरी आल्पस के विमुख ढाल पर बहती है?
(अ) फॉन (ब) मिस्ट्रल (स) सिरॉको (द) चिनूक  
28. पेट्रोल में प्रयोग होने वाला सबसे अच्छा अपस्फोटनरोधी यौगिक कौन सा है?
(अ) सोडियम इथॉक्साइड (ब)जिंक इथाइल (स) इथाइल मैग्रीशियम ब्रोमाइड (द)लेड टेट्राइथाइल
29. पेट्रोल का मुख्य संघटक क्या है?
(अ) पेन्टेन (ब) ऑक्टेन (स) मिथेन (द) हेक्सेन

सही जवाब- 1.(ब) गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण, 2.(द) रामपुर, 3.(ब)अरहर की, 4.(द) खुर्जा में, 5.(स) अरबी, 6.(स) दिवाला निकलना, 7.(स)शाश्वत, 8.(ब)बैंकिंग, 9.(स) कोलकाता,10.(द)एयर इंडिया, 11.(स) 257 मिलियन टन, 12.(ब) 30 मिलियन टन,13.(अ) डॉ. वाई.वी. रेड्डी, 14.(अ)माइक्रोसॉफ्ट,15.(ब)यूके, 16.(द) रचनात्मक उर्दू लेखन, 17.(ब)प्रसुप्त ज्वालामुखी, 18.(ब)केंद्रक में, 19.(अ)8.5 करोड़, 20.(स)दिल्ली, 21.(ब)चीन, 22.(ब)भारत, 23.(अ)बिहार, 24.(ब) व्यावसायिक फसलें, 25.(अ)वह पूर्व से पश्चिम दिशा में घूर्णन करता है, 26.(द)ब्लिजार्ड, 27.(अ)फॉन, 28.(द) लेड टेट्राइथाइल, 29.(ब)ऑक्टेन।
 


24-Mar-2021 12:20 PM 32

श्री यंत्र या श्री चक्र एक अद्भुत, रहस्यमय, सिद्धिप्रद, निश्चित प्रभाव उत्पन्न करने वाला यंत्र है।   यह रेखागणित की एक जटिल आकृति है।
माना जाता है कि  श्री यंत्र की स्थापना और पूजा से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। इस यंत्र की अधिष्ठात्री भगवती त्रिपुरा सुंदरी देवी हैं। यह सभी यंत्रो में शिरोमणि है और इसे  यंत्रराज कहा जाता है।  श्री विद्या के गूढ़ रहस्य को समझने के लिए शंकराचार्य विरचित  सौंदर्य लहरी  आदि ग्रंथ हैं। श्री यंत्र को सिद्ध करने के लिए वैशाख, जेठ, कार्तिक, और माघ, ये चार महीने उत्तम हैं।  तिरुपति बाला जी, श्री नाथ जी, पशुपतिनाथ, रामेश्वर आदि मंदिरों की समृद्धि और वैभव के मूल में श्री यंत्र की प्रतिष्ठा है। नवरात्रि, धनतेरस के दिन  श्रीयंत्र का पूजन करने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं। 

चंद्रमा पर सबसे पहला अंतरिक्ष अभियान कब पहुंचा था
नौ दिसंबर 1959 को पहली बार सोवियत संघ का लूना द्वितीय अंतरिक्ष यान चंद्रमा पर उतरा था। सोवियत संघ ने चंद्रमा की जानकारी जुटाने के उद्देश्य से लूना कार्यक्रम शुरू किया था जो 1959 से 1976 तक चला और इस दौरान 24 अंतरिक्ष मिशन भेजे गए, लेकिन चंद्रमा पर मानव ने पहला कदम रखा 20 जुलाई 1969 को जब अमेरिका ने नील आर्मस्ट्रांग, माइकिल कॉलिनस और ऐडविन ऑल्ड्रिन को अपोलो 11 अंतरिक्ष यान से चंद्रमा भेजा।
 


24-Mar-2021 12:18 PM 18

होप्स मंगोल जाति का पसंदीदा पुराना तंतुवाद्य यंत्र है । भिन्न भिन्न अनूदित उच्चारणों की वजह से उसे हौबिस , हबिस या  हुपस पुकारा जाता है, इन सभी का मतलब  छिन ही है । ईसा पूर्व पहली शताब्दी की शुरूआत में उत्तर चीन में बसी जाति ने कूचंग और खुंगहो आदि हान जाति के वाद्य यंत्रों के आधार पर इसी नये प्रकार का तंतुवाद्य यंत्र तैयार कर लिया ।
परम्परागत होप्स का आकार प्रकार एक बड़ा चम्मच मालूम पड़ता है , जिसकी लम्बाई 90 सेमी है , उस का सिर मोड़दार है और यंत्र की हथेली सीधी है तथा ऐसे तंतुवाद्य यंत्र पर तीन से चार तंतुएं लगी हुई हैं ।  होप्स बजाने का तरीका अन्य तंतुवाद्य यंत्रों से ज्यादा फर्क नहीं है , वादक होप्स को खड़ा कर अपने बायं हाथ से तंतु दबा देता है और दाएंं हाथ की अंगूठे और तर्जनी से तंतु बजाते हैं । होप्स की आवाज साफ सुथरी और मधुर है ।
अनेक कारणों से छींग राजवंश के बाद होप्स धीरे धीरे लुप्त हो गया है । नये चीन की स्थापना के बाद संगीतकारों ने खुदाई में प्राप्त प्राचीन होप्स के आधार पर नये आकार वाला होप्स तैयार कर लिया । इस नये प्रकार वाले होप्स में तार ऊंची आवाज , मध्यम आवाज और निचली आवाज में बंटे हुए हैं , उस का आकार प्रकार मंगोल जाति के परम्परागत रिवाज से मेल खाता है , उस के सिर पर एक छूटने वाला तीर अंकित है । 
 


24-Mar-2021 12:18 PM 23

हिल पैलेस संग्रहालय, तिरुपुणिथुरा (केरल) में स्थित है। यह कोची शाही परिवार का आधिकारिक निवास है, जो केरल का सबसे बड़ा पुरातात्विक संग्रहालय बन गया है। वर्ष 1865 में निर्मित इस महल के संकुल में 49 भवन केरल की पारंपरिक वास्तु कलात्मक  शैली में शामिल हैं जो सुंदर मनोहारी दृश्यों के साथ 52 एकड़ से अधिक क्षेत्र फल में फैला है और यहां हिरण उद्यान और घोड़े पर सवारी की सुविधाएं हैं। यहां अनेक प्रकार के फूल हैं जिनमें दुर्लभ औषधीय पौधे उगाए जाते हैं। यहां पूर्ण सज्जित लोक - पुरातात्विक संग्रहालय है जिसमें तैलीय चित्र, भित्ति चित्र, पत्?थर के शिल्पकारी नमूने और पांडुलिपियां, शिला लेख, सिक्किम, कोची शाही परिवार की वस्तुएं और शाही फर्नीचर के साथ सिंहासन शामिल है।
यहां 200 से अधिक बर्तनों और सिरामिक पात्रों के दुर्लभ नमूने भी प्रदर्शित किए गए हैं जो जापान और चीन से लाए गए हैं, कुडाकालू (मकबरे का पत्थर), थोपी कालू (हुड स्टोन), मेनहिर, ग्रेनाइट, लेटराइट स्मारक, पहाड़ को काट कर बनाए गए पत्थर युग के हथियार, लकड़ी के बने मंदिर के मॉडल, सिंधु घाटी सभ्यता के मोहन जोदाड़ो और हड़प्पा की वस्तुओं के प्लास्टर से बने मॉडल भी यहां हैं। इस संग्रहालय में समकालीन कला की एक दीर्घा भी है। 
 


24-Mar-2021 12:17 PM 18

दरभा एक प्रकार की उष्णकटिबंधीय घास है।  हिन्दू संस्कृति में इस दरभा घास को दूर्वा (दूब) के नाम से जाना जाता है। मारवाडी भाषा में इसे ध्रो कहा जाता हैँ। हिंदी में इसे दूब, दुबडा, संस्कृत में दुर्वा, सहस्त्रवीर्य, अनंत, भार्गवी, शतपर्वा, शतवल्ली, मराठी में पाढरी दूर्वा, काली दूर्वा, गुजराती में धोलाध्रो, नीलाध्रो, अंग्रेजी में कोचग्रास, क्रिपिंग साइनोडन, बंगाली में नील दुर्वा, सादा दुर्वा आदि नामों से जाना जाता है।  
दरभा घास (डेस्मोटाचा बिपिन्नाटा) वैदिक शास्त्रों में पवित्र सामग्री के तौर पर माना जाता है और धार्मिक अनुष्ठानों में इसे शुद्ध करने वाला पदार्थ बताया गया है। ग्रहण के दौरान, दरभा घास को खाद्य वस्तुओं में खमीर उठाने के लिए डाला जाता है और ग्रहण के समाप्त होने के बाद उसे हटा लिया जाता था। वैदिक काल में दरभा घास का प्रयोग कीटाणुनाशक के तौर पर किया जाता था क्योंकि यह एकमात्र ऐसी घास थी जो ग्रहण के दौरान कीटाणुनाशक के रूप में इस्तेमाल की जा सकता थी। ग्रहण के दौरान नीले और पराबैगनी विकिरण जो अपने प्राकृतिक असंक्रमित प्रकृति के लिए जाने जाते हैं, पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होते। जिसके कारण ग्रहण के दौरान खाद्य उत्पादों में अनियंत्रित सूक्ष्म जीवों का विकास हो जाता है।
6 मार्च 2015 को तंजावुर के शस्त्र विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने उष्णकटिबंधीय घास दरभा को इको- फ्रेंडली भोजन संरक्षक बताया। घास दरभा पर यह अध्ययन संयुक्त रूप से सेंटर फॉर नैनोटेक्नोलॉजी एंड एडवांस्ड बायोमटेरियल्स और शस्त्र विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च इन इंडियन सिस्टम ऑफ मेडिसिन  के क्रमश: डॉ. पी मीरा और डॉ. पी बृन्दा की देखरेख में किया गया था। दरभा घास के खमीर बनाने के गुण की खोज के क्रम में शोधकर्ताओं ने दरभा घास, लेमन ग्रास, बरमुडा ग्रास और बैंम्बू ग्रास समेत घास के पांच उष्णकटिबंधीय प्रजातियों को गाय के दही में रखा और पाया कि यह आसानी से खमीर में बदल सकता है।
दरभा घास के इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोपी ने जबरदस्त नैनो-  पैटर्न और वर्गीकृत या माइक्रो संरचना दिखाया जबकि यह बात अन्य घासों में नहीं थी। वर्गीकृत सतह सुविधाओं (हिरैरकल सरफेस फीचर्स) में दरभा घास अकेला था जिसने बड़ी भारी संख्या में बैक्टिरिया को आकर्षित करते पाया गया. ये बैक्टिरिया दही के जमने के लिए जिम्मेदार हैं।
दरभा का इस्तेमाल हानिकारक रसायनिक परिरक्षकों (प्रिजर्वेटिव्स) के स्थान पर प्राकृतिक खाद्य परिरक्षक के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा दरभा घास पर वर्गीकृत नैनो पैटन्र्स स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में अनुप्रयोग खोज सकते हैं जहां जीवाणुहीन स्थितियां जरूरी होती हैं। पौराणिक कथा के अनुसार- समुद्र मंथन के दौरान एक समय जब देवता और दानव थकने लगे तो भगवान विष्णु ने मंदराचल पर्वत को अपनी जंघा पर रखकर समुद्र मंथन करने लगे। मंदराचल पर्वत के घर्षण से भगवान के जो रोम टूट कर समुद्र में गिरे थे, वही जब किनारे आकर लगे तो दूब के रूप में परिणित हो गये। अमृत निकलने के बाद अमृत कलश को सर्वप्रथम इसी दूब पर रखा गया था, जिसके फलस्वरूप यह दूब भी अमृत तुल्य होकर अमर हो गयी। दूब घास विष्णु का ही रोम है, अत: सभी देवताओं में यह पूजित हुई और अग्र पूजा के अधिकारी भगवान गणेश को अति प्रिय हुई। तभी से पूजा में दूर्वा का प्रयोग अनिवार्य हो गया।
 


23-Mar-2021 12:30 PM 30

1. शतरंज का जन्मदाता देश किसे कहा जाता है?

(अ) भारत (ब) चीन (स) जापान (द) रूस
2. क्रिकेट खेल की शुरुआत किस देश में हुई?
(अ) इंग्लैंड (ब) आस्ट्रेलिया (स) भारत (द) जापान
3. आधिकारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत किस सन् में हुई?
(अ) 1877 (ब) 1880 (स) 1885 (द) 1895
4.निम्नलिखित में से किस खेल मैदान का आकार सबसे बड़ा होता है?
(अ) क्रिकेट (ब) फुटबॉल (स) पोलो (द) बेसबॉल
5. क्रिकेट में भूमि से स्टम्प्स की ऊंचाई होती है?
(अ) 22 इंच (ब) 25 इंच (स) 27 इंच (द) 30 इंच
6. किस भारतीय हवाई अड्डे ने 2014-15 में रिकॉर्ड 10 लाख यात्रियों को संभाला है?
(अ) कोलकाता अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (ब) मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (स) हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (द) दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट
7. भारत की रेटिंग में सुधार के लिए व्यापार कर की आसानी पर भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने किस विश्वविद्यालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं?
(अ) ऑक्सफोर्ड (ब) सिंगापुर का राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (स) एमआईटी (द) हार्वर्ड
8. भारत की रेटिंग में सुधार के लिए व्यापार कर की आसानी पर भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने किस विश्वविद्यालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं?
(अ) ऑक्सफोर्ड (ब) सिंगापुर का राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (स) एमआईटी (द) हार्वर्ड
8. संजय बोरो और मधु वेद्वन किस खेल के साथ जुड़े हुए हैं?
(अ) पावर लिफ्टिंग (ब) तीरंदाजी (स) बैडमिंटन (द) बाड़ लगाना
9. किस अभयारण्य ने पारिस्थितिकी बहाली परियोजना ( श्वष्श ह्म्द्गह्यह्लशह्म्ड्डह्लद्बशठ्ठ श्चह्म्शद्भद्गष्ह्ल) शुरू की है?
(अ) नल सरोवर अभयारण्य (ब) क्कशड्ढद्बह्लशह्म्ड्ड अभयारण्य(स) किन्नेरसनी अभयारण्य (द) कैमूर अभयारण्य
10. सारी दुनिया में वह कौन सा एक ऐसा प्राणी है जिसके जन्म से ही सींग होते हैं?
(अ) इकसिंगा (ब) चिंगारा (स) जिराफ (द) बैल
11. भारत में सबसे ऊंचा शिव मंदिर कौन सा है?
(अ) श्री विश्वनाथ मंदिर (ब) वृहदेश्वर मंदिर (स) एरावतेश्वर मंदिर (द) नटराज मंदिर
12. हवा में चलने वाली गैस निम्नलिखित में से कौन सी है?
(अ) एसीटिलीन (ब) प्रोपेन (स) कार्बन डाइऑक्साइड (द) कार्बन मोनोऑक्साइड 
13. जॉन नैपियर कौन थे?
(अ) रसायन वैज्ञानिक(ब)साहित्यकार(स) गणितज्ञ (द) संगीतकार
14. गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत निम्नलिखित में से किस वैज्ञानिक की देन है? 
(अ) गैलेलियो गैलिली (ब) सर आइजक न्यूटन (स)बेंजामिन फ्रेंकलिन (द) माइकल फैराडे 
15. माइक्रोफोन का आविष्कार किस वैज्ञानिक ने किया था?
(अ) माइकल फैराडे (ब)जॉर्ज एस. ओम (स)चाल्र्स व्हीट स्टोन (द) एफ.बी. मोर्स
16. यमुना नदी उत्तकाशी से निकलकर किस क्षेत्र में  गंगा नदी से मिल जाती है?
(अ)हरिद्वार में (ब)इलाहाबाद में (स) मथुरा मेंं (द) पीलीभीत में 
17. लक्षद्वीप निम्नलिखित में से किस राज्य के उच्च न्यायालय के अधिकार क्षेत्र में आता है?
(अ)उत्तरप्रदेश उच्च न्यायालय (ब) पंजाब  उच्च न्यायालय (स)उच्च न्यायालय नई दिल्ली (द) केरल उच्च न्यायालय
18. सौरमंडल में पृथ्वी के दोनों तरफ कौन से ग्रह हैं?
(अ) मंगल और बृहस्पति (ब) बुध और शुक्र (स) शुक्र और शनि (द) मंगल और शुक्र
19. टीबिया नामक हड्डïी शरीर के निम्नलिखित में से किस अंग में पाई जाती है?
(अ) बांह में (ब)कान में (स)टांग में (द) खोपड़ी में 
20. गोताखोर पानी के अंदर सांस लेने के लिए कौन-कौन सी गैसों का मिश्रण ले जाते हैं? 
(अ)ऑक्सीजन और एसीटिलीन का मिश्रण (ब) ऑक्सीजन और प्रोपेन (स)ऑक्सीजन और हीलियम गैसों का मिश्रण (द) ऑक्सीजन और कार्बन मोनो आक्साइड का मिश्रण
21. परखनली शिशु उत्पन्न करने की तकनीक का विकास किसने किया था? 
(अ) एन्रीको फर्मी और फ्रेड हॉयल (ब) लिनस पाउलिंग और लाइस मिट्नर (स) राबर्ट एडवर्डस और पेट्रिक स्टेप्टो ने (द) रॉबर्ट वाटसन-वाट और सत्येन्द्र नाथ बसु 
22. चाक का रासायनिक नाम क्या है?
(अ) कैल्शियम सल्फेट (ब) कैल्शियम कार्बोनेट (स) कैल्शियम हाइड्राक्साइड (द) बोरेक्स 
23.भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर (हिंदू नववर्ष)का पहला माह कौन सा है?
(अ) चैत्र (ब) फाल्गुन (स) अगहन (द) भादो
24. माचिस का आविष्कार किस देश में हुआ था?
(अ) भारत (ब) जापान (स) दक्षिण अफ्रीका (द) स्वीडन 
25. हीरे के व्यापार का सबसे बड़ा केंद्र निम्नलिखित में से कौन सा है?
(अ) मुंबई, भारत (ब) एंटवर्थ, बेल्जियम (स) अजीजीयाह, लीबिया (द) लाहौर, पाकिस्तान
26. अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाला पहला जानवार कौन था?
(अ) कुत्ता (ब) बिल्ली (स)भालू (द) इनमेें से कोई नहीं  

सही जवाब- 1.(अ) भारत, 2.(अ) इंग्लैंड, 3.(अ)1877, 4.(स) पोलो, 5.(स)27 इंच, 6.(स)हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, 7.(ब) सिंगापुर का राष्ट्रीय विश्वविद्यालय, 8.(ब) तीरंदाजी, 9.(स) किन्नेरसनी अभयारण्य, 10.(स)जिराफ, 11.(अ) श्री विश्वनाथ मंदिर, 12.(द) कार्बन मोनोऑक्साइड, 13.(स)गणितज्ञ, 14.(ब) सर आइजक न्यूटन, 15.(स)चाल्र्स व्हीटस्टोन, 16.(ब)इलाहाबाद में, 17.(द) केरल उच्च न्यायालय, 18.(द)मंगल और शुक्र, 19.(स) टांग में, 20.(स)ऑक्सीजन और हीलियम गैसों का मिश्रण, 21.(स)राबर्ट एडवर्डस और पेट्रिक स्टेप्टो ने, 22.(ब)कैल्शियम कार्बोनेट, 23.(अ)चैत्र, 24.(द)स्वीडन, 25.(ब) एंटवर्थ, बेल्जियम, 26.(अ)कुत्ता।
 


23-Mar-2021 12:26 PM 42

जमैया या जमाइका, ग्रेटर एंटीलिज पर स्थित एक द्वीप राष्ट्र है। 234 किमी लंबाई और 80 किमी चौड़ाई वाले इस द्वीप राष्ट्र का कुल विस्तार 11 हजार 100 वर्ग किमी है। कैरेबियन सागर में स्थित यह देश क्यूबा से 145 किमी दक्षिण, हैती से 190 किमी पश्चिम में स्थित है। स्पेनिश अधिशासन के दौरान सेंतियागो और बाद में ब्रिटिश क्राउन उपनिवेश जमैका बन गया। 28 लाख की आबादी के साथ यह देश उत्तरी अमेरिका में संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के बाद तीसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। राष्ट्र कुल के सदस्य के रूप में यहां की मुखिया महारानी एलिजाबेथ द्वितीय हैं। यहां की राजधानी किंग्सटन है।
22 मार्च सन 1509 ईसवी को जमाइका पर स्पेन का अधिकार हुआ। कैरेबियन सागर में क्यूबा के दक्षिण में स्थित जमाइका द्वीप पर 1494 में विख्यात नाविक क्रिस्टोफऱ कोलम्बस ने क़दम रखा और इसके 15 वर्ष पश्चात स्पेन ने इस क्षेत्र को अपने अधिकार में ले लिया। कुछ वर्षों के बाद ब्रिटेन ने इसे अपने अधिकार में लिया और 18 वीं शताब्दी तक यह देश ब्रिटेन के अधिकार में रहा। इस दौरान ब्रिटेन ने जमाइका के स्थानीय लोगों पर तरह-तरह के अत्याचार किये। सन 1962 ईसवी में जमाइका स्वतंत्र 
 


23-Mar-2021 12:25 PM 24

मोशन पिक्चर की दुनिया में लुमियर बंधुओं का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाता है। 22 मार्च के दिन पेरिस में आयोजित एक औद्योगिक सम्मेलन में पहली बार सार्वजनिक रूप से एक फिल्म दिखाई गई। लुमियर ब्रदर्स में से एक, लुई लुमियर अपने आसपास की चीजों के वीडियो उतारते थे। यह वीडियो आसपास के जीवन को सच्चे रूप में पेश करता था। इसी तरह उन्होंने लुमियर फैक्ट्री से बाहर निकलते कामगरों का भी एक वीडियो रिकार्ड किया, जिसे पहली स्क्रीनिंग में दिखाया गया था। फिल्म दिखाने की इस तकनीक को लुमियर भाइयों ने तुरंत अपने नाम पर पेटेंट करा लिया। अपने देश फ्रांस के बाहर लुमियर ब्रदर्स ने सिनेमेटोग्राफी की इस तकनीक के पेटेंट के लिए 18 अप्रैल 1895 में अर्जी दी। साथ ही साथ वे निजी तौर पर अपनी इस खोज का जगह जगह प्रदर्शन भी करते रहे। इसी कड़ी में 10 जून को लियो में फोटोग्राफरों के सामने भी अपनी मोशन पिक्चर दिखाई। इस तरह के प्रदर्शनों के कारण दुनिया भर में उनकी तकनीक के बारे में बातें होने लगीं। विश्व भर में लोग इसे देखने के लिए काफी उत्सुक थे।
इसके बाद अपने भाई एंटोनी लुमियर के साथ मिलकर उन्होंने अपनी फिल्में दिखाने के लिए खुले थिएटर बनाना शुरु किया। आगे चलकर यही सिनेमा के नाम से जाने गए। 1896 के पहले चार महीनों में उन्होंने लंदन, ब्रसेल्स, बेल्जियम और न्यू यॉर्क में सिनेमेटोग्राफी थिएटर खोले। 1897 में उनके फिल्मों के कैटेलॉग में करीब 358 चीजें थीं जो 1898 तक आते आते 1000 तक पहुंच गईं। अगले पांच सालों में लुमियर ब्रदर्स का फिल्मों का कैटेलॉग दोगुना हो गया। इनके 2000 से ज्यादा फिल्मों के कैटेलॉग में से ज्यादातर प्रोमियो और डॉबलियर जैसे दूसरे ऑपरेटरों की बनाई हुई थीं। सन 1900 में जाकर लुमियर ब्रदर्स ने एक फिल्म को पेरिस एक्सपोजिशन में 99 & 79 फुट के एक बड़े पर्दे पर प्रोजेक्ट किया। इसके बाद उन्होंने प्रदर्शनियों में फिल्में दिखाना बंद कर दिया और अपनी ईजाद की हुई तकनीक की मशीनें बनाने और उन्हें बेचने लगे।
 


23-Mar-2021 12:25 PM 31

दिल्ली स्थित राष्ट्रीय अभिलेखागार, मार्च 2015 में अपनी स्थापना का  125 वां वर्ष मना रहा है।   संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) का उद्देश्य वैज्ञानिक प्रबंधन, प्रशासन और देश भर में अभिलेखों के संरक्षण को प्रोत्साहित करना है।  उपयोगकर्ता अभिलेख प्रबंधन, संरक्षण, रेप्रोग्राफी, कम्प्यूटरीकरण, पुस्तकालय, प्रकाशन, प्रशिक्षण कार्यक्रम, संग्रहालय, प्रदर्शनियों, पुराने रिकॉर्ड, अभिलेखीय अध्ययन के स्कूल,समन्वय, अभिलेखागार और लोगों से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। संसाधनों की जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध कराई गई है।
भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार में भारत सरकार के अप्रचलित अभिलेखों का भंडारण किया जाता है। इसका प्रयोग अधिकतर प्रशासकों और शोधार्थियों के द्वारा किया जाता है। यह भारत सरकार के पर्यटन और संस्कृति मंत्रालय से संबद्ध एक कार्यालय है। इसकी शुरुआत कलकत्ता (अब कोलकाता) में मार्च 1891 में इंपीरियल रिकॉर्ड डिपार्टमेंट की स्थापना के साथ हुई थी। 1911 में जब राष्ट्रीय राजधानी को कलकत्ता से बदलकर नई दिल्ली किया गया , उस समय इस अभिलेखागार को भी नई दिल्ली स्थानानांतरित कर दिया गया। अपने वर्तमान भवन में यह सन 1926 में स्थानानांतरित हुआ। यह अभिलेखागार  प्रथमोक्त  नाम से नई दिल्ली के जनपथ और राजपथ के चौक के पास लाल और सफ़ेद पत्थरों के एक भव्य भवन में स्थित है। प्राकृतिक कारकों से अभिलेखों की रक्षा के लिए आधुनिक वैज्ञानिक साधन उपलब्ध कराये गए हैं।
 इस विभाग को सन 1891 में ईस्ट इंडिया कंपनी के समय से इक_े हुए सरकारी अभिलेखों को लेकर रखने का काम सौंपा गया था। उस समय इसके अधिकारी स्पष्ट रूप से यह नहीं जानते थे कि, इसका क्या काम होगा? अभिलेखसमूह अव्यवस्थित अवस्था में पड़ा था। भारत सरकार का ध्यान इस ओर तब गया जब इंग्लैंड और वेल्स के अभिलेखों के संबंध में नियुक्त राजकीय आयोग ने सन 1914 में भारतीय अभिलेखों की अव्यवस्थित अवस्था पर टिप्पणी की। सन 1919 में भारत सरकार ने भारतीय अभिलेखों के संबंध में अपनी सिफारिशें भेजने के लिए एक भारतीय ऐतिहासिक अभिलेख आयोग नियुक्त किया। उस आयोग की सिफारिशों के फलस्वरूप अभिलेखों की अवस्था में धीरे-धीरे सुधार होता गया। आज इसका मुख्य काम, सरकार के स्थायी अभिलेखों को संभालकर रखना तथा प्रशासनिक उपयोग के लिए मांगने पर सरकार के विभिन्न कार्यालयों को उपलब्ध कराना। इसका दूसरा प्रमुख कार्य, सरकार द्वारा निश्चित अवधि तक के अभिलेख, शोधार्थियों को शोधाकार्य के लिए उपलब्ध कराना। शोधार्थी अभिलेखागार के शोधकक्ष (रिसर्च रूम) में बैठकर शोधकार्य करते है।
 यहां के अभिलेखों में विदेशी हित ही सामग्री और पूर्वी चि_ियों का एक संग्रह भी है। इन चि_ियों में अधिकतर चि_ियां फारसी भाषा में हैं। परंतु बहुत सी संस्कृत, अरबी, हिंदी, बांग्ला, उडिय़ा, मराठी, तमिल, तेलुगु, पंजाबी, बर्मी, चीनी, स्यामी और तिब्बती भाषाओं में भी हैं। हाल के वर्षो में इंग्लैंड, फ्रांस, हालैंड, डेनमार्क और अमरीका से भारत के लिए हितकारी सामग्रियों की अणचित्र-प्रति-लिपियां (माइक्रोफि़ल्म कापीज़)