गरियाबंद

दशहरा पर्व संदेश देता है ‘असत्य पर सत्य की विजय निश्चित है’
16-Oct-2021 4:57 PM (70)
दशहरा पर्व संदेश देता है ‘असत्य पर सत्य की विजय निश्चित है’

अभनपुर में दशहरा पर्व धूमधाम से मनाया गया

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
नवापारा-राजिम, 16 अक्टूबर।
आदर्श रामायण मंडली बड़े उरला के तत्वावधान में रावणभाठा मैदान में असत्य पर सत्य की जीत का पर्व दशहरा धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में रायपुर सांसद सुनील सोनी, अभनपुर विधायक धनेन्द्र साहू, पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू, जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष अशोक बजाज, जिला पंचायत सदस्य खेमराज कोसले, नगर पंचायत अध्यक्ष कुंदन बघेल, उपाध्यक्ष किशन शर्मा, जनपद सदस्य राजेश साहू, भाजपा मंडल अध्यक्ष अनिल अग्रवाल आदि मौजूद थे।

इस अवसर पर अतिथियों ने भगवान श्रीराम एवं अस्त्र-शस्त्र की पूजा-अर्चना कर प्रदेश एवं नगर की खुशहाली एवं सुख समृद्धि की कामना की। अतिथियों ने दशहरे पर्व की बधाई देते हुए कहा कि इस पर्व को बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक माना जाता है। दशहरा पर्व हमें संदेश देता है कि ‘असत्य पर सत्य की विजय निश्चित है।’ यह दिन हमें इस बात का अहसास दिलाता है कि हमें शक्ति का समन्वय बनाए रखना चाहिए और कभी भी इसका गलत उपयोग नहीं करना चाहिए। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम को याद करते हुए उनके आदर्शों को जीवन में अपनाने की बात कही।

आयोजन समिति के अध्यक्ष मदन गिलहरे ने बताया कि सन् 1959 से अब तक लगातार प्रतिवर्ष उनकी मंडली द्वारा यह आयोजन किया जा रहा है। मंडली द्वारा नगर में रावण दहन का कार्यक्रम विगत 50 से अधिक वर्ष पूर्ण कर लिया है। श्री गिलहरे ने बताया कि उनके रामायण मंडली द्वारा जन-जन तक समाज सुधार का संदेश पहुंचाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इनमें विशेष रूप से हनुमान जयंती, रामनाम सप्ताह आदि सार्वजनिक कार्यक्रम का आयोजन होता है। मंडली द्वारा दशहरा उत्सव में भरपूर सहयोग दिया जाता है।
दशहरा उत्सव कार्यक्रम में पार्षद शिवनारायण बघेल, राजा राय, बबला यादव, रामचरण चक्रधारी, मुरारी वैष्णव, समाजसेवी कचरूलाल भट्टर आदि उपस्थित थे।

कार्यक्रम का संचालन लौटन गिलहरे द्वारा किया गया। वहीं राम मंडली में श्रीराम की भूमिका राहुल बंजारे, लक्ष्मण बाला गिलहरे, हनुमान महेंद्र गिलहरे, रावण की भूमिका राहुल गुप्ता, अहिरावण माधव गिलहरे, कुंभकरण प्रकाश जैन, मेघनाथ शेखर गिलहरे, अक्षय उगेश गिलहरे, जोकर मदन गिलहरे, नंदुल बंजारे, संतोष गिलहरे, प्रकाश टंडन, शैलेष बंजारे, बाला गिलहरे, दयावंत गिलहरे, मोहन बारले, कृष्ण चतुर्वेदी, दानी बघेल, साहिल बघेल, प्रिंस बघेल, हरत गिलहरे, दिव्यांश धनगर, सागर साहू, सागर बारले, तानिष गिलहरे सहित आदर्श रामायण मंडली के सभी सदस्यों का सहयोग रहा।
 

अन्य पोस्ट

Comments