मनोरंजन

Previous123456789...188189Next
करीना सेट पर अभिषेक बच्चन को बुलाती थीं जीजू, करिश्मा कपूर को बहू बनाने की जया ने दे दी थी रजामंदी
01-Dec-2021 9:17 AM (37)

 

राज कपूर की पोती करिश्मा कपूर और अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक बच्चन एक दूसरे को पसंद करते थे. दो दिग्गज फिल्मी फैमिली के बड़ों को भी इस रिश्ते पर कोई ऐतराज नहीं था. जया बच्चन तो इतनी खुश थीं कि भरे समारोह में करिश्मा को अपनी बहू बनाने का ऐलान कर दिया था. लेकिन कहते हैं ना कि जोड़ियां ऊपर से बनकर आती हैं. अभिषेक की किस्मत में तो मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या राय लिखी थीं तो सबके चाहने के बावजूद अभिषेक-करिश्मा एक नहीं हो पाए. हालांकि इसके पीछे की वजह आज तक साफ नहीं हो पाई है.

अभिषेक बच्चन की पहली पसंद थीं करिश्मा कपूर

अभिषेक बच्चन की पहली पसंद करिश्मा कपूर थीं. बच्चन फैमिली और कपूर फैमिली के बीच दूर का रिश्ता भी था, जिसे जया बच्चन नजदीकी में बदलने के लिए खुशी-खुशी तैयार थीं. दरअसल अमिताभ बच्चन और जया की लाडली बेटी श्वेता बच्चन की शादी करिश्मा कपूर की बुआ यानी ऋतु नंदा के बेटे निखिल नंदा से हुई है. मीडिया की खबरों के मुताबिक शादी के दौरान ही करिश्मा और अभिषेक की एक दूसरे से अच्छी जान पहचान हुई जो धीरे धीरे प्यार में बदल गई. इसके बाद फिल्म हां ‘मैंने भी प्यार किया’ में एक साथ काम कर अभिषेक और करिश्मा काफी नजदीक आ गए. दोनों की फैमिली को इस रिश्ते पर कोई ऐतराज भी नहीं था.

करीना ‘रिफ्यूजी’ के सेट पर अभिषेक को जीजू बुलाती थीं

करिश्मा कपूरने कई सुपरहिट फिल्में देकर बॉलीवुड में अपनी खास जगह बना ली थी और अभिषेक बच्चन भी अपने करियर में अच्छा कर रहे थे. अभिषेक को करिश्मा की छोटी बहन करीना कपूर के साथ एक फिल्म ऑफर हुई ‘रिफ्यूजी’. अभिषेक से मिलने करिश्मा कपूर ‘रिफ्यूजी’ के सेट पर आती रहती थीं. करीना अपने को-एक्टर अभिषेक को जीजू कह कर बुलाती थी. क्योंकि सबको पता था कि अभिषेक और करिश्मा की शादी होनी तय है.

जया बच्चन ने खुद करिश्मा को बोला था बहू

खुद जया बच्चन ने करिश्मा कपूर को अपनी बहू बनाने का ऐलान सबके सामने कर दिया था. अमिताभ बच्चन के बर्थडे के खास मौके पर सबकी मौजूदगी में जया ने अपने हाथ में माइक थाम करिश्मा कपूर का परिचय अपनी होने वाली फैमिली मेंबर यानी बहू के रुप में करवाया था. जया ने कहा था कि ‘आज बच्चन और नंदा फैमिली यहां पर एक और फैमिली को अपने ग्रुप का हिस्सा बनाने जा रहा है, और वह है कपूर फैमिली. इसके बाद करिश्मा जया और अभिषेक के पास मंच पर सकुचाई और शर्माई सी खड़ी हो जाती है. इस मौके पर बबीता और रणधीर कपूर भी मौजूद थे. जया तो इतनी खुश थीं कि अभिषेक की तरफ से पापा अमिताभ को जन्मदिन का तोहफा तक बता दिया था. इस मौके पर अमिताभ-जया के करीबी रहें राजनेता अमर सिंह भी मौजूद थे. इस खास मौके का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होता रहता है.

दो दिग्गज फिल्मी फैमिली ना हो पाई एक

लेकिन फिल्म इंडस्ट्री की दो दिग्गज फैमिली रिश्ते में बंधते-बंधते रह गई थी. हालांकि साफ-साफ वजह सामने नहीं आई थी. लेकिन कहते हैं कि इस रिश्ते को तोड़ने के पीछे भी दोनों की माओं का हाथ था. जया बच्चन जहां नहीं चाहती थी कि शादी के बाद बहू फिल्मों में काम करे वहीं बबीता को अपनी बेटी का फ्यूचर अभिषेक के साथ सही नहीं लगा था. सामने तो यही बात सामने आई थी बाकी असलियत तो सिर्फ बच्चन और कपूर फैमिली ही जानती होगी. (news18.com)

अमीषा पटेल के खिलाफ भोपाल की अदालत ने जारी किया वारंट, 4 दिसंबर को पेशी के आदेश, ये है माजरा
30-Nov-2021 8:07 PM (33)

 

टीएफ टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के चेक बाउंस मामले में अमीषा पटेल का मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. भोपाल की एक जिला न्यायालय ने एक्ट्रेस के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया है. इसके साथ ही कोर्ट ने अपने आदेश में अमीषा पटेल को 4 दिसंबर को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश जारी किया है.

क्या है केस
दरअसल, ये केस 32.25 लाख रुपये के चेक बाउंस का है. यूटीएप टेलेफिल्मस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा केस को फाइल किया गया है. कंपनी का दावा है कि एक्ट्रेस ने उनसे फिल्म बनाने के लिए पैसे लिए थे और जो 2 चेक एक्ट्रेस ने कंपनी को दिए वो बाउंस हो गए.

4 दिसंबर कोर्ट में होगी पेशी
UTF टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड के वकील रवि पंथ के अनुसार प्रथम श्रेणी जिला न्यायाधीश रवि कुमार बोरासी ने अमीषा पटेल के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया है. उन्होंने ही UTF टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से भोपाल कोर्ट में मामला लगाया था. उन्होंने बताया कि अमीषा जमानती वारंट लेने के बाद अगर 4 दिसंबर को जिला न्यायालय में उपस्थित नहीं होती हैं, तो गिरफ्तारी वारंट जारी किया जा सकता है.

इंदौर में भी दर्ज है एक केस
आपको बता दें कि भोपाल के अलावा भी बॉलीवुड एक्ट्रेस अमीषा पटेल के खिलाफ इंदौर में भी 10 लाख रुपए के चेक बाउंस मामले में केस दर्ज किया गया था. (news18.com)

कपिल देव हुए फिल्म '83' का ट्रेलर शेयर करते हुए इमोशनल, बोले- मेरी टीम की कहानी
30-Nov-2021 8:07 PM (29)

 

नई दिल्ली. बहुप्रतीक्षित फिल्म ’83’ का ट्रेलर लॉन्च होने के बाद बॉलीवुड और भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों में खुशी का माहौल है. 1983 के विश्व कप में भारत की जीत पर आधारित इस फिल्म में रणवीर सिंह वर्ल्ड कप चैंपियन कप्तान कपिल देव की भूमिका निभा रहे हैं. फिल्म इस पर ध्यान केंद्रित करती है कि कैसे भारतीय टीम ने इतिहास के पाठ्यक्रम को बदलने के लिए अलग-अलग बाधाओं को हराया. पूर्व भारतीय कप्तान देव ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट से इस फिल्म के ट्रेलर को साझा करते हुए गर्व के साथ फिल्म को ‘अपनी टीम की कहानी’ घोषित किया है.

रणवीर सिंह अभिनीत बॉलीवुड फिल्म ’83’ के ट्रेलर को साझा करते हुए कपिल देव ने इंस्टाग्राम पर लिखा: “मेरी टीम की कहानी.” निर्देशक कबीर खान द्वारा निर्देशित फिल्म ’83’ की कहानी भारत की ऐतिहासिक 1983 क्रिकेट विश्व कप जीत के इर्द-गिर्द घूमती है. फिल्म में रणवीर सिंह विश्व कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव की भूमिका में हैं.

इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी को मैनेजर पीआर मान सिंह का किरदार निभा रहे हैं जबकि एमी विर्क को बलविंदर सिंह संधू के रूप में नजर आएंगे. साहिल खट्टर को सैयद किरमानी के रूप में और ताहिर भसीन को फिल्म में सुनील गावस्कर की भूमिका निभाने के लिए चुना गया है. जीवा, साकिब सलीम, जतिन सरना, चिराग पाटिल, दिनकर शर्मा, निशांत दहिया, धैर्य करवा, आर बद्री भी फिल्म का हिस्सा हैं. दिलचस्प बात यह है कि दीपिका पादुकोण 24 दिसंबर को बड़े पर्दे पर आने वाली ’83’ में कपिल देव की पत्नी रोमी की भूमिका निभाती नजर आएंगी.

फिल्म का ट्रेलर शेयर करने से पहले कपिल देव एक दिन पहले पोस्टर भी शेयर किया था. इस पोस्टर को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा था, ”बचपन से मेरी मम्मी मुझे सिर्फ एक ही चीज कहती है आई है- बेटा जीत के आना, कोई बेस्ट ऑफ शेस्ट ऑफ नहीं. बस जीत के आना.”

यह 25 जून, 1983 का दिन था, जब भारत ने लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड में वेस्टइंडीज को फाइनल में 43 रनों से हराकर अपना पहला क्रिकेट विश्व कप खिताब जीता था. भारत की विश्व कप फाइनल प्लेइंग इलेवन में सुनील गावस्कर, के श्रीकांत, मोहिंदर अमरनाथ, यशपाल शर्मा, एसएम पाटिल, कपिल देव (कप्तान), कीर्ति आजाद, रोजर बिन्नी, मदन लाल, सैयद किरमानी और बलविंदर संधू शामिल थे.1983 के विश्व कप में भारत की जीत ने इस खेल को देश में एक लॉन्चपैड दिया, और इसके बाद से पीछे मुड़कर नहीं देखा, वर्तमान समय में भारत इस खेल में भारी है. (news18.com)

नीतू कपूर को आई ऋषि कपूर की याद, थ्रोबैक तस्वीर शेयर कर फिर बयां किया दिल का हाल
30-Nov-2021 8:04 PM (33)

 

नीतू कपूर और ऋषि कपूर की जोड़ी फिल्म इंडस्ट्री की सबसे खूबसूरत जोड़ी मानी जाती थी. नीतू जितनी प्यारी हैं उतने ही हैंडसम ऋषि भी थे,इसलिए इनकी जोड़ी को फैंस आइकॉनिक मानते हैं. हालांकि 63 साल की उम्र में भी नीतू बेहद फिट और खूबसूरत हैं. यूं तो नीतू बेहद बिजी रहती हैं. जल्द ही अनिल कपूर के साथ फिल्म ‘जुग जुग जियो’ में नजर आने वाली हैं, लेकिन जीवनसाथी के बिछड़ने का गम अक्सर सालता रहता है. नीतू ने ऋषि के साथ पुराने लम्हों को याद करते हुए एक फोटो शेयर किया तो फैंस और फ्रेंड्स के साथ-साथ बेटी रिद्दिमा कपूर भी रिएक्ट करने से खुद को रोक नहीं पाई.

नीतू कपूरने अपने इंस्टाग्राम पर एक थ्रोबैक फोटो शेयर कर अपने दिवंगत पति ऋषि कपूर को याद किया. बेहद खूबसूरत अंदाज में खिचवाए गए इस फोटो में ऋषि के साथ मोटरसाइकिल पर नीतू आगे बैठी नजर आ रही हैं. बीज कलर के शर्ट और ब्रिक कलर की पैंट पहने नीतू बेहद क्यूट नजर आ रही हैं तो ब्लू टी शर्ट,बेलबॉटम पैंट और स्नीकर पहने ऋषि बेहद हैंडसम नजर आ रहे हैं. इसमें दोनों की स्माइल इन्हें और हसीन बना रही है. इस फोटो को शेयर कर नीतू ने कैप्शन मे लिखा ‘जस्ट..’ इसके साथ ही तीन पेयर हार्ट इमोजी शेयर पर अपने दिल के जज्बात शेयर किए है.

इस फोटो पर नीतू कपूर-ऋषि कपूर की बेटी रिद्दिमा कपूर ने हार्ट इमोजी शेयर पर अपने मम्मी-पापा की बेहतरीन जोड़ी पर प्यार जताया है तो साजिद नाडियावाला की वाइफ ने लिखा ‘एडोरेबल नीतू जी’. वहीं एक्ट्रेस नीलम कोठारी इस फोटो को देखते ही बोल उठीं ‘हाउ स्वीट’. इसके अलावा एकता कपूर ,सिकंदर खेर ने भी प्यार जताया है. वहीं फैंस भी इस रोमांटिक जोड़ी को आइकॉनिक बताते हुए जमकर कमेंट कर रहे हैं.

नीतू कपूरअक्सर ऋषि कपूर की यादों को सोशल मीडिया पर साझा करती रहती हैं. ऋषि के निधन के बाद जब पहली बार नीतू एक रियलिटी शो पर पहुंची थीं तो उन्हें याद करते हुए रो पड़ी थीं. शो का थीम ऋषि साहब पर रखा गया था और गेस्ट जज के तौर पर नीतू को बुलाया गया था. इसके अलावा ऋषि के 69वें जयंती पर नीतू ने पुरानी फोटो शेयर कर इंस्टाग्राम पर लिखा था ‘न्यूयॉर्क में बिताए गए बेहद पीड़ादायक पलों में मैंने ऋषि जी से काफी कुछ सीखा था. बीमारी में भी खाना, हंसना और शॉपिंग करते रहे’.

बता दें कि ऋषि कपूर एक ऐसे जिंदादिल इंसान थे जिनके बारे में बॉलीवुड के लोग आज भी बात करते हैं. कैंसर जैसी कष्टदायक बीमारी से जूझते हुए 30 अप्रैल 2020 को ऋषि जिंदगी की जंग हार गए थे. न्यूयॉर्क में उनका इलाज चल रहा था,लेकिन जीवन के आखिरी पल को एन्जॉय करते रहे. (news18.com)

दीपिका पादुकोण पर हुआ पति रणवीर सिंह का असर! अटपटे आउटफिट पहनने पर उड़ा मजाक
30-Nov-2021 7:52 PM (28)

दीपिका पादुकोण, बॉलीवुड की एक ऐसी एक्ट्रेस हैं, जिन्हें हमेशा फैशनेबल लुक के लिए जाना जाता है. वहीं, दीपिका के हसबैंड रणवीर सिंह आमतौर पर अजीबोगरीब कपड़े पहने हुए दिखाई देते हैं, जिसकी वजह से उन्हें अक्सर सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाता है. मगर अब ऐसा लग रहा है कि दीपिका पादुकोण पर रणवीर सिंह के फैशन का असर होने लगा है. इन दिनों एक्ट्रेस का एयरपोर्ट लुक जमकर वायरल हो रहा है. सोशल मीडिया यूजर्स उनकी इस फोटो पर दिलचस्प कमेंट कर रहे हैं.

दीपिका पादुकोण को लोग जमकर रहे हैं ट्रोल

वायरल हो रहे इस तस्वीर में दीपिका पादुकोण ओवरसाइज्ड प्रिंटेड डेनिम जैकेट और डेनिम जींस पहनी हुई नजर आ रही हैं. साथ ही वह ब्लैक किटेन हाई हील्स के साथ व्हाइट मोजे भी पहनी हुई हैं. जो बिल्कुल भी मैच नहीं कर रहा है. ऐसे में सोशल मीडिया यूजर्स को बैठे-बिठाए दीपिका को  ट्रोल करने का भरपूर मसाला मिल गया. यूजर्स ने मजेदार कमेंट्स की झड़ी लगा दी. एक यूजर ने सबसे दिलचस्प कमेंट किया, ‘रणवीर के कपड़े पहन लिए क्या दीदी?’  वहीं दूसरे ने लिखा,  ‘सैंडल और मोजे बहुत बुरे लग रहे हैं. इन्हें नए स्टाइलिस्ट की जरूरत है. सच कहें तो दोनों पति-पत्नी को है. प्लीज,  ऐसा फैशन फॉलो मत कीजिए, यह जरा भी क्लासी नही हैं.’

दीपिका के सैंडल और मोजे का लोग उड़ा रहे हैं मजाक

सोशल मीडिया यूजर्स ने खासकर दीपिका के सैंडल और मोजे का जमकर मजाक उड़ा रहे हैं. एक यूजर ने कमेंट किया, ‘दीपिका को क्यों लगता है कि हील्स के साथ मोजे पहनना स्टाइल है.’ वहीं दूसरे यूजर ने कमेंट किया ,’ सैंडल के साथ मोजे भयंकर लग रहे हैं’. वहीं एक ने लिखा ,‘दीपिका पर रणवीर का असर हो गया है, अब तो लगता है कि डिजाइनर भी सेम है इनका’.

फिल्म ’83’ में दीपिका के लुक की तारीफ

एक  तरफ जहां सोशल मीडिया पर दीपिका पादुकोण को ट्रोल किया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ रणवीर सिंह के साथ वाली उनकी फिल्म ‘83’ के ट्रेलर को जमकर तारीफ मिल रही है. फिल्म के ट्रेलर को आज (30 नवंबर) सुबह ही रिलीज किया गया है. इस फिल्म में रणवीर सिंह कपिल देव की  भूमिका में हैं.

वैसे तो दीपिका-रणवीर ने साथ-साथ में कई फिल्में की हैं, मगर शादी के बाद दोनों पहली बार किसी फिल्म में एक साथ काम किया है. फिल्म ‘83’ में दीपिका पादुकोण, कपिल देव की पत्नी रोमी का रोल प्ले कर रही हैं. फिल्म में दीपिका-रणवीर के लुक्स की जमकर तारीफ हो रही है. फिल्म ‘83’ के अलावा दीपिका शाहरुख खान की फिल्म ‘पठान’ में भी नजर आने वाली हैं.

विक्की कौशल-कैटरीना कैफ ने शादी को लेकर लिया बड़ा फैसला, मेहमानों के लिए रखा सीक्रेट कोड!
30-Nov-2021 7:50 PM (40)

 

बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत ऐक्ट्रेसेस में से एक कैटरीना कैफ अगले कुछ दिनों में विक्की कौशल की दुल्हन बन जाएंगी. दोनों स्टार्स की शादी की तैयारी जोरों पर चल रही है. मीडिया में लगातार शादी को लेकर नए अपडेट्स आ रहे हैं. शादी के वेन्यू से लेकर मेहमानों की लिस्ट तक की खबरें आने का सिलसिला लगातार जारी है. अब बॉलीवुड की इतनी बड़ी एक्ट्रेस की शादी होने जा रही है तो कोई मामूली तरीके से तो शादी होगी नहीं. बताया जा रहा है कि कैट-विक्की की शादी में सब कुछ शाही अंदाज में होगा. यहां तक कि उनकी शादी में एंट्री के लिए मेहमानों को एक स्पेशल कोड दिया जाएगा. इस कोड के जरिए  ही गेस्ट इस शाही शादी में शामिल हो सकते हैं.

बगैर कोड के नहीं मिलेगी शादी में गेस्ट को एंट्री!

विक्की कौशल और कैटरीना कैफ की शाही शादी में कौन-कौन शामिल होंगे, इस बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं आई है. मगर बॉलीवुड लाइफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, कैट-विक्की की शादी में शरीक होने के लिए एक सीक्रेट कोड दिया जाएगा.  यह कोड उन्हीं मेहमानों को बताया जाएगा, जिन्हें शादी का इंविटेशन होगा. इतना ही नहीं, गेस्ट जिस होटल के कमरे में ठहरेंगे, वहां भी सेम कोड  सिस्टम रहेगा. इससे यह अंदाजा लगया जा सकता है कि जो गेस्ट कैट-विक्की के शादी में शामिल होंगे, उन्हें उनके असली नाम से एंट्री नहीं होगी, बल्कि स्पेशल कोड के माध्यम से होगी.

कैट-विक्की अपनी शादी को रखना चाहते हैं प्राइवेट!

हांलाकि, अबतक न तो कैटरीना कैफ ने और न ही विक्की कौशल ने अपनी शादी की बात कबूली है. मगर मीडिया में यह खबर है कि 9 दिसंबर को कैटरीना और विक्की कौशल एक-दूसरे का हाथ साथ जन्मों के लिए थाम लेंगे. बताया जा रहा है कि विक्की-कैट अपनी शादी को पूरी तरह प्राइवेट रखना चाहते हैं. मीडिया को तो वे अपनी शादी से दूर ही रखना चाहते हैं. ऐसी भी खबरे हैं कि शादी में गेस्ट को अपने सेल फोन्स नहीं लेकर आने के लिए कहा गया है. ऐसा इसलिए की शादी की कोई भी तस्वीर सामने न आए.

हाल ही में ऐसी खबरे भी सामने आई थी कि कैट-विक्की के संगीत सेरेमनी को बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर फरहा खान और करण जौहर करने वाले हैं. फराह जहां कैटरीना की तरफ से कोरियोग्राफी करेंगे, वहीं करण जौहर लड़के वालों की ओर से सभी को डांस स्टेप्स बताएंगे.

विक्की कौशल और कैटरीना कैफ राजस्थान के सिक्स सेंसेस फोर्ट बरवाड़ा में शादी करने वाले हैं. बताया जा रहा है कि शाही शादी की सभी तैयारियां तकरीबन पूरी हो चुकी हैं. ऐसी खबरें हैं कि शादी के बाद मुंबई में कपल रिसेप्शन पार्टी देंगे. वैसे राजस्थान में सात फेरे लेने से पहले दोनों मुंबई में कोर्ट मैरिज करने वाले हैं. (news18.com)

कंगना रनौत को मिली धमकी तो दर्ज कराई FIR, बोलीं- 'टुकड़े टुकड़े गैंग और खालिस्तानियों से नहीं डरती'
30-Nov-2021 6:45 PM (26)

 

कंगना रनौत ने उन लोगों पर सख्त एक्शन लिया है, जिन्होंने उन्हें जान से मारने जैसी धमकियां दी हैं. उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर कर बताया कि उन्होंने एक्शन लेते हुए एफआईआर दर्ज करा दी है. उन्होंने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की अपनी तस्वीरों के साथ एक बार फिर देश में बैठे गद्दारों के खिलाफ आवाज उठाई है. उन्होंने एक लंबा नोट शेयर करते हुए लिखा, ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग हो या आठवें दशक में पंजाब में गुरुओं की पावन भूमि को देश से काटकर खालिस्तान बनाने का सपना देखने वाले सभी विदेशों में बैठे हुए आतंकवादी हैं. उन्होंने सोनिया गांधी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि अपने पंजाब के मुख्यमंत्री को निर्देश दें कि ऐसे लोगों के खिलाफ तुरंत एक्शन लें.

लंबा पोस्ट लिख निकाली भड़ास
कंगना रनौत ने इंस्टाग्राम पर 4 तस्वीरों के साथ पोस्ट साझा की है. उन्होंने एक लंबा पोस्ट लिखकर एक बार फिर दो टूक कह दिया कि न डरी हूं, न डरूंगी, गद्दारों के खिलाफ खुलकर बोलती रहूंगी. कंगना ने अपनी पोस्ट में एक अपनी परिवार के साथ अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की तस्वीर और 3 अन्य एफआईआर की कॉपी शेयर की है.

गद्दारों को कभी माफ नहीं करना, ना भूलना
उन्होंने लिखा- ‘मुंबई में हुए आतंकी हमले के शहीदों को याद करते हुए मैंने लिखा था कि गद्दारों को कभी माफ नहीं करना, ना ही भूलना. इस तरह की घटना में देश के अंदरूनी देशद्रोही गद्दारों का हाथ होता है. देशद्रोही गद्दारों ने कभी पैसे के लालच में तो कभी पद व सत्ता के लालच में भारत मां को कलंकित करने के लिए एक भी मौका नहीं छोड़ा, देश के अंदरूनी जयचंद और गद्दार षड्यंत्र रच देश विरोधी ताकतों को मदद करते रहे, तभी इस तरह की घटनाएं होती हैं.’

‘देश के खिलाफ षड्यंत्र करने वालों के खिलाफ बोलती रहूंगी’
कंगना ने आगे लिखा, ‘मेरे इसी पोस्ट पर मुझे विघटनकारी ताकतों की तरफ से निरंतर धमकियां मिल रही हैं. बठिंडा के एक भाई साहब ने तो मुझे खुलेआम जान से मारने की धमकी दी है. मैं इस तरह की गीदड़ भभकी या धमकियों से नहीं डरती. देश के खिलाफ षड्यंत्र करने वालों और आतंकी ताकतों के खिलाफ बोलती हूं और हमेशा बोलती रहूंगी. वह चाहे बेगुनाह जवानों के हत्यारे नक्सलवादी हो, टुकड़े टुकड़े गैंग हो या आठवें दशक में पंजाब में गुरुओं की पावन भूमि को देश से काटकर खालिस्तान बनाने का सपना देखने वाले विदेशों में बैठे हुए आतंकवादी हो.’

लोकतंत्र हमारे देश की सबसे बड़ी ताकत
उन्होंने आगे लिखा- ‘लोकतंत्र हमारे देश की सबसे बड़ी ताकत है, सरकार किसी भी पार्टी की हो, लेकिन देश की अखंडता, एकता और नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा और विचारों की अभिव्यक्ति का मौलिक अधिकार हमें बाबासाहेब अंबेडकर के संविधान ने दिया है. मैंने किसी भी जाति, मजहब, या समूह के बारे में कभी कोई अपमानजनक या नफरत फैलाने वाली बात नहीं की है.’

सोनिया गांधी को किया टारगेट!
कंगना ने सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘मैं कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया जी को भी याद दिलाना चाहूंगी कि आप भी एक महिला हैं, आपकी सास इंदिरा गांधी जी इसी आतंकवाद के खिलाफ अंतिम समय तक मजबूती से लड़ीं. कृपया पंजाब के अपने मुख्यमंत्री को निर्देश दें कि वह इस तरह के आतंकवादी, विघटनकारी और देशविरोधी ताकतों की धमकी पर तुरंत कार्रवाई करें. मैंने धमकी देने वालों के खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज की है. मुझे उम्मीद है कि पंजाब सरकार भी जल्द कार्रवाई करेगी.’

‘मैं ना डरी हूं ना कभी डरूंगी’
एक्ट्रेस ने आगे कहा कि देश मेरे लिए सर्वोपरि है, इसके लिए मुझे बलिदान भी देना पडे़ तो मुझे स्वीकार्य है, पर मैं ना डरी हूं ना कभी डरूंगी, देश के हित में, गद्दारों के खिलाफ खुलकर बोलती रहूंगी. पंजाब में चुनाव होने वाले है, इसके लिए कुछ लोग मेरी बात को संदर्भ के बिना प्रयोग कर रहे हैं, अगर मुझे भविष्य में कुछ भी होता है तो उसके लिए नफरत की राजनीति व बयानबाज़ी करने वाले ही पूरी तरह उत्तरदायी होंगे. इनसे करबद्ध निवेदन है कि चुनाव जीतने की राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के लिए किसी के प्रति नफरत ना फैलाएं. (news18.com)

रेणुका पंवार के नए गाने 'जाऊंगी पानी लेने’ ने मचाया धमाल
30-Nov-2021 9:57 AM (32)

 

रेणुका पंवार की पॉपुलैरिटी न सिर्फ हरियाणा में है बल्कि अब देश के अन्य हिस्सों में भी पहुंच चुकी है. रेणुका अपने गानों से अब तक लाखों लोगों के दिलों को जीत चुकी हैं. उनके गानों का इंतजार फैंस बड़ी ही बेसब्री से करते हैं. जैसे ही उनका कोई गाना रिलीज होता है वैसे ही सोशल मीडिया में वो गाना ट्रेंड करने लगता है. अब एक बार फिर उनका नया गाना धमाल मचा रहा है. रेणुका पंवार के नए गाने का नाम है “जाउंगी पानी लेने”. इस गाने के वीडियो को यूट्यूब पर जमकर देखा जा रहा है.

रेणुका पंवार के गाने को जमकर देख रहे हैं लोग

गौरतलब है कि रेणुका पंवार का यह गाना दो महीने पहले रिलीज हुआ था. रेणुका के “जाउंगी पानी लेने” गाने के व्हाइट हिल धाकड़ चैनल पर रिलीज किया गया है. इस गाने को अबतक 12 मिलियन से अधिक व्यूज मिल चुके हैं. इस गाने के लिरिक्स लिखे हैं राकेश ने, वहीं म्यूजिक दिया है अमन जय ने. वीडियो को शूट किया है साहिल संधू ने, तो इसे प्रोड्यूस किया है गुनबिर सिंह सिंधू और मनमोर्द सिंधू ने. इन दिनों शादी का सीजन चल रहा है, ऐसे में रेणुका पंवार का यह गाना बेहद सुना जा रहा है. यह एक तरह का मैरिज पार्टी सॉन्ग है.

‘52 गज का दामन’ गाने से हुई थीं फेमस

गौरतलब है कि रेणुका हरियाणा के बागपत के एक छोटे से कस्बे से उभरी हैं. उनके गाने को युवा बेहद पसंद करते हैं. पिछले साल उनका गाना ‘52 गज का दामन’ बेहद लोकप्रिय हुआ था. आज भी इस गाने बहुत सुना जा रहा है. अब तक इस गाने को सौ करोड़ से अधिक व्यूज मिल चुके हैं. इस गाने ने कई रिकॉर्ड बनाए हैं.

बेहद कम उम्र में ही उन्होंने हरियाणवी म्यूजिक इंडस्ट्री में अपनी खास जगह बना ली हैं. रेणुका अपने अधिकतर गानों में खुद भी एक्टिंग करती हैं. वो सपना चौधरी के साथ मिलकर कई हिट गाने दे चुकी हैं.

उनका ‘मोरनी’ गाना भी काफी हिट हुआ है. उस गाने के वीडियो में केय डी और श्वेता चौहान थीं. गाने में दोनों की केमेस्ट्री देखने लायक है. रेणुका पंवार के गाने हरियाणा और उत्तर प्रदेश के दर्शकों को बहुत पसंद आते हैं. उनका अपना अलग फैन बेस है. (news18.com)

सलमान खान ने टी-शर्ट को बनाया मास्क, लोग बोले- ‘भाई ने अमृत पी लिया है'
30-Nov-2021 9:56 AM (38)

सलमान खान और आयुष शर्मा की फिल्म ‘अंतिम’- द फाइनल ट्रुथ’ बीते शुक्रवार को रिलीज हुई थी. फिल्म में सलमान खान एक सिख पुलिस ऑफिसर की भूमिका में नजर आ रहे हैं. सलमान-आयुष के काम की लोग तारीफ भी कर रहे हैं. इसी बीच सलमान खान का एक वीडियो सोशल मीडिया में धड़ल्ले से वायरल हो रहा है. वीडियो में बॉलीवुड के दबंग हीरो अलग ही अंदाज में दिख रहे हैं. इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे भाईजान ने मास्क की जगह अपने टी-शर्ट को ही मास्क बना लिया.

फैंस को भाया सलमान का अंदाज 

इस वीडियो को पैपराजी विरल भयानी ने अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम हैंडल पर शेयर किया है. सलमान खान को महबूब स्टूडियो के बाहर स्पॉट किया गया. जब वो स्टूडियो से बाहर निकलने वाले थे, तो उन्हें अहसास हो गया था कि बाहर मीडिया के कैमरे उनका इंतजार कर रहे हैं, लिहाजा, स्टूडियो से बाहर निकलते समय उन्होंने मुंह को अपने टी-शर्ट से ढक लिया. बाद में उन्होंने मीडिया के सामने जमकर पोज दिए. जैसे ही यह वीडियो सोशल मीडिया में पोस्ट हुआ, देखते ही देखते वायरल हो गया. सलमान का यह अंदाज लोगों को भा गया. फैंस अपने चहते स्टार के इस वीडियो पर दिलचस्प कमेंट कर रहे हैं.

फैन ने कहा, ‘सलमान यंग होते जा रहे हैं’

सलमान खान इस वीडियो में बेहद हैंडसम लग रहे हैं. उन्हें देखकर लग रहा कि अब भी वो 30 साल के ही हैं.लग रहा है कि उन्होंने अपनी बढ़ती उम्र पर लगाम लगा दी है. ऐसा ही कमेंट एक सोशल मीडिया यूजर ने किया है, ‘सलमान ने अमृत पी लिया है, इनकी उम्र उलटी बढ़ रही है’. वहीं दूसरे यूजर ने कमेंट किया, “कौन-सी चक्की का आटा खाता है ये, 20 साल के लड़कों को भी कॉम्प्लेक्स दे सकता है.”  वहीं एक फैन ने अपने फेवरेट एक्टर की तारीफ करते हुए लिखा, “सलमान यंग होते जा  रहे हैं.”

सलमान-आयुष शर्मा की फिल्म ‘अंतिम’ बीते 26 नवंबर को रिलीज हुई थी. फिल्म को मिला-जुला रेस्पॉन्स मिला है. पहले दिन फिल्म की कमाई उम्मीद के मुताबिक बेहद कम रही. मगर वीकेंड पर फिल्म के बिजनेस में उछाल आया. वैसे सलमान के फैंस को उनका काम पसंद आया. बताया जा रहा है कि कुछ फैंस  थिएटर में पटाखे भी चलाए, मगर एक्टर ने फैंस से ऐसा न करने की अपील की. वहीं सलमान अब भी फिल्म के प्रमोशन में जुटे हुए हैं.

सलमान खान की एक के बाद एक करीब पांच फिल्में लाइनअप हैं, जो आने वाले दो साल के अंदर रिलीज होंगी. इनमें कई फिल्मों की शूटिंग खत्म हो चुकी है, तो कई फिल्मों की चल रही है. उनकी मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘टाइगर 3’ की तकरीबन शूटिंग पूरी हो चुकी है, जिसके बाद अब जल्द ही इस फिल्म का पैक-अप होने वाला है. (news18.com)

शाहरुख़ ख़ान को महिलाएँ इतना क्यों पसंद करती हैं
30-Nov-2021 9:03 AM (28)

-अपर्णा अल्लुरी

तुम लोग शाहरुख़ खान को इतना पसंद क्यों करते हो?

हाल ही में मैंने जब यह सवाल अपने कुछ दोस्तों से पूछा तो वे हैरान रह गए. शाहरुख़ को लेकर ऐसे सवाल भी पूछे जा सकते हैं, यह कभी उन्होंने सोचा ही नहीं था. मैंने भी ऐसे सवाल के बारे में कभी नहीं सोचा था. लेकिन एक नई किताब 'डेस्पेरटली सीकिंग शाहरुख़' ने मुझे इस सवाल पर सोचने को मजबूर कर दिया है.

दोस्तों ने कहा कि शाहरुख़ प्यारे लगते हैं. हीरो के तौर पर वह ऐसे दिखते हैं, जिनसे आप खुद को जोड़ सकते हैं. वह मज़ाकिया हैं. इंटरव्यू में साफ बात करते हैं. नाम और दाम का पीछा करने के अपने सफर को लेकर खुल कर बोलते हैं. झूठी विनम्रता नहीं दिखाते.

जब मैंने थोड़े और गहरे सवाल किए तो उन्होंने फिल्मों में किए गए उनके अलग-अलग रोल के बारे में थोड़ी और संजीदगी से सोचना शुरू किया. उनके जवाब थे कि कैसे उन्होंने कभी 'माचो' रोल नहीं किया. वे हमेशा संवेदनशील हीरो के तौर पर दिखे और जिन महिलाओं से प्रेम का दावा किया उनके प्यार में पूरी तरह डूबे नज़र आए.

मेरी एक दोस्त ने कहा कि यह सच है कि हम उन्हें महिलाओं से उनके इश्क़ की वजह से पसंद करते हैं. अपने इस अहसास से मेरी यह दोस्त खुद चकित थी .

लेखिका शरण्या भट्टाचार्य ने जब शाहरुख़ के दर्जनों महिला फैन्स से ये सवाल किए थे तो उन्हें भी ऐसे ही जवाब मिले थे. लेकिन यह बड़े आश्चर्य की बात थी कि शाहरुख़ की महिला प्रशंसको की जो दुनिया था, वो दरअसल आर्थिकअसमानता की कहानी कह रही थी.

'अनोखे सहयोगी शाहरुख़'
शरण्या लिखती हैं, "जब वे मुझे यह बता रही होती थीं कि शाहरुख़ ख़ान की ओर वो कब और कैसे मुड़ीं तो वे हमें यह भी बता रही होती थीं कि दुनिया ने उनका दिल कब, कैसे और क्यों तोड़ा? इन कहानियों में महिलाओं के उस दुनिया के सपने, चिंताएं और रोमांटिक पसंदगी का बखान था, जो हमेशा उन्हें कमतर बनाए रखती है.

लेखिका के सामने ये जवाब पिछले दो दशकों में उन तमाम सिंगल, शादीशुदा और इन दोनों स्थितियों के बीच की महिलाओं से उनकी मुलाकात, बातचीत और दोस्ती के दौरान सामने आए. इनमें हिंदू महिलाएं हैं. मुस्लिम और ईसाई भी. इनमें वो कामकाजी महिलाएं भी हैं जो वक्त के आगे हार मान चुकी हैं और कुछ में अब भी बेचैनी है. लेकिन एक चीज सबको जोड़ती है. और वह यह कि ये सारी महिलाएं शाहरुख़ की फैन हैं.

शाहरुख़ हमारी दुनिया में 1990 के दशक में आए. कोका-कोला, केबल टीवी उस दौर में एक नए युग का सबूत हुआ करता था. यह वह दौर था जब एक के बाद एक कई आर्थिक सुधारों ने भारत को एक नई दुनिया में पहुंचा दिया था. यह दुनिया आर्थिक उदारीकरण की थी.

शरण्या कहती हैं, "मैं उदारीकरण के बाद के दौर के बाद की महिलाओं की कहानी बताना चाहती थी और इस कोशिश में मुझे शाहरुख़ एक अनोखे सहयोगी के तौर पर दिखे. " उन्होंने अपनी इस कहानी को बयां करने का तरीका भी बताया.

वह 2006 के दौरान देश के पश्चिमी इलाक़े की स्लम बस्तियों में अगरबत्ती बनाने वाली महिलाओं के बीच सर्वे कर रही थीं. उन्होंने पाया कि ये महिलाएं अपनी मज़दूरी के बारे किए जाने वाले सवालों से बोर हो चुकी हैं.

लिहाजा एक ब्रेक के दौरान उन्होंने परिचय बढ़ाने के लिए उनसे बातचीत शुरू की. लेकिन मज़दूरी के बजाय यह पूछा कि हिंदी फिल्मों का कौन हीरो उन्हें सबसे ज्यादा पसंद है.

शरण्या कहती हैं, " जो चीज़ उन्हें सबसे ज्यादा ख़ुशी देती थी, उनके बारे में बातचीत करने के प्रति वे काफ़ी उत्सुक दिखीं."

यह सवाल झिझक तोड़ने के काफ़ी काम आया. शरण्या को पता चला कि सिर्फ़ इन महिलाओं को सिर्फ शाहरुख़ ही नहीं जोड़ते. बल्कि मज़दूरी और घरों की ज़िंदगी का संघर्ष भी उन्हें जोड़ता है.

सब शाहरुख़ की दीवानी थीं. मिडिल क्लास महिला से लेकर अमीर महिलाओं तक से बातचीत में एक चाह साफ़ उभर कर सामने आती थी. वह यह कि हमारे ज्यादातर लड़के और पुरुष पर्दे पर दिखने वाले शाहरुख़ ख़ान जैसे क्यों नहीं हो सकते.

शरण्या कहती हैं, " दरअसल महिलाएं शाहरुख़ को बना रही हैं- वे सभी महिलाएं उन्हें बनाने में लगी हैं. यह बनावट खुद महिलाओं की वास्तविकताओं और आकांक्षाओं पर आधारित है."

शाहरुख़ का नायिका के प्रति घोर समपर्ण यह बताता है कि जो पुरुष महिलाओं की परवाह करता है वह वास्तव में उन्हें ठीक से सुनता भी है.

महिलाओं के आदर्श पार्टनर
शाहरुख़ की कई भूमिकाओं की एक ख़ास पहचान है. इनमें हीरो अपनी क़िस्मत को लेकर चिंतित दिखता है. उनकी इन भूमिकाओं की इस खासियत ने उन्हें महिलाओं का एक आदर्श पार्टनर बना दिया, क्योंकि उन महिलाओं में शायद ही किसी की किस्मत उनके हाथ में थी. यहां महिलाओं को कुछ मिलता-जुलता दिखता है.

पर्दे पर शाहरुख़ जो किरदार निभा रहे थे, उनकी कमज़ोरी साफ़ दिखती थी. वे अक्सर रोने-धोने की भूमिकाओं में होते थे. बॉलीवुड में यह दुर्लभ था कि नायक रोता-धोता दिखे. इसका मतलब ये कि शाहरुख़ ने पर्दे पर कभी अपनी भावनाएं नहीं छिपाईं और न ही नायिकाओं की भावनाओं से बेपरवाह दिखे.

एक युवा मुस्लिम गारमेंट वर्कर ने कहा, " काश! मेरे पति मुझे उस तरह छूते या मुझसे उस तरह बात करते, जैसे "कभी खुशी, कभी गम" में शाहरुख़ ने काजोल से की थी. लेकिन मैं जानती थी कि ऐसा कभी नहीं होने वाला. मेरे पति का हाथ और मूड इतना रुखा होता था कि ऐसी उम्मीद ही बेमानी थी.

अपनी शादी से नाखुश गुज़रे ज़माने के एक राजघराने की महिला ने कहा कि वह अपने बेटे को एक "अच्छा आदमी" बनाना चाहती हैं. ऐसा आदमी जो रो सकता है और जिसके साथ पत्नियां प्यार और सुरक्षा का अहसास कर सकें. ठीक ऐसा ही अहसास तो शाहरुख़ खान पर्दे पर अपनी नायिकाओं को कराते हैं.

ऐसा नहीं है कि शाहरुख़ की दीवानी ये महिलाएं उनके हर रोल को स्वीकार किए बैठी हैं. जिन भूमिकाओं में वे महिलाओं का पीछा करते हैं या उनके ख़िलाफ़ हिंसा करते हैं, उन्हें वो रिजेक्ट भी करती हैं.

ये महिलाएं भले ही पर्दे पर निभाए गए शाहरुख़ के रोल के ग्लैमर या ड्रामा का आनंद लेती हों लेकिन उनके जेहन में ये चीजें ज्यादा देर तक नहीं टिकतीं. उनके जेहन में वो चीजें टिकी रहती हैं, जो छोटी लगती हैं या फिल्मों में अक्सर छिप जाती हैं .

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे शाहरुख़ की सबसे बड़ी हिट में से एक है और शायद बॉलीवुड की सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली रोमांटिक फिल्म. लेकिन शाहरुख़ की फैन एक लड़की की मां ने जो कहा, उस पर शायद ही मैंने कभी ध्यान दिया था . उन्होंने कहा, " मैंने पर्दे पर पहली बार कोई ऐसा हीरो देखा जो गाजर छीलते हुए घर की महिलाओं के साथ किचन में इतना वक्त दे रहा हो."

उनके लिए यह अद्भुत रोमांटिक दृश्य था. ऐसा नहीं है कि शाहरुख़ की प्रशंसक इन महिलाओं ने कामुकता या यौन आकर्षण की बात नहीं की. लेकिन उन्होंने इससे आगे भी ढेर सारी बातें कीं.

राहत का अहसास कराते शाहरुख़
शाहरुख़ इन महिलाओं को उनकी सुस्त जिंदगी से थोड़ा दूर ले जाते हैं. दिल टूटने या रोजाना की नाइंसाफी से गुजरते हुए शाहरुख़ का साथ उन्हें थोड़ी राहत का अहसास कराता है. वे शाहरुख़ से शादी करने के सपने पालती थीं. इसलिए नहीं कि वे बॉलीवुड स्टार हैं. बल्कि इसलिए कि वह दूसरों को समझने की कोशिश करते दिखते हैं.और दूसरे की भावनाओं को समझने या उसका ध्यान रखने वाला शख्स ही आपको काम करने, पैसे बचाने और कम से कम आपके सपनों को जिंदा रखने की इजाज़त देगा- चाहे इसका मतलब सिर्फ़ यही क्यों न हो कि आप शाहरुख़ की किसी अगली फ़िल्म को देखने के लिए सिनेमा हॉल तक जा सकें.

शाहरुख़ की प्रशंसकों में हर तरह की महिलाएं शामिल हैं- चाहे वे किशोर उम्र में झूठ बोल कर शाहरुख़ की फिल्म देखने के 'अपराध' में मां से थप्पड़ खाने वाली ब्यूरोक्रेट हों या फिर अपनी मेहनत की कमाई से भाई को कुछ पैसे देकर फिल्म हॉल तक पहुंचाने का अनुरोध करने वाली गारमेंट वर्कर. या फिर टीवी पर शाहरुख़ की फिल्म देखने के लिए पादरी से झूठ बोल कर लगातार चार रविवार को चर्च की प्रार्थना से गायब रहने वाली घरेलू सहायिका. इन सभी महिलाओं के लिए फिल्म देखने का वह सामान्य सा आनंद चुराई हुई आज़ादी की तरह था. जैसे किसी ने अपना कुछ पल जी लिया हो.

कुछ गरीब महिलाओं ने तो अपनी जिंदगी में काफ़ी बाद तक शाहरुख़ ख़ान की कोई फिल्म नहीं देखी थी लेकिन उन फिल्मों के गानों ने ही उन्हें उनका प्रशंसक बना दिया था. हालांकि इन महिलाओं के लिए इन गानों का आनंद लेना भी इतना आसान नहीं होता था.

शरण्या कहती हैं, " महिलाएं मस्ती कर सकें यह भी इस समाज में काफी मुश्किल काम है. कोई गाना सुनना या किसी एक्टर को देखने को भी अलग नजरिये से देखा जाता है. अगर कोई महिला कहे कि फलां एक्टर उसे पसंद है या फिर उसका लुक उसे भाता है तो उसके प्रति धारणा बनाए जाने की आशंका रहती है. "

जब शाहरुख़ गाड़ी की डिक्की में छिप गए
शरण्या लिखती हैं, भले ही ये महिलाएं बहुत आज़ादख़याल न हों लेकिन अपनी इन छोटी खुशियों और आनंद के लिए उन्होंने विद्रोह किया. बिस्तर के नीचे शाहरुख़ के पोस्टर छिपा कर, उनकी फिल्मों के गाने सुनकर और उन पर नाचकर उन्होंने इसे जाहिर किया. क्योंकि इन छोटी-छोटी बगावतों ने ही उन्हें अहसास कराया कि ज़िंदगी से उन्हें क्या चाहिए था.

मसलन, इस कहानी में जिस ब्यूरोक्रेट महिला का जिक्र किया गया है उन्होंने खुद अपना रास्ता बनाने का मंसूबा बांधा था ताकि उन्हें जिंदगी में दोबारा शाहरुख़ की कोई फिल्म देखने को लिए दूसरों से इजाज़त न लेनी पड़े.

एक युवा महिला की शादी तय करने की कोशिश चल रही थी. शाहरुख़ की ही फिल्म देखने के दौरान होने वाले पति से पता चला कि वह उनके फैन नहीं हैं. साथ में यह भी कि होने वाले पति को उनका शाहरुख का फैन भी होना भी पसंद नहीं है. रिश्ता नहीं हुआ क्योंकि लड़की भाग गई.

(अब वह लड़की फ्लाइट अटेंडेंट बन चुकी है. उसने वैसे ही लड़के से शादी की जो शाहरुख़ जैसा अहसास दिलाता है.)

शाहरुख़ ख़ान मेरी दोस्तों और मुझ जैसी अपेक्षाकृत ज्यादा सुविधासंपन्न और स्वतंत्र महिलाओं के लिए इस तरह का कोई ख़ूबसूरत वादा या वर्जित सपने की तरह नहीं थे. लेकिन जब मैंने यह किताब पढ़ी तब मुझे यह अहसास हुआ कि मैंने कभी अपनी मां और मौसियों को अपनी ख़ुशी हासिल करने के लिए की गई उस शांत बग़ावत को तारीफ के काबिल नहीं माना था. चुपचाप की जाने वाली यह बग़ावत हर शुक्रवार के लेट नाइट शो के लिए उन्हें सिनेमाघरों में पहुंचा देती थी. मुझे भी साथ ले जाया जाता था. शायद ही मुझे उस दौरान अपनी अच्छी किस्मत का अहसास था.

हालांकि फिर भी हमारे (इस कहानी में जिन महिलाओं का जिक्र हुआ है) अलग-अलग बचपन के बावजूद शाहरुख एक साझा सूत्र बने हुए हैं.

एक महिला ने बताया कि उन्होंने उनके इंटरव्यू देख कर अच्छी अंग्रेजी सीखी.

शरण्या कहती हैं कि शाहरुख़ अपने समय के एक स्तंभ हैं. हालांकि बॉलीवुड में उनकी एंट्री के बाद से लेकर अब तक काफी कुछ बदल चुका है.

"युवा महिलाएं शाहरुख़ से शादी नहीं करना चाहती हैं. वह वैसा बनना चाहती हैं. वे उनकी स्वायत्तता और उनकी सफलता चाहती हैं."

शरण्या भट्टाचार्य की किताब Desperately Seeking Shah Rukh: India's Lonely Young Women and the Search for Intimacy and Independence हार्पर कॉलिन्स इंडिया से प्रकाशित हुई है. (bbc.com)

साबरमती आश्रम में चरखे पर हाथ आजमाते नजर आए सलमान खान
30-Nov-2021 8:50 AM (29)

मुंबई, 29 नवंबर| बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान इन दिनों अपनी हालिया रिलीज फिल्म अंतिम : द फाइनल ट्रुथ के प्रमोशन के लिए अहमदाबाद में हैं। इस दौरान उन्होंने प्रसिद्ध साबरमती आश्रम का भी दौरा किया।

अपनी फिल्म के प्रमोशन के दौरान ही सलमान सोमवार को साबरमती स्थित महात्मा गांधी आश्रम पहुंचे, जहां उन्होंने चरखा भी चलाया। सलमान खान गांधी आश्रम की यह फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

हल्के हरे रंग की टी-शर्ट के साथ जीन्स पहने नजर आ रहे सुपरस्टार बेहद स्मार्ट लग रहे हैं। सामने आई तस्वीरों में दबंग स्टार को फर्श पर बैठे देखा जा सकता है, जिसमें वह चरखा कैसे काम करता है, उसे निहारते हुए दिखाई दे रहे हैं। तस्वीर में वह कताई करने की कोशिश कर रहे हैं।

सलमान गेस्ट बुक में एक खास मैसेज भी लिखते नजर आए।

अंतिम : द फाइनल ट्रुथ दो साल के लंबे इंतजार के बाद सिल्वर स्क्रीन पर आ चुकी है और दर्शक भी सलमान खान की वापसी को लेकर उत्साहित हैं। मेगास्टार को इससे पहले राधे फिल्म में देखा गया था, जिसकी हाइब्रिड रिलीज ओटीटी पर हुई थी।

सलमान खान, आयुष शर्मा और महिमा मकवाना अभिनीत अंतिम : द फाइनल ट्रुथ महेश मांजरेकर द्वारा निर्देशित, सलमा खान द्वारा निर्मित और सलमान खान फिल्म्स द्वारा प्रस्तुत की गई है। (आईएएनएस)

अजय देवगन-अम‍िताभ बच्‍चन की MayDay का नाम बदलकर हुआ RUNWAY 34, सामने आया FIRST LOOK
29-Nov-2021 7:31 PM (41)

अजय देवगन एक बार फिर न‍िर्देशक की कुर्सी पर बैठने जा रहे हैं. अजय देवगन ने हाल ही में अपनी फिल्‍म ‘मे-डे’ की घोषणा की थी, ज‍िसमें वह पहली बार अमिताभ बच्‍चन और रकुल प्रीत सिंह को डायरेक्‍ट करने जा रहे हैं. लेकिन अब अजय देवगन की इस फिल्‍म ‘MayDay’ का नाम बदलकर ‘रनवे 34’ हो गया है. अपनी फिल्‍म का नाम बदलने की घोषणा के साथ ही अजय ने फिल्‍म के तीनों अहम क‍िरदारों का फर्स्‍ट लुक भी जारी कर द‍िया है. अजय ने अपनी फिल्‍म के नाम के बदलाव के साथ ही इस फिल्‍म की र‍िलीज डेटी का भी ऐलान कर द‍िया है.

अजय देवगन ने ल‍िखा, ‘मे-डे अब रनवे 34 हो गई है. ये थ्र‍िलर सच्‍ची घटनाओं से प्रेरित है जो मेरे द‍िल के बेहद करीब हैं और इसके कई कारण हैं.’ अजय ने अपनी फिल्‍म के नए पहले पोस्‍टरों के साथ एक नोट भी शेयर किया है. इसमें ल‍िखा है, ‘ अपनी आंखे बंद कीज‍िए और उस सोचिए क‍ि हम सभी के जीवन में कभी न कभी वो पल जरूर आता है, जब हमें लगता है कि हम दुनिया जीत लेंगे.. और दूसरे ही पल हम बेहद हताश महसूस करते हैं.’

अजय ने आगे ल‍िखा, ‘दरअसल यही वह भावनाएं हैं जो ‘रनवे 34′ से जुड़ी हैं. इसमें उतार है, चढ़ाव है, सबकुछ स्‍क्रीनप्‍ले के भीतर है.’ अजय ने कहा है कि ये एक ऐसी स्‍क्र‍िप्‍ट थी, जिसे वह जाने नहीं दे सकते थे और उन्‍हें इसे बनाना ही था.

अजय देवगन की ये फिल्‍म 2022 की ईद पर यानी 29 अप्रैल को र‍िलीज हो रही है. वैसे तो अक्‍सर ईद पर सलमान खान की फिल्‍मों का इंतजार होता है, लेकिन इस बार ये बाजी अजय देवगन मार ले गए. इस फिल्‍म में अम‍िताभ बच्‍चन और रकुलप्रीत के अलावा कैरी म‍िनाती, बोमन ईरानी, अकांक्षा स‍िंह, अंगीरा धर जैसे कलाकार भी नजर आएंगे. (news18.com)

7-8-9 दिसंबर से गूंजेगी शहनाई, मेहमानों के लिए बुक हुए 45 होटल
29-Nov-2021 3:31 PM (38)

 

कैटरीना कैफ और विक्की कौशल भले अपनी शादी की ऑफिशियली घोषणा न करें, लेकिन दोनों की शादी को लेकर आने वाली खबरें ये कहती हैं कि खबर पक्की है. विक्की और कैटरीना की शादी को लेकर अब एक नया अपडेट सामने आया है. इस अपडेट के बाद ये सवाल उठ रहा है कि आखिर क्यों विक्की कौशल की बहन ने ये कहा कि शादी की खबर सिर्फ अफवाह है? राजस्थान में दोनों शादी के बंधन में बंध रहे हैं और राजस्थान के सवाईमाधोपुर में शाही शादी के सभी इंतजाम पूरे हो गए हैं. आने वाले मेहमानों को कोई भी परेशानी न हो इसके लिए 8-10 नहीं बल्कि 45 होटल्स का इंतजाम किया गया है.

40 से ज्यादा होटल बुक
वेडिंग वेन्यू से लेकर मेहमानों के लिए होटल्स की बुकिंग तक काफी डिटेल्स मीडिया में आ चुकी हैं. लेकिन अब ईटाइम्स की एक रिपोर्ट्स में रणथंभौर के सोर्सेज ने बताया गया है कि कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी के लिए 40 से ज्यादा होटल्स को बुक किया गया है.

7,8,9 तीन दिन चलेगा समारोह 
बताया जा रहा है कि 7 दिसंबर से यहां मेहमानों का आना-जाना शुरू हो जाएगा. कैटरीना और विक्की ये नहीं चाहते हैं कि शादी में किसी भी तरह की कोई दिक्कत हो, इसके एक से बढ़कर एक इंतजाम की व्यवस्था की गई है.

सलमान खान होंगे शादी में शामिल!
रिपोर्ट के मुताबिक, सलमान खान भी इस शादी में शामिल हो सकते हैं. बताया जा रहा है कि 7-8 को नहीं लेकिन 9 दिसंबर को वह इस शादी में शामिल हो सकते हैं.

ये है गेस्ट LIST
हाल ही में गेस्ट की एक लिस्ट सामने आई थी, जिसमें कहा गया था कि शशांक खैतान, करण जौहर, फराह खान, वरुण धवन, कियारा आडवाणी, सिद्धार्थ मल्होत्रा, कबीर खान और अन्य बॉलीवुड के टॉप सेलेब्स के साथ क्रिकेटर विराट कोहली और अनुष्का शर्मा भी इस शादी में शामिल होंगी. बताया जा रहा है कि रणथंभौर में होटल्स ज्यादा बड़े नहीं हैंय इसलिए कई बॉलीवुड सिलेब्स के रुकने के लिए 40 से ज्यादा होटल बुक किए गए हैं.

शादी में शामिल होंगे 200 मेहमान
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कैटरीना और विक्की की टीमें उनकी एयर टिकट की बुकिंग और शादी में शामिल होने के लिए आने वाले सभी मेहमानों के लिए रहने का प्रबंध करने में व्यस्त हैं. रिपोर्ट के अनुसार विक्की-कैटरीना की शादी में करीब 200 मेहमान शामिल होने वाले हैं.

शादी की खबरों के बहन ने कहा था अफवाह
विक्की कौशल और कैटरीना कैफ की शादी को लेकर एक्टर की कजिन सिस्टर डॉ. उपासना वोहरा ने चौंकाने वाला खुलासा किया था. उन्होंने दो टूक कहा था कि दोनों की शादी को लेकर जो भी खबर आ रही है, वह सिर्फ और सिर्फ अफवाह है. भाई की शादी की खबरों पर उन्होंने कहा कि मीडिया में खबरें कि दिसंबर में दोनों शादी के बंधन में बंध रहे हैं. शादी तो फिलहाल नहीं हो रही ये सिर्फ और सिर्फ अफवाह है. उन्होंने कहा कि हाल ही में मेरी भैया से बात हुई हैं. अगर ऐसा कुछ होता तो मुझे जरूर बताते. (news18.com)

'अतरंगी रे' का पहला गाना OUT, पति की सगाई में 'चका चक' झूमी रिंकू
29-Nov-2021 3:29 PM (35)

 

‘अतरंगी रे’ का पहला गाना आज रिलीज हो गया है. सारा अली खान, अक्षय कुमार और धनुष स्टारर फिल्म ‘अतरंगी रे’ पिछले काफी समय से सुर्खियों में है. फिल्म का पहला गाना ‘चका चक’ यूट्यूब पर रिलीज कर दिया गया है. गाने की रिलीज डेट के बारे में उन्होंने सारा अली खान ने रविवार को जानकारी दी थी.  ‘चका चक’ गाने को सारा और धनुष पर फिल्माया गया है. गाने में सारा मजेदार डांस करती दिखाई दे रही हैं.

गाने की शुरुआत में (रिंकू)  धनुष (विशु बाबू) से कहती दिखाई दे रही हैं कि वो देश की पहली बीवी होंगी जो अपने पति की सगाई में बेहद खुश है. इसके बाद सारा हरी साड़ी में ‘चका चक’ डांस करती नजर आ रही हैं.

इस गाने को अपनी आवाज श्रेया घोषाल ने दी है. गाने के बोल इर्शाद कामिल ने लिखे हैं और म्यूजिक हीरल विराडिया का है. टी सीरीज के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर गाने को रिलीज किया गया है, जिसने कुछ ही देर में लाखों व्यूज बटोर लिए हैं.

हाल ही में फिल्म का अक्षय कुमार, सारा अली खान और धनुष की फिल्म ‘अतरंगी रे’ का ट्रेलर जारी किया गया है.  फिल्म के ट्रेलर में बिहार की एक लड़की रिंकू और तमिल लड़के विशू की. विशू को जबरन पकड़कर रिंकू से साथ पकड़वा विवाह करवा दिया जाता है. लेकिन रिंकू तो शहजाद यानि अक्षय से प्यार करती है. तीनों की प्रेम कहानी किस-किस मोड़ से आगे बढ़ेगी ये आपको अतरंगी रे में देखने को मिलेगा.

फिल्म में सारा अली खान का नाम रिंकू है. वहीं, धनुष फिल्म में विशु के किरदार में दिखेंगे. अक्षय और सारा इस फिल्म में पहली बार आनंद एल राय के साथ काम कर रहे हैं. वहीं, धनुष ने आनंद की फिल्म रांझणा से बॉलीवुड डेब्यू किया था. (news18.com)

कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी के लिए बुक हुए 45 होटल, 7-9 दिसंबर को है मैरिज
29-Nov-2021 3:22 PM (26)

नई दिल्ली : कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी को लेकर लगातार खबरें आ रही हैं. कहा जा रहा है कि बॉलीवुड का यह स्टार जोड़ा 7-9 दिसंबर के बीच राजस्थान के रणथम्भोर में विवाह बंधन में बंधेगा. दिलचस्प यह है कि इस शादी को लेकर Katrina Kaif और Vicky Kaushal ने अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है, न ही इस बात को माना है. वहीं उनकी शादी के वेन्यू और मेहमानों को लेकर लगातार खबरें आने का सिलसिला जारी है. अब मीडिया रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी के लिए रणथम्भोर में 45 होटल बुक किए गए हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में जानकारी दी गई है कि रणथम्भोर में होटल ज्यादा बढ़े नहीं हैं, इस वजह से लगभग 45 होटल बुक किए गए हैं. यह होटल शादी में शरीक होने के लिए आने वाले मेहमानों के लिए हैं क्योंकि शादी का फंक्शन तीन दिन तक चलना है, तो इसलिए मेहमानों के लिए शानदार बंदोबस्त किए गए हैं. यह भी बताया जा रहा है कि स्थानीय होटलों ने कोई दूसरी बुकिंग लेनी बंद कर दी है और यह होटल पूरी तरह से अपनी सेवाओं कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की शादी में आने वाले मेहमानों को ही देंगे.

दिलचस्प यह है कि Katrina Kaif और Vicky Kaushal की शादी को लेकर जहां हर तरफ हंगामा मचा हुआ है, वहीं दोनों ही परिवारों ने इसे लेकर चुप्पी साध रखी है. इस तरह शादी को लेकर पूरी तरह से सस्पेंस बरकरार है. (ndtv.in)
 

KBC के 21 साल का सफर देख नम हुईं अमिताभ बच्चन की आंखें, 1000वें एपिसोड पर बोले- 'खेल अभी खत्म नहीं हुआ'
29-Nov-2021 12:32 PM (36)

 

‘कौन बनेगा करोड़पति’ पिछले 21 सालों से लोगों को उनते ज्ञान के बल पर लखपति और करोड़पति बना रहा है. कई लोगों के सपने इस शो से सकार हुए हैं. घर, गाड़ी, माता-पिता के इलाज और न जाने कौन-कौन सी ख्वाहिशों के साथ कंटेस्टेंट्स यहां पहुंचे और सवालों को जवाब देकर शो के सफर को 21 साल का पूरा कर दिया. शो के होस्ट अमिताभ बच्चन शो के किंग साबित हुए. उन्होंने अपनी सहजता से शो को लोकप्रियता की ऊंचाइयों तक पहुंचा दिया. शो जल्द एक हजार एपिसोड पूरे करने जा रहा है. इस खास मौके पर अपनी 21 साल के सफर को देख बिग बी की आंखे नम हो गईं.

नम हुईं बिग बी की आंखें
‘कौन बनेगा करोड़पति 13’ हर सीजन की तरह हिट है. शो के एक हजार एपिसोड पूरे होने पर अमिताभ बच्चन अपने परिवार को शामिल करने जा रहे हैं. शो में बेटी श्वेता बच्चन नंदा और उनकी बेटी नव्या नवेली नंदा पहुंचनी वाली हैं. शो का एक प्रोमो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें बिग बी की आंखे नम होती नजर आ रही हैं.

अमिताभ बोले- ऐसा लग रहा है जैसे पूरी दुनिया बदल गई
वीडियो को कुछ देर पहले सोनी टीवी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया गया है. वीडियो में श्वेता और नातिन नव्या का बिग बी स्वागत करते हैं और कहते हैं मौका खास था, इसलिए सोचा परिवार को शामिल किया जाना चाहिए. श्वेता, बिग बी से पूछती हैं, ‘पापा मैं पूछना चाहती हूं कि यह 1000वां एपिसोड है तो आपको कैसा लग रहा है?’ अमिताभ कहते हैं, ‘ऐसा लग रहा है जैसे पूरी दुनिया बदल गई.’ इसके बाद 21 साल की कहानी को दुनिया के सामने पेश किया गया.

शुक्रवार होगा और शानदार
वीडियो के कैप्सन में लिखा है, ‘चेहरे की मुस्कान, आंखों में खुशी के आंसू, ढेर सारे ज्ञान और आप सभी के प्यार के साथ केबीसी पूरे कर रहा है अपने 1 हजार एपिसोड, इस हसीन पल में भावुक हुए अमिताभ बच्चन सर. देखिए इस पूरी जर्नी की एक झलक, इस पूरे एपिसोड को देखना मत भूलिएगा. कौन बनेगा करोड़पति के शानदार शुक्रवार एपिसोड में, इस शुक्रवार रात 9 बजे सिर्फ सोनी पर.’ यहां देखें वीडियो-

खेल अभी खत्म नहीं हुआ है
वीडियो में पहले करोड़पति हर्षवर्धन नवाठे के साथ-साथ पहली महिला करोड़पति और पहले जूनियर करोड़पति को भी दिखाया गया है. बताया गया है कि कैसे साल 2000 में 3 जुलाई को शुरू हुआ ये शो आज लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन गया है. इस भावुक वीडियो को देख आखिर में अमिताभ बच्चन कहते हैं कि ‘…खेल को आगे बढ़ाते हैं… क्योंकि खेल अभी खत्म नहीं हुआ है… है कि नहीं.’ (news18.com)

सलमान-आयुष का तीसरे दिन चला जादू, इतनी हुई कमाई
29-Nov-2021 12:31 PM (56)

‘अंतिम- द फाइनल ट्रुथ’ का तीसरे दिन जादू बॉक्स ऑफिस पर तीसरे दिन देखने को मिला. सलमान खान, आयुष शर्मा और महिमा मकवाना की फिल्म की दो दिन की धीमी शुरूआत के बाद तीसरे दिन रफ्तार देखने के मिली. फिल्म में सलमान खान पुलिस वाले के किरदार में हैं, जबकि आयुष शर्मा गैंगस्टर बने हैं. इसका निर्देशन महेश मांजरेकर ने किया है.

तीसरे दिन 7.50-7.75 करोड़ का बिजनेस 
‘अंतिम- द फाइनल ट्रुथ’ को पहले और दूसरे दिन की स्लो शुरुआत के बाद तीसरी दिन फिल्म ने रफ्तार पकड़ी. शुक्रवार को 4.50 करोड़ की कमाई की थी. तो वहीं, दूसरे दिन यानी शनिवार को फिल्म ने 5.50 करोड़ का कारोबार किया था. बॉक्स ऑफिस इंडिया डॉट कॉम के मुताबिक, रविवार यानी तीसरे दिन फिल्म ने 7.50-7.75 करोड़ का बिजनेस किया है.

अब तक 18 करोड़ का बिजनेस 
मतलब शुक्रवार और शनिवार के मुकाबले रविवार को इसकी कमाई में करीब 40% का ग्रोथ देखने को मिला. ‘अंतिम’ मुंबई और हैदराबाद में शानदार बिजनेस कर रही है. कुल कमाई की बात करें तो इसने अभी तक 18 करोड़ का बिजनेस कर लिया है.

क्रिटिक्स से मिला अच्छा रिस्पॉन्स 
सलमान खान और आयुष शर्मा की फिल्म ‘अंतिम’ को क्रिटिक्स से भी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. फिल्म में सलमान का एक बिल्कुल अलग अवतार देखने मिल रहा है, जो एक शांत दिमाग वाला सिख पुलिस वाला है, जो अपना आपा नहीं खोता है, लेकिन चीजों को एक अलग तरीके से संभालता है, जो कि उनके अन्य कैरेक्टर्स के अतीत में भी रहा है.

एक्शन अवतार में सलमान और आयुष
अपने एक्शन सीन्स से दर्शकों का दिल जीतते आए सलमान खान एक बार फिर एक्शन अवतार में नजर आ रहे हैं. खास बात ये है कि फिल्म के लिए उनके जीजा आयुष शर्मा ने भी पूरी तैयारी की है, जो कि फिल्म में साफ नजर आ रही. ‘लव यात्री’ की तुलना में वह सिर्फ शारीरिक तौर पर ही नहीं, एक अभिनेता के तौर पर भी वह फिल्म में मंझे हुए नजर आ रहे हैं. यही नहीं, महिमा मकवाना भी फिल्म का एक बड़ा सरप्राइज हैं. (news18.com)

"मेरा काम हो गया, अलविदा..." 2 महीने में 12 शो रद्द होने के बाद बोले स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फ़ारुक़ी
29-Nov-2021 9:54 AM (60)

 

-माया शर्मा, नेहाल किदवई

बेंगलुरु: दक्षिणपंथी समूहों की धमकियों के कारण पिछले दो महीनों में कम से कम 12 शो रद्द होने के बाद कॉमेडियन मुनव्वर फ़ारूक़ी ने आज संकेत दिया कि वह अब और शो नहीं कर सकते. आज भी बेंगलुरु में उनका एक निर्धारित शो बेंगलुरु पुलिस के हस्तक्षेप के बाद रद्द कर दिया गया. पुलिस ने लॉ एंड ऑर्डर की समस्या की हवाला देकर शो के आयोजकों से शो रद्द करने को कहा था.इसके बाद उनका निराशा भरा बयान सामने आया है. 

इतना ही नहीं, पुलिस ने आयोजकों को लिखी चिट्ठी में फ़ारूक़ी को 'विवादित शख्स' भी करार दिया. इसी साल के शुरुआत में मध्य प्रदेश में एक शो में हिन्दू देवी देवताओं पर कथित टिप्पणी की वजह से फ़ारूक़ी को करीब महीने भर जेल में रहना पड़ा था. बाद में हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद उनकी रिहाई हो सकी थी.

शो रद्द होने के बाद आज दोपहर एक इंस्टाग्राम पोस्ट में  मुनव्वर फ़ारूक़ी ने कहा, "नफ़रत जीत गई, कलाकार हार गया. मेरा काम हो गया, अलविदा.. अन्याय."
"विवादित चेहरा", बेंगलुरु पुलिस बोली रद्द करो मुनव्वर फारुकी का शो, जानें- क्यों?

हालांकि, उनके कुछ प्रशंसकों ने उनसे शो बंद न करने का अनुरोध किया. संगीतकार मयूर जुमानी ने पोस्ट किया, "नहीं, आप छोड़ नहीं रहे हैं. हम आपको ऐसा नहीं करने देंगे."
आयोजक गुड शेफर्ड ऑडिटोरियम को लिखे एक पत्र में, बेंगलुरु पुलिस ने फ़ारूक़ी के शो "डोंगरी टू नोव्हेयर" का उल्लेख किया और कहा कि वह एक "विवादास्पद व्यक्ति" हैं. बेंगलुरु में हिंदू जागरण समिति के मोहन गौड़ा ने भी कहा कि वे इस शो को आयोजित नहीं होने देंगे.

विहिप-बजरंग दल का रायपुर प्रशासन को अल्‍टीमेटम, 'कॉमेडियन मुनव्‍वर फारुखी के शो को इजाजत न दें वरना...'
इसके बाद, इंस्टाग्राम पोस्ट में फ़ारूक़ी ने कहा कि उन्होंने बेंगलुरु कार्यक्रम के लिए 600 से अधिक टिकट बेचे थे, लेकिन "बर्बरता की धमकी" के कारण शो रद्द कर दिया गया है.

फ़ारूक़ी ने लिखा, "आज बेंगलुरु शो कैंसिल हो गया (स्थल पर तोड़फोड़ की धमकी के तहत). हमने 600+ टिकट बेचे थे. महीने पहले मेरी टीम ने दिवंगत पुनीत राजकुमार सर के संगठन को चैरिटी के लिए बुलाया था, जिसे हम इस शो से जेनरेट करने जा रहे थे. हम सहमत हुए थे कि महान संगठन द्वारा सुझाए गए चैरिटी के नाम पर शो के टिकट नहीं बेचेंगे."

हास्य अभिनेता ने लंबे इंस्टाग्राम पोस्ट में कहा, "मजाक के लिए मुझे जेल में डाला गया लेकिन मैंने अपना शो कभी रद्द नहीं किया. इसमें कुछ भी समस्या नहीं थी. यह अनुचित है. इस शो को भी भारत में धर्म से परे जाकर लोगों का प्यार मिला है. क्या यह अनुचित है. हमारे पास शो का सेंसर सर्टिफिकेट भी है और शो में स्पष्ट रूप से कोई समस्या नहीं थी. हमने पिछले दो महीनों में 12 शो आयोजन स्थल और दर्शकों की धमकी के कारण रद्द किए हैं." उन्होंने लिखा, "... मुझे लगता है कि यह अंत है. मेरा नाम मुनव्वर फ़ारुक़ी है और यह मेरा समय है. आप लोग अद्भुत दर्शक रहे हैं. अलविदा, मेरा काम हो गया."

इस महीने की शुरुआत में फारूकी ने NDTV को बताया था कि उनके कंटेंट में कुछ भी समस्या नहीं है. उन्होंने कहा था कि ड्राइवर, वालंटियर और गार्ड सहित 80 लोग एक शो से रोजी-रोटी कमाते हैं. उन्होंने कहा, 'मैं कभी-कभी सोचता था कि शायद मैं गलत हूं, लेकिन जो हुआ उसके बाद मैं समझ गया कि कुछ लोग इसका राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं. (ndtv.in)

52वें आईएफएफआई में प्रसून जोशी को मिला 'फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर' अवॉर्ड
29-Nov-2021 8:50 AM (37)

पणजी, 28 नवंबर| प्रसिद्ध गीतकार और रचनात्मक लेखक प्रसून जोशी ने रविवार को कहा कि यदि सभी वर्गो के लिए अपनी कहानियां बताने के लिए कोई मंच नहीं होता, तो भारतीय सिनेमा में समृद्ध विविधता नहीं दिखाई देती। भारत के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 52वें संस्करण के समापन समारोह में 'फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर' पुरस्कार से सम्मानित होने के बाद प्रख्यात गीतकार ने 75 क्रिएटिव माइंड्स के माध्यम से ऐसा मंच प्रदान करने के प्रयास के लिए आईएफएफआई की सराहना की।

उन्होंने कहा, आईएफएफआई एक अवार्ड शो से ज्यादा रहा है, यह एक त्योहार रहा है। मुझे लगता है कि ये 75 क्रिएटिव माइंड देश के लिए जो कर सकते हैं, वह वास्तव में मुझे आशा देता है।

यह बताते हुए कि वह उत्तराखंड के एक छोटे से शहर से हैं, प्रसिद्ध लेखक ने कहा, मैं जानता हूं कि किसी छोटे शहर से आने वाले किसी व्यक्ति के लिए सिनेमा का अनुभव प्राप्त करना कितना मुश्किल होता है।

जोशी ने कहा, हमारे पास इस देश में जाने के लिए बहुत सारे शानदार दिमाग हैं जो महान फिल्में बनाना चाहते हैं।

यह बताते हुए कि वह भारतीय सिनेमा के भविष्य के बारे में बहुत आशान्वित हैं, जोशी ने कहा, इस देश में हमारे पास जो विविधता है वह वास्तव में अद्भुत है, लेकिन अगर हमें विविधता के लिए एक मंच नहीं मिलेगा, तो यह विविधता हमारे सिनेमा में प्रतिबिंबित नहीं होगी। यह केवल तभी प्रतिबिंबित होगा, जब ये सभी लोग जिन्हें हमने देश के विभिन्न हिस्सों से आते हुए देखा है, अपनी कहानियां सुनाना शुरू कर दें।"

इससे पहले केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने प्रसिद्ध गीतकार और रचनात्मक लेखक को 'वर्ष की फिल्म व्यक्तित्व' पुरस्कार प्रदान किया। (आईएएनएस)

धनुष ने ब्रिक्स फिल्म समारोह में 'असुरन' के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता
29-Nov-2021 8:45 AM (37)

 

पणजी, 28 नवंबर| निर्देशक वेत्रिमारन की तमिल फिल्म 'असुरन' में अभिनेता धनुष के शानदार प्रदर्शन ने उन्हें ब्रिक्स फिल्म महोत्सव में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार दिलाया, जो भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के 52वें संस्करण के साथ आयोजित किया गया था, जो रविवार को यहां समाप्त हुआ। दिलचस्प बात यह है कि धनुष ने इस साल की शुरूआत में इसी फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीता था।

जहां धनुष को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता चुना गया, वहीं लारा बोल्डोरिनी को ब्राजील की फिल्म 'ऑन व्हील्स' में उनके प्रदर्शन के लिए उत्सव में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (महिला) से सम्मानित किया गया।

सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार दो फिल्मों - दक्षिण अफ्रीकी फिल्म 'बराकत' और रूसी फिल्म 'द सन एबव मी नेवर सेट्स' द्वारा साझा किया गया था। 'बराकत' का निर्देशन एमी जेफ्ता ने किया है, जबकि रूसी फिल्म का निर्देशन हुसोव बोरिसोवा ने किया है।

चीनी निर्देशक यान हान को समारोह में उनकी फिल्म 'ए लिटिल रेड फ्लावर' के लिए स्पेशल मेंशन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

यह पहली बार है, जब आईएफएफआई के साथ ब्रिक्स फिल्म महोत्सव का आयोजन किया गया है। ब्रिक्स महोत्सव में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका की फिल्मों ने भाग लिया था। (आईएएनएस)

 

जय भीम : पुलिस हिरासत में कितनी मौतें और इन मौतों पर क्या कहता है क़ानून?
28-Nov-2021 1:01 PM (42)

-अनघा पाठक

गहने चोरी करने के एक मामले के अभियुक्त की पुलिस हिरासत में पिटाई होने से मौत हो जाती है. इसके बाद पुलिस इस मौत को छिपाने की कोशिश करती है और फिर न्याय हासिल करने की एक लंबी लड़ाई शुरू होती है.

कुछ दिन पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ हुई फिल्म इसी कहानी पर आधारित है. और रिलीज़ के बाद से ये फिल्म हर जगह धूम मचा रही है.

फ़िल्म एक सच्ची घटना पर आधारित है. बीते साल अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद आम लोग भी "पुलिस बर्बरता" के बारे में जानने समझने लगे हैं.

पुलिस के अत्यधिक बल प्रयोग से काले शख़्स जार्ज फ्लॉयड की मौत हो गई थी. पुलिस हिरासत के दौरान उत्पीड़न के तमाम मामले सामने आते रहे हैं.

लेकिन जिस तरह इस फिल्म में पुलिस हिरासत के दौरान अभियुक्त की मौत को दर्शाया गया है, क्या इसी अंदाज़ में पुलिस हिरासत में अभियुक्त की मौत हो सकती है?

अगर ऐसा है तो पिछले कुछ सालों ऐसी कितनी मौतें हुई हैं? हिरासत में मौत होने का मतलब क्या है और ऐसे मामलों में क़ानून क्या कहता है, ऐसी मौतों पर पुलिस प्रशासन का रवैया क्या होता है?

इन्हीं सवालों की पड़ताल करती है ये रिपोर्ट.

सरल शब्दों में कहें तो पुलिस हिरासत में किसी अभियुक्त की मौत को 'हिरासत में मौत' का मामला माना जाता है. चाहे वह अभियुक्त रिमांड पर हो या नहीं हो, उसे हिरासत में लिया गया हो या केवल पूछताछ के लिए बुलाया गया हो.

उस पर कोई मामला अदालत में लंबित हो या वह सुनवाई की प्रतीक्षा कर रहा हो, पुलिस की हिरासत के दौरान अभियुक्त की मौत हो तो उसे 'हिरासत में मौत' माना जाता है.

इसमें पुलिस हिरासत के दौरान आत्महत्या, बीमारी के कारण हुई मौत, हिरासत में लिए जाने के दौरान घायल होने एवं इलाज के दौरान मौत या अपराध कबूल करवाने के लिए पूछताछ के दौरान पिटाई से हुई मौत शामिल है.

पुलिस हिरासत में उत्पीड़न और मौत के मामलों का ज़िक्र भारत के मुख्य न्यायाधीश एन. वी रमन्ना ने भी किया है.

अगस्त, 2021 में उन्होंने एक संबोधन में कहा, "संवैधानिक रक्षा कवच के बावजूद अभी भी पुलिस हिरासत में शोषण, उत्पीड़न और मौत होती है. इसके चलते पुलिस स्टेशनों में ही मानवाधिकार उल्लंघन की आशंका बढ़ जाती है."

उन्होंने यह भी कहा, "पुलिस जब किसी को हिरासत में लेती है तो उस व्यक्ति को तत्काल क़ानूनी मदद नहीं मिलती है. गिरफ़्तारी के बाद पहले घंटे में ही अभियुक्त को लगने लगता है कि आगे क्या होगा?"

सुप्रीम कोर्ट ने 1996 में डीके बसु बनाम बंगाल और अशोक जौहरी बनाम उत्तर प्रदेश मामले में फ़ैसला सुनाते हुए कहा था कि हिरासत में मौत या पुलिस की बर्बरता "क़ानून शासित सरकारों में सबसे ख़राब अपराध" हैं.

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद हिरासत में हुई मौतों का विवरण दर्ज करने के साथ-साथ संबंधित लोगों को इसकी जानकारी देना अनिवार्य कर दिया गया.

शीर्ष अदालत ने मौत के इन मामले में नियमों का पालन करने का निर्देश दिया.

पुलिस की बर्बरता को लेकर एक गैर सरकारी संगठन ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पत्र भी लिखा था. और पुलिस की बर्बरता और पुलिस हिरासत में हुई मौतों की गंभीरता को देखते हुए शीर्ष अदालत ने भी स्वत: संज्ञान लिया था.

तब सर्वोच्च अदालत ने राज्यों को नोटिस भेजकर पूछा था कि इस मामले में राज्य सरकारें क्या कर रही हैं?

इस फैसले में, सुप्रीम कोर्ट ने किसी भी व्यक्ति की गिरफ़्तारी के दौरान पुलिस के व्यवहार को लेकर नियम निर्धारित किए थे.

ये नियम सिर्फ पुलिस पर ही नहीं बल्कि रेलवे, सीआरपीएफ, राजस्व विभाग सहित उन सभी सुरक्षा एजेंसियों पर लागू होते हैं जो अभियुक्तों को पूछताछ के लिए गिरफ़्तार कर सकती हैं.

क्या क्या नियम हैं?
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 'बिना वारंट के किसी व्यक्ति को गिरफ़्तार करने और चोरी के मामलों में पूछताछ के दौरान उत्पीड़न के कई मामले देखने को मिले हैं. अक्सर इसी पिटाई से अभियुक्त की मौत हो जाती है. यदि किसी व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मृत्यु हो जाती है, तो ऐसी मौतों को छिपाया जाता है या पुलिस हिरासत से रिहा होने के बाद व्यक्ति की मृत्यु को दिखाया जाता है.'

'यदि पीड़ित परिवार शिकायत दर्ज कराने की कोशिश करता है तो पुलिस शिकायत दर्ज नहीं करती क्योंकि पुलिस एक - दूसरे का समर्थन करती हैं. एफ़आईआर तक दर्ज नहीं होती है.'

'अगर मामला अदालत में पहुंच भी जाता है, तो भी पुलिस के ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं होता क्योंकि अपराध पुलिस हिरासत में हुआ है. ऐसे में गवाह या तो पुलिसकर्मी हैं या फिर लॉकअप में बंद अन्य अभियुक्त.'

'पुलिस एक-दूसरे के ख़िलाफ़ गवाही नहीं देती और अभियुक्त डर के मारे मुंह नहीं खोलते. इसलिए अक्सर इस अपराध को करने वाली पुलिस बरी हो जाती है.'

1. अभियुक्त को गिरफ़्तार करने गए पुलिसकर्मी वर्दी पर अपना बैज, नाम का टैग और पहचान ठीक से लगाकर जाएं ताकि यह स्पष्ट रूप से नज़र आए. एक रजिस्टर में स्पष्ट रूप से उल्लेख होना चाहिए कि कौन अधिकारी या पुलिसकर्मी अभियुक्त से पूछताछ करेंगे.

2. अभियुक्त की गिरफ़्तारी के बाद, एक मेमो तैयार होना चाहिए. यह अभियुक्त के साथ-साथ अभियुक्त के परिवार के किसी सदस्य या किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षरित होना चाहिए. मेमो में गिरफ़्तारी की तारीख और समय का स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए.

3. अभियुक्त की हिरासत में गिरफ़्तारी के बाद अभियुक्त को अपने परिवार के सदस्य, मित्र या किसी अन्य शुभचिंतक को जल्द से जल्द अपने बारे में जानकारी देने का अधिकार है.

4. यदि अभियुक्त को किसी दूसरे शहर में गिरफ़्तार किया गया है, तो आठ से दस घंटे के भीतर परिवार को गिरफ़्तारी की सूचना देना अनिवार्य है.

5. गिरफ़्तारी के समय अभियुक्त को उसके अधिकारों की जानकारी दी जानी चाहिए.

6. गिरफ़्तार अभियुक्त के जिन रिश्तेदारों या दोस्तों को गिरफ़्तारी की जानकारी दी गई है और जिस अधिकारी की हिरासत में अभियुक्त है, दोनों के नाम थाने की डायरी में दर्ज होने चाहिए.

7. अभियुक्त के अनुरोध पर गिरफ़्तारी के समय उसके शरीर पर सभी चोटों की जांच की जानी चाहिए और उन्हें दर्ज किया जाना चाहिए. इस तरह के निरीक्षण के रिकॉर्ड पर अभियुक्त और गिरफ़्तार करने वाले अधिकारी दोनों के हस्ताक्षर होने चाहिए और एक प्रति अभियुक्त को मिलनी चाहिए.

8. हिरासत के बाद प्रत्येक 48 घंटे पर अभियुक्त की मेडिकल जांच होनी चाहिए. इस जांच की रिपोर्ट के साथ-साथ अन्य सभी ज्ञापनों को मजिस्ट्रेट के रिकॉर्ड के लिए भेजा जाना चाहिए.

9. पूछताछ के दौरान समय-समय पर अभियुक्त को अपने वकील से मिलने देना चाहिए.

इन नियमों का पालन नहीं करने वाले पुलिस अधिकारियों एवं पुलिसकर्मियों को विभाग के भीतर ही दंडित करने का प्रावधान है, साथ ही न्यायालय की अवमानना के लिए भी दंडित किया जा सकता है.

शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि अगर किसी व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मौत हो जाती है तो ऐसे व्यक्ति के परिवार को मुआवजा दिया जा सकता है.

अपराध संहिता अपराधिक मामलों पर मुक़दमा चलाने के बारे में नियम और निर्देश प्रदान करती है. इसमें 2005 में संशोधन किया गया है और नए नियम जोड़े गए हैं.

पुलिस हिरासत में किसी की मौत हो जाए तो तत्काल प्राथमिकी दर्ज की जाए. साथ ही, सीआरपीसी की धारा 176 के तहत, मजिस्ट्रेट को हिरासत में हुई मौत पर पुलिस जांच से अलग एक स्वतंत्र जांच अनिवार्य तौर पर करानी है.

मृत्यु के 24 घंटे के अंदर 'जांच मजिस्ट्रेट' को पोस्टमार्टम के लिए शव को जिला सर्जन के पास भेजना चाहिए.

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के मुताबिक मृतक के पोस्टमॉर्टम का वीडियो भी बनाया जाना चाहिए.

पुलिस हिरासत में कितने लोगों की मौत?
राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) भारत में विभिन्न तरह के अपराधों से संबंधित आंकड़े जारी करता है.

इसकी रिपोर्ट के मुताबिक हिरासत में सभी मौतें पुलिस की पिटाई या यातना के कारण नहीं होती हैं, कुछ मौतें बीमारी या अन्य कारणों से होती हैं.

बीबीसी ने बीते दस साल के एनसीआरबी के आंकड़ों का अध्ययन किया है. इसके जो आंकड़े सामने आए वह इस तरह से हैं -

- 2011 में पुलिस हिरासत में कुल 123 लोगों की मौत हुई थी. इनमें से 29 की मौत रिमांड (अदालत द्वारा अभियुक्त को दी गई पुलिस हिरासत) में हुई, जबकि 19 की मौत अदालत परिसर में या ले जाते समय हुई.

- बिना रिमांड में मरने वालों की संख्या 75 थी, जिसमें सबसे ज़्यादा 32 मौतें महाराष्ट्र में हुई थीं.

- इन मामलों में नौ लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की गई थी लेकिन किसी को दोषी नहीं ठहराया गया था.

- 2012 में कुल 133 लोगों की मौत हुई थी. रिमांड में 21, गैर-रिमांड में 97 (अधिकांश महाराष्ट्र में - 34) और 15 की मौत अदालत परिसर में लाने- ले जाने के दौरान हुई.

- इस साल एक पुलिसकर्मी के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की गई थी और उसे दोषी ठहराया गया था.

- 2013 में, गैर-रिमांड श्रेणी में महाराष्ट्र में सबसे अधिक 34 मौतें हुईं. इस साल कोई चार्जशीट दाख़िल नहीं की गई है और न ही किसी पुलिसकर्मी को दोषी ठहराया गया है.

- 2014 में पुलिस हिरासत में 93 लोगों की मौत हुई थी. इस साल 11 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की गई है लेकिन किसी को भी दोषी नहीं ठहराया गया है.

- 2015 में, पुलिस हिरासत में 97 लोगों की मौत हो गई, जिसमें 24 पुलिसकर्मी आरोप पाए गए लेकिन किसी को दोषी नहीं ठहराया गया.

- साल 2016 के आंकड़े एनआरसीबी साइट पर उपलब्ध नहीं हैं.

मानवाधिकार उल्लंघन के मामले
2017 से अलग-अलग आंकड़े दिए गए हैं. इसमें पुलिस हिरासत में अभियुक्त के मानवाधिकारों के उल्लंघन को भी शामिल किया गया है. इनमें मुठभेड़, मारपीट, प्रताड़ना, चोट पहुंचाना और फिरौती की मांग आदि शामिल हैं.

- 2017 में हिरासत में 100 मौतें दर्ज हुईं. इन मामलों में 22 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दायर की गई थी लेकिन किसी को दोषी नहीं ठहराया गया था.

- 2017 में मानवाधिकार उल्लंघन के 57 मामले सामने आए. इन मामलों में 48 लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की गई थी और तीन को दोषी ठहराया गया था.

- 2018 में 70 लोग मारे गए. इनमें 13 को अभियुक्त बनाया गया लेकिन किसी को दंडित नहीं किया गया.

- मानवाधिकार उल्लंघन के कुल 89 मामले दर्ज किए गए. इन मामलों में 26 को अभियुक्त बनाया गया और एक को दोषी ठहराया गया.

- इसी श्रेणी में 2019 में 49 अपराध दर्ज किए गए और आठ लोगों को अभियुक्त बनाया गया और इनमें एक को सजा मिली.

- 2019 में हिरासत में 75 मौतें हुईं. इन मामलों में 16 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दायर की गई और एक पुलिसकर्मी को दोषी ठहराया गया.

- पिछले साल 2020 में हिरासत में 76 मौतें हुई थीं. सात पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की गई लेकिन किसी को सजा नहीं मिली.

पिछले कुछ महीनों के लॉकडाउन के दौरान, पुलिस के ख़िलाफ़ मानवाधिकार उल्लंघन के 20 मामले दर्ज किए गए. इन मामलों में चार को अभियुक्त बनाया गया और किसी को दोषी नहीं ठहराया गया.

डीके बसु मामले में शीर्ष अदालत ने कहा था कि हिरासत में मौत के मामले में पुलिस को दंडित करना मुश्किल होगा. यह आंकड़ों से भी स्पष्ट होता है.

पुलिस हिरासत में मौत की वजहें
पुलिस हिरासत में हो या फिर गिरफ़्तारी के बाद थाने में, पूछताछ के दौरान, आगे की जांच के लिए अदालत द्वारा दी गई पुलिस रिमांड में या जेल में, सरकारी दस्तावेज़ों में हर तरह की मौत का कारण दर्ज किया जाता है.

हिरासत में होने वाली इन मौतों की वजह क्या हैं?

एनआरसीबी के मुताबिक, मौतें अस्पताल में भर्ती होने, इलाज, जेल में मारपीट, अन्य अपराधियों द्वारा हत्या, आत्महत्या, बीमारी या प्राकृतिक कारणों से हुई हैं.

2020 में प्रति सप्ताह एक आत्महत्या
नेशनल कैंपेन अगेंस्ट टॉर्चर संस्थागत उत्पीड़न के ख़िलाफ़ काम करता है. दुनिया भर में काम करने वाले इस संगठन ने मार्च में भारतीय पुलिस हिरासत में आत्महत्याओं पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है.

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में लॉकडाउन के बावजूद भारत में हिरासत में होने वाली मौतों में वृद्धि हुई है. इस रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान हर सप्ताह एक व्यक्ति ने पुलिस हिरासत में आत्महत्या की है.

ग़रीबों पर सबसे ज़्यादा चोट
नेशनल कैंपेन अगेंस्ट टॉर्चर के ही एक दूसरे सर्वेक्षण के मुताबिक पुलिस हिरासत में सबसे ज़्यादा ग़रीब और उपेक्षित समुदाय के लोग मरते हैं.

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने 1996 से 2018 के आंकड़ों को संकलित करने के बाद बताया है कि इस दौरान पुलिस हिरासत में मरने वाले 71.58 प्रतिशत लोग ग़रीब थे.

आयोग के संयोजक सुहास चकमा ने कहा, "अगर कोई ग़रीब आदमी कुछ उठाता है, तो उसे तुरंत चोर घोषित कर दिया जाता है और लोग अक्सर उसकी पिटाई करते हैं. पिटाई के चलते मौतें भी होती हैं." (bbc.com)

आनंद गांधी मंगल ग्रह पर जीवन को लेकर 1 मिनट की सिनेमेटिक रील बनाएंगे
28-Nov-2021 10:48 AM (38)

मुंबई, 28 नवंबर| आनंद गांधी ने 'शिप ऑफ थीसस', 'तुंबड', 'एन इनसिग्निफिकेंट मैन' और 'ओके कंप्यूटर' जैसे अपने निर्देशन और प्रोडक्शन वेंचर से हिंदी सिनेमा का परिदृश्य बदल दिया है। ऑफबीट विषयों पर एक अलग तरह के सिनेमा के लिए जाने जाने वाले फिल्म निर्माता ने अपने अगले शीर्षक 'द फ्यूचर ऑफ लिविंग टेरा' की घोषणा की है, जो 1 मिनट की रील प्रारूप की शॉर्ट फिल्म है।

आनंद ने अपने सोशल मीडिया पर पोस्टर के साथ फिल्म की घोषणा की। उन्होंने तस्वीर को कैप्शन दिया, "मंगल से पृथ्वी तक। बंजर भूमि से लेकर पुनर्योजी शहरों तक। मानव सभ्यता का भविष्य हैशटेग इनदमेकिंग इंस्टाग्राम के सिनेमा रील फिल्म (एक 1 मिनट का) मेरे द्वारा निर्देशित टेरा है।" वूट इंस्टाग्राम और वूट पर जल्द ही आ रहा है।

पोस्टर में एक अंतरिक्ष यात्री को मंगल की लाल परत की तरह चलने पर दिखाया गया है, जिसकी पीठ सूर्य की ओर है। इसके तुरंत बाद, आनंद के लिए प्रशंसकों और दर्शकों ने उत्साह व्यक्त करना शुरू कर दिया। फिल्म रीलों की अवधारणा को घुमाती है और कम से कम समय-सीमा में एक सम्मोहक कहानी बताने का लक्ष्य रखती है। (आईएएनएस)

HOCKING! सलमान खान के फैंस ने थिएटर के अंदर ही चला द‍िए पटाखे, एक्‍टर बोले- प्‍लीज एक्‍शन लो
28-Nov-2021 8:34 AM (43)

 

सलमान खान के प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘अंतिम: द फाइनल ट्रुथ’ इन दिनों सिनेमा घरों में र‍िलीज हो चुकी है. इस फिल्‍म में सलमान अपने जीजा आयुष शर्मा के साथ जबरदस्‍त टक्‍कर लेते हुए नजर आ रहे हैं. वैसे तो इस फिल्म को बनाने पर सलमान ने खुद ही ये उम्मीद लगाई होगी कि बॉक्स ऑफिस पर यह फिल्म धमाका करें. लेकिन उन्होंने अपने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनके फैंस उनकी इस मनोकामना को शब्‍दश: पूरा कर देंगे. जी हां, सलमान खान के फैंस ने असल में कुछ ऐसा ही कर दिया है. ‘भाईजान’ के कुछ फैंस ने ‘अंतिम’ के शो के दौरान सलमान खान की एंट्री पर जबरदस्‍त उत्‍साह द‍िखाया और स‍िनेमाघर के भीतर ही आतिशबाजी शुरू कर दी. इस हरकत पर खुद सलमान खान को च‍िंता हो गई है.

सलमान खान ने खुद अपने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है. ये वीडियो थ‍िएटर के अंदर का है, जहां स्‍क्रीन पर सलमान की फिल्‍म ‘अंतिम: द फाइनल ट्रुथ’ चल रही है. इसी दौरान सलमान की एंट्री पर उत्‍साहित हुए फैंस ने थ‍िएटर के भीतर ही आतिशबाजी कर डाली. वीड‍ियो में पटाखों की च‍िंगारी लोगों पर उड़ती साफ नजर आ रही है.

Salman Khan, Aayush Sharma, Antim: The Final Truth, Antimइस फ‍िल्‍म में सलमान एक बार फिर एक दमदार स्टोरी के साथ बड़े पर्दे पर वापसी करने जा रहे हैं.
इस वीडियो को शेयर करते हुए सलमान खान ने ल‍िखा है, ‘मैं अपने सभी फैंस से र‍िक्‍वेस्‍ट करता हूं कि आप सिनेमा हॉल के अंदर पटाखे लेकर न जाएं. यह लोगों की जान के लिए नुकसानदायक हो सकता है. मैं सिनेमाघर मालिकों से निवेदन करता हूं कि वह सिनेमा हॉल के अंदर पटाखे ले जाने की इजाजत न दें और सिक्योरिटी ऐसे लोगों को एंट्री पॉइंट पर ही रोक दे. फिल्म का पूरे तरीके से आनंद उठाइए लेकिन प्लीज इस तरह की चीजें न करें.. धन्यवाद.’

बता दें कि सलमान खान और आयुष शर्मा स्टारर फिल्म ‘अंतिम: द फाइनल ट्रुथ’ शुक्रवार यानी 26 नवंबर को रिलीज हुई है. एक्शन, ड्रामा और कॉमेडी से भरपूर इस फिल्म का सलमान ने जमकर प्रमोशन किया है. फिल्म को लेकर जितनी उम्मीद थी उस हिसाब कुछ खास कमाल पहले दिन नहीं दिखा पाई. कमाई के लिहाज से देखें तो शुरुआत धीमी हुई है. लंबे समय सिनेमाघर में सलमान की फिल्म को लेकर अच्छी कमाई की उम्मीद जताई जा रही थी. बॉक्स ऑफिस इंडिया वेबसाइट के मुताबिक ‘अंतिम’ ने 4.25 से 4. 50 करोड़ तक का कलेक्शन किया है. (news18.com)

कपिल शर्मा के सामने जॉनी लीवर की बेटी ने की फराह खान की ऐसी नकल, हंसी नहीं रोक पाए अभिषेक बच्चन
28-Nov-2021 8:34 AM (67)

मुंबई:  कपिल शर्मा के कॉमेडी शो ‘द कपिल शर्मा शो’ में अभिषेक बच्चन और चित्रांगदा सिंह अपनी अपकमिंग फिल्म ‘बॉब बिस्वास’ के प्रमोशन के लिए इस वीकेंड नजर आएंगे. इस खास एपिसोड में जॉनी लीवर की बेटी जेमी लीवर फराह खान की नकल उतारते हुए नजर आएंगी. सोनी टीवी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से इस खास एपिसोड का नया प्रोमो वीडियो शेयर किया है.

जेमी लीवर ने की फराह खान की मिमक्री
प्रोमो वीडियो में आप जेमी लीवर को अभिषेक बच्चन और चित्रांगदा सिंह को बिरयानी बेचते हुए देखेंगे. जेमी कह रही हैं, ‘बिरयानी है 125 रुपये प्लेट. जीएसटी मैं अलग से लेती हूं, क्योंकि देखो, दोस्ती अपनी जगह होती है और धंधा अपनी जगह होता है.’

हंसते-हंसते लोटपोट हुए दर्शक
इससे पहले रिलीज हुए प्रोमो में, जेमी खुद को फराह बता रही हैं और अभिषेक के साथ परफॉर्म करती दिख रही हैं. वे अभिषेक से कहती हैं, ‘हाय अभिषेक, लंबे समय तक कोई डांस नहीं.’ इस पर एक्टर कहते हैं, ‘हां फराह, लंबे समय से नहीं किया.’ फिर जेमी कहती हैं, ‘हाय चित्रांगदा, लंबे समय से कोई डांस नहीं. हाय कपिल, प्लीज डांस न करें.’ फिर सभी हंसने लगते हैं.

कपिल उनसे पूछते हैं कि क्या वे कोई फिल्म बना रही हैं. इस पर जेमी फराह के अंदाज में कहती हैं, ‘बिल्कुल, फिल्म कर रही हूं. मैं न वो बना रही थी, ‘मैं हूं ना 2′. मैंने शाहरुख खान को फोन किया और शाहरुख ने कहा कि मैं नहीं हूं ना.’ जेमी के इतना कहने पर अभिषेक ठहाका मारकर हंस पड़े.

जेमी ने जब पापा जॉनी को लगाया फोन
फिर कृष्णा अभिषेक, जैकी श्रॉफ बनकर आए और जेमी की पीठ पर थपकी देकर बोले, ‘बच्चा है तू अपना…’ इस पर जेमी कहती हैं, ‘ये बहुत हो गया.’ फिर जेमी ने नकली में नंबर घुमाया और बोलीं, ‘जॉनी जॉनी, यस पापा. ये देखो न, मुझे बोल रहा है कि मैं इसका बच्चा हूं.’ (news18.com)

ईशा गुप्ता ने खोला था बॉलीवुड का गंदा राज, 2 बार हुई थीं कास्टिंग काउच की शिकार!
28-Nov-2021 8:32 AM (57)

 

ईशा गुप्ता अपने बोल्ड एंड ब्यूटीफुल अंदाज के लिए जानी जाती हैं. 28 नवंबर 1985 में ग्रेटर नोएडा में पैदा हुईं ईशा तब सुर्खियों में आ गई थीं जब फिल्म इंडस्ट्री में होने वाले कास्टिंग काउच के गंदे खेल पर से पर्दा उठाया था. ‘जन्नत 2’ से फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखने वाली ईशा सन 2007 में मिस इंडिया इंटरनेशनल रह चुकी हैं. ईशा के पापा एयरफोर्स के रिटायर्ड ऑफिसर हैं और मां हाउस वाइफ हैं. ईशा की पढ़ाई-लिखाई दिल्ली में ही हुई है. ईशा अपने फोटोशूट को लेकर अक्सर चर्चा में रहती हैं. 

ईशा गुप्ता ने जब 2007 में मिस इंडिया इंटरनेशनल का खिताब जीता तो फिल्म इंडस्ट्री में किस्मत आजमाने की सोची. भट्ट कैंप की फिल्म ‘जन्नत 2’ से डेब्यू किया. इसके बाद ‘राज 3’ में नजर आईं. इस फिल्म में ईशा के एक्टिंग की तारीफ की गई.

फिल्म एक्ट्रेस, मॉडल ईशा गुप्ता अपनी खूबसूरती और बोल्डनेस के लिए जानी जाती हैं. ईशा अपनी टॉपलेस फोटोज की वजह से काफी चर्चा में रही हैं. 

ईशा गुप्ता की एक्टिंग के साथ-साथ बोल्डनेस से महेश भट्ट इस कदर प्रभावित थे कि उन्हें इंडिया की ऐंजिलीना जोली की उपाधि दे दी थी.

मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में ईशा गुप्ता ने कास्टिंग काउच का सच उजागर कर सबको चौंका दिया था. ईशा ने कहा था कि एक प्रोड्यूसर के साथ सोने से जब उन्होंने मना कर दिया तो उसने फिल्म से बाहर निकलने की बात कही थी. 

फिल्म इंडस्ट्री की काली सच्चाई का खुलासा करते हुए ईशा गुप्ता ने कहा था कि जो लोग इंडस्ट्री से जुड़े होते हैं उन्हें कास्टिंग काउच जैसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है,हमारे जैसे बाहरी लोगों के सामने ऐसी दिक्कत आती है. 

ईशा गुप्ता ने कहा था कि ‘मैंने एक ऐसे इंसान का गंदा रुप देखा था, जो उसके साथ नहीं सोने पर फिल्म से बाहर निकालना चाहता था. फिल्म की शूटिंग के बीच में आकर कहा कि उन्हें मेरे साथ काम नहीं करना है’.

ईशा गुप्ता ने आगे बताया था कि ‘उस वक्त तक 4-5 दिन की शूटिंग हो गई थी. ऐसे में फिल्म के डायरेक्टर ने मेरा साथ दिया और प्रोड्यूसर को मना कर दिया. प्रोड्यूसर ने कहा कि मैं उसे फिल्म में नहीं लेना चाहता तो फिर वह यहां क्यों है? इस पर डायरेक्टर ने कहा कि वह मेरी हीरोइन है’.  (news18.com)

Previous123456789...188189Next