खेल

Date : 19-Oct-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जांजगीर-चांपा, 19 अक्टूबर।
संभाग स्तरीय कराते प्रतियोगिता सांस्कृतिक भवन सक्ती में आयोजित जिले के सभी स्कूलों के चयनित प्रतिभागी सम्मिलित हुए। संभाग स्तरीय कराते प्रतियोगिता के आयोजन में छात्रों ने अपने कराते क्रीड़ा कौशल का प्रदर्शन किया, जिसमें ब्रिलियंट पब्लिक स्कूल बनारी जांजगीर से 3 प्रतिभागी शामिल हुए। 
इसमें से ब्रिलियंट पब्लिक स्कूल बनारी जांजगीर के छात्र कक्षा छइवीं से अर्नीष मजूमदार ने अपने कुशल कराते कौशल का प्रदर्शन करते हुए राज्य स्तरीय कराते प्रतियोगिता में चयनित होकर विद्यालय एवं शहर तथा अपने परिवार को गौरांवित किया। इस राज्य स्तरीय चयन पर विद्यालय के संचालक आलोक अग्रवाल विद्यालय के प्राचार्या श्रीमती सोनाली सिंह एवं विद्यालय के समस्त स्टॉफ ने चयनित छात्रों को बधाई एवं शुभकामना की तथा उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। उपरोक्त राज्य स्तरीय प्रतियागिता में विद्यालय के खेल प्रशिक्षक पुरूषोत्तम सोनी कराते प्रशिक्षक रोशन, भानू एवं कराते अनुदेशक वरूण पाण्डेय का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

 


Date : 19-Oct-2019

तनिष्का ने अनुभवी रतिंद्र ठाकुर को मात दी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
दुर्ग, 19 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ मंच के बैनर तले श्री जलाराम सांस्कृतिक भवन सिविल लाइन दुर्ग में स्व लालजी भाई आढ़तिया की स्मृति में आयोजित श्री जलाराम ट्राफी जिला स्तरीय ओपन शतरंज स्पर्धा के पांचवें राउंड का मैच बहुत ही रोमांचकारी रहा। श्री जलाराम ट्रॉफी में हुए अब तक के सभी चक्रों पर यह चक्र बहुत ही महत्वपूर्ण रहा। खेले गए मुकाबलों में टॉप टेन टेबलो का रोमांच अपने चरम सीमा पर था। पांचवें चक्र का शुभारंभ संजय बोहरा, दिनेश नलोडे द्वारा शतरंज की चाल चलकर किया गया। 
मंच के अध्यक्ष ईश्वर सिंह राजपूत ने श्री जलाराम ट्रॉफी के पांचवें चक्र की जानकारी देते हुए बताया कि आज खेले गए  पांचवा चक्र काफी संघर्षपूर्ण रहा। पहले टेबल पर एस धनंजय ने अपना दबदबा बरकरार रखा हुआ है। उनका मुकाबला दुर्ग के वरिष्ठ खिलाड़ी सुभाष बक्शी से था, लेकिन एस. धनंजय के सटीक खेल के आगे बक्शी टिक नहीं पाए और एस धनंजय ने लगातार अपना पांचवा अंक हासिल कर प्रथम टेबल पर बने हुए हैं।  दूसरे टेबल पर आशुतोष बनर्जी और अजय कुमार राय के बीच का मुकाबला बहुत ही संघर्षपूर्ण रहा दोनों ही रेटिंग प्राप्त खिलाड़ी है ।खेल की अच्छी परख  दोनों ही खिलाडिय़ों के पास है यही कारण रहा कि 40 चालों तक दोनों का संघर्ष शह और मात के लिए चलता रहा अंतिम क्षणों में अजय राय ने अपना धैर्य खो दिया, जिसका लाभ आशुतोष बनर्जी ने उठाया। उन्होंने लंदन सिस्टम ओपनिंग खेला जो इस खेल का बहुत ही प्रसिद्ध तकनीक है। अंतत: आशुतोष ने अजय राय के खिलाफ जीत दर्ज कर अपना पांचवा अंक हासिल किया। टेबल क्रमांक 3 पर दो बहुत ही अनुभवी वरिष्ठ खिलाडिय़ों के बीच मुकाबला खेला गया एक तरफ सफेद मोहरों के साथ सबसे वरिष्ठ व अनुभवी खिलाड़ी वीरेंद्र जैन तो दूसरी तरफ पीएल शास्त्री थे। समय की कमी की वजह से ड्रा होता मैच वीरेंद्र जैन के पक्ष में रहा और उन्होंने जीत दर्ज कर अब तक साढ़े 4 अंक हासिल कर लिया है।  चौथे टेबल पर एक बड़ा उलटफेर देखने को मिला  गत वर्ष 2018 के श्री जलाराम ट्रॉफी के विजेता एवं अंडर.19 के राज्य चैंपियन दुर्ग के राहुल शर्मा को विश्वजीत ने हराकर सनसनी फैला दी और अपना चौथा अंक हासिल किया। पांचवे टेबल पर 13 वर्षीय कुमारी तनिष्का त्रिपाठी ने अनुभवी व वरिष्ठ खिलाड़ी दुर्ग के  रतींद्र  ठाकुर को आसानी से परास्त कर अपना चौथा अंक हासिल किया यहां पर अनुभवी खिलाड़ी का अनुभव काम नहीं आया और जूनियर खिलाड़ी तनिष्का ने बाजी मार ली।  पांचवें चक्र के अन्य प्रमुख विजयी खिलाडिय़ों के नाम इस प्रकार हैं। यशस्व अनिल कनहोलकर, शिव शंकर शर्मा, वंश अग्रवाल, आदित्य मेश्राम, सूर्यनारायण, आर्यन नायर, धनंजय सिंग, वनेध खातवा, योगेश सोनी, आरुणी अग्रवाल एवं अन्य खिलाड़ी रहे।

 


Date : 19-Oct-2019

रांची, 19 अक्टूबर। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने यहां झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (जेएससीए) स्टेडियम में शनिवार को खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। तीन मैचों की टेस्ट सीरीज को भारत ने पहले ही अपने नाम कर लिया है। मेजबान टीम सीरीज में 2-0 से आगे चल रही है। कप्तान कोहली ने इस मैच के लिए तेज गेंदबाज इशांत शर्मा के स्थान पर शाहबाज नदीम को मौका दिया है। 30 वर्षीय नदीम भारत के लिए टेस्ट खेलने वाले 296वें खिलाड़ी हैं। 
नदीम इस टेस्ट के साथ ही टेस्ट में डेब्यू किया। टॉस से ठीक पहले कप्तान विराट कोहली ने उन्हें टेस्ट कैप पहनाई। बाएं हाथ के ऑर्थोडॉक्स स्पिन गेंदबाज नदीम ने फर्स्ट क्लास करियर में कुल 110 मैच खेलते हुए 424 विकेट झटके हैं, जबकि 2131 रन भी बनाए हैं। उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 45 रन देकर 7 विकेट रही है। लिस्ट-ए करियर की बात करें तो उन्होंने 106 मैच खेलते हुए 145 विकेट झटके हैं। मौजूदा सत्र में वह विजय हजारे ट्रोफी में झारखंड के लिए खेल रहे थे। 
टॉस के बाद क्या बोले विराट 
टॉस जीतने के बाद कप्तान विराट ने कहा, 'विकेट अच्छा दिख रहा है। यह टिपिकल रांची विकेट है। यहां गेंद शुरुआत में तेज आती है और फिर धीमी होती जाती है। यह स्पिन के लिए अच्छी पिच साबित हो सकती है। मैच के लिए इशांत को ब्रेक दिया गया है। उनकी जगह शाहबाज नदीम को मौका मिला है। वह डेब्यू करेंगे। शाहबाज नदीम यहां के ही हैं। उनके लिए यह ड्रीम डेब्यू होगा।
साउथ अफ्रीकी टीम में 5 बदलाव 
दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस इस मुकाबले में टॉस के लिए टेम्बा बावुमा को अपने साथ लेकर आए, लेकिन बावुमा भी मेहमान टीम की किस्मत नहीं पलट पाए। दक्षिण अफ्रीका ने इस मैच के लिए कुल पांच बदलाव किए हैं। 
एडेन मार्करम, वार्नोन फिलैंडर, थेयुनिस डे ब्रयुन, सेनुरान मुथुसामी और केशव महाराज के स्थान पर जुबायर हम्जाए, हेनरिक क्लासन, जॉर्ज लिंडे, लुंगी एंगिडी और डेन पीट को मौका दिया है। लिंडे अपने करियर का पहला टेस्ट मैच खेलेंगे जबकि मार्करम चोटिल होने के कारण टीम से बाहर हुए हैं। 
टीमें 
भारत : विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे (उप-कप्तान), रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), शाहबाज नदीम, मोहम्मद शमी और उमेश यादव। 
दक्षिण अफ्रीका : डीन एल्गर, क्विंटन डि कॉक, जुबैर हम्जा, फाफ डु प्लेसिस (कप्तान), टेम्बा बावुमा (उपकप्तान), हेनरिक क्लासन (विकेटकीपर), जॉर्ज लिंडे, डेन पीट, कागिसो रबाडा, एनरिक नोर्टजे और लुंगी एंगिडी। (नवभारत टाईम्स)

 


Date : 19-Oct-2019

रांची, 19 अक्टूबर । भारत और साउथ अफ्रीका के बीच टेस्ट सीरीज का तीसरा और आखिरी टेस्ट मैच रांची स्टेडियम में खेला जा रहा है। मैच में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया है। टॉस के दौरान एक रोचक बात देखने को मिली। दरअसल, टॉस के लिए साउथ अफ्रीका की ओर से दो कप्तान, नियमित कप्तान फाफ डु प्लेसिस और टॉस कैप्टन बावुमा, उतरे। इसके बावजूद साउथ अफ्रीका एक बार फिर अपना लक नहीं बदल पाई और टॉस हार गई। 
भारत के खिलाफ रांची टेस्ट में टॉस के लिए साउथ अफ्रीका की ओर से दो कप्तान, नियमित कप्तान फाफ डु प्लेसिस और टॉस कैप्टन बावुमा, उतरे। इसके बावजूद साउथ अफ्रीका एक बार फिर टॉस नहीं जीत सका। 
उल्लेखनीय है कि साउथ अफ्रीका के कप्तान फाफ एशिया में लगातार 9 टॉस हार चुके थे। इस वजह से यहां रांची में टॉस के लिए वह अपने साथ बावुमा को लेकर उतरे। हालांकि, इसके बावजूद टॉस के रिजल्ट में कोई परिवर्तन नहीं हुआ। देखा जाए तो उनकी कप्तानी में साउथ अफ्रीका ने एशिया में लगातार 10वीं बार टॉस गंवाया है। देखा जाए तो यह पहला मौका नहीं है जब डु प्लेसिस अपने साथ टॉस कैप्टन लेकर मैदान पर उतरे। 
इससे पहले पिछले वर्ष अक्टूबर में साउथ अफ्रीका और जिम्बाब्वे के बीच एक इंटरनैशनल टी-20 मैच खेला गया था, जिसमें फाफ डु प्लेसिस की जगह जेपी ड्यूमिनी टॉस के लिए आए थे। रोचक बात यह है कि ड्यूमिनी उस मैच के लिए प्लेइंग इलेवन का हिस्सा भी नहीं थे। 
मैच से पहले डु प्लेसिस ने कहा था, 'हम वास्तव में चाहते हैं कि हम इस टीम से अपनी शर्तों पर मुकाबला करें। पहले टेस्ट मैच में कुछ चरणों में हमने ऐसा किया। इसलिए उम्मीद है कि कल (शनिवार को) हम टॉस से इसकी शुरुआत करेंगे।' उन्होंने आगे कहा, 'संभवत: हम बदलाव करेंगे.... कल टॉस के लिए किसी अन्य को भेजकर क्योंकि मेरा रेकॉर्ड अभी तक इसमें (टॉस जीतने) अच्छा नहीं रहा है।
महिला क्रिकेट के दौरान भी हुआ था ऐसा 
इसी वर्ष सितंबर में ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका की महिला टीम के बीच इंटरनैशनल टी-20 सीरीज के पहले मुकाबले में ऐसा देखने को मिला था। दरअसल, सीरीज का पहला टी-20 मैच 29 सितंबर को सिडनी के ओवल में खेला गया। इस मैच में टॉस के दौरान '3 कप्तानों वाला' मजेदार वाकया देखने को मिला। दरअसल, टीम शीट पर ऑस्ट्रेलिया की कप्तान थीं मेग लेनिंग, जबकि टॉस के लिए 'टॉस कप्तान' एलिसा हिली मैदान पर उतरीं। अब मैदान पर 3 कप्तान थे। श्रीलंका की कप्तान चमारी अट्टापट्टू के साथ ऑस्ट्रेलिया की कप्तान मेग लेनिंग और एलिसा हिली। इसके पीछे की कहानी लेनिंग ने बताई। उन्होंने बताया कि ऐसा इसलिए किया गया, क्योंकि वह टॉस के लिए अनलकी साबित हो रही थीं। (नवभारत टाईम्स)

 


Date : 18-Oct-2019

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर । टेस्ट क्रिकेट में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वालों कि लिस्ट में विराट कोहली सौरव गांगुली से आगे निकल सकते हैं। गांगुली ने 113 टेस्ट खेलकर 7212 रन बनाए हैं जबकि कोहली ने 81 टेस्ट खेलकर 7054 रन बनाए हैं। कोहली साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में दोहरा शतक जमा चुके हैं और उनके फॉर्म को देखते हुए लगता है वह 159 रन बनाकर गांगुली को आसानी से पीछे छोड़ देंगे।
वैसे विराट कोहली के पास तीसरे टेस्ट में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ग्रेग चैपल और न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग को पीछे छोडऩे का भी मौका होगा। चैपल के नाम टेस्ट क्रिकेट में 7110 रन हैं तो वहीं फ्लेमिंग 7172 टेस्ट रन बनाए हैं। 
विराट कोहली ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में दोहरा शतक जमाकर सचिन तेंदुलकर और सहवाग के रिकॉर्ड को तोड़ा। कोहली ने टेस्ट में सातवां दोहरा शतक जमाया और भारत की तरफ से ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज बने।(जागरण)

 


Date : 18-Oct-2019

कोलकाता, 18 अक्टूबर । बीसीसीआई के भावी अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि भारत और पाक के बीच द्विपक्षीय सीरीज के बारे में वह कुछ नहीं बता सकते। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान ने कहा कि भारत-पाक के बीच क्रिकेट संबंध दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के अनुमोदन बाद ही बहाल हो सकते हैं।
कोलकाता में गुरुवार को एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान गांगुली से भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय संबंधों को फिर से शुरू करने के बारे में पूछा गया। पूर्व क्रिकेटर ने जवाब दिया, आपको मोदीजी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से यह सवाल पूछना होगा। उन्होंने कहा, बेशक हमें अनुमति लेनी होगी, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय दौरों का मसला दोनों सरकारों के पास है। इसलिए हमारे पास इस सवाल का जवाब नहीं है।
भारत और पाकिस्तान के बीच पिछले सात सालों से कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं हुई है। दोनों के बीच आखिरी सीरीज 2012 में हुई थी, जब पाकिस्तानी टीम भारत दौरे पर आई थी। जिसमें दो टी-20 इंटरनेशनल और तीन वनडे मैचों की सीरीज खेली गई थी। इसके बाद से ही दोनों टीमों का सामना सिर्फ आईसीसी टूर्नामेंट या एशिया कप में होता है।
इस साल 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शहादत के बाद बीसीसीआई ने आईसीसी को पत्र लिखकर वैश्विक संस्था और उसके सदस्य देशों से आतंकियों को शरण देने वाले देशों से संबंध तोडऩे की अपील की थी। यह पत्र तीन सदस्यीय प्रशासकों की समिति (सीओए) की तरफ से भेजा गया था, जो बीसीसीआई चुनाव होने तक बोर्ड के कामकाज को संभाल रही है।
गांगुली 23 अक्टूबर को पदभार संभालेंगे
47 साल के सौरव गांगुली 23 अक्टूबर को बीसीसीआई के अगले अध्यक्ष के रूप में पदभार संभालेंगे। उन्होंने 2004 में पाकिस्तान के ऐतिहासिक दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व किया था, जो 1999 में कारगिल युद्ध के बाद पहली द्विपक्षीय सीरीज और 1989 के बाद भारत की पहली पाकिस्तान यात्रा थी। इससे पहले सौरव गांगुली ने बुधवार को कहा था कि वह पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर 24 अक्टूबर को चयनकर्ताओं से बात करेंगे।(आज तक)

 


Date : 18-Oct-2019

प्रतीक बंदोपध्याय 
रांची, 18 अक्टूबर। भारत और साउथ अफ्रीका के बीच तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच के लिए झारखंड राज्य क्रिकेट असोसिएशन का मैदान बिल्कुल तैयार है। तीसरे टेस्ट मैच से पहले भारतीय टीम ने गुरुवार को यहां जमकर अभ्यास किया और क्रिकेट फैन्स यहां अपने चहेते खिलाडिय़ों का प्रैक्टिस सेशन भी देखने आए। 
खिलाडिय़ों के प्रैक्टिस सत्र के दौरान फैन्स और मीडिया की आंखें यहां झारखंड के सबसे खास चेहरे को तलाश रही थीं। वह थे महेंद्र सिंह धोनी। धोनी भले ही टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके हों लेकिन फैन्स और मीडिया को आस थी कि माही भारतीय टीम से मिलने यहां जरूर आएंगे और सभी की जुबान पर यही सवाल था कि आखिर एमएस धोनी हैं कहां? क्या वह मैच देखने यहां आएंगे? 
सिर्फ सीमित ओवरों के फॉर्मेट में खेलने वाले महेंद्र सिंह धोनी वल्र्ड कप के बाद से ही क्रिकेट के मैदान से दूर हैं। माही टीम इंडिया के लिए विकेटकींपिक ग्लब्स पहने अब कब उतरेंगे इस पर भी तस्वीर कुछ साफ नहीं हैं। बीसीसीआई के नए अध्यक्ष बनने जा रहे सौरभ गांगुली ने भी हाल में कहा, जब मैं सिलेक्टर्स से 24 अक्टूबर को मिलूंगा तो मैं भी इस सवाल का जवाब उनसे मांगूगा कि वह धोनी को लेकर क्या सोच रहे हैं। 24 अक्टूबर को भारतीय चयनकर्ता बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज के लिए टीम इंडिया का चयन करेंगे। 
धोनी की प्रतिभा को स्कूल के दिनों से ही पहचानने वाले केशव बनर्जी इन दिनों धोनी के संन्यास पर हो रही चर्चाओं से खुश नहीं हैं। 
हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए बनर्जी ने कहा, धोनी साल 2004 से ही टीम इंडिया के लिए पूरी लगन से लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं। ऐसे में वह पर्याप्त आराम करने के भी हकदार हैं। ऐसे में उन्हें कुछ समय अपने परिवार के साथ बिताने देना चाहिए। 
जब केशव बनर्जी से यह पूछा गया कि उनकी राय में आखिर कब तक धोनी को इंटरनैशनल क्रिकेट में बने रहना चाहिए? इसके जवाब में बनर्जी ने कहा, मेरे ख्याल में वह अगले साल होने वाले टी20 वर्ल्ड कप तक खेलना चाहते होंगे। इसके बाद वह अपने संन्यास पर फैसला जरूर ले लेंगे। 
उन्होंने कहा, भारतीय क्रिकेट के लिए यह अच्छी चीज है कि इन दिनों भारत के पास विकेटकीपर्स का अच्छा पूल है, जो धोनी के बाद उनकी विरासत को संभाल सकता है। उन्होंने कहा, झारखंड के ही इशान किशन शानदार कर रहे हैं, इसी तरह संजू सैमसन भी हैं। सफेद बॉल क्रिकेट के लिए शायद ऋद्धिमान साहा अच्छा विकल्प न हों क्योंकि वह बड़े हिट लगाने वाले खिलाड़ी नहीं हैं लेकिन टेस्ट क्रिकेट में स्टंप्स के पीछे वह क्या शानदार खिलाड़ी हैं। इन दिनों सिलेक्टरों के पास खूब सारे विकल्प हैं।
बनर्जी मानते हैं कि आगामी बांग्लादेश सीरीज के लिए सिलेक्टर्स को किसी युवा खिलाड़ी पर दांव खेलना चाहिए। उन्होंने कहा, धोनी की वापसी से ज्यादा यह जरूरी होगा कि जिस भी खिलाड़ी ने घरेलू स्तर पर चयनकर्ताओं को प्रभावित किया है उसे टीम इंडिया में खेलने का मौका मिलना चाहिए।
बनर्जी ने कहा, इन दिनों जो खिलाड़ी अपने पीक पर हैं और उम्दा फॉर्म में खेल रहे हैं उन्हें सिर्फ घरेलू क्रिकेट में ही नहीं खेलते रहने देना चाहिए। उनकी प्रतिभा को इंटरनेशनल स्तर पर परखने के लिए बांग्लादेश का सीरीज बिल्कुल सही मौका है। (नवभारत टाईम्स)


Date : 18-Oct-2019

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर। टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर और उनकी पत्नी फरहीन के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को आपराधिक मामले में एफआईआर दर्ज की है। इन दोनों के खिलाफ ये एफआईआर प्रभाकर की पूर्व पत्नी लंदन में रहने वाली संध्या प्रभाकर ने दर्ज कराई है। मालवीय नगर थान में दर्ज कराई गई इस एफआईआर में संध्या ने प्रभाकर पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने कुछ राजनेताओं की सहायता से दक्षिण दिल्ली स्थित उनके फ्लैट को बेच दिया। संध्या ने जब पती-पत्नी से इस मामले में संपर्क करना चाहा तो इस जोड़ी ने संध्या को इसके भयंकर परिणाम भुगतने की बात कही।
संध्या, पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी की पहली पत्नी हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि फरहीन ने उनसे फ्लैट लौटाने के लिए 1.50 करोड़ रुपये की मांग की थी। संध्या ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420/468/471/120-बी-34 के तहत प्रभाकर पर फरहीन और कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर उनकी संपत्ति हड़पने के आरोप लगाए हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पहले ये पारिवारिक मुद्दा लग रहा था लेकिन जांच के बाद खुली परतों से पता चला कि फरहीन की उस संपत्ति पर नजरें हैं।
पेशे से अभिनेत्री रह चुकी फरहीन ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत तमिल और कन्नड़ फिल्मों से की थी। बाद में वो मुंबई आ गईं। कुछ हिंदी फिल्मों में काम करने के बाद उन्होंने बॉलीवुड का दामन छोड़ दिया और प्रभाकर से शादी कर ली जिसके बाद उनके संध्या से रिश्ते बिगडऩे लगे। एफआईआर 17 अक्टूबर को दर्ज कराई गई, लेकिन असल प्रकरण 1 अक्टूबर का है जब संध्या की प्रभाकर और फरहीन के खिलाफ एफआईआर दिल्ली के सीनियर पुलिस अधिकारी के आदेश पर पुलिस द्वारा दर्ज की गई।
अपनी एफआईआर में संध्या ने कहा है कि सर्वप्रिया विहार में 7/18 बिल्डिंग में दूसरी मंजिला फ्लैट उनके दूसरे पति दिवगंत लक्ष्मी चंद पंडित ने खरीदा था। 1995 में खरीदे गए इस फ्लैट के सभी कागजात लक्ष्मी चंद पंडित के नाम पर हैं। संध्या इस फ्लैट में 2006 तक रहीं। इसके बाद इसमें उनके भाई ने निवास किया। भाई के बाद उनका एक दोस्त अगस्त 2018 तक इस फ्लैट में रहा। इसके बाद उनका परिवार इस फ्लैट को कभी-कभार उपयोग में लेता था। संध्या ने आरोप लगाया है कि जुलाई 2019 में उन्हें अपने भाई से पता चला कि मनोज प्रभाकर के गुंडों ने फ्लैट का ताला तोड़ा और उसे हथिया लिया। दिलचस्प बात ये है कि मनोज और उनकी पत्नी फरहीन अपने दो बेटों के साथ इसी बिल्डिंग में पहली मंजिल पर रहते हैं। पुलिस ने कहा कि इस मामले में जांच शुरू हो चुकी है और प्रभाकर तथा उनकी पत्नी के बयान रिकॉर्ड किए जाएंगे। आईएएनएस ने प्रभाकर से उनका पक्ष जानने की कोशिश की लेकिन शुक्रवार शाम तक उनसे संपर्क नहीं किया जा सका। (एजेंसी)
 


Date : 17-Oct-2019

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर । मुंबई के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने बुधवार को विजय हजारे ट्रोफी में दोहरा शतक लगाते हुए इतिहास रच दिया। जायसवाल ने बेंगलुरु में झारखंड के खिलाफ ग्रुप-ए के मैच में 203 रनों की रेकॉर्ड तोड़ पारी खेली। इसके साथ ही वह लिस्ट-ए क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बन गए हैं, जबकि विजय हजारे में ऐसा करने वाले तीसरे बल्लेबाज हैं। मौजूदा टूर्नमेंट में दोहरा शतक लगाने वाले जायसवाल दूसरे बल्लेबाज हैं। 
तोड़ा एलन बैरोव का 44 वर्ष पुराना रेकॉर्ड 
यशस्वी से पहले लिस्ट-ए में सबसे कम उम्र में दोहरा शतक लगाने का वर्ल्ड रेकॉर्ड साउथ अफ्रीका के एलन बैरोव के नाम था। एलन ने 1975 में डरबन के मैदान पर 20 वर्ष 275 दिन की उम्र में नेतल की ओर से खेलते हुए दोहरा शतक जड़ा था। दूसरी टीम साउथ अफ्रीका-ङ्गढ्ढ थी। यशस्वी ने यह कारनामा महज 17 वर्ष 292 दिन में ही कर दिया।
यंगेस्ट डबल सेंचुरियन की लिस्ट में ये भी हैं शामिल 
अन्य की बात करें तो मिशेल वान बुरेन ने 21 वर्ष 20 दिन, ऑस्ट्रेलिया के ट्रैविस हेड ने 21 वर्ष 280 दिन, इंग्लैंड के बेन डकेट ने 21 वर्ष 282 दिन, पाकिस्तान के मोहम्मद अली ने 22 वर्ष 103 दिन, इंग्लैंड के रवि बोपारा ने 23 वर्ष 31 दिन, पाकिस्तान के खालिद लतीफ ने 23 वर्ष 131 दिन, भारत के संजू सैमसन ने 24 वर्ष 335 दिन और ओस्ट्रेलिया के फिल ह्यूज ने 25 वर्ष 241 दिन की उम्र में दोहरा शतक लगाने का कारनामा किया था। 
दोहरा शतक जडऩे वाले 9वें भारतीय 
इस पारी के साथ 17 वर्षीय जायसवाल लिस्ट-ए क्रिकेट में दोहरा शतक जडऩे वाले नौवें भारतीय बल्लेबाज भी बन गए हैं। भारतीय बल्लेबाजों द्वारा लिस्ट-ए में लगाए गए 9 दोहरे शतकों में से पांच वनडे में बनाए गए हैं। लिस्ट-ए वनडे मैच में रोहित शर्मा के नाम 3 और वीरेंदर सहवाग और सचिन तेंडुलकर के नाम एक-एक दोहरा शतक है। 
विजय हजारे तीसरा दोहरा शतक 
विजय हजारे ट्रोफी में सबसे पहला दोहरा शतक पिछले सीजन उत्तराखंड के कर्णवीर कौशल ने जड़ा था। उन्होंने सिक्किम के खिलाफ 202 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी। दूसरी ओर, विकेटकीपर-बल्लेबाज संजू सैमशन ने मौजूदा सीजन में केरल के लिए खेलते हुए गोवा के खिलाफ नाबाद 212 रन बनाकर इतिहास रच दिया था। वह विजय हजारे टूर्नमेंट के एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। अब यशस्वी ने दोहरा शतक जड़ा है। (नवभारत टाईम्स)
 


Date : 17-Oct-2019

बार्सिलोना, 17 अक्टूबर। बार्सिलोना के कप्तान लियोनेल मेसी ने यूरोपीय लीग में सर्वाधिक गोल करने के लिए छठी बार ‘गोल्डन शू’ हासिल किया। मेसी ने लगातार तीसरे साल यह पुरस्कार हासिल किया। उन्होंने इस साल 36 गोल किए जो उनके करीबी प्रतिद्वंद्वी पेरिस सेंट जर्मेन के कायलियान एम्?बाप्?पे से तीन गोल अधिक हैं। मेसी के बेटों थियगो और माटियो ने अपने पिता को ट्रोफी सौंपी। मेसी ने यह ट्रौफी अपने परिवार और साथी खिलाडिय़ों को समर्पित की। मेसी गोल्डन शू की दौड़ में अपने प्रतिद्वंद्वी क्रिस्टियानो रोनाल्डो से अब एक कदम और आगे निकल गए हैं। उल्लेखनीय है कि पुर्तगाल के स्ट्राइकर के नाम 4 गोल्डन शू अवॉर्ड है। (नवभारत टाईम्स)
 

 


Date : 17-Oct-2019

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर। वेस्टइंडीज के धुंआधार बल्लेबाज आंद्रे रसेल ने बुधवार को कहा कि टी10 प्रारूप से क्रिकेट को ओलंपिक का हिस्सा बनाने में मदद मिल सकती है। टी20 क्रिकेट के बेहद कामयाब बल्लेबाज रसेल अबुधाबी टी10 टूर्नामेंट में नादर्न वॉरियर्स का हिस्सा होगा। इस लीग का तीसरा सत्र 14 से 24 नवंबर तक खेला जायेगा। यह पूछने पर कि क्या टी10 प्रारूप से क्रिकेट को ओलंपिक में जगह मिल सकती है, उन्होंने हां में जवाब दिया।
रसेल ने कहा, यह क्रिकेट को ओलंपिक खेल बनाने के लिए बहुत अच्छा होगा। मुझे पता है कि सभी खिलाड़ी ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करना चाहेंगे। उन्होंने कहा, टी10 प्रारूप टी20 से भी छोटा है। बल्लेबाजों को इसमें बहुत कम समय मिलता है और आते ही हमला बोलना पड़ता है।
रसेल ने कहा, गेंदबाज और क्षेत्ररक्षकों को भी अच्छी रणनीति बनाकर अपने खेल का स्तर बेहतर करना होता है। अबुधाबी टी10 के बारे में उन्होंने कहा कि उन्हें यकीन है कि इस बार सत्र पिछली बार से बेहतर होगा। उन्होंने कहा, मुझे यकीन है कि यह सुपरहिट होगा। अबुधाबी से बेहतर मेजबान नहीं हो सकता। खिलाड़ी के तौर पर दौरा करने के लिए यह बहुत अच्छी जगह है। (आजतक)

 


Date : 15-Oct-2019

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर। भारतीय कप्तान विराट कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में टॉप पर काबिज ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ के काफी करीब पहुंच गए हैं। साउथ अफ्रीका के खिलाफ पुणे टेस्ट में 254 रनों की शानदार पारी खेलने वाले कोहली अब स्मिथ से सिर्फ 1 अंक पीछे हैं। कोहली की पारी की बदौलत भारतीय टीम ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में 2-0 की बढ़त बना ली है।
सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल की रैंकिंग में भी सुधार हुआ है। वह टॉप 20 में पहुंच गए हैं। साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 108 रनों की पारी खेलने वाले अग्रवाल 17वें स्थान पर पहुंच गए हैं। चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे क्रमश: चौथे और नौवें स्थान पर हैं। टॉप 10 में कोहली के अलावा ये दोनों अन्य भारतीय बल्लेबाज हैं।
रविचंद्रन अश्विन को तीन स्थान का फायदा
रविचंद्रन अश्विन को भी तीन स्थान का फायदा हुआ है। वह अब सातवें स्थान पर हैं वहीं बुमराह अभी तीसरे स्थान पर कायम हैं। ऑलराउंडर्स की बात करें तो रवींद्र जडेजा दूसरे पायदान पर हैं और वहीं वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर पहले स्थान पर हैं। वहीं अश्विन पांचवें नंबर पर हैं।
साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट के बाद कोहली जनवरी 2018 के बाद पहली बार 900 अंक से नीचे आए थे। वह अब 936 अंक पर पहुंच गए हैं, जो उनके करियर की बेस्ट रैंकिंग से एक अंक कम है। कोहली बीते साल अगस्त में वहां पहुंचे थे।
दुनिया के नंबर वन वनडे बल्लेबाज के पास साउथ अफ्रीका के खिलाफ 19 अक्टूबर से रांची में खेले जाने वाले सीरीज के आखिरी मैच में स्टीव स्मिथ से आगे निकलने का मौका होगा। (आज तक)

 


Date : 15-Oct-2019

कहा- हम साथ मिलकर अच्छा काम करेंगे

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर । भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली अब बीसीसीआई के नए अध्यक्ष होंगे। उन्होंने अकेले सोमवार को इस पद के लिए नामांकन भरा। अकेले नामांकन दर्ज करने से यह साफ हो गया कि वह निर्विरोध बीसीसीआई के अध्यक्ष चुन लिए जाएंगे। नामांकन भरने के बाद देर रात सौरव गांगुली ने ट्वीट करके बीसीसीआई की नई टीम की फोटो शेयर की। उन्होंने लिखा, यह बीसीसीआई की नई टीम है, आशा करता हूं हम साथ मिलकर अच्छा काम करेंगे। गांगुली ने अपने ट्वीट में अनुराग ठाकुर को भी धन्यवाद किया है।
सौरव गांगुली के अलावा अनुराग ठाकुर के चचेरे भाई और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन अध्यक्ष अरुण धूमल को दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड का कोषाध्यक्ष चुना जाना तय है। वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह को बोर्ड का सचिव बनाया जाना तय है।
सौरव गांगुली दूसरे क्रिकेटर होंगे जो बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर काबिज होंगे। इससे पहले विजयनगरम के महाराजा बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं। भारत के लिए केवल 3 टेस्ट मैच खेलने वाले विजयनगरम के महाराजा ए।के।ए विजी ने 1954 से 1956 के बीच बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में कार्य किया था। हालांकि भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और शिवलाल यादव ने भी 2014 में अंतरिम बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में कार्य किया है। बीसीसीआई के चुनाव 23 अक्टूबर को होने वाले थे, लेकिन सौरव गांगुली भारतीय क्रिकेट के शीर्ष पद के लिए अपना नामांकन दाखिल करने वाले एकमात्र उम्मीदवार हैं इसलिए उनका निर्विरोध चुना जाना तय है।(एबीपी)

 


Date : 15-Oct-2019

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर । भारतीय महिला वनडे टीम की कप्तान मिताली राज ने भारत की तरफ से बतौर कप्तान 100वीं जीत हासिल की है। मिताली ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले में रोमांचक जीत के साथ अनोखा शतक पूरा किया। बतौर कप्तान मिताली अब भारत की तरफ से 100 इंटरनेशनल जीत हासिल करने वाली भारत की पहली जबकि दुनिया की दूसरी महिला कप्तान बना गई हैं।
भारत ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेली गई तीन मैचों की वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले में 6 रन की रोमांचक जीत हासिल की। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए साउथ अफ्रीका के सामने महज 147 रन का लक्ष्य रखा था। मिताली राज की शानदार कप्तानी और भारत लाजवाब गेंदबाजी के दम पर भारत ने छोटे से लक्ष्य का बचाव करते हुए साउथ अफ्रीका को 146 रन पर ढेर कर दिया।
100वीं इंटरनेशनल जीत का रिकॉर्ड 
इस जीत के साथ ही मिताली 100 इंटरनेशनल जीत हासिल करने वाली दुनिया की दूसरी महिला कप्तान बनीं। मिताली से पहले इंग्लैंड की कार्लोट एडवर्ड एकमात्र महिला कप्तान थी जिन्होंने 100 इंटरनेशनल मैचों में अपनी टीम को जीत दिलाई हो।
मिताली ने पूरा किया जीत का शतक
भारतीय महिला कप्तान मिताली राज ने 129वें वनडे मैच में यह उपलब्धि हासिल की। अब वनडे में 129 मैचों में भारत की कप्तानी कर मिताली ने 80 में जीत हासिल की है। वहीं 32 टी20 मैचों में मिताली की कप्तानी में टीम इंडिया ने 17 जीत दर्ज की है। 6 टेस्ट में भारत की कमान संभालने वाली मिलाती ने 3 में जीत हासिल की है। तीनों फॉर्मेट में मिलाकर भारतीय कप्तान मिताली ने कुल 100 जीत हासिल की है। 
मिताली ने इंटरनेशनल क्रिकेट में पूरे किए 20 साल 
साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान ही मिताली राज ने इंटरनेशनल क्रिकेट में अपने 20 साल पूरे  किए। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला क्रिकेटर बनीं। पूर्व भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने भारत की तरफ से दो दशक से भी ज्यादा क्रिकेट खेला है।(जागरण)

 


Date : 15-Oct-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
दुर्ग, 15 अक्टूबर।शहर की अंतर्राष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी आकर्षि कश्यप ने अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपना दबदबा कायम रखा है। उन्हो3ने बहरीन के इशा टाउन में आयोजित इंटरनेशनल सीरिज इन्विटेशनल बैडमिंटन टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करते हुए ब्रांच मेडल अपने नाम कर देश व प्रदेश को फिर गौरवान्वित किया है। 
टूर्नामेंट के सेमीफायनल तक के सफर में आकर्षि ने स्विट्सलैंड, पेरु और इंडिया की पीसी तुलसी को पराजित किया। सेमीफायनल के कड़े मुकाबले में आकर्षि को इंडोनेशिया की खिलाड़ी से हार का सामना करना पड़ा। टूर्नामेंट में इंडोनेशिया खिलाड़ी ने गोल्ड मेडल में कब्जा जमाया। आकर्षि कश्यप बैडमिंटन में देश की नंबर-2 रैकिंग महिला खिलाड़ी है। वह 16 से 20 अक्टूबर तक दुबई में आयोजित इंटरनेशनल चैलेंज टूर्नामेंट में हिस्सा लेगी। जिसके तैयारियों में वह जुटी हुई है।

 


Date : 14-Oct-2019

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर । भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर और देश के सबसे सफल कप्तानों में शुमार सौरव गांगुली का बीसीसीआई अध्यक्ष बनना तय हो गया है। यह पहला मौका होगा जब गांगुली इस अहम पद की जिम्मेदारी संभालेंगे। इससे पहले वह बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष रह चुके हैं और उन्हें हाल ही में इस पद के लिए दोबारा चुना गया था। हालांकि पहले बीसीसीआई अध्यक्ष बनने की होड़ में बृजेश पटेल का नाम सबसे आगे चल रहा था, लेकिन आखिरी पलों में सौरव गांगुली के नाम पर सहमति बन गई। अब खुद गांगुली ने बताया है कि आखिर कैसे उनका नाम इस पद के लिए तय हुआ और बीसीसीआई अध्यक्ष का पद संभालने के बाद वे आखिर क्या-क्या काम करेंगे।
टीम इंडिया के पूर्व ओपनर सौरव गांगुली ने कहा, निश्चित तौर पर यह बहुत अच्छा अहसास है क्योंकि मैं देश के लिए खेला हूं और कप्तान रहा हूं। मैं ऐसे समय में बीसीसीआई की कमान संभालने जा रहा हूं, जब पिछले तीन साल से बोर्ड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है  इसकी छवि बहुत खराब हुई है। मेरे लिए यह कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है। यह पूछे जाने पर कि क्या यह जिम्मेदारी अलग होगी, गांगुली ने कहा कि भारतीय टीम का कप्तान होने से बढक़र कुछ नहीं है।
ब्रजेश पटेल, बीसीसीआई अध्यक्ष, सौरव गांगुली, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, बीसीसीआई चुनाव सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम ने साल 2003 के वर्ल्ड कप फाइनल में जगह बनाई थी। 
बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद के एजेंडे का खुलासा करते हुए सौरव गांगुली ने कहा कि उनकी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल होगी। गांगुली का इरादा भारतीय क्रिकेट के सभी पक्षों से मिलने का और वे सारे काम करने का है जो पिछले 33 महीने में प्रशासकों की समिति नहीं कर सकी। उन्होंने कहा, ‘पहले मैं सभी से बात करूंगा और फिर फैसला लूंगा। मेरी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा। मैं तीन साल से सीओए से भी यही कहता आया हूं लेकिन उन्होंने मेरी बात नहीं सुनी। सबसे पहले मैं प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की आर्थिक स्थिति दुरुस्त करूंगा।’
सौरव गांगुली को ‘कूलिंग ऑफ’ अवधि के कारण जुलाई में बीसीसीआई अध्यक्ष का पद छोडऩा होगा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 18000 से अधिक रन बना चुके पूर्व कप्तान ने कहा कि निर्विरोध चुना जाना ही बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। यह विश्व क्रिकेट का सबसे बड़ा संगठन है और जिम्मेदारी तो है ही, चाहे आप निर्विरोध चुने गए हों या नहीं। भारत क्रिकेट की महाशक्ति है तो यह चुनौती भी बड़ी होगी।’ यह पूछने पर कि कार्यकाल सिर्फ नौ महीने का होने का क्या उन्हें अफसोस है, उन्होंने कहा कि हां, यही नियम है और हमें इसका पालन करना है।
बीसीसीआई अध्यक्ष के लिए नाम तय होने के घटनाक्रम का खुलासा करते हुए सौरव गांगुली ने बताया, जब मैं आया तो मुझे पता नहीं था कि मैं अध्यक्ष बनूंगा। पत्रकारों ने मुझसे पूछा तब भी मैंने बृजेश पटेल  का ही नाम लिया। मुझे बाद में पता चला कि हालात बदल गए हैं। मैंने कभी बीसीसीआई चुनाव नहीं लड़ा तो मुझे नहीं पता कि बोर्ड रूम राजनीति क्या होती है।’ गांगुली ने शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। यह पूछने पर कि पश्चिम बंगाल में चुनाव में क्या वह भाजपा के लिए प्रचार करेंगे, उन्होंने न में जवाब देते हुए कहा कि  ऐसा कुछ नहीं है। उनसे किसी ने कुछ नहीं कहा।
सौरव गांगुली का बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर कार्यकाल महज 9 महीने का ही रहेगा। सौरव गांगुली साल 2014 में बंगाल क्रिकेट संघ के संयुक्त सचिव बने थे। ऐसे में 47 वर्षीय गांगुली जुलाई 2020 में कैब पदाधिकारी के तौर पर छह साल पूरे कर लेंगे, जिसके बाद कूलिंग ऑफ पीरियड शुरू हो जाएगा। कूलिंग ऑफ पीरियड तीन साल का होता है। इस अवधि में आप किसी पद पर नहीं रह सकते। अब जबकि गांगुली बीसीसीआई अध्यक्ष बन गए हैं तो फिर उन्हें कैब का अध्यक्ष पद छोडऩा होगा। कुछ दिन पहले प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अपने चुनाव निर्देशों में कहा था कि दो कार्यकाल के बीच बाहर रहने के लिए तय अवधि (कूलिंग ऑफ पीरियड) के लिए कार्यकारिणी के सदस्य के रूप में बिताए गए कार्यकाल को भी शामिल किया जाएगा।(न्यूज18)

 


Date : 14-Oct-2019

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर। भारत के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने कहा है कि विराट कोहली की निडरता और आक्रमकता उन्हें दूसरे भारतीय कप्तान जैसे एमएस धोनी, सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ से अलग बनाती है। कोहली एंड कंपनी ने रविवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बेहतरीन जीत जीत दर्ज की जहां टीम इंडिया ने विरोधी टीम को एक पारी और 137 रनों से हरा दिया। इसी के साथ टीम सीरीज भी जीत गई। वहीं होम सीरीज के मामले में ये भारतीय टीम की लगातार 11वीं सीरीज जीत थी। 11 में 9 जीत कोहली की कप्तानी में आई है।

गंभीर ने कोहली की सफलता के पीछे उनकी निडरता बताई है। गंभीर ने कहा है कि अगर आप हार से डरते हैं तो आप कभी नहीं जीत पाएंगे। और कोहली कभी हार से नहीं डरते।
विराट कोहली ने साल 2014 में टेस्ट की कप्तानी ली थी। इसके बाद भारत सिर्फ दो सीरीज हारा। पहला 2017-18 दक्षिण अफ्रीका का दौर और दूसरा इंग्लैंड साल 2018। इस साल टीम ने ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज जीती है। वहीं कप्तानी के तौर पर अगर सभी सीरीज की बात करें तो कोहली ने ये 13वीं सीरीज जीती है। ये किसी भारतीय कप्तान के जरिए सबसे ज्यादा सीरीज जीत है। इसमें विराट ने धोनी के 12 सीरीज जीत को भी पछाड़ दिया है।
गंभीर ने दूसरे कप्तानों की तुलना विराट से करते हुए कहा कि हम सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और एमएस धोनी के बारे में बात करते हैं लेकिन विराट ने विदेशों में जो जीत दर्ज की है वो अलग है और सबसे ज्यादा है। विराट ने रिस्क लिया है जो ज्यादा कप्तान नहीं कर पाते। विदेशों में जब टीम जाती है तो हमेशा अपने साथ एक अतिरिक्त बल्लेबाज लेकर जाती है लेकिन विराट ने ऐसा नहीं किया और उन्होंने एक अतिरिक्त गेंदबाज खिलाया। (एबीपी न्यूज)

 


Date : 14-Oct-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 14 अक्टूबर। दुर्ग संभाग कमिश्नर दिलीप वासनीकर ने कृष्णा पब्लिक स्कूल सुंदर नगर में आयोजित तीन दिवसीय सीबीएसई फॉर ईस्ट जोन क्लस्टर दो टेबल टेनिस प्रतियोगिता का कल उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वर्तमान परिवेश में खेल मैदान के लिए सीमित क्षेत्र होने के कारण टेबल टेनिस खेल का महत्व बढ़ गया है। वैसे भी टेबल टेनिस ऊर्जा शक्ति एवं पूर्ति का खेल है। जिससे खिलाडिय़ों के शारीरिक एवं मानसिक विकास का स्तर बहुत अधिक होता है।  श्री वासनिक ने कहा कि खिलाडिय़ों के लिए खेल का विशेष महत्व है। खेल से स्वस्थ काया के साथ-साथ राष्ट्रीय भावना का भी निर्माण होता है। टेबल टेनिस की शुरुआत 1922 में इंग्लैंड से हुई थी। आज विश्व में 71 देश इस खेल को खेल रहे हैं। 
कृष्णा पब्लिक स्कूल में आयोजित इस प्रतियोगिता में तीन राज्य ओडिशा, पश्चिम बंगाल एवं छत्तीसगढ़ के 40 स्कूलों के 300 खिलाड़ी एवं ऑफिशियल हिस्सा ले रहे हैं। इतने बड़े आयोजन के लिए कृष्णा स्कूल को हार्दिक शुभकामनाएं दी गई। इसके पूर्व मुख्य अतिथि दिलीप वासनीकर कृष्णा पब्लिक स्कूल ग्रुप के चेयरमैन एमएम त्रिपाठी वाइस चेयरमैन आनंद त्रिपाठी ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित किया। इसके पश्चात श्री वासनीकर ने खेल शुभारंभ करने की घोषणा की। तीनों राज्यों के खिलाडिय़ों ने मार्च पास्ट किया। इसके पश्चात सभी खिलाडिय़ों को शपथ दिलाई गई।  स्वागत भाषण कृष्णा पब्लिक स्कूल के प्राचार्य आर एस पांडे ने दिया। स्कूल के पीटीआई राजेंद्र सिंह ने बताया कि 3 दिन तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में आज से मैच खेले जाएंगे। मैच तीनों ही वर्गों में बालक-बालिका एकल, डबल्स एवं मिक्स डबल्स के मैच खेले जाएंगे। समापन सोमवार को किया जाएगा। समापन समारोह के मुख्य अतिथि विधायक एवं महापौर देवेंद्र यादव होंगे।

 


Date : 14-Oct-2019

पुणे, 14 अक्टूबर। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जा रही है। सीरीज के पहले दो टेस्ट मैच जीतकर टीम इंडिया ने 2-0 की अजेय बढ़त बना ली है। पुणे में खेले गए दूसरे टेस्ट में उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन में जगह मिली और उन्होंने दोनों पारियों में तीन-तीन विकेट भी लिए। मैच के बाद उमेश यादव ने अपने विकेट का क्रेडिट विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को दिया।
साहा ने मैच की दोनों पारियों में दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज थ्योनिस डि ब्रूएन को आउट किया और दोनों बार साहा ने उमेश की गेंद पर ब्रूएन का शानदार कैच पकड़ा। उमेश ने पहली पारी में तीन और दूसरी पारी में तीन विकेट चटकाए। उमेश ने मैच के बाद कहा, मेरा मानना है कि मुझे उन्हें लेग साइड के उनके विकेट और उस पहले कैच के लिये उन्हें (साहा) पार्टी देनी चाहिए। मुझे लगा कि गेंद बाउंड्री के बाहर जा रही थी। लेकिन भगवान का शुक्रिया और साहा का, जिनकी वजह से मुझे विकेट मिला।
उमेश को टीम में जगह बनाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा और जब उन्हें मौका मिला, तो उन्होंने इसे दोनों हाथों से लपका। दूसरे टेस्ट में वो दोनों पारियों में संयुक्त रूप से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। उन्होंने कहा, टीम में अच्छी प्रतिस्पर्धा है और मुझे पता है कि अगर मुझे मौका मिलता है तो मुझे इसे भुनाना होगा। घर में पिछली बार हैदराबाद में 2018 में वेस्टइंडीज के खिलाफ मैंने 10 विकेट लिए थे। मैं भारत में गेंदबाजी को लेकर आश्वस्त था। (लाइव हिन्दुस्तान)

 


Date : 14-Oct-2019

भोपाल, 14 अक्टूबर । मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में एक कार के पेड़ से टकराने से चार हॉकी खिलाडिय़ों की मौत हो गई है। ये सभी खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर के थे और होशंगाबाद में चल रहे अखिल भारतीय हॉकी टूर्नामेंट में शामिल हुए थे। सडक़ हादसा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-69 पर होशंगाबाद-इटारसी के बीच हुआ। जिस स्विप्ट कार में खिलाड़ी सवार थे वह पवारखेड़ा के नजदीक अनियंत्रित होकर पेड़ से टकरा गई।
हादसे के तुरंत बाद 4 हॉकी खिलाडिय़ों की मौत जबकि 4 लोग इसमें गंभीर रूप से घायल हो गए। मारे गए खिलाडिय़ों की पहचान हो गई है। ये सभी राष्ट्रीय खिलाड़ी मध्य प्रदेश एकेडमी, भोपाल के खिलाड़ी थे और रविवार को इनका मैच सिवनी-जबलपुर से हुआ था।(टाईम्स नाऊ)