सूरजपुर

कारोबारी से 18 लाख की आन लाइन ठगी
16-Oct-2021 5:20 PM (34)
कारोबारी से 18 लाख की आन लाइन ठगी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिश्रामपुर, 16 अक्टूबर।
लटोरी गांव स्थित पंकज वस्त्रालय के संचालक विचित्र विश्वास के बैंक खाते से 18 लाख रुपये की आनलाइन ठगी का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में लटोरी पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरुद्ध चार सौ बीसी का अपराध दर्ज कर लिया है।
आनलाइन ठगी की घटना बीते 13 नवंबर की है। मोबाइल पर लिंक भेजकर साइबर अपराधियों ने 17 लाख 98 हजार 495 रुपये की आनलाइन ठगी की वारदात को अंजाम दिया है।

 पंकज वस्त्रालय के संचालक विचित्र विश्वास पिता सुशील विश्वास ने उक्त आशय की रिपोर्ट पुलिस चौकी लटोरी में दर्ज कराई है। उसने बताया कि अंबिकापुर के इंडसइंड बैंक में उसका खाता है। उसी बैंक में उसकी तीन एफडी में राशि जमा थी। उन्होंने घटना तिथि को संबंधित बैंक के कर्मचारी अनूप गुप्ता के मोबाइल पर काल कर पूछा कि बैंक खाते से बिजली बिल का पैसा आहरण हुआ है या नहीं। तब उसने कस्टमर केयर का नंबर उसे व्हाट्सएप कर संबंधित नंबर से जानकारी लेने को कहा। जिस पर उसने कस्टमर केयर में कल कर जानकारी लेना चाहा, लेकिन काल नहीं लगा। उसके तत्काल बाद एक अन्य मोबाइल नंबर से उनके मोबाइल नंबर पर काल आया। काल करने वाले ने कहा कि इंडसइंड बैंक नेट बैंकिंग से बोल रहा हूं।

आपकी क्या सहायता कर सकता हूं। तब उसने कहा कि मेरा बिजली बिल जमा है या नहीं एवं मेरी एफडी में जमा रकम कब पूरी होगी। तब उसने कहा कि उसका बिजली बिल नहीं जमा है। यह कह कर उसने कहा कि आपको लिंक भेज रहा हूं। आपके मोबाइल पर आने वाले ओटीपी को मेरे मोबाइल पर भेजते जाइएगा। उसके बाद जैसे ही मैंने ओटीपी डाला, तो मेरा मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन हैंग हो गया। जिस पर मैंने तत्काल बैंक के कर्मचारी अनूप गुप्ता को अपने खाते को होल्ड करने को कहा, तो उसने कहा कि इसमें कुछ समय लगेगा। तब तक मेरे बैंक खाते से राशि आहरण होने का मैसेज आया। उसके बाद पता चला कि मेरे बचत बैंक खाते एवं फिक्स डिपजिट में जमा करीब 18 लाख रुपए अज्ञात आरोपी द्वारा आहरण कर लिया गया है। आनलाइन ठगी के शिकार दुकान दुकान संचालक विचित्र विश्वास की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धारा 420 के तहत ठगी का अपराध दर्ज कर लिया है।
 

अन्य पोस्ट

Comments