कारोबार

Previous12Next
Date : 13-Nov-2019

अमेजन व फ्लिपकार्ट के खिलाफ कैट की बैठक, प्रतिनिधि मंडल सांसदों को सौंपेंगे ज्ञापन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 13 नवंबर। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिय़ा टे्रडर्स (कैट) के प्रदेश कार्यालय में मंगलवार को अमर पारवानी की अध्यक्षता में कैट पदाधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें कैट के सभी पदाधिकारी व भाटापारा, कांकेर, तिल्दा, भिलाई इकाई मुख्य रूप से शामिल हुए।

श्री पारवानी ने बैठक में कहा कि देशभर में व्यापारिक समुदाय अमेजन, फ्लिपकार्ट और अन्य ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ जो कानून को दरकिनार कर सरकार की एफडीआई नीति के प्रेस नोट नंबर 2 का उल्लंघन कर रहीं हैं, जिसके खिलाफ आक्रामक प्रदेश स्तर पर आंदोलन शुरू करने के लिए तैयार है।

 कैट के तत्वाधान में विगत 10 नवम्बर को नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय व्यापारी सम्मेलन में 27 राज्यों के प्रमुख व्यापारी नेताओं ने कहा कि अमेजॅन, फ्लिपकार्ट व अन्य ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ एक मजबूत लड़ाई छेडऩे के लिए प्रतिबद्ध हैं।

बैठक में प्रदेश के 6 लाख से अधिक व्यापारियों ने 13 नवंबर को प्रदेश स्तर पर आंदोलन के लिए रोडमैप तैयार किया। इसे जागरूकता अभियान दिवस के रूप में मनाया जाएगा। व्यापारी प्रतिनिधि मंडल प्रदेश के सभी लोकसभा व राज्यसभा के सांसदों को विस्तृत ज्ञापन सौंपेंगे तथा उन्हें संसद में इस मुद्दे को उठाने और सरकार से ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करेंगे।

इस अवसर पर विक्रम सिंह देव, नरेश गंगवानी, राजकुमार राठी, राम मंधान, कैलाश खेमानी, अमर गिदवानी, राकेश ओचवानी, वासु माखीजा, पवन वाधवा, शफीक भाई अहमद कांकेर कैट ईकाई से हाजी वली भाई, मोहम्मद आरीफ भाई, शैलेन्द्र सिंह, राजेश देवनानी, कृष्ण कुमार मुंदडा, रमेश श्रीमाली सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।


Date : 12-Nov-2019

रेणुका शर्मा को पीएचडी, उन्होंने अपना शोध कार्य डॉ. महिमा गौतम, एसोशिएट प्रोफेसर, विभागाध्यक्ष व डॉ. सुनयना मिश्रा के सहयोग से पूर्ण किया

रायपुर, 12 नवंबर। व्याख्याता अंग्रेजी विषय में रेणुका शर्मा को मैट्स विश्वविद्यालय द्वारा उनके शोध कार्य रिप्रेजेन्टेशन ऑफ पर्सनल एक्सपिरियेन्सेज एंड प्लेसेज इन सिलेक्टेड वर्क्स ऑफ विला कैथर पर पीएचडी की उपाधि प्रदान की गई। उन्होंने अपना शोध कार्य डॉ. महिमा गौतम, एसोशिएट प्रोफेसर, विभागाध्यक्ष व डॉ. सुनयना मिश्रा के सहयोग से पूर्ण किया। वर्तमान में वे ग.रा.व.शा. उ. मा. विद्यालय नरदहा आरंग में पदस्थ हैं। 


Date : 12-Nov-2019

 ईओ के रायपुर चेप्टर ने ग्लोबल स्टूडेंट आंत्रप्रोन्योर अवॉर्ड्स (जीएसईए) के लिए 11 जनवरी को लोकल क्वालिफाइंग स्पर्धा रायपुर में आयोजित

रायपुर, 12 नवंबर। ईओ के रायपुर चेप्टर ने ग्लोबल स्टूडेंट आंत्रप्रोन्योर अवॉर्ड्स (जीएसईए) के लिए सोमवार को घोषणा की कि 11 जनवरी 2020 में लोकल क्वालिफाइंग स्पर्धा रायपुर में आयोजित की जाएगी। इसके लिए आवेदन स्वीकार करना शुरू कर दिया गया है। 

कार्यक्रम में स्टूडेंस आंत्रप्रोन्योर अपने समकक्षों के साथ स्थानीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर क्वालिफाइंग राऊंड्स से वैश्विक फिनाले में जगह बना सकते हैं। लोकल क्वालिफायर राउंड के विजेता को एक लाख रुपये का पुरस्कार कोयम्बटूर में होने वाले नेशनल क्वालिफायर में जाने का अवसर भी मिलेगा। जीएसईए ना सिर्फ विश्व के उभरते हुए स्टूडेंट आंत्रप्रोन्योर्स को अपने समकक्षों और मार्गदर्शकों से जोड़ता है बल्कि उन्हें प्रतिस्पर्धा के माध्यम से सीखने व बढऩे का अवसर प्रदान करता है। 


Date : 12-Nov-2019

नई दिल्ली में आयोजित वैष्विक कृषि महासम्मेलन एग्रो वर्ल्ड 2019 में सेल्फी राष्ट्रीय अध्यक्ष और मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के संस्थापक डॉ. राजाराम त्रिपाठी को भारतीय कृषि उद्यमी अवार्ड-2019 से सम्मानित किया गया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 12 नवंबर।
भारतीय खाद्य व कृषि परिषद के तत्वावधान में नई दिल्ली में आयोजित वैष्विक कृषि महासम्मेलन एग्रो वर्ल्ड 2019 में सेल्फी राष्ट्रीय अध्यक्ष और मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के संस्थापक डॉ. राजाराम त्रिपाठी को भारतीय कृषि उद्यमी अवार्ड-2019 से सम्मानित किया गया। 

प्रदेश के कोण्डागांव के डॉ. त्रिपाठी को यह अवार्ड उनके नेतृत्व में चैम्फ द्वारा देश के किसानों को उच्च लाभदायक जैविक खेती और हर्बल खेती की ओर उन्मुख करने, मुख्य रूप से किसानों के उत्पादन को बाजार दिलाने में मदद करने, देश के सूखे तथा कम वर्षा वाले क्षेत्र में भी सफलतापूर्वक अधिकतम उत्पादन देने वाली काली मिर्च की किस्म व नई किस्मों के विकास और बस्तर के कोण्डागांव क्षेत्र में इनका सफल व्यावसायिक मॉडल तैयार करने के लिए दिया गया।

 डॉ. त्रिपाठी मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के भी प्रमुख हैं और उन्होंने देश आदिवासियों के उत्थान के लिए दो दशकों से कार्यरत अलाभकारी समाजसेवी संस्थान संपदा की स्थापना भी की है। वर्तमान में वह किसानों को मार्केटिंग उपलब्ध कराने वाली गैर लाभदायक संस्था केंद्रीय औषधीय कृषि और विपणन महासंघ (चैम्फ) के चेयरमैन का भी दायित्व भी निभा रहे हैं।

 


Date : 11-Nov-2019

मैग्नेटो द मॉल में रविवार को डांस प्रतियोगिता आयोजित की गई, इस कार्यक्रम में करीब 70 प्रतिभागी शामिल हुए

रायपुर। मैग्नेटो द मॉल में रविवार को डांस प्रतियोगिता आयोजित की गई। इसमें कृष्णा पब्लिक स्कूल, सचदेवा, संत जोसफ स्कूल, ओने डायरेक्शन अकादमी, पैशन अकादमी के 18 साल तक के बच्चों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में करीब 70 प्रतिभागी शामिल हुए। 


Date : 08-Nov-2019

मुगलई शाही व्यंजनों के शाही स्वाद और अभिन्न ज़ायके अब मिलेंगें रायपुर में, कोर्टयार्ड बाय मैरियट में 17 नवंबर तक अवधी फ़ूड फेस्टिवल, लखनवी तहज़ीब में रमे नवाबी स्टार्टर्स हैं मुख्य आकर्षण

रायपुर, 8 नवंबर। कोर्टयार्ड बाय मैरियट के मोमो कैफे में शुक्रवार से अवधी फूड फेस्टीवल की शुरूआत की गई। इस फूड फेस्टीवल में लखनऊ की तहजीब से सराबोर नवाबी दौर के शाही अवधी व्यंजनों का लाजवाब स्वाद ले सकेंगे। यह दस दिवसीय फेस्टीवल 8 से 17 नवंबर तक शाम 7 से रात 11 बजे तक चलेगा।

इस संबंध में शुक्रवार को पत्रकार वार्ता में होटल के जनरल मैनेजर रजनीश कुमार ने बताया कि मुगल काल में शाही खानसामे व्यंजनों को शाही स्वाद और अभिन्न जायकों में उतारने की कोशिश की है। एक्जिकिटिव शेफ जितेन्द्र सिंह राठौर नेे कहा कि इस फूड फेस्टिवल में मुगलई विधि से बनाए गए वेज और नॉन-वेज व्यंजन मेहमानों को सर्व किए जाएंगे। साथ ही लखनऊ की तहजीब और उसमें रमे नवाबी जायकों में बने शानदार स्टार्टर्स, मेन कोर्स होंगे।

उन्होंने बताया कि इस फेस्टीवल के दौरान हर शाम व्यंजनों की फेहरिस्त अलग-अलग रखी गई है, शोरबा गोश्त यखनी, मुर्ग पोटली शोरबा, सब्जियों का अर्क, दाल के यखनी जैसे स्वादिष्ट सूप पेश किए जाएंगे। बुफे में टमाटर की मछली, मुर्ग टिक्का मिर्जा हस्नू, पनीर कुटा मसाला और नवाबी पनीर टिक्का जैसे अन्य व्यंजन होंगे।

 


Date : 08-Nov-2019

नई दिल्ली, 8 नवंबर । नोटबंदी को आज तीन साल पूरे हो गए हैं। आज ही के दिन रात आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन करते हुए इसकी घोषणा की थी। तब उन्होंने इसे लागू करने के पीछे कई सारे कारण बताएं थे, जिस पर चोट करने की बात कही गई थी। काला धन, आतंकवाद, बड़े नोटों की जमाखोरी, नकली नोट जैसे मुद्दे प्रमुख थे। नोट बंद होने के बाद सरकार की तरफ से डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने की बात कही गई थी। 
बढ़ी दो हजार रुपये की जमाखोरी
नवंबर 2016 के बाद जहां डिजिटल भुगतान में बढ़ोतरी देखने को मिली, वहीं अन्य कारण जो उस वक्त बताए गए थे, उनमें किसी तरह की कमी नहीं आई है। नोटबंदी के बाद जो दो हजार रुपये का नोट शुरू किया गया था, लेकिन उसकी भी छपाई को रोक दिया है। आरबीआई ने इस नोट को एटीएम से भी देने पर रोक लगा दी है। बैंक अब एटीएम में से दो हजार रुपये के नोट की कैसेट को निकाल कर 500, 200 और 100 रुपये की कैसेट ज्यादा लगा रहे हैं। बैंक का तर्क है कि लोग दो हजार के नोट की जमाखोरी करने लगे हैं। इस वजह से इसकी छपाई रोक दी गई है। वहीं अब यह नोट केवल बैंक शाखाओं में मिल रहा है। 
डिजिटल भुगतान में हुआ इजाफा
नोटबंदी के दौरान सरकार ने कहा था कि वो नकदी का प्रचलन कम करने के लिए डिजिटल और कार्ड से भुगतान को ज्यादा बढ़ावा देंगे। तीन साल बाद जहां एक तरफ डिजिटल भुगतान में बढ़ावा देखने को मिला है, वहीं दूसरी तरफ नकदी आज भी लोगों की जरूरत है। नकदी का प्रचलन कहीं से भी कम नहीं हुआ है। 
भारत में लोग डिजिटल लेनदेन के लिए यूपीआई यानी यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस का काफी इस्तेमाल करते हैं। तीन साल पहले लॉन्च हुए यूपीआई के जरिए अक्टूबर माह में एक अरब लेनदेन हुए हैं। वहीं पिछले महीने सितंबर में इसके जरिए 95.5 करोड़ लेनदेन हुए थे। इसके साथ ही यूपीआई सबसे तेजी से बढऩे वाला सिस्टम बन गया है। 
हालांकि उस वक्त डिजिटल ट्रांजेक्शन में बढ़ावा देखने को मिला था, लेकिन जैसे-जैसे नकदी की स्थिति सुधरी डिजिटल ट्रांजेक्शन कम होने लगे। डिजिटल भुगतान में भी धोखाधड़ी के मामले ज्यादा सामने आने के चलते भी लोग फिर से नकद ट्रांजेक्शन ज्यादा करने लगे हैं। 
अर्थशास्त्री मोहन गुरुस्वामी का कहना है कि नोटबंदी के बाद लोगों में बैंकों में धन जमा करने को लेकर शंका बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सांख्यिकी आंकड़ों के अनुसार, 2011-12 से 2015-16 तक बाजार में चल रही कुल नकदी की तुलना में महज 9-12 फीसदी नकदी ही लोग घरों में जमा करते थे। 2017-18 में यह आंकड़ा बढक़र 26 फीसदी हो गया। हालांकि, इस दौरान डिजिटल लेनदेन को काफी बढ़ावा मिला है। अक्टूबर में यूपीआई के जरिये 1 अरब डिजिटल ट्रांजेक्शन किए गए। इसके अलावा पेटीएम, अमेजन-पे, गूगल-पे, फोन-पे जैसे भुगतान एप के जरिये भी डिजिटल लेनदेन तेजी से बढ़ रहा है। 
काले धन पर नहीं लगी रोक
नोटबंदी का सबसे बड़ा कारण काला धन था। हालांकि यह कम होने के बजाए बढ़ता गया है। हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा या फिर विधानसभा के चुनाव हों, बड़ी अरबों रुपये जांच एजेंसियों को दो हजार और पांच सौ के नोट मिले है, जिनका कोई हिसाब-किताब नहीं था। आयकर अधिकारियों द्वारा समय-समय पर मारे जा रहे छापों में भी यह बात सामने आ रही है, जिसमें लोगों के पास बड़ी संख्या में ऐसे नोट मिले हैं। 
नकली नोटों की संख्या बढ़ी
अगर नोटबंदी से पहले के समय की बात करें, तो नकली नोटों का प्रचलन काफी ज्यादा था। नोटबंदी के बाद इस बारे में आरबीई ने एक रिपोर्ट भी जारी की है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डाटा के मुताबिक, देश में नकली नोटों के मामलों में तेज बढ़ोतरी हुई है। वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले पिछले वित्त वर्ष में नकली नोटों में 121 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 2,000 रुपये के नकली नोटों की बात करें, तो यह आंकड़ा 21.9 फीसदी है। 200 रुपये के 12,728 जाली नोट मिले, जबकि पिछले साल सिर्फ 79 ही पकड़े गए थे। 
वैल्यू के लिहाज से देखा जाए, तो मार्च 2019 के आखिर तक 500 और 2000 के नोटों की हिस्सेदारी कुल वैल्यू में 82.2 फीसदी थी। आरबीआई के मुताबिक, यह आंकड़ा मार्च 2018 के अंत में 80.2 फीसदी था। इसके अलावा, समान अवधि में क्रमश: 10, 20 और 50 रुपये में पाए गए नकली नोटों में 20.2 फीसदी, 87.2 फीसदी और 57.3 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। हालांकि 100 के मूल्यवर्ग में पाए गए नकली नोटों में 7.5 फीसदी की गिरावट देखी गई है। 
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले दिनों सदन में एक सवाल के जवाब में कहा था कि 4 नवंबर, 2016 को बाजार में कुल 17,741 अरब रुपये के मूल्य के बराबर नकदी चलन में थी, जो 29 मार्च 2019 तक बढक़र 21,137.64 अरब रुपये पहुंच गई। इस तरह बाजार में 3,396 अरब रुपये की नकदी ज्यादा चल रही है। इसी तरह, एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार 2016 में जहां 24.61 करोड़ के नकली नोट पकड़े गए थे, वहीं 2017 में यह बढक़र 28 करोड़ पहुंच गया। हालांकि, इसके बाद नकली नोटों की संख्या में उल्लेखनीय कमी आई है। 
आतंकवाद में नहीं लगी कोई लगाम
नोटबंदी के वक्त कहा गया था, कि इससे आतंकी और कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आएगी। हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।  दक्षिण एशिया आतंकी पोर्टल (एसएटीपी) के डाटा के अनुसार 2016,2017 और 2018 में 2015 के मुकाबले आतंकी घटनाओं में इजाफा देखा गया। 2015 में जहां 728 लोग आतंकी हमले का शिकार हुए थे, वहीं इनकी संख्या 2016 में 905, 2017 में 812 और 2018 में 940 पर पहुंच गई। (अमर उजाला)
 


Date : 07-Nov-2019

फ्लिपकार्ट की बैलेंस शीट से कैट ने लगाए फ्लिपकार्ट पर गंभीर आरोप

रायपुर, 7 नवंबर। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिय़ा ट्रेड़र्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर परवानी, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, प्रदेश महामंत्री जितेंद्र दोशी, प्रदेश कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल, एवं प्रदेश प्रवक्ता राजकुमार राठी ने विज्ञप्ति में बताया कि केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को गुरुवार भेजे गए एक पत्र  में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने फ्लिपकार्ट प्राइवेट लिमिटेड की बैलेंस शीट का हवाला देते हुए उस पर  कानून को दरकिनार करने के गंभीर आरोप लगाए हैं जिसके कारण  सरकार को जीएसटी और आयकर में भारी राजस्व की हानि हुई है। फ्लिपकार्ट द्वारा इन्वेंट्री को नियंत्रित करने के लिए सकल जोड़तोड़, सरकार की एफडीआई नीति को दरकिनार करना और खुले और पारदर्शी तरीके से कारोबार करने के बजाय कंपनी के मूल्यांकन को बढ़ाने जैसे आरोप कैट ने लगाए हैं। कैट ने कहा है कि यह ई कॉमर्स बाजार को विषाक्त करने का खुला मामला है और श्री गोयल को पहले कदम के रूप में फ्लिपकार्ट ई कॉमर्स व्यवसाय को बंद करने के लिए आदेश देना चाहिए और कर विशेषज्ञों, चार्टर्ड एकाउंटेंट और वरिष्ठ अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय समिति का गठन करना चाहिए जो एक समयबध्द सीमा में फ्लिपकार्ट, उसकी मूल कंपनी और अन्य सहयोगी या संबंधित कंपनियों की बैलेंस शीट, आय और व्यय खाते का गहराई से अध्ययन कर सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपे ।

 मीडिया के एक हिस्से में फ्लिपकार्ट के बारे में सही तथ्यों का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, जिसने फ्लिपकार्ट की बैलेंस शीट का विश्लेषण किया है और उसका निष्कर्ष हमारे आरोपों की पुष्टि करता है कि फ्लिपकार्ट कोई मार्केटप्लेस नहीं है बल्कि  वास्तविक रूप में यह देश की सबसे बड़ी खुदरा कंपनी है जो एफडीआई नीति का घोर उल्लंघन है ।

एक मीडिया रिपोर्ट का हवाले  कैट ने कहा कि देश के पांच शीर्ष कॉर्पोरेट खुदरा विक्रेताओं दम वित्तीय वर्ष 2018-19 में 43,374 करोड़ रुपये का माल खऱीदा जबकि फ्लिपकार्ट की सिंगापुर मूल कंपनी फ्लिपकार्ट प्राइवेट लिमिटेड के वित्तीय स्टेटमेंट से पता चलता है कि अकेले फ्लिपकार्ट ने इस वर्ष 39,514 करोड़ रुपये का सामान खरीदा, जो कॉर्पोरेट खुदरा विक्रेताओं द्वारा खरीदे गए कुल माल का 90 प्रतिशत  है। प्रासंगिक सवाल यह है कि एक मार्केट प्लेस को इतने बड़े पैमाने पर सामान खरीदने और बेचने की आवश्यकता क्यों है ?

कैट ने कहा की उसी वित्तीय वर्ष में फ्लिपकार्ट ने उन सामानों की बिक्री के कारण रु. 4431 करोड़ का नुकसान उठाया जिसमें बिक्री के लिए खर्च किए गए आकस्मिक खर्चे शामिल नहीं हैं । 2019 में समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष में भारी डिस्काउंट देने की वजह से घाटा 170 प्रतिशत  तक बढ़ा है। एक अनुमान के अनुसार फ्लिपकार्ट हर दिन 110 करोड़ रुपये का सामान खरीद रहा है और प्रति दिन 39 करोड़ रुपये के नुकसान पर बेच रहा है।


Date : 07-Nov-2019

नई दिल्ली, 7 नवंबर । अगर आपने कोई ऐसा बैंक खाता  खुलवाया हो जिसका इस्तेमाल आप नहीं करते हैं तो उस खाते तो बंद करवाना आपके लिए ठीक है। क्योंकि आपको खाता रखने के लिए मिनिमम बैलेंस मेनटेन करना होता है। साथ ही, ऐसा नहीं करने पर बैंक आपसे इसके लिए भारी चार्ज भी वसूलता है। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अगर आप कोई बैंक खाता बंद करते हैं तो उससे जुड़े सभी जरूरी डाक्यूमेंट्स को आपको डी-लिंक कराना होगा। क्योंकि बैंक खाते से निवेश, लोन, ट्रेडिंग, क्रेडिट कार्ड पेमेंट और बीमे से जुड़े पेमेंट लिंक होते है। आइए आपको बताते हैं कि कैसे आप अपने खाते को बंद करा सकते हैं।(न्यूज18)
 


Date : 05-Nov-2019

दिव्येश सिंह/ मुनीष पांडे
मुंबई, 5 नवंबर। बैंक घोटाला मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने एक साथ 169 जगह पर छापेमारी की है। सीबीआई की टीम आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दादर नागर हवेली में 169 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।
इस दौरान फ्रॉड केस से जुड़े सबूतों की तलाश की जा रही है। सीबीआई ने 7 हजार करोड़ के बैंक फ्रॉड केस में 35 मुकदमें दर्ज किए हैं। उसी सिलसिले में यह छापेमारी की जा रही है।
सीबीआई की 170 से अधिक टीमों ने 7000 करोड़ रुपये से अधिक के बैंक धोखाधड़ी से संबंधित 35 मामलों में छापेमारी कर रही है। सूत्रों ने बताया कि वरिष्ठ अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय बैठक सोमवार को हुई थी और मंगलवार सुबह से देश के विभिन्न हिस्सों में छापेमारी करने के लिए ऑपरेशन को अंतिम रूप दिया गया।
पंजाब नेशनल बैंक में 13000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के मामलों के बाद केंद्र सरकार ने सीबीआई को बैंक धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया था।
सूत्रों का कहना है कि सीबीआई द्वारा दर्ज की गई ज्यादातर एफआईआर में वैसे डिफॉल्टर्स हैं जिन्होंने बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर अपनी फर्मों के नाम पर लोन लिया था और इसे वापस नहीं किया गया। कुछ मामलों में बैंकों को धोखा देने के लिए क्रेडिट सुविधा का इस्तेमाल किया गया था।(आजतक)
 


Date : 05-Nov-2019

7 वर्षीय हृदयरोग से पीडि़त बच्ची का जटिल पेसमेकर इम्प्लांट, हॉस्पिटल का एवं छत्तीसगढ़ का पहला ऐसा केस था जिसमें इतने कम वजन के कुपोषित मरीज का पेसमेकर इम्प्लांटेशन किया गया

रायपुर, 5 नवंबर। एनएच एमएमआई नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल के विशेषज्ञों ने जन्मजात जटिल हृदयरोग से पीडि़त 7 वर्षीय बच्ची का एएआई (एट्रियल पेसिंग मोड) पेसमेकर इम्प्लांट सफलतापूर्वक किया गया। यह बच्ची पीएवीसीडी (पार्शियल ए वी कैनाल डिफेक्ट) नामक जन्मजात हृदयरोग से पीडि़त थी। उसके हृदय में एक बड़े छेद (लार्ज ऑस्टियम प्राइमैटिक एट्रियम सेप्टल डिफेक्ट) के साथ हृदय के वाल्व में खून का रिसाव हो रहा था। इस वजह से बच्ची कुपोषित व उसका वजन 12 किग्रा था।

हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ सुमंत शेखर पाढ़ी ने बताया कि उस बच्ची को यह बीमारी बचपन से थी, लेकिन पिछले कुछ समय से उसकी कमजोरी बढ़ती जा रही थी। उसके ईलाज के लिए दो स्तरों की प्रक्रिया से पहले हार्ट सर्जन ने हृदय के छेद (एएसडी) को बंद किया और माइट्रल वाल्व को रिपेयर किया। इसके बाद पीएवीसीडी का ईलाज किया गया। इस बीमारी से जुड़े कुछ और विकारों के कारण उसकी हृदयगति बार-बार कम होने के साथ नब्ज भी सामान्य से काफी कम हो गयी थी, इसलिए चिकित्सकों ने पेसमेकर लगाने का निश्चय किया।

उन्होंने बताया कि बड़ों की तुलना में बच्चों में पेसमेकर इम्प्लांटेशन कही अधिक जटिल एवं जोखिमभरा होता है। यह इस हॉस्पिटल का एवं छत्तीसगढ़ का पहला ऐसा केस था जिसमें इतने कम वजन के कुपोषित मरीज का पेसमेकर इम्प्लांटेशन किया गया।


Date : 05-Nov-2019

हैण्डलूम एक्सपो को मिल रहा अच्छा प्रतिसाद, आयोजन में विभिन्न प्रदेश के शिल्पकार व बुनकरों द्वारा बनाई गई वस्तुओं की प्रदर्शनी व बिक्री की जा रही है

रायपुर, 5 नवंबर। रावणभाटा दशहरा मैदान में चल रहे हैण्डलूम एक्सपो-एक्जीबिशन को रायपुरवासियों का अच्छा प्रतिसाद मिला रहा। इस आयोजन में विभिन्न प्रदेश के शिल्पकार व बुनकरों द्वारा बनाई गई वस्तुओं की प्रदर्शनी व बिक्री की जा रही है। जिसमें 20 प्रतिशत का डिस्काउंट भी दिया जा रहा है।

उपरोक्त जानकारी हैण्डलूम एक्सपो के संचालक पवन जायसवाल ने दी। उन्होंने बताया किएक्सपो में देश के प्रमुख शहरों से हैण्डलूम आयटम्स प्रदर्शनी एवं बिक्री की जा रही है। इसमें राजस्थान की जयपुरी कॉटन बेडशीट, कोटा की साडिय़ां व टॉप्स, उत्तरप्रदेश की खादी शर्ट व कुर्ती, बनारसी सिल्क साड़ी, लखनवी चिकन, डिजायनर दरियां आदि, आन्ध्रप्रदेश की कलमकारी कुर्ती, मंगलगिरी, पोचमपल्ली साडिय़ां, वेस्ट बेंगाल की कॉटन लाडिय़ां तथा बिहार से भागलपुरी ड्रेस मटेरियल के अलावा कई आकर्षण हैंडलूम है।

इस प्रदर्शनी में विशेष स्किम भी रखी गयी है, जिसके तहत प्रत्येक एक हजार रु की खरीदी पर कूपन दिया जा रहा है, जिसका लक्की ड्रॉ 10 नवंबर को निकाला जायेगा। इसमें प्रथम पुरस्कार एक्टीवा, द्वितीय पुरस्कार 32 इंची सोनी एलईडी टीवी और तीसरा पुरस्कार वॉशिंग मशीन है।

 


Date : 04-Nov-2019

कैट ने अमजोन व फ्लिपकार्ट के खिलाफराष्ट्रीय आंदोलन, कैट पदाधिकारियों ने कहा कि यह लड़ाई देश के 7 करोड़ व्यापारियों के अस्तित्व को बचाने के लिए है 

रायपुर, 4 नवंबर। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिय़ा ट्रेड़र्स (कैट) ने एमजोन और फ्लिपकार्ट सहित उन सभी ई कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ राष्ट्रव्यापी युद्ध की घोषणा की है, जो भारत सरकार की एफडीआई पालिसी का उल्लंघन करते हुए रिटेल व्यापार को तहस नहस करने में लगे है।

कैट पदाधिकारियों ने कहा कि यह लड़ाई देश के 7 करोड़ व्यापारियों के अस्तित्व को बचाने के लिए है तथा व्यापारी किसी भी कीमत पर देश में दूसरी ईस्ट इंडिया कंपनी को उभरने नहीं देंगे। कैट अमजोन और फ्लिपकार्ट के रवैए की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि इस मुद्दे पर शीघ्र ही एक राष्ट्रीय आंदोलन शुरू कर रहा है जिसकी रूपरेखा तय करने के लिए आगामी 10 नवंबर को नई दिल्ली में राष्ट्रीय गवर्निंग काउंसिल की आपात बैठक बुलाई है, जिसमें देश के सभी राज्यों के व्यापारी नेता शामिल होंगे।

इस आंदोलन में व्यापारियों के अलावा ट्रांसपोर्ट, लघु उद्योग, किसान, हाकर्स, उपभोक्ता एवं स्वयं उद्यमियों सहित स्वदेशी जागरण मंच को भी जोड़ा जाएगा।


Date : 04-Nov-2019

नई दिल्ली, 4 नवंबर । शेयर बाजार में तेजी बरकरार है। सोमवार को सेंसेक्स 250 अंकों की उछाल के साथ 40, 407.27 पर खुला। वहीं, निफ्टी 50 अंकों की बढ़त के साथ 11,967.60 पर खुला। वोडाफोन आईडिया और इंडोस्टार कैपिटल के शेयर में जबरदस्त उछाल देखने को मिली। इससे पहले शुक्रवार को सेंसेक्स 40,165.03 और निफ्टी 11,899.50 पर बंद हुआ था।
भारतीय शेयर बाजार में सोमवार को तेजी का सिलसिला जारी रहा। सेंसेक्स आरंभिक कारोबार के दौरान 180 अंक से ज्यादा उछला और निफ्टी भी 60 अंकों से ज्यादा चढ़ा।
सुबह 9.18 बजे बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक सेंसेक्स 184.16 अंकों की तेजी के साथ 40,349.19 पर बना हुआ था जबकि इससे पहले सेंसेक्स तेजी के साथ 40,293.85 पर खुला और 40,353।32 तक उछला। पिछले सत्र में सेंसेक्स 40,165.03 पर बंद हुआ था।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के 50 शेयरों पर आधारित सूचकांक निफ्टी 53.20 अंकों की तेजी के साथ 11,943.80 पर कारोबार कर रहा था जबकि निफ्टी तेजी के साथ 11,298.90 पर खुला और 11,952.65 तक उछला। निफ्टी पिछले सत्र में 11,890.60 पर बंद हुआ था।(न्यूज18)

 


Date : 03-Nov-2019

मुकेश गुप्ता प्रकरण में अपने खिलाफ षडय़ंत्र का आरोप, वीरेन्द्र पाण्डेय ने सिविल लाइन थाने में की शिकायत, एसपी से लेकर डीजीपी तक की भूमिका पर संदेह जताया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 3 नवम्बर।
राज्य वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष वीरेन्द्र पाण्डेय ने निलंबित पुलिस अफसर मुकेश गुप्ता के प्रकरण में अपने खिलाफ षडय़ंत्र का आरोप लगाया है। उन्होंने सिविल लाईन थाने में लिखित शिकायत की है। शिकायत में यह कहा है कि वाट्सअप के जरिए  उन्हें बदनाम करने की कोशिश हो रही है। पाण्डेय ने आरोप लगाया कि मुकेश गुप्ता प्रकरण में डीजीपी से लेकर अन्य पुलिस अफसरों की भूमिका साफ नहीं है। गुप्ता को बचाने की कोशिश हो रही है।

श्री पाण्डेय ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि मुकेश गुप्ता प्रकरण पर उनके खिलाफ वाट्सअप के जरिए बदनाम करने की कोशिश हो रही है। इसकी उन्होंने सिविल लाईन थाने में लिखित शिकायत की है। पाण्डेय ने एक लिखित शिकायत में कहा है कि वाट्सअप में उन्हें एक पीडीएफ भी प्राप्त हुआ है जिसमें एक लिफाफे की फोटोकॉपी और उनके नाम से एक याचिका थी, जो कि महाधिवक्ता सतीश वर्मा को भेजी गई थी।

उन्होंने बताया कि लिफाफे में प्रेषक का नाम जीपी सिंह, एडीजी ईओडब्ल्यू-एसीबी दर्ज है। लेकिन उस याचिका के अंत में किसी का भी हस्ताक्षर नहीं है। जो कि किसी और के द्वारा टाइप कराई गई है। वाट्सअप में जो मैसेज चल रहा है उसके अनुसार मुखिया का मोहरा बनकर निलंबित मुकेश गुप्ता के खिलाफ षडय़ंत्र कर रहे हैं। जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने कई मामलों में स्टे दे रखा है। उनका कहना है कि यह उन्हें बदनाम करने की एक साजिश है। उन्होंने पुलिस से मामले की जांच कर कार्रवाई करने कहा है। 

पाण्डेय ने यह भी कहा कि मुकेश गुप्ता और रजनेश सिंह द्वारा अभियुक्तों को बचाने और निर्दोषों को फंसाने के लिए कई तरह के हथकंडे अपनाए थे। इसकी लिखित में शिकायत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से एक फरवरी-2019 को की थी। इसमें पूरे दस्तावेज भी उपलब्ध कराए गए जिससे यह प्रमाणित होता है कि दोनों पुलिस अफसर षडय़ंत्र में लिप्त थे।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रकरण की जांच के लिए डीजीपी को कहा था, लेकिन डीजीपी ने प्रकरण को ईओडब्ल्यू को भेज दिया। जो कि उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं था। पाण्डेय ने यह भी बताया कि उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं होने पर ईओडब्ल्यू के अफसरों से इस सिलसिले में जानकारी चाही थी। एक बार उन्हें बयान देने के लिए बुलाया गया, लेकिन आगे कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि वे एसपी से इस सिलसिले में शिकायत कर चुके हैं, लेकिन बाद में एसपी ने उनका टेलीफोन उठाना तक बंद कर दिया था। पाण्डेय ने पुलिस अफसरों की भूमिका पर संदेह जाहिर किया है। 

उन्होंने बताया कि तीन दिन पहले उन्होंने सिविल लाईन थाने में लिखित शिकायत की थी, शिकायत पर कोई कार्रवाई न होने पर उन्होंने अदालत जाने की ठानी है। पाण्डेय ने आश्चर्य जाहिर किया कि उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई होने के बजाए उल्टे उनके खिलाफ ही सोशल मीडिया के माध्यम से बदनाम किया जा रहा है। 


Date : 03-Nov-2019

फोर स्टार होटल सिंघानिया सरोवर पोर्टिको नेशनल लेबल के इवेंट्स सुनने व देखने का अवसर प्रदान कर रही, पब जेफ्रिस् में फेमस सेलिब्रिटी डीजे प्रीखा 16 नवंबर को क्लब परफार्म करेंगी, बगैर पास के प्रवेश नहीं

रायपुर, 3 नवंबर। सिंघानिया सरोवर पोर्टिको पब जेफ्रिस् में फेमस सेलिब्रिटी डीजे प्रीखा अपनी टीम के साथ 16 नवंबर को रायपुर में प्रोग्राम प्रस्तुत करने पहली बार छत्तीसगढ़ आ रही हैं। वे शाम 7 बजे से अपना क्लब परफार्म करेंगी। इसके लिए एंट्री सलेक्टेट रखी गई हैं, बगैर पास के प्रवेश नहीं दिया जाएगा। 

सिंघानिया बिल्डकॉन प्रा.लि. एवं सिंघानिया सरोवर पोर्टिको के सीईओ प्रशांत मित्तल एवं जनरल मैनेजर सुमित ने बताया कि इस इवेंट्स को लेकर युवाओं में काफी उत्साह है, जो पहले से ही अपनी एन्ट्री पासेस रिजर्व करा लिए हैं। फोर स्टार होटल सिंघानिया सरोवर पोर्टिको जो नेशनल लेबल के इवेंट्स सुनने व देखने का अवसर प्रदान कर रही है। विगत दिवस डीजे सुकेतू और पिंकसिटी जयपुर की फेमस डीजे, सिंगर डॉ खुशबू कपूर जैसे डीजे फेम अपनी परफार्म दे चुके हैं। 


Date : 02-Nov-2019

कैट के पदाधिकारियों ने बताया कि देशभर के व्यापारियों के लिए इस दीवाली पिछले 20 वर्षों में सबसे ज्यादा खराब रही, इस वर्ष करीब 60 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की

रायपुर, 2 नवंबर। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिय़ा ट्रेडर्स (कैट) के पदाधिकारियों ने बताया कि देशभर के व्यापारियों के लिए इस दीवाली पिछले 20 वर्षों में सबसे ज्यादा खराब रही, लेकिन पिछले वर्षों की तुलना में इस वर्ष करीब 60 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। क्योंकि चीन अपने उत्पादों के दुनिया भर में भारत को सबसे बड़ा बाजार मानता है और अपने उत्पादों के सहारे लगातार भारतीय खुदरा बाजार पर अपना एकाधिकार करने की चेष्टा कर रहा है। 

उन्होंने बताया कि 2018 में बेचे जाने वाले चीनी सामानों का मूल्य करीब 8 हजार करोड़ रुपये था, जबकि इस दीपावली के त्योहार पर चीनी सामानों की बिक्री लगभग 32 सौ करोड़ रुपये की हुई। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि कैट ने पिछले साल चीनी उत्पादों के बहिष्कार पर राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया था जिससे चीनी सामानों की बिक्री में लगभग 30 प्रतिशत की गिरावट देखी गई थी। इस साल भी चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने के लिए जुलाई महीने में ही देशभर के व्यापारियों और आयातकों को अग्रिम सलाह दी थी। दूसरी तरफ व्यापारियों ने भी स्वदेशी सामान खरीदने पर ज्यादा जोर दिया। 

कैट के सहयोगी संगठन कैट  रिसर्च एंड ट्रेड डेवलपमेंट सोसाइटी  द्वारा 24 से 29 अक्टूबर के बीच किए गए चीनी उत्पादों की बिक्री की वास्तविकता जानने का सर्वेक्षण देश के 21 प्रमुख शहरों दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बंग्लुरु, हैदराबाद, रायपुर, नागपुर, पुणे, भोपाल, जयपुर, लखनऊ, कानपुर, अहमदाबाद, रांची, देहरादून, जम्मू, कोयम्बटूर, भुवनेश्वर, कोलकाता, पांडिचेरी और तिनसुकिया में किया गया।


Date : 31-Oct-2019

कैट एवं अन्य पदाधिकारियों ने सीनियर आईएएस आरपी मंडल को नए मुख्य सचिव बनाने पर उन्हें बधाई, शुभकामनाएं दी 

रायपुर, 31 अक्टूबर। कैट के उपाध्यक्ष अमर पारवानी, मांगेलाल मालू, विक्रम सिंहदेव, जितेन्द्र दोषी, परमानंद जैन एवं अन्य पदाधिकारियों ने सीनियर आईएएस आरपी मंडल को छत्तीसगढ़ शासन के नए मुख्य सचिव बनाने पर उन्हें बधाई, शुभकामनाएं दी है। 

 


Date : 31-Oct-2019

कैट ने निलंबित एसपी रजनेश सिंह के खिलाफ विभागीय जांच पर स्थगन दे दिया, कोर्ट से राहत मिली 

रायपुर, 31 अक्टूबर। निलंबित एसपी रजनेश सिंह को कैट से राहत मिल गई है। कैट ने उनके खिलाफ विभागीय जांच पर स्थगन दे दिया है। नान-फोन टैपिंग प्रकरण में रजनेश सिंह को निलंबित कर दिया गया था। उनके खिलाफ विभागीय जांच के आदेश भी दिए गए, लेकिन इसके खिलाफ उन्हें कोर्ट से राहत मिल गई थी। बाद में विभागीय जांच को कैट ने चुनौती दी जिसे स्थगन आदेश दे दिया है।

 


Date : 30-Oct-2019

एनएमडीसी अपोलो अस्पताल में आदिवासी युवक का गेस्ट्रोजेजुनोस्टॉमी का सफल ऑपरेशन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बचेली, 30 अक्टूबर।
एनएमडीसी अपोलो अस्पताल, बचेली में आदिवासी युवक का सफल गेस्ट्रोजेजुनोस्टॉमी का ऑपरेशन किया गया। 
ग्राम धन्नूपारा, मोलसनार में निवासरत 50 वर्षीय आदिवासी युवक आयतू को 18 सितम्बर को परियोजना अस्पताल में पेट दर्द एवं उल्टी से पीडि़त अवस्था में भर्ती कराया गया। उसे हमेशा से पेट भारी होकर फूल जाने एवं बद हज्मी, पेट दर्द, एसीडीटी, कब्जियत आदि की शिकायत रहती थी। कई-कई दिनों तक ठीक से खाना न खा पाने की वजह से वह बहुत ही कमजोर हो गया था, जिससे उसमें खून की कमी हो गई थी। 

इंडोस्कोपी व बेरियम मील एक्सरे द्वारा जॉंच करने पर यह पाया गया कि उसके पेट के नीचे की आंत में सिकुडऩ व गठान बन गया है। सात अक्टूबर को आयतू का ऑपरेशन एनएमडीसी अपोलो हॉस्पिटल बचेली में डॉ.एन.आर.चैहान, वरिष्ठ सर्जन एवं उनकी टीम के द्वारा किया गया। ऑपरेशन के दौरान मरीज को चार बोतल खून चढ़ाया गया, जिसकी व्यवस्था अस्पताल एवं मरीज के परिजनों के द्वारा किया गया। ऑपरेशन के पश्चात मरीज बिल्कुल स्वस्थ हो गया है एवं ठीक से खाना खा पा रहा है। मरीज के स्वास्थ्य में सुधार को देखकर उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। 

एनएमडीसी अपोलो अस्पताल, बचेली के मुख्य चिकित्सा प्रशासक, डॉ. एस.एम. हक ने बताया कि इस तरह के ऑपरेशन सामान्यत: बड़ेे अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेजों में ही किये जाते हैं परंतु अब अपालो अस्पताल बचेली में नवीन उपकरण इंडोस्कोपी के आ जाने से चिकित्सकों को पेट में तकलीफ होने वाले  मरीजों की जांच करने में सहायता मिल रही है तथा इसका लाभ यहां के मरीजों विशेष रूप से स्थानीय आदिवासियों एवं अन्य लोगों को मिल रहा है जो बाहर जाकर चिकित्सा करवा पाने में असमर्थ हैं। स्थानीय आदिवासियों को हर प्रकार से अस्पताल में सेवा प्रदान करने  के लिए एनएमडीसी बीआईओएम, बचेली परियोजना प्रमुख टी एस चेरियन, अधिशासी निदेशक हमेशा प्रयत्नषील रहते हैं। 

 


Previous12Next