रायपुर

महिलाओं-बच्चों पर असाधरण रिपोर्टिंग के लिए यूनिसेफ करेगा पुरस्कृत
16-Oct-2021 6:22 PM (34)
  महिलाओं-बच्चों पर असाधरण रिपोर्टिंग के लिए यूनिसेफ करेगा पुरस्कृत

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 16 अक्टूबर। यूनिसेफ ने सीएमएसआर फाउंडेशन के साथ मिलकर ‘हमर लइकामन’  मीडिया 4चिल्ड्रन अवार्ड की स्थापना की है, जिसके अंतर्गत  छत्तीसगढ़ में महिलाओं और बच्चों से संबंधित मुद्दों पर असाधारण रिपोर्टिंग के लिए पत्रकारों और फोटो-पत्रकारों को पुरुस्कृत किया जाएगा। यह अवार्ड चार श्रेणियों में दिया जाएगा- प्रिंट, टेलीविजन और रेडियो, डिजिटल समाचार प्लेटफॉर्म और फोटो-पत्रकारिता।

इस अवसर पर यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के प्रमुख जॉब जकरिया ने कहा है कि  मीडिया4चिल्ड्रन अवार्ड बच्चों से जुड़े मुद्दों पर रिपोर्टिंग के लिए दिए जाने वाला छत्तीसगढ़ का पहला मीडिया पुरुस्कार है। यह अवार्ड मीडियाकर्मियों को बच्चों से जुड़े मुद्दों, सफलता की कहानियों और नवाचारों पर प्रकाश डालने के लिए प्रोत्साहित करेगा। इस अवार्ड के माध्यम से बाल-हितों को विकास मॉडल के केंद्र में लाने और समाज में बाल अधिकारों के बारे में अधिक जागरूकता पैदा करने में मदद मिलेगी।

कोरोना महामारी के संदर्भ में, इस पुरस्कार के माध्यम से स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, स्वच्छता, महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा पर कोविड के अप्रत्यक्ष प्रभाव को उजागर करने के लिए मीडिया को प्रोत्साहित किया जाएगा, जिसमें स्कूल बंद होने के कारण बच्चों की पढ़ाई में हुए नुकसान, दुव्र्यवहार और शोषण के प्रति बढ़ती संवेदनशीलता, आवश्यक सेवाओं में आयी रुकावट और विकास गति में आई कमी शामिल है। हमर लइकामन पुरस्कार 2021 का उद्देश्य बच्चों से जुड़े मुद्दों की रिपोर्टिंग में मीडिया की भूमिका को मजबूत करने और भविष्य में होने वाले नुकसान को रोकना है।

संचार विशेषज्ञ श्याम सुधीर बंदी ने कहा कि यूनिसेफ के पास पुख्ता सबूत हैं कि मीडिया ने राज्य में बच्चों की भलाई में असाधारण योगदान दिया है। मीडिया कलेक्टिव फॉर चाइल्ड राइट्स (एमसीसीआर) 6 सौ से अधिक मीडियाकर्मियों के एक ऐसा समूह हैं जिसने न केवल समाज में बाल-अधिकारों के प्रति जागरूकता बढ़ाई है, बल्कि नीति निर्माताओं, कार्यान्वयनकर्ताओं और जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर इस दिशा में ठोस कदम भी उठायें हैं। उन्होंने कहा कि ‘हमर लइकामन’ पुरस्कार राज्य में बाल अधिकारों को बढ़ावा देने में मीडिया के अथक समर्थन की सराहना का प्रतीक है।

प्राप्त प्रविष्टियों के परिक्षण और इस सन्दर्भ में अंतिम निर्णय के लिए 5-सदस्यीय जूरी का गठन किया गया है, जिसमें मीडिया, सरकार और सिविल सोसाइटी क्षेत्र की प्रख्यात हस्तियां शामिल होंगी। विजेताओं को प्रशस्ति पत्र और नकद मानदेय प्रदान किया जाएगा। प्रविष्टियां के माध्यम से ऑनलाइन जमा की जा सकती हैं और प्रविष्टियां भेजने की अंतिम तिथि 10 नवंबर है। विजेताओं को विश्व बाल दिवस सप्ताह के दौरान सम्मानित किया जाएगा।

अन्य पोस्ट

Comments