कवर्धा

राज्योत्सव में झूम उठा कवर्धा, छत्तीसगढ़ी कार्यक्रमों का लिया आनंद
02-Nov-2021 5:30 PM (289)
राज्योत्सव में झूम उठा कवर्धा, छत्तीसगढ़ी कार्यक्रमों का लिया आनंद

अपनी मूल परम्परा, कला और संस्कृति के साथ छत्तीसगढ़ विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है- ममता

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कवर्धा, 2 नवम्बर।
छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस पर एक नवम्बर को कवर्धा में पीजी कॉलेज मैदान में राज्योत्सव के रूप में मनाया गया। पूरे दिन से देर रात तक छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति व रीति रिवाजों पर आधारित अलग-अलग कार्यक्रमों की प्रस्तुति होती रही। राज्योत्सव के मुख्य अतिथि पंडरिया विधायक ममता चन्द्राकर ने दीप प्रज्जवलित कर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का विधिवत शुभारंभ किया।

इस अवसर पर मंच पर जिला पंचायत अध्यक्ष सुशीला भट्, नगर पालिका अध्यक्ष ऋषि कुमार शर्मा, जनपद सदस्य इंद्राणी चन्द्रवंशी, राज्य क्रेडा के सदस्य कन्हैया अग्रवाल, छत्तीसगढ़ योग आयोग के सदस्य गणेश योगी, कृषक कल्याण परिषद के सदस्य भगवान पटेल, शांकभरी बोर्ड के सदस्य हरी पटेल, पूर्व विधायक डॉ.सियाराम साहू, जिला पंचायत सदस्य तुका राम चंद्रवंशी, राम कुमार भट्ट व कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा, पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग, जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के विशेष रूप से उपस्थित थे।

विधायक पंडरिया ममता चन्द्राकर ने छत्तीसगढ़ राज्य के 21वीं स्थापना की बधाई दी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल में छत्तीसगढ़ चहूमुखी विकास कर रहा है। यहां की विलुप्त होती कला, संस्कृति, और परम्परा को पुन: स्थापित किया जा रहा है। आज छत्तीसगढ़ अपनी संस्कृति, कला और परम्परा से जुड़ रहा है।

कोविड संक्रमण के दौर में भी  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  ने राज्य के विकास को प्राथकिता में रख कर राज्य के लोगों के विकास, उन्नती, प्रगति और खुशहाली के लिए अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं बनाई है। हमारी सरकार की सभी योजनाएं राज्य के अंतिम व्यक्ति तक पहुंच रही है। यही वजह है कि आज राज्य के सरगुजा संभाग के ईब नदी से लेकर बस्तर के इंन्द्रवंती नदी तक और मानपुर-मोहला से लेकर महासमुंद तक यहां के गांव, गरीब किसान और सभी वर्गों के जीवन में अभूतपूर्व बदलाव और विकास की नई किरण पहुंच रही है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने दीपावली से पहले राज्य स्थापना दिवस पर आज राजीव गांधी न्याय योजना के तहत प्रदेश के किसानों को 15 सौ करोड़ रुपये उनके बैंक खाते में डाला है। समय-समय पर किसानों को इस योजना के तहत राशि मिलने से किसानों का आत्मविश्वास और आत्मबल बढ़ रहा है। इसके राज्य के कारोबार व्यापार को भी लाभ मिल रहा है।

मुझे यह कहते हुए खुशी है कि हमारी सरकार प्राथमिक क्षेत्र को सशक्त बनाने का बीड़ा उठाया, जिससे कृषि तथा वन उत्पादों को बहुत बड़े पैमाने पर लोगों के रोजगार का जरिया बनाया गया। हमारी सरकार की राजीव गांधी किसान न्याय योजना एक ऐसी योजना है, जिसमें यदि आप धान की फसल लेते हैं तो 9 हजार रू. प्रति एकड़ का अनुदान राज्य सरकार अलग से देती है और यदि कोई धान के बदले दूसरी फसल लेता है तो 10 हजार रू. प्रति एकड़ की दर से अनुदान देने की भी व्यवस्था की गई है। हमारी सरकार ने राज्य के सभी वर्गों के साथ न्याय कर रही है।  मुख्यमंत्री ने न्याय की श्रृख्ंला को आगे बढ़ाते हुए अब राजीव गांधी भूमिहीन किसान न्याय योजना बनाई है। इस योजना के तहत अब राज्य के भूमिहिन व खेती-किसानी से जुड़ेे मजदूर वर्गो को सालाना 6 हजार रूपए देने की योजना बनाई है। उन्होंने राज्य के सभी जनकल्याणकारी योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी।

नगर पालिका अध्यक्ष ऋषि शर्मा ने राज्य स्थापना दिवस की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज छत्तीसगढ़ 21 वर्ष का हो गया। पूरा प्रदेश  आज छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति, और परम्परा से सराबोर हो रहा है। आज छत्तीसगढ़ विकास के मार्ग पर बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि कवर्धा नगर पालिका आबादी की दृष्टिकोण प्रदेश का सबसे दूसरा बड़ा शहर है। विकास की दृष्टिकोण से प्रदेश का मॉडल नगर पालिका के रूप में पहचान बन रही है। उन्होंने इस विकास के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और कैबिनेट मंत्री तथा कवर्धा विधायक मोहम्मद अकबर को श्रेय दिया है। उन्होंने कहा कि कबीरधाम जिले के समुचित विकास के लिए मंत्री अकबर भाई हमेशा संवेदनशील रहे है।

उन्होने नगर पालिका क्षेत्र के 1438 बेसहारा व विधवा महिलाओं को 72 लाख रुपये स्वेक्षा अनुदान मद से आर्थिक मदद देने के लिए मंत्री अकबर के प्रति आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने जिले के विकास प्रतिवेदन पढ़ा। साथ कि जिला पंचायत सदस्य तुकाराम चन्द्रवंशी, राम कुमार भट्ट ने भी संबोधित किया।

 कार्यक्रम के बाद विधायक चन्द्राकर तथा सभी अतिथियों ने राज्योत्सव में लगाए गए सभी विकास मूलक प्रदर्शनी का अवलोकन किया। मंच संचालन अवधेश नन्दन श्रीवास्तव और आदित्य श्रीवास्तव ने किया।

एक दिवसीय राज्योत्सव में जैसे जैसे आकाश में चांदनी फैलती रही ठीक उसी अंदाज में राज्योत्व महोत्सव मंच कर छत्त्ीसगढ़ की कला और संस्कृति की कार्यक्रमों की प्रस्तुति का सिलसिला बढ़ता रहा। जिले के स्कूली बच्चों ने राज्योत्सव के कार्यक्रमों की खुबसुरती बढ़ा दी। छत्तीसगढ़ के छालीवुड गायक नीतिन दूबे की गायकी ने राज्योत्सव में समां बाध दिया।  कबीरधाम जिले  के दर्शक छत्तीसगढ की कला और संस्कृति में सरोबर हो गए। दर्शकों को एक से बडक़ एक छत्तीसगढ़ी गीतों का आंनद उठाया। दर्शक छूम उठे। दर्शक दीर्घा से लगातार तालिया बचती रही।
 

अन्य पोस्ट

Comments