खेल

Previous12Next
Posted Date : 19-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 19 सितंबर । एशिया कप में भारत और पाकिस्तान के बीच होनेवाले महामुकाबले से पहले भारत की टेनिस स्टार सानिया मिर्जा को सोशल मीडिया ट्रोलर्स को सबक सिखाने के लिए सामने आना पड़ा। गर्भवती सानिया ने लिखा कि मैच से पहले वह कुछ दिनों के लिए सोशल मीडिया अकाउंट बंद करना चाहती हैं क्योंकि यहां मौजूद ट्रोलर्स उन्हें परेशान करते हैं। 
    इसका जिक्र करते हुए सानिया ने ट्विटर पर लिखा, भारत और पाकिस्तान के बीच मैच शुरू होने में अब 24 घंटे से भी कम का वक्त रह गया है। ऐसे में कुछ दिन के लिए सोशल मीडिया से साइन आउट होना ही सही रहेगा क्योंकि यहां मौजूद कुछ बकवास करनेवाले सामान्य इंसान को बीमार कर सकते हैं, चलो एक गर्भवती महिला को तो अकेले रहने दो। याद रखो यह सिर्फ एक क्रिकेट मैच है।
    सानिया मिर्जा ने पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से शादी की है। साल 2007 में हुई इस शादी के बाद से कई बार सानिया को शोएब या पाकिस्तान का नाम लेकर परेशान करने की कोशिश हुई है। फिलहाल सानिया गर्भवती हैं, जिसके लिए उन्होंने खेल से आराम लिया हुआ है। यह सानिया-शोएब की पहली संतान होगी। शोएब से शादी पर सानिया ने एक बार कहा था कि शादी का उनका फैसला निजी था और यह भारत-पाकिस्तान संबंध के लिए नहीं था। 
    भारत और पाकिस्तान के बीच बुधवार को दुबई में मुकाबला होना है। दोनों के बीच आखिरी मैच 18 जून को ओवल में हुआ था, तब पाक ने भारत को 180 रन से हराकर आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता था। भारत इस करारी हार का बदला लेने को बेताब है। भारत एशिया कप टूर्नमेंट 6 बार जीत चुका है, जबकि पाक सिर्फ दो बार। (नवभारत टाईम्स)

     

    ...
  •  


Posted Date : 19-Sep-2018
  • दुबई, 19 सितंबर : एशिया कप-2018 के 'महामुकाबले' में बुधवार को भारत और पाकिस्तान की टीमें भिड़ेंगी. दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया के सामने चिर प्रतिद्वंद्वी सरफराज अहमद के नेतृत्व वाली पाकिस्तान टीम की कड़ी चुनौती है. यह मुकाबला भारतीय समयानुसार शाम 5 बजे से खेला जाएगा.

    एशिया कप के इस हाई वोल्टेज मुकाबले पर हर किसी की निगाहें हैं, कांटे की टक्कर के लिए दोनों ओर के फैंस तैयार हैं. सभी अपनी-अपनी टीमों के जीतने की दुआ कर रहे हैं. लेकिन आंकड़े बताते हैं कि इस मैच में भारत का पलड़ा भारी है.
    एशिया कप में 13वीं बार भारत और पाकिस्तान आमने-सामने होंगे. अब तक खेले गए 12 मुकाबलों में भारत ने 6 और पाकिस्तान ने 5 मैच जीते हैं, जबकि एक मैच बेनतीजा रहा था. इन मुकाबलों में पिछले एशिया कप का एक टी-20 मैच भी शामिल है, जिसमें भारत ने पाकिस्तान को मात दी थी. 
    दोनों के बीच आखिरी 10 वनडे इंटरनेशनल की बात करें,  भारत ने 6 मुकाबले अपने नाम किए हैं, जबकि पाकिस्तान 4 मैच ही जीत पाया था. इतना ही नहीं भारत-पाक के बीच आखिरी के 5 मैचों पर गौर करें, तो यहां भी भारत के आंकड़े दुरुस्त हैं. भारत ने 3 मैचों में बाजी मारी है, जबकि पाकिस्तान के हिस्से दो ही जीत आई हैं.
    2018 में भारत और पाकिस्तान के प्रदर्शन की बात करें, तो टीम इंडिया एक बार फिर हावी नजर आ रही है. भारत ने इस साल अब तक 10 वनडे खेले हैं और 3 ही गंवाए हैं. जबकि पाकिस्तान को 11 मैचों में 5 में हार मिली है. (aajtak)

    ...
  •  


Posted Date : 18-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 18 सितम्बर : एशिया कप में बुधवार को भारत और पाकिस्तान आमने-सामने होंगे। दो चिर प्रद्वंद्वियों के इस महामुकाबले में किसका पलड़ा भारी है, इसको लेकर दोनों ओर के क्रिकेट दिग्गज अपनी-अपनी भविष्यवाणी कर रहे हैं। कभी भारतीय बल्लेबाजों को कड़ी चुनौती देने वाले पूर्व पाक पेसर शोएब अख्तर के मुताबिक यूएई पाकिस्तान के लिए दूसरे घर जैसा है, इसलिए माहौल उनकी टीम के पक्ष में रहेगा।  

    दूसरी तरफ भारत के पूर्व दिग्गज कप्तान सुनील गावसकर ने टीम इंडिया को सावधान किया है। गावसकर ने कहा कि हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ आज होने वाला मैच भारत के लिए वॉर्मअप जैसा होगा, लेकिन असली चुनौती पाकिस्तान के साथ होने वाला मैच ही होगा। जानिए, इस महामुकाबले पर क्या कह रहे हैं दोनों ओर के दिग्गज... 
    क्या कोहली की कमी खलेगी? गांगुली बोले- नहीं 
    भारत-पाक के मैच में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या टीम इंडिया को कोहली की कमी खलेगी? यह सवाल जब गांगुली से किया गया, तो उनका जवाब था, 'नहीं'। गांगुली ने कहा, 'कोहली की गैरमौजूदगी से कोई खास असर नहीं पड़ेगा, टीम बेहतर है। पाकिस्तान ने भी अपने प्रदर्शन में सुधार किया है।' 
    गावसर बोले, पाक के खिलाफ मैच अहम 
    सुनील गावसकर ने पाक के खिलाफ मैच को अहम करार देते हुए कहा कि मंगलवार को हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ मुकाबला तो वॉर्मअप की तरह है। उन्होंने कहा कि असली चुनौती तो पाकिस्तान है। हालांकि उन्होंने शेड्यूल पर सवाल उठाते हुए कहा, 'उन्हें यह समझ नहीं आ रहा कि एशिया कप के आयोजकों ने किस तरह मैच शेड्यूल किए हैं क्योंकि हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ खेलने के बाद टीम इंडिया को अगले दिन ही पाकिस्तान से भिड़ना होगा।' 
    इंजमाम बोले- विराट की कमी से पाक को फायदा
    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम-उल हक ने कहा कि दोनों टीमों के बीच मैच हमेशा से देखने लायक होता है। हक ने कोहली की गैरमौजूदगी से पाक को फायदा मिलने की बात करते हुए कहा, 'विराट कोहली की गैरमौजूदगी से पाक के लिए स्थितियां बहुत ज्यादा नहीं बदलेंगी, लेकिन भारत पर इसका असर जरूर होगा।' 
    अख्तर बोले, पाक का घर जैसा है यूएई 
    शोएब अख्तर ने कहा कि यूएई पाकिस्तान के लिए दूसरा होम ग्राउंड जैसा है। इसलिए माहौल पाकिस्तान के पक्ष में रहेगा। अख्तर ने कहा, 'भारतीय बैटिंग लाइनअप अच्छा है और हमें दोनों टीमों के बीच एक अच्छा मुकाबला देखने को मिलेगा।' कोहली पर अख्तर ने कहा कि टीम इंडिया से उन्हें भारत रखना समझ से परे है। 
    क्या कह रहे हैं दोनों टीमों के कप्तान 
    मीडिया से बातचीत करते हुए एशिया कप में टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि उनकी टीम पाकिस्तान से आगे देख रही है। शर्मा ने कहा, ' पाकिस्तान के खिलाफ खेलना हमेशा रोमांचक रहता है, लेकिन यह सिर्फ एक टीम की ही बात नहीं है। अन्य टीमों की भी एशिया कप के खिताब पर नजर है।' दूसरी तरफ सरफराज ने कहा कि हम चैंपियंस ट्रोफी की जीत अब हमारे दिमाग में नहीं है। सरफराज ने कहा, 'तब लंदन में अलग परिस्थितियां और माहौल था। यह एक साल पुरानी बात है, इसलिए हमें नई रणनीति और नए दम के साथ फील्ड में उतरना होगा।' (नवभारतटाइम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 18-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 18 सितंबर। खेल मंत्रालय द्वारा गठित समिति ने इस बार राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू के नाम की सिफारिश की है। विराट कोहली पिछले एक साल से लगातार अच्छी फार्म में चल रहे हैं जिसके चलते इस सम्मान के लिए उनके नाम की सिफारिश की गई है। दूसरी ओर मीराबाई चानू के विश्व चैंपियनशिप और ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में आयोजित कॉमनवेल्थ खेलों में शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें खेल रत्न देने की सिफारिश की गई है। चानू ने दोनों ही प्रतियोगिताओं में स्वर्ण पदक हासिल किया था।
    खबरों के अनुसार वेटलिफ्टिंग फेडरेशन ने चानू को खेल रत्न के साथ-साथ अर्जुन पुरस्कार के लिए भी नामित किया है। इसके अलावा ऐसा केवल दूसरी बार हो रहा है कि खेल रत्न के लिए किसी क्रिकेटर का नाम दो बार भेजा गया हो। इससे पहले 2016 में भी विराट कोहली का नाम इस सम्मान के लिए भेजा गया था। विराट कोहली से पहले राहुल द्रविड़ इकलौते ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके नाम की सिफारिश दो बार की गई थी। हालांकि दोनों ही बार उन्हें यह सम्मान नहीं मिल सका था। अगर विराट कोहली को यह पुरस्कार मिलता है तो वह सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी के बाद इसे हासिल करने वाले तीसरे क्रिकेटर बन जाएंगे। (इंडियन एक्सप्रेस)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Sep-2018
  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    रायपुर, 17 सितंबर। आदिवासी अंचल के युवा मित्रों द्वारा संचालित संगठन स्टेप्स की 46 हजार राशि की मदद से छत्तीसगढ़ की आदिवासी खिलाड़ी प्रियांशु प्रिया और ज्योति जगत मैक्सिको में नवंबर में आयोजित स्लम फुटबॉल वल्र्ड कप चैंपियनशिप में शामिल होंगी।
    फुटबॉल कोच सरिता कुजूर ने बताया जशपुर और रायपुर की दो खिलाड़ी प्रियांशु प्रिया और ज्योति जगत ने उत्कृष्ठ प्रदर्शन के आधार पर मैक्सिको में आयोजित होने वाले स्लम फुटबॉल कप चैंपियनशिप की भारतीय टीम में जगह पक्की कर ली थी, लेकिन प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए  46 हजार राशि की कमी इन दोनों खिलाडिय़ों के आड़े आ रही थी। 
    उन्होंने कोच रश्मि संध्या और राकेश टोप्पो के माध्यम से स्टेप्स के सदस्यों के समक्ष इन खिलाडिय़ों की आर्थिक मदद के लिए प्रस्ताव रखा। स्टेप्स के सदस्यों की त्वरित मदद से प्रदेश की दोनों खिलाडिय़ों के मैक्सिको स्पर्धा में शामिल होने की बाधा दूर हो गई। कोच  सरिता कुजूर, रश्मि संध्या एक्का, राकेश टोप्पो ने इस पहल के लिए स्टेप्स के अहसान तिग्गा(खाद्य सुरक्षा अधिकारी धमतरी) मुक्ति प्रकाश तिग्गा(तकनीकी अधिकारी पं. रविवि) नवीन  रोशन बेक, अजय कुजूर, राजीव कुजूर के प्रति आभार व्यक्त किया है। 
    ज्ञात हो कि स्टेप्स आदिवासी अंचल के युवा मित्रों द्वारा संचालित संगठन है। इसका उद्देश्य एक कदम खेल के सशक्तिकरण एवं प्रोत्साहन के लिए पहल करना है। यह संगठन 2013 में आदिवासी क्षेत्रों के खिलाडिय़ों को प्रशिक्षण एवं प्रोत्साहन देने का कार्य करता है।

    ...
  •  


Posted Date : 17-Sep-2018
  • कोलंबो, 17 सितंबर। श्री लंका क्रिकेट के अधिकारियों ने भारत और श्री लंका महिला टीम के बीच मौजूदा सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच के दौरान कम से कम 5 भारतीयों को संदिग्ध आचरण के आरोप में कतुनायके मैदान से बाहर जाने के लिए कहा। स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक, बाद में उन्हें पूछताछ के लिए पुलिस को सौंप दिया गया है।  
    श्री लंका क्रिकेट के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया, उन्हें पूरे मैच के दौरान फोन पर बातचीत करते हुए देखा गया। जब उनसे इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि वे घर पर मैच के बारे में बता रहे हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है कि कहीं उनका संबंध सट्टेबाजों से तो नहीं। 
    श्री लंका ने बड़े स्कोर वाले इस मैच को अंतिम ओवर में जीता, जिससे सीरीज भारत के पक्ष में 2-1 से रही। यह एकदिवसीय सीरीज आईसीसी महिला चैंपियनशिप का हिस्सा है, जिसके जरिये स्वत: क्वॉलिफाई करने वाली तीन टीमों को चुना जाएगा। पिछले महीने घरेलू टी-20 प्रतियोगिता में कई संदिग्ध भारतीय और पाकिस्तानी नागरिकों को इसी तरह से मैच स्थल को छोडऩे के लिए कहा गया था। (भाषा)

    ...
  •  


Posted Date : 16-Sep-2018
  • दुबई : हांगकांग ने रविवार को यहां एशिया कप एकदिवसीय क्रिकेट टूर्नामेंट के मैच में पाकिस्तान को जीत के लिए 117 रन का लक्ष्य दिया. पाकिस्तान की सधी गेंदबाजी के सामने हांगकांग की टीम 37 ओवर पर 116 रन पर आलआउट हो गयी. हांगकांग के दो बल्‍लेबाज एजाज खान (27) और किनचित शाह (26) ही 20 रन से अधिक का स्‍कोर बनाया. बाकी सभी बल्‍लेबाज 20 रन के अंदर ही सिमट गये. पाकिस्‍तान की ओर से उस्‍मान खान ने तीन, शदाब खान ने दो और फहीम अशरफ व हसन अली ने एक-एक विकेट चटकाये.
    हांगकांग के बल्‍लेबाजों ने इस प्रकार रन बनाये. दोनों ओपनर निजाकत खान (13), अंशुमन रथ (19), क्रिस्टोफर कार्टर (2) बाबर हयात (7), अहसन खान (0), एजाज खान ( 27) स्कॉट मैकेहनी (0) और तनवीर अफजल (0) आउट होकर पवेलियन लौटे. 
    हांगकांग की टीम ने आज शुरुआत ठीक की और ओपनर निजाकत खान व अंशुमन रथ अच्‍छी बल्‍लेबाजी कर रहे थे. लेकिन निजाकत गलत कॉल में दौड़ गये और उन्‍हें रन आउट होना पड़ा. हांगकांग की टीम ने आज टॉस जीता और कप्‍तान अंशुमन रथ ने पहले बल्‍लेबाजी का फैसला किया.
    शनिवार को उदघाटन मैच में बांग्‍लादेश ने उलटफेर करते हुए श्रीलंका को हराया. बांग्‍लादेश ने पहले बल्‍लेबाजी करते हुए 262 रन की चुनौतीपूर्ण लक्ष्‍य दिया था, लेकिन श्रीलंका की पूरी टीम 35 ओवर और दो गेंद पर 124 रन बनाकर ऑल आउट हो गयी और इस तरह बांग्‍लादेश ने पहले मुकाबले को 137 रन से जीत लिया. 
    हांगकांग : निजाकत खान, अंशुमन रथ (कप्तान), बाबर हयात, किनचित शाह, क्रिस्टोफर कार्टर, अहसन खान, एजाज खान,  स्कॉट मैकेहनी, तनवीर अफजल, अहसन नवाज और नदीम अहमद.
    पाकिस्तान : फखर जमां,  इमाम उल हक, बाबर आजम, शोएब मलिक, सरफराज अहमद (कप्तान और विकेटकीपर), आसिफ अली, शदाब खान, फहीम अशरफ, मोहम्मद आमिर,हसन अली और उस्मान खान.

    ...
  •  


Posted Date : 15-Sep-2018
  • कोलकाता, 15 सितंबर । एशिया कप का आगाज आज बांग्लादेश और श्रीलंका के बीच मैच के साथ हो जाएगा। छह टीमों के इस टूर्नामेंट में कौन सी टीम विजेता बनेगी, इस पर भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने भविष्यवाणी की है। गांगुली ने माना है कि विराट कोहली के बिना टीम इंडिया कुछ कमजोर नजर आएगी, लेकिन फिर भी रोहित की कप्तानी में भारत सातवीं बार एशिया कप खिताब अपने नाम कर सकता है।
    विराट कोहली को छह देशों के इस टूर्नामेंट से आराम दिया गया है। एशिया कप में मनीष पांडे, केदार जाधव और अंबाती रायुडु जैसे खिलाडिय़ों को शामिल किया गया है। भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका के अलावा बांग्लादेश, अफगानिस्तान और हांगकांग की टीमें इस टूर्नामेंट में शिरकत करेंगी।
    गांगुली ने कहा, भारत भले ही इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया लेकिन सीमित ओवरों में वो टॉप की टीम है। विराट के होने से टीम बहुत मजबूत होती है लेकिन रोहित का भी कप्तान के रूप में बहुत अच्छा रिकॉर्ड है इसलिए मुझे उम्मीद है कि टीम उनके नेतृत्व में बेहतर प्रदर्शन करेगी। वे (एशिया कप) जीतने में सक्षम हैं। (लाइव हिन्दुस्तान)

    ...
  •  


Posted Date : 14-Sep-2018
  • एशिया कप वनडे टूर्नामेंट 15 सितंबर से खेला जाएगा. टूर्नामेंट के मुकाबले दुबई और अबु धाबी में होंगे. उद्घाटन मुकाबले में श्रीलंका का सामना बांग्लादेश से होगा. भारत और पाकिस्तान 19 सितंबर को भिड़ेंगे.

    दुबई, 14 सितंबर : स्टार क्रिकेटर विराट कोहली की गैरमौजूदगी से भले ही शनिवार को शुरू होने वाले छह देशों के एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट की चमक फीकी हो गई हो, लेकिन सबसे रोमांचक द्वंद्व भारत और पाकिस्तान के बीच देखने को मिलेगा.
    शुक्रवार को टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने दुबई में प्रैक्टिस की. इस दौरान चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान की टीम भी अभ्यास सत्र में मौजूद थी. तभी पाक के तजुर्बेकार खिलाड़ी और सानिया मिर्जा के पति शोएब मलिक भारतीय कैंप की ओर बढ़े और सीधे धोनी के करीब जा पहुंचे. अचानक पहुंचे शोएब को देख धोनी भी खुश दिखे और हंसते हुए उनसे हाथ मिलाया.
    वीवीएस लक्ष्मण ने कहा है कि एशिया कप में शोएब मलिक पाकिस्तान के लिए ट्रंप कार्ड साबित होंगे. लक्ष्मण के मुताबिक वह अनुभवी हैं और स्पिन के अच्छे खिलाड़ी हैं, क्योंकि मध्य ओवरों में भारत स्पिन के साथ आक्रमण करना चाहेगा.
    भारत और पाकिस्तान की टीमों के बीच दो मैच तो तय है, लेकिन अगर दोनों टीमें फाइनल में पहुंचती हैं, तो तीन मुकाबलों की संभावना है. टूर्नामेंट की शुरुआत शनिवार को बांग्लादेश और श्रीलंका के बीच मैच से होगी.
    भारत और पाकिस्तान के बीच ग्रुप लीग में एक मैच होगा, जबकि दूसरा सुपर चार चरण में होगा. लेकिन आयोजक, प्रसारक और समर्थन 28 सितंबर को होने वाले फाइनल में भी दोनों टीमों के पहुंचने की उम्मीद करेंगे.
    भारत के पास यह देखने का मौका होगा कि टीम कोहली की अनुपस्थिति में दबाव भरे हालात में कैसे खेलेगी. टीम अपना अभियान 18 सितंबर को हांगकांग के खिलाफ शुरू करेगी, जिसके बाद उसे अगले दिन पाकिस्तान से भिड़ना है.
    रोहित शर्मा सफेद गेंद के शानदार खिलाड़ी रहे हैं, पर अच्छी टीमों के खिलाफ उनके नेतृत्व कौशल की परीक्षा नहीं हुई है. पिछले साल दिसंबर में श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने कप्तानी संभाली थी, लेकिन वो टीम इतनी मजबूत नहीं थी. बल्कि मौजूदा समय में खिलाड़ियों को देखते हुए बांग्लादेश इस समय 50 ओवर की बेहतर टीम है.
    लेकिन इसमें मुख्य केंद्र इस बात पर होगा कि भारतीय टीम बेहतरीन पाकिस्तान से कैसे खेलती है जिसमें मोहम्मद आमिर के रूप में विश्व स्तरीय तेज गेंदबाज, मजबूत ऑलराउंडर हसन अली, सलामी बल्लेबाज फखर जमान और प्रतिभाशाली बल्लेबाज बाबर आजम और हारिस सोहेल मौजूद हैं.
    भारत का लक्ष्य अपने मध्यक्रम संयोजन का समाधान निकालने के अलावा महेंद्र सिंह धोनी के लिए बल्लेबाजी क्रम में सही स्थान ढूंढ़ने का होगा. (aajtak)

    ...
  •  


Posted Date : 14-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 14 सितंबर। क्रिकेटर गौतम गंभीर हाल ही में दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में जब माथे पर बिंदी लगाए और दुपट्टा ओढ़े हुए नजर आए तो हर कोई उन्हें देखकर हैरान रह गया। दरअसल गंभीर किन्नरों के प्रति समर्थन जताने के लिए इस कार्यक्रम में पहुंचे थे। उनकी इस पहल की देशभर में सराहना हासिल हुई है। गौतम सामाजिक और चैरिटी कार्यों में बढ़ चढ़कर भागीदारी करते रहे हैं। मैदान पर भले ही वे आक्रामक तेवरों वाले क्रिकेटर के रूप में नजर आते रहे हों, लेकिन राष्ट्र से जुड़े मुद्दों को लेकर उनकी राय अथवा उनकी ओर से उठाए गए कदमों में परिपक्वता देखने को मिली है।
    छत्तीसगढ़ में पिछले साल अप्रैल में हुए नक्सली हमले में शहीद हुए 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च वहन करने का ऐलान करके उन्होंने देश के प्रति अपने कत्र्तव्य भाव का अहसास कराया था। समाज में उपेक्षा और भेदभाव के शिकार किन्नर समाज के प्रति समर्थन जताने के लिए जब गौतम पहुंचे तो किन्नर समाज ने दुपट्टा ओढ़ाकर और बिंदी लगाकर उनका स्वागत किया। 
    जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ गैंगरेप की घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। इस घटना को लेकर देशभर में भारी गुस्सा देखने को मिला था। देश के इस गुस्से में अपनी आवाज को भी शामिल करते हुए उन्होंने तीखे सवाल किए थे। गंभीर ने इस मामले को लेकर दो ट्वीट किए थे। पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा था, भारतीय चेतना का उन्नाव और फिर कठुआ में रेप किया गया। अब इसकी हमारे सड़ चुके सिस्टम में हत्या की जा रही है। सामने आओ, मिस्टर सिस्टम, मैं आपको चुनौती देता हूं। यदि हिम्मत है तो दोषियों को सजा दो। एक अन्य ट्वीट में गौतम ने लिखा था, उन लोगों को, खासकर वकीलों को शर्म आनी चाहिए जो कठुआ की हमारी पीडि़त बेटी की वकील को चुनौती दे रहे और रोक रहे हैं। बेटी बचाओ से क्या हम बलात्कारी बचाओ हो गए हैं।
    कश्मीर में मानवअधिकार के कथित उल्लंघन को लेकर पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी का इसी माह अप्रैल में बयान आया था, इसका भी गौतम गंभीर ने मुंहतोड़ जवाब दिया था। गंभीर ने अफरीदी के बयान के आधार पर उन्हें अपरिपक्व व्यक्ति बताया था। गंभीर ने कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर अफरीदी के ट्वीट के जवाब में यह बात कही है। ध्यान हो कि शाहिद अफरीदी ने ट्वीट कर जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के मारे जाने पर दुख जताया था। उन्होंने कहा था कि कि कश्मीर में मौजूदा स्थिति चिंताजनक और भयानक है। इस ट्वीट के जबाव में ही गंभीर ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा था कि हमारे कश्मीर और संयुक्त राष्ट्र को लेकर किए गए शाहिद अफरीदी के ट्वीट पर रिएक्शन के लिए मीडिया की ओर से मुझे कॉल आए। इसमें क्या कहना है अफरीदी सिर्फ यूएन की ओर देख रहे हैं, जिसका मतलब उनके शब्दकोश में अंडर-19 है। मीडिया इसे हल्के में ही ले। अफरीदी नो बॉल पर आउट होने का जश्न मना रहे हैं। (एनडीटीवी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 14-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 14 सितंबर। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर को लगता है कि विराट कोहली को इंग्लैंड के खिलाफ हाल में पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में मिली 1-4 की निराशाजनक हार के बाद तकनीकी पहलुओं के बारे में 'काफी कुछ सीखनेÓ की जरूरत है।
    गावस्कर ने कहा, 'उसे (विराट) को अभी काफी कुछ सीखने की जरूरत है। जैसे कि हमने पहले दक्षिण अफ्रीका में देखा और अब इंग्लैंड में भी, ऐसे कुछ मौके आए, जब उनके द्वारा सजाए गए क्षेत्ररक्षण या समय पर गेंदबाजी में बदलाव से काफी बड़ा अंतर आ सकता था। फिर से इसकी कमी दिखाई दी। उन्होंने जब से कप्तानी संभाली है, तब से दो साल (उसने चार साल पहले कप्तानी संभाली थी) ही हुए हैं, इसलिए कभी कभार अनुभव की कमी दिखाई देती है।
    हालांकि लिटिल मास्टर ने एक रिपोर्टर के सवाल पर कोहली की प्रतिक्रिया को तवज्जो नहीं दी, जिसमें इस पत्रकार ने पूछा था कि क्या वह कोच रवि शास्त्री के उस बयान से सहमत हैं, जिसमें उन्होंने कहा था कि यह पिछले 15 साल में विदेश का दौरा करने वाली सर्वश्रेष्ठ टीम है।
    यह पूछने पर कि क्या पत्रकार द्वारा पूछा गया यह सवाल 'जायजÓ था तो गावस्कर ने कहा कि उन्हें लगता है कि यह पूछने का समय गलत था। गावस्कर ने कहा, उनसे यह सवाल पूछने का समय गलत था। वह (विराट) हार से काफी आहत होंगे। हो सकता है कि पत्रकार का यह सवाल पूछना जायज हो, लेकिन मुझे नहीं लगता कि कोई भी कप्तान यह कहेगा कि तुम सही हो, लेकिन हम गलत हैं।
    इस महान सलामी बल्लेबाज ने कहा कि किसी को इस घटना को ज्यादा तवज्जो नहीं देना चाहिए। गावस्कर ने कहा, उनकी टीम 1-3 से पिछड़ रही थी और शायद वह इस सीरीज का अंत जीत से करना चाहते थे। मुझे नहीं लगता कि हमें विराट की प्रतिक्रिया को भी ज्यादा तवज्जो देनी चाहिए। यह स्पष्ट था कि जो कुछ भी हुआ, उससे कप्तान निराश थे और शायद उन्होंने उसी लहजे में जवाब दिया।
    उन्हें यह भी लगता है कि मुख्य कोच शास्त्री का इरादा बीते समय की टीमों को तिरस्कृत करने का नहीं था, बस अपने खिलाडिय़ों से बात करने के लिए ऐसा किया गया था। गावस्कर ने कहा, ईमानदारी से कहूं तो, रवि (शास्त्री) ने ऐसा कहा होगा (पिछले 15 साल में दौरा करने वाली सर्वश्रेष्ठ टीम), ताकि टीम का मनोबल बढ़ सके। मुझे नहीं लगता कि वह पिछली टीमों को बेकार बताने की कोशिश कर रहे थे। मेरा मानना है कि कोच की मंशा यह नहीं थी।  (इंडिया टुडे)

     

    ...
  •  


Posted Date : 14-Sep-2018
  • भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे टीम की कप्तानी से इस्तीफा देने के पीछे की वजह बताई है. गुरुवार को झारखंड के रांची में आयोजित एक कार्यक्रम में धोनी ने कहा, ‘मैं चाहता था कि विराट कोहली को आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 की टीम तैयार करने के लिए पर्याप्त समय मिले. मजबूत टीम तैयार करने के लिए एक नए कप्तान के पास पर्याप्त समय होना जरूरी है. मैं मानता हूं कि मैंने बिल्कुल सही समय पर कप्तानी छोड़ी है.’
    इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के साथ हालिया टेस्ट सीरीज में भारत की हार को लेकर भी बातचीत की. इस बारे में उन्होंने कहा, ‘भारतीय टीम सीरीज के शुरू होने के पहले अभ्यास मैच नहीं खेल पाई. यही वजह है कि हमारे बल्लेबाज नहीं खेल पाए. हार-जीत खेल का हिस्सा होती है. हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि भारत अब भी टेस्ट रैंकिग में पहले नंबर पर है.’
    धोनी की अगुवाई में भारत ने साल 2007 में टी20 विश्वकप और साल 2011 में वनडे विश्वकप का खिताब जीता था. इसके अलावा उनके नेतृत्व में ही भारत ने साल 2013 में चैंपियंस ट्राफी भी जीती थी. धोनी ने साल 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. बाद में जनवरी 2017 में उन्होंने क्रिकेट के सभी प्रारूपों में टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था. (इंडियन एक्सप्रेस)

     

    ...
  •  


Posted Date : 13-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 13 सितंबर। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सरिता विहार इलाके में हुई 65 लाख की लूट का मामला सुलझा लिया है। पुलिस ने इस मामले में लूट के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिनमें से एक राष्ट्रीय स्तर का रेसलर है।
    दरअसल, सरिता विहार में विदेशी करेंसी बदलने का काम करने वाले मोहम्मद शाजेब अपने भाई के साथ सरिता विहार से बाइक पर घर के लिए निकले थे। शाजेब ने अपने बैकपैक में 65 लाख कैश रुपया रखा था। रात 9 बजे के करीब जब शाजेब अपने घर पहुंचने वाले थे, तभी दो बाइक पर सवार चार बदमाशों ने शाजेब को घेर लिया।
    बदमाशों ने उन पर रिवाल्वर तान दी और बैग छीनने लगे। जब शाजेब ने इसका विरोध किया तो बदमाशों ने गोली चला दी और बैग लूटकर फरार हो गए। किस्मत से गोली शाजेब को नहीं लगी। लेकिन बदमाश 65 लाख कैश लूटकर वहां से भाग निकले।
    इस केस की जांच स्पेशल सेल को दो दी गई थी। पुलिस की टीम जांच में जुट गई। जांच में पुलिस को पता लगा कि शाहाबाद डेयरी का रहने वाला योगेंद्र नाम का एक लड़का लूट में शामिल था। पुलिस ने योगेंद्र को धर दबोचा, योगेंद्र के पास से पुलिस ने एक देशी कट्टा बरामद किया। योगेंद्र ने पूछताछ में अपने दो साथियों के नाम पुलिस को बता दिए।
    पुलिस को पता लगा कि लूट का मास्टरमाइंड सुनील और राजेश नरेला के हरिशचंद्र अस्पताल के पास अपनी मारूती जिप्सी से आने वाले हैं। इसके बाद पुलिस ने वहां से दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने दोनों के पास से साढ़े सात लाख कैश बरामद किया है। पूछताछ में दोनों ने बताया कि लूट के पैसों से एक मारूती अर्टिगा और एक जिप्सी खरीदी थी।
    लूट का मास्टरमाइंड सुनील कुमार राष्ट्रीय स्तर का रेसलर है। सुनील ने 2008 में दिल्ली में हुई चैम्पियनशिप में सिल्वर मेडल हासिल किया था, लेकिन जल्द और ज्यादा पैसा कमाने के लालच में वह लुटेरा बन बैठा।
    पुलिस का कहना है कि इनके पास इस बात की जानकारी थी कि शाजेब हर रोज बड़ी रकम लेकर अपने दफ्तर से घर जाते हैं, जिसके बाद सुनील ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर लूट की ये साजिश रची थी।
    लूट के बाद ये लोग गोवा गए और वहां जाकर 4 लाख रुपये खर्च कर दिए। पुलिस ने अर्टिगा कार और जिप्सी जब्त कर ली है। अब पुलिस लूट की बाकी की रकम का पता लगाने की कोशिश कर रही है। (आज तक)

     

    ...
  •  


Posted Date : 13-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 13 सितंबर। ढाका में खेले जा रहे साउथ एशियन फुटबॉल फेडरेशन (सैफ) कप के सेमीफाइनल में भारत ने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 3-1 से हरा दिया है। भारत के लिए पहले दो गोल 49वें और 69वें मिनट में मानवीर सिंह ने किए। इसके बाद 78वें मिनट में मानवीर के चेहरे पर चोट लगी और उन्हें मैदान से बाहर स्ट्रेचर पर ले जाया गया।
    उनकी जगह पर बर्थडे बॉय सुमीत पासी को उतारा गया और उन्होंने 83वें मिनट में भारत की ओर से तीसरा गोल दागकर अपने जन्मदिन का जश्न मनाया। मैच के अंतिम मिनटों तक पाकिस्तान की टीम 0-3 से पिछड़ रही थी। हालांकि 87वें मिनट में हसन बशीर ने पाकिस्तान के लिए एक गोल दागकर जीत के अंतर को कुछ कम कर दिया।
    लीग मुकाबलों में श्रीलंका और मालदीव को हराकर भारत ग्रुप बी की नंबर-1 टीम रही। वहीं पाकिस्तान ने आयोजक बांग्लादेश से पहला मुकाबला हारने के बाद नेपाल और भूटान को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई।
    दोनों देशों की फुटबॉल टीमों के बीच इससे पहले साल 2013 में काठमांडू में हुए इसी टूर्नामेंट में मैच खेला गया था। उस मुकाबले में भी भारत की ही जीत हुई थी। तब भारत ने पाकिस्तान को 1-0 से हराया था। भारतीय टीम ने अब तक सात बार सैफ कप फुटबॉल का खिताब अपने नाम किया है।
    पाकिस्तान 2005 के बाद पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचा था। अब तक पाकिस्तान ने इन खेलों में सबसे बेहतरीन प्रदर्शन साल 1997 में किया था। तब उसे तीसरा स्थान प्राप्त हुआ था। विश्व फुटबॉल में 96वें स्थान पर खड़ी भारतीय टीम सैफ कप में सर्वोच्च वरीयता प्राप्त टीम है।  (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 13-Sep-2018
  • भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने अंतरराष्ट्रीय हॉकी से संन्यास ले लिया है, 32 वर्षीय सरदार सिंह ने यह घोषणा करते हुए कहा है, ‘मैंने अपने करियर में 12 साल तक हॉकी खेली है. यह काफी लंबा अरसा होता है. अब समय आ गया है कि अगली पीढ़ी को मौका दिया जाए.’ सरदार सिंह इंडोनेशिया के जकार्ता में आयोजित एशियन गेम्स में हिस्सा लेने वाली भारतीय टीम में भी शामिल थे. इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने कांस्य पदक जीता था.
    अपने संन्यास की घोषणा करते हुए सरदार सिंह ने यह भी कहा, ‘मैंने यह फैसला चंडीगढ़ में अपने परिवार, हॉकी इंडिया व दोस्तों से बातचीत के बाद लिया है. मुझे लगता है कि हॉकी से इतर दूसरी जिंदगी के बारे में सोचने का यह सही समय है.’
    सरदार सिंह ने यह फैसला ऐसे समय में लिया है जब ओडिशा में आयोजित होने जा रहे चार सप्ताह के राष्ट्रीय कैंप के लिए हॉकी इंडिया द्वारा चयनित खिलाड़ियों में उनका नाम शामिल नहीं किया गया है. जब सिंह से इस बारे में पूछा गया तो वे इसे टाल गए. उन्होंने आगे बताया कि वे शुक्रवार को नई दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर संन्यास की औपचारिक घोषणा कर देंगे. इसके पहले एशियाई खेलों के दौरान सरदार सिंह ने टोक्यो में आयोजित होने वाले आगामी ओलंपिक में आखिरी बार खेलने की इच्छा जाहिर की थी.
    सरदार सिंह 2006 में भारतीय टीम में शामिल किए गए थे और उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला मैच खेला था. वर्तमान हॉकी टीम में वे सबसे काबिल मिडफील्ड खिलाड़ियों में गिने जाते हैं. सरदार सिंह ने अपने 12 साल के करियर में 350 से भी ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं और 2008 से लेकर 2016 तक वे टीम के कप्तान रहे हैं. वे भारतीय हॉकी टीम के सबसे कम उम्र में कप्तान बनने वाले खिलाड़ी भी हैं. सरदार सिंह को 2012 में अर्जुन पुरस्कार और 2015 में पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है. ( इंडियन एक्सप्रेस)

    ...
  •  


Posted Date : 12-Sep-2018
  • नई दिल्ली, 12 सितंबर। दुनिया भर के टेनिस प्रेमी इस वक्त दो हिस्सों में बंट गए हैं। एक वो जो सरीना विलियम्स के साथ हैं और दूसरे वो जिन्हें लगता है कि यूएस ओपन के फाइनल मुकाबले में सरीना का बर्ताव उचित नहीं था। हालांकि मामला अब यहीं तक नहीं सीमित नहीं है। अब लोग ऑस्ट्रेलियाई कार्टूनिस्ट मार्क नाइट के बनाए एक कार्टून पर बंटे नजर आ रहे हैं। मार्क नाइट का यह कार्टून ऑस्ट्रेलिया के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबार द हेरल्ड सन में सोमवार को प्रकाशित हुआ था। कार्टून में सरीना को गुस्से में चीखते और अपना रैकेट तोड़ते दिखाया गया है। 

    वहीं, जापानी खिलाड़ी ओसाका से अंपायर कह रहे हैं- क्या आप उन्हें जीतने देंगी, प्लीज?
    मार्क के इस कार्टून पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। बहुत से लोग इसे रेसिस्ट (नस्लभेदी) और सेक्सिस्ट बताकर इसकी आलोचना कर रहे है तो कुछ लोगों को कार्टून में कुछ भी गलत नहीं लग रहा है।
    कुछ लोगों का यह भी कहना है कि इस कार्टून ने जापान की युवा खिलाड़ी नाओमी ओसाका को कम करके दिखाया गया है। यूएस ओपन के फाइनल मुकाबले में सरीना विलियम्स ने अंपायर कार्लोस रामोस को झूठा और चोर कहा था। मैच के दौरान उन्होंने गुस्से में अपना रैकेट भी तोड़ दिया था।
    सरीना विलियम्स पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए 17 हजार डॉलर का जुर्माना लगाया गया है। वहीं, सरीना का कहना था कि उन्होंने खेल के दौरान न कोई चीटिंग की और न ही गलत बर्ताव। सरीना का आरोप है उन पर जुर्माना लगाने और प्वाइंट काटे जाने का फैसला लैंगिक भेदभाव से प्रेरित है।
    हालांकि कार्टूनिस्ट मार्क नाइट और अखबार के संपादक डैमॉन जॉनस्टन ने अपना मजबूती से बचाव किया है कार्टून के सेक्सिस्ट या रेसिस्ट होने के आरोपों से इंकार किया है।
    संपादक डैमॉन जॉनस्टन ने अपने एक ट्वीट में कहा, यह कार्टून एक टेनिस लीजेंड के अनुचित व्यवहार का उचित तरीके से मजाक उड़ाता है। मार्क को सबका पूरा समर्थन है।
    वहीं, मशहूर लेखिका जेके रोलिंग ने कार्टूनिस्ट मार्क पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, दुनिया की सबसे महान खिलाडिय़ों में से एक (सरीना) को सेक्सिस्ट और रेसिस्ट अभियक्ति तक सीमित करने और दुनिया की दूसरी बेहतरीन खिलाड़ी (ओसाका) को एक बिना चेहरे वाले प्रॉप तक सीमित करने के लिए आपको शाबासी।
    एक ट्विटर यूजर ने लिखा, आपने नस्लभेदी होने की पूरी कोशिश की है और तमाम कोशिशों के बाद भी आप इससे ज्यादा नस्लभेदी नहीं हो सकते थे। आपने सरीना का विशाल कैरिकेचर बनाया है। उन्हें जरूरत से ज्यादा मैस्क्युलिन बनाया है, उनके होंठ मोटे बनाए हैं और उनके शरीर के अंगों को भी जान बूझकर बड़ा बनाया है। आपके और 1800 के नस्लभेद में किसी को कोई फर्क नजर नहीं आएगा।
    सोशल मीडिया पर कई लोग इस बात से भी खफा हैं कि कार्टून में ओसाका को एक गोरी और भूरे बालों वाली महिला की तरह दिखाया गया है जबकि वो मिक्स्ड रेस की हैं।
    अमरीका के नेशनल एसोसिएशन ऑफ ब्लैक जर्नलिस्ट्स ने भी इस कार्टून पर अपनी आपत्ति जताई है। मार्क नाइट के पिछले महीने बनाए गए एक कार्टून पर भी नस्लभेद का आरोप लगा था। इस कार्टून में उन्होंने बिना चेहरे वाले कुछ काले लोगों को मेलबर्न के सबवे में झगड़ते दिखाया था।  (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 12-Sep-2018
  • लंदन, 12 सितम्बर : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ पांट टेस्ट मैचों की सीरीज में मिली 1-4 की हार उनकी टीम के प्रदर्शन की सही तस्वीर पेश नहीं करती। मंगलवार को इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें मैच में 118 रनों से हार के बाद कोहली ने प्रजेंटेशन के दौरान कहा कि ऐसा नहीं है कि यह रिजल्ट अनफेयर है क्योंकि इंग्लैंड ने सीरीज में बेहतर प्रदर्शन किया। साथ ही भारतीय कप्तान ने यह भी कहा कि लॉर्ड्स टेस्ट के अलावा उनकी टीम ने सीरीज के सभी मैचों में एकतरफा शिकस्त नहीं खायी।  
    भारतीय कप्तान ने कहा, 'हमने जिस तरह का क्रिकेट खेला वह स्कोरबोर्ड पर नजर नहीं आ रहा है, लेकिन दोनों टीमें जानती हैं कि यह एक कड़ी सीरीज थी। यह सीरीज टेस्ट क्रिकेट के लिए काफी अच्छी थी।' उन्होंने कहा, 'यह टेस्ट क्रिकेट के भविष्य के लिए बहुत अच्छी सीरीज रही। अब प्रशंसक मैदान पर आएंगे और दोनों टीमों को जीत के लिए खेलते हुए देखेंगे।' कोहली से जब पूछा गया कि क्या भारतीय टीम पांचवें दिन मैच जीतने के बारे में सोच रही थी तो उन्होंने कहा कि ऐसा कोई विचार नहीं था। विराट ने कहा, 'हमारी योजना थी अपना स्वाभाविक खेल दिखाने की थी।' 
    कोहली ने कहा कि इंग्लैंड भी प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा, 'इंग्लैंड भी ड्रॉ के लिए नहीं खेलता है। इंग्लिश टीम बेखौफ होकर जीत के इरादे से मैदान पर उतरती है। इसलिए आपको इस तरह की सीरीज में ड्रॉ देखने को नहीं मिलते।' 
    भारतीय कप्तान ने दूसरी पारी में सेंचुरी लगाने वाले केएल राहुल और ऋषभ पंत की भी दिल खोलकर तारीफ की जिन्होंने मैच के आखिरी दिन मेजबान टीम के लिए थोड़ी मुश्किल खड़ी कर दी थी। कोहली ने कहा, 'मुझे लगता है कि इन दो युवा खिलाड़ियों को इसका श्रेय मिलना चाहिए। मैं इन दोनों खिलाड़ियों के प्रदर्शन से बहुत खुश हूं और यह भारतीय टीम के भविष्य के बारे में बताता है।' कोहली ने माना कि उनकी टीम ने सीरीज में कई मौके गंवाए। 
    कोहली ने युवा विकेटकीपर बल्लेबाज पंत की खास तारीफ करते हुए कहा, 'पंत ने एक शानदार जज्बा दिखाया। हमारे पास जुनून तो है लेकिन अनुभव की कुछ कमी है।' पंत ने छक्के के साथ अपनी सेंचुरी पूरी की। कोहली ने कहा कि जब आप इस आक्रामक मूड में होते हैं और नतीजे के बारे में विचार नहीं करते तो फिर आप ऐसे ही खेलते हैं। भारतीय कप्तान ने कहा कि हार के बावजूद हम इस सीरीज से काफी कुछ सकारात्मक ले जा सकते हैं। कोहली ने कहा कि हमने यहां काफी कुछ सीखा जो अगली बार हमारे काम आएगा। 
    कोहली ने मैन ऑफ द सीरीज रहे इंग्लैंड के युवा ऑलराउंडर सैम करन की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, 'सैम करन को इसी वजह से मैन ऑफ द सीरीज का खिताब मिला है। इस तरह के खेल का प्रदर्शन करने के लिए खास जज्बे की जरूरत होती है। करन ने पहले और चौथे टेस्ट में इंग्लैंड को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी।'  (नवभारतटाइम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 12-Sep-2018
  • पहले कयास लगाए जा रहे थे कि डोपिंग की वजह से एक साल का प्रतिबंध झेल चुके अमित पंघाल के नाम पर विचार नहीं किया जाएगा
    एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले अमित पंघाल अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित
    हाल ही में संपन्न हुए एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता मुक्केबाज अमित पंघाल को भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने इस साल के अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित किया है.इस मौके पर खुशी जाहिर करते हुए अमित पंघाल ने कहा, ‘अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित होना सम्मान की बात है. मैं अपनी खुशी शब्दों में बयां नहीं कर सकता हूं. मेरा पदक ही मेरी कहानी बयां करता है और मैं हमेशा यही चाहता था.’

    हालांकि इस तरह के कयास भी लगाए जा रहे थे कि 2012 में डोपिंग का दोषी पाए जाने की वजह से अमित पंघाल के नाम पर विचार नहीं किया जाएगा. इसके लिए उन्हें एक साल का प्रतिबंध भी झेलना पड़ा था. लेकिन फिर भी इस बात को ध्यान में रखते हुए कि अनजाने में हुई इस गलती की सजा वे पहले ही भुगत चुके हैं और ऐसा तब हुआ था जब वे युवा स्तर पर खेल रहे थे, बीएफआई ने उनका नाम मंत्रालय को भेजने का फैसला किया.

    इस मसले पर अमित का कहना है, ‘ऐसा तब हुआ जब मेरी उम्र कम थी और मैं कुछ नहीं जानता था. मैं तब किशोर था और मुझे चेचक हो गया था. शायद तब डॉक्टर ने मुझे जो दवाइयां दी थीं उनमें ही कुछ ऐसा था जिससे मेरा टेस्ट पॉजिटिव आया था.’

    अमित ने यह स्वर्ण पदक 49 किलोग्राम भार वर्ग में जीता था. इस मुकाबले में उनका सामना रियो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीत चुके उजबेकिस्तान के हसनबॉय दुश्मातोव के साथ हुआ था. इस कड़े मुकाबले में हसनबॉय को 3-2 से हराकर अमित ने एशियाई खेलों में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता था. (हिंदुस्तान टाइम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 11-Sep-2018
  • ओवल, 11 सितंबर : इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा टेस्ट सीरीज गंवा चुकी भारतीय टीम हालांकि पांचवां और आखरी टेस्ट बचाने के लिए जूझ रही है, लेकिन हनुमा विहारी के लिए उनका पदार्पण टेस्ट यादगार माना जाएगा.

    24 साल के हनुमा को इंग्लैंड की पहली पारी में सिर्फ एक ओवर फेंकने का मौका मिला, लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित कर दिखाई. उन्होंने दो लगातार गेंदों पर विकेट लेकर अपना नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज करा लिया.
    अपने डेब्यू मैच में हनुमा 35 साल में पहली बार दो लगातार गेंदों पर विकेट हासिल करने वाले पहले भारतीय गेंदबाज बन गए. इससे पहले जनवरी 1983 में बलविंदर सिंह संधू ने पाकिस्तान के खिलाफ अपने डेब्यू टेस्ट में दो गेंदों में दो विकेट चटकाए थे. तब उन्होंने हैदराबाद (सिंध) टेस्ट में मोहसिन खान और हारून रशीद को पवेलियन की राह दिखाई थी.
    दूसरी तरफ हनुमा अपनी डेब्यू पारी में अर्धशतक (56 रन) भी जमा चुके हैं. इसके साथ ही अपने पहले ही टेस्ट में फिफ्टी और दो लगातार गेंदों पर विकेट हासिल करने वाले वह एकमात्र भारतीय क्रिकेटर हैं.
    हनुमा ने ऐसे निकाले विकेट-
    भारत को लंबे इंतजार के बाद इंग्लैंड की दूसरी पारी में हनुमा विहारी (37 रन देकर तीन विकेट) ने सफलता दिलाई. जिन्हें विराट कोहली ने काफी देर बाद आक्रमण पर लगाया.
    विहारी ने अपने 8वें ओवर की पहली दो गेंदों पर जो रूट और एलिस्टेयर कुक को आउट किया. रूट ने तेजी से रन बनाने के प्रयास में स्लॉग स्वीप खेला, लेकिन गेंद देर से बल्ले तक पहुंची और ऊपरी किनारा लेकर डीप मिडविकेट पर खड़े हार्दिक पंड्या के पास पहुंच गई, जो चोटिल ईशांत शर्मा की जगह क्षेत्ररक्षण कर रहे थे. विहारी का यह पहला टेस्ट विकेट था.
    विहारी ने अगली गेंद पर कुक को विकेटकीपर ऋषभ पंत के हाथों कैच कराया और इसके साथ ही विश्व क्रिकेट के बेजोड़ बल्लेबाजों में से एक के करियर का अंत हो गया. भारतीय खिलाड़ियों ने हाथ मिलाकर कुक को विदाई दी, जबकि दर्शकों ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया. इनमें उनकी पत्नी और बेटियां भी शामिल थीं. (aajtak)

    ...
  •  


Posted Date : 10-Sep-2018
  • हिजाब वाली बॉडीबिल्डर का दर्द 

    नई दिल्ली, 10 सितंबर। केरल की 23 वर्षीय मजीजिया भानु हिजाब पहनकर भी रिंग में उतरकर मान्यताओं को धराशायी कर रहीं हैं। जब रिंग में उतरतीं हैं तो सबको चौंका देती हैं। इस साल  शुरुआत में कोच्चि में मिस्टर केरल प्रतियोगिता के महिला वर्ग में प्रतिस्पर्धा करने के लिए मंच पर उतरीं, तो सभी की निगाहें उन पर ठिठक गईं, क्योंकि इससे पहले लोगों ने किसी बॉडीबिल्डर को हिजाब (मुस्लिम महिलाओं द्वारा सर ढकने वाला स्कार्फ) पहनकर प्रतियोगिता में भाग लेते नहीं देखा था। उन्होंने साबित कर दिखाया कि हिजाब उनके या किसी अन्य महिला के लिए कोई अड़चन नहीं है और वह प्रतियोगिता जीतने के लिए आगे बढ़ीं।

    भानु का मानना है कि हिजाब कभी भी अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित किसी भी जुनूनी महिला के लिए बाधा नहीं है और अगर कोई महिला अपने शरीर को दिखाने के लिए स्वतंत्र है, तो उसे इसे ढकने के लिए भी स्वतंत्र होना चाहिए। चूंकि, भानु आर्म-रेसलिंग और पॉवरलिफ्टिंग की दुनिया में एकमात्र मुस्लिम महिला नहीं हैं, फिर भी उन्हें इस क्षेत्र में एक और महिला को देखना है, जो हिजाब पहनकर भाग ले। भानु ने कहा, उनके नामों की घोषणा होने के बाद ही यह पता चलता है कि प्रतिभागी एक मुस्लिम है।
    उन्होंने कहा, मुझे हिजाब पहनने पर गर्व महसूस होता है, जो मेरी पहचान का हिस्सा है। यह मुझे किसी भी तरह से रोकता नहीं है, बल्कि मुझे गरिमा और ताकत देता है। भानु को एक साधारण डेंटल छात्रा से स्थानीय मशहूर शख्सियत बनने में सिर्फ दो साल लगे। वह न सिर्फ अपने गांव में, बल्कि केरल भर में मशहूर हैं। केरल स्टेट पॉवरलिफ्टिंग एसोसिएशन द्वारा उन्हें राज्य की सबसे ताकतवर महिला के रूप में तीन बार चुना गया है।
    अपना करियर शुरू करने के दो वर्षों में, उन्होंने पहले ही पॉवरलिफ्टिंग और आर्म-रेसलिंग में राष्ट्रीय पदक जीत लिए, जबकि उन्होंने डेंटल ट्रेनिंग को भी जारी रखा और चाहे अभ्यास हो, या कोई प्रतियोगिता, वह हमेशा हिजाब पहनती हैं।
    भानु ने आईएएनएस को बताया, शुरुआती दिनों में, पुरुष मुझे हिजाब पहने देखकर घूरते थे। लेकिन, जल्द ही उन्हें अहसास हुआ कि मैं उनकी तरह अभ्यास को लेकर गंभीर हूं। फिर सबने घूरना बंद कर दिया।
    चूंकि हमेशा से उन्हें खेल में रुचि रही है, उनके गांव में शायद ही कोई सुविधा उपलब्ध थी। लेकिन, इससे वह रुकी नहीं। डेंटल क्लास के बाद वह हर रोज दंगल के लिए 60 किलोमीटर दूर कोझिकोड की यात्रा ट्रेन से किया करती थीं। अंतिम वर्ष की डेंटल छात्रा ने कहा, मैं रात नौ बजे के आसपास वापस लौटती थी। शुरू में, यह सब मुश्किल था। लेकिन, धीरे-धीरे मुझमें अकेले सफर करने को लेकर आत्मविश्वास आया और आखिरकार यह मेरी दिनचर्या का हिस्सा बन गया।
    भानु ने कहा कि माता-पिता के समर्थन के बिना वह अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पातीं। उन्होंने कहा, मैं एक बहुत रूढि़वादी गांव से हूं और मेरे माता-पिता ने मुझे बॉडीबिल्डिंग के मेरे जुनून को पूरा करने की रजामंदी दी। आज, भानु अपने गांव में कई अन्य लड़कियों के लिए एक प्रेरणा हैं। उनकी सफलता के बाद, गांव को अब अपना जिम मिला है।
    उन्होंने कहा, कई युवा लड़कियों और महिलाओं ने मुझसे सलाह लेने के लिए आना शुरू कर दिया है कि उन्हें क्या करने की जरूरत है, क्योंकि मैं जो कर रही हूं, वे भी करना चाहती हैं। अब मेरे गांव में एक जिम है। उन्होंने यह भी कहा कि अब वह महीने में केवल तीन-चार बार कोझिकोड जाती हैं।भानु अगले महीने तुर्की में होने वाले वल्र्ड आर्म रेसलिंग चैंपियनशिप-2018 में भाग लेने के लिए जबरदस्त तैयारी कर रही हैं, जिसके चलते आजकल वह बेहद व्यस्त हैं।
    भानु ने कहा, मैं नहीं जानती थी कि मैं ऐसा कर सकूंगी, क्योंकि यात्रा के लिए फंड की जरूरत थी। मैंने कुछ दरवाजों पर दस्तक दी और आखिरकार प्रबंध करने में कामयाब रही। कुछ शुभचिंतकों ने मेरी यात्रा को प्रायोजित किया है। कभी-कभी, जब मैं प्रायोजक ढूंढ़ती तो मुझे अहसास होता कि कोई मुझे प्रायोजित करना नहीं चाहता, क्योंकि मैं एक मुस्लिम महिला हूं।
    भविष्य की योजनाओं के बारे में भानु ने कहा कि उनका पहला लक्ष्य अपनी पढ़ाई पूरी करना है, क्योंकि उनके माता-पिता का सपना उन्हें डॉक्टर बनाने का है। भानु ने आत्मविश्वास के साथ कहा, एक बार जब मैं इसे पूरा कर लूंगी, तो मैं एक अकादमी स्थापित करने के अपने सपने को पूरा करने की कोशिश करूंगी, जो मार्शल आर्ट्स, पॉवरलिफ्टिंग, आर्म-रेसलिंग और बॉडीबिल्डिंग सहित मल्टी-डिसप्लिनरी होगा। इसमें लड़कियों को अहमियत दी जाएगी। उन्होंने आत्मविश्वास के साथ कहा, मुझे पूरा यकीन है कि मैं अपने जुनून को पूरा करने और महिलाओं को सशक्त बनाने अपनी इच्छा को पूरा करने में सक्षम हो पाऊंगी।  (आईएएनएस)

    ...
  •  




Previous12Next