ताजा खबर

25-Jul-2021 10:17 AM (14)

नई दिल्ली: सरकारी तेल कंपनियों ने रविवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों में किसी तरह का इजाफा नहीं किया है. देश की राजधानी समेत सभी महानगरों में तेल की कीमतें स्थिर हैं. वहीं, इंटरनेशनल मार्केट में भी इस हफ्ते कच्चे तेल की कीमतें चढ़कर बंद हुई हैं. घरेलू मार्केट में करीब बीते 8 दिनों से तेल की कीमतों में कोई फेरबरल देखने को नहीं मिल रहा है. राजधानी दिल्ली में 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 101.84 रुपये और डीजल 89.87 रुपये है.

मई क बाद से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. 42 दिनों में पेट्रोल करीब 11.52 रुपये तक महंगा हो चुका है. बता दें मई से लेकर जुलाई तक रुक-रुक कर ईंधन की कीमतों में इजाफा देखने को मिला है.

19 राज्यों में 100 के पार है पेट्रोल

देशभर के करीब 19 राज्यों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये के पार पहुंच गई है. इस लिस्ट में मध्यप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख शामिल हैं. इसके अलावा महानगरों में मुंबई, हैदराबाद और बंगलूरू में पेट्रोल पहले ही 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर चुका है.

पेट्रोल डीजल का भाव

शहर        पेट्रोल रुपये प्रति लीटर       डीजल रुपये प्रति लीटर

दिल्ली              101.84                      89.87

मुंबई                107.83                      97.45

चेन्नई              101.49                     94.39

कोलकाता         102.08                    93.02

भोपाल              110.20                    98.67

रांची                96.68                       94.84

बेंगलुरु           105.25                      95.26

पटना              104.25                     95.57

चंडीगढ़             97.93                    89.50

लखनऊ            98.92                   90.26

अगस्त से हो सकता है सस्ता

पेट्रोल डीजल की कीमतों में जल्द ही कमी आने की उम्मीद की जा रही है. रविवार को ओपेक समूह के साथ हुई बैठक के बाद उम्मीद लगाई जा रही है कि पेट्रोल जल्द ही सस्ता हो सकता है. बता दें इस बैठक में पूर्ण सहमति बनी है, जिसके तहत पांच OPEC और गैर ओपेक देश कच्चे तेल का उत्पादन अगस्त से बढ़ाएंगे. वहीं, अन्तरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में कमी आई है.

इस तरह चेक करें अपने शहर का भाव

देश की तीनों ऑयल मार्केटिंग कंपनी HPCL, BPCL और IOC आप सुबह 6 बजे के बाद पेट्रोल डीज़ल के नए रेट जारी करती है. नए रेट्स के लिए आप वेबसाइट पर जाकर जानकारी हासिल कर सकते हैं. वहीं, मोबाइल फोन पर SMS के जरिए भी रेट चेक कर सकते है. आप 92249 92249 नंबर पर SMS भेजकर भी पेट्रोल डीजल के भाव के बारे में पता कर सकते हैं. आपको RSP<स्पेस> पेट्रोल पंप डीलर का कोड लिखकर 92249 92249 पर भेजना पड़ेगा. अगर आप दिल्ली में हैं और मैसेज के जरिये पेट्रोल डीजल का भाव जानना चाहते हैं तो आपको RSP 102072 लिखकर 92249 92249 पर भेजना होगा.(news18.com)


25-Jul-2021 10:09 AM (15)

Lucknow News: नए नियम लागू होने के बाद प्रदेश के सभी हवाई अड्डे, बस अड्डों व रेलवे स्टेशनों पर बाहर से आ रहे लोगों की सख्ती के साथ स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई है. प्रदेश में आने वाले यात्री के पास अगर कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट चार दिन पुरानी नहीं होगी या फिर कोरोना टीकाकरण प्रमाण पत्र नहीं होगा तो ऐसे यात्रियों को यूपी में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है.

लखनऊ. कोरोना की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के बाद अब प्रदेश की योगी सरकार तीसरी लहर को लेकर ज्यादा सतर्क दिख रही है. यही वजह है कि देश में 3 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट वाले 11 राज्यों से यूपी में आने वालों के लिए शनिवार से नए नियम लागू कर दिए गए हैं. नए नियम के मुताबिक देश के 11 चिन्हित राज्यों से यूपी में आने वालों के लिए कोरोना की आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट या कोरोना के दोनों डोज का प्रमाण पत्र दिखाना अनिवार्य कर दिया गया है.

नए नियम लागू होने के बाद प्रदेश के सभी हवाई अड्डे, बस अड्डों व रेलवे स्टेशनों पर बाहर से आ रहे लोगों की सख्ती के साथ स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई है. प्रदेश में आने वाले यात्री के पास अगर कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट चार दिन पुरानी नहीं होगी या फिर कोरोना टीकाकरण प्रमाण पत्र नहीं होगा तो ऐसे यात्रियों को यूपी में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है. आगामी 31 जुलाई तक इन राज्यों से आ रहे लोगों पर सख्ती की जाएगी. फिर पॉजिटिविटी रेट के अनुसार राज्यों की नई सूची अपडेट होगी.

इन राज्यों से आने वाले यात्रियों पर नियम लागू
जिन 11 राज्यों से आने वाले लोगों पर सख्ती की जा रही है उनमें मेघालय, त्रिपुरा, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, केरल, महाराष्ट्र, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, गोवा व अरूणांचल प्रदेश शामिल है. इन राज्यों में पॉजिटिविटी रेट तीन प्रतिशत से ज्यादा है. इन्हें 20 जुलाई से 23 जुलाई के बीच की कोरोना जांच रिपोर्ट दिखानी होगी. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक डा. डीएस नेगी ने बताया कि एक अगस्त से 15 अगस्त तक किन-किन राज्यों से आने वाले लोगों पर सख्ती की जाएगी इसकी सूची जल्द तैयार की जाएगी. इन राज्यों के लोगों को 28 जुलाई से 31 जुलाई के मध्य कराई गई कोरोना जांच की रिपोर्ट या फिर दोनों टीके लगाए जाने का प्रमाण पत्र साथ लाना होगा.

अगस्त के आखिरी सफ्ताह तक आ सकती है तीसरी लहर
गौरतलब है कि कई देशों में कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक के बाद अब भारत में भी एक्सपर्ट्स ने आशंका जताई है कि कोरोना की तीसरी लहर अगस्त के अंतिम सप्ताह में आ सकती है. ऐसे में जब यूपी में इस समय सिर्फ 0.01 फीसद पॉजिटिविटी रेट है, तो तीसरी लहर को रोकने के लिए और संक्रमण न बढ़े इसलिए सख्ती की जा रही है.(news18.com)


25-Jul-2021 10:07 AM (15)

 

गुलवंत ठाकुर

शिमला. बॉलीवुड अभिनेत्री प्रीति जिंटा से जुड़े जमीन के मामले में जिला प्रशासन को फिर से शिकायत मिली है. इस मामले में प्रशासन पुराने आदेशों को जांचेगा कि कहीं कोई कमी तो नहीं रही है. इसका आकलन किया जा रहा है. 2014 में पहले भी इस मामले की जांच हो चुकी है. उस समय कंपनी की कोई गलती नहीं पाई गई थी. तत्कालीन उपायुक्त के कोर्ट ने इस मामले में कंपनी के पक्ष में फैसला दिया था. अब फिर से शिकायत आई है. इसकी तफ्तीश ही कर रहे हैं  यदि इसमें कुछ लगता है तो ही दोबारा से कार्रवाई के लिए सरकार से मंजूरी ली जानी है. इसके बाद ही आगे कुछ किया जा सकेगा.

डीसी शिमला आदित्य नेगी ने बताया कि नालदेहरा  में 1998 में एक गोल्फलिंक नाम की कंपनी ने धारा 118 के तहत मंजूरी लेकर जमीन खरीदी थी. कंपनी को नियमों के तहत एक साल में भूमि का पंजीकरण व दो साल में काम शुरू करना था. लेकिन कंपनी ने इस बीच कोई कार्य शुरु नहीं किया. कंपनी की ओर से इन नियमों की अवहेलना करने का शिकायत 2012 में आई. जून 2012 में केस दर्ज कर जांच शुरू की. 2014 में कंपनी के पक्ष में फैसला लिया. इसमें किसी तरह के नियमों  की अवहेलना नहीं पाई गई. चंडीगढ़ की कंपनी ने इसी बीच ये जमीन प्रीति जिंटा व उनकी माता की कंपनी को बेची थी. जिसके चलते यह विवाद नियमों के तहत सही पाया गया है.

शिकायत मिलने के बाद फिर से होगी कागजों की जांच
अब फिर इस मामले में शिकायत आई है. शिकायत पर एक बार फिर से तफ्तीश की जा रही है, यदि कुछ पाया जाता है तो इस मामले में सरकार से मंजूरी के बाद ही आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी. बता दें कि अभिनेत्री प्रीति जिंटा शिमला जिला के रोहड़ू क्षेत्र से रहने वाली है जिन्होंने नालदेहरा में जमीन खरीदी है.जमीनी विवाद के चलते इस जमीन की एक बार फिर से जांच की जा रही है.(news18.com)


25-Jul-2021 10:03 AM (14)

नई दिल्‍ली. देश में कोरोना  की दूसरी लहर  अभी पूरी तरह से खत्‍म भी नहीं हुई है कि तीसरी लहर को लेकर अभी से चेतावनी जारी कर दी गई है. कोरोना वायरस के नए म्‍यूटेशन ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों को चिंता में डाल दिया है. पिछले कुछ सप्‍ताह के अंदर अमेरिका में कोरोना के जितने तेजी से मामले बढ़े हैं, उसे देखने के बाद कहा जा रहा है डेल्‍टा-3 वेरिएंट अब दुनियाभर में फैल चुका है. डेल्‍टा-3 वेरिएंट पहले मिले डेल्टा की तुलना में न सिर्फ ज्‍यादा तेजी से फैलता है बल्कि वैक्सीन ले चुके या फिर संक्रमित हो चुके व्यक्तियों को भी फिर से संक्रमण की चपेट में ला सकता है.

भारत में भले ही कोरोना के डेल्‍टा-3 वेरिएंट का कोई भी मामला सामने नहीं आया है लेकिन जीनाम सीक्वेंसिंग की निगरानी कर रहे इन्साकॉग समिति ने अभी से अलर्ट जारी कर दिया है. बता दें कि अक्‍टूबर 2020 में महाराष्‍ट्र सबसे पहले डबल म्‍यूटेशन मिला था, जिसके बाद डेल्‍टा और कप्‍पा वेरिएंट के बारे में जानकारी मिली थी. इसके बाद डेल्‍टा वेरिएंट से डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट सामने आया था. अब डेल्टा-3 वेरिएंट सामने आने के बाद सभी देशों में अलर्ट जारी कर दिया गया है.

डेल्‍टा-3 वेरिएंट की चेतावनी के बाद अभी से भारतीय वैज्ञानिक इस वेरिएंट पर नजर बनाए हुए हैं.
नई दिल्ली स्थित आईजीआईबी के वैज्ञानिक डॉ. विनोद स्कारिया ने बताया कि वायरस में म्यूटेशन होने के बाद एवाई.3 वेरिएंट मिला है जिसे डेल्टा-3 नाम भी दिया है. उन्‍होंने बताया कि पिछले डेढ़ साल में भारत के अंदर 230 म्‍यूटेशन देखे जा चुके हैं. इनमें से सभी नुकसान देने वाले नहीं थे लेकिन डेल्‍टा वेरिएंट ने पूरे देश में हाहाकार मचा दिया था. डेल्‍टा वेरिएंट के कारण ही अप्रैल और मई में कोरोना महामारी तेजी से फैली थी, जिससे अभी तक देश उबर नहीं सका है.

2013 सैंपल में डेल्टा-3 (एवाई.3) की हुई पुष्टि
कोरोना के डेल्‍टा-3 वेरिएंट के खतरे को देखते हुए हाल में जो जांच की गई है उसमें 90 प्रतिशत सैंपल में डेल्‍टा-2 वेरिएंट का ही पता चला है. डेल्‍टा-2 वेरिएंट की वजह से ही दूसरी लहर ने भारत में आक्रामक रूप ले लिया था. इससे निकले अन्य वेरिएंट की बात करें तो दुनिया भर में 348 सैंपल में डेल्टा प्लस, 628 में डेल्टा-2 (एवाई.2) और अब 2013 सैंपल में डेल्टा-3 (एवाई.3) की पुष्टि हुई है. यह सभी आंकड़े वैश्विक स्तर पर बनाए कोविड सीक्वेंसिंग के पोर्टल जीआईएसएआईडी पर मौजूद हैं.(news18.com)


25-Jul-2021 10:02 AM (13)

नई दिल्‍ली. विपक्षी दलों के लिए 2024 की चुनावी रणभूमि काफी अहम है. इसके लिए राजनीतिक दल अभी से तैयारी में जुट गए हैं. लेकिन विपक्षी दलों को लेकर सबसे बड़ा सवाल यही है कि 2024 में बीजेपी को हराने के मकसद से पीएम मोदी के खिलाफ उसका मुख्‍य चेहरा कौन होगा? इस बीच पश्चिम बंगाल में तीसरी बार सरकार बना चुकीं तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की प्रमुख और मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने लोकसभा चुनाव में विपक्ष का नेतृत्‍व करने के लिए अपनी दावेदारी पेश की है. कई दल उनके साथ आने को तैयार हैं. लेकिन एक सवाल यह भी खड़ा हो रहा है कि क्‍या कांग्रेस भी टीएमसी के नेतृत्‍व में 2024 का चुनाव लड़ेगी?

इस सवाल का जवाब कांग्रेस की ओर से दे दिया गया है. सोनिया गांधी और ममता बनर्जी की एक मुलाकात संभव है. इस बैठक से पहले ही कांग्रेस ने यह साफ कर दिया है कि अगर 2024 में बीजेपी के खिलाफ कोई विपक्षी मोर्चा बनेगा तो उसका नेतृत्‍व यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी ही करेंगी.

पश्चिम बंगाल में हाल में हुए विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी की शानदार जीत से उत्साहित तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 2024 के लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए विपक्षी एकता का आह्वान किया है. तृणमूल कांग्रेस के राज्य महासचिव कुणाल घोष ने कहा है कि कोई भी इस बात से इनकार नहीं कर सकता कि ममता बनर्जी विपक्षी राजनीति के केंद्र के रूप में उभरी हैं. अगर आप उनके भाषण को देखते हैं, तो आपको पता चलेगा कि वह बीजेपी विरोधी वोटों को एकत्र करना चाहती हैं और बीजेपी के खिलाफ लोगों का गठबंधन बनाना चाहती हैं.

ममता बनर्जी पांच दिनों के लिए दिल्‍ली दौरे पर आ रही हैं. उनका 28 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का कार्यक्रम है. वह अपनी यात्रा के दौरान कई विपक्षी नेताओं से भी मिल सकती हैं. इस दौरान वह कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात करके 2024 की रणनीति पर चर्चा कर सकती हैं.

वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप भट्टाचार्य ने शनिवार को कहा कि बीजेपी से लड़ने के लिए सभी विपक्षी दलों को सोनिया गांधी की अगुआई में एकजुट होना चाहिए. कांग्रेस नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से न्योता दिया गया है. उन्होंने पहले भी ब्रिगेड परेड ग्राउंड में बैठक बुलाई थी और उसमें मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हुए थे. वह वही दोबारा कर रही हैं. बीजेपी से लड़ने के लिए सभी दलों को सोनिया गांधी के नेतृत्व में एकजुट होना चाहिए.(news18.com)


25-Jul-2021 9:49 AM (19)

दीपाली पोरवाल

नई दिल्ली: Bride Groom Video: दूल्हे के दोस्तों की दुल्हन के साथ बॉन्डिंग अच्छी हो तो वे शादी की स्टेज पर भी मस्ती-मजाक करते रहते हैं. अब तक आपने वरमाला के ऐसे कई वीडियो  देखे होंगे, जिनमें वर और वधू पक्ष के लोग एक-दूसरे के साथ हंसी-मजाक कर रहे होते हैं. सोशल मीडिया पर एक शादी का मजेदार वीडियो वायरल  हो रहा है. इस वेडिंग वीडियो में दूल्हे के दोस्तों को दुल्हन के साथ किया गया मजाक भारी पड़ गया.

वरमाला की रस्म में हुआ मस्ती-मजाक
वरमाला के समय अक्सर दूल्हे के साथ के लोग उसे अपने कंधों पर उठा लेते हैं और उस तक पहुंचने के लिए दुल्हन पक्ष के लोग दुल्हन के साथ भी ऐसा करते हैं. इस वायरल वीडियो में भी दूल्हे के दोस्तों ने दुल्हन को छेड़ने के लिए दूल्हे को कंधों के ऊपर तक उठा लिया था. लेकिन यहां दुल्हन ने दिमाग से खेलते हुए उन्हें इशारा कर दिया कि उसे फर्क नहीं पड़ता है.(zeenews.india.com)


25-Jul-2021 9:41 AM (20)

 

Indore News: मध्य प्रदेश के इंदौर में पत्नी ने पति को दोस्तों के साथ मिलकर बिल्डिंग से धक्का दे दिया. चौथी मंजिल से गिरकर पति की हालत गंभीर हो गई. उसे शरीर में कई जगह फ्रैक्चर हैं. पति को पत्नी पर शक था. वह जब घर पहुंचा तो पत्नी दो दोस्तों के साथ कमरे में थी.

इंदौर.मध्य प्रदेश के इंदौर से अजीबो-गरीब खबर है. यहां एक पत्नी ने ही पति को जान से मारने की कोशिश की. पत्नी ने दो लोगों के साथ मिलकर पति को चौथी मंजिल से धक्का दे दिया. घायल शख्स को महाराजा यशवंत राव अस्पताल में भर्ती किया गया. युवक मौत के डर से बयान भी बदल रहा है. मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है.

पुलिस के मुताबिक, घायल शख्स का नाम हिमांशु चौहान है. वह  इंदौर के कनाड़िया थाना क्षेत्र की भूरी टेकरी पर रहता है. परिजनों ने पुलिस को बताया कि हिमांशु रतलाम में नौकरी करता है. उसे पत्नी पर शक था तो वह उससे मिलने इंदौर पहुंचा. पत्नी ने जैसे ही दरवाजा खोला तो वह हैरान रह गया. उसकी पत्नी अन्य दो युवकों के साथ कमरे में थी. हिमांशु ने विरोध किया तो पत्नी और दोनों युवकों ने हिमांशु के साथ जमकर मारपीट की और उसे चौथी मंजिल से फेंक दिया. हिमांशु को मुंह, पैर व कमर में फ्रैक्चर है. उसकी हालात गंभीर है.

चीख-पुकार सुन घर से बाहर निकले लोग

चीख-पुकार सुनकर बिल्डिंग के लोग बाहर आए और युवक को घायल अवस्था में देखा. उन्होंने हिमांशु को 108 एंबुलेंस की मदद से MYH में भर्ती कराया. हादसे की सूचना मिलने पर जब पुलिस हिमांशु के बयान लेने पहुंची तो उसने कहा कि पैर फिसलने की वजह से गिर गया. वहीं, परिजनों ने पत्नी और अन्य युवकों पर बिल्डिंग से नीचे फेंकने का आरोप लगाया.

परिजन के बयान पर पुलिस की जांच

पुलिस परिजनों के बयान के आधार पर गंभीर जांच कर रही है. परिजनों ने आरोपियों के नाम छोटू और परवेज बताए हैं. परिजनों के मुताबिक, हिमांशु के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसे पीटा गया. इस वजह से उसकी आवाज किसी को सुनाई नहीं दी.

अपराध की इस खबर पर भी डालें नजर

मध्य प्रदेश के इंदौर में गुरुवार को प्रेमी-प्रेमिका ने मौत को गले लगा लिया. कहासुनी के बीच जहां लड़की ने फांसी लगा ली, वहीं दूसरे दिन उसकी मौत की खबर सुनकर लड़के ने भी ट्रेन के आगे छलांग लगा दी. पुलिस ने मर्ग कायम कर लड़के शव परिजनों को सौंप दिया है. जानकारी के मुताबिक, मध्य प्रदेश के इंदौर की हीरा नगर थाना पुलिस को शुक्रवार को सूचना मिली की रेलव ट्रैक पर शव दिखा है. सूचना पर पुलिस पहुंची और शव बरामद किया. जांच के बाद पता चला कि मरने वाला देवेंद्र (25 ) पिता नरेंद्र क्षीरसागर निवासी मारुती नगर है. वह निजी कंपनी में मार्केटिंग का काम करता था. पुलिस ने बताया कि देवेंद्र का काजल कोटवाल से अफेयर था. काजल रविदास नगर की रहने वाली थी.(news18.com)


25-Jul-2021 9:40 AM (15)

 

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के विपक्षी नेता शहबाज शरीफ ने शनिवार को प्रधानमंत्री इमरान खान की उस टिप्पणी को खारिज किया जिसमें उन्होंने कहा था कि इस्लामाबाद यह निर्णय कश्मीर के लोगों पर छोड़ेगा कि वे पाकिस्तान के साथ रहना चाहते हैं या एक ‘स्वतंत्र देश’ चाहते हैं. शरीफ ने कहा कि खान संयुक्त राष्ट्र के जनमत संग्रह संबंधी आदेश की जगह दूसरे जनमत संग्रह का प्रस्ताव कर कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान की ‘ऐतिहासिक और संवैधानिक स्थिति’ से हट रहे हैं.

खान ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में तरार खाल और कोटली नगरों में रविवार को होने जा रहे चुनाव से पहले शुक्रवार को दो चुनाव रैलियों में कहा था कि संयुक्त राष्ट्र के जनमत संग्रह संबंधी आदेश से इतर उनकी सरकार इस बारे में ‘कश्मीर के लोगों को विकल्प देने के लिए एक और जनमत संग्रह कराएगी कि वे पाकिस्तान के साथ रहना चाहते हैं या एक स्वतंत्र देश चाहते हैं.’


चीन की नापाक चाल से निपटने को भारत की लद्दाख में पूरी तैयारी, 15 हजार सैनिक किए तैनात

खान ने रैलियों के दौरान विपक्ष के इन आरोपों को खारिज किया कि वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को एक प्रांत में तब्दील करना चाहते हैं और कहा कि उन्हें नहीं पता कि यह विचार कहां से आया. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने यह टिप्पणी पीएमएल-एन नेता मरयम नवाज की उस टिप्पणी के बाद की जिसमें उन्होंने दावा किया था कि इमरान खान की सरकार ने पीओके का दर्जा बदलकर उसे प्रांत में तब्दील करने का फैसला किया है.

भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय मुद्दों पर अमेरिका बोला- दोनों देशों को एक साथ काम करने की जरूरत

भारत हमेशा कहता रहा है कि जम्मू-कश्मीर उसका अभिन्न अंग था, है और हमेशा रहेगा. नई दिल्ली इस्लामाबाद को यह कहती रही है कि जम्मू-कश्मीर का मामला उसका आतंरिक मामला है और वह अपने मुद्दों का समाधान करने में खुद सक्षम है.

चीन पहुंचे पाकिस्तानी आतंकी हमले में मारे गए चीनी नागरिकों के शव, ड्रैगन ने मामले की जांच पर दिया जोर

पीएमएल-एन अध्यक्ष शरीफ ने एक बयान जारी कर खान की टिप्पणियों की निन्दा की तथा कहा कि प्रधानमंत्री एक और जनमत संग्रह का प्रस्ताव कर कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान की ‘ऐतिहासिक और संवैधानिक स्थिति’ से हट रहे हैं. उन्होंने कहा कि कश्मीरियों की सहमति और उनसे विमर्श के बिना उनपर समाधान थोपना भारत की मदद करने जैसा है.

वहीं, जमीयत उलमा ए इस्लाम फज्ल के मौलाना फजलुर रहमान ने भी पीओके में एक चुनाव रैली में खान की टिप्पणियों की निन्दा की और कहा कि इससे साबित हो गया है कि मौजूदा सरकार ‘कश्मीर पर एकतरफा रियायत’ की पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ की नीति पर चल रही है. पीओके में चुनाव प्रचार की अंतमि तारीख 25 जुलाई है.(news18.com)


25-Jul-2021 9:39 AM (14)

नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय के चार पूर्व न्यायाधीशों ने राजद्रोह कानून और गैरकानूनी गतिविधि अधिनियम को रद्द करने की हिमायत करते हुए कहा कि असहमति और सरकार से सवाल पूछने वाली आवाजों को दबाने के लिए आमतौर पर इन कानूनों का दुरुपयोग किया जाता है. यूएपीए के तहत आरोपी 84 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी की हिरासत में मौत का जिक्र करते हुए चार पूर्व न्यायाधीशों में एक आफताब आलम ने कहा, 'यूएपीए ने हमें दोनों मोर्चों पर नाकाम कर दिया है, जो राष्ट्रीय सुरक्षा और संवैधानिक स्वतंत्रता है.'

न्यायमूर्ति आलम और पूर्व न्यायाधीश दीपक गुप्ता, मदन बी लोकुर और गोपाल गौड़ा ने 'लोकतंत्र, असहमति और कठोर कानून- क्या यूएपीए और राजद्रोह कानून को कानून की किताबों में जगह देनी चाहिए?' विषय पर एक परिचर्चा को संबोधित किया. जहां न्यायमूर्ति आलम ने कहा कि ऐसे मामलों में मुकदमे की प्रक्रिया कई लोगों के लिए सजा बन जाती है. वहीं न्यायमूर्ति लोकुर का विचार था कि इन मामलों में फंसाए गए और बाद में बरी होने वालों के लिए मुआवजे की व्यवस्था होनी चाहिए.

इसी विचार से सहमति व्यक्त करते हुए न्यायमूर्ति गुप्ता ने कहा कि लोकतंत्र में इन कठोर कानूनों का कोई स्थान नहीं है. न्यायमूर्ति गौड़ा ने राय व्यक्त की कि ये कानून अब असहमति के खिलाफ एक हथियार बन गए हैं और उन्हें रद्द करने की जरूरत है. न्यायमूर्ति आलम ने कहा, 'यूएपीए की आलोचनाओं में से एक यह है कि इसमें दोषसिद्धि की दर बहुत कम है लेकिन मामले के लंबित रहने की दर ज्यादा है. यह, वह प्रक्रिया है जो सजा बन जाती है.’

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों का हवाला देते हुए, उन्होंने कहा कि 2019 में अदालतों में यूएपीए के तहत दर्ज 2,361 मुकदमे लंबित थे, जिनमें से 113 मुकदमों का निस्तारण कर दिया और सिर्फ 33 में दोषसिद्धि हुई, 64 मामलों में आरोपी बरी हो गये और 16 मामलों में आरोपी आरोप मुक्त हो गये. उन्होंने कहा दोषसिद्धी दर 29.2 प्रतिशत है.

पूर्व न्यायाधीश ने कहा, 'अगर दर्ज मामलों या गिरफ्तार लोगों की संख्या से तुलना की जाए तो दोषसिद्धि की दर घटकर दो प्रतिशत रह जाती है और लंबित मामलों की दर बढ़कर 98 प्रतिशत हो जाती है.'

न्यायमूर्ति आलम के साथ सहमति जताते हुए न्यायमूर्ति गुप्ता ने राजद्रोह कानून और यूएपीए के दुरुपयोग को लेकर विस्तार से जानकारी दी और कहा कि इसे समय के साथ और कठोर बनाया गया है और इसे जल्द से जल्द रद्द कर दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, 'लोकतंत्र में असहमति जरूरी है और सख्त कानूनों का कोई स्थान नहीं है. पिछले कुछ वर्षों में, असहमति और सरकार से सवाल पूछने वाली आवाजों को दबाने के लिए कानूनों का दुरुपयोग किया गया है.'

ये भी पढ़ें:- कर्नाटक: येदियुरप्‍पा आज दे सकते हैं इस्‍तीफा, प्रह्लाद जोशी और निरानी CM की रेस में सबसे आगे

यूएपीए के आरोपी स्टेन स्वामी की मौत और मणिपुर में गाय का गोबर कोविड-19 का इलाज नहीं है कहने पर, राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत एक व्यक्ति की गिरफ्तारी का हवाला देते हुए उन्होंने सवाल किया कि क्या 'भारत एक पुलिस राज्य बन गया है'. इस बीच, न्यायमूर्ति लोकुर ने सुझाव दिया कि एकमात्र उपाय जवाबदेही और उन लोगों के लिए मुआवजा है जो लंबी अवधि की कैद के बाद बरी हो जाते हैं. न्यायमूर्ति गौड़ा ने कहा कि विशेष सुरक्षा कानूनों में बड़े पैमाने पर सुधार की जरूरत है.

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने वेबिनार में कहा कि यूएपीए और राजद्रोह कानून का इस्तेमाल असहमति को दबाने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कुचलने के लिए किया जा रहा है और यह विचार करने का समय आ गया है कि क्या वे संविधान के अनुरूप हैं. इस परिचर्चा का आयोजन ‘कैंपन फॉर ज्यूडिशल अकाउंटिबिलिटी एंड रिफोर्म्स (सीजेएआर) और ‘ह्ममून राइट्स डिफेंडर्स अलर्ट ' ने किया था.(news18.com)


25-Jul-2021 9:33 AM (14)

गुरुग्राम, 24 जुलाई| अपनी पत्नी के साथ घरेलू विवाद को लेकर अपने रिश्तेदारों से बदला लेने के लिए 6 वर्षीय लड़के का अपहरण करने और उसकी हत्या करने के आरोप में 30 वर्षीय एक व्यक्ति को यहां गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। आरोपी की पहचान बिहार के समस्तीपुर के रहने वाले गुड्डू कुमार साहनी के रूप में हुई है।

पुलिस ने कहा कि व्यक्ति ने पहले नाबालिग लड़के की गला दबाकर हत्या की और गुरुवार को गुरुग्राम के बसई एन्क्लेव इलाके में स्थित एक पार्क में शव को झाड़ियों में फेंक दिया।

पुलिस ने बताया कि 22 जुलाई को पीड़ित के माता-पिता ने अपने नाबालिग बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार को बसई एन्क्लेव इलाके से गुप्त सूचना के बाद इंस्पेक्टर अरविंद कुमार के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच सेक्टर-10ए की टीम ने आरोपी को गिरफ्तार किया है।

पूछताछ के दौरान आरोपी ने खुलासा किया कि उसके और उसकी पत्नी के बीच घरेलू कलह था जिसके बारे में उसके उसके पिता को भी इस बारे में सूचित किया था।

प्रीत पाल सांगवान, एसीपी (अपराध) ने कहा, इसके बाद, आरोपी के ससुर अपनी बेटी को पानीपत में अपने गृहनगर ले गए। मृतक की मां, जो आरोपी की रिश्तेदार थी और उसी इलाके में रहती थी, वह आरोपी और उसकी पत्नी को समझाने के लिए उसके घर गई थी। लेकिन आरोपी ने सोचा कि मृतक लड़के की मां के कारण ही उसकी पत्नी उसे छोड़कर चली गई है।

इसके बाद अपने रिश्तेदारों से बदला लेने के लिए आरोपी ने एक योजना बनाई और लड़के का अपहरण कर लिया और उसे अपने घर के पास एक पार्क में ले गया और गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। यही नहीं, आरोपी ने बच्चे के चेहरे और सिर पर ईंट से भी हमला किया। इसके बाद वह मौके से भाग गया।

सांगवान ने कहा, आरोपी ने घटनाक्रम में अपनी भूमिका स्वीकार कर ली है। पहले, एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया गया था, लेकिन अब सेक्टर-10 ए थाने में अपराधी के खिलाफ प्राथमिकी में हत्या का आरोप भी जोड़ा गया है। आरोपी को शनिवार को स्थानीय अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।(आईएएनएस)


25-Jul-2021 9:31 AM (16)

नई दिल्ली, 24 जुलाई| केंद्रीय जांच ब्यूरो ने शनिवार को कहा कि उसने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस  में तैनात एक स्टेशन निदेशक और एक अधिकारी को भ्रष्टाचार के एक मामले में गिरफ्तार किया है। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि एजेंसी ने मध्य रेलवे के सीएसएमटी में स्टेशन निदेशक के रूप में तैनात आईआरटीएस अधिकारी जीएस जोशी और एक अन्य अधिकारी को गिरफ्तार किया है।

सीबीआई अधिकारी ने कहा कि आरोपी ने शिकायतकर्ता, जो कि एक ठेकेदार है, उससे उसे अपना अनुबंध संचालित करने की अनुमति देने के लिए 10,000 रुपये की रिश्वत के रूप में अनुचित लाभ की मांग की और इस आरोप के बाद आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

प्रवक्ता ने कहा, सीबीआई ने जाल बिछाया और बाबू को जोशी के कथित निर्देश पर शिकायतकर्ता से 10,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा।

उन्होंने बताया कि आरोपितों के परिसरों की तलाशी ली जा रही है।

उन्होंने कहा, गिरफ्तार आरोपी को कल मुंबई की सक्षम अदालत में पेश किया जाएगा।(आईएएनएस)


25-Jul-2021 9:03 AM (16)

 

बेंगलुरु. कर्नाटक  में पिछले काफी समय से नेतृत्‍व परिवर्तन की चर्चा के बीच आज राज्‍य के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा अपने पद से इस्‍तीफा दे सकते हैं. येदियुरप्‍पा के बाद कर्नाटक का अगला सीएम कौन होगा इसे लेकर बीजेपी  आलाकमान ने अभी तक किसी नाम का ऐलान नहीं किया है. हालांकि मुख्‍यमंत्री येदियुरप्‍पा ने कुछ दिन पहले ही संकेत दे दिए थे कि अब कुछ दिन ही वो कर्नाटक के सीएम रहेंगे, उसके बाद पार्टी उन्‍हें जो काम सौंपेगी वह उसका पालन करने को तैयार हैं.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के आज पद से इस्‍तीफा देने की चर्चा जोरों पर है. बता दें कि येदियुरप्‍पा सरकार को आज दो साल पूरे होने जा रहे हैं. ऐसी संभावना है कि येदियुरप्‍पा आज ही अपने पद से इस्‍तीफा दे सकते हैं. इस बीच उनके उत्तराधिकारी के तौर पर केंद्रीय कोयला, खनन व संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी और प्रदेश सरकार में खनन मंत्री व उद्योगपति एमआर निरानी का नाम आगे चल रहा है. हालांकि दोनों ही नेताओं ने साफ तौर पर कहा है कि अभी तक उन्‍हें इस संबंध में किसी भी तरह की कोई जानकारी नहीं है.

प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कर्नाटक के सीएम पद के लिए अभी तक बीजेपी के शीर्ष नेतृत्‍व से उनकी किसी भी तरह की कोई बात नहीं हुई है. जोशी ने कहा, वह इस तरह के काल्‍पनिक सवालों का जवाब देना उचित नहीं समझते. उन्‍होंने कहा कि वह तो इस बात से भी अनजान हैं कि किसी ने येदियुरप्पा को अपने पद से इस्तीफा देने को कहा है. वहीं सीएम पद के सवाल पर निरानी ने कहा, कि पार्टी उन्‍हें जो भी आदेश देगी, वह उसका पालन करेंगे.

येदियुरप्‍पा ने इशारों में दिए थे पद छोड़ने के संकेत
गौरतलब है कि येदियुरप्पा ने दो दिन पहले ही कहा था कि, हमारी सरकार के दो साल पूरे होने पर एक कार्यक्रम है, इसके बाद (भाजपा अध्यक्ष) जेपी नड्डा जो भी तय करेंगे, मैं उसका पालन करूंगा. उन्‍होंने कहा, आप सभी जानते हैं कि मैंने दो महीने पहले ही कह दिया था कि मैं किसी और के लिए रास्‍ता बनाने के लिए जल्‍द ही इस्‍तीफा दे दूंगा. मैं सत्‍ता में हूं या नहीं, भाजपा को सत्‍ता में वापस लाना मेरा कर्तव्‍य है. मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से कहना चाहूंगा कि वह पार्टी को मजबूत बनाने में अपना पूरा सहयोग दें.

पार्टी ने अभी तक मुझे इस्‍तीफा देने के लिए नहीं कहा : येदियुरप्‍पा
78 वर्षीय येदियुरप्पा ने कहा, अब तक उन्हें इस्तीफा देने के लिए नहीं कहा गया है. उन्होंने कहा, 'जब निर्देश आएंगे, मैं पद से इस्‍तीफा दे दूंगा और पार्टी के लिए काम करूंगा. उन्‍होंने एक बार फिर इस बात पर जोर दिया कि पार्टी नेतृत्‍व ने अभी तक उन्‍हें इस्‍तीफा देने के लिए नहीं कहा है. देखते हैं 25 तारीख को क्‍या होता है.' येदियुरप्‍पा ने कहा, 'बीजेपी का शीर्ष नेतृत्‍व जब तक कहेगा मैं मुख्‍यमंत्री रहूंगा और जब वह मुझे पद से हटने के लिए कह देंगे, उसी समय से मैं राज्‍य के लिए काम करूंगा.(news18.com)


25-Jul-2021 9:02 AM (19)

भवानी सिंह

जयपुर. राजस्थान में गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद तेज हो गई है. राजस्थान के पीसीसी अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने आज यानी रविवार सुबह एक अर्जेंट बैठक बुलाई है. यह बैठक सुबह 10:30 बजे शुरू होगी. इस बैठक में राजस्थान प्रभारी अजय माकन और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल मौजूद रहेंगे. डोटासरा ने पीसीसी के सभी पदाधिकारियों और प्रदेश के सभी विधायकों को बैठक में मौजूद रहने को कहा है. आपको बता दें कि राजस्थान मंत्रिमंडल के मौजूदा हिसाब से गहलोत सरकार में 9 और मंत्री बनाए जा सकते हैं.

राजनीतिक नियुक्तियों पर भी विचार

आपको बता दें कि पंजाब इकाई का विवाद सुलझाने के बाद कांग्रेस का सारा ध्यान अब राजस्थान पर टिका है. कांग्रेस ने राजस्थान में अशोक गहलोत मंत्रिमंडल के विस्तार और फेरबदल की तैयारियां शुरू कर दी हैं. इसके अलावा प्रदेश में हजारों की संख्या में राजनीतिक नियुक्तियां की जानी हैं. इन नियुक्तियों की मांग पार्टी के भीतर से लगातार उठती रही है. इन्हीं के मद्देनजर, कांग्रेस ने राजस्थान के प्रभारी अजय माकन और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को जयपुर भेजा है.

कई अन्य मुद्दों पर भी होगी चर्चा

कांग्रेस के सूत्रों ने जानकारी दी कि राजस्थान में जिला अध्यक्षों की नियुक्ति पर भी चर्चा होगी. बोर्ड निगम के चेयरमैन भी तय किए जाएंगे. लेकिन इन सबसे पहले मंत्रिमंडल विस्तार की तैयारी की जाएगी. पहले यह बात सामने आ रही थी कि इन प्रक्रियाओं को अंतिम रूप देने के लिए सीएम अशोक गहलोत दिल्ली जाएंगे. पर मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि फिलहाल सीएम गहलोत का दिल्ली जाने का कोई कार्यक्रम नहीं है.

आलाकमान का निर्देश - तत्काल सुलझाएं सियासी मसले

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पंजाब के मसले के समाधान के बाद अब सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी का पूरा फोकस राजस्थान को लेकर है. पार्टी आलाकमान ने अजय माकन से साफ कहा है कि राजस्थान के सियासी मसले का समाधान जुलाई में ही हो जाना चाहिए. (news18.com)


25-Jul-2021 9:00 AM (35)

 

सुधीर कुमार

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपरु में प्रेम-प्रसंग में एक प्रेमी युवक की निर्मम हत्या करने का मामला सामने आया है. युवक की लाठी डंडे और लोहे के रॉड से पीट-पीटकर निर्मम हत्या कर दी गई, साथ ही प्राईवेट पार्ट भी काट लिया गया. घटना जिले के कांटी थाना इलाके  के रेपुरा रामपुरसाह और सोनवर्षा गांव की है. हत्या की इस घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी पूरे परिवार के साथ घर छोड़कर फरार हो गये. इसके बाद आक्रोशित लोगों ने आरोपियों के दरवाजे पर मृतक का दाह संस्कार कर दिया. मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस भी छानबीन में जुट गयी है. जबकि इलाके में तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गयी है.

जानकारी के मुताबिक रेपुरा निवासी मनीष कुमार के बेटे सौरभ का सोनवर्षा गांव की एक लड़की से प्रेम प्रसंग एक साल से चल रहा था. यह संबंध युवती के घर वालों को स्वीकार नहींं था. कुछ महीने पहले भी युवती के परिजनों ने सौरभ की पिटाई की थी और पंचायती भी हुई थी. इस वजह से सौरभ के पिता ने उसे बाहर भेज दिया था, लेकिन इसके बाद बहन की शादी में सौरभ गांव आया था. शुक्रवार की शाम को सौरभ अचानक युवती से मिलने उसके घर पहुंच गया. इस बात पर युवती के परिजन आग बबूला हो गये. युवती के परिजनों नें लाठी डंडा और रॉड से सौरभ की जमकर पिटाई की जिससे वह बेहोश हो गया. इसके बाद आरोपियों ने सौरभ का प्राइवेट पार्ट भी काट दिया और उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया जहां इलाजे के दौरान उसकी मौत हो गयी.


मृतक के पिता और चाचा ने बताया कि सोची समझी साजिश के तहत सौरभ को बुलाया गया और हत्या कर दी गयी. उनके मुताबिक बेटे की हत्या के बाद आरोपियों ने पिता मनीष कुमार को अपने घर बुलाया और हथियार के बल पर सादे कागज पर लिखवा लिया कि बेटे ने गलती की तो पिटाई की गयी है और उसे जिन्दा हालत में अस्पताल ले जा रहे हैं. उनके मुताबिक युवती के चाचा प्रशान्त कुमार ने सौरभ की हत्या की है. शनिवार को सौरभ की मौत के बाद तूफान सा उठ गया. परिजनों नें कांटी थाना पुलिस को सूचना दी. पुलिस नें मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरु कर दी है. घटना के बाद आरोपी पूरा परिवार घर बंद करके फरार है.

मृतक का शव घर पहुंचने के बाद कोहराम मच गया. पूरे गांव में चीख पुकार मच गयी. इसी
बीच भीड़ ने आरोपियों के घर पर हमला बोल दिया लेकिन वहां तैनात पुलिस ने भीड़ को रोक दिया. अंत में आक्रोशित ग्रामीणों नें आरोपितों के दरबाजे पर ही मृतक का दाह संस्कार कर दिया. इलाके में इस हत्या को लेकर भारी तनाव व्याप्त है. इसे देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गयी है. कांटी समेत आस पास के करजा, पानापुर ओपी, ब्रम्हपुरा और सदर थाने को अलर्ट कर दिया गया है. सिटी एसपी राजेश कुमार ने बताया कि मृतक के परिजनों के बयान पर केस दर्ज कर लिया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर तथ्य सामने आएंगे. फिलहाल आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापामारी कर रही है.(news18.com)


25-Jul-2021 8:58 AM (25)

 

रवि शंकर

पटना. 10 महीने का मासूम अयांश एक ऐसी दुर्लभ बीमारी का शिकार है, जो लाखों में किसी एक को होती है. मामला पटना के रूपसपुर रुकनपुरा का है. यहां रहने वाले आलोक कुमार सिंह और नेहा सिंह के बेटे अयांश को SMA नाम की दुर्लभ बीमारी है. अयांश मात्र 10 महीने का है. वह जब 2 महीने का था तो इस बीमारी का पता लगा था.

एसएमए होती है बेहद खतरनाक बीमारी

एसएमए के शिकार बच्चे के अंग धीरे-धीरे काम करना बंद कर देते हैं. अयांश की गर्दन के एक हिस्से ने काम करना बंद कर दिया है. 10 महीने बाद भी अयांश की हालत नवजात की तरह है. अयांश की मां नेहा सिंह बताती हैं कि जब हमें इस बीमारी का पता चला तो विश्वास नहीं हुआ. नेहा बच्चे का इलाज बंगलुरू के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एन्ड न्यूरो साइंस में करा रही हैं.

बिना इलाज अधिकतम उम्र 2 वर्ष

नेहा सिंह के मुताबिक, डॉक्टर कहते हैं कि इस बीमारी का शिकार बच्चा अधिकतम 2 साल जिंदा रह सकता है. धीरे-धीरे हाथ-पैर काम करना बंद कर देगा, सांसें भी लेनी मुश्किल हो जाएंगी. अयांश के माता-पिता अपने बच्चे को बचाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. पर इलाज के लिए लगने वाला इंजेक्शन इतना महंगा है कि माता-पिता की समझ में कुछ नहीं आ रहा.

एक इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ रुपये

स्पाइनल मस्क्युलर एट्रोफी के इलाज के लिए Zolgensma नाम के इंजेक्शन की जरूरत पड़ती है. इसकी एक इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ रुपये है. यह भारत में उपलब्ध नहीं है, इसे अमेरिका से मंगाना होता है. इस महंगे इलाज के सामने माता-पिता असहाय हो गए हैं. अयांश की मां नेहा सिंह बच्चे के इलाज के लिए लोगों से मदद मांग रही हैं. नेहा सिंह ने क्राउड फंडिंग की शुरुआत की है और सोशल मीडिया के जरिये भी लोगों से मदद मांगी हैं. नेहा सिंह सीएम नीतीश कुमार और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से गुहार लगाते हुए कहती हैं कि बिहार का अयांश पहला ऐसा बच्चा है, जिसे ऐसी दुर्लभ बीमारी हुई है. सीएम नीतीश कुमार और सरकार अगर मदद करे तो बेटे की जान बच सकती है.

लोगों से मदद की अपील

अयांश के माता पिता साधारण परिवार से आते हैं. इन्होंने लोगों से अपील की है कि आगे आकर मदद करे. बच्चे के पिता के मुताबिक, मुंबई में एक ऐसा ही मामला पहले आया था. उस केस में लोगों ने खूब मदद की थी और बच्चे का इलाज हुआ. लोगों की मदद से लगे इंजेक्शन के बाद बच्चे की सेहत बेहतर है.(news18.com)


25-Jul-2021 8:57 AM (12)

नई दिल्ली. ऐपल के पास यदि एयरड्रॉप है जिसके जरिए आप बिना फ़ोन को वायर से कनेक्ट कर सीधे फोटो, वीडियो या दूसरी अन्य कोई भी फाइल सीधे मैकबुक पर भेज सकते है या फिर मैकबुक से सीधे फोन पर ले सकते है तो गूगल का नियरबाय शेयर भी इसे टक्कर देता है. गूगल का नियरबाय एंड्राइड यूजर्स को भी अपनी फाइल डिवाइस में शेयर करने की सुविधा देता है. वहीं अब, गूगल नियरबाय शेयर का उपयोग करके यूजर्स को आस-पास के एंड्रॉइड डिवाइसेस के साथ ऐप्स शेयर करने की एबिलिटी भी प्रदान कर रहा है. नियरबाय शेयर को सबसे पहले अगस्त 2020 में लॉन्च किया गया था और केवल Android उपयोगकर्ताओं को फ़ाइलें, फ़ोटो और वीडियो साझा करने और प्राप्त करने की अनुमति दी गई थी. दिसंबर 2020 में, नियरबाय शेयर के लिए ऐप्स शेयर करने की क्षमता की घोषणा की गई थी और इस साल फरवरी तक इसे अंतिम यूजर्स के लिए रोल आउट करना शुरू कर दिया गया था.

नियर शेयर, ऐपल के एयरड्रॉप के लिए एंड्राइड का जवाब है, जिसने सालों से ऐपल यूजर्स को एक निश्चित सीमा के भीतर एक-दूसरे को फाइल भेजने की इजाजत दी है.

 इंटरनेट कनेक्शन या वाई-फाई की भी जरूरत नहीं 

नई सुविधा यूजर्स को गूगल प्ले से अपने आसपास के लोगों के साथ एंड्रॉइड स्मार्टफोन के साथ ऐप शेयर करने की अनुमति देती है, यहां तक ​​​​कि इसके लिए कोई इंटरनेट कनेक्शन या वाई-फाई की भी जरूरत नहीं है. नई सुविधा का उपयोग करने के लिए, यूजर्स को अपने एंड्रॉइड फोन पर गूगल प्ले स्टोर पर जाना होगा, यहां अपनी प्रोफ़ाइल आइकन पर क्लिक करना होगा, और फिर ऐप्स और डिवाइस प्रबंधित करें का चयन करना होगा. वहां, यूजर्स को दो बटनों के साथ एक शेयर ऐप्स विकल्प देखने में सक्षम होना चाहिए, भेजें और प्राप्त करें. भेजें पर क्लिक करने से उन ऐप्स की सूची दिखाई देती है, जिनसे यूजर्स उन ऐप्स का चयन कर सकते हैं जिन्हें वे भेजना चाहते हैं. फिर, वे पास के एंड्राइड डिवाइसेस की लिस्ट खोलने के लिए भेजें बटन पर क्लिक कर सकते हैं. रिसीवर के आस-पास के डिवाइसेस में दिखाने के लिए ऐप के रिसीवर को "प्राप्त करें" विकल्प पर क्लिक करना होगा.

ऐसे कर सकते हैं इस्तेमाल 

यदि उपयोगकर्ता किसी को ऐप भेजना चाहते हैं तो वे सेंड पर क्लिक कर सकते हैं और यदि वे ऐप प्राप्त कर रहे हैं तो रिसीव करें पर क्लिक करें. ऐप्स भेजते समय, यूजर्स एक से अधिक ऐप्स का चयन भी कर सकते हैं और एक बार में भेज सकते हैं. सुविधा का उपयोग करने के लिए यूजर्स को गूगल प्लेस स्टोर को उनके स्थान तक पहुंच प्रदान करने की आवश्यकता होती है, फिर उन्हें चुनने और भेजने के लिए उन्हें अपने डिवाइस पर ऐप्स की सूची में ले जाता है. हमने इस फीचर को एंड्रॉइड 11 पर चलने वाले वनप्लस 7 प्रो पर आजमाया और इसने पूरी तरह से काम किया.(news18.com)


25-Jul-2021 8:47 AM (20)

सुशांत पारीक

Jaipur : राजस्थान में शिक्षण संस्थाओं को खोलने की तारीख और गाइडलाइन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई बैठक में बड़ा फैसला किया गया है. दरअसल कल राज्य मंत्रिपरिषद की गुरुवार को हुई बैठक में शिक्षण संस्थाओं को पुनः प्रारम्भ करने के लिए हुए सैद्धांतिक निर्णय के बाद आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में शिक्षण संस्थाओं को खोलने की तिथि और एसओपी के संबंध में निर्णय लेने के लिए पांच मंत्रियों की एक समिति गठित की है.  

गौरतलब है कि कल राज्य मंत्री परिषद की बैठक के बाद शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा  ने कहा था कि राजस्थान में 2 अगस्त से स्कूल खोले जाएंगे. पहली क्लास से लेकर 12वीं कक्षा तक बच्चों की पढ़ाई शुरू हो सकेगी, लेकिन अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से समिति के गठन के बाद संभवत नई तारीख का ऐलान हो और कक्षाओं को लेकर भी फैसला समिति की रिपोर्ट के आधार पर ही होगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने समिति को जल्द रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं.

गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई बैठक में कहा कि इस समिति में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री भंवर सिंह भाटी तथा चिकित्सा एवं तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग शामिल होंगे. यह समिति शिक्षण संस्थाओं को खोलने की तारीख एवं इसके लिए विस्तृत एसओपी तैयार करने पर निर्णय करेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविङ-19 महामारी की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत शिक्षण संस्थाओं को खोलने की एसओपी के संबंध में गहन विचार-विमर्श कर निर्णय लिया जाना चाहिए. इसके लिए मंत्रियों की समिति भारत सरकार के स्वास्थ्य और मानव संसाधन मंत्रालयों, आईसीएमआर एवं अन्य राज्य जहां शैक्षणिक संस्थान प्रारम्भ किए गए हैं, उनके साथ संपर्क कर उनके अनुभव और फीडबैंक पर चर्चा करेगी. साथ ही भारत सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की जानकारी लेकर शिक्षण संस्थाओं को खोलने की तारीख एवं एसओपी के संबंध में निर्णय करेगी.


बैठक में चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. राजाबाबू पंवार, डॉ. सुधीर भंडारी, डॉ. वीरेन्द्र सिंह, डॉ. एमएल गुप्ता, डॉ. अमरजीत मेहता, डॉ. प्रवीण माथुर एवं डॉ. मनीष ने देश तथा दुनिया में कोविड संक्रमण की स्थिति बच्चों पर इसके प्रभाव तथा आने वाले दिनों में संक्रमण की आशंका पर विस्तृत जानकारी दी. सभी विशेषज्ञों की राय थी कि शिक्षण संस्थानों में सभी शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक स्टाफ, बच्चों के परिवहन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों के ड्राइवर तथा संपर्क में आने वाले अन्य व्यक्तियों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाए. साथ ही, कोविड प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित की जा सके, इसके लिए विस्तृत गाइडलाइंस जारी की जाए.(zeenews.india.com)


25-Jul-2021 8:35 AM (24)

नई दिल्ली, 24 जुलाई| भारत में स्मार्टफोन यूजर्स ब्राजील और इंडोनेशिया के बाद दुनिया में औसतन सबसे ज्यादा समय अपने डिवाइस पर बिताते हैं। एक नई रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। पिछले साल तक, ब्राजील इंडोनेशिया के बाद दुनिया का दूसरा देश था, जहां स्मार्टफोन का सबसे अधिक उपयोग किया जाता था, जो अब प्रति दिन औसतन 5.3 घंटे स्मार्टफोन के उपयोग के साथ दूसरे स्थान पर है।

जेडडीनेट की रिपोर्ट के अनुसार, औसतन 4.9 घंटे के दैनिक स्मार्टफोन उपयोग समय के साथ, भारत के बाद दक्षिण कोरिया (4.8 घंटे), मैक्सिको (4.7 घंटे), तुर्की (4.5 घंटे), जापान (4.4 घंटे), कनाडा (4.1 घंटे), अमेरिका ( 3.9 घंटे) और ब्रिटेन (3.8 घंटे) का नंबर आता है।

ऐप एनी द्वारा भी वैश्विक रुझानों पर एक अलग रिपोर्ट ने मोबाइल ऐप परि²श्य के भीतर विकास के क्षेत्रों पर प्रकाश डाला है।

जब शीर्ष सोशल नेटवकिर्ंग ऐप्स के बीच जुड़ाव की गहराई की बात आती है, तो अध्ययन में कहा गया है कि ब्राजील में 2019 में 26.2 घंटे की तुलना में व्हाट्सएप 2020 में प्रति माह औसतन 30.3 घंटे का सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला ऐप रहा है।

विशेष रूप से, ब्राजील में टिकटॉक का उपयोग 2019 में 6.8 घंटे की तुलना में 2020 में 14 घंटे दर्ज किया गया। यह फेसबुक की तुलना में तेजी से बढ़ रहा है (2020 में प्रति माह 15.6 घंटे बनाम 2019 में 14 घंटे प्रति माह)।

इंस्टाग्राम पर बिताए जाना वाला समय (2020 में 14 घंटे बनाम 2019 में 11.5 घंटे) और ट्विटर (2020 में 6.4 घंटे प्रति माह बनाम 2019 में 5.1 घंटे) दर्ज किया गया है।

ऐप एनी ट्रेंड्स रिपोर्ट के अनुसार, ब्राजील ने 2020 में वित्तीय संबंधी ऐप के डाउनलोड में साल-दर-साल 75 प्रतिशत की वृद्धि देखी है।

ऐसे ऐप्स पर बिताए गए घंटों की औसत संख्या में भी पिछले साल 45 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। (आईएएनएस)


25-Jul-2021 8:29 AM (17)

सिलचर, 25 जुलाई | म्यांमार के तीन रोहिंग्याओं, जिनमें तीन महिलाएं और छह बच्चे शामिल हैं, को शनिवार को दक्षिणी असम में उस समय गिरफ्तार किया गया, जब वे ट्रेन से उत्तर प्रदेश से त्रिपुरा जा रहे थे। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि रोहिंग्या त्रिपुरा के रास्ते बांग्लादेश वापस जाने की कोशिश कर रहे थे, जो बांग्लादेश के साथ 856 किलोमीटर की सीमा साझा करता है।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवानों ने 15 रोहिंग्याओं को दक्षिणी असम के करीमगंज जिले के बदरपुर रेलवे स्टेशन पर हिरासत में लिया, जब वे उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से आ रहे थे और त्रिपुरा जाने वाली ट्रेन पकड़ने की कोशिश कर रहे थे।

आरपीएफ कर्मियों ने उन्हें राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) को सौंप दिया।

जीआरपी के एक अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक पूछताछ के बाद रोहिंग्याओं ने कबूल किया कि वे कुछ महीने पहले उत्तर प्रदेश गए थे और नौकरी की तलाश में अलग-अलग शहरों में रहे।

दक्षिण-पूर्व बांग्लादेश में शरणार्थी शिविरों से रोहिंग्या अक्सर नौकरी की तलाश में भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में अवैध रूप से प्रवेश करते हैं या मानव तस्करी में फंस जाते हैं।

बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के अधिकारियों ने कहा है कि रोहिंग्या शरणार्थी एक बड़ी समस्या हैं और जब तक वे म्यांमार नहीं लौटेंगे, समस्या भारत, बांग्लादेश और अन्य देशों के लिए बनी रहेगी।(आईएएनएस)


25-Jul-2021 8:28 AM (29)

 टोक्यो, 25 जुलाई | यहां ओलंपिक में भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने उस दिन पर चांदी की परत चढ़ा दी, जब पिस्टल निशानेबाज सौरभ चौधरी और राइफल ऐस इलावेनिल वलारिवन सहित कुछ सबसे प्रतिभाशाली भारतीय निशानेबाजों ने टोक्यो में प्रतियोगिताओं के पहले पूरे दिन निराश किया। मणिपुर की 26 वर्षीय मीराबाई ने 2016 के रियो ओलंपिक के भूत को 202 किग्रा स्नैच में 87 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 115 किग्रा भारोत्तोलन में कर्णम मल्लेश्वरी के कांस्य के बाद भारोत्तोलन के 69 किग्रा वर्ग में भारत के लिए कांस्य पदक जीता। 2000 सिडनी ओलंपिक में मीराबाई का शानदार प्रदर्शन रहा था, हालांकि 2016 में क्लीन एंड जर्क में तीन प्रयासों में वजन उठाने में विफल रही थीं।

ओलंपिक में रजत के साथ, मीराबाई ने अब राष्ट्रमंडल खेलों, एशियाई चैंपियनशिप और विश्व चैंपियनशिप में पदक जीते हैं।

जिस दिन 19 वर्षीय इक्का 10 मीटर एयर पिस्टल शूटर चौधरी ने नंबर 1 स्थान पर फाइनल के लिए क्वालीफाई किया, स्वर्ण पदक की उम्मीदें जगाते हुए, वह फाइनल में सातवें स्थान पर रहने के लिए टच खो गया, जबकि हमवतन अभिषेक वर्मा नहीं बना सके आठ निशानेबाजों का फाइनल 17वें स्थान पर समाप्त हुआ।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम, पूल ए में एक शांत शुरुआत के बाद, जब उन्होंने एक गोल स्वीकार किया, न्यूजीलैंड के खिलाफ 3-2 से जीत हासिल की और आगामी संघर्षों के लिए खुद को तैयार किया, खासकर रविवार को दुनिया की नंबर 1 टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ। हालांकि, महिला हॉकी टीम ने अपने पहले पूल ए मैच में 1-5 से हारने से पहले पूरे पहले हाफ के लिए नीदरलैंड को वल्र्ड नंबर 1 से मैच करने के बाद प्रशंसकों को निराश कर दिया।

शीर्ष खिलाड़ियों द्वारा पुल-आउट के कारण स्लॉट बनाए जाने के बाद ओलंपिक में अंतिम समय में प्रवेश करने वाले भारतीय टेनिस ऐस सुमित नागल ने 2018 जकार्ता एशियाई खेलों के चैंपियन, उज्बेकिस्तान के डेनिस इस्तोमिन को 6-4, 6-7 (6) से हराया। टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा - अचंता शरथ कमल की जोड़ीदार चीनी ताइपे की लिन यू-जू और चेंग आई-चेंग से 11-8, 11-6 के मिश्रित युगल मैच में हारने के बाद, 6-4 से आगे हैं। , 11-5, 11-4 ने जोरदार वापसी करते हुए यूक्रेन की 20वीं वरीयता प्राप्त मार्गरीटा पेसोत्स्का को हराया। वह अब 1992 के बाद से ओलंपिक में एक राउंड जीतने वाली पहली भारतीय महिला पैडलर हैं।

चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की पुरुष युगल जोड़ी के साथ भारतीय शटलरों का दिन मिलाजुला रहा, उन्होंने ली यांग और वांग ची-लिन की उच्च रैंकिंग वाली चीनी ताइपे की जोड़ी को अपने पहले ग्रुप ए मैच में 21-16, 16-21, 27-25 से हराया, जबकि पुरुष एकल में देश की उम्मीद बी साई प्रणीत को अपने पहले ग्रुप डी मैच में इजराइल की मिशा जि़ल्बरमैन के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।

2010 एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता मुक्केबाज विकास कृष्ण के लिए निराशा थी, जिन्हें 69 किग्रा वर्ग में जापानी अपस्टार्ट सिवोनरेट्स क्विंसी मेन्सा ओकाजावा ने पहले दौर में ही बाहर कर दिया था।

खेलों में अकेली भारतीय जुडोका, शुशीला देवी लिकमाबम, पहले दौर में बाहर हो गईं, 32 के दौर में हंगरी की दिग्गज ईवा सेर्नोविच्जकी द्वारा पिन की गई, जबकि रोवर्स, अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह ने भी जोड़ी समाप्त होने के बाद एक भूलने योग्य आउटिंग की थी। लाइटवेट पुरुषों के डबल स्कल्स में शनिवार को पांचवें स्थान पर रहे।

रोवर अब 25 जुलाई को रेपेचेज दौर में उतरेंगे और उम्मीद है कि भाग्य उनका साथ देगा।(आईएएनएस)