कोण्डागांव

जैविक खेती से स्वास्थ्य पर दूरगामी सकारात्मक प्रभाव-संतराम
25-Oct-2021 9:39 PM (33)
 जैविक खेती से स्वास्थ्य पर दूरगामी सकारात्मक प्रभाव-संतराम

जिला स्तरीय पशु मेला एवं प्रदर्शनी तथा कृषक पशुपालक संगोष्ठी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

केशकाल, 25 अक्टूबर। पशुधन विकास विभाग द्वारा नेशनल लाइव स्टाक योजनांतर्गत बड़ेराजपुर ब्लॉक के कोरगांव में सोमवार को जिला स्तरीय पशु मेला प्रदर्शनी एवं प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि केशकाल विधायक एवं बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष संतराम नेताम शामिल हुए।

सर्वप्रथम विभागीय अधिकारियों ने अतिथियों को तिलक चन्दन लगाकर एवं पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। ततपश्चात विभाग द्वारा आयोजित किये गए पशुपालन की विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेता ग्रामीणों को प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार देकर सममानित किया गया।

इस दौरान विधायक ने कहा कि शासन की सुराजी योजनाओं नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी का कार्य कर रही है। नरवा योजना से जहां नदी नालों के सतही जल का संरक्षण कर उन्हें पुनर्जीवित किया गया है और भूमिगत जल का स्तर बढऩे से नदी नाले बारहमासी सदा पानी भरा रहता है।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक संतराम नेताम ने कहा कि जिस प्रकार से शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा गरवा योजना के अंतर्गत पशुधन एवं उनके उत्पादों को संवर्धन कर ग्राम की समृद्धि से जोड़ा गया है। इसी प्रकार घुरवा के तहत जैविक खाद के महत्व तथा बाड़ी के तहत साग-सब्जी के उत्पादन को भारी प्रोत्साहन मिला है।

जैविक खेती को सफल बनाने पर जोर

उन्होंने जैविक खेती को सफल बनाने पर जोर देते हुए कहा कि जैविक खेती के चलन से आम जनमानस के स्वास्थ्य पर दूरगामी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और प्रदेश के लाखों पशुपालक इससे लाभान्वित हुए हैं और अब गोठान बहुद्देशीय रोजगार को केंद्र बन रहा है। विधायक ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था में गोठान की भूमिका का महत्व बताते हुए गोठानों में पशुधन को बढ़ावा देकर वर्मी कंपोस्ट, नाडेप जैसे उच्च गुणवत्तायुक्त खाद तैयार करने में महिला समूह के योगदान को सराहनीय बताया और कहा कि गोठान की समस्त गतिविधियां महिलाओं के आय अर्जन के स्रोत के रूप में उभरी है।

पशुपालन के लिए ग्रामीणों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता

विधायक ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है कि कृषि कार्यों में पशुओं से अधिक मशीनों का उपयोग हो रहा है, फलस्वरूप क्षेत्र में पशुपालन की दर में काफी कमी देखने को मिल रही है। इसलिए हमें अधिक से अधिक ग्रामीणों को पशुपालन के लिए प्रेरित करना है, जितना अधिक पशुधन  संग्रहण होगा ग्रामवासियों को उतना ही लाभ भी होगा। साथ ही पशुपालन के माध्यम से ही हम जैविक कृषि में भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

 मांगों को पूरा करवाने मुख्यमंत्री से करेंगे अनुशंसा

विधायक ने बताया कि कोरगाँव के सरपंच एवं उपसरपंच ने मांग की है कि गांव में स्टेडियम और सामुदायिक शौचालय का निर्माण करवाया जाए। मैं इसके लिए मुख्यमंत्री जी के समक्ष अनुशंसा करूँगा और पूरा प्रयास करूंगा कि ग्रामवासियों की यह मांग पूरी हो जाए।

इस अवसर पर मुख्य रूप से योजना आयोग के सदस्य धन्नू मरकाम, बड़ेराजपुर जनपद उपाध्यक्ष श्यामा साहू, जेठूराम मंडावी, जनपद सदस्य विनोद नाग, सरपंच कोरगांव रामायण, उप सरपंच नरेंद्र जैन, साजिद आडवाणी, कमलेश ठाकुर, ज्ञानदास कोर्राम, हीरा मरकाम समेत शिशिरकांत पांडे उपसंचालक विभाग कोंडागांव, डॉ. सुरेंद्र नाग, डॉ. प्रेमप्रकाश ठाकुर, डॉ. प्यारेलाल ठाकुर, डॉ. सुधरन मरकाम, डॉ. श्यामलाल कुंजाम, गिरजाशंकर साहू समेत स्थानीय जनप्रतिनिधि , ग्रामीण जन उपस्थित रहे ।

अन्य पोस्ट

Comments