खेल

Previous12Next
Posted Date : 25-Apr-2019
  • बेंगलुरु, 25 अप्रैल । रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि लगातार छह मैच हारने से उनकी टीम प्रभावित हुई और अब उनके खिलाड़ी बिना कोई दबाव लिए हर मैच का मजा लेने उतरेंगे। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने बुधवार को आईपीएल मैच में 17 रन से हराया।
    कोहली ने कहा, ‘हमारा फोकस टीम के लिए अच्छा खेलना है। लगातार छह मैच हारने से असर पड़ा। किसी भी टीम ने ऐसे हालात का सामना नहीं किया। हम अपने खेल का मजा लेने के लिए खुलकर खेल रहे हैं।’
    आरसीबी को प्लेऑफ क्वालिफिकेशन के लिए बाकी तीनों मैच जीतने होंगे। कोहली ने कहा, ‘हमने पांच में से चार मैच जीते। हम पांचों भी जीत सकते थे। हम खेल का मजा ले रहे थे और आज बेहतरीन प्रदर्शन किया। हमें पता है कि हम कैसा खेलते हैं और दुनिया को भी पता है कि हम कैसा खेलते हैं।’
    मैन ऑफ द मैच एबी डिविलियर्स ने कहा, ‘मैं आराम से खेलना चाहता था जो आसान नहीं था। आपके साथी खिलाड़ी डेथ ओवरों में आपका कार्यभार बांट लेते हैं। हम अपने मैदान से भली भांति वाकिफ है। यहां शुरुआत अच्छी नहीं कर सके पर अब लय हासिल कर ली।’
    गौरतलब है कि एबी डिविलियर्स के आतिशी अर्धशतक और मार्कस स्टोइनिस के साथ उनकी शतकीय साझेदारी के बाद 19वें ओवर में नवदीप सैनी की शानदार गेंदबाजी से रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने बुधवार को इंडियन प्रीमियर लीग में यहां किंग्स इलेवन पंजाब को 17 रन से हराकर जीत की हैट्रिक बनाई।
    आरसीबी ने डिविलियर्स की 44 गेंद में सात छक्कों और तीन चौकों की मदद से नाबाद 82 रन की पारी और स्टोइनिस (नाबाद 46) के साथ पांचवें विकेट के लिए 121 रन की अटूट साझेदारी से विषम परिस्थितियों से उबरते हुए चार विकेट पर 202 रन बनाए। सलामी बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने भी 43 रन की पारी खेली।
    स्टोइनिस ने 34 गेंद का सामना करते हुए तीन छक्के और दो चौके मारे। डिविलियर्स और स्टोइनिस की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से आरसीबी की टीम अंतिम सात ओवर में 103 रन जुटाने में सफल रही।
    इसके जवाब में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम सैनी (33 रन पर दो विकेट)और उमेश यादव (36 रन पर तीन विकेट) की अंतिम दो ओवर में बेहतरीन गेंदबाजी के सामने निकोलस पूरन (46), सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल (42) और मयंक अग्रवाल (35) की पारियों के बावजूद सात विकेट पर 185 रन ही बना सकी।
    इस जीत से आरसीबी के 11 मैचों में चार जीत से आठ अंक हो गए हैं और उसे प्ले ऑफ में जगह बनाने की उम्मीदों को जीवंत रखा है। टीम हालांकि अब भी सातवें स्थान पर है। किंग्स इलेवन पंजाब के 11 मैचों में पांच जीत से 10 अंक हैं और वह पांचवें स्थान पर है।
    आखिरी 2 ओवरों में बनाए 48 रन
     बेंगलुरु के एम। चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए आईपीएल के एक अहम मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के बल्लेबाजों ने आखिरी के 2 ओवरों में किंग्स इलेवन पंजाब के गेंदबाजों की जमकर खबर ली। बेंगलुरु ने अंत के दो ओवरों में 48 रन बनाकर आईपीएल में एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया।
    इसी के साथ विराट कोहली की टीम ने आईपीएल के इतिहास में किसी भी मैच में अंत के 2 ओवरों में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकार्ड बना डाला। उससे पहले आईपीएल के इतिहास में अंत के 2 ओवरों में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकार्ड चार टीमों के नाम था। इन चार टीमों ने आखिरी के दो ओवरों में 45-45 रन बनाए थे। लेकिन अब बेंगलुरु ने बुधवार को अंत के दो ओवरों में बिना विकेट खोए 48 रन ठोक कर यह रिकार्ड अपने नाम कर लिया है।
    बुधवार को खेले गए आईपीएल के इस मैच में बेंगलुरु ने 19वें ओवर में 21 रन और 20वें ओवर में 27 रन बटोरे। इन दो ओवरों में बेंगलुरु के बल्लेबाजों ने 6 छक्के और 2 चौके लगाए। वहीं, बुधवार को बेंगलुरु के हाथों हार का सामना करने वाली पंजाब की टीम अंत के दो ओवरों में 4 विकेट खोकर 12 रन ही बना सकी। पंजाब ने 19वें ओवर में दो विकेट खोकर 3 रन बनाए और 20वें ओवर में 2 विकेट खोकर 9 रन बनाए। (आजतक)

     

    ...
  •  


Posted Date : 25-Apr-2019

  • नई दिल्ली, 25 अप्रैल । भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन आईपीएल में खेलने के दौरान वर्ल्ड कप की भी तैयारी कर रहे हैं। शिखर धवन ने कहा कि रिकी पोंटिंग और सौरव गांगुली जैसे धुरंधरों से वह बहुत कुछ सीख रहे हैं और इसका फायदा उन्हें 30 मई से इंग्लैंड में शुरू हो रहे विश्व कप में मिलेगा।
    धवन आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेल रहे हैं जिसके कोच ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग हैं जबकि भारत के पूर्व कप्तान गांगुली इसके सलाहकार हैं।
    भारत के लिए 128 वनडे में 5355 रन बना चुके धवन ने कहा, ‘मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि रिकी पोंटिंग और सौरव गांगुली के साथ काम कर रहा हूं। दोनों महान कप्तान रहे हैं। मुझे उनके अनुभव से काफी कुछ सीखने को मिल रहा है।’
    उन्होंने कहा, ‘मैं उनसे काफी कुछ सीख रहा हूं जिसका फायदा मिल रहा है। मैं इसके लिए उनका शुक्रगुजार हूं। उम्मीद है कि इसका फायदा आईपीएल के साथ विश्व कप में भी मिलेगा।’
    धवन ने दिल्ली कैपिटल्स के साथी खिलाड़ी पृथ्वी शॉ की तारीफ करते हुए कहा, ‘उन्नीस साल की उम्र में भारत के लिए खेलना बड़ी उपलब्धि है। खासकर भारत जैसे बल्लेबाजों से भरे देश में यह बड़ी उपलब्धि है।’(आजतक)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 25-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 25 अप्रैल ।  इंग्लैंड में 30 मई से शुरू हो रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई टीम इंडिया में ऋषभ पंत को नहीं रखने पर पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अगर मैं चयनकर्ता रहता तो शायद पंत को चुन लेता।

    पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि ऋषभ पंत का विश्व कप जाने वाली भारतीय टीम में जगह नहीं बना पाना निराशाजनक हो सकता है लेकिन यह 21 साल का खिलाड़ी कई विश्व कप खेलेगा और कम से कम 15 वर्षों तक राष्ट्रीय टीम की जर्सी पहनेगा।
    दूसरे विकेटकीपर के विकल्प के तौर पर ऋषभ की जगह दिनेश कार्तिक को विश्व कप टीम में चुना गया। गांगुली ने एक कार्यक्रम के इतर कहा, 'धोनी हमेशा नहीं खेलेगा। दिनेश कार्तिक भी हमेशा नहीं खेलेगा। ऋषभ अगला बेहतरीन विकेटकीपर है। निश्चित रूप से ऋषभ भविष्य है।
    उन्होंने कहा, उसके पास 15-16 साल हैं। मुझे नहीं लगता कि यह गहरा झटका है। मुझे नहीं लगता कि यह एक समस्या है। वह भले ही इस विश्व कप में नहीं खेलेगा लेकिन वह कई और विश्व कप में हिस्सा लेगा। उसके लिए सब कुछ समाप्त नहीं हुआ।
    हालांकि वह मानते हैं कि 30 मई से शुरू होने वाले विश्व कप के लिये यह बिलकुल संतुलित टीम है। उन्होंने कहा, 'शायद मैं उसे चुन लेता (चयनकर्ता होने के तौर पर) लेकिन मुझे लगता है कि दिनेश कार्तिक भी बहुत अच्छा है। मुझे लगता है कि यह अच्छी टीम है। मुझे नहीं लगता कि कई खिलाडिय़ों की अनदेखी की गयी। ऋषभ का होना अच्छा होता लेकिन चीजें ऐसे ही चलती हैं।
    बता दें कि वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया के ऐलान के बाद से ही खिलाडिय़ों के चयन को लेकर क्रिकेट जगत में उथल-पुथल मची हुई है। ऋषभ पंत की जगह दिनेश कार्तिक को वर्ल्ड कप की टीम इंडिया में शामिल करने पर दिग्गज क्रिकेटर नाराजगी जता चुके हैं।
    पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा था कि वह युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत के भारत की विश्व कप टीम से बाहर होने से हैरान हैं क्योंकि वह काफी ‘बेहतरीन’ बल्लेबाजी फार्म में हैं और उसके विकेटकीपिंग कौशल में सुधार हो रहा है। गावस्कर ने इंडिया टुडे' से कहा, 'पंत की फार्म को देखते हुए यह थोड़ा हैरानी भरा है। वह सिर्फ आईपीएल में ही नहीं बल्कि इससे पहले भी काफी बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहा था। वह विकेटकीपिंग में भी काफी सुधार दिखा रहा था। वह शीर्ष छह में बाएं हाथ का बल्लेबाजी विकल्प मुहैया कराता जो गेंदबाजों के खिलाफ काफी अच्छा होता। 
    मांजरेकर भी पंत के पक्ष में दे चुके बयान
    पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज संजय मांजरेकर ने भी कहा था कि कार्तिक का टीम में चुने जाने की उम्मीद कम थी। उन्होंने कहा, टीम चयन से हर किसी को खुश रखना असंभव है लेकिन कार्तिक का टीम में चयन हैरानी भरा है। इस मामले में चयनकर्ता निरंतरता नहीं दिखाने के दोषी हैं। जनवरी 2019 में टीम से बाहर किये जाने के बाद सीधे विश्व कप टीम के लिये चुना जाना।
    इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कहा कि पंत को बाहर करने का फैसला अजीब सा है। उन्होंने ट्वीट किया, विश्व कप टीम में ऋषभ पंत नहीं। ...भारतीय चयनकर्ताओं का यह फैसला अजीबोगरीब है। और अब गांगुली ने भी कहा है कि मैं चयनकर्ता होता तो शायद पंत को चुन लेता। (आजतक)

     

    ...
  •  


Posted Date : 25-Apr-2019
  • राजनांदगांव, 25 अप्रैल। संस्कारधानी के साथ खेलों के लिए भी अलग पहचान रखने वाले राजनांदगांव नगर के प्रतिभाशाली छात्र ने ताइक्वांडो प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल जीतकर नगर एवं स्कूल का नाम गौरवान्वित किया है। अंडर 14 ताइक्वांडो चैंपियन ट्रॉफी का आयोजन हरियाणा के करनाल में 18 से 21 अप्रैल तक किया गया। उक्त प्रतियोगिता के 45 किलो वर्ग में वेसलियन अंग्रेजी स्कूल के कक्षा 8वीं के छात्र अनस शेख ने हिस्सा लिया। सभी प्रतिभागियों में श्रेष्ठ प्रदर्शन करते अनस ने गोल्ड मेडल (फ्रेशर्स क्योरुगी कैडेट) पर अपना अधिकार कर लिया। मास्टर अनस रिजवान शेख का पुत्र है। छात्र की उपलब्धि पर प्राचार्य अजीत स्काट सहित शिक्षकों ने शुभकामनाएं दी।

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Apr-2019
  • आदेश कुमार गुप्त

    नई दिल्ली, 24 अप्रैल । आईपीएल-12 में मंगलवार को भी केवल एक मुकाबला खेला गया। इस मुकाबले में पिछली चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स ने शेन वॉटसन के शानदार 96 रन की मदद से सनराइजर्स हैदराबाद को छह विकेट से हरा दिया।
    चेन्नई के सामने जीत के लिए 176 रनों का लक्ष्य था जो उसने 19.5 ओवर में चार विकेट खोकर हासिल कर लिया। लेकिन इस मैच के बाद ज्यादा चर्चा हो रही है चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के एक बयान की।
    मैच में जीत के बाद हर्षा भोगले ने उनसे पूछा कि वह बार-बार चेन्नई को फ़ाइनल में कैसे पहुंचा देते हैं, इसका राज क्या है।
    जवाब में पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, अगर मैं ये सबको बता दूंगा तो वो (चेन्नई) मुझे नीलामी में नहीं खरीदेंगे। ये एक ट्रेड सीक्रेट है। हां बिल्कुल, लोगों और फ्रैंचाइज़ी का समर्थन भी अहम है।
    उन्होंने कहा, सपोर्ट स्टाफ को भी बड़ा श्रेय जाता है जो टीम का माहौल अच्छा रखने में बड़ी भूमिका निभाते हैं। इसके अलावा मैं कोई खुलासा नहीं कर सकता, कम से कम जब तक मैं रिटायर नहीं होता। वहीं कप्तान धोनी ने कहा कि वॉटसन हमारे मैच जीताऊ खिलाड़ी है। ऐसे में अगर वह कुछ मैचों में ना भी चले तो भी उन्हें मौके और समर्थन दिया जाता है। और इसके बाद धोनी ने एक बहुत मज़ेदार बात कही।
    उन्होंने कहा कि चेन्नई की कामयाबी में खिलाडिय़ों को खरीदने का ट्रेड सीक्रेट तो है ही साथ ही स्पोर्ट स्टॉफ का भी बड़ा योगदान है जो नाकाम खिलाडिय़ो के मूड को ड्रैसिंग रूम में ठीक रखता है लेकिन और भी राज है जिन्हें मैं रिटायर होने से पहले नही बताउंगा। जो भी हो पिछले मैच में ख़ुद धोनी ने शानदार पारी खेलकर अपने आलोचकों तक से कहलवा दिया कि वह 10 साल पीछे चले गए है और इसी साल जून में 17 तारीख को 38 साल के होने जा रहे शेन वॉटसन भी ने मंगलवार को दिखा दिया कि खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदल रहा है। (बीबीसी)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 24 अप्रैल । क्रिकेट की दुनिया में 24 वर्षों तक छाए रहने वाले सचिन तेंदुलकर आज 46 साल के हो गए। 24 अप्रैल 1973 को दिन में एक बजे मुंबई के शिवाजी पार्क राणाडे रोड स्थित निर्मल नर्सिंग होम में सचिन का जन्म हुआ था। उस वक्त उनका वजन 2.85 किग्रा था और आगे चलकर यही शिशु क्रिकेट का युगपुरुष बन गया। महज 16 वर्ष की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने वाले इस छोटे सचिनने 40 के हो जाने पर ही अपने बल्ले को आराम दिया। नहीं थकने वाले इस सफर के दौरान सचिन ने इतने कीर्तिमान रच डाले कि उन्हें क्रिकेट के भगवान का दर्जा दे दिया गया।

    ...तुम बल्लेबाजी पर पूरा ध्यान क्यों नहीं लगाते..?
    दरअसल, सचिन बल्लेबाज नहीं, तेज गेंदबाज बनने की ख्वाहिश रखते थे। तभी तो वे मुंबई से चेन्नई एमआरएफ पेस एकेडमी जा पहुंचे। लेकिन वहां पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज डेनिस लिली ने उनकी चाहत को खारिज कर दिया। और उन्हें सलाह दी कि तुम बल्लेबाजी पर पूरा ध्यान क्यों नहीं लगाते।।? और यहीं से सचिन के क्रिकेट जीवन की शुरुआत हुई। जिसे बाद में दुनिया ने मास्टर ब्लास्टर का नाम दिया।
    सचिन के 13 माइल स्टोन
    1. महज 12 वर्ष की उम्र में अंडर-17 हैरिस शील्ड में अपने स्कूल की ओर से खेलते हुए शतक लगाया।
    2.  जब 14 साल के हुए तो विनोद कांबली के साथ 664 रनों की पार्टनरशिप की, जो उस समय वर्ल्ड रिकॉर्ड था।
    3.  इन दिनों सचिन ने बिना आउट हुए 207, 329 और 346 के स्कोर बनाए।
    4. 15 वर्ष की उम्र में तत्कालीन बंबई के लिए फर्स्ट क्लास में डेब्यू करते हुए शतक जमाया।
    5.16 साल के हुए तो पाकिस्तान के खिलाफ कराची (1989) में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया।
    6. 17 वर्ष की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला शतक जमाया और इंग्लैंड के खिलाफ 1990 का ओल्ड ट्रैफर्ड टेस्ट हार से बचा लिया।
    7. वर्ष 2000 में 50 इंटरनेशनल शतक बनानवाले वे पहले बल्लेबाज बने।
    8. 2003 वल्र्ड कप में 673 रन बनाए, जो वर्ल्ड कप के इतिहास में सर्वाधिक रनों का रिकॉर्ड बना।
    9. 2008 में टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने के मामले में ब्रायन लारा को पीछे छोड़ा।
    10. 2009 में 14,000 टेस्ट रन, 30,000 इटरनेशनल रन और 90 अंतरराष्ट्रीय शतक पूरे कर लिये।
    11.  36 साल के होने पर ऐसा कारनामा किया,जो वनडे इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ था। वनडे इंटरनेशनल का पहला दोहरा शतक जमाया।
    12. दिसंबर 2012 में वनडे से रिटायर होने से पहले सचिन ने 100 इंटनेशनल शतकों का अद्भुत रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया।
    13. नवंबर 2013 में उन्होंने अपने घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में 200 वां टेस्ट खेलकर क्रिकेट को अलविदा कह दिया।
    जाने-अनजाने फैक्ट्स
    1. बचपन में सचिन को उनके दोस्त मेकेनरो नाम से पुकारते थे। दरअसल वे अपने लंबे बालों में बैंड लगाकर अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी जॉन मैकेनरो की तरह दिखना चाहते थे।
    2. सचिन पहले ऐसे बल्लेबाज रहे जिन्हें थर्ड अंपायर ने रन आउट दिया। यह वाकया 1992 के डरबन टेस्ट का है।
    3. सचिन अपने क्रिकेट करियर में भले ही इतने सफल रहे हों, लेकिन वे क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स पर टेस्ट में शतक नहीं जमा पाए।
    4. सचिन 2003 में बॉलीवुड फिल्म स्टंप्ड में देखे गए।
    5. सर डॉन ब्रैडमैन के 29 शतकों की बराबरी करने पर उन्हें फरारी 360 मोडेना गिफ्ट के तौर पर मिला था। जिसकी चाबी उन्हें एफ-1 चैंपियन माइकल शूमाकर ने सौपी थी। बाद में इसकी इंपोर्ट ड्यूटी फिएट इंडिया ने चुकाई थी। (आज तक)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Apr-2019
  • बेंगलुरु, 24 अप्रैल । आईपीएल अब अंतिम पड़ाव की ओर आगे बढ़ रहा है। लीग स्तर पर सभी टीमें नौ से 10 मैच खेल चुकी हैं। ऐसे में शीर्ष चार टीमों में जगह बनाने की लड़ाई अब और तेज हो गई है। 

    विश्व कप की तैयारी के लिए इंग्लैंड लौट रहे रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर के मोइन अली ने मंगलवार को कहा कि आइपीएल के बीच से लौटना शर्मनाक है। विशेषकर तब जब टीम अगर सभी मैच जीत लेती है तो उसे प्लेऑफ में जगह बनाने का मौका बन सकता है।
    बुधवार को एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में पंजाब के खिलाफ होने वाले मैच की पूर्व संध्या पर मोइन ने कहा कि यह आदर्श स्थिति नहीं है। मुझे लगता है कि स्थिति तब और बदतर हो जाती है जब सिर्फ तीन मैच बचे हों। अगर छह या सात मैच बचे हों तो समझा जा सकता है।
    उन्होंने कहा कि अगर हम सभी मैच जीत जाते हैं तो आगे बढऩे का मौका बन सकता है और फिर अगर आप प्लेऑफ में जगह बनाने से चूक जाओ तो निराशा होगी लेकिन निश्चित तौर पर मैं मैचों पर नजर रखूंगा और देखूंगा कि वे कैसा प्रदर्शन करते हैं, उम्मीद करता हूं कि वे सभी मैच जीतेंगे। (जागरण)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Apr-2019
  • चेन्नई, 24 अप्रैल । इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में मंगलवार (23 अप्रैल) को चेन्नई सुपर किंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को छह विकेट से हराया। मैच चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेला गया था। जीत के हीरो शेन वॉटसन रहे, जिन्होंने 53 गेंद पर 96 रनों की पारी खेली। मैच के दौरान सनराइजर्स हैदराबाद के स्टार स्पिनर राशिद खान और वॉटसन के बीच कुछ गहमागहमी भी देखने को मिली।
    मैच के दौरान वॉटसन और राशिद एकदूसरे को घूरते हुए नजर आए, हालांकि दोनों के बीच किसी तरह की कोई बहस नहीं हुई, लेकिन राशिद की आंखों में गुस्सा साफ नजर आया। इंडियन प्रीमियर लीग के आधिकारिक पेज से यह वीडियो शेयर किया गया है। इस पर फैन्स ने मजेदार कमेंट्स भी किए हैं। एक फैन ने लिखा है कि ऐसा लग रहा है मानो राशिद यहां वॉटसन से कह रहे हों, तू बाहर मिल फिर मैं देखता हूं तुझे।
    सनराइजर्स हैदराबाद ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में तीन विकेट पर 175 रन बनाए, जवाब में चेन्नई सुपर किंग्स ने 19.5 ओवर में चार विकेट पर 176 रन बनाकर मैच अपने नाम किया। चेन्नई सुपर किंग्स के 16 प्वॉइंट्स हो चुके हैं और उनका प्लेऑफ में पहुंचना लगभग तय है। (लाइव हिन्दुस्तान)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Apr-2019
  • खराब फार्म से जूझ रहे कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान दिनेश कार्तिक और प्रमुख बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा और टीम के तीन अन्य खिलाड़ी को केकेआर फ्रेंचाइजी ने छुट्टी पर भेज दिया। ईएसपीएन क्रिकइंफो के अनुसार दिनेश कार्तिक, रॉबिन उथप्पा, विकेटकीपर निखिल नायक, तेज गेंदबाज श्रीकांत मुंडे और पृथ्वी राज राजस्थान के साथ केकेआर के होने वाले अगले मुकाबले पर वापसी करेंगे।

    केकेआर की लगातार पांचवी हार के बाद शाहरूख खान की यह टीम अंक तालिका में छठे स्थान पर पहुंच गई है। जिसके बाद टीम ने इन खिलाडिय़ों को छुट्टी पर भेजने का फैसला किया।
    कार्तिक और उथप्पा छुट्टी पर भेजे जाने के बाद इस समय का भी सदुपयोग करते नजर आए। छुट्टी पर भेजे गए ये खिलाड़ी केकेआर के एकेडमी मेंटर अभिषेक नायर के साथ मुंबई में प्रशिक्षण ले रहे हैं। गौर फरमाने वाली बात यह है कि नायर ने कार्तिक के करियर को ट्रैक पर लाने में पिछले साल काफी मदद की थी। कार्तिक और उथप्पा दोनों इस सीजन में रन बनाने के लिए जूझ रहे हैं। कार्तिक के बल्ले से एकमात्र पचासा निकला है और उन्होंने कुल 117 रन बनाए हैं।
    वहीं 9 मैच में रॉबिन उथप्पा ने 220 रन बनाए हैं। उनका स्ट्राइक रेट 119.56 रहा है। इसके अलावा कार्तिक की कप्तानी को लेकर भी काफी सवाल उठाए जा रहे हैं। टीम के लिए राहत सिर्फ यह रही है कि आंद्रे रसेल को नंबर 7 पर बल्लेबाजीके लिए उतारकर केकेआर ने कई हारते मैच में जीत दर्ज की है। अन्य तीन खिलाडिय़ों की बात करें तो नायर और पृथ्वी ने एक-एक मैच खेला है जबकि मुंडे बेंच स्ट्रेंथ के तौरपर ही टीम में रहे हैं। 
    यह पहली बार नहीं है जब टीम खिलाडिय़ों को छुट्टी पर भेज रही है। इससे पहले इस सीजन में मुंबई इंडियंस ने भी अपनी पूरी टीम को अगले मुकाबले से पहले चारदिन की छुट्टी दे दी थी।
    कार्तिक की कप्तानी पर सवाल
    राजस्थान रॉयल्स की टीम के खराब प्रदर्शन के बाद टीम में कप्तान के बदलाव की तर्ज पर केकेआर की टीम में भी बदलाव की संभावना तलाशने सवाल पर टीम के कोच जैक्स कालिस ने ताला लगा दिया। उन्होंने कहा कि नहीं हमने इस पर चर्चा नहीं की ना ही इसे लेकर कोई बात नहीं हुई। उन्होंने कहा, उम्मीद है कि वह (कार्तिक) हमारे लिए कुछ बड़ी पारियां खेलेंगे। टीम के लिए यह काफी मायने रखेगा। 

     

    ...
  •  


Posted Date : 23-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 23 अप्रैल । स्कॉटलैंड के बल्लेबाज जार्ज मुंसे ने इतिहास कायम करते हुए ग्लोसेस्टरशायर सेकेंड इलेवन टीम के लिए खेलते हुए कई रिकॉर्ड बना डाले। उन्होंने न सिर्फ 25 गेंदों पर शतक लगाकर नया विश्व रिकॉर्ड कायम किया बल्कि एक ओवर में 6 छक्के लगाने का भी कारनामा किया।
    ग्लोसेस्टरशायर सेकेंड इलेवन और बाथ सीसी के बीच हुए एक अनाधिकारिक टी-20 मैच में मुंसे ने 39 गेंदों पर 147 रनों की धमाकेदार पारी खेली। इस मैच में मुंसे के साझेदार जीपी विलोज ने भी 53 गेंदों पर शतक लगाया लेकिन मुंसे ने खास कारनामा कर दिया। मुंसे ने अपनी पारी में 5 चौके और 20 छक्के लगाए। अपनी पारी के दौरान मुंसे ने एक ओवर में 6 छक्के भी लगाए।
    इस मैच में मुंसे मैदान पर उतरते ही धमाका करना शुरू कर दिया। उन्होंने 17 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया और इसके बाद शतक पूरा करने में महज 8 गेंद ही खेली। इसी दौरान उन्होंने एक ओवर में 6 छक्के लगाए। ग्लोसेस्टरशर की टीम ने इन मुंसे और विलोज की लाजवाब पारियों की बदौलत निर्धारित 20 ओवर में 326/3 रनों का हैरतअंगेज स्कोर खड़ा किया।
    स्कॉटलैंड के लिए मुंसे ने 26 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेला है। टी-20 में मुंसे ने खतरनाक तरीके से बल्लेबाजी की है, उन्होंने 150.67 की स्ट्राइक रेट से कुल 559 रन बनाए हैं। यही नहीं, स्कॉटलैंड के लिए मुंसे ने 4 फर्स्ट क्लास, 28 लिस्ट ्र और 29 टी-20 मैच खेले हैं।
    स्कॉटलैंड के बल्लेबाज जार्ज मुंसे ने 2017 में वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था। 26 साल मुंसे ने हांग कांग के खिलाफ अपना पहला वनडे मैच खेला था। उन्होंने स्कॉटलैंड के खिलाफ कुल 16 वनडे मैच खेले हैं, जिसमें 72.02 की स्ट्राइक रेट से 381 रन बनाए हैं। मुंसे का वनडे इंटरनेशनल में सर्वाधिक स्कोर 55 रन है। (आजतक)

     

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 23-Apr-2019
  • राजनांदगांव, 23 अप्रैल। जिला क्रिकेट एसोसिएशन राजनंादगांव द्वारा विगत जनवरी माह में जिला टीम (अंडर-19) के गठन हेेतु एक चयन प्रक्रिया का आयोजन किया गया था। इसमें जिलेभर से 60 खिलाडिय़ों ने भाग लिया था। उक्त चयन प्रक्रिया से 30 खिलाडिय़ों का चयन कर 2 माह का सघन प्रशिक्षण शिविर लगाया गया। शिविर में प्रदर्शन के आधार पर खिलाडिय़ों का चयन कर सोलह सदस्यीय जिले की टीम (अंडर-19) का गठन किया गया।

    जिला क्रि केेट एसोसिएशन राजनांदगंाव के सचिव योगेश बागड़ी ने बताया कि उक्त टीम छत्तीसगढ़ स्टेट क्रि केट संघ द्वारा 28 अप्रैल से अयोजित स्व.रियाजुद्दीन मेमो. इंटर डिस्ट्रीक्त क्रिकेट चैम्पियनशिप में भाग लेगी। राजनांदगांव का पहला मैच आगामी 28 अप्रैल से दल्लीराजहरा में भिलाई क्रिकेट एसोसिएशन से होगा। राजनंादगांव के पुल में भिलाई, रायगढ़ व रायपुर है तथा सभी मैच तीन दिवसीय होंगे। उक्त चैम्पियनशिप में सभी मैच लीग पद्धति से खेले जाएंगे। उक्त चैम्पियनशिप के पश्चात प्रदर्शन के आधार पर छग स्टेट क्रिकेट संघ की अंडर 19 टीम का गठन किया जाएगा। छग स्टेट क्रिकेट संघ की टीम 2019 हेतु बीसीसीआई द्वारा आयोजित प्रतियोगिता अंडर 19 में हिस्सा लेगी। उक्त खिलाडिय़ों में रोहन टाक (कप्तान), दीपक यादव (उपकप्तान), हर्ष साहू, देवराज साहू, गौरव मिश्रा, देवव्रत खोब्रागड़े, नमन अग्रवाल, नीरज यादव, प्रतीक त्रिपाठी, रिशब सॉखला, आरिन द्विवेदी, हिमांशु साव, आदर्श ठाकुर, यश राजपूत, निखिल कनोरिया व हर्ष लहरवानी शामिल है।'

     

    ...
  •  


Posted Date : 23-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 23 अप्रैल । जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच सोमवार को खेले गए मुकाबले में एक दिलचस्प वाक्या देखने को मिला। इस मैच में दिल्ली कैपिटल्स की पारी के 16वें ओवर में तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर की गेंद बेल्स से टकराई लेकिन बेल्स नहीं गिरी। 
    दरअसल, दिल्ली कैपिटल्स की पारी का 16वां ओवर फेंका जा रहा था। गेंदबाज थे जोफ्रा आर्चर। उस वक्त दिल्ली ने 15.5 ओवर में 2 विकेट खोकर 151 रन बना लिए थे और दिल्ली को जीत के लिए 25 गेंदों में 41 रन की दरकार थी और बल्लेबाजी छोड़ पर पृथ्वी शॉ खेल रहे थे। इसके बाद जोफ्रा आर्चर ने 150 ्यरूक्क॥ की रफ्तार से ओवर का आखिरी गेंद डाला और वो स्टंप को छूकर निकल गई, जिसके बाद बेल्स की बत्ती तो जली लेकिन बेल्स नहीं गिरी।
    .आईपीएल में यह पहली बार नहीं है जब विकेट पर लगने के बाद भी बेल्स न गिरी हों। इससे पहले इसी मैदान पर राजस्थान के गेंदबाज धवल कुलकर्णी की गेंद स्टंप पर लगी थी और बेल्स नहीं गिरी थीं। दरअसल, आईपीएल 12 के 21वें मैच राजस्थान रॉयल्स .और कोलकाता नाइट राइडर्स .के बीच जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में ही खेला गया था।
    इस मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स की पारी के चौथे ओवर में राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाज धवल कुलकर्णी की दूसरी गेंद क्रिस लिन के लेग स्टंप को छूती हुई निकल गई। धवल कुलकर्णी की वह गेंद स्टंप पर तो लगी, लेकिन बेल्स नहीं गिरी। जिससे बल्लेबाज क्रिस लिन आउट होने से बच गए। इस मैच में क्रिस लिन ने 32 गेंदों में 50 रनों की आतिशी पारी खेली। इस दौरान इस बल्लेबाज ने 6 चौके और 3 छक्के लगाए।
    इस सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच मैच में ऐसा ही वाकया देखने को मिला था। इस सीजन के 12वें मैच महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान रॉयल्स के जोफ्रा आर्चर की गेंद पर बोल्ड हो गए थे। लेकिन, बेल्स के स्टंप्स से नहीं गिरने के कारण उन्हें जीवनदान मिल गया।
    मजे की बात है कि उस वक्त उन्होंने अपना खाता भी नहीं खोला था। दरअसल, चेन्नई सुपर किंग्स की पारी का छठा ओवर जोफ्रा आर्चर फेंक रहे थे। उस ओवर की चौथी गेंद पर ऐसा कुछ हुआ कि सभी दंग रह गए। धोनी बिल्कुल रक्षात्मक थे, लेकिन गेंद लुढक़ती हुई उनके स्टंप में जा लगी। धोनी भाग्यशाली रहे कि बेल्स नहीं गिरी।
    धोनी के थ्रो पर रनआउट होने से बचे थे राहुल
    आईपीएल के मौजूदा सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच एक मुकाबले के दौरान धोनी ने केएल राहुल को रन आउट किया था। लेकिन, गेंद स्टंप पर लगने के बावजूद बेल्स नहीं गिरीं। रवींद्र जडेजा की गेंद को केएल राहुल ने ऑन साइड की तरफ धकेल कर सिंगल लेना चाहा और क्रीज से बाहर निकल गए, तभी विकेट के पीछे धोनी ने चतुराई और फुर्ती का परिचय देते हुए गेंद स्टंप पर मार दी।
    धोनी का थ्रो स्टंप पर तो लगा लेकिन, बेल्स स्टंप्स से नीचे नहीं गिरी। गेंद जैसे ही स्टंप्स से टकराई तो बेल्स जल उठी मगर स्टंप्स से नीचे नहीं गिरी। ऐसे में सोमवार को हुए इस वाक्ये के बाद अब क्रिकेट प्रेमी गेंद के बेल्स पर लगने के बाद बल्लेबाज को आउट देने के पक्ष में बात करने लगे हैं।(आजतक)

     

    ...
  •  


Posted Date : 22-Apr-2019
  • बेंगलुरु, 22 अप्रैल (। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी चेन्नै सुपर किंग्स के लिए आखिरी गेंद तक संघर्ष करते रहे लेकिन वह रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 1 रन की जीत से रोक नहीं सके। धोनी ने 48 गेंदों पर 84 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। आखिरी ओवर में 3 छक्के और एक चौका लगाया लेकिन फिर भी उनकी टीम 162 के लक्ष्य से पीछे रह गई। 

     बैंगलोर 2014 के बाद पहली बार चेन्नै को हराने में कामयाब रही। हार के बाद धोनी अपनी टीम के बल्लेबाजों से कुछ निराश जरूर नजर आए।  धोनी ने मैच के बाद कहा, मुझे लगता है कि यह एक अच्छा मुकाबला था। इस विकेट पर हमारे गेंदबाजों ने बैंगलोर को कम स्कोर पर रोका। धोनी अपनी टीम के टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों से थोड़ा नाराज नजर आए। उन्होंने कहा, अगर आप विपक्षी टीम के गेंदबाजी आक्रमण से वाकिफ हों तो आपको अपने प्लान पर टिका रहना चाहिए।
    चेन्नै की टीम ने टॉप-4 बल्लेबाज सिर्फ 28 रन बनाकर लौट गए थे। धोनी ने कहा, अगर आप शुरुआत में बहुत विकेट गंवा दें तो इससे मिडिल ऑर्डर पर दबाव बढ़ जाता है और वह शुरुआत से ही गेंदबाजी पर आक्रमण नहीं कर पाता।  कैप्टन कूल के नाम से मशहूर धोनी ने कहा कि हमें देखना होगा कि किन क्षेत्रों में हम सुधार कर सकते हैं। उन्होंने कहा, इस विकेट पर अंत में बल्लेबाजी करना मुश्किल था और नए बल्लेबाज के लिए विकेट आसान नहीं था। 
    धोनी अपनी टीम के गेंदबाजों के प्रदर्शन से खुश नजर आए। उन्होंने कहा, हमारे पास अच्छा अनुभव है और हमने मैदान पर कड़ी चुनौती पेश की। धोनी ने कहा कि गेंदबाजों ने अच्छा खेल दिखाया लेकिन बल्लेबाजों को यह टीम की जरूरत पर विचार करना होगा। उन्हें परिस्थिति का आकलन करना होगा कि इस समय बड़े शॉट खेलने की जरूरत है या फिर पार्टनरशिप जमाने की। नवभारत टाईम्स)

     

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 22-Apr-2019
  • बेंगलुरु, 22 अप्रैल ।   मैच के बाद विराट ने कहा कि धोनी की पारी ने उन्हें डरा दिया था।  विराट ने कहा, बहुत सारे इमोशन्स हैं। हम 19वें ओवर तक गेंद के साथ शानदार रहे। 160 रनों का टारगेट डिफेंड करना वो भी ऐसे विकेट पर और इतनी सारी ओस के साथ यह बहुत बड़ी बात है। आखिरी गेंद पर जो हुआ वो मैंने सोचा भी नहीं था। इतने कम रन के अंतर से जीतना अच्छा लगता है। कुछ मैच हम कम अंतर से हार भी चुके हैं। धौनी ने वो किया, जो वो बेस्ट कर सकते हैं। उनकी पारी ने हमें डरा दिया था। पहले छह ओवर में हमें लग रहा था कि गेंद बैट पर नहीं आ रही है। पार्थिव पटेल और एबी डिविलियर्स ने पारी को संवारना शुरू किया।

    विराट ने आगे कहा, एक समय हमें लगा था कि 175 का टारगेट अच्छा होगा इस पिच पर, हमें लगा हम 15 रन कम बना पाए। उनके गेंदबाजों ने हमें फ्रंट फुट पर ज्यादा खेलने नहीं दिया। आप कह सकते हैं कि मोइन अली को बैटिंग ऑर्डर में ऊपर भेजा जा सकता है। हमारा आइडिया था कि उनके स्पिनरों के ओवर खत्म हो जाएं। नवदीप सैनी ने अभी तक इस सीजन में शानदार खेल दिखाया है। (लाइव हिन्दुस्तान)

     

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 22-Apr-2019
  • मुंबई, 22 अप्रैल । वानखेड़े स्टेडियम को मुंबई क्रिकेट असोसिएशन  का गौरव माना जाता है लेकिन अब इस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। दरअसल राज्य सरकार ने लीज के रिन्यूअल, बकाए के भुगतान और बिना इजाज़त निर्माण की वजह से एमसीए को नोटिस जारी किया है। 16 अप्रैल को मुंबई सिटी कलेक्टर द्वारा जारी नोटिस में एमसीए से 120 करोड़ रुपये की मांग की गई है। इसमें कहा गया है कि अगर रूष्ट्र यह राशि नहीं चुकाता है तो उसे परिसर खाली करना होगा। 
    1975 में राजनेता एसके वानखेड़े ने यह स्टेडिमय बनवाया था। उनका कहना था कि एमसीए के पास अपना स्टेडियम होना चाहिए। इसको लेकर क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया से विवाद भी हुआ था। 43,977.93 स्क्वायर मीटर में बने वानखेड़े स्टेडियम में 33,000 दर्शक बैठ सकते हैं। राज्य सरकार ने यह जगह एमसीए को 50 साल के लिए लीज पर दी थी जिसकी मियाद पिछले साल फरवरी में पूरी हो गई है। 
    अग्रीमेंट के मुताबिक एमसीए को सरकार को निर्मित क्षेत्र का 1 रुपये प्रति वर्ग गज और खाली क्षेत्र का 10 पैसे प्रति गज के हिसाब से किराया देना था। एमसीए द्वारा क्रिकेट सेंटर बनाए जाने के बाद से राज्य सरकार ने नए किराए का दावा किया है। अब यहां पर क्चष्टष्टढ्ढ का हेडक्वार्टर है। नोटिस में वह सारा बकाया चुकाने को कहा गया है जहां एमसीए ने निर्माण करवाया है लेकिन समझौते के हिसाब से किराया नहीं दिया है। 
    एमसीए की तरफ से कहा गया है कि लीज रिन्यू करने के लिए मुख्यमंत्री को जवाब भेजा गया है और कहा गया है कि मार्केट रेट के हिसाब से किराया चुकाया जाएगा। एमसीए के सीईओ सीएस नाइक ने कहा कि उन्हें कलेक्टर के नोटिस के बारे में जानकारी है। वानखेड़े का डिजाइन तैयार करने वाले आर्किटेक्ट शशि प्रभु ने कहा कि निर्माण में कोई भी अवैध तरीका नहीं अपनाया गया है। मुंबई सिटी के डेप्युटी कलेक्टर ने कहा है कि जल्द ही निरीक्षण किया जाएगा और लीज रिन्यूअल के लिए 3 मई को अधिकारियों को समन किया गया है। (नवभारत टाईम्स)

     

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 21 अप्रैल इंडियन टी-20 लीग के इस के मौजूदा सीजन में कोलकाता के तूफानी बल्लेबाज आंद्रे रसेल का बल्ला गेंदबाजी को जमकर धज्जियां उड़ा रहा हैं। उनका यह आक्रामक रुख देखकर तो यही लगता है कि गेंदबाज उन्हें रोकने के लिए गेंदबाजों के पास कोई तोड़ नहीं है। इस सीजन में अब तक रसेल ने अपनी तूफानी बल्लेबाजी से कोलकाता के कई हारे हुए मैचों में जीत दिलाई है।

    बैंगलोर के खिलाफ पिछले मैच में भी रसेल ने 65 रन की धमाकेदार पारी पारी खेली थी और उन्होंने अपनी पारी में कुल नौ छक्के लगाए थे। इस सीजन में अब तक रसेल ने 39 छक्के लगा चुके हैं। वो औसतन हर मैच में चार छक्के जड़ रहे हैं। गौर किया जाए तो अब से तीन वर्ष पहले तक उनकी बल्लेबाजी में उतनी पैनी धार नहीं थी। आखिरकार रसेल इतने आक्रामक कैसे हो गए। 

    वर्ष 2016 से पहले तक वो गेंद को हिट करते जरूर थे लेकिन उनके बल्ले से इतने छक्के नहीं निकलते थे। अब वो इतने आक्रामक कैसे हो गए इसके बारे में उन्होंने खुद बताया।रसेल ने बताया कि उनकी इस पावर हिटिंग के पीछे क्रिस गेल का बड़ा मार्गदर्शन छिपा है क्योंकि उनकी एक सलाह ने रसेल की जिंदगी बदल दी। रसेल के मुताबिक क्रिस गेल ने उन्हें भारी बल्ले का इस्तेमाल करने की सलाह दी थी। 

    रसेल ने कहा, मैं पहले हल्के बल्ले के साथ खेलता था जिससे हिट करने के बाद गेंद दूर तक नहीं जा पाती थी। विश्व कप के दौरान गेल मेरे पास आए थे और उन्होंने कहा कि तुम भारी बल्ले का इस्तेमाल करो क्योंकि तुम्हारे पास गेंद को हिट करने की बेशुमार ताकत है। तुम बेहतरीन बल्लेबाज हो। 

    इसके बाद जब वर्ष 2016 में भारत में खेलते हुए हम टी 20 चैंपियन बने फिर तो मेरी जिंदगी ही बदल गई। सेमीफाइनल मैच में मैंने 43 रनों की पारी खेली थी।(अमर उजाला) 

    ...
  •  


Posted Date : 21-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 21 अप्रैल । टीम इंडिया के सबसे भरोसमंद गेंदबाज कुलदीप यादव मौजूदा समय में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए आईपीएल खेल रहे हैं। कुलदीप यादव आइपीएल 2019 के सीजन में कुछ खास नहीं कर पाए हैं। यहां तक कि शुक्रवार की रात रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के ऑलराउंडर मोइन अली ने उनकी ऐसी कुटाई कर दी कि वो मैदान पर भावुक हो गए। इस दौरान तमाम लोगों ने कुलदीप यादव को ट्रोल किया। वहीं, कुछ फैंस ने कुलदीप का समर्थन किया और उनका दिन खराब बताया।   

    कोलकाता के ईडन गार्डंस में केकेआर और आरसीबी के बीच खेले गए आइपीएल के 35वें मुकाबले में कुलदीप यादव ने केकेआर की पारी का 16वां ओवर कराया। इस ओवर में मोइन अली ने दो चौके और तीन छक्के लगा दिए। हालांकि, आखिरी गेंद पर कुलदीप यादव ने मोइन अली को आउट कर दिया। इसके बाद वे बाउंड्री लाइन पर जाकर फील्डिंग करने लगे। इसी बीच वो रोने लग गए लेकिन उनके टीममेट नितीश राणा ने उनको सांत्वाना दी और पानी पिलाकर उनको चुप कराया। 
    कुलदीप यादव ने अपने चार ओवर के कोटे में कुल 59 रन खर्च किए। अपने आखिरी ओवर में कुलदीप ने एक वाइड के साथ 27 रन दिए। इसी की बदौलत आरसीबी ने बड़ा टोटल बनाया। मोइन अली के ताबड़तोड़ 66 रन और कप्तान विराट कोहली के शतक की बदौलत आरसीबी ने 213 रन बनाए। इसके बाद केकेआर की ओर से नितीश राणा (85 रन) और आंद्रे रसेल(65 रन) ने खूब मेहनत की। लेकिन, टीम 10 रन से हार गई।  

    कुलदीप यादव अपने इस मैच को शायद कभी याद नहीं रखना चाहेंगे। दरअसल, कुलदीप केकेआर की ओर से ऐसे दूसरे गेंदबाज बन गए हैं, जिन्होंने अपने कोटे के चार ओवरों में 59 रन खर्च किए हैं। इससे पहले रेयान मैकलेरेन ने मुंबई इंडियंस के खिलाफ साल 2013 में 60 रन खर्च किए थे।  (जागरण)

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Apr-2019
  • नई दिल्ली, 21 अप्रैल । आईसीसी वल्र्ड कप 2019 इंग्लैंड क्रिकेट टीम के बल्लेबाज एलेक्स हेल्स ने अचानक ही क्रिकेट को अलविदा कह दिया। उनके इस फैसले से क्रिकेट जगत हैरान है। सबसे अहम बात ये है कि हेल्स को इस विश्व कप के लिए इंग्लैंड की 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया था। विश्व कप टीम में मौका मिलने के बावजूद हेल्स ने अपने निजी कारणों की वजह से ये कदम उठाया है और क्रिकेट को अलविदा कह दिया। नॉटिंघमशर क्लब ने बताया कि हेल्स निजी कारणों की वजह से खुद को टीम में चयन के लिए उपलब्ध नहीं बताया है। अब वो क्रिकेट के मैदान पर वापसी करेंगे या नहीं इसकी कोई जानकारी नहीं है। 

    हेल्स ने अपनी टीम नॉटिघमशरप के लिए शुक्रवार को लंकाशायर के खिलाफ मैच नहीं खेला। अभी तक ये भी साफ नहीं हो पाया है कि 30 वर्ष का ये ओपनर बल्लेबाज आयरलैंड के खिलाफ एकमात्र वनडे मैच और फिर तीन मई से पाकिस्तान के खिलाफ शुरू हो रहे पांच मैचों की वनडे सीरीज और एक टी 20 मैच के लिए अपलब्ध रहेंगे या नहीं। विश्व कप से पहले इंग्लैंड को पाकिस्तान के खिलाफ वनडे व टी 20 सीरीज खेलनी है। इसके बाद इंग्लैंड की टीम 30 मई से शुरू हो रहे वनडे विश्व कप में शिरकत करेगी। विश्व कप का फाइनल मैच 14 जुलाई को खेला जाएगा। 

    इंग्लैंड ने विश्व कप के लिए चुनी गई शुरुआती टीम में उन्हीं खिलाडिय़ों को मौका दिया है जिन्होंने वेस्टइंडीज के विरुद्ध सीरीज खेली थी। तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर को भी टीम में मौका दिया गया है। जोफ्रा को विश्व कप से पहले पाकिस्तान के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज में अपनी प्रतिभा साबित करने का मौका मिलेगा। उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले पांच मैचों की वनडे सीरीज के लिए इंग्लैंड की टीम में मौका दिया गया है। 

    विश्व कप के लिए इंग्लैंड की टीम
    इयोन मॉर्गन, मोइन अली, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर, टॉम करन, जोए डेनली, एलेक्स हेल्स, लियाम प्लंकेट, अदिल राशिद, जो रूट, जेसन रॉय, बेन स्टोक्स, डेविड विली, क्रिस वोक्स और जोफ्रा आर्चर।

    पाकिस्तान के खिलाफ वन डे सीरीज के लिए इंग्लैंड की टीम -
    इयोन मॉर्गन, मोइन अली, जोफ्रा आर्चर, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर, टॉम करन, जोए डेनली, क्रिस जॉर्डन, एलेक्स हेल्स, लियाम प्लंकेट, अदिल राशिद, जो रूट, जेसन रॉय, बेन स्टोक्स, डेविड विली, क्रिस वोक्स और मार्क वुड।(जागरण)

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Apr-2019
  • आदेश कुमार गुप्त
    आईपीएल-12 में शनिवार को दो मुकाबले खेले गए और दोनो ही मुक़ाबलों में मेज़बान टीम ने जीत दर्ज की। पहले मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने एक बड़ा फ़ैसला करते हुए कप्तानी की जिम्मेदारी अजिंक्य रहाणे की जगह ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ के कंधो पर डाली। इस फैसले का परिणाम भी शानदार रहा और राजस्थान ने मुंबई इंडियंस को जयपुर में पांच विकेट से मात दी। इसके बाद दिन के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स ने अपने ही घर फिरोजशाह कोटला मैदान में किंग्स इलेवन पंजाब को पांच विकेट से हराया।

    दिल्ली के सामने जीत के लिए 164 रनों का लक्ष्य था जो उसने शिखर धवन के 56 रन और कप्तान श्रेयस अय्यर के नाबाद 58 रनों की मदद से 19.4 ओवर में पांच विकेट खोकर हासिल कर लिया। इससे पहले किंग्स इलेवन पंजाब ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में सात विकेट खोकर 163 रन बनाए।

    पंजाब के सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल ने 79 और मध्यम क्रम में मनदीप सिंह ने 30 रन बनाए। गेल ने अपने 69 रन के लिए 37 गेंदों पर छह चौके और पांच छक्कों का सहारा लिया।
    दिल्ली की जीत फिर भी कुछ सवाल
    दिल्ली ने जीत तो जरूर हासिल की लेकिन इसके लिए उसे अच्छा-खासा पसीना बहाना पड़ा। दिल्ली की पारी में अंतिम तीन ओवरों हालात ऐसे बन गए थे कि अगर पंजाब एक विकेट और चटका देती तो शायद मैच का नतीजा ही बदल जाता। दरअसल दिल्ली के बल्लेबाज कोलिन इनग्राम जब बल्लेबाज़ी करने के लिए मैदान में उतरे तब दिल्ली का स्कोर 15.1 ओवर के बाद तीन विकेट खोकर 128 रन था। यानि दिल्ली को जीत के लिए महज़ 36 रनों की ज़रूरत थी।

    पारी के 18वें ओवर में इनग्राम का बल्ला बोला और उन्होंने तेज़ गेंदबाज हर्डस विलजोइन की गेंदों पर तीन चौके लगाए। इस ओवर में बने 13 रन ने दिल्ली की जीत की राह आसान की। लेकिन इसके बाद अगले ओवर में मोहम्मद शमी ने महज चार दिए। उनके इस ओवर में अक्षर पटेल अजीबोगऱीब अंदाज में रन आउट हुए। उन्होंने शमी की गेंद पर शॉट लगाया और रन लेने के लिए दौड पड़े लेकिन दूसरा रन लेने की कोशिश में वह वापसी में शमी से टकरा गए।

    खैर अंतिम ओवर में दिल्ली को जीत के लिए केवल छह रनों की जरूरत थी। दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर ने चौथी गेंद पर चौके की मदद से मैच समाप्त किया। जीत भले ही दिल्ली को मिली लेकिन इसके बावजूद उसकी कुछ चिंताए भी खड़ी कर दी हैं।
    दिल्ली के लिए सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ कुछ खास नहीं कर पा रहे है तो वहीं ऋषभ पंत भी बड़ी पारी खेलने में नाकाम हो रहे हैं। अभी तक बल्लेबाज़ी का भार कप्तान श्रेयस अय्यर ने ही उठाया है।
    पृथ्वी शॉ ने पहले ही मैच में कोलकाता के खिलाफ 99 रन ज़रूर बनाए लेकिन इसके बाद से उनका बल्ला लगभग खामोश ही है।
    स्टीव स्मिथ की कप्तानी
    दिन के पहले मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने मुंबई इंडियंस का जीत का रथ रोका और उसे बेहद आसानी से अपने ही घर जयपुर में पांच विकेट से हराया। इस मुकाबले में इस बार आईपीएल में लगातार हार से परेशान राजस्थान ने टूर्नामेंट के बीच में ही अजिंक्य रहाणे की जगह ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ को कप्तानी सौंप दी। उनका यह दांव कम से कम शनिवार को तो सही पड़ा। स्टीव स्मिथ ने टॉस जीतकर मुंबई इंडियंस को पहले बल्लेबाजी के लिए बुलाया।
    अपने नए कप्तान के फैसले को सही साबित करते हुए राजस्थान के गेंदबाज़ों ने मुंबई इंडियंस को निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट पर 161 रन पर रोक दिया।
    मुंबई के सलामी बल्लेबाज और फॉर्म में चल रहे क्विंटन डी कॉक ने 47 गेंदों पर छह चौके और दो छक्कों की मदद से 65 रन बनाए। उनके अलावा सूर्यकुमार यादव ने 34 और हार्दिक पांड्या ने 34 रन बनाए।
    स्टीव स्मिथ और बेन स्टोक्स
    इनके अलावा मुंबई का कोई और बल्लेबाज़ राजस्थान के गेंदबाज़ों का सामना नहीं कर सका। इसके बाद राजस्थान ने जीत के लिए 162 रनों का लक्ष्य ख़ुद कप्तान स्टीव स्मिथ के नाबाद 59 और युवा बल्लेबाज़ रियान पराग के 43 रनों की मदद से 19।1 ओवर में पांच विकेट खोकर हासिल कर लिया। इनके अलावा सलामी बल्लेबाज़ संजू सैमसन ने भी 35 रनों का महत्वपूर्ण योगदान दिया।
    डेविड वार्नर स्टीव स्मिथ
    इसके साथ ही यह भी साबित हो गया कि भले ही स्टीव स्मिथ गेंद से छेडछाड़ के कारण एक साल तक क्रिकेट से दूर रहे लेकिन उनकी कप्तानी के गुण उनसे दूर नहीं गए हैं।
    स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर की वापसी ऑस्ट्रेलियाई टीम में भी हो गई है और वह विश्व कप में अपनी टीम की सबसे बड़ी उम्मीद भी होंगे। स्मिथ ने गेंदबाजी में लगातार परिवर्तन किया। हांलाकि एक समय दूसरे विकेट के लिए मुंबई के सूर्यकुमार यादव और क्विंटन डी कॉक ने 97 रनों का साझेदारी की, लेकिन तब तक 13.5 ओवर हो चुके थे।
    जाहिर है यह स्टीव स्मिथ की कप्तानी का ही परिणाम था कि बाकि बल्लेबाज़ उनके बुने जाल में फंसते चले गए। राजस्थान के लिए गेंदबाज़ी में श्रेयस गोपाल और जोफ्रा आर्चर तुरूप के इक्के साबित हुए।
    जोफ्रा आर्चर
    श्रेयस गोपाल ने चार ओवर में केवल 21 रन देकर दो और जोफ्रा आर्चर ने भी चार ओवर में केवल 22 रन देकर एक विकेट हासिल किया।
    वैसे यह भी कमाल की बात है कि इस बार आईपीएल में बेहद खऱाब प्रदर्शन करने वाली राजस्थान ने दोनों मुकाबलों में मुंबई को मात दी। इससे पहले राजस्थान ने मुंबई को उसी के घर वानखेडे स्टेडियम में चार विकेट से मात दी थी।
    शनिवार की जीत के बाद भी राजस्थान की हालत अंक तालिका में बहुत अच्छी नही है। उसने नौ में से केवल तीन मैच जीते है और छह हारे हैं। सुपर-4 की दौड़ से अभी भी वह बहुत दूर है। ऐसे में स्टीव स्मिथ को कप्तान बनाकर अजिंक्य रहाणे को भी थोड़ा दबावमुक्त किया गया है जो अभी तक बल्लेबाजी में कोई खास दम-खम नही दिखा पर रहे थे। (बीबीसी)

     

     

    .

    ...
  •  


Posted Date : 20-Apr-2019
  • कोलकाता,  20 अप्रैल । इंडियन टी-20 लीग के एक सांस थाम देने वाले मुकाबले में बैंगलोर के खिलाफ कोलकाता के इस मिस्ट्री स्पिनर की ऐसी पिटाई हुई कि वे आईपीएल इतिहास के सर्वाधिक रन देने वाले भारतीय गेंदबाज बन गए।दरअसल, कोलकाता के ईडन गार्डंस में खेले गए आईपीएल के 35वें मुकाबले में मेजबान टीम ने टॉस जीतकर बैंगलोर को बल्ला थमाया। इस मैच में कोलकाता की ओर से खेल रहे युवा स्पिन गेंदबाज कुलदीप यादव ने अपने चार ओवर के कोटे में कुल 59 रन खर्च कर डाले। इसी के साथ यादव आईपीएल में भारत की ओर से सबसे महंगे स्पिनर बन गए। कुलदीप यादव ने 59 रन देकर कर्ण शर्मा का रिकॉर्ड तोड़ दिया, जिन्होंने साल 2016 में 57 रन दे डाले थे। वैसे इमरान ताहिर भी साल 2016 में दिल्ली की ओर से खेलते हुए मुंबई इंडियंस के खिलाफ कुल 59 रन दिए जो किसी स्पिनर का आईपीएल के किसी एक मैच में सर्वाधिक है। रवींद्र जडेजा भी साल 2017 में 59 रन लुटा चुके हैं। कुलदीप यादव ने 50 रन तो छक्के और चौकों से ही दे दिए। कुलदीप को विराट कोहली ने भी जमकर पीटा। 16वें ओवर में मोइन अली ने 4, 6, 4, 6, वाइड 6 के रूप में 27 रन दे दिए। हालांकि आखिरी गेंद में मोईन अली का विकेट जरूर मिल गया।
    कुलदीप यादव ने 50 रन तो छक्के और चौकों से ही दे दिए। कुलदीप को विराट कोहली ने भी जमकर पीटा। 16वें ओवर में मोइन अली ने 4, 6, 4, 6, वाइड 6 के रूप में 27 रन दे दिए। हालांकि आखिरी गेंद में मोईन अली का विकेट जरूर मिल गया। अपने बेहद ही खराब प्रदर्शन से बेहद मायूस नजर आए। बताते चलें कि इंग्लैंड में 30 मई से शुरू होने जा रहे विश्व कप में भारतीय टीम के अहम सदस्य कुलदीप का मौजूदा आईपीएल अब तक कुछ खास नहीं रहा है। उन्होंने अब तक 9 मैच खेले हैं जिनमें उनके नाम केवल 4 विकेट ही दर्ज है। (अमर उजाला)

     

     

    ...
  •  




Previous12Next