बेमेतरा

झाल सरपंच व सचिव पर अनियमितता का आरोप, जांच कर कार्रवाई की मांग
11-Nov-2021 6:17 PM (36)
झाल सरपंच व सचिव पर अनियमितता का आरोप, जांच कर कार्रवाई की मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बेमेतरा,  11 नवंबर।
जनपद पंचायत के ग्राम झाल के सरपंच व सचिव पर अनियमितता के आरोप लगे हैं । इस संबंध में उपसरपंच और पंचों ने कलेक्टर से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है।

उपसरपंच नानक सिंह वर्मा ने आरोप लगाया कि सरपंच पिंकी वर्मा व सचिव कांति बंजारे मनमानी कर रहे हैं। सरपंच और सचिव 14 वें व 15 वें वित्त की राशि का पंचायत में प्रस्ताव किए बगैर गलत तरीके से खर्च कर रहे हैं। इसके अलावा पिछले पंचवर्षीय की बचत राशि 12 लाख 84 हजार 236 रुपए का हिसाब देने से साफ इंकार कर दिया गया है ।  जानकारी मांगने पर सरपंच व सचिव द्वारा गोलमोल जवाब दिया जाता है।

उपसरपंच ने बताया कि सचिव की मनमानी से परेशान सरपंच व पंचों ने सचिव को हटाने जनपद पंचायत में फरवरी माह में आवेदन किया था । लेकिन कुछ दिनों बाद गुपचुप तरीके से सरपंच ने अपनी शिकायत को वापस लेते हुए सचिव को नहीं हटाने को लेकर फिर से आवेदन किया। इस पर उपसरपंच व ग्रामीणों ने पहले शिकायत और बाद में आवेदन वापस लेने पर  सरपंच की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं।

उपसरपंच नानक वर्मा ने बताया कि पिछले पंचवर्षीय में सरपंच मीरा साहू ने वर्तमान सरपंच पिंकी वर्मा को कार्यभार सौपने के दौरान 8 बैंकों में जमा 12 लाख 84 हजार 236 रुपए बचत का हिसाब दिया था ।  इस राशि के संबंध में कोई भी जानकारी सरपंच और सचिव के द्वारा पंचों को उपलब्ध नहीं कराई जा रही है ।  ऐसी स्थिति में पंचों के द्वारा बचत राशि के बारे में बड़ी गड़बड़ी की शिकायत कलेक्टर से की गई है ।  

शिकायत के अनुसार सचिव पंचायत से हमेशा गैरहाजिर रहती है । महीने में एकाध-दो बार पंचायत आती हैं । ग्राम पंचायत की बैठक समय पर नहीं हो रही है । पंचायत की बैठक नहीं होने के कारण लोगों के बुनियादी जरूरत व सुविधाओं से संबंधित कार्य लटके हुए हैं, इसलिए फरवरी 2021 में सचिव की मनमानी से नाराज पंचों ने जनपद पंचायत बेमेतरा में उसके खिलाफ शिकायत कर स्थानांतरण की मांग की थी । मजदूर न्याय योजना के अंतर्गत बेमेतरा जनपद सीईओ निरीक्षण के लिए ग्राम पंचायत कार्यालय पहुचे थे । इस दौरान सचिव गैर हाजिर थी । इस पर जनपद सीईओ ने नाराजगी जाहिर की थी ।

उपसरपंच ने बताया कि 14 फरवरी 2020 को पूर्व सरपंच मीरा साहू ने वर्तमान सरपंच पिंकी वर्मा को प्रभार सौंपने के दौरान चल अचल संपत्ति की समस्त जानकारी दी थी।  जिसमें गांव में 8 सरकारी बोर पंप चालू हालत में सौंपा गया था, लेकिन 2 साल के भीतर सभी 8 मोटर पंप को बदल दिया गया है । इस संबंध में सरपंच व सचिव द्वारा पंचायत में कोई प्रस्ताव नहीं लाया गया ।  वही पंचों को व्यय से अवगत नहीं कराया गया । उपसरपंच ने बताया कि जिन वार्डों के मोटर पंप बदले गए उनके पार्षदों को भी इसकी जानकारी नहीं थी। इसलिए मोटर पंप कब खराब हुए और बदले गए इसकी विधिवत जानकारी नहीं दी जा रही है ।

झाल की सचिव कांति बंजारे का कहना है कि व्यय की जानकारी सभी पंचों को दी जा रही है । पंच और उपसरपंच के आरोप निराधार है । पंचायत में हमेशा उपस्थित रहती हूं।
जनपद सीईओ बेमेतरा रवि कुमार का कहना है कि कलेक्टर कार्यालय से शिकायत पत्र मिलते ही, मामले की जांच कराई जाएगी । जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
सरपंच पिंकी वर्मा का कहना है कि आरोप निराधार है, हर कार्य के लिए पंचायत प्रस्ताव किया गया है । जांच दल के समक्ष समस्त लेखा जोखा प्रस्तुत किया जाएगा।
 

अन्य पोस्ट

Comments